Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी

Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी
Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी

Aankhon Par Shayari in Hindi

आँखों पर हिंदी शायरी

 

दोस्तों, पेश है खूबसूरत और नशीली आँखों के नाम कुछ बेहतरीन हिंदी शायरी.

Hindi Shayari on Beautiful eyes

**************************

List of all Shayari

***************************

यूँ ही गुजर जाती है शाम अंजुमन में

कुछ तेरी आँखों के बहाने कुछ तेरी बातो के बहाने

***

तुम्हारी बेरुख़ी ने लाज रख ली बादाख़ाने की

तुम आँखों से पिला देते तो पैमाने कहाँ जाते ~क़तील_शिफ़ाई

***

न जाने क्यूँ हमें इस दम तुम्हारी याद आती है

जब आँखों में चमकते हैं सितारे शाम से पहले

***

तुम्हारी निगाहें बहोत बोलती हैं

जरा अपनी आँखों पे पलके गिरा दो

***

ये आईने नही दे सकते तुम्हे तुम्हारी खूबसूरती की सच्ची ख़बर….

कभी मेरी इन आँखों में झांक कर देखो की कितनी हसीन हो…!!

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Aankhon par Status Pictures – Aankhon par dp Pictures – Aankhon par Shayari Pictures

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

तुम्हारी याद में आँखों का रतजगा है

कोई ख़्वाब नया आए तो कैसे आए !

***

बिन कहे आऊँगा जब भी आऊँगा

मुन्तज़िर आँखों से घबराता हूँ मैं ~ShariqKaifi

***

तेरी हर याद बसी इन साँसों मे हर तस्वीर तेरी

अब इन आँखों मे रूह में संभाला है तुझे

हर आरज़ू तेरी बसी इन जज़्बातों मे!

***

लिखा है तेरी आँखों में किसका अफ़साना

अगर इसे समझ सको, मुझे भी समझना !!

***

क्यों डरे ज़िन्दगी में क्या होगा कुछ ना कुछ तजुर्बा होगा

हंसती आँखों में झाँक कर देखो कोई आंसू कहीं छुपा होगा

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

क्या कशिश थी तुम्हारी आँखों मे

तुझको देखा और तेरा हो गया

***

सुकून की तलाश में तुम्हारी आँखों में झाँका था,

किसे पता था कम्बखत दिल का दर्द और मिल जाएगा !!

***

तुम्हारी आँखों की ‘तौहीन’ है ज़रा सोचो

तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है ~मुनव्वर_राना

***

आँखों की कतारों में पसरी नमी सी है,

आज सब कुछ है ज़िन्दगी में बस तुम्हारी कमी सी है।

***

में हूँ अश्क तुम्हारी आँखों का जब जी चाहे बहा देना…

एक लफ्ज़ हूँ तुम्हारी कहानी का ना याद रख सको तो… भुला देना

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

“क़ैद ख़ानें हैं , बिन सलाख़ों के……

कुछ यूँ चर्चें हैं , तुम्हारी आँखों के.

***

रात गुजारी फिर महकती सुबह आई … दिल धड़का फिर तुम्हारी याद आई..

आँखों ने महसूस किया उस हवा को … जो तुम्हें छु कर हमारे पास आई

***

तुम्हारी आँखों से काश कोई इशारा तो होता

कुछ मेरे जीने का सहारा तो होता

तोड़ देते हम हर रसम ज़माने की

एक बार ही सही तुमने पुकारा तो होता

***

ना कोई इल्ज़ाम तुमको दूँगा।। ना तुमको बदनाम मैं करूँगा।।

यक़ीन मानो वही कहूँगा।। तुम्हारी आँखों से जो सुना है।।

***

मुझसे जब भी मिलो नजरें उठाकर मिलो

मुझे पसंद है अपनेआप को तुम्हारी आँखों में देखना

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

तेरी हर याद बसी इन साँसों मे हर तस्वीर तेरी अब इन आँखों मे

रूह में संभाला है तुझे हर आरज़ू तेरी बसी इन जज़्बातों मे

***

तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी,

हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी..

