डायनासोरों से भी पहले पाए जाते थे पृथ्वी पर Dimetrodon

Dimetrodon hindi, Dimetrodon ki jankari, Dimetrodon dinosaur in hindi

डायनासोर नहीं थे Dimetrodon

Dimetrodon एक प्रकार के  सरीसृप synapsid थे जो की डायनासोरों से भी पहले पाए जाते हैं, कई लोग इन्हें  डायनासोर ही समझते हैं लेकिन वास्तव में यह रेप्टाइल थे जो कि 295 मिलियन वर्षों से लेकर 272 मिलियन वर्षों पूर्व Permian पीरियड में पाए जाते थे.  इन जीवो के जीवाश्म सबसे पहले 19वीं सदी में Edward Drinke द्वारा खोजे गए.

Dimetrodon hindi, Dimetrodon ki jankari, Dimetrodon dinosaur in hindi

Dimetrodon का अर्थ 

Dimetrodon  का मतलब होता है दो प्रकार के दांत वाला,  इस प्राणी के दो प्रकार के दांत होते थे पहले प्रकार के दांत  शिकार को जकड़ने के काम आते थे था दूसरे प्रकार के दांत हड्डियों से मांस निकालने के काम आते थे,  Dimetrodon के दांतो को देखकर ही यह बताया सकता है कि यह प्राणी मांसाहारी था.

Dimetrodon के २० करोड़ साल पुराने जीवाश्म 

Dimetrodon के जीवाश्म सारी दुनिया में मिले, इसके जीवाश्म यूरोपीय देशों, अमेरिका, कनाडा देशों में प्राप्त हुए हैं, ऐसा प्रतीत होता है कि आज से 20 मिलीयन साल पहले यह प्रजाति काफी सफल थी और सारी दुनिया में पाई जाती थी.

Dimetrodon hindi, Dimetrodon ki jankari, Dimetrodon dinosaur in hindi

Dimetrodon की अनोखी sail-fin 

Dimetrodon की तस्वीर देखकर आपको ऐसा लगेगा कि यह एक डायनासोर है लेकिन वास्तव में यह एक रेप्टाइल था, जो कि डायनासोरों के भी पहले पाया जाता था, Dimetrodon  का आकार 15 फीट लंबा तथा वजन 225 किलोग्राम होता था, Dimetrodon की सबसे अजीब विशेषता इसकी पीठ पर पाई जाने वाली लंबी गोलाकार प्लेट sail-fin थी, यह सैल फिन इसके रक्त को ठंडा रखने मैं सहायता करती थी, दिन के समय यह गर्मी को सोखती थी तथा रात के समय यह गर्मी को धीरे धीरे रिलीज़  करती थी, कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि यह फ्लैट केवल दूसरे परभक्षियों को डराने और मादाओं को आकर्षित करने का काम करती थी, Dimetrodon के बारे में इनमें से कोई भी थ्योरी सही हो सकती है, वैसे देखा जाए तो 20 करोड़ साल तक इस जीव के अवशेष बचे रहना ही एक बहुत बड़ा चमत्कार है.

Dimetrodon hindi, Dimetrodon ki jankari, Dimetrodon dinosaur in hindi


English translation

Dinosaurs were also found first on Earth on Dimetrodon

Dinosaurs were not Dimetrodon

Dimetrodon was a type of reptile synapsid that was found even before dinosaurs, many considered them to be dinosaurs, but in reality it was reptiles that were found in the Permian period from 295 million years ago to 272 million years ago. The fossils of these organisms were first discovered by Edward Drinke in the 19th century. Dimetrodon means Dimetrodon means two types of tooth, this creature had two types of teeth, the first type of tooth used to be used to grip hunting. The other type of tooth was used to extract meat from bones, only by looking at the teeth of Dimetrodon it can be told that the animal was non-vegetarian. Dimetrodon’s 20 million-year-old fossil Dimetrodon’s biological I found all over the world, its fossils have been found in European countries, America and Canada countries, it appears that this species was very successful 20 million years ago and was found throughout the world. Dimetrodon’s unique sail-fin By seeing Dimetrodon’s picture you will feel that it is a dinosaur, but in fact it was a reptile, which was found even before the dinosaurs, Dimetrodon was 15 feet tall and weighing 225 kilograms. The most unusual feature of Dimetrodon was the long circular plate sail-fin found on its back; this cell fin was used to help keep its blood cold; it absorbed heat during the day and during the night the heat Slowly released, some scientists believe that this flat used to scare only other predators and attract females, about any of these theories may be correct about Dimetrodon; It is a great miracle to survive the remains of this creature for 20 million years. Dimetrodon Hindi, Dimetrodon Ki Jankari, Dimetrodon dinosaur in hindi


