Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी
Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

Bahane par Shayari in Hindi

बहाने पर शायरी

दोस्तों बहाने पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “बहाने” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “बहाने” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

बहाना कोई तो ए जिन्दगी दे

कि जीने के लिए मजबूर हो जाऊं।

 

तेरी मानूस निगाहों का ये मोहतात पयाम

दिल के ख़ूं का एक और बहाना ही न हो

~साहिर

 

चुरा के मुट्ठी में दिल को छुपाए बैठे हैं,

बहाना ये है कि मेहंदी लगाए बैठे हैं !! -क़ैसर देहलवी

 

अहल-ए-हिम्मत ने हर दौर मैं कोह काटे हैं तकदीर के,

हर तरफ रास्ते बंद हैं, ये बहाना बदल दीजिये !! -मंजर भोपाली

 

हँसी तो बस बहाना है तुम्हे गुमराह करने का

वगरना तुम मेरी आँखों के सब आज़ार पढ़ लोगे

जीना है तुझे पीने के लिए, ए दोस्त किसी उनवान से पी,

जीने का बहाना एक सही, पीने के बहाने और भी हैं !!

 

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

उसने आब-ओ-हवा का बहाना बना दिया,

बीमार-ए-यार का दिल कुछ और दुःखा दिया।

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Bahana Status Pictures – Bahana dp Pictures – Bahana Shayari Pictures

हम को पहले भी न मिलने की शिकायत कब थी

अब जो है तर्क-ए-मरासिम का बहाना हम से

 

हम बने थे तबाह होने को,

आपका इश्क़ तो बहाना था !!

 

चुपके-चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है

हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है !!

 

ये बहाना तेरे दीदार की ख़्वाहिश का है,

हम जो आते हैं इधर रोज़ टहलने के लिए !!

 

रास्ते के जिस दिये को समझते थे हम हक़ीर,

वो दिया घर तक पहुँचने का बहाना बन गया।

~Faraz

 

भूल तो जाऊँ उसे मगर,

फिर ज़िन्दगी का कोई बहाना ना रहेगा।

 

हर रात वही बहाना है मेरे दिल का,

मैं सोता हूँ तो तेरा ख़्वाब आ जाता है।

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

दिल है तो धड़कने का बहाना कोई ढूँढ़े,

पत्थर की तरह बेहिस-ओ-बेजान सा क्यूँ है !!

 

तन्हाई की ये कौन सी मंज़िल है रफ़ीक़ो

ता हद्द-ए-नज़र एक बयाबान सा क्यूँ है

 

बहाना कोई ना बनाओ तुम मुझसे खफा होने का,

तुम्हें चाहने के अलावा कोई गुनाह नहीं है मेरा..

 

कभी तफसीली गुफ्तगू करने का बहाना कर लो

मुझको बुला लो या मेरे पास आना जाना कर लो

 

उस शख़्श से रिश्ता कोई पुराना लगता है

मिलना यकायक यूँ तो इक बहाना लगता है

 

मुद्दत से तमन्ना हुई अफसाना न मिला

हम खोजते रहे मगर ठिकाना न मिला

लो आज फिर चली गई जिंदगी नजरो के सामने से

और उसे कोई रुकने का बहाना न मिला

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

या कोई दर्द या ख़ुशियों का ख़ज़ाना ढूँढो

दिल के बहलाने को कोई तो बहाना ढूँढो

 

काश तुम भी हो जाओ तुम्हारी यादों की तरह..

ना वक़्त देखो, ना बहाना, बस चले आओ

 

करुं ना याद मग़र,, क़िस तरह भुलाऊँ उसे

ग़ज़ल बहाना करुं औऱ गुनगुनाऊँ उसे!!

 

ख्याल, ख्वाब,ख्वाहिशे है तुझसे सब

हर वक्त तुझे याद करने का बहाना सब

 

मेरी ज़िंदगी तो गुज़री तेरे हिज़्र के सहारे,

मेरी मौत को भी प्यारे कोई चाहिए बहाना

 

हर शाम कोई बहाना ढूँढती हूँ…

जिंदगी तेरा ठिकाना ढूँढती हूँ…!

 

मैं और कोई बहाना तलाश कर लूँगा तू

अपने सर न ले इल्ज़ाम दिल दुखाने का ~शाज़_तमकनत

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

हम बने ही थे तबाह होने के लिए……

तेरा मिलना तो एक बहाना था…!!

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो;

मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो;

मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढ़ता है जमाना;

मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले मेरा नाम तो होने दो।

 

मुझको ढूंढ लेती है रोज किसी बहानें से,

दर्द भी वाकिफ हो गया है मेरे हर ठिकानें से…

 

मेरी जिंदगी में खुशियाँ तेरे बहानें से है,

आधी तुझे सताने में आधी तुझे मनाने में ।

 

ये प्यार,मोहब्बत,इश्क की बातें, हैं ये सारी बेक़ार की बातें,

किस्से हैं, अफ़सानें है, ज़ह्मत औ तबाही के बहानें हैं।

 

Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी

कभी चिरागों कें बहानें मिल जाया करती थी हसरतों को मंजिलें

आज रौंशनी हैं गजब मगर साया ही नजर नही आता कोई

 

हर-वक्त ज़िंदा मुझमें तू है किसी बहानें ये समझानें को आ

कुछ और करीब आनें को आ मेरे सीनें में अब समानें को आ

 

नाकाम हसरत-ओ-फ़साना तमाम लिखे जा रहा हूँ,

चलो इसी बहानें, दोस्तों का दिल तो बहला रहा हूँ।

 

Search Tags and terms

Bahane par Shayari in Hindi, Bahane par Hindi Shayari, Bahane par Shayari, Bahane par whatsapp status, Bahane par hindi Status, Hindi Shayari on Bahane , Bahane par whatsapp status in hindi,

बहाने पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बहाने पर स्टेटस, बहाने पर व्हाट्स अप स्टेटस,बहाने पर पर शायरी, बहाने पर शायरी, बहाने पर शेर, बहाने की शायरी


Hinglish

Bahane par Shayari in Hindi roman font

bahana koe to e jindage de

ki jene ke lie majaboor ho jaoon.

 

tere manoos nigahon ka ye mohatat payam

dil ke khoon ka ek aur bahana he na ho

~sahir

 

chura ke mutthe mein dil ko chhupae baithe hain,

bahana ye hai ki mehande lagae baithe hain !! -qaisar dehalave

 

ahal-e-himmat ne har daur main koh kate hain takader ke,

har taraf raste band hain, ye bahana badal dejiye !! -manjar bhopale

 

hanse to bas bahana hai tumhe gumarah karane ka

vagarana tum mere ankhon ke sab azar padh loge

 

jena hai tujhe pene ke lie, e dost kise unavan se pe,

jene ka bahana ek sahe, pene ke bahane aur bhe hain !!

 

 

bahanai par shayari in hindi bahane par shayari

usane ab-o-hava ka bahana bana diya,

bemar-e-yar ka dil kuchh aur duhkha diya.

 

ham ko pahale bhe na milane ke shikayat kab the

ab jo hai tark-e-marasim ka bahana ham se

 

ham bane the tabah hone ko,

apaka ishq to bahana tha !!

 

chupake-chupake rat din ansoo bahana yad hai

hamako ab tak ashiqe ka vo zamana yad hai !!

 

ye bahana tere dedar ke khvahish ka hai,

ham jo ate hain idhar roz tahalane ke lie !!

 

raste ke jis diye ko samajhate the ham haqer,

vo diya ghar tak pahunchane ka bahana ban gaya.

~faraz

 

bhool to jaoon use magar,

fir zindage ka koe bahana na rahega.

 

har rat vahe bahana hai mere dil ka,

main sota hoon to tera khvab a jata hai.

 

bahanai par shayari in hindi bahane par shayari

dil hai to dhadakane ka bahana koe dhoondhe,

patthar ke tarah behis-o-bejan sa kyoon hai !!

 

tanhae ke ye kaun se manzil hai rafeqo

ta hadd-e-nazar ek bayaban sa kyoon hai

 

bahana koe na banao tum mujhase khafa hone ka,

tumhen chahane ke alava koe gunah nahin hai mera..

 

kabhe tafasele guftagoo karane ka bahana kar lo

mujhako bula lo ya mere pas ana jana kar lo

 

us shakhsh se rishta koe purana lagata hai

milana yakayak yoon to ik bahana lagata hai

 

muddat se tamanna hue afasana na mila

ham khojate rahe magar thikana na mila

lo aj fir chale gae jindage najaro ke samane se

aur use koe rukane ka bahana na mila

 

bahanai par shayari in hindi bahane par shayari

ya koe dard ya khushiyon ka khazana dhoondho

dil ke bahalane ko koe to bahana dhoondho

 

kash tum bhe ho jao tumhare yadon ke tarah..

na vaqt dekho, na bahana, bas chale ao

 

karun na yad magar,, qis tarah bhulaoon use

gazal bahana karun aur gunagunaoon use!!

 

khyal, khvab,khvahishe hai tujhase sab

har vakt tujhe yad karane ka bahana sab

 

mere zindage to guzare tere hizr ke sahare,

mere maut ko bhe pyare koe chahie bahana…

 

har sham koe bahana dhoondhate hoon…

jindage tera thikana dhoondhate hoon…!

 

main aur koe bahana talash kar loonga too

apane sar na le ilzam dil dukhane ka ~shaz_tamakanat

 

bahanai par shayari in hindi bahane par shayari

ham bane he the tabah hone ke lie……

tera milana to ek bahana tha…!!

 

abhe sooraj nahin dooba jara se sham hone do;

main khud laut jaoonga mujhe nakam to hone do;

mujhe badanam karane ka bahana dhoondhata hai jamana;

main khud ho jaoonga badanam pahale mera nam to hone do.

 

mujhako dhoondh lete hai roj kise bahanen se,

dard bhe vakif ho gaya hai mere har thikanen se…

 

mere jindage mein khushiyan tere bahanen se hai,

adhe tujhe satane mein adhe tujhe manane mein .

 

ye pyar,mohabbat,ishk ke baten, hain ye sare beqar ke baten,

kisse hain, afasanen hai, zahmat au tabahe ke bahanen hain.

 

bahanai par shayari in hindi bahane par shayari

kabhe chiragon ken bahanen mil jaya karate the hasaraton ko manjilen

aj raunshane hain gajab magar saya he najar nahe ata koe

 

har-vakt zinda mujhamen too hai kise bahanen ye samajhanen ko a

kuchh aur kareb anen ko a mere senen mein ab samanen ko a

 

nakam hasarat-o-fasana tamam likhe ja raha hoon,

chalo ise bahanen, doston ka dil to bahala raha hoon.

 

2 thoughts on “Bahane par Shayari in Hindi बहाने पर शायरी”

  1. वाह! क्या बात है..
    “चुपके-चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है

    हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है !!”

    http://www.hindisuccess.com/

    Reply
  2. न किसी का दिल होगा आलिशान इतना,
    न किसी की नोक-झोक होगी पास तेरे आने का इक बहाना सा |

    Reply

Leave a Comment