Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

Aarzoo Hindi Shayari
Aarzoo Hindi Shayari आरज़ू हिंदी शायरी

Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Aarzoo, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Aarzoo Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Aarzoo is excellent in expressing your emotions and love. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

आरज़ू पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस आरज़ू हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। आरज़ू लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

************************

आरज़ू  होनी चाहिए किसी को याद करने की……!!

लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं.

कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछियों को….

याद वही आते है जो उड़ जाते है…!!

***

ख़ामोश सा शहर और गुफ़्तगू की आरज़ू

हम किससे करें बात, कोई बोलता ही नही ।।

***

यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम; न तमन्ना है
कि किसी को रुलाएं हम; जिसको जितना याद करते
हैं; उसे भी उतना याद आयें हम!

***

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है,
जिसका रास्ता बहुत खराब है,
मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा न लगा,
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

***

अब तुझसे शिकायत करना, मेरे हक मे नहीं,
क्योंकि तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की !!

***

आरजू थी की तेरी बाँहो मे, दम निकले,

लेकिन बेवफा तुम नही,बदनसीब हम निकले.

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

तेरे‬ इश्क का कितना हसीन एहसास है,
लगता है जैसे तु हर ‪ पल‬ मेरे पास है,
‪ मोहब्बत‬ तेरी दिवानगी बन चुकी है मेरी,
और अब जिन्दगी की ‪ आरजू‬ बस तुम्हारे साथ है ।।

***

साँस रूक जाये भला ही तेरा इन्तज़ार करते-करते ……..
तेरे दीदार की आरज़ू हरगिज कम ना होगी ……..

***

उमरे दराज लाये थे, मांग के चार दिन।
दो आरजू में कट गए, दो इन्तेजार में।।

***

काश की मुझे मुहब्बत ना होती
काश की मुझे तेरी आरज़ू ना होती
जी लेते यू ही ज़िंदगी को हम तेरे बिन
काश की ये तड़प हमे ना होती

***

आरज़ू सी दिल में अक्सर छुपाये फिरता हूँ,
♡♡♡♡
प्यार करता हूँ तुझसे पर कहने से डरता हूँ,
♡♡♡♡
कही नाराज़ न हो जाओ मेरी गुस्ताखी से तुम,
♡♡♡♡
इसलिए खामोश रहके भी तेरी धडकनों को सुना करता हूँ .

***

ख्वाइश बस इतनी सी है की तुम मेरे लफ़्ज़ों को समझो….

आरज़ू ये नही की लोग वाह वाह करें………………

***

छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी आरजू करना..

जिसे मोहब्बत की कद्र ना हो उसे दुआओ मेक्या मांगना

***

सर से लगा के पाँव तलक दिल हुआ हूँ मैं
याँ तक तो फ़न-ए-इश्क़ में कामिल हुआ हूँ मैं

***

उलझी सी ज़िन्दगी को सवारने की आरजू में बैठे हैं
कोई अपना दिख जाए शायद उसे पुकारने को बैठे है

***

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न सीकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है..!

***

“सितारों की महफ़िल ने करके इशारा ,
कहा अब तो सारा जहाँ है तुम्हारा ,
मुहब्बत जवाँ हो, खुला आसमाँ हो ,
करे कोई दिल आरजू और क्या…!

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

जरूरी नहीं ये बिल्कुल कि तू
मेरी हर बात को समझे…..

आरजू बस इतनी है कि तू मुझे कुछ तो समझे…!!!!

***

एक आरज़ू सी दिल में अक्सर छुपाये फिरता
हूँ,
प्यार करता हूँ तुझसे पर कहने से डरता हूँ,
कही नाराज़ न हो जाओ मेरी
गुस्ताखी से तुम,
इसलिए खामोश रहके भी तेरी
धडकनों को सुना करता हूँ …!

*** Aarzoo Hindi Shayari

ज़िन्दगी की आखरी आरजू बस यही हैं। तू सलामत रहें दुआँ बस यही हैं।

***

कुछ आग आरज़ू की ,उम्मीद का धुआँ कुछ
हाँ राख ही तो ठहरा , अंजाम जिंदगी का

***

आँखो की चमक पलकों की शान हो तुम..
चेहरे की हँसी लबों की मुस्कान हो तुम…..!!
धड़कता है दिल बस तुम्हारी आरज़ू मे…
फिर कैसे ना कहूँ मेरी जान हो तुम..!!

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

मुददत से थी किसी से मिलने की आरज़ू खुवाइश ए दिदार में सब कुछ भुला दिया ,,,

किसी ने दी खबर वो आएंगे रात को इतना किया उजाला अपना घर तक जला दिया

***

किसको ख्वाहिश है ख्वाब बनके पलकों पे सजने की ,…हम तो आरजू बनके तेरे दिल में बसना चाहते हैं ..

*** Aarzoo Hindi Shayari

मेरे जीने की ये आरजू तेरे आने की दुआ करे

कुछ इस तरह से दर्द भी तेरे सीने में हुआ
करे।

***

तेरे सीने से लगकर तेरी आरज़ू बन जाऊं,
तेरी साँसों से मिलकर तेरी खुशबु बन जाऊं,

***

ना खुशी की तलाश है ना गम-ए-निजात की आरज़ू..
मै ख़ुद से ही नाराज हूँ तेरी नाराजगी के बाद..

***

हर जज्बात को जुबान नहीं मिलती..
हर आरजू को दुआ नहीं मिलती..
मुस्कान बनाये रखो तो साथ है दुनिया..
वर्ना आंसुओ को तो आंखो मे भी पनाह नहीं मिलती…

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

आज ..खुद को तुझमे डुबोने की आरज़ू है।
क़यामत तक सिर्फ तेरा होने की आरज़ू है।
किसने कहा गले से लगा ले मुझको, मग़र
तेरी गोद में सर रखकर सोने की आरज़ू है।

***

ख़त लिखूं तो क्या लिखूं
आरजू मदहोश है
ख़त पे गिर रहे हैं आंसू
और कलम खामोश है

***

न किसी के दिल की हूँ आरज़ू
न किसी नज़र की हूँ जुस्तजू
मैं वो फूल हूँ जो उदास हो
न बहार आए तो क्या करूँ

***

तेरी जुस्तजू तेरी आरज़ू, मेरे दिल में दिलनशीं तू ही तू
तेरा ही ख़याल है रात-दिन, मेरी सोच में मकीं तू ही तू

*** Aarzoo Hindi Shayari

तमन्ना है मेरी कि आपकी आरज़ू बन जाऊं
आपकी आँख का तारा ना सही आपकी आँख का आंसू बन जाऊं

***

कभी कभी सोचता हूँ आखिर यहाँ कौन जीत गया ….
मेरी आरज़ू उसकी ज़िद या फिर मोहब्बत

***

काश की मुझे मोहोब्बत ना होती काश की मुझे तेरी आरज़ू ना होती जी लेते यू ही ज़िंदगी को हम तेरे बिन काश की ये तड़प हमे ना होती.

***

साक़ी मुझे भी चाहिए …. इक जाम-ए-आरज़ू ….

कितने लगेंगे दाम …. ज़रा आँख तो मिला…!!

****

“जीने की आरज़ू है,
तो जी चट्टानों की तरह…
वरना पत्तों की तरह,
तुझको हवा ले जायेगी”……

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

थाम लेना हाथ मेरा कभी पीछे जो छूट जाऊँ
मना लेना मुझे जो कभी तुमसे रूठ जाऊँ

मैं पागल ही सही मगर मैं वो हूँ
जो तेरी हर आरजू के लिये टूट जाऊँ ll

***

ना जी भर के देखा न कुछ बात की़………….
!!
!!
बङी आरजु थी मुलाकात की………..!!!!!!!!!!!!!!!

***

Aarzoo Hindi Shayari

आरज़ू‘ तेरी बरक़रार रहे ………….
दिल का क्या है रहे, रहे न रहे….

***

खोई हुई आँखो में सपना सज़ा लिया।।
आरज़ू में आपकी चाहत को बसा लिया।।
धड़कन भी ना रही ज़रूरी हमारे लिए।।
जब से दिल में हमने आपको बसा लिया।।

***

एक पत्थर की आरजू करके ,
खुदको ज़ख्मी बना लिया मैंने….

***

आरज़ू ये नहीं कि ग़म का तूफ़ान टल जाये,
फ़िक्र तो ये है कि कहीं आपका दिल न बदल जाये.
कभी मुझको अगर भुलाना चाहो तो,
दर्द इतना देना कि मेरा दम ही निकल जाये…!

