Lips Shayari in Hindi लब पर शायरी

Lips Shayari in Hindi लब पर शायरी
Lips Shayari in Hindi लब पर शायरी

Lips Shayari in Hindi

लब पर शायरी

 

गुलाबी होंटों और लबों पर कुछ खूबसूरत शेर

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

Hindi Shayari on Beautiful Lips

**********************************************************

“मेरा अपना तजुर्बा है तुम्‍हें बतला रहा हूं मैं

कोई लब छू गया था तब कि अबतक गा रहा हूं मैं..~कुमार विश्वास

***

आँख से छलका वो आँसू गाल पर ढलका वो आँसू

लब तक जातेजाते ख़ामोश सा हो गया लब भी ख़ामोश हो गये

एक उदासी छा गई लंबी ख़ामोशी छा गई~रूमी

***

ख़ामोशी भी तो सुनाती है फ़साने अक्सर

किस तमाशे में हूँ ये बंदिश-ए-लब से पूछो ~ShamimHanfi

***

बीती बातें फिर दोहराने बैठ गए ,

क्यों ख़ुद को ही ज़ख़्म लगाने बैठ गए ;

अभी अभी तो लब पे तबस्सुम बिखरा था ,

अभी अभी फिर अश्क बहाने बैठ गए ?

*** Lips Shayari in Hindi

गाल पे गिरती ज़ुल्फ़ें, तिरछी नज़र,

लब पे जाम, हाथों में पैमाना.. हाँ मैंने क़यामत देखी है..

***

मेरी झोली मे कुछ अल्फ़ाज़ दुआ के डालदो

क्या पता तुम्हारे लब हिले और मेरी तक़दीर संवर जाऐ

***

दिल-ए-गुदाज़ ओ लब-ए-ख़ुश्क ओ चश्म-ए-तर के बग़ैर

ये इल्म ओ फ़ज़्ल ये दानिश्वरी नहीं कोई शय ~अहमद_मुश्ताक़

***

तर्जुमान-ए-राज़ हूँ, यह भी काम है मेरा

उस लब-ए-ख़मोश ने मुझसे जो कहा, कहूँ ~नुशूर_वाहिदी

***

हर लब पे रक्स करती है सर्द-ओ-समन की बात,

छेड़ी है किसने आज तेरे पैरहन की बात

***

हमने उसके लब-ओ-रुख़्सार को छूकर देखा,

हौसले आग को गुलज़ार बना देते हैं !! – क़ाबिल अजमेरी

*** Lips Shayari in Hindi

तिश्ना-लब आएँगे दरियाओं के ठुकराए हुए,

इसी बाइस तो हम सराबों में जलाते हैं चराग़ !!

***

वो लब कि जैसे साग़र-ए-सहबा दिखाई दे,

जुम्बिश जो हो तो जाम छलकता दिखाई दे !! -कृष्ण बिहारी नूर

***

उस तश्ना-लब की नींद न टूटे दुआ करो,

जिस तश्ना-लब को ख़्वाब में दरिया दिखाई दे!!

***

तश्नगी में लब भिगो लेना भी काफी है ‘फ़राज़’,

जाम में सहबा है या ज़ेहराब मत देखा करो !!

***

दोस्तों उस चश्म-ओ-लब की कुछ कहो जिसके बगैर,

गुलिस्ताँ की बात रंगीन न मैखाने का नाम !!-फ़ैज़

*** Lips Shayari in Hindi

सरगोशियों की रात है रुख़्सार ओ लब की रात

अब हो रही है रात जवाँ देखते चलें –मख़दूममुहिउद्दीन

***

क़द ओ गेसू लब-ओ-रुख़्सार के अफ़्साने चले

आज महफ़िल में तिरे नाम पे पैमाने चले -अहमद राही

***

नाजुकी उसके लब की क्या कहिये,

पखुंड़ी इक गुलाब की-सी है !!

***

मिल गये थे एक बार उस के जो मेरे लब से लब

उम्र भर होंटो पे अपने हम ज़बान फेरा किए !! – ‘जुर्रत’

***

कभी आह लब पे मचल गई कभी अश्क़ आँख से ढल गये

ये तुम्हारे गम के चराग़ हैं कभी बुझ गये कभी जल गये -Rashid Kamil

***

 

‘आह’ कीजे मगर लतिफ़-तरीन,

लब तक आकर धुआँ ना हो जाए,

दर्द बढ़ कर फुगां ना हो जाए….

***

होंटों पे कभी उनके मेरा नाम ही आए

आए तो सही बर-सर-ए-इल्ज़ाम ही आए…-अदा जाफ़री

***

सवाल-ए-वस्ल पर उनको अदू का ख़ौफ़ है इतना,

दबे होंटों से देते हैं जवाब आहिस्ता आहिस्ता !!

*** Lips Shayari in Hindi

ज़ोफ़ का हुक्म ये है कि होंट न हिलने पाएँ,

दिल ये कहता है कि नाले में असर पैदा कर !!

***

तुम्हारे होंट बहोत खुश्क खुश्क रहते हैं इन्हीं लबों पे कभी ताज़ा शेर मिलते थे

यह तुमने होंटो पे अफ़साने रख लिए कबसे… #गुलज़ार

***

ये लब चाहे खामोश रहें आँखों से पता चल जाता है

कोई लाख छुपा ले इश्क मगर दुनिया को पता चल जाता है

***

दिलशाद अगर नहीं तो नाशाद सही, लब पर नग़मा नहीं तो फ़रियाद सही।

हमसे दामन छुडा़ के जाने वाले, जा- जा गर तू नहीं तेरी याद सही

***

मत पुछ इन घटाओं का रंग ज़र्द क्यूं है

आह लब पे ’आतिश’ ने धुआं किया होगा

***

चोट नई है लेकिन ज़ख़्म पुराना है ये चेहरा कितना जाना-पहचाना है

सारी बस्ती चुप की धुंद में डूबी है जिस ने लब खोले हैं वो दीवाना है

***

खूबसूरत है वो लब……जिन पर, दूसरों के लिए कोई दुआ आ जाए!!

खूबसूरत है वो दिल जो किसी के, दुख मे शामिल हो जाए !

*** Lips Shayari in Hindi

मैं लब हूँ, मेरी बात तुम हो ,

मैं तब हूँ , जब मेरे साथ तुम हो।

***

उम्रें गुज़र गई हैं असर की तलाश में

किस ना-मुराद लब की दुआ हो गए हैं हम~KhadimRazmi

 

 

हाथ उठाए हैं मगर लब पे दुआ कोई नहीं की

इबादत भी तो वो जिसकी जज़ा कोई नहीं ~फ़राज़

***

मेरे हर लफ़्ज़ में लब भी छुपे हैं

तुम्हें भेजे हैं बोसे चूम लेना

*** Lips Shayari in Hindi

हरियाली संग पहाड़ नज़र आएंगे सर्द हवाओं से काँपते नज़र आएँगे

कल तक थे जो अनजान मुझसे उनके लब आज मेरे गीत गुनगुनाएंगे

***

खिले तो अबके भी गुलशन में फूल हैं

लेकिन न मेरे ज़ख़्म की सूरत न तेरे लब की तरह..! ~अहमद_फराज

***

न आए लब पे तो काग़ज़ पे लिख दिया जाए

किसी ख़याल को मायूस क्यों किया जाए~अक़ील नोमानी

***

कल रात ज़िन्दगी से मुलाक़ात हो गई,

लब थर-थरा रहे थे मगर बात हो गई! ~ShakeelBadayuni

***

खुदा करे की मुहब्बत में वो मुकाम आये,

किसी का नाम लूँ, लब पे तुम्हारा नाम आये !!

***

तुम्हारा नाम किसी अजनबी के लब पर था

ज़रा सी बात थी दिल को मगर लगी है बहुत

***

भड़का रहे हैं आग लब-ए-नग़्मागार से

हम ख़ामोश क्या रहेंगे ज़माने के डर से हम #साहिर

*** Lips Shayari in Hindi

ताआज़्ज़ुब है तेरा चेहरा है के मैख़ाना

नज़र..लब..रुख़सार..पेशानी में जाम रक्खे हैं

***

बाक़ी है लहू दिल में तो हर अश्क से पैदा

रंग-ए-लब-ओ-रुख़सार-ए-सनम करते रहेंगे~फैज़

***

कई ख्वाब मुस्कुराये सरे-शाम बेखुदी में

मेरे लब पे आ गया था तेरा नाम बेखुदी में

***

वो लब कि जैसे साग़रे-सहबा दिखाई दे

जुंबिश जो हो तो जाम छलकता दिखाई दे ~कृष्ण बिहारी नूर

*** Lips Shayari in Hindi

 

मुझ को दिया है गरचे,लब-ए-यार ने जवाब

आँखें ये कह रही हैं,दोबारा सवाल कर.!!

***

लब पे आहें भी नहीं आँख में आँसू भी नहीं

दिल ने हर राज़ मोहब्बत का छुपा रक्खा है.!!

***

खाली कुओं से आस ना पानी की रख नईम

दिल हि में कुछ नहीं है तो क्या लब पे आएगा.!!

***

इस दिल के खराबे से गुज़र किस का हुआ है

आँखें भी वही होंट भी वही लहजा भी वही है

***

 

Search Tags

Lab Shayari, Lab Hindi Shayari, Lab Shayari, Lab whatsapp status, Lab hindi Status, Hindi Shayari on Lab, Lab whatsapp status in hindi,

Lips Shayari, Lips Hindi Shayari, Lips Shayari, Lips whatsapp status, Lips hindi Status, Hindi Shayari on Lips, Lips whatsapp status in hindi,

लब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी,लब, लब स्टेटस, लब व्हाट्स अप स्टेटस, लब पर शायरी, लब शायरी, लब पर शेर, लब की शायरी,

गुलाबी होंट हिंदी शायरी,होंटों, गुलाबी होंट स्टेटस, गुलाबी होंट व्हाट्स अप स्टेटस, होंटों पर शायरी, गुलाबी होंट शायरी, होंटों पर शेर, होंटों की शायरी,

 


Hinglish

Lips Shayari in Hindi

लब पर शायरी

Honton pan shayari

gulaabi honton aur labon par kuchh khoobasoorat sherasabhi hindi shaayari ki list yahaan hain. hindi shayarihindi shayari on baiautiful lips**********************************************************”

mera apana tajurba hai tum‍hen batala raha hoon mainkoi lab chhoo gaya tha tab ki abatak ga raha hoon main..~kumaar vishvaas**

*aankh se chhalaka vo aansoo gaal par dhalaka vo aansoolab tak jaatejaate khaamosh sa ho gaya lab bhi khaamosh ho gayik udaasi chha gai lambi khaamoshi chha gai~roomi**

*khaamoshi bhi to sunaati hai fasaane aksarakis tamaashe mein hoon ye bandish-e-lab se poochho ~shamimhanfi*

**biti baaten phir doharaane baith gae ,kyon khud ko hi zakhm lagaane baith gae ;abhi abhi to lab pe tabassum bikhara tha ,abhi abhi phir ashk bahaane baith gae ?**

* lips shayari in hindigaal pe girati zulfen, tirachhi nazar,lab pe jaam, haathon mein paimaana.. haan mainne qayaamat dekhi hai..**

*meri jholi me kuchh alfaaz dua ke daaladokya pata tumhaare lab hile aur meri taqadir sanvar jaai*

**dil-e-gudaaz o lab-e-khushk o chashm-e-tar ke bagairaye ilm o fazl ye daanishvari nahin koi shay ~ahamad_mushtaaq**

*tarjumaan-e-raaz hoon, yah bhi kaam hai meraus lab-e-khamosh ne mujhase jo kaha, kahoon ~nushoor_vaahidi*

**har lab pe raks karati hai sard-o-saman ki baat,chhedi hai kisane aaj tere pairahan ki baat***

hamane usake lab-o-rukhsaar ko chhookar dekha,hausale aag ko gulazaar bana dete hain !! – qaabil ajameri***

lips shayari in hinditishna-lab aaenge dariyaon ke thukarae hue,isi bais to ham saraabon mein jalaate hain charaag !!

***vo lab ki jaise saagar-e-sahaba dikhai de,jumbish jo ho to jaam chhalakata dikhai de !! -krshn bihaari noor**

*us tashna-lab ki nind na toote dua karo,jis tashna-lab ko khvaab mein dariya dikhai de!!**

*tashnagi mein lab bhigo lena bhi kaaphi hai faraaz,jaam mein sahaba hai ya zeharaab mat dekha karo !!***

doston us chashm-o-lab ki kuchh kaho jisake bagair,gulistaan ki baat rangin na maikhaane ka naam !!-faiz***

lips shayari in hindisaragoshiyon ki raat hai rukhsaar o lab ki raatab ho rahi hai raat javaan dekhate chalen –makhadoomamuhiuddin**

*qad o gesoo lab-o-rukhsaar ke afsaane chaleaaj mahafil mein tire naam pe paimaane chale -ahamad raahi**

*naajuki usake lab ki kya kahiye,pakhundi ik gulaab ki-si hai !!*

**mil gaye the ek baar us ke jo mere lab se labumr bhar honto pe apane ham zabaan phera kie !! – jurrat**

*kabhi aah lab pe machal gai kabhi ashq aankh se dhal gayeye tumhaare gam ke charaag hain kabhi bujh gaye kabhi jal gaye -rashid kamil**

*aah kije magar latif-tarin,lab tak aakar dhuaan na ho jae,dard badh kar phugaan na ho jae….*

**honton pe kabhi unake mera naam hi aaeae to sahi bar-sar-e-ilzaam hi aae…-ada jaafari*

**savaal-e-vasl par unako adoo ka khauf hai itana,dabe honton se dete hain javaab aahista aahista !!*

** lips shayari in hindizof ka hukm ye hai ki hont na hilane paen,dil ye kahata hai ki naale mein asar paida kar !!*

**tumhaare hont bahot khushk khushk rahate hain inhin labon pe kabhi taaza sher milate theyah tumane honto pe afasaane rakh lie kabase… #gulazaar*

**ye lab chaahe khaamosh rahen aankhon se pata chal jaata haikoi laakh chhupa le ishk magar duniya ko pata chal jaata hai**

*dilashaad agar nahin to naashaad sahi, lab par nagama nahin to fariyaad sahi.hamase daaman chhuda ke jaane vaale, ja- ja gar too nahin teri yaad sahi***

mat puchh in ghataon ka rang zard kyoon haiaah lab pe ’aatish’ ne dhuaan kiya hoga**

*chot nai hai lekin zakhm puraana hai ye chehara kitana jaana-pahachaana haisaari basti chup ki dhund mein doobi hai jis ne lab khole hain vo divaana hai**

*khoobasoorat hai vo lab……jin par, doosaron ke lie koi dua aa jae!!khoobasoorat hai vo dil jo kisi ke, dukh me shaamil ho jae !***

lips shayari in hindimain lab hoon, meri baat tum ho ,main tab hoon , jab mere saath tum ho.***umren guzar gai hain asar ki talaash menkis na-muraad lab ki dua ho gae hain ham~khadimrazmi

haath uthae hain magar lab pe dua koi nahin kiibaadat bhi to vo jisaki jaza koi nahin ~faraaz***

mere har lafz mein lab bhi chhupe haintumhen bheje hain bose choom lena***

lips shayari in hindihariyaali sang pahaad nazar aaenge sard havaon se kaanpate nazar aaengekal tak the jo anajaan mujhase unake lab aaj mere git gunagunaenge**

*khile to abake bhi gulashan mein phool hainlekin na mere zakhm ki soorat na tere lab ki tarah..! ~ahamad_pharaaj**

*na aae lab pe to kaagaz pe likh diya jaekisi khayaal ko maayoos kyon kiya jae~aqil nomaani**

*kal raat zindagi se mulaaqaat ho gai,lab thar-thara rahe the magar baat ho gai! ~shakaiailbadayuni**

*khuda kare ki muhabbat mein vo mukaam aaye,kisi ka naam loon, lab pe tumhaara naam aaye !!**

*tumhaara naam kisi ajanabi ke lab par thaazara si baat thi dil ko magar lagi hai bahut***

bhadaka rahe hain aag lab-e-nagmaagaar seham khaamosh kya rahenge zamaane ke dar se ham #saahir**

* lips shayari in hinditaaazzub hai tera chehara hai ke maikhaanaanazar..lab..rukhasaar..peshaani mein jaam rakkhe hain**

*baaqi hai lahoo dil mein to har ashk se paidaarang-e-lab-o-rukhasaar-e-sanam karate rahenge~phaiz*

**kai khvaab muskuraaye sare-shaam bekhudi memmere lab pe aa gaya tha tera naam bekhudi mein*

**vo lab ki jaise saagare-sahaba dikhai dejumbish jo ho to jaam chhalakata dikhai de ~krshn bihaari noor*

** lips shayari in hindimujh ko diya hai garache,lab-e-yaar ne javaabaankhen ye kah rahi hain,dobaara savaal kar.!!*

**lab pe aahen bhi nahin aankh mein aansoo bhi nahindil ne har raaz mohabbat ka chhupa rakkha hai.!!**

*khaali kuon se aas na paani ki rakh naimadil hi mein kuchh nahin hai to kya lab pe aaega.!!**

*is dil ke kharaabe se guzar kis ka hua haiaankhen bhi vahi hont bhi vahi lahaja bhi vahi hai***

Alwida Shayari in Hindi अलविदा शायरी

Alwida Shayari in Hindi अलविदा शायरी
Alwida Shayari in Hindi अलविदा शायरी

Alwida Shayari in Hindi

अलविदा शायरी

 

अगर आपको किसी मोड़ पर किसी को अलविदा (GOODBYE) कहने का मोका आ जाये तो आप इन अलविदा गुडबाय शायरी को मेसेस कर सकते हैं,

Alwida Shayari in hindi, Goodbye Shayari in Hindi,

list of all topics

***************************************************

क्या पता अब तुमसे मिलना हो न हो

चाह के फूलों का खिलना हो न हो

बिन मिले ही या कहोगे अलविदा …!

***

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा

आज भी वही खड़ा है दिल उसके आने के इंतज़ार में

***

वो अलविदा की रस्म भी अजीब थी

उसका पत्थर सा चेहरा कभी भूलता नहीं

***

मिलता था हर रंग जिन्दगी का जिसमें..

वो आज अलविदा जाने क्यो कह रहा है..

***

अजीब था उनका अलविदा कहना सुना कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं

बर्बाद हुवे उनकी मोहब्बत में की लुटा कुछ नहीं और बचा भी कुछ नही

*** Alwida Shayari in Hindi

तुम ख्वाबों में इन पर्दों में आया ना करो|

हर सुबह जब मुस्कुराकर अलविदा कहना ही है.

तो यूँ प्यार से हर रात गले लगाया ना करो|

***

हो रहा है, जुदा दोनो का रास्ता,

दूर जाके भी मुझसे तुम मेरी यादो मे रहना, कभी अलविदा ना कहना…

***

बड़े गरूर से वो अलविदा कहके चले थे,

फिर न जाने क्यूँ मुड़ मुड़ के देखते रहे…

***

लिपट लिपट के कह रही है ये आखिरी शामें…

अलविदा कहने से पहले… मुझे एक बार गले से लगा लो

***

अलविदा कह गया सबसे फिर बिता कल ,

नई उम्मीद की तलाश में होने लगी हलचल ।

*** Alwida Shayari in Hindi

 

भुला देना मुझे..है अलविदा तुझे.. तुझे जीना है…

मेरे बिना.. सफ़र ये है तेरा…ये रास्ता तेरा.. तुझे जीना है…मेरे बिना

***

रुक सी गयी है ज़िन्दगी आज भी वही,

जिस मोड़ पर तु ने अलविदा कहा था.

***

चांदनी रात अलविदा कह रही है,

ठंडी सी हवा दस्तक दे रही है,

जरा उठाकर देखो नज़ारों को,

एक प्यारी सी सुबह आपको शुभ दिवस कह रही है!

दोस्त आप का दिन शुभ रहे !!!!!

***

तेरी मोहब्बत से लेकर…, तेरे अलविदा कहने तक…,

सिर्फ तुझ को चाहा है, तुझसे कुछ नहीं चाहा…!!

*** Alwida Shayari in Hindi

लिपट-लिपट के कह रही हैं मुझसे ये सर्द हवाएं,

इक रात की मोहलत दो अलविदा कहने के लिए…

***

कभी अलविदा मत कहना मेरे दोस्त। जिन्दगी अभी बाकी है गम पीने के लिए।

जख्म मिलता है हमें तीरे नजर से। दिल सम्भाल कर रखना उसे सीने के लिए।

***

अपनी नाजायज़ जिद को अलविदा कह दो…

और भी ग़म है ज़माने में सिवा इश्क के..

***

अलविदा कहते डर लगता है

मन क्यूँ दीवाना सा लगता है

*** Alwida Shayari in Hindi

सोया तो था में जिंदगी को अलविदा कह कर दोस्तों,

किसी की बे-पनाह दुआओ ने मुझे फिर से जगा दिया..

***

जनम जनम तुम साथ चलना यूही कसम तुम्हे कसम आके मिलनायूही

एक जान है भले दो बदन हो जुदा मेरी होके हमेशा ही रहना कभी ना कहना अलविदा!

***

लफ्ज़ नम हुए मेरे, धड़कन थमने सी लगी,

जब जाते वक्त उसने आंखों से अलविदा कहा !

**** Alwida Shayari in Hindi

कुछ सपने अधूरे रहजाते है दिल के दर्द आंसू बन बहजाते है

जो कहते है हम सिर्फ आपके है पतानही वो कैसे अलविदा कह जाते है

***

दस्तक सुना मैंने, और पहचान भी गये

पर दरवाज़ा खोलूँ तो कैसे खोलूँ तूँ तो अलविदा कहने आया है

***

कहते है अब अलविदा इस जहाँको जाकर जो वापिस न आया जाएगा

आग लगाई है इंकलाब की वो किसीसे बुझाया ना जाएगा

***

तुम दर्द हो तुम ही आराम हो मेरी दुआवो से आती है

बस ये सदा मेरी होके हमेशा ही रहना कभी ना कहना अलविदा

***

वक्त नूर को बेनूर कर देता है मामूली जख्म को भी नासूर कर देता है

कौन चाहता है, तुम्हें अलविदा कहना ये वक्त है जो इंसान को मजबूर कर देता है

***

वो बग़ल में मेरे बैठे और मुस्करा दिए ……

हमने भी लफ़्ज़ों को अलविदा कह दिया

*** Alwida Shayari in Hindi

ज़िन्दगी आ तुझे भी अलविदा कह दूँ,

क्या मीला तेरे दुनिया मे नफ़रत के सिवा

***

आज किसी मोड़ पर उसे अलविदा कह दिया

जो कभी शामिल ही नहीं था मेरी जिंदगी में

***

ना पीछे मुड़ के देखो, ना आवाज दो मुझको,

बड़ी मुश्किल से सीखा है मैंने अलविदा कहना…

***

गज़ब दस्तूर है महफ़िल से अलविदा कहने का,

वो भी ख़ुदा-हाफ़िज़ कहते है जिनके ठिकाने नहीं होते

***

Search Tags

Alwida Shayari, Alwida Hindi Shayari, Alwida Shayari, Alwida whatsapp status, Alwida hindi Status, Hindi Shayari on Alwida, Alwida whatsapp status in hindi, अलविदा हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, अलविदा, अलविदा स्टेटस, अलविदा व्हाट्स अप स्टेटस, अलविदा पर शायरी, अलविदा शायरी, अलविदा पर शेर, अलविदा की शायरी, Goodbye Shayari in Hindi, Goodbye in Hindi, Goodbye Wish in Hindi, गुडबाय शायरी, गुडबाय विश,


Hinglish

Alwida Shayari in Hindi

अलविदा शायरी

alwid shayari in hindialavida shaayariagar aapako kisi mod par kisi ko alavida (goodbyai) kahane ka moka aa jaaye to aap in alavida gudabaay shaayari ko meses kar sakate hain, kya pata ab tumase milana ho na hochaah ke phoolon ka khilana ho na hobin mile hi ya kahoge alavida …!***

usaki dard bhari aankhon ne jis jagah kaha tha alavidaaaj bhi vahi khada hai dil usake aane ke intazaar mein**

*vo alavida ki rasm bhi ajib thiusaka patthar sa chehara kabhi bhoolata nahin**

*milata tha har rang jindagi ka jisamen..vo aaj alavida jaane kyo kah raha hai..**

*ajib tha unaka alavida kahana suna kuchh nahin aur kaha bhi kuchh nahimbarbaad huve unaki mohabbat mein ki luta kuchh nahin aur bacha bhi kuchh nahi**

* alwid shayari in hinditum khvaabon mein in pardon mein aaya na karo|har subah jab muskuraakar alavida kahana hi hai.to yoon pyaar se har raat gale lagaaya na karo|***

ho raha hai, juda dono ka raasta,door jaake bhi mujhase tum meri yaado me rahana, kabhi alavida na kahana…**

*bade garoor se vo alavida kahake chale the,phir na jaane kyoon mud mud ke dekhate rahe…***

lipat lipat ke kah rahi hai ye aakhiri shaamen…alavida kahane se pahale… mujhe ek baar gale se laga lo*

**alavida kah gaya sabase phir bita kal ,nai ummid ki talaash mein hone lagi halachal .**

* alwid shayari in hindibhula dena mujhe..hai alavida tujhe.. tujhe jina hai…mere bina.. safar ye hai tera…ye raasta tera.. tujhe jina hai…mere bina*

**ruk si gayi hai zindagi aaj bhi vahi,jis mod par tu ne alavida kaha tha.***

chaandani raat alavida kah rahi hai,thandi si hava dastak de rahi hai,jara uthaakar dekho nazaaron ko,ek pyaari si subah aapako shubh divas kah rahi hai!dost aap ka din shubh rahe !!!!!**

*teri mohabbat se lekar…, tere alavida kahane tak…,sirph tujh ko chaaha hai, tujhase kuchh nahin chaaha…!!**

* alwid shayari in hindilipat-lipat ke kah rahi hain mujhase ye sard havaen,ik raat ki mohalat do alavida kahane ke lie…**

*kabhi alavida mat kahana mere dost. jindagi abhi baaki hai gam pine ke lie.jakhm milata hai hamen tire najar se. dil sambhaal kar rakhana use sine ke lie.*

**apani naajaayaz jid ko alavida kah do…aur bhi gam hai zamaane mein siva ishk ke..***alavida kahate dar lagata haiman kyoon divaana sa lagata hai**

* alwid shayari in hindisoya to tha mein jindagi ko alavida kah kar doston,kisi ki be-panaah duao ne mujhe phir se jaga diya..**

*janam janam tum saath chalana yoohi kasam tumhe kasam aake milanaayoohiek jaan hai bhale do badan ho juda meri hoke hamesha hi rahana kabhi na kahana alavida!**

*laphz nam hue mere, dhadakan thamane si lagi,jab jaate vakt usane aankhon se alavida kaha !****

alwid shayari in hindikuchh sapane adhoore rahajaate hai dil ke dard aansoo ban bahajaate haijo kahate hai ham sirph aapake hai pataanahi vo kaise alavida kah jaate hai***

dastak suna mainne, aur pahachaan bhi gayepar daravaaza kholoon to kaise kholoon toon to alavida kahane aaya hai**

*kahate hai ab alavida is jahaanko jaakar jo vaapis na aaya jaegaaag lagai hai inkalaab ki vo kisise bujhaaya na jaega**

*tum dard ho tum hi aaraam ho meri duaavo se aati haibas ye sada meri hoke hamesha hi rahana kabhi na kahana alavida**

*vakt noor ko benoor kar deta hai maamooli jakhm ko bhi naasoor kar deta haikaun chaahata hai, tumhen alavida kahana ye vakt hai jo insaan ko majaboor kar deta hai*

**vo bagal mein mere baithe aur muskara die ……hamane bhi lafzon ko alavida kah diya**

* alwid shayari in hindizindagi aa tujhe bhi alavida kah doon,kya mila tere duniya me nafarat ke siva**

*aaj kisi mod par use alavida kah diyaajo kabhi shaamil hi nahin tha meri jindagi mein**

*na pichhe mud ke dekho, na aavaaj do mujhako,badi mushkil se sikha hai mainne alavida kahana…**

*gazab dastoor hai mahafil se alavida kahane ka,vo bhi khuda-haafiz kahate hai jinake thikaane nahin hote***

 

Nazar Shayari in Hindi नज़र और निगाह पर शायरी

Nazar Shayari in Hindi नज़र और निगाह पर शायरी
Nazar Shayari in Hindi नज़र और निगाह पर शायरी

Nazar Shayari in Hindi

नज़र और निगाह पर शायरी

 

दोस्तों, खूबसूरत और कातिल नज़रों पर कुछ बेहतरीन शायरी

Hindi Shayari on Nazar and Shayari on Nigah.

****************************************************

 

 

तुम्हारी एक निगाह से कत्ल होते हैं लोग फराज़

एक नज़र हम को भी देख लो

तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती

***

तुम्हारी शरारती नजरों को नज़र न लगे

ख़ुदा करे ये हमेशा यूँ ही मुस्कुराती लगे

***

मत मुस्कुराओ इतना कि फूलों को खबर लग जाए,

करें वो तुम्हारी ताऱीफ इतनी कि नज़र लग जाए.

***

तुम्हारी नज़र।हमारा दिल ले बैठी।

बताते आपको हमारे दिल का हाल

अगर तुम्हारी अमीरी बीच में नही आई होती

***

नज़र में ख़्वाब नए,रात भर सजाते हुए

तमाम रातें कटी तुमको गुनगुनाते हुए

तुम्हारी बात,ख़याल में गुमसुम सभी

ने देख लिया हमको मुस्कराते हुए.

*** Nazar Shayari in Hindi

 

तुम्हारी सीधी नज़र ने,तो कोई बात न की!

तुम्हारी तिरछी नज़र का,सवाल अच्छा था!

***

नज़र ख़ामोश , ज़ुबान चुप , सदा-ऐ-दिल महरूम ..

किसी का ज़िक्र न निकला , तुम्हारी बात के बाद !!

***

आँखों में तुम्हारी मेरे ही ख्वाब नज़र आते हैं,

जब मैं भी कुछ कहना चाहूँ तो बस तेरे ही अल्फाज़ जुबाँ पर आते हैं

***

जीना भी आ गया मुझे, मरना भी आ गया….

पहचानने लगा हूँ तुम्हारी नज़र को मैं….!!

***

तुम एक नज़र देख लो खुद को मेरी नज़र से

तुम्हारी नज़रें तलाशेंगी खुद फिर मेरी नज़र को

*** Nazar Shayari in Hindi

 

मतलब निकल जाने पर पलट के देखा भी नही तुमने..!

रिश्ता तुम्हारी नज़र में कल का अखबार हो गया..!!

***

बहुत खूबसूरत है तुम्हारी मुस्कराहट.. पर तुम मुस्कुराती कम हो,

सोचता हूँ देखता ही रहू तुम्हे पर तुम नज़र आते ही कम हो!!

***

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते

इसीलिए तो तुम्हें हम नज़र नहीं आते..

***

चलो फिर से समेटें

तुम्हारी मुस्कराहट इस नज़र में

और खुशबु पत्तियों की एक पुडिया में

***

क़त्ल करती है तुम्हारी एक नज़र हज़ारों का..

ऐसे ना देखा करो हमे.. तुम्हारा एक दीवाना और ख़त्म हो जाएगा

***

तस्वीरें आज भी बड़ी शिद्दत से देखती हूं तुम्हारी..

पर आंखों मे तेरी वो चाहत नज़र नही आती अब.

*** Nazar Shayari in Hindi

 

नज़र तुम्हारी कभी जो उठे, हमारी तरफ ,

नज़र अन्दाज़ ही कर लेना, हमें जी भर कर..

***

नज़र मिला कर हमसे नजर चुरा रहे हो तुम,

हम नजर भर के देख भी नहीं पाए थे तुम्हारी किसी अदा पे

***

जहाँ भरोसा और सच्चाई नज़र आये….वहाँ दोस्ती का हाथ बढ़ाओ वरना

“तुम्हारी तन्हाई”.. तुम्हारी…बेहतरीन साथी है

**

पहचानने लगा हूँ तुम्हारी नज़र को मैं….

हमदर्दी न करो मुझसे मेरे हमदर्द….

वो भी बड़े हमदर्द थे,जो दर्द हज़ारों दे गये…..!!

***

जाने क्या कशिश है तुम्हारी मदहोश आँखों में…

नज़र अंदाज़ जितना करो नज़र तुम्हीं पे ही पड़ती है…

***

आ गया है फर्क तुम्हारी नज़रों में यकीनन…

अब एक खास अंदाज़ से नज़र अंदाज़ करते हो !!

*** Nazar Shayari in Hindi

 

दिल-बर हो एक तुम कि हमारी नज़र में हो

दिल है हमारा दिल कि तुम्हारी नज़र में है

***

तुम्हारी मस्त नज़र, अगर इधर नहीं होती

नशे में चूर फ़िज़ा इस क़दर नहीं होती

***

ये शर्म हैं या हया हैं, क्या हैं, नज़र उठाते ही झुक गयी हैं,

तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम, हमारी आँखों में रुक गयी है ….!!

**

जान-ऐ-जा अब हम तुम्हारी नज़र में खटकते ज़रूर है

ये बात अलग है तुम्हारी मोहब्बत भटकते ज़रूर है

***

यकीनन याद आती रहेगी, तुम्हारी “वो” रूहानी नज़र,

रात भर, और तुम्हारी महकती खुश्बू रहेगी – मेरी “हमसफ़र” रात भर…

*** Nazar Shayari in Hindi

 

मै तुम्हारी हर नज़र का गरूर हो भी सकता था

मै तेरी सब खताओं का कसूर हो भी सकता था

***

नज़र से गुफ्तगू,ख़ामोश लब ,तुम्हारी तरह //

ग़ज़ल ने सीखे है अंदाज़,सब तुम्हारी तरह ~बशीरबद्र

***

आता है इक सितारा नज़र चाँद के क़रीब,

जब देखते हैं ख़ुद को तुम्हारी नज़र से हम !!

***

इस कदर प्यार है तुमसे है हमसफर

अब तो जीतें हैं हम बस तुम्हे चाहकर

तुम्हारी हर अदा तुम्हारी हर नज़र

ये क्या कहने लगी तुम्हे है क्या ख़बर

***

“यूँ तो शिकायतें मुझे सैंकड़ों हैं तुमसे मगर ,

तुम्हारी एक नज़र ही काफी है सुलह के लिये”

*** Nazar Shayari in Hindi

 

तुम्हीं बताओ कि किस किस से मैं कलाम करूँ हो

तुम भी गोया तुम्हारी नज़र भी गोया है ~अरशद सिद्दीक़ी

***

तुम एक नज़र देख लो खुद को मेरी नज़र से

तुम्हारी नज़रें तलाशेंगी खुद फिर मेरी नज़र को

***

कोई एक पल हो तो नज़रें चुरा लें हम,

ये तुम्हारी याद तो साँसों की तरह आती है !!

***

जाने किस किस पे पड़ी होंगी तुम्हारी नज़रें ,

मैंने चुन चुन के तेरे शहर के पत्थर चूमे.

***

ये रात है, ये तुम्हारी जुल्फें खुली हुई है

है चांदनी या तुम्हारी नज़रें से मेरी रातें धुली हुई है

*** Nazar Shayari in Hindi

 

शरमा के,मारे झुक रही हैं, तुम्हारी नज़रें…

कहा था, इतने क़रीब, ना आया करो…

***

तुम्हारी शातिर नज़रें क़त्ल करने में माहिर हैं,

हम भी मर-मर कर जीने में उस्ताद हो गये हैं

***

चलो तुम्हारी ज़िद पे पिये लेते हैं हम साक़ी

पर ये वादा रहे नज़रें कभी ना चुराना हमसे

***

तुम्हारी नज़रें न जान पायीं अच्छाइयां मेरी,

हम जो सच में ख़राब होते ,तो सोचो कितने फसाद होते..!!

*** Nazar Shayari in Hindi

 

नज़रें ना चुराओ यूँ हमसे, सुबह होने में वक़्त काफी है ।

तुम्हारी आँखों को पढ़ लेने दो, उनमें राज़ अभी भी बाकी हैं

***

ये कहो, वो कौन सी बात ज़ुबाँ तक आते-आते रूक गयी !

ये बताओ, उस बात की चुप्पी से तुम्हारी नज़रें क्यूँ झुक गयी !!

***

ज़ख़्मी हो जाता है ये हर बार तुमसे मिल कर,

चाबुक सी नज़रें पड़ती है तुम्हारी इस दिल पर !

***

कितनी शिकायत भरी नज़रें हैं तुम्हारी मेरी बे-परवाही को चीरती हुई आ गई

मेरी ख़ामोशी की क़द्र तुम कर न पाए मेरा डर अब एक रूमानी वाक़िया हो गया

*** Nazar Shayari in Hindi

 

अब तो सिर्फ हिकारत भरी नज़रें है,या खामोश अलफ़ाज़

जो जता जाते हैं की अब हम ना हैं तुम्हारी दुनिया में,ना कोई चाह हमारी!

***

मैं क्या बताऊँ ये दिलरूबा तेरे सामने मेरा हाल है,

तेरी एक निगाह की बात है मेरी ज़िन्दगी का सवाल है I

***

छलके शराब बर्क़ गिरे या जलें चराग़

ज़िक्र-ए-निगाह-ए-यार का मौसम न आएगा

***

मेरी निगाह-ए-शौक़ भी कुछ कम नहीं मगर,

फिर भी तेरा शबाब तेरा ही शबाब है

***

“ना-खुदा को छोडकर जिनकी खुदा पर है निगाह,

देखना महफूज किश्ती उनकी तूफानों में है।”

***

हमसे अब किसी पर्दे-दारी की उम्मीद न कीजे…

कुछ जुस्तजूएं निगाह तक झुकने नहीं देतीं।

***

जो निगाह की थी ज़ालिम तो फिर आँख क्यों चुराई,

वो ही तीर क्यों न मारा जो जिगर के पार होता !! -‘अमीर’ मिनाई

*** Nazar Shayari in Hindi

 

हजार रातो मे वो एक रात होती है

निगाह उठाकर तुम देखो जो मेरी तरफ

वो एक निगाह मेरी कायनात होती है

***

लाखों लगाव, एक चुराना निगाह का,

लाखों बनाव, एक बिगड़ना इताब में। ~मिर्जा_गालिब

***

नहीं निगाह में मंज़िल तो जुस्तजू ही सही…?

नहीं विसाल मयस्सर तो आरज़ू ही सही__~फ़ैज़_अहमद_फ़ैज़

***

मिलते हैं इस अदा से कि गोया ख़फ़ा नहीं

क्या आप की निगाह से हम आश्ना नहीं

***

तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई

मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ

*** Nazar Shayari in Hindi

 

न पूछ मंज़र-ए-शाम-ओ-सहर पे क्या गुज़री

निगाह जब भी हक़ीक़त से आश्ना गुज़री

***

तेरी निगाह ने क्या कह दिया खुदा जाने,

उलट कर रख दिये बादाकाशों ने पैमाने।

***

सौ सौ उममीदें बधंती हैं एक एक निगाह पर ,

इतने प्यार से ना हमे देखा करे कोई ।।।।।

***

 

 

Search Tags

Nazar Shayari, Nazar Hindi Shayari, Nazar Shayari, Nazar whatsapp status, Nazar hindi Status, Hindi Shayari on Nazar, Nazar whatsapp status in hindi,

Nigah Shayari, Nigah Hindi Shayari, Nigah Shayari, Nigah whatsapp status, Nigah hindi Status, Hindi Shayari on Nigah, Nigah whatsapp status in hindi,

नज़र हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, नज़र, नज़र स्टेटस, नज़र व्हाट्स अप स्टेटस, नज़र पर शायरी, नज़र शायरी, नज़र पर शेर, नज़र की शायरी,

निगाह हिंदी शायरी, निगाह, निगाह स्टेटस, निगाह व्हाट्स अप स्टेटस, निगाह पर शायरी, निगाह शायरी, निगाह पर शेर, निगाह की शायरी,


Nazar Shayari in Hindi

नज़र और निगाह पर शायरी

nazar aur nigaah par shaayari doston, khoobasoorat aur kaatil nazaron par kuchh behatarin shaayarihindi shayari on nazar and shayari on nigah.************************************************

****tumhaari ek nigaah se katl hote hain log pharaazek nazar ham ko bhi dekh lotum bin zindagi achchhi nahin lagati***

tumhaari sharaarati najaron ko nazar na lagekhuda kare ye hamesha yoon hi muskuraati lage***

mat muskurao itana ki phoolon ko khabar lag jae,karen vo tumhaari taariph itani ki nazar lag jae.**

*tumhaari nazar.hamaara dil le baithi.bataate aapako hamaare dil ka haalagar tumhaari amiri bich mein nahi aai hoti*

**nazar mein khvaab nae,raat bhar sajaate huetamaam raaten kati tumako gunagunaate huetumhaari baat,khayaal mein gumasum sabhine dekh liya hamako muskaraate hue.**

* nazar shayari in hinditumhaari sidhi nazar ne,to koi baat na ki!tumhaari tirachhi nazar ka,savaal achchha tha!**

*nazar khaamosh , zubaan chup , sada-ai-dil maharoom ..kisi ka zikr na nikala , tumhaari baat ke baad !!*

**aankhon mein tumhaari mere hi khvaab nazar aate hain,jab main bhi kuchh kahana chaahoon to bas tere hi alphaaz jubaan par aate hain**

*jina bhi aa gaya mujhe, marana bhi aa gaya….pahachaanane laga hoon tumhaari nazar ko main….!!*

**tum ek nazar dekh lo khud ko meri nazar setumhaari nazaren talaashengi khud phir meri nazar ko**

* nazar shayari in hindimatalab nikal jaane par palat ke dekha bhi nahi tumane..!rishta tumhaari nazar mein kal ka akhabaar ho gaya..!!**

*bahut khoobasoorat hai tumhaari muskaraahat.. par tum muskuraati kam ho,sochata hoon dekhata hi rahoo tumhe par tum nazar aate hi kam ho!!***

tumhaari raah mein mitti ke ghar nahin aateisilie to tumhen ham nazar nahin aate..**

*chalo phir se sametentumhaari muskaraahat is nazar menaur khushabu pattiyon ki ek pudiya mein*

**qatl karati hai tumhaari ek nazar hazaaron ka..aise na dekha karo hame.. tumhaara ek divaana aur khatm ho jaega**

*tasviren aaj bhi badi shiddat se dekhati hoon tumhaari..par aankhon me teri vo chaahat nazar nahi aati ab.**

* nazar shayari in hindinazar tumhaari kabhi jo uthe, hamaari taraph ,nazar andaaz hi kar lena, hamen ji bhar kar..***

nazar mila kar hamase najar chura rahe ho tum,ham najar bhar ke dekh bhi nahin pae the tumhaari kisi ada pe**

*jahaan bharosa aur sachchai nazar aaye….vahaan dosti ka haath badhao varana”tumhaari tanhai”.. tumhaari…behatarin saathi hai**

pahachaanane laga hoon tumhaari nazar ko main….hamadardi na karo mujhase mere hamadard….vo bhi bade hamadard the,jo dard hazaaron de gaye…..!!*

**jaane kya kashish hai tumhaari madahosh aankhon mein…nazar andaaz jitana karo nazar tumhin pe hi padati hai…**

*aa gaya hai phark tumhaari nazaron mein yakinan…ab ek khaas andaaz se nazar andaaz karate ho !!*

** nazar shayari in hindidil-bar ho ek tum ki hamaari nazar mein hodil hai hamaara dil ki tumhaari nazar mein hai*

**tumhaari mast nazar, agar idhar nahin hotinashe mein choor fiza is qadar nahin hoti*

**ye sharm hain ya haya hain, kya hain, nazar uthaate hi jhuk gayi hain,tumhaari palakon se girake shabanam, hamaari aankhon mein ruk gayi hai ….!!**

jaan-ai-ja ab ham tumhaari nazar mein khatakate zaroor haiye baat alag hai tumhaari mohabbat bhatakate zaroor hai**

*yakinan yaad aati rahegi, tumhaari “vo” roohaani nazar,raat bhar, aur tumhaari mahakati khushboo rahegi – meri “hamasafar” raat bhar…***

nazar shayari in hindimai tumhaari har nazar ka garoor ho bhi sakata thaamai teri sab khataon ka kasoor ho bhi sakata tha*

**nazar se guphtagoo,khaamosh lab ,tumhaari tarah //gazal ne sikhe hai andaaz,sab tumhaari tarah ~bashirabadr**

*aata hai ik sitaara nazar chaand ke qarib,jab dekhate hain khud ko tumhaari nazar se ham !!**

*is kadar pyaar hai tumase hai hamasapharab to jiten hain ham bas tumhe chaahakaratumhaari har ada tumhaari har nazaraye kya kahane lagi tumhe hai kya khabar**

*”yoon to shikaayaten mujhe sainkadon hain tumase magar ,tumhaari ek nazar hi kaaphi hai sulah ke liye”**

* nazar shayari in hinditumhin batao ki kis kis se main kalaam karoon hotum bhi goya tumhaari nazar bhi goya hai ~arashad siddiqi**

*tum ek nazar dekh lo khud ko meri nazar setumhaari nazaren talaashengi khud phir meri nazar ko*

**koi ek pal ho to nazaren chura len ham,ye tumhaari yaad to saanson ki tarah aati hai !!*

**jaane kis kis pe padi hongi tumhaari nazaren ,mainne chun chun ke tere shahar ke patthar choome.***

ye raat hai, ye tumhaari julphen khuli hui haihai chaandani ya tumhaari nazaren se meri raaten dhuli hui hai**

* nazar shayari in hindisharama ke,maare jhuk rahi hain, tumhaari nazaren…kaha tha, itane qarib, na aaya karo…*

**tumhaari shaatir nazaren qatl karane mein maahir hain,ham bhi mar-mar kar jine mein ustaad ho gaye hain**

*chalo tumhaari zid pe piye lete hain ham saaqipar ye vaada rahe nazaren kabhi na churaana hamase**

*tumhaari nazaren na jaan paayin achchhaiyaan meri,ham jo sach mein kharaab hote ,to socho kitane phasaad hote..!!*

** nazar shayari in hindinazaren na churao yoon hamase, subah hone mein vaqt kaaphi hai .tumhaari aankhon ko padh lene do, unamen raaz abhi bhi baaki hain**

*ye kaho, vo kaun si baat zubaan tak aate-aate rook gayi !ye batao, us baat ki chuppi se tumhaari nazaren kyoon jhuk gayi !!*

**zakhmi ho jaata hai ye har baar tumase mil kar,chaabuk si nazaren padati hai tumhaari is dil par !**

*kitani shikaayat bhari nazaren hain tumhaari meri be-paravaahi ko chirati hui aa gaimeri khaamoshi ki qadr tum kar na pae mera dar ab ek roomaani vaaqiya ho gaya*

** nazar shayari in hindiab to sirph hikaarat bhari nazaren hai,ya khaamosh alafaazajo jata jaate hain ki ab ham na hain tumhaari duniya mein,na koi chaah hamaari!**

main kya bataoon ye dilarooba tere saamane mera haal hai,teri ek nigaah ki baat hai meri zindagi ka savaal hai i
chhalake sharaab barq gire ya jalen charaagazikr-e-nigaah-e-yaar ka mausam na aaega

***meri nigaah-e-shauq bhi kuchh kam nahin magar,phir bhi tera shabaab tera hi shabaab hai**

*”na-khuda ko chhodakar jinaki khuda par hai nigaah,dekhana mahaphooj kishti unaki toophaanon mein hai.”*

**hamase ab kisi parde-daari ki ummid na kije…kuchh justajooen nigaah tak jhukane nahin detin.**

*jo nigaah ki thi zaalim to phir aankh kyon churai,vo hi tir kyon na maara jo jigar ke paar hota !! -amir minai**

* nazar shayari in hindihajaar raato me vo ek raat hoti hainigaah uthaakar tum dekho jo meri taraphavo ek nigaah meri kaayanaat hoti hai*

**laakhon lagaav, ek churaana nigaah ka,laakhon banaav, ek bigadana itaab mein. ~mirja_gaalib**

*nahin nigaah mein manzil to justajoo hi sahi…?nahin visaal mayassar to aarazoo hi sahi__~faiz_ahamad_faiz*

**milate hain is ada se ki goya khafa nahinkya aap ki nigaah se ham aashna nahin**

*teri nigaah thi saaqi ki maikada tha koimain kis firaak mein sharminda-e-sharaab hua***

nazar shayari in hindin poochh manzar-e-shaam-o-sahar pe kya guzarinigaah jab bhi haqiqat se aashna guzari***

teri nigaah ne kya kah diya khuda jaane,ulat kar rakh diye baadaakaashon ne paimaane.***sau sau umamiden badhanti hain ek ek nigaah par ,itane pyaar se na hame dekha kare koi …..***

 

Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी

Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी
Aankhon Par Shayari in Hindi आँखों पर हिंदी शायरी

Aankhon Par Shayari in Hindi

आँखों पर हिंदी शायरी

 

दोस्तों, पेश है खूबसूरत और नशीली आँखों के नाम कुछ बेहतरीन हिंदी शायरी.

Hindi Shayari on Beautiful eyes

**************************

List of all Shayari

***************************

यूँ ही गुजर जाती है शाम अंजुमन में

कुछ तेरी आँखों के बहाने कुछ तेरी बातो के बहाने

***

तुम्हारी बेरुख़ी ने लाज रख ली बादाख़ाने की

तुम आँखों से पिला देते तो पैमाने कहाँ जाते ~क़तील_शिफ़ाई

***

न जाने क्यूँ हमें इस दम तुम्हारी याद आती है

जब आँखों में चमकते हैं सितारे शाम से पहले

***

तुम्हारी निगाहें बहोत बोलती हैं

जरा अपनी आँखों पे पलके गिरा दो

***

ये आईने नही दे सकते तुम्हे तुम्हारी खूबसूरती की सच्ची ख़बर….

कभी मेरी इन आँखों में झांक कर देखो की कितनी हसीन हो…!!

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

तुम्हारी याद में आँखों का रतजगा है

कोई ख़्वाब नया आए तो कैसे आए !

***

बिन कहे आऊँगा जब भी आऊँगा

मुन्तज़िर आँखों से घबराता हूँ मैं ~ShariqKaifi

***

तेरी हर याद बसी इन साँसों मे हर तस्वीर तेरी

अब इन आँखों मे रूह में संभाला है तुझे

हर आरज़ू तेरी बसी इन जज़्बातों मे!

***

लिखा है तेरी आँखों में किसका अफ़साना

अगर इसे समझ सको, मुझे भी समझना !!

***

क्यों डरे ज़िन्दगी में क्या होगा कुछ ना कुछ तजुर्बा होगा

हंसती आँखों में झाँक कर देखो कोई आंसू कहीं छुपा होगा

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

क्या कशिश थी तुम्हारी आँखों मे

तुझको देखा और तेरा हो गया

***

सुकून की तलाश में तुम्हारी आँखों में झाँका था,

किसे पता था कम्बखत दिल का दर्द और मिल जाएगा !!

***

तुम्हारी आँखों की ‘तौहीन’ है ज़रा सोचो

तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है ~मुनव्वर_राना

***

आँखों की कतारों में पसरी नमी सी है,

आज सब कुछ है ज़िन्दगी में बस तुम्हारी कमी सी है।

***

में हूँ अश्क तुम्हारी आँखों का जब जी चाहे बहा देना…

एक लफ्ज़ हूँ तुम्हारी कहानी का ना याद रख सको तो… भुला देना

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

“क़ैद ख़ानें हैं , बिन सलाख़ों के……

कुछ यूँ चर्चें हैं , तुम्हारी आँखों के.

***

रात गुजारी फिर महकती सुबह आई … दिल धड़का फिर तुम्हारी याद आई..

आँखों ने महसूस किया उस हवा को … जो तुम्हें छु कर हमारे पास आई

***

तुम्हारी आँखों से काश कोई इशारा तो होता

कुछ मेरे जीने का सहारा तो होता

तोड़ देते हम हर रसम ज़माने की

एक बार ही सही तुमने पुकारा तो होता

***

ना कोई इल्ज़ाम तुमको दूँगा।। ना तुमको बदनाम मैं करूँगा।।

यक़ीन मानो वही कहूँगा।। तुम्हारी आँखों से जो सुना है।।

***

मुझसे जब भी मिलो नजरें उठाकर मिलो

मुझे पसंद है अपनेआप को तुम्हारी आँखों में देखना

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

तेरी हर याद बसी इन साँसों मे हर तस्वीर तेरी अब इन आँखों मे

रूह में संभाला है तुझे हर आरज़ू तेरी बसी इन जज़्बातों मे

***

तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी,

हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी..

***

बहुत मुश्किल से इस दिल को समझाया है अब और बेकरार ना कर आँखों में

आँसू तेरी जुदाई के ना जाने अब कभी मुलाकात हो या ना हो

***

तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है

ये उठे सुबह चले ये झुके शाम ढले,

मेरा जीना मेरा मरना तेरी पलकों के तले

***

हर बार तेरी मुस्कुराती आँखों को देखता हूँ,

चला आता हूँ तेरे पास ख़यालों में उड़ते हुए..

***

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझसे

तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझसे

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

जब बिखरेगा तेरी गालों पे तेरी आँखों का पानी,

तब तुझे एहसास होगा की मोहब्बत किसे कहते है !!

***

जो सुरूर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में, ..

बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में…

***

मैं जिसे ओढ़ता-बिछाता हूँ वो ग़ज़ल आपको सुनाता हूँ

एक जंगल है तेरी आँखों में मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ..! ~दुष्यंत

***

आँखों से तेरी वो मंज़र मिट गया है अब..

जिसकी ख़ातिर मैं मैकदे आया करता था.

**

आँखों में एक प्यास का सहरा लिए था मैं,

तेरी- गली- ने मुझको समन्दर दिखा दिया

***

किस तरह दिल में तेरे अपनी तमन्ना रख दूं

ख्वाब अपने तेरी आँखों में सजा दूं कैसे

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

शाखेंगुल झूम के गुलज़ार में सीधी जो हुई,

आ गया आँखों में नक़्शा तेरी अँगड़ाई का ।

***

तेरी आँखों में जब देखा मैंने आइने की तरह

कुछ और भी मौजूद था वहां मेरे अक्स के सिवा।

***

जिस दिन से तुमको देखा आँखों में बसा लिया था

सूरत को तेरी हमने इस दिल में छुपा लिया था

***

 

अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है,

तेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है

***

डूबा हुआ हूँ ना निकल पाऊँगा मैं कभी,

ख़ूबसूरत मुस्कुराहट और आँखों से तेरी..

***

-चख के देख ली दुनिया भर की शराब की बोतलें,

जो नशा तेरी आँखों में था वो किसी में नहीं..

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

“अब तो इन आँखों से भी जलन होती है मुझे…..!

“खुली हों तो तलाश तेरी, बंद हों तो ख्वाब तेरे….

***

ये गुलाबों सा तेरी आँखों का जाम अच्छा है

जिस ख़त में आए तेरा नाम वो पेग़ाम अच्छा है

***

वो कहने लगी, नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों के बीच ?

मैंने मुस्करा के कहा,.तेरी आँखों से ही शुरू हुआ था”इश्क” हज़ारों के बीच..

***

कितनी सच्चाई है तेरी आँखों में, खोटे सिक्के भी खरे हो जाये,

तू जो प्यार से देखे जिधर, सूखे जंगल भी हरे हो जाये।.

***

कुछ किस्से तेरी महफ़िल के कुछ उससे जुडी मेरी कहानी है

कुछ ज़ाहिर है इन आँखों से कुछ कलम की ज़ुबानी है

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

लाजमी तो नही है कि तुझे आँखों से ही देखूँ..

तेरी याद का आना भी तेरे दीदार से कम नही.

***

आँखों पर तेरी निगाहों ने दस्तख़त क्या किए..

हमने साँसों की वसीयत तुम्हारे नाम कर दी !

***

नींद को आज भी शिकवा है मेरी आँखों से ,

मैंने आने न दिया उसको कभी तेरी याद से पहले,

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,

ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ

***

आँखों पे ये कैसी घटा सी छाई !

शायद दिल को फिर तेरी याद आई

ये जो आँखों से तेरी बहता है बेशक जूनून-ऐ-यार है,

जो बहा ना था तो नासूर था, अब बह गया तो भुला-बिसरा ख्वाब है !

***

बात चली तेरी आँखों से, जा पहुंची पैमाने तक,

खींच रही है तेरी उल्फत, आज मुझे मैखाने तक

***

“आज फिर मेरे आँचल में आई वही नीली घाटी वही केशरिया शाम

आँखों के किनारे कुछ बूंदे बरबस आई आज फिर तेरी यादों के नाम

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

तेरी सूरत जो भरी रहती है आँखों में सदा //

अजनबी चेहरे भी पहचाने से लगते हैं मुझे //

***

पलकों पे लरजते अश्कों में तसवीर झलकती है तेरी /

दीदार की प्यासी आँखों को, अब प्यास नहीं और प्यास भी है

***

शायद तू कभी प्यासा मेरी तरफ लौट आये,

आँखों में लिए फिरता हूँ दरिया तेरी खातिर.

***

मुसाफ़िर बे-ख़बर हैं तेरी आँखों से,

तेरे शहर में मैख़ाने ढूँढते हैं

***

सोचते ही रहे पूछेंगे तेरी आँखों से ,

किस से सीखा है हुनर दिल में उतर जाने का…………

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

 

एक मस्ती तुम्हारी आँखों की, सौ दिए आरज़ू के जल जाएँ ..

एक बातें ये तेरी बारिश सी, ग़म के मौसम सभी बदल जाएँ

***

झील अच्छा, कँवल अच्छा के जाम अच्छा है,

तेरी आँखों के लिए कौन सा नाम अच्छा है..

***

तेरी आँखों से ही खुलते हैं, सवेरों के उफूक़(क्षितिज)

तेरी आँखों से बन्द होती है ये सीप की रात

***

बारहा तेरी आँखों का दीदार किया है मैंने,

बारहा अपनी इस सूरत पर गुमां हो आया है.

***

मेरी आँखों मे मुहब्बत का तेरी नूर है फिर भी,

बिन बच्चों के खाली मकान सा रहता है दिल…

***

जाम टूटने का बहाना न कर, हम तो तेरी आँखों से पी लेंगे.

तू मत आ पर आने का वादा तो कर, हम तेरे इंतज़ार में ही जी लेंगे.

***

तेरी आँखों मैं बहुत देर तक कोई अक्स नहीं रहता..

तेरा तो पता नहीं तुझसे मिल कर मैं मुझसा नहीं रहता..!!

*** Aankhon Par Shayari in Hindi

नशे में डूबे कोई, कोई जिए, कोई मरे

तीर क्या क्या तेरी आँखों की कमाँ छोड़ती है

***

 

Search Tags

Aankho par Shayari, Hindi shayari on eyes, Shayari on eyes, Shayari on beautiful eyes, Aankho par Hindi Shayari, Aankho par Shayari, Aankho par whatsapp status, Aankho par hindi Status, Hindi Shayari on Aankho par, Aankho par whatsapp status in hindi,

आँखों पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, आँखों पर , आँखों पर स्टेटस, आँखों पर व्हाट्स अप स्टेटस, आँखों पर शायरी, आँखों पर पर शेर, आँखों पर की शायरी, तेरी आँखें,


Hinglish

Aankhon Par Shayari in Hindi

आँखों पर हिंदी शायरी

yoon hi gujar jaati hai shaam anjuman menkuchh teri aankhon ke bahaane kuchh teri baato ke bahaane***

tumhaari berukhi ne laaj rakh li baadaakhaane kitum aankhon se pila dete to paimaane kahaan jaate ~qatil_shifai***

na jaane kyoon hamen is dam tumhaari yaad aati haijab aankhon mein chamakate hain sitaare shaam se pahale**

*tumhaari nigaahen bahot bolati hainjara apani aankhon pe palake gira do**

*ye aaine nahi de sakate tumhe tumhaari khoobasoorati ki sachchi khabar….kabhi meri in aankhon mein jhaank kar dekho ki kitani hasin ho…!!**

* aankhon par shayari in hinditumhaari yaad mein aankhon ka ratajaga haikoi khvaab naya aae to kaise aae !*

**bin kahe aaoonga jab bhi aaoongaamuntazir aankhon se ghabaraata hoon main ~shariqkaifi**

*teri har yaad basi in saanson me har tasvir teriab in aankhon me rooh mein sambhaala hai tujhehar aarazoo teri basi in jazbaaton me!**

*likha hai teri aankhon mein kisaka afasaanaagar ise samajh sako, mujhe bhi samajhana !!**

*kyon dare zindagi mein kya hoga kuchh na kuchh tajurba hogaahansati aankhon mein jhaank kar dekho koi aansoo kahin chhupa hoga*

** aankhon par shayari in hindikya kashish thi tumhaari aankhon metujhako dekha aur tera ho gaya**

*sukoon ki talaash mein tumhaari aankhon mein jhaanka tha,kise pata tha kambakhat dil ka dard aur mil jaega !!***

tumhaari aankhon ki tauhin hai zara sochotumhaara chaahane vaala sharaab pita hai ~munavvar_raana***

aankhon ki kataaron mein pasari nami si hai,aaj sab kuchh hai zindagi mein bas tumhaari kami si hai.***

mein hoon ashk tumhaari aankhon ka jab ji chaahe baha dena…ek laphz hoon tumhaari kahaani ka na yaad rakh sako to… bhula dena***

aankhon par shayari in hindi”qaid khaanen hain , bin salaakhon ke……kuchh yoon charchen hain , tumhaari aankhon ke.**

*raat gujaari phir mahakati subah aai … dil dhadaka phir tumhaari yaad aai..aankhon ne mahasoos kiya us hava ko … jo tumhen chhu kar hamaare paas aai**

*tumhaari aankhon se kaash koi ishaara to hotaakuchh mere jine ka sahaara to hotaatod dete ham har rasam zamaane kiek baar hi sahi tumane pukaara to hota**

*na koi ilzaam tumako doonga.. na tumako badanaam main karoonga..yaqin maano vahi kahoonga.. tumhaari aankhon se jo suna hai..**

*mujhase jab bhi milo najaren uthaakar milomujhe pasand hai apaneaap ko tumhaari aankhon mein dekhana***

aankhon par shayari in hinditeri har yaad basi in saanson me har tasvir teri ab in aankhon merooh mein sambhaala hai tujhe har aarazoo teri basi in jazbaaton me***

teri yaado ko pasand aa gai hai meri aankhon ki nami,hansana bhi chaahoon to roola deti hai teri kami..**

*bahut mushkil se is dil ko samajhaaya hai ab aur bekaraar na kar aankhon menaansoo teri judai ke na jaane ab kabhi mulaakaat ho ya na ho**

*teri aankhon ke siva duniya mein rakkha kya haiye uthe subah chale ye jhuke shaam dhale,mera jina mera marana teri palakon ke tale*

**har baar teri muskuraati aankhon ko dekhata hoon,chala aata hoon tere paas khayaalon mein udate hue..**

*log kahate hain ki too ab bhi khafa hai mujhaseteri aankhon ne to kuchh aur kaha hai mujhase***

aankhon par shayari in hindijab bikharega teri gaalon pe teri aankhon ka paani,tab tujhe ehasaas hoga ki mohabbat kise kahate hai !!**

*jo suroor hai teri aankhon mein vo baat kahaan maikhaane mein, ..bas too mil jae to phir kya rakha hai zamaane mein…*

**main jise odhata-bichhaata hoon vo gazal aapako sunaata hoonek jangal hai teri aankhon mein main jahaan raah bhool jaata hoon..! ~dushyant**

*aankhon se teri vo manzar mit gaya hai ab..jisaki khaatir main maikade aaya karata tha.*

*aankhon mein ek pyaas ka sahara lie tha main,teri- gali- ne mujhako samandar dikha diya

kis tarah dil mein tere apani tamanna rakh doonkhvaab apane teri aankhon mein saja doon kaise**

* aankhon par shayari in hindishaakhengul jhoom ke gulazaar mein sidhi jo hui,aa gaya aankhon mein naqsha teri angadai ka .*

**teri aankhon mein jab dekha mainne aaine ki tarahakuchh aur bhi maujood tha vahaan mere aks ke siva.**

*jis din se tumako dekha aankhon mein basa liya thaasoorat ko teri hamane is dil mein chhupa liya tha*

**ada hai, khvaab hai, takasim hai, tamaasha hai,teri in aankhon mein ek shakhs betahaasha hai**

*dooba hua hoon na nikal paoonga main kabhi,khoobasoorat muskuraahat aur aankhon se teri..***

-chakh ke dekh li duniya bhar ki sharaab ki botalen,jo nasha teri aankhon mein tha vo kisi mein nahin..*

** aankhon par shayari in hindi”ab to in aankhon se bhi jalan hoti hai mujhe…..!”khuli hon to talaash teri, band hon to khvaab tere….*

**ye gulaabon sa teri aankhon ka jaam achchha haijis khat mein aae tera naam vo pegaam achchha hai*

**vo kahane lagi, nakaab mein bhi pahachaan lete ho hajaaron ke bich ?mainne muskara ke kaha,.teri aankhon se hi shuroo hua tha”ishk” hazaaron ke bich..

***kitani sachchai hai teri aankhon mein, khote sikke bhi khare ho jaaye,too jo pyaar se dekhe jidhar, sookhe jangal bhi hare ho jaaye..**

*kuchh kisse teri mahafil ke kuchh usase judi meri kahaani haikuchh zaahir hai in aankhon se kuchh kalam ki zubaani hai**

* aankhon par shayari in hindilaajami to nahi hai ki tujhe aankhon se hi dekhoon..teri yaad ka aana bhi tere didaar se kam nahi.**

*aankhon par teri nigaahon ne dastakhat kya kie..hamane saanson ki vasiyat tumhaare naam kar di !*

**nind ko aaj bhi shikava hai meri aankhon se ,mainne aane na diya usako kabhi teri yaad se pahale,**

* aankhon par shayari in hindimain ne jis lamhe ko pooja hai use bas ek baar,khvaab ban kar teri aankhon mein utarata dekhoon***

aankhon pe ye kaisi ghata si chhai !shaayad dil ko phir teri yaad aaiye jo aankhon se teri bahata hai beshak joonoon-ai-yaar hai,jo baha na tha to naasoor tha, ab bah gaya to bhula-bisara khvaab hai !***

baat chali teri aankhon se, ja pahunchi paimaane tak,khinch rahi hai teri ulphat, aaj mujhe maikhaane tak***

“aaj phir mere aanchal mein aai vahi nili ghaati vahi keshariya shaamaankhon ke kinaare kuchh boonde barabas aai aaj phir teri yaadon ke naam**

* aankhon par shayari in hinditeri soorat jo bhari rahati hai aankhon mein sada //ajanabi chehare bhi pahachaane se lagate hain mujhe //**

*palakon pe larajate ashkon mein tasavir jhalakati hai teri /didaar ki pyaasi aankhon ko, ab pyaas nahin aur pyaas bhi hai***

shaayad too kabhi pyaasa meri taraph laut aaye,aankhon mein lie phirata hoon dariya teri khaatir.**

*musaafir be-khabar hain teri aankhon se,tere shahar mein maikhaane dhoondhate hain**

*sochate hi rahe poochhenge teri aankhon se ,kis se sikha hai hunar dil mein utar jaane ka…………*

** aankhon par shayari in hindiek masti tumhaari aankhon ki, sau die aarazoo ke jal jaen ..ek baaten ye teri baarish si, gam ke mausam sabhi badal jaen*

**jhil achchha, kanval achchha ke jaam achchha hai,teri aankhon ke lie kaun sa naam achchha hai..*

**teri aankhon se hi khulate hain, saveron ke uphooq(kshitij)teri aankhon se band hoti hai ye sip ki raat***

baaraha teri aankhon ka didaar kiya hai mainne,baaraha apani is soorat par gumaan ho aaya hai.**

*meri aankhon me muhabbat ka teri noor hai phir bhi,bin bachchon ke khaali makaan sa rahata hai dil…**

*jaam tootane ka bahaana na kar, ham to teri aankhon se pi lenge.too mat aa par aane ka vaada to kar, ham tere intazaar mein hi ji lenge.**

*teri aankhon main bahut der tak koi aks nahin rahata..tera to pata nahin tujhase mil kar main mujhasa nahin rahata..!!***

aankhon par shayari in hindinashe mein doobe koi, koi jie, koi maretir kya kya teri aankhon ki kamaan chhodati hai

 

Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी

Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी
Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी

Diwangi Shayari in Hindi

दीवानगी पर हिंदी शायरी

**************************************************

List of all Hindi Shayari

दीवानगी मे कुछ एसा कर जाएंगे महोब्बत की सारी हदे पार कर जाएंगे

वादा है तुमसे दिल बनकर तुम धड़कोगे और सांस बनकर हम आएँगे

***

दीवानगी का सिलसिला जावे न हाथ से,

दामन को फाड़िए जो गरेबाँ रफ़ू करें !! – हैदर अली आतिश

***

थोड़ी सी दीवानगी तो तुझमें दिखती थी,,,ऐ-दिल…

ये न सोचा था,,,तू इतना बावरा हो जायेगा….

***

इस बहते दर्द को मत रोको ये तो सज़ा हे किसी के इंतज़ार की

लोग इन्हें आंसू कहे या दीवानगी पर ये तो निशानी हे साँवरिया के प्यार की

*** Diwangi Shayari in Hindi

बंदगी में इश्क सी दीवानगी पैदा करों,

एक दम दुआओं में असर आ जाएगा

***

उनकी एक झलक पे ठहर जाती है नज़र खुदाया !

कोई हमसे पुछे दीवानगी क्या होती है

***

तुम्हारी अंजुमन से उठके दीवाने कहाँ जाते।

जो वाबसता हुए तुमसे वो अफसाने कहाँ जाते।

चलो अच्छा हुआ काम आ गयी दीवानगी अपनी

वरना हम ज़माने को ये समझाने कहाँ जाते ~क़तील_शिफ़ाई

*** Diwangi Shayari in Hindi

दिल की हसरत जुबां पर आने लगी

तुमकोदेखा जिंदगी मुस्कुराने लगी

ऐसी हुई तुम से दीवानगी

हरसूरत में तुम्हारी सूरत नज़र आने लगी

***

ख्वाहिश है पहुंचूं इश्क के मै उस मुकाम पर

जब उनका सामना मिरी दीवानगी से हो!!!!!

***

अक़्ल में यूँ तो नहीं कोई कमी,

इक ज़रा दीवानगी दरकार है !

 

आशिक़ी लिखें, दीवानगी लिखें, या अपनी ख़ामोशी लिखें

दिल के जज़्बात अब अल्फ़ाज़ नहीं बनते, आखिर आज क्या लिखें

***

तुझ से वाबस्तगी रहेगी अभी दिल को ये बेकली रहेगी अभी

सर को दीवार ही नहीं मिलती सो ये दीवानगी रहेगी अभी

*** Diwangi Shayari in Hindi

यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहां…

कि तेरे ही क़रीब से गुज़र गए तेरे ही ख़्याल मे

***

उसने मेरी महोब्बत का, इस तरह तमाशा किया.

कि हम मरते है उनके प्यार मे, और वो हसते रहे मेरी दीवानगी पर.

***

मेरी दीवानगी अब भी वही है, बस इज़हार का अंदाज़ अलग है,

तब बिखरे मोती की माला थी, आज बिखरे सपनो की सौगात है ।

***

दीवानगी तो हम कर बैठे हैं इश्क़ में

उनके घर जाकर अपने घर का पता पूछते हैं

***

ये शब ओ रोज़ जो इक बे-कली रक्खी हुई है

जाने किस हुस्न की दीवानगी रक्खी हुई है

*** Diwangi Shayari in Hindi

मौसम गए सुकून गया ज़िन्दगी गई

दीवानगी की आग में क्या-क्या गया न पूछ

***

दीवानगी हो अक़्ल हो, उम्मीद हो या आस

अपना वही है वक़्त पे जो काम आ गया …!!

***

अगर फना हो जाऊ तेरी चाहत में तो गुरूर न करना

यह असर नहीं तेरे हुस्न का…. यह आलम है मेरे दीवानगी का

***

कभी आईने में चेहरा मेरी नज़रों से देखो

तुम समझ जाओगे ये दीवानगी है तारी क्यूँ आख़िर

***

इस तरह तो और भी दीवानगी बढ़ जाएगी,

दीवानों को दीवानों से दूर रहना चाहिए !!

** Diwangi Shayari in Hindi

 

मेरी दीवानगी इस कदर बढ़ गई कि

अब नजरें झुकाना मुमकिन नहीं

**

आए हैं जिस मक़ाम से उसका पता न पूछ

दीवानगी सफ़र की पूछ मगर रास्ता न पूछ

***

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,

शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,

दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,

आज भी इंतजार है तेरे आने का

*** Diwangi Shayari in Hindi

उतरे जो ज़िन्दगी,तेरी गहराइयों मे हम महफ़िल में रहकर भी रहे तन्हाइयों में

हम इसे दीवानगी नही तो और क्या कहे इंसान ढूंढते रहे परछाइयों मे हम

***

ये इश्क़ के इन्तहा थी या दीवानगी मेरी;

हर सूरत में मुझे सूरत तेरी नज़र आने लगी

***

ख्वाब है या कोई हक़ीकत हैहै ये दीवानगी के चाहत है,

हमने जैसे के आपाको पा ही लिया,आज कुछ ऐसी दिल की हालत है

***

वो खतो-कलम की दीवानगी छोड़ दी मैंने

के अब जुबाँ हर वक्त ही आह उगलती है ।

***

हसरतें मचल गयी जब तुमको सोचा एक पल के लिए

सोचो दीवानगी तब क्या होगी,जब तुम मिलोगे उम्र भर के लिए

*** Diwangi Shayari in Hindi

ना जीने का शौक है ना मरने की तलब रखते है,

दिवाने है तेरे बस दीवानगी गजब की रखते है।

***

थौडी़ दीवानगी मै लाऊगा,थौडी़ वफा तुम ले आना

साझे में कर लेंगे फिर से कारौबार-ए- मौहब्बत

***

नई मुश्किल कोई दर-पेश हर मुश्किल से आगे है

सफ़र दीवानगी का इश्‍क़ की मंज़िल से आगे है

**

जुनूं मंजिल का, राहों में बचाता है भटकने से,

मेरी दीवानगी अपना ठिकाना ढूंढ लेती है !!

 

*** Diwangi Shayari in Hindi

 

मेरी दीवानगी छलक न जाए आंखों से हम हर फुगां को दिल में दबा लेते हैं

तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन इसी उम्मीद में जख्म संभाले हैं हमने

***

इस बहते दर्द को मत रोको ये तो सज़ा है किसी के इंतज़ार की

लोग इन्हे आँसू कहे या दीवानगी पर ये तो निशानी हैं किसी के प्यार की

***

 

Search Tags

Diwangi Shayari, Diwangi Hindi Shayari, Diwangi Shayari, Diwangi whatsapp status, Diwangi hindi Status, Hindi Shayari on Diwangi, Diwangi whatsapp status in hindi, दीवानगी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, दीवानगी, दीवानगी स्टेटस, दीवानगी व्हाट्स अप स्टेटस, दीवानगी पर शायरी, दीवानगी शायरी, दीवानगी पर शेर, दीवानगी की शायरी,


Hinglish

Diwangi Shayari in Hindi

दीवानगी पर हिंदी शायरी

divaanagi me kuchh esa kar jaenge mahobbat ki saari hade paar kar jaengevaada hai tumase dil banakar tum dhadakoge aur saans banakar ham aaenge**

*divaanagi ka silasila jaave na haath se,daaman ko phaadie jo garebaan rafoo karen !! – haidar ali aatish**

*thodi si divaanagi to tujhamen dikhati thi,,,ai-dil…ye na socha tha,,,too itana baavara ho jaayega….**

*is bahate dard ko mat roko ye to saza he kisi ke intazaar kilog inhen aansoo kahe ya divaanagi par ye to nishaani he saanvariya ke pyaar ki*

** diwangi shayari in hindibandagi mein ishk si divaanagi paida karon,ek dam duaon mein asar aa jaega**

*unaki ek jhalak pe thahar jaati hai nazar khudaaya !koi hamase puchhe divaanagi kya hoti hai*

**tumhaari anjuman se uthake divaane kahaan jaate.jo vaabasata hue tumase vo aphasaane kahaan jaate.chalo achchha hua kaam aa gayi divaanagi apanivarana ham zamaane ko ye samajhaane kahaan jaate ~qatil_shifai*

** diwangi shayari in hindidil ki hasarat jubaan par aane lagitumakodekha jindagi muskuraane lagiaisi hui tum se divaanagiharasoorat mein tumhaari soorat nazar aane lagi***

khvaahish hai pahunchoon ishk ke mai us mukaam parajab unaka saamana miri divaanagi se ho!!!!!***

aql mein yoon to nahin koi kami,ik zara divaanagi darakaar hai !aashiqi likhen, divaanagi likhen, ya apani khaamoshi likhendil ke jazbaat ab alfaaz nahin banate, aakhir aaj kya likhen***

tujh se vaabastagi rahegi abhi dil ko ye bekali rahegi abhisar ko divaar hi nahin milati so ye divaanagi rahegi abhi***

diwangi shayari in hindiyah mera ishq tha ya phir divaanagi ki intahaan…ki tere hi qarib se guzar gae tere hi khyaal me**

*usane meri mahobbat ka, is tarah tamaasha kiya.ki ham marate hai unake pyaar me, aur vo hasate rahe meri divaanagi par.**

*meri divaanagi ab bhi vahi hai, bas izahaar ka andaaz alag hai,tab bikhare moti ki maala thi, aaj bikhare sapano ki saugaat hai .***

divaanagi to ham kar baithe hain ishq menunake ghar jaakar apane ghar ka pata poochhate hain***

ye shab o roz jo ik be-kali rakkhi hui haijaane kis husn ki divaanagi rakkhi hui hai***

diwangi shayari in hindimausam gae sukoon gaya zindagi gaidivaanagi ki aag mein kya-kya gaya na poochh**

*divaanagi ho aql ho, ummid ho ya aasapana vahi hai vaqt pe jo kaam aa gaya …!!*

**agar phana ho jaoo teri chaahat mein to guroor na karanaayah asar nahin tere husn ka…. yah aalam hai mere divaanagi ka***

kabhi aaine mein chehara meri nazaron se dekhotum samajh jaoge ye divaanagi hai taari kyoon aakhir**

*is tarah to aur bhi divaanagi badh jaegi,divaanon ko divaanon se door rahana chaahie !!**

diwangi shayari in hindimeri divaanagi is kadar badh gai kiab najaren jhukaana mumakin nahin**

aae hain jis maqaam se usaka pata na poochhadivaanagi safar ki poochh magar raasta na poochh*

**aramaan tha tere saath jindagi bitaane ka,shikava hai khud ke khaamosh rah jaane ka,divaanagi is se badhakar aur kya hogi,aaj bhi intajaar hai tere aane ka*

** diwangi shayari in hindiutare jo zindagi,teri gaharaiyon me ham mahafil mein rahakar bhi rahe tanhaiyon menham ise divaanagi nahi to aur kya kahe insaan dhoondhate rahe parachhaiyon me ham**

*ye ishq ke intaha thi ya divaanagi meri;har soorat mein mujhe soorat teri nazar aane lagi*

**khvaab hai ya koi haqikat haihai ye divaanagi ke chaahat hai,hamane jaise ke aapaako pa hi liya,aaj kuchh aisi dil ki haalat hai**

*vo khato-kalam ki divaanagi chhod di mainneke ab jubaan har vakt hi aah ugalati hai .**

*hasaraten machal gayi jab tumako socha ek pal ke liesocho divaanagi tab kya hogi,jab tum miloge umr bhar ke lie***

diwangi shayari in hindina jine ka shauk hai na marane ki talab rakhate hai,divaane hai tere bas divaanagi gajab ki rakhate hai.*

**thaudi divaanagi mai laooga,thaudi vapha tum le aanaasaajhe mein kar lenge phir se kaaraubaar-e- mauhabbat***

nai mushkil koi dar-pesh har mushkil se aage haisafar divaanagi ka ish‍qa ki manzil se aage hai**junoon manjil ka, raahon mein bachaata hai bhatakane se,meri divaanagi apana thikaana dhoondh leti hai !!*

** diwangi shayari in hindimeri divaanagi chhalak na jae aankhon se ham har phugaan ko dil mein daba lete haintum mere dard ko mita dogi ek din isi ummid mein jakhm sambhaale hain hamane*

**is bahate dard ko mat roko ye to saza hai kisi ke intazaar kilog inhe aansoo kahe ya divaanagi par ye to nishaani hain kisi ke pyaar ki***

 

Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी
Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi

काजल पर शायरी

आँखों के खूबसूरत काजल पर शेर ओ शायरी,

Hindi Poetry on the Kajal of Eyes

 

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******

 

गाँव छोड़ा तो कई आँखों में काजल फैला

शहर पहुँचा तो किसी माथे पे झूमर झूमा #बशीर_बद्र

***

“काँपती लौ, ये स्याही, ये धुआँ, ये काजल

उम्र सब अपनी इन्हें गीत बनाने में कटी

कौन समझे मेरी आँखों की नमी का मतलब

ज़िन्दगी गीत थी पर जिल्द बंधाने में कटी” (नीरज)

***

तेरी आँखों में समा जाऊँगा काजल की तरह,

तू ढूँढती रह जायेगी मुझे पागल की तरह,,

***

काजल लगे नैनो मे डोरे हुए गुलाबी

कैफियते अंजाम तमाम शहर हुआ शराबी

***

शाम की लाली रात का काजल सुबह की तक़दीर हो तुम

हो चलता फिरता ताजमहल सांसे लेता कश्मीर हो तुम

*** Kajal Shayari in Hindi

आईना नज़र लगाना चाहे भी तो कैसे लगाए,

काजल लगाती है वो आईने में देखकर।

***

गीली मेंहदी रोई होगी, छुपके घर के कोने में!

ताजा काजल छूटा होगा, चुपके-चुपके रोने में!

***

उसका लिक्खा हुआ हर शख्स नहीं पढ़ सकता

वो मिला लेता है काजल में हमेशा आँसू

**

 

वो जो अफसाना-ए-ग़म सुन सुन के हंसा करते थे

इतना रोए कि सब आंख का काजल निकला

*** Kajal Shayari in Hindi

ज़रा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,

दिये से मेरी माँ मेरे लिए काजल बनाती है !~Munavvar Rana

***

तेरे मासूम चहरे पर, अदा अच्छी लगती है।

जिस घडी तु हंस दे, वो दुआ सच्ची लगती है।।

तेरी आँखों में काजल, इक लकीर सी बनाता है।

समंदर पर, ये नक्काशी अच्छी लगती है।।

***

एक मायने में आँखों की हद है ये काजल,

पर तुम्हारी आँखों में हसीन बेहद है ये काजल

***

बांटू ना किसी से साया भी तेरा..

काजल जहाँ वहाँ तेरा बसेरा

*** Kajal Shayari in Hindi

काजल रखो आँखों में, इंतज़ार ना रखो।

खूबसूरत हो तुम, खूबसूरत रहो। बेक़रार न लगो।

***

बादलों से गिरके एक काजल का कतरा होठों पे तेरे तिल बन के सज गया

नज़र लगे ना तुमको किसी की होटों से निकली थी दुआ आसमानों ने सुन लिया

***

 

अलसायी सुबह, फैले हुए काजल में, बिखरे हुए आँचल में,

बचाते बचाते छिपाते छिपाते नुमायां होती है कविता कोई रात की

*** Kajal Shayari in Hindi

रात की चादर पर बूंदे ओस की मोती सी सुबह के आँचल में गर्मी सूरज सी

सब बिखर गया स्याह काजल की तरह ख्वाब यूँ टूटे …..पंखुड़ियां लगी रोती सी

 

हम को तो जान से प्यारी है तुम्हारी आंखे

हाय काजल भरी मदहोश ये प्यारी आंखे

***

चांदनी रात भी जल जाये जब तू काजल लगा के आए

ये दिल भी मेरा हलचल मचाये जब तू काजल लगा के आए

***

गीले लब़~कातिल निगाहें गज़ब का काजल~गुलाबी हो़ठ

पगली तु ही बता ये दिल तुम पे न मरता तो क्या करता

***

काजल,आँखे ,जुल्फ़े,झुमका,चेहरा,बिंदिया

हाये दिल हार गए हम तुम्हे बेनकाब देखकर…!!!

*** Kajal Shayari in Hindi

 

बहुत रोई हुई लगती है आँखें

मेरी ख़ातिर ज़रा काजल लगा लो

***

बसे हो काजल की तरह नैनो मे बन के सपने

रचे हो मेहँदी की तरह हाथो बन के लकीरे

सजे हो लाली की तरह होठो पे बन के मुस्कराहटें

***

लग जाएगी नज़र दुनिया की, जान लो

लगा लो काजल चेहरे पर, गुजारिश मान लो।

***

आंख से बिछड़े काजल को तहरीर बनाने वाले

मुश्किल में पड़ जाएंगे तस्वीर बनाने वाले।

***

वो आँखों में काजल वो बालों में गजरा

हथेली पे इस के हिना महकी महकी ~Hasrat

***

आज फिर हुस्न-ए-दिलारा की वही धज होगी

वो ही ख़्वाबिदा सी आँखें, वो ही काजल की लकीर

*** Kajal Shayari in Hindi

 

हाथ से मेहँदी न बिखरी, आँखों का काजल सलामत

ये भी कोई बात थी, सखी पिया मिलन की रात थी

***

शायद किसी रोज तुम समझ पाओ इस दिल की बेकरारी

और तुम्हारी आंखों के काजल का कोई बहुत गहरा रिश्ता है

***

काजल लगाकर आप महफ़िल के अन्दाज़ को अपना बनाने लगे,

हम तो गाने लगे आपके लिए मोहब्बत में ग़ज़ल

जैसे आप चाँद बनके हमारे लिए रोशनी फैलाने लगे.

***

काजल की क़िस्मत क्या कहिये, नैनों में तूने बसाया

आँचल की क़िस्मत क्या कहिये, तूने अंग लगाया हैं

*** Kajal Shayari in Hindi

काजल बिंदियॉ, कंगन झुमके, ये मेरे ख़ज़ाने हैं,

दिल पंछी बनके उड़ जाता है, हम खोये खोये रहते हैं,,

***

काजल लागे किरकरो, सुरमा सहा ना जाए !

जिन नैनंन में साजन बसे,दूजा कौन समाये !!

***

 

जो बरस जाये वही बादल अच्छे हैं,

जो निगाहों को सजा दे वही काजल सच्चे हैं,

सयानों ने कुछ इस कदर बर्बाद कर दी है दुनिया,

हमें पागल ही रहने दो हम पागल ही अच्छे हैं…!!

***

उस की आँखों में भी काजल फैल रहा है

मैं भी मुड़ के जाते जाते देख रहा हूँ ~जावेद_अख़्तर

***

मुहब्बत की बेनूर ख्वाहिशें और……तेरा गम

हम बिखर से गये….आँखों से काजल की तरह ”

*** Kajal Shayari in Hindi

हाँ, एक और शाम रंगीन हुई है तुम्हारे आँचल की तरह…

और देखो, सुरमयी रंग सजा है तुम्हारे काजल की तरह…

***

महिफल मे आज फिर क़यामत की रात हो गई,

हमने लगाया अपने आखो मे काजल और बिन बादल बरसात हो गई.

***

 

जिसे भी देख लो तुम, वो हुआ एक पल में दीवाना,

तिलिस्मी है बहोत सनम, तुम्हारी आँखों का काजल !!

***

गुलाब से गुलाब का रंग तेरे गालों पे आया; तेरे नैनों ने काली घटा का काजल लगाया;

जवानी जो तुम पर चढ़ी तो नशा मेरी आँखों में आया।

*** Kajal Shayari in Hindi

मेहंदी रची हथेली मेरी ……मेरे काजल वाले नैन रे …….

पिया पल पल तुझे पुकारते होकर बैचेन रे

***

ये नैना ये काजल ये जुल्फे ये आँचल खूबसूरत सी हो

तुम ग़ज़ल कभी दिल हो कभी धड़कन कभी शोला कभी शबनम

तुम्ही ही हो तुम मेरी हमदम

***

हौंसला तुझ में न था मुझसे जुदा होने का;

वरना काजल तेरी आँखों का न यूँ फैला होता।

***

 

जो बनाई है तिरे काजल से तस्वीरे-मुहब्बत,

अभी तो प्यार के रंग से सजाया ही कहाँ है.

***

एक बार इशारा तो कर दे दिल और जिगर तो कुछ भी नहीं

मै खुद को जला सकता हूँ, तेरी आँखों के काजल के लिये…।

***

न रोओ आँख का काजल, निकल कर छूट जायेगा !

ये दिल तेरे अश्क बूंदों में, फिसल कर टूट जायेगा !!

***

याद है अब तक तुझसे बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझे…

तू ख़ामोश खडी थी लेकिन बातें करता था काजल…!!!

*** Kajal Shayari in Hindi

संभालकर ज़रा रखियेगा कदम फूल बिखरे है मगर ठेस लग जायेगी

ये काजल लगाने का क्या फायदा रूप ऐसा है नज़र लग जायेगी !!!!

***

बावरा हुआ जाता हूँ तेरी अखियों में इश्क देखकर,,,

मेरी उम्मीदों का मक़सद तेरी आँखों का काजल ही तो है..!

***

 

Search Tags

Kajal Shayari, Kajal Hindi Shayari, Kajal par Shayari, Kajal whatsapp status, Kajal hindi Status, Hindi Shayari on Kajal, Kajal whatsapp status in hindi, Ankhon ke kajal par shayari,

काजल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, काजल, काजल स्टेटस, काजल व्हाट्स अप स्टेटस, काजल पर शायरी, काजल शायरी, काजल पर शेर, काजल की शायरी, Ankhon ke kajal par shayari


Hinglish

Kajal Shayari in Hindi

काजल पर शायरी

aankhon ke khoobasoorat kaajal par sher o shaayari,hindi poaitry on thai kajal of aiyais

gaanv chhoda to kai aankhon mein kaajal phailaashahar pahuncha to kisi maathe pe jhoomar jhooma #bashir_badr***

“kaanpati lau, ye syaahi, ye dhuaan, ye kaajalumr sab apani inhen git banaane mein katikaun samajhe meri aankhon ki nami ka matalabazindagi git thi par jild bandhaane mein kati” (niraj)***

teri aankhon mein sama jaoonga kaajal ki tarah,too dhoondhati rah jaayegi mujhe paagal ki tarah,,***

kaajal lage naino me dore hue gulaabikaiphiyate anjaam tamaam shahar hua sharaabi***

shaam ki laali raat ka kaajal subah ki taqadir ho tumaho chalata phirata taajamahal saanse leta kashmir ho tum**

* kajal shayari in hindiaina nazar lagaana chaahe bhi to kaise lagae,kaajal lagaati hai vo aaine mein dekhakar.**

*gili menhadi roi hogi, chhupake ghar ke kone mein!taaja kaajal chhoota hoga, chupake-chupake rone mein!**

*usaka likkha hua har shakhs nahin padh sakataavo mila leta hai kaajal mein hamesha aansoo*

*vo jo aphasaana-e-gam sun sun ke hansa karate theitana roe ki sab aankh ka kaajal nikala**

* kajal shayari in hindizara si baat hai lekin hava ko kaun samajhae,diye se meri maan mere lie kaajal banaati hai !~munavvar ran*

**tere maasoom chahare par, ada achchhi lagati hai.jis ghadi tu hans de, vo dua sachchi lagati hai..teri aankhon mein kaajal, ik lakir si banaata hai.samandar par, ye nakkaashi achchhi lagati hai..***

ek maayane mein aankhon ki had hai ye kaajal,par tumhaari aankhon mein hasin behad hai ye kaajal.**

*baantoo na kisi se saaya bhi tera..kaajal jahaan vahaan tera basera***

kajal shayari in hindikaajal rakho aankhon mein, intazaar na rakho.khoobasoorat ho tum, khoobasoorat raho. beqaraar na lago.**

*baadalon se girake ek kaajal ka katara hothon pe tere til ban ke saj gayaanazar lage na tumako kisi ki hoton se nikali thi dua aasamaanon ne sun liya**

*alasaayi subah, phaile hue kaajal mein, bikhare hue aanchal mein,bachaate bachaate chhipaate chhipaate numaayaan hoti hai kavita koi raat ki**

* kajal shayari in hindiraat ki chaadar par boonde os ki moti si subah ke aanchal mein garmi sooraj sisab bikhar gaya syaah kaajal ki tarah khvaab yoon toote …..pankhudiyaan lagi roti siham ko to jaan se pyaari hai tumhaari aankhehaay kaajal bhari madahosh ye pyaari aankhe**

*chaandani raat bhi jal jaaye jab too kaajal laga ke aaeye dil bhi mera halachal machaaye jab too kaajal laga ke aae**

*gile lab~kaatil nigaahen gazab ka kaajal~gulaabi hothapagali tu hi bata ye dil tum pe na marata to kya karata

***kaajal,aankhe ,julfe,jhumaka,chehara,bindiyaahaaye dil haar gae ham tumhe benakaab dekhakar…!!!***

kajal shayari in hindibahut roi hui lagati hai aankhemmeri khaatir zara kaajal laga lo

base ho kaajal ki tarah naino me ban ke sapanerache ho mehandi ki tarah haatho ban ke lakiresaje ho laali ki tarah hotho pe ban ke muskaraahaten**

*lag jaegi nazar duniya ki, jaan lolaga lo kaajal chehare par, gujaarish maan lo.**

*aankh se bichhade kaajal ko taharir banaane vaalemushkil mein pad jaenge tasvir banaane vaale.*

**vo aankhon mein kaajal vo baalon mein gajaraahatheli pe is ke hina mahaki mahaki ~hasrat**

*aaj phir husn-e-dilaara ki vahi dhaj hogivo hi khvaabida si aankhen, vo hi kaajal ki lakir***

kajal shayari in hindihaath se mehandi na bikhari, aankhon ka kaajal salaamataye bhi koi baat thi, sakhi piya milan ki raat thi**

*shaayad kisi roj tum samajh pao is dil ki bekaraariaur tumhaari aankhon ke kaajal ka koi bahut gahara rishta hai**

*kaajal lagaakar aap mahafil ke andaaz ko apana banaane lage,ham to gaane lage aapake lie mohabbat mein gazalajaise aap chaand banake hamaare lie roshani phailaane lage.*

**kaajal ki qismat kya kahiye, nainon mein toone basaayaaanchal ki qismat kya kahiye, toone ang lagaaya hain**

* kajal shayari in hindikaajal bindiyo, kangan jhumake, ye mere khazaane hain,dil panchhi banake ud jaata hai, ham khoye khoye rahate hain,,**

*kaajal laage kirakaro, surama saha na jae !jin nainann mein saajan base,dooja kaun samaaye !!**

jo baras jaaye vahi baadal achchhe hain,jo nigaahon ko saja de vahi kaajal sachche hain,sayaanon ne kuchh is kadar barbaad kar di hai duniya,hamen paagal hi rahane do ham paagal hi achchhe hain…!!***

us ki aankhon mein bhi kaajal phail raha haimain bhi mud ke jaate jaate dekh raha hoon ~jaaved_akhtar***

muhabbat ki benoor khvaahishen aur……tera gamaham bikhar se gaye….aankhon se kaajal ki tarah “***

kajal shayari in hindihaan, ek aur shaam rangin hui hai tumhaare aanchal ki tarah…aur dekho, suramayi rang saja hai tumhaare kaajal ki tarah…***

mahiphal me aaj phir qayaamat ki raat ho gai,hamane lagaaya apane aakho me kaajal aur bin baadal barasaat ho gai.***

jise bhi dekh lo tum, vo hua ek pal mein divaana,tilismi hai bahot sanam, tumhaari aankhon ka kaajal !!***

gulaab se gulaab ka rang tere gaalon pe aaya; tere nainon ne kaali ghata ka kaajal lagaaya;javaani jo tum par chadhi to nasha meri aankhon mein aaya.**

* kajal shayari in hindimehandi rachi hatheli meri ……mere kaajal vaale nain re …….piya pal pal tujhe pukaarate hokar baichen re*

**ye naina ye kaajal ye julphe ye aanchal khoobasoorat si hotum gazal kabhi dil ho kabhi dhadakan kabhi shola kabhi shabanamatumhi hi ho tum meri hamadam*

**haunsala tujh mein na tha mujhase juda hone ka;varana kaajal teri aankhon ka na yoon phaila hota.**

*jo banai hai tire kaajal se tasvire-muhabbat,abhi to pyaar ke rang se sajaaya hi kahaan hai.**

*ek baar ishaara to kar de dil aur jigar to kuchh bhi nahimmai khud ko jala sakata hoon, teri aankhon ke kaajal ke liye….**

*na roo aankh ka kaajal, nikal kar chhoot jaayega !ye dil tere ashk boondon mein, phisal kar toot jaayega !!**

*yaad hai ab tak tujhase bichhadane ki vo andheri shaam mujhe…too khaamosh khadi thi lekin baaten karata tha kaajal…!!!***

kajal shayari in hindisambhaalakar zara rakhiyega kadam phool bikhare hai magar thes lag jaayegiye kaajal lagaane ka kya phaayada roop aisa hai nazar lag jaayegi !!!!*

**baavara hua jaata hoon teri akhiyon mein ishk dekhakar,,,meri ummidon ka maqasad teri aankhon ka kaajal hi to hai..!**

 

 

Zulf Shayari in Hindi ज़ुल्फों पर हिंदी शायरी

Zulf Shayari in Hindi ज़ुल्फों पर हिंदी शायरी
Zulf Shayari in Hindi ज़ुल्फों पर हिंदी शायरी

Zulf Shayari in Hindi

ज़ुल्फों पर हिंदी शायरी

प्यार की शायरी में महबूब की ज़ुल्फ़ का ज़िक्र ज़रूर होता है, शायर अपने महबूब की घनी जुल्फों को बादलों और सुहानी रात की उपमा देतें हैं, पेश है ऐसे ही कुछ खूबसूरत शेर जो महबूब की जुल्फों पर कहे गएँ हैं.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

***

आह को चाहिये इक उम्र असर होते तक

कौन जीता है तेरी जुल्फ के सर होते तक~मिर्ज़ा ग़ालिब

***

ख़ाना-ज़ाद-ए-ज़ुल्फ़ हैं, जंज़ीर से भागेंगे क्यों

हैं गिरफ़्तारे-वफ़ा, जिन्दां से घबरावेंगे क्या।~मिर्ज़ा ग़ालिब

***

कैदी तेरी जुल्फों का है आजाद जहां से।

मुझको रिहाई तो सजाओ ने दिलाई।

***

लिपट के तेरी जुल्फों में बादलों में खो जाना

फिर से तेरी आंखों में डूब के पार हो जाना

***

तेरी आँखों की नमकीन मस्तियां तेरी हंसी की बेपरवाह गुस्तखीयां

तेरी जुल्फों की लहराती अंगडाईयां नहीं भुलूंगा मैं जब तक है जान…जब तक है जान।

*** Zulf Shayari in Hindi

खुदखुशी करने से मुझे कोई परहेज नही है

बस शत॔ ईतनी है कि फंदा तेरी जुल्फों का हो

***

रूठ कर तेरी जुल्फों से चाँद भी सहम गया ।

दागदार तो था ही बादलों में भी छिप गया।।

***

यूँ मिलकर सनम तुमसे रोने को जी चाहता है

तेरी जुल्फों के साए में सोने को जी चाहता है ……!!!

***

तुझे देखेंगे सितारे तो ज़िया मांगेंगे

प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे,,

*** Zulf Shayari in Hindi

 

वो हया सी हँसी ..वो तेरी जुल्फों का चेहरे पर आके तुझे परेशान करना..

वो तेरा अपने होंठो के चाँद को …मेरे माथे पर उकेरना

***

बिखरने दे तेरी खुशबू

महक जाने दे फिजाओं को,

खुलके बिखरने दे जुल्फों को,

बरस जाने दे घटाओं को

लहरा दे दुपट्टा अपना एक बार

बहक जाने दे हवाओं को

***

जुल्फों में तेरी पेंच ओ ख़म जितने….

मेरी मजबूरियाँ मेरे मुश्किलात बस इतने

***

तेरी जुल्फों की छाँव के भी तजुर्बे अजब रहे,

जब-जब किया साया, झुलसता ही रहा हूँ…

*** Zulf Shayari in Hindi

“तेरे रूखसार पर बिखरी जुल्फों की घटा…

मैं क्या कहूँ ऐ चाँद, हाय! तेरी हर अदा!!”

***

ये रात की तन्हाई और ज़िक्र तेरी जुल्फों का ..

क्या खूब जैसे रात भी क़ैद थी तेरी जुल्फों के तले

***

हम ने जो कि थि मोहब्बत आज भी हे तेरी जुल्फों कि साय कि चाहत आज भी हे

रात कट्ती हे आज भी खयालों मे तेरे दिवानों सी वो मेरि हालत आज भी हे

***

क़ैद मांगी थी, रिहाई तो नहीं मांगी थी

तेरी जुल्फों से जुदाई तो नहीं मांगी थी

*** Zulf Shayari in Hindi

गर्मी सुरज की महसुस की है तेरे आगोश में मैने,

बर्फ की ठंडक मिली है तेरी जुल्फों के मोहपाशों से

***

हमने जो की थी मोहब्बत आज भी है, तेरी जुल्फों के साए की चाहत आज भी है,

रात कटती है आज भी खयालों में तेरे, दीवानों सी हालत मेरी आज भी है!

***

 

जिस हाथ से मैंने तेरी जुल्फों को छुआ था…

छुप छुप के उसी हाथ को मैं चूम रहा हूं… मुशीर झिंझानवी

*** Zulf Shayari in Hindi

ढूंढती हैं तेरी महकी हुई जुल्फों की बहार ,

चांदनी रात के ज़ीने से उतर कर यादें

***

कोई हवा का झोंका जब तेरी जुल्फों को बिखराता है..

कसम खुदा की… तू बड़ा ही कातिल नजर आता है…ii

***

तेरी जुल्फों की तरह बिखर जाने को जी करता हैं,

अब मुझे प्यार मे हद से ज्यादा गुजर जाने को जी करता है

*** Zulf Shayari in Hindi

इजाजत हो तो मैं तस्दीक कर लूँ तेरी जुल्फों से,

सुना है जिन्दगी इक खूबसूरत दाम है साकी। -‘अदम’

***

ये रात की तन्हाई और ज़िक्र तेरी जुल्फों का…

क्या खूब जैसे रात भी क़ैद थी तेरी जुल्फों के तले…

***

तेरी आगोश में आके, मैं दुनिया भूल जाता हूँ।

तेरी जुल्फों के साये में, सुकूँ की नींद पाता हूँ।।

***

सूरज का यूँ अफ़क़ पे गुरूब हो जाना तो कुछ तय सा था,

पर फिर ये तेरी जुल्फों की काली घटाएं क़यामत ले आई ।

*** Zulf Shayari in Hindi

जो गुजरे इश्क में सावन सुहाने, याद आते हैं

तेरी जुल्फों के मुझको शामियाने याद आते हैं..

***

आंसमा पे सरकता चाँद, और कुछ रातें थी सुहानी,

तेरी जुल्फों से गुजरती हुई उंगलियाँ, और तेरी साँसे थी जैसे मीठा पानी

***

तेरी हर इक शाम को मै बना दूँ रंगीन शाम

जुल्फों से खेलने की गर मुझे इजाजत दे दे

***

 

हर खुशी माना है ,सनम तेरी जुल्फों के साये में है …

वो मज़ा मगर है कहाँ ,जो दिल के लुट जाने में है .

***

तेरी जुल्फों की ज़ंजीर मिल जाती तो अच्छा था

तेरे लबों की वो लकीर मिल जाती तो अच्छा था

*** Zulf Shayari in Hindi

सोयेंगे तेरी आँख की खिलवत में किसी रात

साये में तेरी जुल्फों के जागेंगे किसी दिन…।

***

तेरी जुल्फों से नज़र मुझसे हटाई न गई,

नम आँखों से पलक मुझसे गिराई न गई |

***

तेरी जुल्फों के बिखरने का सबब है कोई,

आँख कहती है तेरे दिल में तलब है कोई!!

***

जब भी मुँह ढँक लेता हूँ तेरी जुल्फों की छाँव में

जाने कितने गीत उतर आते हैं मेरे मन के गाँव में

*** Zulf Shayari in Hindi

मेरी उंगलियाँ फिर तेरी जुल्फों से गुज़र जायें,

जब तू पलकें झुकाकर फिर मेरी ज़िन्दगी में चली आये

***

बडे गुस्ताख हैं, झुक कर तेरा चेहरा चूम लेते हैं….

तुमने भी जानम, जालिम ज़ुल्फ़ों को सर चढा रखा है।

***

फिर न सिमटेगी मोहब्बत जो बिखर जायेगी,

ज़िंदगी ज़ुल्फ़ नहीं जो फिर संवर जायेगी,

***

हर “खुश अदा” की “ज़ुल्फ़” में “अटका” हुआ है ~

“दिल” हर “महजबीं” के “हुस्न” पे “कुर्बान” “आँख” है

*** Zulf Shayari in Hindi

ज़ुल्फ़ बिखरा के निकले वो घर से देखो बादल कहाँ आज बरसे

फिर हुईं धड़कनें तेज़ दिल की फिर वो गुज़रे हैं शायद इधर से

***

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची

ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर तक पहुँची

 

***

या दिले दीवाना रुत जागी वस्ले यार की,

झुकी हुई ज़ुल्फ़ में छाई है घटा प्यार की.

*** Zulf Shayari in Hindi

जुरअत तो देखिएगा नसीम-ए-बहार की,

ये भी बलाएँ लेने लगी ज़ुल्फ़-ए-यार की !!

***

ज़ुल्फ़ बरहम है दिल आशुफ़्ता सबा आवारा,

ख़्वाब-ए-हस्ती सा नहीं ख़्वाब परेशाँ कोई !

***

सियाह ज़ुल्फ़ के सायों बड़ी उदास है रात

अभी तो ज़िक्र-ए-सहर दोस्तों है दूर की बात

***

ये इत्र बे-ज़ियाँ नहीं नसीम-ए-नौ-बहार की

उड़ा के लाई है सबा शमीम ज़ुल्फ़-ए-यार की ~इक़बाल_सुहैल

***

तेरी ज़ुल्फ़ क्या संवारी, मेरी किस्मत निखर गयी..

उलझने तमाम मेरी, दो लट में संवर गयी.

***

ज़ुल्फ़ को खुशबू के बादल, रस भरे होंठों को जाम,

शाख-ए-गुल रख दूं मैं इन संदली बाँहों के नाम,

***

न झटको ज़ुल्फ़ से पानी, ये मोती फूट जाएगें …

तुम्हारा कुछ न बिगड़ेगा, मगर दिल टूट जाएगें ..

***

गुलों की तरह हम ने ज़िंदगी को इस कदर जाना

किसी कि ज़ुल्फ़ में इक रात सोना और बिखर जाना ~बशीर बद्र

***

छाँव पाता है मुसाफिर तो ठहर जाता है

ज़ुल्फ़ को ऐसे न बिखरा,हमे नींद आती है ~मुनव्वर राना

*** Zulf Shayari in Hindi

पुकारता चला हूँ में गली गली बहार की

बस इक छांव ज़ुल्फ़ की बस इक निगाह प्यार की

***

ज़ुल्फ़ घटा बन कर रह जाए आँख कँवल हो जाए शायद

उन को पल भर सोचे और ग़ज़ल हो जाए ~क़ैसर_उल_जाफ़री

***

किसी ज़ुल्फ़ के साये में हमें नींद आती थी

अब मयस्सर किसी दीवार का साया भी नहीं

 

Search Tags

Zulf Shayari, Zulf Hindi Shayari, Zulf Shayari, Zulf whatsapp status, Zulf hindi Status, Hindi Shayari on Zulf, Zulf whatsapp status in hindi, ज़ुल्फ़ हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, ज़ुल्फ़, ज़ुल्फ़ स्टेटस, ज़ुल्फ़ व्हाट्स अप स्टेटस, ज़ुल्फ़ पर शायरी, ज़ुल्फ़ शायरी, ज़ुल्फ़ पर शेर, ज़ुल्फ़ की शायरी, जुल्फों पर हिंदी शायरी, जुल्फों पर शायरी, जुल्फों पर शेर, जुल्फों की शायरी,


Hinglish

Zulf Shayari in Hinglish

ज़ुल्फों पर हिंदी शायरी

pyaar ki shaayari mein mahaboob ki zulf ka zikr zaroor hota hai, shaayar apane mahaboob ki ghani julphon ko baadalon aur suhaani raat ki upama deten hain, pesh hai aise hi kuchh khoobasoorat sher jo mahaboob ki julphon par kahe gaen hain. aah ko chaahiye ik umr asar hote takakaun jita hai teri julph ke sar hote tak~mirza gaalib***

khaana-zaad-e-zulf hain, janzir se bhaagenge kyonhain giraftaare-vafa, jindaan se ghabaraavenge kya.~mirza gaalib**

*kaidi teri julphon ka hai aajaad jahaan se.mujhako rihai to sajao ne dilai.***

lipat ke teri julphon mein baadalon mein kho jaanaaphir se teri aankhon mein doob ke paar ho jaana***

teri aankhon ki namakin mastiyaan teri hansi ki beparavaah gustakhiyaanteri julphon ki laharaati angadaiyaan nahin bhuloonga main jab tak hai jaan…jab tak hai jaan.***

zulf shayari in hindikhudakhushi karane se mujhe koi parahej nahi haibas shat itani hai ki phanda teri julphon ka ho***

rooth kar teri julphon se chaand bhi saham gaya .daagadaar to tha hi baadalon mein bhi chhip gaya..**

*yoon milakar sanam tumase rone ko ji chaahata haiteri julphon ke sae mein sone ko ji chaahata hai ……!!!*

**tujhe dekhenge sitaare to ziya maangengepyaase teri julphon se ghata maangenge,,***

zulf shayari in hindivo haya si hansi ..vo teri julphon ka chehare par aake tujhe pareshaan karana..vo tera apane hontho ke chaand ko …mere maathe par ukerana*

**bikharane de teri khushaboomahak jaane de phijaon ko,khulake bikharane de julphon ko,baras jaane de ghataon kolahara de dupatta apana ek baarabahak jaane de havaon ko*

**julphon mein teri pench o kham jitane….meri majabooriyaan mere mushkilaat bas itane**

*teri julphon ki chhaanv ke bhi tajurbe ajab rahe,jab-jab kiya saaya, jhulasata hi raha hoon…*

** zulf shayari in hindi”tere rookhasaar par bikhari julphon ki ghata…main kya kahoon ai chaand, haay! teri har ada!!”*

**ye raat ki tanhai aur zikr teri julphon ka ..kya khoob jaise raat bhi qaid thi teri julphon ke tale*

**ham ne jo ki thi mohabbat aaj bhi he teri julphon ki saay ki chaahat aaj bhi heraat katti he aaj bhi khayaalon me tere divaanon si vo meri haalat aaj bhi he***

qaid maangi thi, rihai to nahin maangi thiteri julphon se judai to nahin maangi thi**

* zulf shayari in hindigarmi suraj ki mahasus ki hai tere aagosh mein maine,barph ki thandak mili hai teri julphon ke mohapaashon se**

*hamane jo ki thi mohabbat aaj bhi hai, teri julphon ke sae ki chaahat aaj bhi hai,raat katati hai aaj bhi khayaalon mein tere, divaanon si haalat meri aaj bhi hai!**

*jis haath se mainne teri julphon ko chhua tha…chhup chhup ke usi haath ko main choom raha hoon… mushir jhinjhaanavi**

* zulf shayari in hindidhoondhati hain teri mahaki hui julphon ki bahaar ,chaandani raat ke zine se utar kar yaaden**

*koi hava ka jhonka jab teri julphon ko bikharaata hai..kasam khuda ki… too bada hi kaatil najar aata hai…ii*

**teri julphon ki tarah bikhar jaane ko ji karata hain,ab mujhe pyaar me had se jyaada gujar jaane ko ji karata hai***

zulf shayari in hindiijaajat ho to main tasdik kar loon teri julphon se,suna hai jindagi ik khoobasoorat daam hai saaki. -adam*

**ye raat ki tanhai aur zikr teri julphon ka…kya khoob jaise raat bhi qaid thi teri julphon ke tale…***

teri aagosh mein aake, main duniya bhool jaata hoon.teri julphon ke saaye mein, sukoon ki nind paata hoon..**

*sooraj ka yoon afaq pe guroob ho jaana to kuchh tay sa tha,par phir ye teri julphon ki kaali ghataen qayaamat le aai .**

* zulf shayari in hindijo gujare ishk mein saavan suhaane, yaad aate hainteri julphon ke mujhako shaamiyaane yaad aate hain..**

*aansama pe sarakata chaand, aur kuchh raaten thi suhaani,teri julphon se gujarati hui ungaliyaan, aur teri saanse thi jaise mitha paani**

*teri har ik shaam ko mai bana doon rangin shaamajulphon se khelane ki gar mujhe ijaajat de de**

*har khushi maana hai ,sanam teri julphon ke saaye mein hai …vo maza magar hai kahaan ,jo dil ke lut jaane mein hai .**

*teri julphon ki zanjir mil jaati to achchha thaatere labon ki vo lakir mil jaati to achchha tha**

* zulf shayari in hindisoyenge teri aankh ki khilavat mein kisi raatasaaye mein teri julphon ke jaagenge kisi din….**

*teri julphon se nazar mujhase hatai na gai,nam aankhon se palak mujhase girai na gai |
teri julphon ke bikharane ka sabab hai koi,aankh kahati hai tere dil mein talab hai koi!!*

**jab bhi munh dhank leta hoon teri julphon ki chhaanv menjaane kitane git utar aate hain mere man ke gaanv mein**

* zulf shayari in hindimeri ungaliyaan phir teri julphon se guzar jaayen,jab too palaken jhukaakar phir meri zindagi mein chali aaye**

*bade gustaakh hain, jhuk kar tera chehara choom lete hain….tumane bhi jaanam, jaalim zulfon ko sar chadha rakha hai.***

phir na simategi mohabbat jo bikhar jaayegi,zindagi zulf nahin jo phir sanvar jaayegi,

***har “khush ada” ki “zulf” mein “ataka” hua hai ~”dil” har “mahajabin” ke “husn” pe “kurbaan” “aankh” hai*

** zulf shayari in hindizulf bikhara ke nikale vo ghar se dekho baadal kahaan aaj barasephir huin dhadakanen tez dil ki phir vo guzare hain shaayad idhar se**

*tiragi chaand ke zine se sahar tak pahunchizulf kandhe se jo saraki to kamar tak pahunchi**

*ya dile divaana rut jaagi vasle yaar ki,jhuki hui zulf mein chhai hai ghata pyaar ki.**

* zulf shayari in hindijurat to dekhiega nasim-e-bahaar ki,ye bhi balaen lene lagi zulf-e-yaar ki !!*

**zulf baraham hai dil aashufta saba aavaara,khvaab-e-hasti sa nahin khvaab pareshaan koi !*

**siyaah zulf ke saayon badi udaas hai raatabhi to zikr-e-sahar doston hai door ki baat*

**ye itr be-ziyaan nahin nasim-e-nau-bahaar kiuda ke lai hai saba shamim zulf-e-yaar ki ~iqabaal_suhail*

**teri zulf kya sanvaari, meri kismat nikhar gayi..ulajhane tamaam meri, do lat mein sanvar gayi.***

zulf ko khushaboo ke baadal, ras bhare honthon ko jaam,shaakh-e-gul rakh doon main in sandali baanhon ke naam,***

na jhatako zulf se paani, ye moti phoot jaegen …tumhaara kuchh na bigadega, magar dil toot jaegen ..***

gulon ki tarah ham ne zindagi ko is kadar jaanaakisi ki zulf mein ik raat sona aur bikhar jaana ~bashir badr**

*chhaanv paata hai musaaphir to thahar jaata haizulf ko aise na bikhara,hame nind aati hai ~munavvar raana*

** zulf shayari in hindipukaarata chala hoon mein gali gali bahaar kibas ik chhaanv zulf ki bas ik nigaah pyaar ki**

*zulf ghata ban kar rah jae aankh kanval ho jae shaayadun ko pal bhar soche aur gazal ho jae ~qaisar_ul_jaafari**

*kisi zulf ke saaye mein hamen nind aati thiab mayassar kisi divaar ka saaya bhi

Junun Shayari in Hindi जुनूं पर हिंदी शायरी

Junun Shayari in Hindi जुनूं पर हिंदी शायरी
Junun Shayari in Hindi जुनूं पर हिंदी शायरी

Junun Shayari in Hindi

जुनूं पर हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Junun the rage, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Junun Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Junun is excellent in expressing your emotions. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

जूनून / जुनूं पर कुछ अच्छे शेर नेट इन हिंदी के पाठको के लिए हम यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं. सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है हिंदी शायरी

******************************************

 

मेरे जुनूं का नतीजा ज़रूर निकलेगा….

इसी स्याह समंदर से नूर निकलेगा!

***

फिर इश्क़ का जुनूं चढ़ रहा है सिर पे ,

मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे !

***

कहां कहां पुकार आई उसे हद मेरे जुनूं की

हाशिए से गुमा तक, मकां से ला-मकां तक

***

खुशफहमी अभी तक यही थी कार-ए- जुनूं में ,

जो मुझसे ना हो पाया किसी से ना होगा

***

ये जुनूं, और फिर उल्फत का जुनूं है

ए दोस्त मार डालेगा मुझे तुझ को खबर होने तक

*** Junun Shayari in Hindi

मुझे जुनूं नहीं ‘ग़ालिब’ वले ब-कौल-ए-हुज़ूर

फ़िराक़-ए-यार में तस्कीन हो तो क्यूँकर हो ~MirzaGhalib

***

इक जुनूं है जो मुझे दश्त में ले जाता है…

वरना प्यासे तो समंदर की तरफ जाते हैं

***

बक रहा हूं जुनूं मे क्या क्या कुछ

कुछ न समझे, खुदा करे कोई

***

मेरे जुनूं को ज़ुल्फ के साये से दूर रख..

रस्ते में छाँव पाके मुसाफिर ठहर न जाए.

*** Junun Shayari in Hindi

हमको जुनूं क्या सिखलाते हो हम थे परेशां तुम से ज़ियादा

चाक किये हैं हम ने अज़ीज़ों चार गरेबां तुम से ज़ियादा ~मज़रुह_सुल्तानपुरी

***

संग और हाथ वही वो ही सर ओ दाग ए जुनूं

वो ही हम होंगे वही दश्त ओ बियाबां होंगे ~मोमिन_खां_मोमिन

***

आवारगी का आलम अब कुछ यूँ है…

भटके हैं लफ्ज़ मेरे, तेरा ही जुनूं है।

***

तू मेरे इश्क़े-जुनूं से अभीतलक नावाकिफ़ है..

जुर्रते शौक में हम हर हद से गुज़र जायेंगे.!

*** Junun Shayari in Hindi

नवाज़ीश ग़र ख़फा हो ज़ाऐ,मनाने क़े क़ई तरीक़े हो जाऐ,

तुझे हरदम सर ऑख़ो पे रख़ने का जुनूं,ग़र महोब्बत मेरी क़बुल हो ज़ाऐ

***

इश्क जुनूं जब हद से बढ़ जाए,

हंसते-हंसते आशिक सूली चढ़ जाए!!!

***

नहीं रही अब जुनूं की ज़ंजीर पर वह पहली इजारदारी

गिरफ्त करते हैं करनेवाले खिरद पे दीवानपन से पहले ~Faiz

***

अजब जुनूं है ये इंतक़ाम का जज़्बा

शिकस्त खा के वो पानी में ज़हर डाल आया ~अज़हर_इनायती

*** Junun Shayari in Hindi

 

मुहब्बत तो मुहब्बत है कहाँ सोचे क्या तकलीफें

जुनूं का एक अजब मंजर जिधर देखे सनम ही है

***

जुनूं मंजिल का, राहों में बचाता है भटकने से,

मेरी दीवानगी अपना ठिकाना ढूंढ लेती है !!

***

जितने मुँह उतनी बातें हैं बढ़े क्यूँ ना जुनूं

सबने दीवाना बना रक्खा है दीवाने को ~कादिर

***

 

फ़ारिग तो ना बैठेगा महशर में जुनूं अपना

या अपना गिरेबां चाक या दामने यज़दां चाक

*** Junun Shayari in Hindi

काफिले रेत हुए दश्त-ए-जुनूं में कितने !

फिर भी आवारा मिजाजों का सफर जारी है !!

***

ये दश्त-ए-जुनूं दीवानों का, ये बज़्म-ए-वफ़ा परवानों की

ये शहर-ए-तरब रूमानों का, ये ख़ुल्द-ए-बरी अरमानों की

***

अक्ल वालों के मुकद्दर में ये ज़ोर ए जुनूं कहाँ

ये इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं

***

दौलत-ए-जुनूं में….लग गयी आग सुकूँ में….

काश! के गरीब होते…अभी तक खुशनसीब होते

***

अफ़साने भी वही तराने भी वही हुजूम भी वही है जुनूं भी तो वही

हालाते मौजूद: इससे ज्यादा क्या वक्त गुज़रा ज़रूर मगर मंजर वही

*** Junun Shayari in Hindi

इक जाम-ए-जुनूं को लबों से लगाया है, दिल को इक नये ग़म का नशा कराया है,

ये कैसी हलचल मची है, महफ़िल में क्या कोई चाक जिगर महफ़िल में आया है

***

इधर मचलकर उन्हें पुकारे जुनूं मेरा…. . .

धड़क उठे उधर दिल तो समजो ग़ज़ल हुई.

***

तू इस कद़र ; मेरे इश्क़ का इम्तिहां भी न ले मेरी जां..

के तुझको पाने के जुनूं में /मैं खुद को ही फ़ना कर दूं

***

फासले बढ़ते हैं जिस कदर मेरे दिल को करार आता है,

इस ग़म के बहर-ए-बेकरां में मेरे जुनूं पे निख़ार आता है।

***

ये किस मक़ाम पे लाया जुनूं, खुदा जाने,

संभल संभल के क़दम रख रहे हैं दीवाने .

*** Junun Shayari in Hindi

तेज़ रखना सरे हर खार को अए दश्त-ए-जुनूं

शायद आ जाए कोई आबला पा मेरे बाद ~मीर

***

 

 

जुनूं कम है तो मुझ से शायरी कम हो रही है

तुम्हे पाकर मेरी दीवानगी कम हो रही है

***

क्या क्या हुआ है हम से जुनूं में न पूछिये,

उलझे कभी ज़मीं से कभी आसमां से हम !! -मजाज़ लखनवी

***

एक से एक जुनूं का मारा इस बस्ती में रहता है

एक हमीं हुशियार थे यारो एक हमीं बदनाम हुए

इब्ने इंशा

*** Junun Shayari in Hindi

‘फ़राज़’ अब कोई सौदा कोई जुनूं भी नहीं

मगर क़रार से दिन कट रहे हों, यूं भी नहीं। ~ Ahmad Faraz

***

मेरी नजर को जुनूं का पयाम दे साकी मेरी हयात को ला फानी शाम दे साकी

ये रोज रोज का पिना मुझे पसंद नही, कभी न होश मे आऊ वो जाम दे साकी

***

कारवान-ए-जुनूं दे रहा है सदा , जान हो जिसे प्यारी हम में शामिल न हो

काश वो वक्त भी आये दुनिया में , जब ज़र पुकारे पर कोई साहिल न हो ।।

***

कुछ तो होते हैं मोहब्बत में जुनूं के आसार,

और कुछ लोग भी दीवाना बना देते हैं…!

*** Junun Shayari in Hindi

ए जुनूं हो मुबारक़ ये आवारगी !

राहे उल्फ़त में कोई दीवाना तो है !! ~ शाह मंज़ूर आलम “शाह”

***

गिरते हैं, संभलते हैं ऐ जिंदगी,

तेरे जोशो जुनूं से हम फिर से उठ के चलते हैं।

***

शमा एक जली देखी चाँद एक खिला पाया !

अब जुनूं से क्या पूछें, तूने और क्या पाया !!

~ शाह मंज़ूर आलम “शाह”

***

बहुत हैं जुल्म के दस्ते-बहाना-जू के लिए

जो चन्द अहले-जुनूं तेरे नाम-लेवा हैं

***

ठहर के पाँव के कांटे निकालने वाले

ये होश है तो जुनूं कामयाब क्या होगा

 

वही आज मंज़िल के मालिक बने, जो कांटे सरे राह बोते रहे।

गिरेबां के तारों में अहले-जुनूं, मुहब्बत की कलियाँ पिरोते रहे।

*** Junun Shayari in Hindi

था उन्हें भी मेरी तरह जुनूं, तो फिर उनमें मुझमें ये फर्क क्यूं,

मैं गिरफ्त-ए-ग़म से ना बच सका, वो हुदूद-ए-ग़म से निकल गए

***

तेरी चारागिरी की राह तकता वो इश्क का मरीज होता है

जिसके अंदर जुनूं है दुनिया में उसके खातिर सलीब होता है

***

उलझा हुआ सवाल सा..सुलझा हुआ ख्याल सा

जुनूं बनकर दहकता है साँसों में उल्फत का इक उबाल सा..

***

इधर देखते हैं, उधर देखते हैं,

तसव्वुर में तेरा ही घर देखते हैं…

नुमायां जुनूं का, असर देखते हैं,

तुझे जबकि रश्क-ए-क़मर देखते हैं…

***

“फ़ैयाज़” अब आया है जुनूं जोश पे अपना,

हँसता है जमाना, मैं गुजरता हूँ जिधर से। “फ़ैयाज़ हाशमी”

***

अब के बच्चों में नहीं है पहले सा जुनूं ,

बस नशे में, हौसलों की पालकी सोई हुई…!! ~Gulzar

*** Junun Shayari in Hindi

देख ज़िन्‍दां के परे जोशे जुनूं, जोशे बहार

रक्‍स करना है तो फिर पांव की ज़ंजीर ना देख! ~मजरूह

***

जला के मशाल-ए-जान हम जुनूं सिफात चले

जो घर को आग लगाए हमारे साथ चले~मजरूह

***

जहां पे इश्क़ की सरहद जूनून से मिलती है

वहीँ पे आ के मिले ….वो अगर महोब्बत है ..

***

मेरे नामुराद जूनून का है इलाज कोई तो मौत है,

जो दवा के नाम पे ज़हर दे उसी चारागर की तलाश है

*** Junun Shayari in Hindi

हाथ, जिनमें है जूनून, कटते नहीं तलवार से,

सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से! ~BismilAzimabadi

 

Search Tags

Junun Shayari, Junun Hindi Shayari, Junun Shayari, Junun whatsapp status, Junun hindi Status, Hindi Shayari on Junun, Junun whatsapp status in hindi,

जूनून हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, जूनून, जूनून स्टेटस, जूनून व्हाट्स अप स्टेटस, जूनून पर शायरी, जूनून शायरी, जूनून पर शेर, जूनून की शायरी,

जुनूं हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, जुनूं, जुनूं स्टेटस, जुनूं व्हाट्स अप स्टेटस, जुनूं पर शायरी, जुनूं शायरी, जुनूं पर शेर, जुनूं की शायरी,


Hinglish

Junun Shayari in Hinglish

जुनूं पर हिंदी शायरी

joonoon / junoon par kuchh achchhe sher net in hindi ke paathako ke lie ham yahaan prastut kar rahe hain.

mere junoon ka natija zaroor nikalega….isi syaah samandar se noor nikalega!***

phir ishq ka junoon chadh raha hai sir pe ,mayakhaane se kah do daravaaza khula rakhe !***

kahaan kahaan pukaar aai use had mere junoon kihaashie se guma tak, makaan se la-makaan tak**

*khushaphahami abhi tak yahi thi kaar-e- junoon mein ,jo mujhase na ho paaya kisi se na hoga***

ye junoon, aur phir ulphat ka junoon haie dost maar daalega mujhe tujh ko khabar hone tak***

junun shayari in hindimujhe junoon nahin gaalib vale ba-kaul-e-huzoorafiraaq-e-yaar mein taskin ho to kyoonkar ho ~mirzaghalib*

**ik junoon hai jo mujhe dasht mein le jaata hai…varana pyaase to samandar ki taraph jaate hain***bak raha hoon junoon me kya kya kuchhakuchh na samajhe, khuda kare koi**

*mere junoon ko zulph ke saaye se door rakh..raste mein chhaanv paake musaaphir thahar na jae.*

** junun shayari in hindihamako junoon kya sikhalaate ho ham the pareshaan tum se ziyaadaachaak kiye hain ham ne azizon chaar garebaan tum se ziyaada ~mazaruh_sultaanapuri**

*sang aur haath vahi vo hi sar o daag e junoonvo hi ham honge vahi dasht o biyaabaan honge ~momin_khaan_momin**

*aavaaragi ka aalam ab kuchh yoon hai…bhatake hain laphz mere, tera hi junoon hai.**

*too mere ishqe-junoon se abhitalak naavaakif hai..jurrate shauk mein ham har had se guzar jaayenge.!**

* junun shayari in hindinavaazish gar khapha ho zaai,manaane qe qai tariqe ho jaai,tujhe haradam sar okho pe rakhane ka junoon,gar mahobbat meri qabul ho zaai**

*ishk junoon jab had se badh jae,hansate-hansate aashik sooli chadh jae!!!*

**nahin rahi ab junoon ki zanjir par vah pahali ijaaradaarigirapht karate hain karanevaale khirad pe divaanapan se pahale ~faiz*

**ajab junoon hai ye intaqaam ka jazbaashikast kha ke vo paani mein zahar daal aaya ~azahar_inaayati**

* junun shayari in hindimuhabbat to muhabbat hai kahaan soche kya takaliphenjunoon ka ek ajab manjar jidhar dekhe sanam hi hai**

*junoon manjil ka, raahon mein bachaata hai bhatakane se,meri divaanagi apana thikaana dhoondh leti hai !!*

**jitane munh utani baaten hain badhe kyoon na junoonsabane divaana bana rakkha hai divaane ko ~kaadir**

*faarig to na baithega mahashar mein junoon apanaaya apana girebaan chaak ya daamane yazadaan chaak*

** junun shayari in hindikaaphile ret hue dasht-e-junoon mein kitane !phir bhi aavaara mijaajon ka saphar jaari hai !!**

*ye dasht-e-junoon divaanon ka, ye bazm-e-vafa paravaanon kiye shahar-e-tarab roomaanon ka, ye khuld-e-bari aramaanon ki**

*akl vaalon ke mukaddar mein ye zor e junoon kahaanye ishq vaale hain jo har chiz loota dete hain***

daulat-e-junoon mein….lag gayi aag sukoon mein….kaash! ke garib hote…abhi tak khushanasib hote**

*afasaane bhi vahi taraane bhi vahi hujoom bhi vahi hai junoon bhi to vahihaalaate maujood: isase jyaada kya vakt guzara zaroor magar manjar vahi***

junun shayari in hindiik jaam-e-junoon ko labon se lagaaya hai, dil ko ik naye gam ka nasha karaaya hai,ye kaisi halachal machi hai, mahafil mein kya koi chaak jigar mahafil mein aaya hai***

idhar machalakar unhen pukaare junoon mera…. . .dhadak uthe udhar dil to samajo gazal hui.**

*too is kadra ; mere ishq ka imtihaan bhi na le meri jaan..ke tujhako paane ke junoon mein /main khud ko hi fana kar doon**

*phaasale badhate hain jis kadar mere dil ko karaar aata hai,is gam ke bahar-e-bekaraan mein mere junoon pe nikhaar aata hai. ye kis maqaam pe laaya junoon, khuda jaane,sambhal sambhal ke qadam rakh rahe hain divaane .**

* junun shayari in hinditez rakhana sare har khaar ko ae dasht-e-junoonshaayad aa jae koi aabala pa mere baad ~mir**

*junoon kam hai to mujh se shaayari kam ho rahi haitumhe paakar meri divaanagi kam ho rahi hai*

**kya kya hua hai ham se junoon mein na poochhiye,ulajhe kabhi zamin se kabhi aasamaan se ham !! -majaaz lakhanavi*

**ek se ek junoon ka maara is basti mein rahata haiek hamin hushiyaar the yaaro ek hamin badanaam hueibne insha**

* junun shayari in hindifaraaz ab koi sauda koi junoon bhi nahimmagar qaraar se din kat rahe hon, yoon bhi nahin। ~ ahmad faraz**

*meri najar ko junoon ka payaam de saaki meri hayaat ko la phaani shaam de saakiye roj roj ka pina mujhe pasand nahi, kabhi na hosh me aaoo vo jaam de saaki**

*kaaravaan-e-junoon de raha hai sada , jaan ho jise pyaari ham mein shaamil na hokaash vo vakt bhi aaye duniya mein , jab zar pukaare par koi saahil na ho ..*

**kuchh to hote hain mohabbat mein junoon ke aasaar,aur kuchh log bhi divaana bana dete hain…!***

junun shayari in hindie junoon ho mubaaraq ye aavaaragi !raahe ulfat mein koi divaana to hai !! ~ shaah manzoor aalam “shaah”**

*girate hain, sambhalate hain ai jindagi,tere josho junoon se ham phir se uth ke chalate hain.**

*shama ek jali dekhi chaand ek khila paaya !ab junoon se kya poochhen, toone aur kya paaya !!~ shaah manzoor aalam “shaah”*

**bahut hain julm ke daste-bahaana-joo ke liejo chand ahale-junoon tere naam-leva hain***

thahar ke paanv ke kaante nikaalane vaaleye hosh hai to junoon kaamayaab kya hogaavahi aaj manzil ke maalik bane, jo kaante sare raah bote rahe.girebaan ke taaron mein ahale-junoon, muhabbat ki kaliyaan pirote rahe.*

** junun shayari in hinditha unhen bhi meri tarah junoon, to phir unamen mujhamen ye phark kyoon,main girapht-e-gam se na bach saka, vo hudood-e-gam se nikal gae**

*teri chaaraagiri ki raah takata vo ishk ka marij hota haijisake andar junoon hai duniya mein usake khaatir salib hota hai***

ulajha hua savaal sa..sulajha hua khyaal saajunoon banakar dahakata hai saanson mein ulphat ka ik ubaal sa..**

*idhar dekhate hain, udhar dekhate hain,tasavvur mein tera hi ghar dekhate hain…numaayaan junoon ka, asar dekhate hain,tujhe jabaki rashk-e-qamar dekhate hain…**

*”faiyaaz” ab aaya hai junoon josh pe apana,hansata hai jamaana, main gujarata hoon jidhar se. “faiyaaz

ab ke bachchon mein nahin hai pahale sa junoon ,bas nashe mein, hausalon ki paalaki soi hui…!! ~gulzar**

* junun shayari in hindidekh zin‍daan ke pare joshe junoon, joshe bahaararak‍sa karana hai to phir paanv ki zanjir na dekh! ~majarooh**

*jala ke mashaal-e-jaan ham junoon siphaat chalejo ghar ko aag lagae hamaare saath chale~majarooh***

jahaan pe ishq ki sarahad joonoon se milati haivahin pe aa ke mile ….vo agar mahobbat hai ..**

*mere naamuraad joonoon ka hai ilaaj koi to maut hai,jo dava ke naam pe zahar de usi chaaraagar ki talaash hai**

* junun shayari in hindi haath, jinamen hai joonoon, katate nahin talavaar se,sar jo uth jaate hain vo jhukate nahin lalakaar se! ~bismilazimabadi

search tags junun shayari, junun hindi shayari, junun shayari, junun whatsapp status, junun hindi status, hindi shayari on junun, junun whatsapp status in hindi,joonoon hindi shaayari, hindi shaayari, joonoon, joonoon stetas, joonoon vhaats ap stetas, joonoon par shaayari, joonoon shaayari, joonoon par sher, joonoon ki shaayari,junoon hindi shaayari, hindi shaayari, junoon, junoon stetas, junoon vhaats ap stetas, junoon par shaayari, junoon shaayari, junoon par sher, junoon ki shaayari,


 

 

Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat shayari in Hindi
Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat Shayari in Hindi

मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Mulaqat the Moon light, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Mulaqat Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Mulaqat is excellent in expressing your emotions. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

 

जिंदा रहने के लिए तेरी क़सम एक मुलाक़ात ज़रूरी है सनम, दोस्तों, आस इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपके लिए महबूब से मुलाक़ात पर कुछ चुनिन्दा बेहतरीन शायरी पेश कर रहें हैं, उम्मीद है यह मुलाक़ात पर शायारी आपको बहुत पसंद आएगी.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*********************

 

मेरी नजरो को आज भी तलाश हे तेरी बिन तेरे ख़ुशी भी उदास हे मेरी

खुदा से मांगा हे तो सिर्फ इतना मरने से पहले आपसे मुलाक़ात हो मेरी

***

सुबह को जो नींद से जागे तब रात का ख्याब याद आया गया।।

क्या खूब रही थी सपनो में मुलाक़ात आपसे

***

खुशिया किसी की मोहताज नहीं होती, दोस्ती यूँही इत्तेफ़ाक़ से नहीं होती

कुछ तो मायने होंगे इस पल के, वरना यूँही आपसे मुलाक़ात नहीं होती

***

काश आपकी सूरत इतनी प्यारी ना होती; काश आपसे मुलाक़ात हमारी ना होती;

सपनो में ही देख लेते हम आपको; तो आज मिलने की इतनी बेकरारी ना होती!

***

मिलने आयेंगे आपसे ख़्वाबों में जरा रोशनी के दिए बुझा दीजिये

अब और नहीं होता इंतज़ार आपसे मुलाक़ात का अपनी आँखों के पलके गिरा दीजिये

*** Mulaqat Shayari in Hindi

अगर हमारी आपसे मुलाक़ात होगई होती

आपकी आपके दिलसे अदावत होगई होती

***

इस उम्मीद में करते हैं इंतज़ार हम रात का; कि

शायद सपनों में कभी आपसे मुलाक़ात हो जाये।

***

 

इतना इंतज़ार अपनी धड़कनों का नहीं जितनाआप के आने का करते हैं

इतना इंतज़ार अपनी साँसों का नहीं जितना आपसे मुलाक़ात का करते हैं

*** Mulaqat Shayari in Hindi

जाते जाते कहीं भी मुलाक़ात हो जाये आपसे..

तलाश ये नज़र आपको बार बार करती है….!!!!

***

मोहब्बत ना सही मुकदमा ही कर दो मुझ पर,

कम से कम तारीख दर तारीख मुलाक़ात तो हो आपसे।

***

माना की आपसे रोज मुलाक़ात नही होती आमने-सामने कभी बात नही होती

मगर हर सुबह आपको दिलसे याद कर लेते है उसके बिना हमारे दिन की शुरुआत नहीं होती

***

मेरी हर गजलो में तेरी बात आज भी है,

आपसे खयालों में मुलाक़ात आज भी है ,

तुझे भुला देना मेरे बस में नहीं शायद,

यु तो हसीनों से मुलाक़ात आज भी है,

*** Mulaqat Shayari in Hindi

कभी आपसे जो मुलाक़ात होगी यहीं सोचती हूँ की क्या बात होगी

भले दूर होंगे वोह मेरी नज़र से मगर याद उनकी मिरे साथ होगी

***

कुछ नशा तो आपकी बात का है, कुछ नशा तो धीमी बरसात का है,

हमे आप यूही शराबी ना कहिए, यह दिल पर असर तो आपसे मुलाक़ात का है

***

आप जैसे लोग कुछ खास लगते हैं; दिल में हर वक़्त एक आस रखते हैं;

जाने कब हो जाये मुलाक़ात आपसे; इसलिए 1 (Disprin) हम हमेशा अपने पास रखते हैं।

***

खूब जमेगी जब होगी आपसे मुलाक़ात,

कुछ खर्च होंगी बाते कुछ लुटेंगे जज्बात……!!!

*** Mulaqat Shayari in Hindi

आप जो हँसो तो दुनिया हँस जाये;आपकी हँसी इस दिल में बस जाये;

होगी मुलाक़ात कल फिर आपसे;यही सोच कर दिल में मेरे खुशियों का रस घुल जाये

 

***

मुलाक़ात हो आपसे , कुछ इस तरह हमारी…..

सारी उम्र बस एक, मुलाक़ात में गुज़ार लूँ……!!!!

***

कर तो लें हम आपसे मुलाक़ात

क्या समझेंगे पर आप दिल के ज़ज्बात….!!

 

*** Mulaqat Shayari in Hindi

सब कुछ मिला सकून की दौलत नहीं मिली ! आपसे मुलाक़ात की मोहलत नहीं मिली

करने को और भी काम थे मगर ! हमको आपकी याद से फुरसत नहीं मिली

 

***

हम उनसे मिले तो कुछ कह न सके “दोस्तों”

ख़ुशी इतनी थी कि मुलाक़ात आंसू पोंछते पोंछते ही गुजर गयी

 

***

कुदरत के करिश्मों में अगर रात न होती

ख्वाबों में भी फिर उनसे मुलाक़ात न होती

***

अभी अभी हमने दर्द को उनके नासूर बना डाला,

हमने तो कभी फ़िकर नही की उनसे मुलाक़ात की

मगर जाने क्यूँ उन्होंने हमें अपना ग़ुरूर बना डाला..

 

*** Mulaqat Shayari in Hindi

हुई मुलाक़ात किसी राह पर उनसे

अब खोजता हू हर राह पर उनको

***

मुलाक़ात का सिलसिला उनसे यूँ चलता रहा

जब मोहबत हुई तो इज़हार भी यूँ होता रहा

***

उनसे जो मुलाक़ात हो जाती ।

जाने फिर क्या बात हो जाती ॥

***

चलो आज फिर एक ग़लती कर के देखते हैं

आज फिर उनसे मोहब्बत करके देखते हैं

उनके दिल मैं चाहत है या नही

आज फिर उन से मुलाक़ात करके देखते है

*** Mulaqat Shayari in Hindi

कुछ ज़्यादा तो नहीं माँगा था हमने तुमसे ऐ ज़िंदगी,

छोटी सी आरज़ू थी उनसे मुलाक़ात-ऐ-गुफ़्तगू की..

***

हर बात पे महके हुए जज़्बात की खुशबू

आज याद बहुत आयी,उनसे मुलाक़ात की खुशबू

***

दिले तस्वीरे है यार जबकि गर्दन झुका ली, और मुलाक़ात कर ली

वो थे न मुझसे दुर,न मै उनसे दूर था आता न था नजर, तो नजर का कसूर था

***

ख़्वाहिश यह की उनसे नायाब मुलाक़ात एक बार तो हो जाये

ज़िन्दगी भर यादों के सहारे गुज़ारने से बेहतर है रुबरू हो जायें

*** Mulaqat Shayari in Hindi

मिल कर भी उनसे हसरत-ए-मुलाक़ात रह गई,

बादल तो घर आये थे बस बरसात रह गई।।

***

करनी मुझे खुदा से एक फरियाद बाकी है कहनी उनसे एक बात बाकी है

मौत भी आ जाये तो कह दूंगी जरा रुक जा अभी मेरे दोस्तो से एक मुलाक़ात बाकी है

***

दो बातें कर लेना उनसे ग़र चार न हो सके,

ख़्याल ही कर लेना ग़र मुलाक़ात न हो सके ।

***

रोज दीदार हो चाँद का ….. ये जरूरी तो नहीं ….

बेपर्दा हो मुलाक़ात उनसे … ये जरूरी तो नहीं ….

***

मैं ख़ुशनसीब हूँ की रात ख़्वाब आते हैं अक्सर

ख़्वाबों में बाइख़्तियार उनसे मुलाक़ात होती है..

***

वक़्त आखरी था उनसे दुआ-सलाम कर लिया ……

बस इतनी सी मुलाक़ात ने बदनाम कर दिया.

*** Mulaqat Shayari in Hindi

यूँ तो खुद की सैलाने-तबीयत का अंदाज़ मुश्किल था

उनसे मुलाक़ात हुई तो जाना ये दिल किस काबिल था .!!

***

जबसे मुलाक़ात हुयी है उनसे मेरी, तबसे मेरे दिल को करार आया,

कभी ज़ुल्फ़ लहराई कभी नखरा किया, उनकी इन अदाओं पर बहोत प्यार आया….!

***

 

Search Tags

Mulaqat Shayari, Mulaqat Hindi Shayari, Mulaqat Shayari, Mulaqat whatsapp status, Mulaqat hindi Status, Hindi Shayari on Mulaqat, Mulaqat whatsapp status in hindi, मुलाक़ात हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मुलाक़ात, मुलाक़ात स्टेटस, मुलाक़ात व्हाट्स अप स्टेटस, मुलाक़ात पर शायरी, मुलाक़ात शायरी, मुलाक़ात पर शेर, मुलाक़ात की शायरी, महबूब से मुलाक़ात


Hinglish

jinda rahane ke lie teree qasam ek mulaaqaat zarooree hai sanam, doston, aas is blog post mein ham aapake lie mahaboob se mulaaqaat par kuchh chuninda behatareen shayari pesh kar rahen hain, ummeed hai yah mulaaqaat par shaayaaree aapako bahut pasand aaegee.

meree najaro ko aaj bhee talaash he teree bin tere khushee bhee udaas he mereekhuda se maanga he to sirph itana marane se pahale aapase mulaaqaat ho meree***

subah ko jo neend se jaage tab raat ka khyaab yaad aaya gaya..kya khoob rahee thee sapano mein mulaaqaat aapase***

khushiya kisee kee mohataaj nahin hotee, dostee yoonhee ittefaaq se nahin hoteekuchh to maayane honge is pal ke, varana yoonhee aapase mulaaqaat nahin hotee***

kaash aapakee soorat itanee pyaaree na hotee; kaash aapase mulaaqaat hamaaree na hotee;sapano mein hee dekh lete ham aapako; to aaj milane kee itanee bekaraaree na hotee!***

milane aayenge aapase khvaabon mein jara roshanee ke die bujha deejiyeab aur nahin hota intazaar aapase mulaaqaat ka apanee aankhon ke palake gira deejiye***

mulaqat shayari in hindiagar hamaaree aapase mulaaqaat hogee hoteeaapakee aapake dilase adaavat hogee hotee***

is ummeed mein karate hain intazaar ham raat ka; kishaayad sapanon mein kabhee aapase mulaaqaat ho jaaye.***

itana intazaar apanee dhadakanon ka nahin jitanaaap ke aane ka karate hainitana intazaar apanee saanson ka nahin jitana aapase mulaaqaat ka karate hain***

mulaqat shayari in hindijaate jaate kaheen bhee mulaaqaat ho jaaye aapase..talaash ye nazar aapako baar baar karatee hai….!!!!***

mohabbat na sahee mukadama hee kar do mujh par,kam se kam taareekh dar taareekh mulaaqaat to ho aapase.***

maana kee aapase roj mulaaqaat nahee hotee aamane-saamane kabhee baat nahee hoteemagar har subah aapako dilase yaad kar lete hai usake bina hamaare din kee shuruaat nahin hotee***

meree har gajalo mein teree baat aaj bhee hai,aapase khayaalon mein mulaaqaat aaj bhee hai ,tujhe bhula dena mere bas mein nahin shaayad,yu to haseenon se mulaaqaat aaj bhee hai,***

mulaqat shayari in hindikabhee aapase jo mulaaqaat hogee yaheen sochatee hoon kee kya baat hogeebhale door honge voh meree nazar se magar yaad unakee mire saath hogee***

kuchh nasha to aapakee baat ka hai, kuchh nasha to dheemee barasaat ka hai,hame aap yoohee sharaabee na kahie, yah dil par asar to aapase mulaaqaat ka hai***

aap jaise log kuchh khaas lagate hain; dil mein har vaqt ek aas rakhate hain;jaane kab ho jaaye mulaaqaat aapase; isalie 1 (disprin) ham hamesha apane paas rakhate hain.***khoob jamegee jab hogee aapase mulaaqaat,kuchh kharch hongee baate kuchh lutenge jajbaat……!!!***

mulaqat shayari in hindiaap jo hanso to duniya hans jaaye;aapakee hansee is dil mein bas jaaye;hogee mulaaqaat kal phir aapase;yahee soch kar dil mein mere khushiyon ka ras ghul jaaye***

mulaaqaat ho aapase , kuchh is tarah hamaaree…..saaree umr bas ek, mulaaqaat mein guzaar loon……!!!!***

kar to len ham aapase mulaaqaatakya samajhenge par aap dil ke zajbaat….!!***

mulaqat shayari in hindisab kuchh mila sakoon kee daulat nahin milee ! aapase mulaaqaat kee mohalat nahin mileekarane ko aur bhee kaam the magar ! hamako aapakee yaad se phurasat nahin milee***

ham unase mile to kuchh kah na sake “doston”khushee itanee thee ki mulaaqaat aansoo ponchhate ponchhate hee gujar gayee***

kudarat ke karishmon mein agar raat na hoteekhvaabon mein bhee phir unase mulaaqaat na hotee***

abhee abhee hamane dard ko unake naasoor bana daala,hamane to kabhee fikar nahee kee unase mulaaqaat keemagar jaane kyoon unhonne hamen apana guroor bana daala..*

** mulaqat shayari in hindihuee mulaaqaat kisee raah par unaseab khojata hoo har raah par unako**

*mulaaqaat ka silasila unase yoon chalata rahaajab mohabat huee to izahaar bhee yoon hota raha***

unase jo mulaaqaat ho jaatee .jaane phir kya baat ho jaatee .***

chalo aaj phir ek galatee kar ke dekhate hainaaj phir unase mohabbat karake dekhate hainunake dil main chaahat hai ya naheeaaj phir un se mulaaqaat karake dekhate hai***

mulaqat shayari in hindikuchh zyaada to nahin maanga tha hamane tumase ai zindagee,chhotee see aarazoo thee unase mulaaqaat-ai-guftagoo kee..***

har baat pe mahake hue jazbaat kee khushabooaaj yaad bahut aayee,unase mulaaqaat kee khushaboo***

dile tasveere hai yaar jabaki gardan jhuka lee, aur mulaaqaat kar leevo the na mujhase dur,na mai unase door tha aata na tha najar, to najar ka kasoor tha***

khvaahish yah kee unase naayaab mulaaqaat ek baar to ho jaayezindagee bhar yaadon ke sahaare guzaarane se behatar hai rubaroo ho jaayen***

mulaqat shayari in hindimil kar bhee unase hasarat-e-mulaaqaat rah gaee,baadal to ghar aaye the bas barasaat rah gaee..***

karanee mujhe khuda se ek phariyaad baakee hai kahanee unase ek baat baakee haimaut bhee aa jaaye to kah doongee jara ruk ja abhee mere dosto se ek mulaaqaat baakee hai***

do baaten kar lena unase gar chaar na ho sake,khyaal hee kar lena gar mulaaqaat na ho sake .***

roj deedaar ho chaand ka ….. ye jarooree to nahin ….beparda ho mulaaqaat unase … ye jarooree to nahin ….***

main khushanaseeb hoon kee raat khvaab aate hain aksarakhvaabon mein baikhtiyaar unase mulaaqaat hotee hai..***

vaqt aakharee tha unase dua-salaam kar liya ……bas itanee see mulaaqaat ne badanaam kar diya.***

mulaqat shayari in hindiyoon to khud kee sailaane-tabeeyat ka andaaz mushkil thaunase mulaaqaat huee to jaana ye dil kis kaabil tha .!!***

jabase mulaaqaat huyee hai unase meree, tabase mere dil ko karaar aaya,kabhee zulf laharaee kabhee nakhara kiya, unakee in adaon par bahot pyaar aaya….!***

search tags mulaqat shayari, mulaqat hindi shayari, mulaqat shayari, mulaqat whatsapp status, mulaqat hindi status, hindi shayari on mulaqat, mulaqat whatsapp status in hindi, mulaaqaat hindee shayari, hindee shayari, mulaaqaat, mulaaqaat status, mulaaqaat whatsapp status, mulaaqaat par shayari, mulaaqaat shayari, mulaaqaat par sher, mulaaqaat kee shayari, mahaboob se mulaaqaat

Sitare Shayari in Hindi सितारे हिंदी शायरी सितारों

Sitare Shayari in Hindi
Sitare Shayari in Hindi

Sitare Shayari in Hindi

सितारे हिंदी शायरी

 

दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट में आपके लिए सितारों पर कुछ खूबसूरत और दिल को छू लेने वाले शेर ओ शायरी प्रस्तुत है, सितारों भरे खूबसूरत आसमान को देखकर आपको भी कोई शेर या कविता याद आये तो आप निचे दिए कमेंट्स में उसे लिख दीजिये. सितारों पर लिखे इन शेर को आप कापी कर अपने व्हाट्स एप और फेसबुक पर आसानी से शेयर कर सकतें हैं.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है List of Hindi Shayari

***

नजर में आपकी नज़ारे रहेंगे पलकों पर चाँद सितारे रहेंगे

बदल जाये तो बदले ये ज़माना हम तो हमेशा आपके दीवाने रहेंगे

***

ये जो हम हैं न एहसास में जलते हुए लोग

हम अगर जमींदाज न होते तो सितारे होते।

***

पलकों के सितारे भी उड़ा ले गई ‘अनवर’

वो दर्द की आँधी की सर-ए-शाम चली थी

***

एक सितारे सा टूटकर गिरूँगी कही

और उनकी हर मन्नत पूरी करके जाउंगी

***

“न लाऊँगा चाँद, न सितारे तुम्हारे वास्ते.. ..

बनाऊँगा जमीं को तेरे लायक तेरे वास्ते..!!”

*** Sitare Shayari in Hindi

चाँद की चिट्ठी भूले से सितारे के पते पहुँची थी……

खुशियाँ पल दो पल ही सही वहाँ ठहरी थी….

***

कुछ सितारे तोड़ कर अपने आँचल से बाँध लिए

मुट्ठी भर रात चुराई है तुम्हारे लिए

*** Sitare Shayari in Hindi

हर चीज अपनी-अपनी जगह पै है कामयाब,

जर्रे भी बेमिसाल, सितारे भी लाजवाब। – माहिर-उल-कादिरी

***

“सोच को बदलो सितारे बदल जायेंगे नजर को बदलो नज़ारे बदल जायेगे

कश्तियाँ बदलने की जरुरत नही दिशाओ को बदलो, किनारे बदल जायेंगे

***

सोच को अपनी ले जाओ तुम शिखर तक कि

उसके आगे सारे सितारे भी झुक जाएं

*** Sitare Shayari in Hindi

 

है किस्मत हमारी आसमान में चमकते …सितारे… जैसी ….

लोग अपनी तमन्ना के लिए हमारे टूटने का इंतज़ार करते हैं…

***

आसमान के चाँद सितारे,आँचल में नही भर पाऊँगी

पर इतना वादा हैं प्रियतम,हर पल साथ निभाऊंगी.

***

बस खुला आसमान है दूर तलक …हैं

कुछ अटखेलियाँ करते बादल और जुगनू से टिमटिमाते सितारे…

और चांदनी के नशे में फिरता दीवाना इक चाँद है

*** Sitare Shayari in Hindi

“सहमी हुई है रात, सितारे उदास हैं ,

जागा हुआ है चाँद सुबह की उमीद में…”

***

“क्या अब भी वतन में वैसे ही सरमस्त नज़ारे होते हैं

क्या अब भी सुहानी रातों को वो चाँद सितारे होते हैं”

***

हाँ….. चाँद तक जाती तो थी वो गली…

मगर उस सितारे की आँखों में ठहरना अच्छा लगा मुझे.

***

न जाने क्यूँ हमें इस दम तुम्हारी याद आती है

जब आँखों में चमकते हैं सितारे शाम से पहले

*** Sitare Shayari in Hindi

जीवन की सुबह में कभी सांझ नहो जो मिल न सके रब से वो मांग नहो

खूब चमकें सितारे खुशियों के ज़िन्दगी कभी अमावस का चाँद नहो

***

किसी के इंतज़ार में, रातों को न बर्बाद करना,

टूटते हुए सितारे ने, बात ये हमको समझायी।

*** Sitare Shayari in Hindi

 

सितारे लफ्ज़ बनते जा रहे हैं ….

खुदा तेरा कसीदा लिख रहा है। फहमी बदायूनी

***

जिस में ना चमकते हों मोहब्बत के सितारे

वो शाम अगर है तो मेरी शाम नहीं है

***

किसी के साथ जब बीते हुए लम्हों की याद आई

थकी आखों में अश्को के सितारे झिलमिलाते हैं

*** Sitare Shayari in Hindi

झूठ भी इतनी खूबसूरती से बोलती है,

आजकल जमीं के फूल और आसमाँ के सितारे भी हैरान है

***

हसीन लगते हैं जाड़ों में सुबह के मंज़र

सितारे धूप पहनकर निकलने लगते हैं..

*** Sitare Shayari in Hindi

 

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है

सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं।।

***

सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें

जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें

***

उसके दामन में अगर शब हैं, सितारे भी तो हैं,

गर्दिशे-अफलाक* से मायूस होना छोड़ दे।

*** Sitare Shayari in Hindi

जो नजर से गुजर जाया करते हैं वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं

कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं

**

सामने हो मंज़िल तो रास्ते ना मोडना,जो भी मन मे हो वो सपना ना तोडना,

कदम-कदम पे मिलेगी मुशकिल आपको,बस सितारे चुनने के लिये कभी ज़मीन मत छोडना।

*** Sitare Shayari in Hindi

चाँद सितारे गोद में आकर बैठ गये सोचा ये था,

पहली बस से निकलेंगे -शकील जमाली

***

वहां तक ले गयी मुझे मेरी अना मोहसीन

जहाँ जाकर मुकद्दर के सितारे टूट जाते है

***

सितारों से एक मुट्ठी रोशनी माँग के लाया हुं तुम्हारे आँचल के लिये …

चाँद नाराज़ होके बैठा है …उसकी मिल्कियत में खलल डाली मैने ..

*** Sitare Shayari in Hindi

रात है, चाँद है, संग चाँदनी सितारे भी फलक पे हैं

बस एक नींद नहीं आँखों में, तेरी यादें पलक पे हैं……

***

जान दे देंगें बस यही हमारे इख्तियार में है ,

हम नहीं करते बात सितारे तोड़ लाने की ……

***

शाम आयी तेरी यादों के सितारे निकले

रंग ही ग़म के नहीं नक़्श भी प्यारे निकले

*** Sitare Shayari in Hindi

बच्चो को छोटे छोटे हाथो से चाँद सितारे तो छूने दो,

४ किताब पढ़ कर ये भी हमारे जैसे हो जाएंगे…

***

 

सितारे कितने भी हों गर्दिशों में मेरे, रात कितनी भी भयानक हो सही,

एक बार जिन्दगी मुस्कराएगी, वो सुबह फिर तो आएगी..

*** Sitare Shayari in Hindi

सितारे हद में थे मेरी मगर उड़ के नहीं देखा

तुम्हारे बाद किसी से कभी जुड़ के नहीं देखा

***

उनके क़दमों की आहट हुयी दिल में यूँ ,, वो सितारे भी ज्यादा चमकने लगे

.मन के तारों के सुर कुछ बदल से गए फूल खुशियों के जैसे महकने लगे.

**

आंसु दर्द तडप सब अपने हो जातेहै अरमान जगते है तो सितारे सो जातेहै

महोब्बत तुम यहां पे गलती से भी मत आना ये गरीब का घर है यहां सपने खो जाते है

*** Sitare Shayari in Hindi

 

 

 

Search Tags

Sitare Shayari, Sitare Hindi Shayari, Sitare Shayari, Sitare whatsapp status, Sitare hindi Status, Hindi Shayari on Sitare, Sitare whatsapp status in hindi, सितारे हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, सितारे, सितारे स्टेटस, सितारे व्हाट्स अप स्टेटस, सितारों पर शायरी, सितारे शायरी, सितारों पर शेर, सितारों की शायरी,


Hinglish

doston is blog post mein aapake lie sitaaron par kuchh khoobasoorat aur dil ko chhoo lene vaale sher o shayari prastut hai, sitaaron bhare khoobasoorat aasamaan ko dekhakar aapako bhee koee sher ya kavita yaad aaye to aap niche die kaments mein use likh deejiye. sitaaron par likhe in sher ko aap kaapee kar apane vhaats ep aur phesabuk par aasaanee se sheyar kar sakaten hain.

najar mein aapakee nazaare rahenge palakon par chaand sitare rahengebadal jaaye to badale ye zamaana ham to hamesha aapake deevaane rahenge***

ye jo ham hain na ehasaas mein jalate hue logaham agar jameendaaj na hote to sitare hote.***

palakon ke sitare bhee uda le gaee anavarvo dard kee aandhee kee sar-e-shaam chalee thee***

ek sitare sa tootakar giroongee kaheeaur unakee har mannat pooree karake jaungee***”

na laoonga chaand, na sitare tumhaare vaaste.. ..banaoonga jameen ko tere laayak tere vaaste..!!”***

sitare shayari in hindichaand kee chitthee bhoole se sitare ke pate pahunchee thee……khushiyaan pal do pal hee sahee vahaan thaharee thee….***

kuchh sitare tod kar apane aanchal se baandh liemutthee bhar raat churaee hai tumhaare lie***

sitare shayari in hindihar cheej apanee-apanee jagah pai hai kaamayaab,jarre bhee bemisaal, sitare bhee laajavaab. – maahir-ul-kaadiree***

“soch ko badalo sitare badal jaayenge najar ko badalo nazaare badal jaayegekashtiyaan badalane kee jarurat nahee dishao ko badalo, kinaare badal jaayenge***

soch ko apanee le jao tum shikhar tak kiusake aage saare sitare bhee jhuk jaen***

sitare shayari in hindihai kismat hamaaree aasamaan mein chamakate …sitare… jaisee ….log apanee tamanna ke lie hamaare tootane ka intazaar karate hain…***

aasamaan ke chaand sitare,aanchal mein nahee bhar paoongeepar itana vaada hain priyatam,har pal saath nibhaoongee.***

bas khula aasamaan hai door talak …hainkuchh atakheliyaan karate baadal aur juganoo se timatimaate sitare…aur chaandanee ke nashe mein phirata deevaana ik chaand hai***

sitare shayari in hindi”sahamee huee hai raat, sitare udaas hain ,jaaga hua hai chaand subah kee umeed mein…”***

“kya ab bhee vatan mein vaise hee saramast nazaare hote hainkya ab bhee suhaanee raaton ko vo chaand sitare hote hain”**

haan….. chaand tak jaatee to thee vo galee…magar us sitare kee aankhon mein thaharana achchha laga mujhe.***

na jaane kyoon hamen is dam tumhaaree yaad aatee haijab aankhon mein chamakate hain sitare shaam se pahale**

* sitare shayari in hindijeevan kee subah mein kabhee saanjh naho jo mil na sake rab se vo maang nahokhoob chamaken sitare khushiyon ke zindagee kabhee amaavas ka chaand naho***

kisee ke intazaar mein, raaton ko na barbaad karana,tootate hue sitare ne, baat ye hamako samajhaayee.***

sitare shayari in hindisitare laphz banate ja rahe hain ….khuda tera kaseeda likh raha hai. phahamee badaayoonee***

jis mein na chamakate hon mohabbat ke sitarevo shaam agar hai to meree shaam nahin hai**

*kisee ke saath jab beete hue lamhon kee yaad aaeethakee aakhon mein ashko ke sitare jhilamilaate hain**

* sitare shayari in hindijhooth bhee itanee khoobasooratee se bolatee hai,aajakal jameen ke phool aur aasamaan ke sitare bhee hairaan hai***

haseen lagate hain jaadon mein subah ke manzarasitare dhoop pahanakar nikalane lagate hain..***

sitare shayari in hindisuna hai raat use chaand takata rahata haisitare baam-e-falak se utar ke dekhate hain..***

sooraj, sitare, chaand mere saath mein rahenjab tak tumhaare haath mere haath mein rahen***

usake daaman mein agar shab hain, sitare bhee to hain,gardishe-aphalaak* se maayoos hona chhod de.***

sitare shayari in hindijo najar se gujar jaaya karate hain vo sitare aksar toot jaaya karate hainkuchh log dard ko bayaan nahin hone dete bas chupachaap bikhar jaaya karate hain**

saamane ho manzil to raaste na modana,jo bhee man me ho vo sapana na todana,kadam-kadam pe milegee mushakil aapako,bas sitare chunane ke liye kabhee zameen mat chhodana.***

sitare shayari in hindichaand sitare god mein aakar baith gaye socha ye tha,pahalee bas se nikalenge -shakeel jamaalee***

vahaan tak le gayee mujhe meree ana mohaseenajahaan jaakar mukaddar ke sitare toot jaate hai***

sitaaron se ek mutthee roshanee maang ke laaya hun tumhaare aanchal ke liye …chaand naaraaz hoke baitha hai …usakee milkiyat mein khalal daalee maine ..***

sitare shayari in hindiraat hai, chaand hai, sang chaandanee sitare bhee phalak pe haimbas ek neend nahin aankhon mein, teree yaaden palak pe hain……***

jaan de dengen bas yahee hamaare ikhtiyaar mein hai ,ham nahin karate baat sitare tod laane kee ……***

shaam aayee teree yaadon ke sitare nikalerang hee gam ke nahin naqsh bhee pyaare nikale***

sitare shayari in hindibachcho ko chhote chhote haatho se chaand sitare to chhoone do,4 kitaab padh kar ye bhee hamaare jaise ho jaenge…***

sitare kitane bhee hon gardishon mein mere, raat kitanee bhee bhayaanak ho sahee,ek baar jindagee muskaraegee, vo subah phir to aaegee..***

sitare shayari in hindisitare had mein the meree magar ud ke nahin dekhaatumhaare baad kisee se kabhee jud ke nahin dekha***

unake qadamon kee aahat huyee dil mein yoon ,, vo sitare bhee jyaada chamakane lage.man ke taaron ke sur kuchh badal se gae phool khushiyon ke jaise mahakane lage.*

*aansu dard tadap sab apane ho jaatehai aramaan jagate hai to sitare so jaatehaimahobbat tum yahaan pe galatee se bhee mat aana ye gareeb ka ghar hai yahaan sapane kho jaate hai***

sitare shayari in hindi search tags

sitare shayari, sitare hindi shayari, sitare shayari, sitare whatsapp status, sitare hindi status, hindi shayari on sitare, sitare whatsapp status in hindi, sitare hindi shayari, hindi shayari, sitare, sitare stetas, sitare vhaats ap stetas, sitaaron par shayari, sitare shayari, sitaaron par sher, sitaaron kee shayari,