Betaabi Hindi Shayari बेताबी हिंदी शायरी

Betaabi hindi shayari
Betaabi Hindi Shayari – बेताबी हिंदी शायरी

Betaabi Hindi Shayari – बेताबी हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Betaabi, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Betaabi Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Betaabi is excellent in expressing your emotions and love. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

बेताबी पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस बेताबी हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। बेताबी लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******************************************

शायद कि इधर आके कोई लौट गया है;

बेताबी से यूं मुंह को कलेजा नहीं आता।

***

इश्क़ में बेताबी कि इंतिहा हुई दिल बेचैन हो रहा है पल – पल

***

बेताबी क्या होती है , पूछो मेरे दिल से तन्हा तन्हा लौटा हु , मै तो भरी महफिल से

***

ठहरने भी नहीं देती है उस महफिल में बेताबी.. मगर तस्कीन भी जाकर उसी महफिल में होती है !!

***

ऐ शबेगोर,वो बेताबी-ए-शब हाय फ़िराक़

आज अराम से सोना मेरी तक़दीर में न  था

***

ऐसी तो बेअसर नहीं बेताबी-ए-फ़िराक़,

फरियाद करूँ मैं और किसी को ख़बर न हो !!

*** Betaabi Hindi Shayari

हाल ऐ दिल ये है की ,, ~~~~~~ अजीब सी बेताबी है ….

जी भी रहे हैं जिया भी नहीं जता

***

इतनी हसरत से ना देखा करो तुम! और बेताबी ना पैदा करो तुम! नींद कुछ ज्यादा खफा रहती है; ऐसे ख्वाबों में ना आया करो

***

हम खिलौना कया बने हर किसी को

हमारे दिल से खेलने को बेताबी हो गई !

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Betabi Status Pictures – Betabi dp Pictures – Betabi Shayari Pictures

***

तुझ से मिलने की बेताबी है बहोत न मिले तु तो परेशानी है बहोत

***

दिल की बेताबी नहीं ठहरने देती है

मुझे दिन कही रात कहीं सुबह कहीं शाम कहीं..

*** Betaabi Hindi Shayari

दिल की बेताबी दिखा सकते नही

राज दिल का छुपा सकते नही

***

ये रात ये दिल की धड़कन, ये बढ़ती हुई बेताबी

एक जाम के खातिर जैसे, बेचैन हो कोई शराबी

*** Betaabi Hindi Shayari

नाहक है हवस के बंदों को नज़्ज़ारा-ए-फ़ितरत का दावा।। आँखों में नहीं है बेताबी दीदार की बातें करते हैं।।

***

ऐसे ही मै भी तड़प उठा था तेरी पलको को किसी ग़ैर की पलकों के करीब देख के मेरी बेताबी मेरी बेचैनी को तुमने तब क्युं नही समझा फिर इल्जाम क्यु

***

अपनी बेताबी का मैं कैसे तुझसे इज़हार करुँ कैसे बतलाओ तुझे जान-ए-जाना कितना मैं प्यार करुँ

***

हाल खुल जायेगा बेताबी ए दिल का ‘हसरत’! बार बार आप उन्हें शौक़ से देखा न करें।

*** Betaabi Hindi Shayari

बेताबी ओ सुकूँ की हुईं मंज़िलें तमाम.. बहलाएँ तुझ से छुट के तबीअत कहाँ कहाँ

***

देख ले बुलबुल-ओ-परवाना की बेताबी को हिज्र अच्छा न हसीनो का विसाल अच्छा है

***

लौटकर हम तुम चलो
चलते हैं कुछ पल वापस
उस वक्त में
जब थे थोड़े फासले थोड़ी हया
जब थी बेताबी नजर में
तेरे मेरे दरम्याँ

***

तसव्वुर„ आरज़ू„ यादें„ तमन्ना„ शौक-ए-बेताबी… ये सब चीज़े तुम्हारी हैं„ तुम आकर छीन लो मुझसे…!!!

**** Betaabi Hindi Shayari

तुझको पाकर भी कम हो न सकी बेताबी-ए-दिल इतना आसान तेरे इश्क का ग़म था ही नहीं !

***

बेताबी का खामोशी का, इक अंजाना सा नग्मा है महसूस इसे करके देखो, हर सांस यहां एक सदमा है।

***

एक उम्र होती है किसी की कुछ बेहद मामूली बातें कहीं गहरे उतर जाती है

उसके लिये बेताबी हुई होगी उसकी हर बात में इक बात नजर आई होगी

***

सुबह का इंतेज़ार रात भर….. सारा दिन शाम होने की बेताबी….. ना चैन इसमे, ना सकूँ उसमें….. बस इतनी सी मेरी कहानी.

***

रात की चांदनी में बेरंग हर बात थी मुझे मोहब्बत की ख्वाहिश थी और उन्हें दूर जाने की बेताबी थी।

*** Betaabi Hindi Shayari

उफ़ ये इनकी बेताबी तक रही है राहों को दिल से भी ज़यादा है इंतज़ार आँखों में

***

मेरे दिल की बेताबी हद से बढ जाती है….
जब वो भर कर मुझे बाहों में अपनी सांसों की तेजी सुनाती है.

***

दिल की बेताबी बयाँ होने लगी क्या छुपाया है लबे-ख़ामोश में।

***

चढ़ रहे थे दिन ढल रही थी रात बेताबी फिर बढ़ने लगी जब सताने लगी तेरी याद

***

जवाब की बेताबी, इंतज़ार को इन्तहा बना देती है ,

कहने को तो एक लफ्ज़ है पर उम्र उम्मीद में गुजर जाती है ।।

***

बेताबी अभी हद से गुज़री नही शायद.. एक कसक सी हैं जो सोने नही देती

*** Betaabi Hindi Shayari

आज ये केसी बेरुखी सी छायी हे हमारे दरमिया अल्फ़ाज़ भी नहीं मिल रहे ये बेताबी बयां करने को।

*** Betaabi Hindi Shayari


Betabi hindi shayari in english font 

betabi par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is betabi hindi shayari ko apane hindi whatsapp status  ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behataren hindi shayari ko apane doston ko facebook par bhe bhej sakaten hain. betabi lafz par hindi ke yah sher, apake pyar aur bhavanaon ko vyakt karane mein apake madad kar sakaten hain.sabhe hindi shayari ke list yahan hain. hindi shayari*******************************************

 

shayad ki idhar ake koe laut gaya hai;betabi se yoon munh ko kaleja nahin ata.***

 

ishq mein betabi ki intiha hue dil bechain ho raha hai pal – pal***

 

betabi kya hote hai , poochho mere dil se tanha tanha lauta hu , mai to bhare mahafil se***

 

thaharane bhe nahin dete hai us mahafil mein betabi.. magar tasken bhe jakar use mahafil mein hote hai !!***

 

ai shabegor,vo betabi-e-shab hay firaqaj aram se sona mere taqader mein na tha***

 

aise to beasar nahin betabi-e-firaq,fariyad karoon main aur kise ko khabar na ho !!***

 

betabi hindi shayarihal ai dil ye hai ke ,, ~~~~~~ ajeb se betabi hai ….je bhe rahe hain jiya bhe nahin jata**

 

*itane hasarat se na dekha karo tum! aur betabi na paida karo tum! nend kuchh jyada khafa rahate hai; aise khvabon mein na aya karo***

 

ham khilauna kaya bane har kise kohamare dil se khelane ko betabi ho gae !***

 

tujh se milane ke betabi hai bahot na mile tu to pareshane hai bahot**

 

*dil ke betabi nahin thaharane dete haimujhe din kahe rat kahen subah kahen sham kahen..**

 

* betabi hindi shayaridil ke betabi dikha sakate naheraj dil ka chhupa sakate nahe***

 

ye rat ye dil ke dhadakan, ye badhate hue betabiek jam ke khatir jaise, bechain ho koe sharabe***

 

betabi hindi shayarinahak hai havas ke bandon ko nazzara-e-fitarat ka dava.. ankhon mein nahin hai betabi dedar ke baten karate hain..**

 

*aise he mai bhe tadap utha tha tere palako ko kise gair ke palakon ke kareb dekh ke mere betabi mere bechaine ko tumane tab kyun nahe samajha fir iljam kyu***

 

apane betabi ka main kaise tujhase izahar karun kaise batalao tujhe jan-e-jana kitana main pyar karun**

 

*hal khul jayega betabi e dil ka hasarat! bar bar ap unhen shauq se dekha na karen.***

 

betabi hindi shayaribetabi o sukoon ke huen manzilen tamam.. bahalaen tujh se chhut ke tabeat kahan kahan***

 

dekh le bulabul-o-paravana ke betabi ko hijr achchha na haseno ka visal achchha hai***

 

lautakar ham tum chalochalate hain kuchh pal vapasus vakt menjab the thode fasale thode hayajab the betabi najar mentere mere daramyan***

 

tasavvur„ arazoo„ yaden„ tamanna„ shauk-e-betabi… ye sab cheze tumhare hain„ tum akar chhen lo mujhase…!!!****

 

betabi hindi shayaritujhako pakar bhe kam ho na sake betabi-e-dil itana asan tere ishk ka gam tha he nahin !***

 

betabi ka khamoshe ka, ik anjana sa nagma hai mahasoos ise karake dekho, har sans yahan ek sadama hai.***

 

ek umr hote hai kise ke kuchh behad mamoole baten kahen gahare utar jate haiusake liye betabi hue hoge usake har bat mein ik bat najar ae hoge***

 

subah ka intezar rat bhar….. sara din sham hone ke betabi….. na chain isame, na sakoon usamen….. bas itane se mere kahane.***

 

rat ke chandane mein berang har bat the mujhe mohabbat ke khvahish the aur unhen door jane ke betabi the.***

 

betabi hindi shayariuf ye inake betabi tak rahe hai rahon ko dil se bhe zayada hai intazar ankhon mein***

 

mere dil ke betabi had se badh jate hai….jab vo bhar kar mujhe bahon mein apane sanson ke teje sunate hai.***

 

dil ke betabi bayan hone lage kya chhupaya hai labe-khamosh mein.***

 

chadh rahe the din dhal rahe the rat betabi fir badhane lage jab satane lage tere yad***

 

javab ke betabi, intazar ko intaha bana dete hai ,kahane ko to ek lafz hai par umr ummed mein gujar jate hai ..***

 

betabi abhe had se guzare nahe shayad.. ek kasak se hain jo sone nahe dete

 

*** betabi hindi shayariaj ye kese berukhe se chhaye he hamare daramiya alfaz bhe nahin mil rahe ye betabi bayan karane ko.***

 

betabi hindi shayari