आयुर्वेद से एलर्जी का इलाज

Allergy cure by Ayurveda

आयुर्वेद से एलर्जी का इलाज

आयुर्वेद के अनुसार एलर्जी का मुख्य कारण शरीर में विषों का संगृहीत होना और रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाना है.  बिना पचा हुआ भोजन जैसे कि आयुर्वेद में आम विष कहा जाता है और दूसरे हानिकारक केमिकल्स शरीर के विभिन्न हिस्सों में जमा हो जाते है जिसमें त्वचा और उत्तकों में रोग उत्पन्न होता हे  यही विष  एलर्जी उत्पन्न करता है इसलिए अगर आप आयुर्वेद से एलर्जी का इलाज करना चाहते हैं तो आपको अपनी अपने शरीर को डिटॉक्स यानी की विष से शुद्ध करना होगा और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना होगा इसके लिए आपको अपने आहार में भी कई परिवर्तन करने होंगे.

 

 आयुर्वेद से एलर्जी का इलाज किस प्रकार किया जाए

 आपको भारी खाने का त्याग करना होगा जैसे कि डेरी उत्पाद, मांस और मेवे बादाम काजू इत्यादि

 दिन में आपको एक हल्का स्वस्थ वर्धक भोजन करना चाहिए और रात में बहुत हल्का खाना खाना चाहिए.

 रोज व्यायाम कीजिए,  थोड़ा देर ध्यान और योगा कीजिए, क्योंकि योगा से शरीर और मस्तिष्क दोनों को आराम होता है और तनाव दूर होता है.

तनाव होने की वजह से एलर्जी और ज्यादा बढ़ जाती है, तनाव से नींद में भी गड़बड़ियां उत्पन्न होती है यह भी एलर्जी को बहुत ज्यादा बढ़ा देता है और एलर्जी को काफी तकलीफदेह बना देता है. तनाव को कम करने के लिए आपको पूरी नींद लेनी चाहिए.

हर्बल ऑयल से मसाज करने से आपकी बॉडी का रक्त संचार बढ़ता है इससे विषैले तत्व आपके शरीर से बाहर निकलते हैं इससे भी आपको एलर्जी में आराम होगा, उचित मात्र में पानी पीकर भी आप विशेले तत्वों को अपने शरीर से बहार निकाल सकते हैं.

आयुर्वेद के अनुसार अलग अलग मौसम भी दोष की वजह से एलर्जी उत्पन्न करते हैं, एलर्जी के आयुर्वेदिक इलाज के लिए आपको पहले उस दोष का पता लगाना होगा जो आपके शरीर में मोजूद हैं,  आयुर्वेद के अनुसार एलर्जी 3 तरह की हो सकती है वात पित्त और कफ, और अपने प्रकार के हिसाब से उसका इलाज भी अलग-अलग होता है.

वात एलर्जी जो कि मुख्यतः सूखेपन की वजह से होती है इसके लक्षण सुखा कफ, नींद ना आना तनाव चिंता होता है. सूखे और हवादार मौसम में यह एलर्जी बढ़ जाती है इस तरह की एलर्जी को दूर करने के लिए आपको चार पांच कप अदरक के रस की चाय का सेवन करना चाहिए.

 पित्त की वजह से होने वाली एलर्जी इस तरह की एलर्जी से शरीर में जलन उत्पन्न होती है, आपकी आंखें जलने लगती हैं आपके शरीर पर रैशेज लाल धब्बे हो जाते हैं और दस्त लग जाते हैं  इस तरह की समस्या गर्मियों में ज्यादा होती है. तुरंत राहत के लिए आपको नारियल के तेल को दो तीन बार सूंघना चाहिए और नीम के पत्तों की चाय पीना चाहिए और खाने के बाद भोजन के बाद आपको हल्दी वाला दूध का सेवन करना चाहिए.

कफ एलर्जी मुख्यतः नमी की अधिकारिता से उत्पन्न होती है इससे आपकी पाचन क्षमता कम पड़ जाती है इस तरह की एलर्जी से आराम पाने के लिए आपको सितोपलादि चूर्ण शहद के साथ दिन में तीन बार लेना चाहिए, गर्म पानी का सेवन करना चाहिए आपको सप्ताह में एक या दो बार लिक्विड डाइट लेनी चाहिए लिक्विड फ्रूट्स तरल फल सब्जियां आपको काफी फायदा पहुंचा सकते हैं.

आयुर्वेद से एलर्जी का इलाज करने के लिए आपको अपने शरीर से विष निकालने पर ध्यान देना चाहिए और आप की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने पर ध्यान देना चाहिए अगर एलर्जी ज्यादा समय तक रहती हैं तो आपको किसी अच्छे डॉक्टर या वैद्य की सलाह लेनी चाहिए ताकि एलर्जी गंभीर रूप धारण ना करे.

Search tags

Allergy, Ayurveda, 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *