बायो फिजिक्स क्या है Biophysics kya hai ? what is biophysics in hindi

विज्ञान की नई शाखा बायो फिजिक्स क्या है

what is Biophysics in hindi

बायो फिजिक्स विज्ञान की एक नई शाखा है जिसमें फिजिक्स के सिद्धांतों और तरीकों के द्वारा जैविक क्रियाओं और प्रणालियों को समझने की कोशिश की जाती है.

बायो फिजिक्स यह समझने में अत्यंत उपयोगी है कि जीवन के अणु  किस प्रकार कार्य करते हैं?,जीवन के अणु किस प्रकार बने हैं? कोशिकाओं के विभिन्न प्रकार गति करते हैं? और अपना कार्य संपन्न करते हैं? बायो फिजिक्स के द्वारा यह  इस बात का अध्ययन किया जाता है कि किसी जीव के शरीर के जटिल अंग जैसे मस्तिष्क, रक्त संचालन, प्रतिरक्षा प्रणाली, किस प्रकार कार्य करते हैं?

बायोफिजिक्स विज्ञान की एक नई और जीवन पर शाखा है इसमें कई अलग-अलग क्षेत्रों के वैज्ञानिक कार्य करते हैं इन क्षेत्रों में गणित, रसायन, भौतिकी, इंजीनियरिंग, फार्मोकोलॉजी, पदार्थ विज्ञान के क्षेत्र में कार्य करने वाले वैज्ञानिक अपनी क्षमताओं का उपयोग करके जीवन के अणुओं को जानने की कोशिश करते हैं और बायो फिजिक्स के नए टूल डिवेलप करते हैं.

बायो फिजिक्स जोड़ने वाली विज्ञान की शाखा है.

(what is biophysics in hindi)

भौतिक वैज्ञानिक, गणित का उपयोग करके प्रकृति में होने वाले विभिन्न घटनाओं की व्याख्या करते हैं, जैव वैज्ञानिक यह जानना चाहते हैं कि जीवन के अणु किस प्रकार कार्य करते हैं? जीवन के अंगों में कई तरह के मॉलिक्यूल, कोशिकाएं, बैक्टीरिया, वायरस, आदि सम्मिलित है इस तरह के अध्ययन से अत्यधिक मात्रा में डाटा प्राप्त होता है जीव  वैज्ञानिक किस प्रकार इतने डाटा की व्याख्या कर सकता है?

इसी प्रश्न का उत्तर बायो फिजिक्स की फील्ड है! बायो फिजिसिस्ट भौतिकविज्ञान, गणित, रसायन के जानकार होते हैं और वह कई प्रकार के विषयों का अध्ययन करने में सक्षम होते हैं, इन विषयों में नर्व सेल के बीच विद्युत प्रवाह, पेड़ों की पत्तियों द्वारा प्रकाश का अवशोषण, डीएनए में चेंज के द्वारा कैंसर कोशिकाओं का निर्माण इत्यादि समस्याओं का विश्लेषण किया जाता है.

बायो फिजिसिस्ट क्या  काम करते हैं?

बायो फिजिसिस्ट ऐसे तरीकों का आविष्कार करते हैं जिन से रोगों का खात्मा हो सके, फसलों के उत्पादन में वृद्धि हो सके, ऊर्जा के नए और पुनः उपयोग के स्रोत तैयार हो सके, और यह  जैव वैज्ञानिकों के लिए कई प्रकार के टूल्स बनाते हैं.

 

बायो फिजिसिस्ट के कार्यों में निम्न प्रकार के कार्य शामिल है

bio physics kya he

डाटा एनालिसिस एंड स्ट्रक्चर

बायो फिजिक्स का इस्तेमाल करती है सन 1953 में डीएनए का स्ट्रक्चर ज्ञात किया गया था यह खोज बहुत महत्वपूर्ण थी इसके द्वारा आज हम किसी भी जीव के डीएनए का अध्ययन कर सकते हैं बायो फिजिक्स के द्वारा ही इतना अधिक डेटा का अध्ययन किया जा सकता है

कंप्यूटर  मॉडलिंग

बायो  फिजिसिस्ट  कंप्यूटर मॉडल्स बनाते हैं इन मॉडल्स के द्वारा प्रोटीन की संरचना वायरस की संरचना और दूसरे जटिल जैविक अणुओं की प्रक्रिया को समझा जा सकता है यह मॉडल्स नई प्रकार की दवाइयां बनाने में भी उपयोग किए जाते हैं

गतिमान  अणुओं का अध्ययन

बायो फिजिक्स के द्वारा हारमोंस की गति का अध्ययन किया जाता है और इस बात का भी अध्ययन किया जाता है कि कोशिकाएं आपस में किस तरह बात करती हैं

न्यूरोसाइंस

न्यूरोसाइंस के अंतर्गत बायोफिजिक्स न्यूरल नेटवर्क का कंप्यूटर मॉडल तैयार कर रहे हैं इससे मस्तिष्क की कार्य विधि का  अध्ययन किया जा सकता है

बायोइंजीनियरिंग नैनोटेक्नोलॉजी और बायोमैटेरियल्स का निर्माण

बायो फिजिक्स बायोइंजीनियरिंग नैनो टेक्नोलॉजी और बायोमैटेरियल्स के निर्माण में भी बहुत अधिक उपयोगी है

डायग्नोस्टिक इमेजिंग

बायो फिजिक्स के द्वारा ही नए और उन्नत मेडिकल इमेजिंग टूल्स बन सकते हैं जिसे की एम आर आई सीटी स्कैन इत्यादि आज के दौर में यह मेडिकल साइंस के लिए अत्यावश्यक हो गए हैं

मेडिकल टूल्स का निर्माण

बायो फिजिक्स के द्वारा कई मेडिकल टूल्स का निर्माण किया गया है जैसे कि किडनी डायलिसिस मशीन हार्ड के लिए पैसेफायर्स आर्टिफिशियल हार्ट वाल्व इत्यादि

इकोसिस्टम्स का अध्ययन करना और उन्हें बनाए रखना

बायो फिजिक्स इकोसिस्टम्स का भी संपूर्ण अध्ययन करते हैं तथा प्रदूषण के प्रभाव को नापते हैं यह अलग-अलग प्रकार के वायरस बैक्टीरिया आदि  का भी अध्ययन करते हैं

इस हम देखते हैं कि बायोफिजिक्स वर्तमान समय में विज्ञान की एक महत्वपूर्ण शाखा है और यह हमारे लिए अत्यंत उपयोगी है

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *