Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

Aaftab Suraj Shayari  आफ़ताब-सूरज पर शायरी
Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

Aaftab Suraj Shayari

आफ़ताब-सूरज पर शायरी

दोस्तों आफ़ताब-सूरज पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “आफ़ताब-सूरज” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “आफ़ताब-सूरज” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

न जाने कितने चिरागों को मिल गई शोहरत

इक आफताब के बे वक्त डूब जाने से।

 

माथे की तपिश जवाँ, बुलंद शोला-ए-आह,

आतिश-ए-आफ़ताब को हमने टकटकी से देखा है।

 

तेरे होते हुए महफ़िल में जलाते हैं चिराग़

लोग क्या सादा हैं सूरज को दिखाते हैं चिराग़

~Faraz

 

इन अँधेरों से ही सूरज कभी निकलेगा “नज़ीर”

रात के साए ज़रा और निखर जाने दे

~नज़ीर बनारसी

 

मैं भटकती हूँ क्यूँ अंधेरे में

वो अगर आफताब जैसा है

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

तीरगी चाँद को ईनाम-ए-वफ़ा देती है,

रात-भर डूबते सूरज को सदा देती है !! -शमीम हनफ़ी

 

अब आ भी जा कि सुबह से पहले ही बुझ न जाऊं

ऐ मेरे आफताब बहोत तेज है हवा

 

तारीकियों में और चमकती है दिल की धूप,

सूरज तमाम रात यहां डूबता नहीं !! -बशीर बद्र

 

पसीने बाटंता फिरता है हर तरफ सूरज

कहीं जो हाथ लगा तो निचोड़ दूगां उसे।

 

चाँद सूरज मिरी चौखट पे कई सदियों से

रोज़ लिक्खे हुए चेहरे पे सवाल आते हैं

~rahatindori

 

हमें चराग समझ कर बुझा न पाओगे

हम अपने घर में कई आफ़ताब रखते हैं

~rahatindori

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

अगर ख़ुदा न करे सच ये ख़्वाब हो जाए

तेरी सहर हो मेरा आफ़ताब हो जाए

~दुष्यंत कुमार

 

मैं ज़ख़्म-ए-आरज़ू हूँ, सरापा हूँ आफ़ताब

मेरी अदा-अदा में शुआयें हज़ार हैं

~shair

 

गिरती हुइ दीवार का हमदर्द हूँ लेकिन

चढ़ते हुए सूरज की परस्तिश नहीं करता

~मुज़फ्फर वारसी

 

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता हुआ ख्वाब

रोज सूरज की तरह धर से निकल पड़ता है।

 

फनकार है तो हाथ पे सूरज सजा के ला

बुछता हुआ दिया न मुकाबिल हवा के ला।

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,

उसके बाद आये तो अज़ाब आये,

बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,

दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये।

काश होता मेरे हाथों में सूरज का निजाम

तेरे रस्ते में कभी धूप न आने देता।

 

मैं सूरज हूँ कोई मंज़र निराला छोड़ जाऊँगा,

उफ़क़ पर जाते जाते भी उजाला छोड़ जाऊंगा

 

घबराएँ हवादिस से क्या हम जीने के सहारे निकलेंगे

डूबेगा अगर ये सूरज भी तो चाँद सितारे निकलेंगे !!

 

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

मंद रौशनी है धुंधला सा आफ़ताब है,

ए सुबह। तू भी आज गम-ज़दा है क्या।

 

हर ज़र्रा आफ़ताब है, हर शय है बा-कमाल

निस्बत नही कमाल को शरहे कमाल से !! –

 

तेरे चेहरे के नूर से आफ़ताब भी चमकता है,

ए ज़िन्दगी। तू नहीं तो कुछ भी नहीं।

 

किसी दिन,तय है सूरज का ठिकाना ढ़ूँढ़ ही लेंगे,

उजालों की हमारे पास एक पुख्ता निशानी है

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

चलता रहा तू साथ मेरे,

कभी आफ़ताब बनके,

कभी महताब बन के।

 

आपकी नज़रों में आफताब की है जितनी अज़्मत

हम चिरागों का भी उतना ही अदब करते हैं

 

चढ़ने दो अभी और ज़रा वक़्त का सूरज,

हो जायेंगे छोटे जो अभी साये बड़े हैं !!

 

तेरे जलवों में घिर गया आखिर,ज़र्रे को आफताब होना था

कुछ तुम्हारी निगाह काफ़िर थी,कुछ मुझे भी खराब होना था

 

चौदवी का चाँद हो, या आफताब हो,

जो भी हो तुम, खुदा की क़सम, लाजवाब हो!!

 

चमन में शब को जो शोख़ बेनक़ाब आया,

यक़ीन हो गया शबनम को आफ़ताब आया !!

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

तू है सूरज तुझे मालूम कहां रात का दुख

तू किसी रोज उतर घर में मेरे शाम के बाद!

 

कल भी सूरज निकलेगा

कल भी पंछी गायेंगे

सब तुझको दिखाई देंगे

पर हम ना नज़र आएंगे

आँचलमें संजो लेना हमको

सपनोंमें बुला लेना हमको

~नरेंद्र_शर्मा

 

उजाले के पुजारी मुज़्महिल क्यूँ हैं अँधेरे से,

के ये तारे निगलते हैं तो सूरज भी उगलते हैं.!!

 

वो डूबते हुए सूरज को देखता है फराज़

काश मैं भी किसी शाम का मंजर होता

 

कभी चाँद चमका ग़लत वक़्त पर

कभी घर में सूरज उगा देर से

-निदा फ़ाजली

 

रात के राही थक मत जाना

सुबह की मंजिल दूर नहीं

ढलता दिन मजबूर सही

ढलता सूरज मजबूर नहीं

-साहीर लुधियानवी

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

रौशनी की भी हिफाज़त है इबादत की तरह

बुझते सूरज से चरागों की जलाया जाए

 

सूरज कही भी जाये

तुम पर ना धूप आये

तुम को पुकारते हैं

इन गेसूओं के साये

आ जाओ मैं बना दू

पलकों का शामियाना

-कमाल अमरोही

 

थका-थका सूरज जब नदी से होकर निकलेगा..

हरी-हरी काई पे पांव पड़ा तो फिसेलगा..

-गुलज़ार

 

गज़ल का हुस्न हो तुम नज़्म का शबाब हो तुम

सदा ये साज़ हो तुम नगमा ये रबाब हो तुम

जो दिल में सुबह जगाये वो आफ़ताब हो तुम..

-साहीर लुधियानवी

 

नज़दीकियों में दूरका मंज़र तलाश कर

जो हाथमें नहीं है वो पत्थर तलाश कर

सूरज के इर्द-गिर्द भटकने से फ़ाएदा

दरिया हुआ है गुम तो समुंदर तलाश कर

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

 सूरज एक नटखट बालक सा

दिन भर शोर मचाए

इधर उधर चिड़ियों को बिखेरे

किरणों को छितराये

कलम,दरांती,बुरुश,हथोड़ा

जगह जगह फैलाये(1/1)

-निदा फ़ाज़ली

 

किरन-किरन अलसाता सूरज

पलक-पलक खुलती नींदें

धीमे-धीमे बिखर रहा है

ज़र्रा-ज़र्रा जाने कौन ।

-निदा फ़ाजली

 

रात जब गहरी नींद में थी कल

एक ताज़ा सफ़ेद कैनवस पर,

आतिशी सुर्ख रंगों से,

मैंने रौशन किया था इक सूरज

-गुलज़ार

 

काले घर में सूरज रख के,

तुमने शायद सोचा था,मेरे सब मोहरे पिट जायेंगे,

मैंने एक चिराग़ जला कर,

अपना रस्ता खोल लिया..!

-गुलज़ार

 

रात के पेड़ पे कल ही तो उसे देखा था..

चाँद बस गिरने ही वाला था फ़लक से पक कर

सूरज आया था,ज़रा उसकी तलाशी लेना

-गुलज़ार

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

कुछ ख़्वाबों के ख़त इनमें

कुछ चाँदके आईने सूरज की शुआएँ हैं

नज़मों के लिफाफ़ोंमें कुछ मेरे तजुर्बे हैं

कुछ मेरी दुआएँ हैं

गुलज़ार

 

कोई सूरज से ये पूछे के क्या महसूस होता है

बुलंदी से नशेबों में उतरने से ज़रा पहले

~शाद

 

तरस रहे हैं एक सहर को जाने कितनी सदियों से

वैसे तो हर रोज़ यहाँ सूरज का निकलना जारी है

~राजेश रेड्डी

 

मैं वो शजर भी कहाँ जो उलझ के सूरज से

मुसाफिरों के लिए साएबाँ बनाता है

~शाद

 

सारा दिन बैठा,मै हाथ में लेकर खाली कासा

रात जो गुजरी,चाँद की कौड़ी डाल गई उसमें

सूदखोर सूरज कल मुझसे ये भी ले जायेगा।

-गुलज़ार

 

आप को शब के अँधेरे से मोहब्बत है, रहे

चुन लिया सुबह के सूरज का उजाला मैंने.!!

 

ज़रा सी देर के लिये,जो आ गया मैं अब्र में

इधर ये शोर मच गया,के आफ़ताब ढल गया.!!

न जाने कितने चरागों को मिल गई शोहरत

एक आफ़ताब के बे-वक़्त डूब जाने से..!!

~इक़बाल अशहर

 

Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी

हम वो राही हैं लिये फिरते हैं सर पर सूरज।।

हम कभी पेड़ों से साया नहीं माँगा करते..!!

 

चढ़ने दो अभी और ज़रा वक़्त का सूरज।।

हो जाएँगे छोटे जो अभी साये बड़े हैं..!!

 

अपना सूरज तो तुझे ख़ुद हि उगाना होगा।।

धूप और छाँव के इलहाक़ में क्या ढूँढता है

~मेराज

 

हम वो राही हैं लिये फिरते हैं सर पर सूरज।।

हम कभी पेड़ों से साया नहीं माँगा करते..!!

 

आप को शब के अँधेरे से मोहब्बत है, रहे।।

चुन लिया सुबह के सूरज का उजाला मैंने..!!

 

Search Tags

Aaftab Suraj Shayari in Hindi, Aaftab Suraj Hindi Shayari, Aaftab Suraj Shayari, Aaftab Suraj whatsapp status, Aaftab Suraj hindi Status, Hindi Shayari on Aaftab Suraj, Aaftab Suraj whatsapp status in hindi,

आफ़ताब सूरज हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, आफ़ताब सूरज स्टेटस, आफ़ताब सूरज व्हाट्स अप स्टेटस,आफ़ताब सूरजपर शायरी, आफ़ताब सूरजशायरी, आफ़ताब सूरज पर शेर, आफ़ताब सूरजकी शायरी


Hinglish

Aaftab Suraj Shayari

आफ़ताब-सूरज पर शायरी

aaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayareeaaftab suraj shayariaafataab-sooraj par shaayaree doston aafataab-sooraj par sher o shaayaree ka ek achchha sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “aafataab-sooraj” ke baare mein zajbaat aur khayaalaat jaan sakenge. agar aapake paas bhee “aafataab-sooraj” par shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

na jaane kitane chiraagon ko mil gaee shoharatik aaphataab ke be vakt doob jaane se.maathe kee tapish javaan, buland shola-e-aah,aatish-e-aafataab ko hamane takatakee se dekha hai.tere hote hue mahafil mein jalaate hain chiraagalog kya saada hain sooraj ko dikhaate hain chiraag~farazin andheron se hee sooraj kabhee nikalega “nazeer”

raat ke sae zara aur nikhar jaane de~nazeer banaaraseemain bhatakatee hoon kyoon andhere menvo agar aaphataab jaisa haiaaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree teeragee chaand ko eenaam-e-vafa detee hai,raat-bhar doobate sooraj ko sada detee hai !! -shameem hanafee

ab aa bhee ja ki subah se pahale hee bujh na jaoonai mere aaphataab bahot tej hai havaataareekiyon mein aur chamakatee hai dil kee dhoop,sooraj tamaam raat yahaan doobata nahin !! -basheer badrapaseene baatanta phirata hai har taraph soorajakaheen jo haath laga to nichod doogaan use.chaand sooraj miree chaukhat pe kaee sadiyon seroz likkhe hue chehare pe savaal aate hain~rahatindorihamen charaag samajh kar bujha na paogeham apane ghar mein kaee aafataab rakhate hain~rahatindori

aaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree agar khuda na kare sach ye khvaab ho jaeteree sahar ho mera aafataab ho jae~dushyant kumaaramain zakhm-e-aarazoo hoon, saraapa hoon aafataabameree ada-ada mein shuaayen hazaar hain~shairgiratee hui deevaar ka hamadard hoon lekinachadhate hue sooraj kee parastish nahin karata~muzaphphar vaaraseeapanee taabeer ke chakkar mein mera jaagata hua khvaabaroj sooraj kee tarah dhar se nikal padata hai.phanakaar hai to haath pe sooraj saja ke laabuchhata hua diya na mukaabil hava ke la.aaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree aaye kuchh abr kuchh sharaab aaye,usake baad aaye to azaab aaye,baam-i-minha se mahataab utare,dast-e-saaqee mein aafataab aaye.kaash hota mere haathon mein sooraj ka nijaamatere raste mein kabhee dhoop na aane deta.main sooraj hoon koee manzar niraala chhod jaoonga,ufaq par jaate jaate bhee ujaala chhod jaoongaa

ghabaraen havaadis se kya ham jeene ke sahaare nikalengedoobega agar ye sooraj bhee to chaand sitaare nikalenge !!aaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree mand raushanee hai dhundhala sa aafataab hai,e subah. too bhee aaj gam-zada hai kya.har zarra aafataab hai, har shay hai ba-kamaalanisbat nahee kamaal ko sharahe kamaal se !! –

tere chehare ke noor se aafataab bhee chamakata hai,e zindagee. too nahin to kuchh bhee nahin.kisee din,tay hai sooraj ka thikaana dhoondh hee lenge,ujaalon kee hamaare paas ek pukhta nishaanee haiaaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree chalata raha too saath mere,kabhee aafataab banake,kabhee mahataab ban ke.aapakee nazaron mein aaphataab kee hai jitanee azmataham chiraagon ka bhee utana hee adab karate hainchadhane do abhee aur zara vaqt ka sooraj,ho jaayenge chhote jo abhee saaye bade hain !!tere jalavon mein ghir gaya aakhir,zarre ko aaphataab hona thaakuchh tumhaaree nigaah kaafir thee,kuchh mujhe bhee kharaab hona thaachaudavee ka chaand ho, ya aaphataab ho,jo bhee ho tum, khuda kee qasam, laajavaab ho!!chaman mein shab ko jo shokh benaqaab aaya,yaqeen ho gaya shabanam ko aafataab aaya !!

aaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree too hai sooraj tujhe maaloom kahaan raat ka dukhatoo kisee roj utar ghar mein mere shaam ke baad!kal bhee sooraj nikalegaakal bhee panchhee gaayengesab tujhako dikhaee dengepar ham na nazar aaengeaanchalamen sanjo lena hamakosapanommen bula lena hamako~narendr_sharmaujaale ke pujaaree muzmahil kyoon hain andhere se,ke ye taare nigalate hain to sooraj bhee ugalate hain.!!vo doobate hue sooraj ko dekhata hai pharaazakaash main bhee kisee shaam ka manjar hotaakabhee chaand chamaka galat vaqt parakabhee ghar mein sooraj uga der se-nida faajaleeraat ke raahee thak mat jaanaasubah kee manjil door naheendhalata din majaboor saheedhalata sooraj majaboor nahin-saaheer ludhiyaanaveeaaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree raushanee kee bhee hiphaazat hai ibaadat kee tarahabujhate sooraj se charaagon kee jalaaya jaesooraj kahee bhee jaayetum par na dhoop aayetum ko pukaarate hainin gesooon ke saayea jao main bana doopalakon ka shaamiyaana-kamaal amaroheethaka-

thaka sooraj jab nadee se hokar nikalega..haree-haree kaee pe paanv pada to phiselaga..-gulazaaragazal ka husn ho tum nazm ka shabaab ho tumasada ye saaz ho tum nagama ye rabaab ho tumajo dil mein subah jagaaye vo aafataab ho tum..-saaheer ludhiyaanaveenazadeekiyon mein dooraka manzar talaash karajo haathamen nahin hai vo patthar talaash karasooraj ke ird-gird bhatakane se faedaadariya hua hai gum to samundar talaash karaaaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree sooraj ek natakhat baalak saadin bhar shor machaeidhar udhar chidiyon ko bikherekiranon ko

chhitaraayekalam,daraantee,burush,hathodaajagah jagah phailaaye(1/1)-nida faazaleekiran-kiran alasaata soorajapalak-palak khulatee neendendheeme-dheeme bikhar raha haizarra-zarra jaane kaun .-nida faajaleeraat jab gaharee neend mein thee kalek taaza safed kainavas par,aatishee surkh rangon se,mainne raushan kiya tha ik sooraj-gulazaarakaale ghar mein sooraj rakh ke,tumane shaayad socha tha,mere sab mohare pit jaayenge,mainne ek chiraag jala kar,apana rasta khol liya..!-gulazaararaat ke ped pe kal hee to use dekha tha..chaand bas girane hee vaala tha falak se pak karasooraj aaya tha,zara usakee talaashee lena-gulazaaraaaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree kuchh khvaabon ke khat inamenkuchh chaandake aaeene sooraj kee shuaen hainnazamon ke liphaafommen kuchh mere tajurbe hainkuchh meree duaen haingulazaarakoee sooraj se ye poochhe ke kya mahasoos hota haibulandee se nashebon mein utarane se zara pahale~shaad

taras rahe hain ek sahar ko jaane kitanee sadiyon sevaise to har roz yahaan sooraj ka nikalana jaaree hai~raajesh reddeemain vo shajar bhee kahaan jo ulajh ke sooraj semusaaphiron ke lie saebaan banaata hai~shaadasaara din baitha,mai haath mein lekar khaalee kaasaaraat jo gujaree,chaand kee kaudee daal gaee usamensoodakhor sooraj kal mujhase ye bhee le jaayega.-gulazaaraap ko shab ke andhere se mohabbat hai, rahechun liya subah ke sooraj ka ujaala mainne.!!zara see der ke liye,jo aa gaya main abr menidhar ye shor mach gaya,ke aafataab dhal gaya.!!na jaane kitane charaagon ko mil gaee shoharatek aafataab ke be-vaqt doob jaane se..!!~iqabaal

ashaharaaaftab suraj shayari aafataab-sooraj par shaayaree ham vo raahee hain liye phirate hain sar par sooraj..ham kabhee pedon se saaya nahin maanga karate..!!chadhane do abhee aur zara vaqt ka sooraj..ho jaenge chhote jo abhee saaye bade hain..!!apana sooraj to tujhe khud hi ugaana hoga..dhoop aur chhaanv ke ilahaaq mein kya dhoondhata hai~meraajaham vo raahee hain liye phirate hain sar par sooraj..ham kabhee pedon se saaya nahin maanga karate..!!aap ko shab ke andhere se mohabbat hai, rahe..chun liya subah ke sooraj ka ujaala mainne..!!

 

 

2 thoughts on “Aaftab Suraj Shayari आफ़ताब-सूरज पर शायरी”

  1. Bahare hushna Teri,mousme sabaab Tera,kanha see dhundh ke laye koi jawab Tera,yeh Subhah tere rukhsaar ki jhalak hi to Hai,ki leke na’am nikalta aaftaab Mera.

Leave a Reply