***

बहुत मुश्किल से इस दिल को समझाया है अब और बेकरार ना कर आँखों में

आँसू तेरी जुदाई के ना जाने अब कभी मुलाकात हो या ना हो

***

तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है

ये उठे सुबह चले ये झुके शाम ढले,

मेरा जीना मेरा मरना तेरी पलकों के तले

***

हर बार तेरी मुस्कुराती आँखों को देखता हूँ,

चला आता हूँ तेरे पास ख़यालों में उड़ते हुए..

***

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझसे

तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझसे

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

जब बिखरेगा तेरी गालों पे तेरी आँखों का पानी,

तब तुझे एहसास होगा की मोहब्बत किसे कहते है !!

***

जो सुरूर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में, ..

बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में…

***

मैं जिसे ओढ़ता-बिछाता हूँ वो ग़ज़ल आपको सुनाता हूँ

एक जंगल है तेरी आँखों में मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ..! ~दुष्यंत

***

आँखों से तेरी वो मंज़र मिट गया है अब..

जिसकी ख़ातिर मैं मैकदे आया करता था.

**

आँखों में एक प्यास का सहरा लिए था मैं,

तेरी- गली- ने मुझको समन्दर दिखा दिया

***

किस तरह दिल में तेरे अपनी तमन्ना रख दूं

ख्वाब अपने तेरी आँखों में सजा दूं कैसे

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

शाखेंगुल झूम के गुलज़ार में सीधी जो हुई,

आ गया आँखों में नक़्शा तेरी अँगड़ाई का ।

***

तेरी आँखों में जब देखा मैंने आइने की तरह

कुछ और भी मौजूद था वहां मेरे अक्स के सिवा।

***

जिस दिन से तुमको देखा आँखों में बसा लिया था

सूरत को तेरी हमने इस दिल में छुपा लिया था

***

 

अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है,

तेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है

***

डूबा हुआ हूँ ना निकल पाऊँगा मैं कभी,

ख़ूबसूरत मुस्कुराहट और आँखों से तेरी..

***

-चख के देख ली दुनिया भर की शराब की बोतलें,

जो नशा तेरी आँखों में था वो किसी में नहीं..

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

“अब तो इन आँखों से भी जलन होती है मुझे…..!

“खुली हों तो तलाश तेरी, बंद हों तो ख्वाब तेरे….

***

ये गुलाबों सा तेरी आँखों का जाम अच्छा है

जिस ख़त में आए तेरा नाम वो पेग़ाम अच्छा है

***

वो कहने लगी, नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों के बीच ?

मैंने मुस्करा के कहा,.तेरी आँखों से ही शुरू हुआ था”इश्क” हज़ारों के बीच..

***

कितनी सच्चाई है तेरी आँखों में, खोटे सिक्के भी खरे हो जाये,

तू जो प्यार से देखे जिधर, सूखे जंगल भी हरे हो जाये।.

***

कुछ किस्से तेरी महफ़िल के कुछ उससे जुडी मेरी कहानी है

कुछ ज़ाहिर है इन आँखों से कुछ कलम की ज़ुबानी है

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

लाजमी तो नही है कि तुझे आँखों से ही देखूँ..

तेरी याद का आना भी तेरे दीदार से कम नही.

***

आँखों पर तेरी निगाहों ने दस्तख़त क्या किए..

हमने साँसों की वसीयत तुम्हारे नाम कर दी !

***

नींद को आज भी शिकवा है मेरी आँखों से ,

मैंने आने न दिया उसको कभी तेरी याद से पहले,

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,

ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ

***

आँखों पे ये कैसी घटा सी छाई !

शायद दिल को फिर तेरी याद आई

ये जो आँखों से तेरी बहता है बेशक जूनून-ऐ-यार है,

जो बहा ना था तो नासूर था, अब बह गया तो भुला-बिसरा ख्वाब है !

***

बात चली तेरी आँखों से, जा पहुंची पैमाने तक,

खींच रही है तेरी उल्फत, आज मुझे मैखाने तक

***

“आज फिर मेरे आँचल में आई वही नीली घाटी वही केशरिया शाम

आँखों के किनारे कुछ बूंदे बरबस आई आज फिर तेरी यादों के नाम

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

तेरी सूरत जो भरी रहती है आँखों में सदा //

अजनबी चेहरे भी पहचाने से लगते हैं मुझे //

***

पलकों पे लरजते अश्कों में तसवीर झलकती है तेरी /

दीदार की प्यासी आँखों को, अब प्यास नहीं और प्यास भी है

***

शायद तू कभी प्यासा मेरी तरफ लौट आये,

आँखों में लिए फिरता हूँ दरिया तेरी खातिर.

***

मुसाफ़िर बे-ख़बर हैं तेरी आँखों से,

तेरे शहर में मैख़ाने ढूँढते हैं

***

सोचते ही रहे पूछेंगे तेरी आँखों से ,

किस से सीखा है हुनर दिल में उतर जाने का…………

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

एक मस्ती तुम्हारी आँखों की, सौ दिए आरज़ू के जल जाएँ ..

एक बातें ये तेरी बारिश सी, ग़म के मौसम सभी बदल जाएँ

***

झील अच्छा, कँवल अच्छा के जाम अच्छा है,

तेरी आँखों के लिए कौन सा नाम अच्छा है..

***

तेरी आँखों से ही खुलते हैं, सवेरों के उफूक़(क्षितिज)

तेरी आँखों से बन्द होती है ये सीप की रात

***

बारहा तेरी आँखों का दीदार किया है मैंने,

बारहा अपनी इस सूरत पर गुमां हो आया है.

***

मेरी आँखों मे मुहब्बत का तेरी नूर है फिर भी,

बिन बच्चों के खाली मकान सा रहता है दिल…

***

जाम टूटने का बहाना न कर, हम तो तेरी आँखों से पी लेंगे.

तू मत आ पर आने का वादा तो कर, हम तेरे इंतज़ार में ही जी लेंगे.

***

तेरी आँखों मैं बहुत देर तक कोई अक्स नहीं रहता..

तेरा तो पता नहीं तुझसे मिल कर मैं मुझसा नहीं रहता..!!

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

नशे में डूबे कोई, कोई जिए, कोई मरे

तीर क्या क्या तेरी आँखों की कमाँ छोड़ती है

***

 

Search Tags

Aankho par Shayari, Hindi shayari on eyes, Shayari on eyes, Shayari on beautiful eyes, Aankho par Hindi Shayari, Aankho par Shayari, Aankho par whatsapp status, Aankho par hindi Status, Hindi Shayari on Aankho par, Aankho par whatsapp status in hindi,

आँखों पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, आँखों पर , आँखों पर स्टेटस, आँखों पर व्हाट्स अप स्टेटस, आँखों पर शायरी, आँखों पर पर शेर, आँखों पर की शायरी, तेरी आँखें,


Aankhon ki tareef Par Shayari in Hinglish font

आँखों की तारीफ़ पर हिंदी शायरी

yoon hi gujar jati hai sham anjuman menkuchh teri ankhon ke bahane kuchh teri bato ke bahane***

tumhari berukhi ne laj rakh li badakhane kitum ankhon se pila dete to paimane kahan jate ~qatil_shifai***

na jane kyoon hamen is dam tumhari yad ati haijab ankhon mein chamakate hain sitare sham se pahale**

*tumhari nigahen bahot bolati hainjara apani ankhon pe palake gira do**

*ye aine nahi de sakate tumhe tumhari khoobasoorati ki sachchi khabar….kabhi meri in ankhon mein jhank kar dekho ki kitani hasin ho…!!**

* ankhon par shayari in hinditumhari yad mein ankhon ka ratajaga haikoi khvab naya ae to kaise ae !*

**bin kahe aoonga jab bhi aoongamuntazir ankhon se ghabarata hoon main ~shariqkaifi**

*teri har yad basi in sanson me har tasvir teri ab in ankhon me rooh mein sambhala hai tujhehar arazoo teri basi in jazbaton me!**

*likha hai teri ankhon mein kisaka afasanagar ise samajh sako, mujhe bhi samajhana !!**

*kyon dare zindagi mein kya hoga kuchh na kuchh tajurba hogahansati ankhon mein jhank kar dekho koi ansoo kahin chhupa hoga*

** ankhon par shayari in hindikya kashish thi tumhari ankhon metujhako dekha aur tera ho gaya**

*sukoon ki talash mein tumhari ankhon mein jhanka tha,kise pata tha kambakhat dil ka dard aur mil jaega !!***

tumhari ankhon ki tauhin hai zara sochotumhara chahane vala sharab pita hai ~munavvar_rana***

ankhon ki kataron mein pasari nami si hai,aj sab kuchh hai zindagi mein bas tumhari kami si hai.***

mein hoon ashk tumhari ankhon ka jab ji chahe baha dena…ek lafz hoon tumhari kahani ka na yad rakh sako to… bhula dena***

ankhon par shayari in hindi”qaid khanen hain , bin salakhon ke……kuchh yoon charchen hain , tumhari ankhon ke.**

*rat gujari fir mahakati subah ai … dil dhadaka fir tumhari yad ai..ankhon ne mahasoos kiya us hava ko … jo tumhen chhu kar hamare pas ai**

*tumhari ankhon se kash koi ishara to hotakuchh mere jine ka sahara to hotatod dete ham har rasam zamane kiek bar hi sahi tumane pukara to hota**

*na koi ilzam tumako doonga.. na tumako badanam main karoonga..yaqin mano vahi kahoonga.. tumhari ankhon se jo suna hai..**

*mujhase jab bhi milo najaren uthakar milomujhe pasand hai apaneap ko tumhari ankhon mein dekhana***

ankhon par shayari in hinditeri har yad basi in sanson me har tasvir teri ab in ankhon merooh mein sambhala hai tujhe har arazoo teri basi in jazbaton me***

teri yado ko pasand a gai hai meri ankhon ki nami,hansana bhi chahoon to roola deti hai teri kami..**

*bahut mushkil se is dil ko samajhaya hai ab aur bekarar na kar ankhon menansoo teri judai ke na jane ab kabhi mulakat ho ya na ho**

*teri ankhon ke siva duniya mein rakkha kya haiye uthe subah chale ye jhuke sham dhale,mera jina mera marana teri palakon ke tale*

**har bar teri muskurati ankhon ko dekhata hoon,chala ata hoon tere pas khayalon mein udate hue..**

*log kahate hain ki too ab bhi khafa hai mujhaseteri ankhon ne to kuchh aur kaha hai mujhase***

ankhon par shayari in hindijab bikharega teri galon pe teri ankhon ka pani,tab tujhe ehasas hoga ki mohabbat kise kahate hai !!**

*jo suroor hai teri ankhon mein vo bat kahan maikhane mein, ..bas too mil jae to fir kya rakha hai zamane mein…*

**main jise odhata-bichhata hoon vo gazal apako sunata hoonek jangal hai teri ankhon mein main jahan rah bhool jata hoon..! ~dushyant**

*ankhon se teri vo manzar mit gaya hai ab..jisaki khatir main maikade aya karata tha.*

*ankhon mein ek pyas ka sahara lie tha main,teri- gali- ne mujhako samandar dikha diya

kis tarah dil mein tere apani tamanna rakh doonkhvab apane teri ankhon mein saja doon kaise**

* ankhon par shayari in hindishakhengul jhoom ke gulazar mein sidhi jo hui,a gaya ankhon mein naqsha teri angadai ka .*

**teri ankhon mein jab dekha mainne aine ki tarahakuchh aur bhi maujood tha vahan mere aks ke siva.**

*jis din se tumako dekha ankhon mein basa liya thasoorat ko teri hamane is dil mein chhupa liya tha*

**ada hai, khvab hai, takasim hai, tamasha hai,teri in ankhon mein ek shakhs betahasha hai**

*dooba hua hoon na nikal paoonga main kabhi,khoobasoorat muskurahat aur ankhon se teri..***

-chakh ke dekh li duniya bhar ki sharab ki botalen,jo nasha teri ankhon mein tha vo kisi mein nahin..*

** ankhon par shayari in hindi”ab to in ankhon se bhi jalan hoti hai mujhe…..!”khuli hon to talash teri, band hon to khvab tere….*

**ye gulabon sa teri ankhon ka jam achchha haijis khat mein ae tera nam vo pegam achchha hai*

**vo kahane lagi, nakab mein bhi pahachan lete ho hajaron ke bich ?mainne muskara ke kaha,.teri ankhon se hi shuroo hua tha”ishk” hazaron ke bich..

***kitani sachchai hai teri ankhon mein, khote sikke bhi khare ho jaye,too jo pyar se dekhe jidhar, sookhe jangal bhi hare ho jaye..**

*kuchh kisse teri mahafil ke kuchh usase judi meri kahani haikuchh zahir hai in ankhon se kuchh kalam ki zubani hai**

* ankhon par shayari in hindilajami to nahi hai ki tujhe ankhon se hi dekhoon..teri yad ka ana bhi tere didar se kam nahi.**

*ankhon par teri nigahon ne dastakhat kya kie..hamane sanson ki vasiyat tumhare nam kar di !*

**nind ko aj bhi shikava hai meri ankhon se ,mainne ane na diya usako kabhi teri yad se pahale,**

* ankhon par shayari in hindimain ne jis lamhe ko pooja hai use bas ek bar,khvab ban kar teri ankhon mein utarata dekhoon***

ankhon pe ye kaisi ghata si chhai !shayad dil ko fir teri yad aiye jo ankhon se teri bahata hai beshak joonoon-ai-yar hai,jo baha na tha to nasoor tha, ab bah gaya to bhula-bisara khvab hai !***

bat chali teri ankhon se, ja pahunchi paimane tak,khinch rahi hai teri ulfat, aj mujhe maikhane tak***

“aj fir mere anchal mein ai vahi nili ghati vahi keshariya shamankhon ke kinare kuchh boonde barabas ai aj fir teri yadon ke nam**

* ankhon par shayari in hinditeri soorat jo bhari rahati hai ankhon mein sada //ajanabi chehare bhi pahachane se lagate hain mujhe //**

*palakon pe larajate ashkon mein tasavir jhalakati hai teri /didar ki pyasi ankhon ko, ab pyas nahin aur pyas bhi hai***

shayad too kabhi pyasa meri taraf laut aye,ankhon mein lie firata hoon dariya teri khatir.**

*musafir be-khabar hain teri ankhon se,tere shahar mein maikhane dhoondhate hain**

*sochate hi rahe poochhenge teri ankhon se ,kis se sikha hai hunar dil mein utar jane ka…………*

** ankhon par shayari in hindiek masti tumhari ankhon ki, sau die arazoo ke jal jaen ..ek baten ye teri barish si, gam ke mausam sabhi badal jaen*

**jhil achchha, kanval achchha ke jam achchha hai,teri ankhon ke lie kaun sa nam achchha hai..*

**teri ankhon se hi khulate hain, saveron ke ufooq(kshitij)teri ankhon se band hoti hai ye sip ki rat***

baraha teri ankhon ka didar kiya hai mainne,baraha apani is soorat par guman ho aya hai.**

*meri ankhon me muhabbat ka teri noor hai fir bhi,bin bachchon ke khali makan sa rahata hai dil…**

*jam tootane ka bahana na kar, ham to teri ankhon se pi lenge.too mat a par ane ka vada to kar, ham tere intazar mein hi ji lenge.**

*teri ankhon main bahut der tak koi aks nahin rahata..tera to pata nahin tujhase mil kar main mujhasa nahin rahata..!!***

ankhon par shayari in hindinashe mein doobe koi, koi jie, koi maretir kya kya teri ankhon ki kaman chhodati hai

 

 

4 thoughts on “Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी”

  1. Jab tujhse nigahen milata hun baa adab zamane ko bhool jata hun. Jab tun muskurati hai tujhhi me kho jata hun. Ab to tun mere kyaaloon ke samundar me basti hai mere aankho ki pani ban kar mere nakaam mohabbat ki kahani bankar.. Shahnawaz ab isme rakkha kya hai
    Milte hai akshar zakham mohabbat me nisaani bankar..

    Reply

Leave a Comment