Hinglish article

daayanaasoron se bhee pahale pae jaate the prthvee par dimaitrodon

daayanaasor nahin the dimaitrodon dimaitrodon ek prakaar ke  sareesrp synapsid the jo kee daayanaasoron se bhee pahale pae jaate hain, kaee log inhen  daayanaasor hee samajhate hain lekin vaastav mein yah reptail the jo ki 295 miliyan varshon se lekar 272 miliyan varshon poorv pairmian peeriyad mein pae jaate the.  in jeevo ke jeevaashm sabase pahale 19veen sadee mein aidward drinkai dvaara khoje gae.dimaitrodon ka arth dimaitrodon  ka matalab hota hai do prakaar ke daant vaala,  is praanee ke do prakaar ke daant hote the pahale prakaar ke daant  shikaar ko jakadane ke kaam aate the tha doosare prakaar ke daant haddiyon se maans nikaalane ke kaam aate the,  dimaitrodon ke daanto ko dekhakar hee yah bataaya sakata hai ki yah praanee maansaahaaree tha.dimaitrodon ke 20 karod saal puraane jeevaashm dimaitrodon ke jeevaashm saaree duniya mein mile, isake jeevaashm yooropeey deshon, amerika, kanaada deshon mein praapt hue hain, aisa prateet hota hai ki aaj se 20 mileeyan saal pahale yah prajaati kaaphee saphal thee aur saaree duniya mein paee jaatee thee.dimaitrodon kee anokhee sail-fin dimaitrodon kee tasveer dekhakar aapako aisa lagega ki yah ek daayanaasor hai lekin vaastav mein yah ek reptail tha, jo ki daayanaasoron ke bhee pahale paaya jaata tha, dimaitrodon  ka aakaar 15 pheet lamba tatha vajan 225 kilograam hota tha, dimaitrodon kee sabase ajeeb visheshata isakee peeth par paee jaane vaalee lambee golaakaar plet sail-fin thee, yah sail phin isake rakt ko thanda rakhane main sahaayata karatee thee, din ke samay yah garmee ko sokhatee thee tatha raat ke samay yah garmee ko dheere dheere rileez  karatee thee, kuchh vaigyaanikon ka maanana hai ki yah phlait keval doosare parabhakshiyon ko daraane aur maadaon ko aakarshit karane ka kaam karatee thee, dimaitrodon ke baare mein inamen se koee bhee thyoree sahee ho sakatee hai, vaise dekha jae to 20 karod saal tak is jeev ke avashesh bache rahana hee ek bahut bada chamatkaar hai.dimaitrodon hindi, dimaitrodon ki jankari, dimaitrodon dinosaur in hindi

 

T Rex को भी घायल कर देते थे Ankylosaurus डायनासोर

Ankylosaurus in hindi, Ankylosaurus ki jankari, Ankylosaurus kya khate the, Ankylosaurus dinosaur in hindi,

टैंक की तरह अभेद्य था Ankylosaurus  डायनासोर का शरीर

6 करोड़ 50 लाख साल पहले एक ऐसा Dinosaur पाया जाता था जिसका शरीर किसी टैंक की तरह अभेद्य और मजबूत था इस डायनासोर का नाम ankylosaurus  था, यह विशालकाय शाकाहारी डायनासोर था जो की क्रीटेशियस युग में पाया जाता था.

Ankylosaurus in hindi

 Ankylosaurus डायनासोर की जानकारी

Ankylosaurus  विशालकाय, शानदार डायनासोर था जो कि 6 करोड़ 50 लाख  साल पहले Cretaceous Period में पाया जाता था, यह समय डायनासोरों के  महाविनाश के ठीक पहले का समय है, इसका अर्थ यह है कि Ankylosaurus पृथ्वी पर अंतिम प्रकार के डायनासोरों में से एक था, यह सबसे  प्रसिद्ध और खतरनाक डायनासोर Tyrannosaurus rex का समकालीन था, क्रीटेशियस के जंगल इन दोनों विशाल डायनासोरों की लड़ाई की आवाजों से गूंजते रहते होंगे. Ankylosaurus  डायनासोर का शरीर हड्डियों के कवच से ढका रहता था इनकी लम्बी पूँछ के अंत में मज़बूत हड्डियों के गोलाकार पिंड थे जो की एक खतरनाक हथियार का काम करते थे, अपनी पूँछ के वार से t rex को भी घायल कर मार सकते थे.

Ankylosaurus का आहार क्या था?

