Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi  बहार शायरी
Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi

बहार शायरी

 

बहार के खुशनुमा और खिलते हुए फूलों के सुहाने मोसम पर शायरीl,

Hindi Shayari on Spring season.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी

*****************************************************************************

 

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम

लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

~Faraz

***

फिर उसके बाद वही बासी मंजरों के जुलूस,

बहार चंद ही लम्हे बहार रहती है।

~राहत_इंदौरी

****

जो तुम मुस्कुरा दो बहारें हँसे, सितारों की उजली कतारें हँसे

जो तुम मुस्कुरा दो नज़ारें हँसे, जवां धड़कनों के इशारे हँसे

****

वो गुलबदन कभी निकला जो सैर ए सहरा को

तो अपने साथ हवा ए बहार कर लेगा।

***

दरीचे जहन के मै बन्द कर नहीं सकता

दिमाग अपना मुझे पुर बहार करना है।

*** Bahaar Shayari in Hindi

तुम ने हम जैसे मुसाफ़िर भी न देखे होंगे

जो बहारों से चले और ख़िज़ाँ तक पहुँचे

~इक़बाल अज़ीम

***

तुम कहो तो   .. बहार बनकर

सब मौसमों को मात देदूं। ?

***

और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे

कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे

~गोपालदास नीरज

*** Bahaar Shayari in Hindi

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !! Bi

***

कोई एसी बजमे बहार हो जहाँ मैं यकीं दिला सकूं

कि तेरा नाम है फसले गुल कि तुझी से हैं ये करामतें

***

जला के दाग़-ए-मुहब्बत ने दिल को ख़ाक किया

बहार आई मेरे बाग में ख़िज़ां की तरह

~दाग़

***

उग रहा है दरो दीवार में सबजा गालिब

हम बयाबां में हैं और घर में बहार आई है

~galib

***

हमीं से रंग-ए-गुलिस्ताँ हमीं से रंग-ए-बहार

हमीं को नज़्म-ए-गुलिस्ताँ पे इख़्तियार नहीं ~साहिर

***

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

*** Bahaar Shayari in Hindi

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

मुझे उस जुनूँ की है जुस्तुजू जो चमन को बख़्श दे रंग ओ बू

जो नवेद-ए-फ़स्ल-ए-बहार हो मुझे उस नज़र की तलाश है

***

 

आमद से पहले तेरी सजाते कहाँ से फूल,

मौसम बहार का तो तेरे साथ आया है !!

***

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

अपना बर्बाद आशियाँ देखते हैं तो याद आता है,

बहारें भी उजाड़ देती हैं तिनकों से बने घरौंदों को।

~पाकीज़ा

***

ढाएगा सौ क्यामतें , तौबा की ख़ैर हो

दौर-ए-बहार में ये उमड़ना सहाब का

*** Bahaar Shayari in Hindi

उरूज पर है चमन में बहार का मौसम

सफ़र शुरू ख़िज़ाँ का यहाँ से होता है

***

 

यूँ ही शायद दिल-ए-वीराँ में बहार आ जाए,

ज़ख़्म जितने मिलें सीने पे सजाते चलिए !!

***

इश्क़ में दिल के इलाक़े से गुजरती है बहार,

दर्द अहसास तक आए तो नमी तक पहुँचे

***

जब हम रुकें तो साथ रुके शम-ए-बेकसी,

जब तुम रुको बहार रुके, चाँदनी रुके !!

****

काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बाँ,

ये भी गुलों के साथ पले हैं बहार में !!

 

*** Bahaar Shayari in Hindi

मौसम-ए-बहार है अम्बरीं ख़ुमार है

किस का इंतिज़ार है गेसुओं को खोलिए !! -अदम

***

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

***

कांटा समझ के मुझ से न दामन बचाइए,

गुजरी हुई बहार की इक यादगार हूँ !!

***

न खिजाँ में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रौशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गए,कहीं बुझ गए !!

***

नाम भी लेना है जिस का इक जहान-ए-रंग-ओ-बू

दोस्तो उस नौ-बहार-ए-नाज़ की बातें करो !!

***

ना गुल खिले हैं, ना उन से मिले, ना मय पी है,

अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~faiz

*** Bahaar Shayari in Hindi

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

***

जो देख लेगा हर बशर् उसको खुद में ही कहीं,

तो मज़हबी इमारतों के बहार फ़कीर कोई होगा नहीं।

***

बे मौसम बरसात से अंदाज़ा लगता हूँ मैं,

फिर किसी मासूम का दिल टुटा है मौसम-ए-बहार में।

***

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

*** Bahaar Shayari in Hindi

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,

चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !!

