Bahane par Shayari in Hindi  बहाने पर शायरी

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

Bahane par Shayari in Hindi  बहाने पर शायरी
Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

Bahane par Shayari in Hindi

बहाने पर शायरी

दोस्तों बहाने पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “बहाने” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “बहाने” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

Loading...

बहाना कोई तो ए जिन्दगी दे

कि जीने के लिए मजबूर हो जाऊं।

 

तेरी मानूस निगाहों का ये मोहतात पयाम

दिल के ख़ूं का एक और बहाना ही न हो

~साहिर

 

चुरा के मुट्ठी में दिल को छुपाए बैठे हैं,

बहाना ये है कि मेहंदी लगाए बैठे हैं !! -क़ैसर देहलवी

 

अहल-ए-हिम्मत ने हर दौर मैं कोह काटे हैं तकदीर के,

हर तरफ रास्ते बंद हैं, ये बहाना बदल दीजिये !! -मंजर भोपाली

 

हँसी तो बस बहाना है तुम्हे गुमराह करने का

वगरना तुम मेरी आँखों के सब आज़ार पढ़ लोगे

जीना है तुझे पीने के लिए, ए दोस्त किसी उनवान से पी,

जीने का बहाना एक सही, पीने के बहाने और भी हैं !!

 

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

उसने आब-ओ-हवा का बहाना बना दिया,

बीमार-ए-यार का दिल कुछ और दुःखा दिया।

 

हम को पहले भी न मिलने की शिकायत कब थी

अब जो है तर्क-ए-मरासिम का बहाना हम से

 

हम बने थे तबाह होने को,

आपका इश्क़ तो बहाना था !!

 

चुपके-चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है

हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है !!

 

ये बहाना तेरे दीदार की ख़्वाहिश का है,

हम जो आते हैं इधर रोज़ टहलने के लिए !!

 

रास्ते के जिस दिये को समझते थे हम हक़ीर,

वो दिया घर तक पहुँचने का बहाना बन गया।

~Faraz

 

भूल तो जाऊँ उसे मगर,

फिर ज़िन्दगी का कोई बहाना ना रहेगा।

 

हर रात वही बहाना है मेरे दिल का,

मैं सोता हूँ तो तेरा ख़्वाब आ जाता है।

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

दिल है तो धड़कने का बहाना कोई ढूँढ़े,

पत्थर की तरह बेहिस-ओ-बेजान सा क्यूँ है !!

 

तन्हाई की ये कौन सी मंज़िल है रफ़ीक़ो

ता हद्द-ए-नज़र एक बयाबान सा क्यूँ है

 

बहाना कोई ना बनाओ तुम मुझसे खफा होने का,

तुम्हें चाहने के अलावा कोई गुनाह नहीं है मेरा..

 

कभी तफसीली गुफ्तगू करने का बहाना कर लो

मुझको बुला लो या मेरे पास आना जाना कर लो

 

उस शख़्श से रिश्ता कोई पुराना लगता है

मिलना यकायक यूँ तो इक बहाना लगता है

 

मुद्दत से तमन्ना हुई अफसाना न मिला

हम खोजते रहे मगर ठिकाना न मिला

लो आज फिर चली गई जिंदगी नजरो के सामने से

और उसे कोई रुकने का बहाना न मिला

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

या कोई दर्द या ख़ुशियों का ख़ज़ाना ढूँढो

दिल के बहलाने को कोई तो बहाना ढूँढो

 

काश तुम भी हो जाओ तुम्हारी यादों की तरह..

ना वक़्त देखो, ना बहाना, बस चले आओ

 

करुं ना याद मग़र,, क़िस तरह भुलाऊँ उसे

ग़ज़ल बहाना करुं औऱ गुनगुनाऊँ उसे!!

 

ख्याल, ख्वाब,ख्वाहिशे है तुझसे सब

हर वक्त तुझे याद करने का बहाना सब

 

मेरी ज़िंदगी तो गुज़री तेरे हिज़्र के सहारे,

मेरी मौत को भी प्यारे कोई चाहिए बहाना

 

हर शाम कोई बहाना ढूँढती हूँ…

जिंदगी तेरा ठिकाना ढूँढती हूँ…!

 

मैं और कोई बहाना तलाश कर लूँगा तू

अपने सर न ले इल्ज़ाम दिल दुखाने का ~शाज़_तमकनत

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

हम बने ही थे तबाह होने के लिए……

तेरा मिलना तो एक बहाना था…!!

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो;

मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो;

मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढ़ता है जमाना;

मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले मेरा नाम तो होने दो।

 

मुझको ढूंढ लेती है रोज किसी बहानें से,

दर्द भी वाकिफ हो गया है मेरे हर ठिकानें से…

 

मेरी जिंदगी में खुशियाँ तेरे बहानें से है,

आधी तुझे सताने में आधी तुझे मनाने में ।

 

ये प्यार,मोहब्बत,इश्क की बातें, हैं ये सारी बेक़ार की बातें,

किस्से हैं, अफ़सानें है, ज़ह्मत औ तबाही के बहानें हैं।

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

कभी चिरागों कें बहानें मिल जाया करती थी हसरतों को मंजिलें

आज रौंशनी हैं गजब मगर साया ही नजर नही आता कोई

 

हर-वक्त ज़िंदा मुझमें तू है किसी बहानें ये समझानें को आ

कुछ और करीब आनें को आ मेरे सीनें में अब समानें को आ

 

नाकाम हसरत-ओ-फ़साना तमाम लिखे जा रहा हूँ,

चलो इसी बहानें, दोस्तों का दिल तो बहला रहा हूँ।

 

Search Tags and terms

Bahane par Shayari in Hindi, Bahane par Hindi Shayari, Bahane par Shayari, Bahane par whatsapp status, Bahane par hindi Status, Hindi Shayari on Bahane , Bahane par whatsapp status in hindi,

बहाने पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बहाने पर स्टेटस, बहाने पर व्हाट्स अप स्टेटस,बहाने पर पर शायरी, बहाने पर शायरी, बहाने पर शेर, बहाने की शायरी


Hinglish

Bahane par Shayari in Hindi

बहाने पर शायरी

bahanai par shayari in hindi bahaane par shaayaribahanai par shayari in hindibahaane par shaayari doston bahaane par sher o shaayari ka ek achchha sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummid hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “bahaane” ke baare mein zajbaat aur khayaalaat jaan sakenge. agar aapake paas bhi “bahaane” par shaayari ka koi achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhi vishayon par hindi shaayari ki list yahaan hai.****************************************************

bahaana koi to e jindagi deki jine ke lie majaboor ho jaoon.teri maanoos nigaahon ka ye mohataat payaamadil ke khoon ka ek aur bahaana hi na ho~saahirachura ke mutthi mein dil ko chhupae baithe hain,bahaana ye hai ki mehandi lagae baithe hain !! –

qaisar dehalaviahal-e-himmat ne har daur main koh kaate hain takadir ke,har taraph raaste band hain, ye bahaana badal dijiye !! -manjar bhopaalihansi to bas bahaana hai tumhe gumaraah karane kaavagarana tum meri aankhon ke sab aazaar padh logejina hai tujhe pine ke lie, e dost kisi unavaan se pi,jine ka bahaana ek sahi, pine ke bahaane aur bhi hain !!

bahanai par shayari in hindi bahaane par shaayari usane aab-o-hava ka bahaana bana diya,bimaar-e-yaar ka dil kuchh aur duhkha diya.ham ko pahale bhi na milane ki shikaayat kab thiab jo hai tark-e-maraasim ka bahaana ham seham bane the tabaah hone ko,aapaka ishq to bahaana tha !!

chupake-chupake raat din aansoo bahaana yaad haihamako ab tak aashiqi ka vo zamaana yaad hai !!ye bahaana tere didaar ki khvaahish ka hai,ham jo aate hain idhar roz tahalane ke lie !!raaste ke jis diye ko samajhate the ham haqir,vo diya ghar tak pahunchane ka bahaana ban gaya.~farazbhool to jaoon use magar,phir zindagi ka koi bahaana na rahega.har raat vahi bahaana hai mere dil ka,main sota hoon to tera khvaab aa jaata hai.bahanai par shayari in hindi bahaane par shaayari dil hai to dhadakane ka bahaana koi dhoondhe,

patthar ki tarah behis-o-bejaan sa kyoon hai !!tanhai ki ye kaun si manzil hai rafiqota hadd-e-nazar ek bayaabaan sa kyoon haibahaana koi na banao tum mujhase khapha hone ka,tumhen chaahane ke alaava koi gunaah nahin hai mera..kabhi taphasili guphtagoo karane ka bahaana kar lomujhako bula lo ya mere paas aana jaana kar lous shakhsh se rishta koi puraana lagata haimilana yakaayak yoon to ik bahaana lagata haimuddat se tamanna hui aphasaana na milaaham khojate rahe magar thikaana na milaalo aaj phir chali gai jindagi najaro ke saamane seaur use koi rukane ka bahaana na milaabahanai par shayari in hindi bahaane par shaayari ya koi dard ya khushiyon ka khazaana dhoondhodil ke bahalaane ko koi to bahaana dhoondhokaash tum bhi ho jao tumhaari yaadon ki tarah..na vaqt dekho, na bahaana, bas chale aaokarun na yaad magar,, qis tarah bhulaoon usegazal bahaana karun aur gunagunaoon use!!khyaal, khvaab,khvaahishe hai tujhase sabahar vakt tujhe yaad karane ka bahaana sabameri zindagi to guzari tere hizr ke sahaare,meri maut ko bhi pyaare koi chaahie bahaana…har shaam koi bahaana dhoondhati hoon…jindagi tera thikaana dhoondhati hoon…!main aur koi bahaana talaash kar loonga tooapane sar na le ilzaam dil dukhaane ka

~shaaz_tamakanatabahanai par shayari in hindi bahaane par shaayari ham bane hi the tabaah hone ke lie……tera milana to ek bahaana tha…!!abhi sooraj nahin dooba jara si shaam hone do;main khud laut jaoonga mujhe naakaam to hone do;mujhe badanaam karane ka bahaana dhoondhata hai jamaana;main khud ho jaoonga badanaam pahale mera naam to hone do.mujhako dhoondh leti hai roj kisi bahaanen se,dard bhi vaakiph ho gaya hai mere har thikaanen se…meri jindagi mein khushiyaan tere bahaanen se hai,aadhi tujhe sataane mein aadhi tujhe manaane mein .

ye pyaar,mohabbat,ishk ki baaten, hain ye saari beqaar ki baaten,kisse hain, afasaanen hai, zahmat au tabaahi ke bahaanen hain.bahanai par shayari in hindi bahaane par shaayari kabhi chiraagon ken bahaanen mil jaaya karati thi hasaraton ko manjilenaaj raunshani hain gajab magar saaya hi najar nahi aata koihar-vakt zinda mujhamen too hai kisi bahaanen ye samajhaanen ko aakuchh aur karib aanen ko aa mere sinen mein ab samaanen ko aanaakaam hasarat-o-fasaana tamaam likhe ja raha hoon,chalo isi bahaanen, doston ka dil to bahala raha hoon.

 

2 thoughts on “Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी”

  1. Loading...
  2. वाह! क्या बात है..
    “चुपके-चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है

    हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है !!”

    http://www.hindisuccess.com/

  3. न किसी का दिल होगा आलिशान इतना,
    न किसी की नोक-झोक होगी पास तेरे आने का इक बहाना सा |

Leave a Reply