***

ये हवा, ये रात ये चाँदनी
तेरी एक अदा पे निसार हैं
मुझे क्यों ना हो तेरी आरजू
तेरी जुस्तजू में बहार है

***

तेरा ख़याल तेरी आरजू न गयी !
मेरे दिल से तेरी जुस्तजू न गयी !!
इश्क में सब कुछ लुटा दिया हँसकर मैंने !
मगर तेरे प्यार की आरजू न गयी….!!

***

ज़रा शिद्दत से चाहो तभी होगी आरज़ू पूरी, हम वो नहीं जो तुम्हे खैरात में मिल जायेंगे

***

Aarzoo Hindi Shayari

 

जीने के आरजू में मरे जा रहे है लोग,
मरने के आरजू में जिया जा रहा हु मै…

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

“मै समेटती हूँ
ख्वाब तेरे….
तेरी आरजू….
तेरा ही गम….
तेरी ही तमन्ना….
यादें तेरी……
बहुत मशरूफ है ज़िन्दगी मेरी” !!

***

” हर बार उसी से … गुफ़्तगू….
सौ बार उसी की … आरज़ू ;
.
वो पास नहीं होता .. तो भी ..
रहता है मेरे …….. रूबरू..

***

हे आरजू की एक रात तुम आओ ख्वाबोँ मेँ,
बस दुआ हे उस रात की कभी सुबह न हो !!

***

तुझसे मिले न थे तो कोई आरजू न थी…
देखा तुम्हें तो तेरे तलबगार हो गये…

***

दस्तक सुनी – तो जाग उठा- दर्दे—–आरज़ू,
अपनी तरफ क्यों आती नहीं प्यार की हवा

***

जब से हमने मोहब्बत को जाना है ……
एक तेरी ही आरज़ू की थी पाने की….
पर हालात ही कुछ ऐसे बने….
ना तुम कुछ समझे ना कुछ हम समझे ।

***

आरज़ू ये है कि उनकी हर नज़र देखा करें
वो ही अपने सामने हों, हम जिधर देखा करें
इक तरफ हो सारी दुनिया, इक तरफ सूरत तेरी
हम तुझे दुनिया से होकर बेखबर देखा करें

***

!!.**.न तख्तो ओ ताज की आरजू
,,,,,,, न बज्म शाह की जुस्तजू………….
,,,,,,,,,,जो नजर दिल को बदल सके……,
,मुझे उस निगाह की तलाश है!

*** Aarzoo Hindi Shayari – आरज़ू हिंदी शायरी

 

दिल का दर्द पलकों में क़ैद है,
एहसास तुम्हारा हवाओं में क़ैद है,
तुमको भुलाये भी तो कैसे,
तुमको पाने कि आरज़ू ख्वाबों में भी क़ैद है..

***


Hinglish

aarazoo par hindee shaayaree ka sabase achchha sangrah yahaan upalabdh hai, aap is aarazoo hindee shaayaree ko apane hindee vaahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya aap is behatareen hindee shaayaree ko apane doston ko phesabuk par bhee bhej sakaten hain. aarazoo laphz par hindee ke yah sher, aapake pyaar aur bhaavanaon ko vyakt karane mein aapakee madad kar sakaten hain.sabhee hindee shaayaree kee list yahaan hain. hindi shayari************************

aarazoo honee chaahie kisee ko yaad karane kee……!! lamhen to apane aap hee mil jaate hain. kaun poochhata hai pinjare mein band panchhiyon ko…. yaad vahee aate hai jo ud jaate hai…!!***

khaamosh sa shahar aur guftagoo kee aarazoo .ham kisase karen baat, koee bolata hee nahee ..***

yah aarajoo nahin ki kisee ko bhulaen ham; na tamanna haiki kisee ko rulaen ham; jisako jitana yaad karatehain; use bhee utana yaad aayen ham!***

teree aarazoo mera khvaab hai,jisaka raasta bahut kharaab hai,mere zakhm ka andaaza na laga,dil ka har panna dard kee kitaab hai.***

ab tujhase shikaayat karana, mere hak me nahin,kyonki too aarajoo meree thee,par amaanat shaayad kisee aur kee !!***

aarajoo thee kee teree baanho me, dam nikale,lekin bevapha tum nahee,badanaseeb ham nikale.***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayareetere‬ ishk ka kitana haseen ehasaas hai,lagata hai jaise tu har ‪ pal‬ mere paas hai,‪ mohabbat‬ teree divaanagee ban chukee hai meree,aur ab jindagee kee ‪ aarajoo‬ bas tumhaare saath hai ..***

saans rook jaaye bhala hee tera intazaar karate-karate ……..tere deedaar kee aarazoo haragij kam na hogee ……..***

umare daraaj laaye the, maang ke chaar din.do aarajoo mein kat gae, do intejaar mein..***

kaash kee mujhe muhabbat na hoteekaash kee mujhe teree aarazoo na hoteejee lete yoo hee zindagee ko ham tere binakaash kee ye tadap hame na hotee***

aarazoo see dil mein aksar chhupaaye phirata hoon,♡♡♡♡pyaar karata hoon tujhase par kahane se darata hoon,♡♡♡♡kahee naaraaz na ho jao meree gustaakhee se tum,♡♡♡♡isalie khaamosh rahake bhee teree dhadakanon ko suna karata hoon .***

khvaish bas itanee see hai kee tum mere lafzon ko samajho….aarazoo ye nahee kee log vaah vaah karen………………***

chhod dee hamane hamesha ke lie usakee aarajoo karana..jise mohabbat kee kadr na ho use duao mekya maangana***

sar se laga ke paanv talak dil hua hoon mainyaan tak to fan-e-ishq mein kaamil hua hoon main***

ulajhee see zindagee ko savaarane kee aarajoo mein baithe hainkoee apana dikh jae shaayad use pukaarane ko baithe hai***

intazaar kee aarazoo ab kho gayee hai,khaamoshiyo kee aadat ho gayee hai,na seekava raha na shikaayat kisee se,agar hai to ek mohabbat,jo in tanhaiyon se ho gaee hai..!***

“sitaaron kee mahafil ne karake ishaara ,kaha ab to saara jahaan hai tumhaara ,muhabbat javaan ho, khula aasamaan ho ,kare koee dil aarajoo aur kya…!***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayareejarooree nahin ye bilkul ki toomeree har baat ko samajhe…..aarajoo bas itanee hai ki too mujhe kuchh to samajhe…!!!!***

ek aarazoo see dil mein aksar chhupaaye phirataahoon,pyaar karata hoon tujhase par kahane se darata hoon,kahee naaraaz na ho jao mereegustaakhee se tum,isalie khaamosh rahake bhee tereedhadakanon ko suna karata hoon …!***

aarzoo hindi shayarizindagee kee aakharee aarajoo bas yahee hain. too salaamat rahen duaan bas yahee hain.***

kuchh aag aarazoo kee ,ummeed ka dhuaan kuchhahaan raakh hee to thahara , anjaam jindagee ka***

aankho kee chamak palakon kee shaan ho tum..chehare kee hansee labon kee muskaan ho tum…..!!dhadakata hai dil bas tumhaaree aarazoo me…phir kaise na kahoon meree jaan ho tum..!!***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayareemudadat se thee kisee se milane kee aarazoo khuvaish e didaar mein sab kuchh bhula diya ,,,kisee ne dee khabar vo aaenge raat ko itana kiya ujaala apana ghar tak jala diya***

kisako khvaahish hai khvaab banake palakon pe sajane kee ,…ham to aarajoo banake tere dil mein basana chaahate hain ..***

aarzoo hindi shayarimere jeene kee ye aarajoo tere aane kee dua karekuchh is tarah se dard bhee tere seene mein huaakare.***

tere seene se lagakar teree aarazoo ban jaoon,teree saanson se milakar teree khushabu ban jaoon,***

na khushee kee talaash hai na gam-e-nijaat kee aarazoo..mai khud se hee naaraaj hoon teree naaraajagee ke baad..***

har jajbaat ko jubaan nahin milatee..har aarajoo ko dua nahin milatee..muskaan banaaye rakho to saath hai duniya..varna aansuo ko to aankho me bhee panaah nahin milatee…***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayareeaaj ..khud ko tujhame dubone kee aarazoo hai.qayaamat tak sirph tera hone kee aarazoo hai.kisane kaha gale se laga le mujhako, magarateree god mein sar rakhakar sone kee aarazoo hai.***

khat likhoon to kya likhoonaarajoo madahosh haikhat pe gir rahe hain aansooaur kalam khaamosh hai***

na kisee ke dil kee hoon aarazoon kisee nazar kee hoon justajoomain vo phool hoon jo udaas hon bahaar aae to kya karoon***

teree justajoo teree aarazoo, mere dil mein dilanasheen too hee tootera hee khayaal hai raat-din, meree soch mein makeen too hee too***

aarzoo hindi shayaritamanna hai meree ki aapakee aarazoo ban jaoonaapakee aankh ka taara na sahee aapakee aankh ka aansoo ban jaoon***

kabhee kabhee sochata hoon aakhir yahaan kaun jeet gaya ….meree aarazoo usakee zid ya phir mohabbat***

kaash kee mujhe mohobbat na hotee kaash kee mujhe teree aarazoo na hotee jee lete yoo hee zindagee ko ham tere bin kaash kee ye tadap hame na hotee.***

saaqee mujhe bhee chaahie …. ik jaam-e-aarazoo ….kitane lagenge daam …. zara aankh to mila…!!***

“jeene kee aarazoo hai,to jee chattaanon kee tarah…varana patton kee tarah,tujhako hava le jaayegee”……***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayareethaam lena haath mera kabhee peechhe jo chhoot jaoonmana lena mujhe jo kabhee tumase rooth jaoonmain paagal hee sahee magar main vo hoonjo teree har aarajoo ke liye toot jaoon ll***

na jee bhar ke dekha na kuchh baat kee………….!!!!banee aaraju thee mulaakaat kee………..!!!!!!!!!!!!!!!***

aarzoo hindi shayariaarazoo teree baraqaraar rahe ………….dil ka kya hai rahe, rahe na rahe….***

khoee huee aankho mein sapana saza liya..aarazoo mein aapakee chaahat ko basa liya..dhadakan bhee na rahee zarooree hamaare lie..jab se dil mein hamane aapako basa liya..***

ek patthar kee aarajoo karake ,khudako zakhmee bana liya mainne….***

aarazoo ye nahin ki gam ka toofaan tal jaaye,fikr to ye hai ki kaheen aapaka dil na badal jaaye.kabhee mujhako agar bhulaana chaaho to,dard itana dena ki mera dam hee nikal jaaye…!***

ye hava, ye raat ye chaandaneeteree ek ada pe nisaar haimmujhe kyon na ho teree aarajooteree justajoo mein bahaar hai***

tera khayaal teree aarajoo na gayee !mere dil se teree justajoo na gayee !!ishk mein sab kuchh luta diya hansakar mainne !magar tere pyaar kee aarajoo na gayee….!!***

zara shiddat se chaaho tabhee hogee aarazoo pooree, ham vo nahin jo tumhe khairaat mein mil jaayenge***

aarzoo hindi shayarijeene ke aarajoo mein mare ja rahe hai log,marane ke aarajoo mein jiya ja raha hu mai…***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayaree”mai sametatee hoonkhvaab tere….teree aarajoo….tera hee gam….teree hee tamanna….yaaden teree……bahut masharooph hai zindagee meree” !!***”

har baar usee se … guftagoo….sau baar usee kee … aarazoo ;.vo paas nahin hota .. to bhee ..rahata hai mere …….. roobaroo..***

he aarajoo kee ek raat tum aao khvaabon men,bas dua he us raat kee kabhee subah na ho !!***

tujhase mile na the to koee aarajoo na thee…dekha tumhen to tere talabagaar ho gaye…***

dastak sunee – to jaag utha- darde—–aarazoo,apanee taraph kyon aatee nahin pyaar kee hava***

jab se hamane mohabbat ko jaana hai ……ek teree hee aarazoo kee thee paane kee….par haalaat hee kuchh aise bane….na tum kuchh samajhe na kuchh ham samajhe .***

aarazoo ye hai ki unakee har nazar dekha karenvo hee apane saamane hon, ham jidhar dekha karenik taraph ho saaree duniya, ik taraph soorat tereeham tujhe duniya se hokar bekhabar dekha karen***

!!.**.na takhto o taaj kee aarajoo,,,,,,, na bajm shaah kee justajoo………….,,,,,,,,,,jo najar dil ko badal sake……,,mujhe us nigaah kee talaash hai!***

aarzoo hindi shayari – aarazoo hindee shaayaree

dil ka dard palakon mein qaid hai,ehasaas tumhaara havaon mein qaid hai,tumako bhulaaye bhee to kaise,tumako paane ki aarazoo khvaabon mein bhee qaid hai..

 

 

Leave a Reply