***

खुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

बीते रिश्ते तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तज़ू में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है !! -~Gulzar

***

अपने लिए भी मौसमे गुल है बहार है,

जब से सुना है उनको मेरा इंतज़ार है 1/2- ~रहबर

***

देख जिंदा से परे रंगे चमन जोशे बहार

रकस करना है तो पावं की जंजीर न देख!

*** Bahaar Shayari in Hindi

लेके अपनी-अपनी किस्मत आए थे गुलशन में गुल

कुछ बहारों मे खिले और कुछ ख़िज़ाँ में खो गए

~राजेश रेड्डी

***

मौसम-ए-गुल में तो आ जाती है काँटों पे बहार

बात तो जब है ख़िजाँ में गुल-ए-तर पैदा कर

~फ़ना निज़ामी

***

देख जा आ के महक़ते हुए ज़ख्मों की बहार

मैंने अब तक तेरे गुलशन को सजा रक्खा है.!!

***

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

*** Bahaar Shayari in Hindi

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

***

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

*** Bahaar Shayari in Hindi

आ कहीं मिलते हैं हम ताक़ि बहारें आ जाएँ।।

इससे पहले कि ता’अल्लुक़ में दरारें आ जाएँ..!!

***

 

Search Tags

Bahaar Shayari in Hindi, Bahaar Hindi Shayari, Bahaar par Shayari, Bahaar whatsapp status, Bahaar hindi Status, Hindi Shayari on Bahaar, Bahaar whatsapp status in hindi, Bahaar Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Spring Shayari, Spring Hindi Shayari, Spring Shayari, Spring whatsapp status, Spring hindi Status, Spring whatsapp status in hindi, Spring Shayari in Hindi Font

 बहार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बहार, बहार स्टेटस, बहार व्हाट्स अप स्टेटस, बहार पर शायरी, बहार शायरी, बहार पर शेर, बहार की शायरी,


Hinglish

Bahaar Shayari in Hindi

बहार शायरी

bahaar shayari in hindibahaar shaayaribahaar ke khushanuma aur khilate hue phoolon ke suhaane mosam par shaayaril,hindi shayari on spring saiason.sabhi vishayon par hindi shaayari*****************************************************************************

pyaar mein ek hi mausam hai bahaaron ka mausamalog mausam ki tarah phir kaise badal jaate hain~faraz**

*phir usake baad vahi baasi manjaron ke juloos,bahaar chand hi lamhe bahaar rahati hai.~raahat_indauri***

*jo tum muskura do bahaaren hanse, sitaaron ki ujali kataaren hansejo tum muskura do nazaaren hanse, javaan dhadakanon ke ishaare hanse***

*vo gulabadan kabhi nikala jo sair e sahara koto apane saath hava e bahaar kar lega.*

**dariche jahan ke mai band kar nahin sakataadimaag apana mujhe pur bahaar karana hai.**

* bahaar shayari in hinditum ne ham jaise musaafir bhi na dekhe hongejo bahaaron se chale aur khizaan tak pahunche~iqabaal azim

***tum kaho to .. bahaar banakarasab mausamon ko maat dedoon. ?*

**aur ham khade-khade bahaar dekhate rahekaaravaan guzar gaya gubaar dekhate rahe~gopaaladaas niraj***

bahaar shayari in hindikhaar bhi zist-e-gulistaan hain,phool hi haansil-e-bahaar nahin !! bi***

koi esi bajame bahaar ho jahaan main yakin dila sakoonki tera naam hai phasale gul ki tujhi se hain ye karaamaten**

*jala ke daag-e-muhabbat ne dil ko khaak kiyaabahaar aai mere baag mein khizaan ki tarah~daag***

ug raha hai daro divaar mein sabaja gaalibaham bayaabaan mein hain aur ghar mein bahaar aai hai~galib*

**hamin se rang-e-gulistaan hamin se rang-e-bahaarahamin ko nazm-e-gulistaan pe ikhtiyaar nahin ~saahir*

**shiddat se bahaaron ke intezaar mein sab haimpar phool mohabbat ke to khilane nahin dete**

* bahaar shayari in hindiun ki ulfat ka yakin ho un ke aane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahaar-e-intazaar**

*mujhe us junoon ki hai justujoo jo chaman ko bakhsh de rang o boojo naved-e-fasl-e-bahaar ho mujhe us nazar ki talaash hai**

*aamad se pahale teri sajaate kahaan se phool,mausam bahaar ka to tere saath aaya hai !!***

un ki ulfat ka yakin ho un ke aane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahaar-e-intazaar**

*apana barbaad aashiyaan dekhate hain to yaad aata hai,bahaaren bhi ujaad deti hain tinakon se bane gharaundon ko.~paakiza*

**dhaega sau kyaamaten , tauba ki khair hodaur-e-bahaar mein ye umadana sahaab ka*

** bahaar shayari in hindiurooj par hai chaman mein bahaar ka mausamasafar shuroo khizaan ka yahaan se hota hai*

**yoon hi shaayad dil-e-viraan mein bahaar aa jae,zakhm jitane milen sine pe sajaate chalie !!*

**ishq mein dil ke ilaaqe se gujarati hai bahaar,dard ahasaas tak aae to nami tak pahunche*

**jab ham ruken to saath ruke sham-e-bekasi,jab tum ruko bahaar ruke, chaandani ruke !! ***

*kaanton ko mat nikaal chaman se o baagabaan,ye bhi gulon ke saath pale hain bahaar mein !!*

** bahaar shayari in hindimausam-e-bahaar hai ambarin khumaar haikis ka intizaar hai gesuon ko kholie !! -adam***

phir dekh usaka rang nikharata hai kis tarah,doshije- khijaan ko khitaab-e-bahaar de !! -adam*

**kaanta samajh ke mujh se na daaman bachaie,gujari hui bahaar ki ik yaadagaar hoon !!**

*na khijaan mein hai koi tiragi, na bahaar mein koi raushani,ye najar-najar ke charaag hai, kahin jal gae,kahin bujh gae !!*

**naam bhi lena hai jis ka ik jahaan-e-rang-o-boodosto us nau-bahaar-e-naaz ki baaten karo !!**

*na gul khile hain, na un se mile, na may pi hai,ajib rang mein abake bahaar guzari hai.~faiz**

* bahaar shayari in hindilutf jo us ke intazaar mein haivo kahaan mausam-e-bahaar mein hai !!***

jo dekh lega har bashar usako khud mein hi kahin,to mazahabi imaaraton ke bahaar fakir koi hoga nahin.**

*be mausam barasaat se andaaza lagata hoon main,phir kisi maasoom ka dil tuta hai mausam-e-bahaar mein.*

**ulfat ke maaron se na poochhon aalam intazaar kaapatajhad si hai zindagi, khyaal hai bahaar ka.*

** bahaar shayari in hindiaaj hai vo bahaar ka mausam,phool todoon to haath jaam aae !!**

*ik nau-bahaar-e-naaz ko taake hai phir nigaah,chehara phurog-e-may se gulistaan kiye hue !!*

**khushaboo gunche talaash karati haibite rishte talaash karati haiapane maazi ki justazoo mein bahaarapile patte talaash karati hai !! -~gulzar**

*apane lie bhi mausame gul hai bahaar hai,jab se suna hai unako mera intazaar hai 1/2- ~rahabar***

dekh jinda se pare range chaman joshe bahaararakas karana hai to paavan ki janjir na dekh!***

bahaar shayari in hindileke apani-apani kismat aae the gulashan mein gulakuchh bahaaron me khile aur kuchh khizaan mein kho gae~raajesh reddi**

*mausam-e-gul mein to aa jaati hai kaanton pe bahaarabaat to jab hai khijaan mein gul-e-tar paida kar~fana nizaami***

dekh ja aa ke mahaqate hue zakhmon ki bahaaramainne ab tak tere gulashan ko saja rakkha hai.!!**

*ye khijaan ki zard si shaal mein ji udaas ped ke paas haiye tumhaare ghar ki bahaar hai ise aansuo se hara karo***

bahaar shayari in hindipalakon se aansuon ki qataaron ko ponchh lopatajhad ki baat thik nahin hai bahaar mein.!!**

*kaun se naam se taabir karoon is root ko..phool murajhaen hain zakhmon pe bahaar aai hai..!!**

* bahaar shayari in hindia kahin milate hain ham taaqi bahaaren aa jaen..isase pahale ki taalluq mein daraaren aa jaen..!!***

 

 

 

 

Leave a Reply