मछली पालन से संबंधित नीली क्रांति आने वाली है भारत में

मछली पालन से संबंधित नीली क्रांति क्या है?

हमारे देश में दूध की श्वेत क्रांति, फसलों की हरित क्रांति से किसानों का काफी फायदा हुआ है अब हमारे देश की सरकार एक नई क्रांति लाना चाहती है जिसका नाम है नीली क्रांति (Nili Kranti – Blue Revolution) ! यह नीली क्रांति मछली पालन करने वाले और मछुआरों के लिए है, इस क्रांति का उद्देश्य देश में मछली पालन के उद्योग को बढ़ावा देना है, इसके अंतर्गत मछली पालने वालों को और मछली पकड़ने वालों को अब किसान का दर्जा दिया गया है किसान का दर्जा मिल जाने के कारण अब मछली पालन सरकारी योजनाओं का लाभ ले सकेंगे उन्हें ऋण मिलना भी आसान होगा जिससे उनका विकास हो सकेगा देश का कृषि मंत्रालय राष्ट्रीय मत्स्य विकास बोर्ड इस दिशा में कार्य कर रहा है इस योजना (Nili Kranti – Blue Revolution) के अंतर्गत मछली पालकों को सभी प्रकार की सुविधाएं दी जाएंगी और उन्हें उचित तरीके से मछली पालन करना भी सिखाया जाएगा ताकि देश का मछली उत्पादन बढ़ाया जा सके

Nili Kranti

भारत में मछली उत्पादन

सरकार की रिपोर्ट के अनुसार मछली उत्पादन में भारत का का पूरा विश्व में दूसरा स्थान है भारत में मछुआरों की कुल संख्या अनुमानित रूप से 1 45 लाख है हमारे देश देश में एक लंबा समुद्र तट है जिसकी लंबाई 8118 किलोमीटर है इतना लंबा समुद्र तट होने के बावजूद भी हम उसका पूरा फायदा नहीं उठा पा रहे हैं सीफूड के मामले में भारत अभी बहुत पीछे हैं मछुआरों की स्थिति बहुत दयनीय है इतना लंबा समुद्र तट होने के बावजूद यह उद्योग अभी पिछड़ी अवस्था में है मछुआरे जैसे तैसे अपनी जिंदगी गुजर बसर करते हैं इन गरीब मछुआरों को उन्नत करने के लिए ही सरकार द्वारा नीली क्रांति (Nili Kranti – Blue Revolution) नाम की योजना पर कार्य किया जा रहा है

 भारत में मत्स्य उद्योग इतने पिछड़े स्तर पर होने के बावजूद पिछले साल हमारे देश से 5 अरब अमेरिकी डॉलर मूल्य का मछली निर्यात किया गया देश की सीमाओं के अंदर ही कई जल संसाधन जिले ऐसी हैं जिनका अभी पूरा दोहन नहीं किया जा सका है मछुआरों के पास मछली बीज की कमी है.

वर्तमान  में भारत 958 0000 मीट्रिक टन मछली का उत्पादन करता है जिसमें 64% साफ पानी की झीलों से प्राप्त किया जाता है और केवल 36%  ही समुंद्र से प्राप्त किया जाता है इस उद्योग की वृद्धि दर 7.9 है, लेकिन अभी इस वृद्धि दर को और बढ़ाने की आवश्यकता है, यही नीली क्रांति (Nili Kranti – Blue Revolution) का उद्देश्य है

nili kranti 2

नीली क्रांति (Nili Kranti – Blue Revolution)

नीली क्रांति (Nili Kranti – Blue Revolution) से हमारे देश को कई लाभ होंगे एक तो कई मछुआरों को रोजगार मिलेगा और देश में प्रोटीन की कमी भी दूर होगी प्रोटीन का एक और स्रोत उपलब्ध होने की वजह से दालों की कीमतों में और अनाज की कीमतों में कमी आएगी इससे भी देश की जनता को फायदा होगा देश की जनसंख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है इस बढ़ती हुई जनसंख्या की प्रोटीन की मात्रा की मांग भी बढ़ती जा रही है इस मांग को पूरा करने के लिए प्रोटीन के स्रोत सरकार को बनाने होंगे इनमें मछली पालन बकरी पालन इत्यादि शामिल है.

उम्मीद है कि न सिर्फ मछुआरों को बल्कि भारत के सभी लोगों को नीली क्रांति से (Nili Kranti – Blue Revolution) बहुत फायदा होने वाला है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *