Bewafa Shayari बेवफा शायरी

Bewafa Shayari बेवफा शायरी
Bewafa Shayari बेवफा शायरी

 

Bewafa Shayari  बेवफा शायरी

Here you can get the best collection of Bewafa Shayari ( Shayari on Bewafai), You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Bewafa Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Bewafai is excellent in expressing your emotions and pain. For other subject list of all Hindi Shayari is here. Hindi Shayari

बेवफा शायरी

बेवफा शायरी पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस बेवफा शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। बेवफाई लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपके दर्द  और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं।

Hindi Shayari

***********************

Bewafa Shayari

रुसवाईयों की बात क्यों करते हो
तन्हाईयों में याद क्यों करते हो।।
वफा नहीं करना तो कोई बात नहीं
बेवफाई की बात क्यों करते हो।।

***

मोहब्बत से भरी कोई
ग़ज़ल उसे पसंद नहीं।।

बेवफाई के हर शेयर पे
वो दाद दिया करते है…!

***

अब मायूस क्या होना उसकी बेवफाई पर ऐ दिल
तू खुद ही तो कहता था वो सबसे जुदा है ।।

***

तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना;
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे;
तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर;
कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे।

***

कोई शिकवा नही है तुमसे बेवफाई का..
में परेशान हु खुद अपनी वफाओं से ..

***

खुदा करे किसी को मोहब्बत मे जुदाई ना मिले,

कभी भी किसी को इश्क़ में बेवफ़ाई ना मिले,

*** Bewafa Shayari

तेरी बेवफाई पे लिखूंगा ग़ज़लें,
.
सुना है हुनर को हुनर काटता है

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Bewafa Status Pictures – Bewafa dp Pictures – Bewafa Shayari Pictures

***

मेरे दिल को अब किसी से गिला नहीं ,
मन से जिसे चाहा वो मुझे मिला नहीं ,
बद नसीबी  कहूँ या वक्त की बेवफाई ,
अँधेरे में एक दीपक मिला पर वो जला नही …!

***

~~~कुछ नहीं बदला मुहबत मैं यहाँ.

बस बेवफाई आम हो गई है…

***

काश हम भी होते गालिब की तरह शायरी के बादशाह
हम भी तुझे रूलाते तेरी बेवफाई के शेर सुना सुना कर

***

आंखों में जिनके बस गई दुनिया भर की रौनकें
वो शख्स बेवफाई का एक जिंदा मिसाल था

***

लोग डूब कर सुनते है मेरी बेतुकी बातों को आजकल,

तू ही बता तेरी बेवफ़ाई नें मुझे ये क्या बना दिया ?

*** Bewafa Shayari

जान कर भी वो मुझे जान ना पाए, आज तक वो मुझे पहचान ना पाए, खुद ही करली बेवफ़ाई हमने, ताकि उन पर कोई इल्ज़ाम ना आए.

***

मेरी चुप्पी का मतलब बेवफाई न समझो
कभी – कभी मजबूरियाँ भी खामोश कर जाती है …

***

कुछ अलग ही करना है तो
वफ़ा करो दोस्त,
.
वरना मज़बूरी का नाम लेकर
बेवफाई तो सभी करते ही हैं.

***

वो मोहब्बत भी तेरी थी, वो शरारत भी तेरी
थी….!!
अगर कुछ बेवफाई थी, तो वो बेवफाई भी
तेरी थी….!!
हम छोड़ गए तेरा शहर, तो वो हिदायत भी
तेरी
थी…!!
अगर करते तो किस्से करते तुम्हारी
शिकायत
“सनम” वो शहर भी तेरा था वो अदालत भी
तेरी थी..!!

*** Bewafa Shayari

चोट है, ज़ख्म़ हैं, तोहमत है, बेवफाई है_
बचपन के बाद इम्तहान कड़ा होता है_

***

अगर वो ज़िन्दगी में फ़कत एक बार मेरी हो
जाती… तो मैं ज़माने की किताबों से लफ़्ज़
बेवफाई ही मिटा देता

***

क्या दू सबूत अपनी वफा का इससे बडा
मैने खुदा से बेवफाई की तुझसे वफा के खातिर

***

मोहब्बत रब से हो तो सुकून देती हैं,
क्युकी न खतरा हो जुदाई का न डर हो बेवफाई का..!!

***

तेरी यादें हर रोज़ आ जाती है मेरे पास..
लगता है तुमने बेवफ़ाई नही सिखाई इनको…

***

“मत रख हमसे वफा की उम्मीद,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।”

*** Bewafa Shayari

इस मुहब्बत में तुमको मैं खुशी दे न सकी
कोई तू राह बता कैसे मैं बेवफाई करूँ
दर्द के शोलों को हवा दी हमने तेरे दिल में
इन गुनाहों से तोबा अब मैं कैसे करूँ..

***

रुसवाईयों की बात क्यों करते हो
तन्हाईयों में याद क्यों करते हो।।
वफा नहीं करना तो कोई बात नहीं
बेवफाई की बात क्यों करते हो।।

***

पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफ़ाई,
.
.
बड़ी तरकीब से एक शख्स ने तबाह किया…

*** Bewafa Shayari

वफा के बदले बेवफाई ना दिया करो..
मेरी उमीद ठुकरा कर इन्कार ना किया करो..
तेरी महोब्त में हम सब कुछ खो बैठे..
जान चली जायेगी इम्तिहान ना लिया करो

***

मोहब्बत न सही तन्हाई तो मिलती हे
मिलन न सही जुदाई तो मिलती हे
कौन कहता हे मोहब्बत में कुछ नहीं मिलता
वफ़ा न सही बेवफाई तो मिलती है

***

मोहबत खो गयी मेरी,
बेवफ़ाई के दलदल में
मगर इन पागल आँखो को,
आज भी तेरी तलाश रहती है.

*** Bewafa Shayari

जाने क्या सोच के लहरे साहिल से टकराती हैं;
और फिर समंदर में लौट जाती हैं;
समझ नहीं आता कि किनारों से बेवफाई करती हैं;
या फिर लौट कर समंदर से वफ़ा निभाती हैं।

***

करनी थी अगर बेवफाई‬ तो हमें पहले ही बता देते…..!!!!
दुनिया बहुत हसीन‬ हैं हम किसी ओर से दिल‬ लगा लेते……..!!

***

बेवफाई उसकी मिटा के आया हूँ;
ख़त उसके पानी में बहा के आया हूँ;
कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को;
इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।

***

वफादार और तुम…?
ख्याल अच्छा है, बेवफा और हम…??
इल्जाम भी अच्छा है…

***

न करना प्यार कभी किसी मुसाफिर से
उनका ठिकाना बहुत दूर होता है …
वो कभी बेवफा तो नहीं होते ..
मगर उनका जाना ज़रूर होता है

***

अबकी बार सुलह कर ले मुझसे ऐ दिल,
वादा करते है,…..
फिर न देंगे तुझे किसी बेवफा के हाथ में..

*** Bewafa Shayari

जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों,
रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी,
अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख,
सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी.

***

हर किसी की जिंदगी का एक ही मकसद है खुद भले हों बेवफ़ा लेकिन तलाश वफ़ा की करते है।

***

जनाजा मेरा उठ रहा था;
फिर भी तकलीफ थी उसे आने में;
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी;
और कितनी देर है दफनाने में!….

***

वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे;
हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे;
हमें ही मिल गया बेवफ़ा का ख़िताब क्योंकि;
हम हर दर्द मुस्कुरा कर छिपाते रहे!!!

***

पूछते है सब जब बेवफा था तो उसे दिल दिया ही क्यों**किस किस को बतलाये***उस शख्स में बात ही कुछ ऐसी थी दिल नहीं देते तो जान चली जाती”.

*** Bewafa Shayari

वो बेवफा हमारा इम्तेहा क्या लेगी…
मिलेगी नज़रो से नज़रे तो अपनी नज़रे ज़ुका लेगी…
उसे मेरी कबर पर दीया मत जलाने देना…
वो नादान है यारो… अपना हाथ जला लेगी.

***

किसी की खातिर मोहब्बत की इन्तहा कर दो,
लेकिन इतना भी नहीं कि उसको खुदा कर दो,
मत चाहो किसी को टूट कर इस कदर,
कि अपनी ही वफाओं से उसको बेवफा कर दो

***

तु बदली तो मजबूरियाँ थी……????
और जब
मै बदला तो बेवफ़ा हो गया !!

***

हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला; हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला! अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी; हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला!

*** Bewafa Shayari

मेरे कलम से लफ्ज खो गए शायद,
आज वो भी बेवफा हो गए शायद,
जब नींद खुली तो पलको में पानी था,
मेरे ही ख्वाब मुझ पर रो गए शायद

***

मिल जायेंगा हमें भी कोई टूट के चाहने वाला

अब शहर का शहर तो बेवफा नहीं हो सकता

***

आरजू थी की तेरी बाँहो मे, दम निकले, लेकिन बेवफा तुम नही,बदनसीब हम निकले.

***

मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है;
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है;
देकर वो आपकी आँखों में आँसू;
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

*** Bewafa Shayari

किसी और की बाहों में रहकर,
.
वो हमसे वफा की बातें करते हैं, ??
.
ये कैसी चाहत है यारों, ???
.
वो बेवफ़ा है ये जानकर भी हम उन्ही से मुहब्बत करते हैं

***

Hindi Shayari, Love Hindi Shayari, Hindi Status, Hindi Love Status, Hindi shayari

whatsapp, whatsapp shayari, facebook shayari, whatsapp status shayari.


 

Bewafa Shayari  बेवफा शायरी in hinglish font

bewafa shayari bewafa shayari par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is bewafa shayari ko apane hindi whatsapp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behataren hindi shayari ko apane doston ko facebook par bhe bhej sakaten hain. bewafai lafz par hindi ke yah sher, apake dard aur bhavanaon ko vyakt karane mein apake madad kar sakaten hain.sabhe hindi shayari ke list yahan hain.hindi shayari***********************

bewafa shayarirusavaeyon ke bat kyon karate hotanhaeyon mein yad kyon karate ho..vafa nahin karana to koe bat nahembewafai ke bat kyon karate ho..**

*mohabbat se bhare koegazal use pasand nahin..bewafai ke har sheyar pevo dad diya karate hai…!**

*ab mayoos kya hona usake bewafai par ai dilatoo khud he to kahata tha vo sabase juda hai ..***

tere ishq ne diya sukoon itana;ki tere bad koe achchha na lage;tujhe karane hai bewafai to is ada se kar;ki tere bad koe bewafa na lage.***

koe shikava nahe hai tumase bewafai ka..mein pareshan hu khud apane vafaon se ..***

khuda kare kise ko mohabbat me judae na mile,kabhe bhe kise ko ishq mein bewafai na mile,***

bewafa shayaritere bewafai pe likhoonga gazalen,.suna hai hunar ko hunar katata hai***

mere dil ko ab kise se gila nahin ,man se jise chaha vo mujhe mila nahin ,bad nasebe kahoon ya vakt ke bewafai ,andhere mein ek depak mila par vo jala nahe …!**

*~~~kuchh nahin badala muhabat main yahan.bas bewafai am ho gae hai…**

*kash ham bhe hote galib ke tarah shayari ke badashahaham bhe tujhe roolate tere bewafai ke sher suna suna kar***

ankhon mein jinake bas gae duniya bhar ke raunakenvo shakhs bewafai ka ek jinda misal tha***

log doob kar sunate hai mere betuke baton ko ajakal,too he bata tere bewafai nen mujhe ye kya bana diya ?***

bewafa shayarijan kar bhe vo mujhe jan na pae, aj tak vo mujhe pahachan na pae, khud he karale bewafai hamane, taki un par koe ilzam na ae.***

mere chuppe ka matalab bewafai na samajhokabhe – kabhe majabooriyan bhe khamosh kar jate hai …***

kuchh alag he karana hai tovafa karo dost,.varana mazaboore ka nam lekarabewafai to sabhe karate he hain.***

vo mohabbat bhe tere the, vo shararat bhe terethe….!!agar kuchh bewafai the, to vo bewafai bhetere the….!!ham chhod gae tera shahar, to vo hidayat bheterethe…!!agar karate to kisse karate tumhareshikayat”sanam” vo shahar bhe tera tha vo adalat bhetere the..!!***

bewafa shayarichot hai, zakhm hain, tohamat hai, bewafai hai_bachapan ke bad imtahan kada hota hai_***

agar vo zindage mein fakat ek bar mere hojate… to main zamane ke kitabon se lafzabewafai he mita deta***

kya doo saboot apane vafa ka isase badamaine khuda se bewafai ke tujhase vafa ke khatir***

mohabbat rab se ho to sukoon dete hain,kyuke na khatara ho judae ka na dar ho bewafai ka..!!***

tere yaden har roz a jate hai mere pas..lagata hai tumane bewafai nahe sikhae inako…***”

mat rakh hamase vafa ke ummed,hamane har dam bewafai paye hai,mat dhoondh hamare jism pe jakhm ke nishan,hamane har chot dil pe khaye hai.”***

bewafa shayariis muhabbat mein tumako main khushe de na sakekoe too rah bata kaise main bewafai karoondard ke sholon ko hava de hamane tere dil menin gunahon se toba ab main kaise karoon..***

rusavaeyon ke bat kyon karate hotanhaeyon mein yad kyon karate ho..vafa nahin karana to koe bat nahembewafai ke bat kyon karate ho..***

pahale ishk fir dhokha fir bewafai,..bade tarakeb se ek shakhs ne tabah kiya…***

bewafa shayarivafa ke badale bewafai na diya karo..mere umed thukara kar inkar na kiya karo..tere mahobt mein ham sab kuchh kho baithe..jan chale jayege imtihan na liya karo***

mohabbat na sahe tanhae to milate hemilan na sahe judae to milate hekaun kahata he mohabbat mein kuchh nahin milatavafa na sahe bewafai to milate hai***mohabat kho gaye mere,bewafai ke daladal memmagar in pagal ankho ko,aj bhe tere talash rahate hai.***

bewafa shayarijane kya soch ke lahare sahil se takarate hain;aur fir samandar mein laut jate hain;samajh nahin ata ki kinaron se bewafai karate hain;ya fir laut kar samandar se vafa nibhate hain.***

karane the agar bewafai to hamen pahale he bata dete…..!!!!duniya bahut hasen hain ham kise or se dil laga lete……..!!***

bewafai usake mita ke aya hoon;khat usake pane mein baha ke aya hoon;koe padh na le us bewafa ke yadon ko;isalie pane mein bhe ag laga kar aya hoon.***

vafadar aur tum…?khyal achchha hai, bewafa aur ham…??iljam bhe achchha hai…***

na karana pyar kabhe kise musafir seunaka thikana bahut door hota hai …vo kabhe bewafa to nahin hote ..magar unaka jana zaroor hota hai***

abake bar sulah kar le mujhase ai dil,vada karate hai,…..fir na denge tujhe kise bewafa ke hath mein..***

bewafa shayarijam pe jam pene se kya fayada doston,rat ko pe huye sharab subah utar jaege,are pena hai to do boond bewafa ke pe ke dekh,sare umar nashe mein guzar jaege.**

*har kise ke jindage ka ek he makasad hai khud bhale hon bewafa lekin talash vafa ke karate hai.***

janaja mera uth raha tha;fir bhe takalef the use ane mein;bewafa ghar mein baithe poochh rahe the;aur kitane der hai dafanane mein!….***

vo to apana dard ro-ro kar sunate rahe;hamare tanhaiyon se bhe ankh churate rahe;hamen he mil gaya bewafa ka khitab kyonki;ham har dard muskura kar chhipate rahe!!!**

*poochhate hai sab jab bewafa tha to use dil diya he kyon**kis kis ko batalaye***

us shakhs mein bat he kuchh aise the dil nahin dete to jan chale jate”.***

bewafa shayarivo bewafa hamara imteha kya lege…milege nazaro se nazare to apane nazare zuka lege…use mere kabar par deya mat jalane dena…vo nadan hai yaro… apana hath jala lege.***

kise ke khatir mohabbat ke intaha kar do,lekin itana bhe nahin ki usako khuda kar do,mat chaho kise ko toot kar is kadar,ki apane he vafaon se usako bewafa kar
kise ke khatir mohabbat ke intaha kar do,lekin itana bhe nahin ki usako khuda kar do,mat chaho kise ko toot kar is kadar,ki apane he vafaon se usako bewafa kar do***

tu badale to majabooriyan the……????aur jabamai badala to bewafa ho gaya !!***

hamen na mohabbat mile na pyar mila; ham ko jo bhe mila bewafa yar mila! apane to ban gae tamasha zindage; har koe apane makasad ka talabagar mila!***

bewafa shayarimere kalam se lafj kho gae shayad,aj vo bhe bewafa ho gae shayad,jab nend khule to palako mein pane tha,mere he khvab mujh par ro gae shayad***

mil jayenga hamen bhe koe toot ke chahane valab shahar ka shahar to bewafa nahin ho sakata***

arajoo the ke tere banho me, dam nikale, lekin bewafa tum nahe,badanaseb ham nikale.***

mazaboore mein jab koe juda hota hai;zaroore nahin ki vo bewafa hota hai;dekar vo apake ankhon mein ansoo;akele mein vo apase jyada rota hai.***

bewafa shayarikise aur ke bahon mein rahakar,.vo hamase vafa ke baten karate hain, ??.ye kaise chahat hai yaron, ???.vo bewafa hai ye janakar bhe ham unhe se muhabbat karate hain***

hindi shayari, lovai hindi shayari, hindi status, hindi lovai status, hindi shayariwhatsapp, whatsapp shayari, fachaibook shayari, whatsapp status shayari.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

8 thoughts on “Bewafa Shayari बेवफा शायरी”

  1. करनी ही थी गर बेवफाई तो हमको पहले बता देते हसना बहुत हैँ किसी और से दिल लगा लेते

    Reply

Leave a Comment