Ankylosaurus in hindi, Ankylosaurus ki jankari, Ankylosaurus kya khate the, Ankylosaurus dinosaur in hindi,

Ankylosaurus की लंबाई 25 से 35 फिट होती थी,  तथा इसका वजन लगभग 6000 किलो था, यह एक स्कूल बस से थोड़ा ही छोटा था तथा इसका वजन एक बड़े अफ्रीकी हाथी के बराबर था, इतना विशालकाय होने के बावजूद यह डायनासोर एक शाकाहारी डायनासोर था, यह जमीन के आस पास उगने वाले पौधों को ही खाया खाता था क्योंकि यह ज्यादा  ऊंचाई पर उगने वाले पेड़ों की पत्तियों तक नहीं पहुंच पाता था, यह “मगर” की तरह एक चपटा प्राणी था जिस तरह मगर की लंबाई तो अधिक होती है परंतु वे आकार में चपटे होते हैं ठीक इसी प्रकार Ankylosaurus भी ऊँचे पेड़ों तक नहीं पहुंच पाता था, अपने पैरों पर खड़े होकर यह केवल 5 फीट ऊपर तक ही पहुंच पाते थे,दूसरे शाकाहारी डायनासोर की तुलना में Ankylosaurus  के बहुत कम दांत होते थे, जिससे कि यह पत्तों को चबा नहीं पाता था और उन्हें सीधे ही निकल जाता था.

अपने आहार को पचाने के लिए यह अपने विशेष प्रकार के पाचन तंत्र पर निर्भर रहते थे, बहुत से डायनासोर आहार को पचाने के लिए छोटे छोटे पत्थर भी निगल लिया करते थे, यह पत्थर इन के पेट में आहार को पीस देते थे जिससे कि उसका पचना आसान हो जाता था.

Ankylosaurus के जीवाश्म 

Ankylosaurus  के जीवाश्म वैज्ञानिकों को पश्चिमी यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका और कनाडा के Alberta राज्य में मिले है.

Ankylosaurus in hindi, Ankylosaurus ki jankari, Ankylosaurus kya khate the, Ankylosaurus dinosaur in hindi,


English translation

T Rex was also injured Ankylosaurus dinosaur

Ankylosaurus like the tank was impervious

Dinosaur’s body 6 million 50 million years ago a dinosaur was found whose body was impenetrable and strong like a tank, the name of this dinosaur was ankylosaurus, it was a giant vegan dinosaur that was found in the Cretaceous era. Ankylosaurus Dinosaur Information Ankylosaurus was a giant, spectacular dinosaur that was found in Cretaceous Period 6 million 50 million years ago, this time just before the great disaster of dinosaurs, this means that the Ankylosaurus is one of the last type of dinosaurs on earth. One was the contemporary of the most famous and dangerous Dinosaur Tyrannosaurus rex, the forest of Cretaceous would resonate with the voices of these two huge dinosaurs. The body of ankylosaurus dinosaur was covered with bone shells, at the end of their long tail, there were spherical bodies of strong bones, which used to work as a dangerous weapon, and could hit the t rex with the help of their tail. What was the diet of ankylosaurus? The length of ankylosaurus was 25 to 35 ft, and its weight was approximately 6000 kg, it was a little smaller than a school bus and its weight was equivalent to a large African elephant, despite being so gigantic Dinosaur was a vegetarian dinosaur, it used to eat plants growing around the ground because it did not reach the leaves of the tree growing on high altitude, it was like a “flame” The way is but the length is more but they are flat in shape; Similarly, ankylosaurus also did not reach high trees, standing on their feet could reach only up to 5 feet, the second vegetarian dinosaur Ankylosaurus had very few teeth in comparison to that, so that it could not chew the leaves and was driven out directly. To digest their diet, they used to depend on their particular type of digestive system, many dinosaurs used to swallow small stones to digest the diet, these stones used to grind food in their stomachs so that they could digest Fossil Ankylosaurus fossils of ankylosaurus have been found in the western United States of America and Canada in the Alberta state. Ankylosaurus in hindi, Ankylosaurus Ki Jankari, Ankylosaurus kya khate the, Ankylosaurus dinosaur in hindi,


Hinglish

t raix ko bhee ghaayal kar dete the ankylosaurus

daayanaasor taink kee tarah abhedy tha ankylosaurus   daayanaasor ka shareer 6 karod 50 laakh saal pahale ek aisa dinosaur paaya jaata tha jisaka shareer kisee taink kee tarah abhedy aur majaboot tha is daayanaasor ka naam ankylosaurus  tha, yah vishaalakaay shaakaahaaree daayanaasor tha jo kee kreeteshiyas yug mein paaya jaata tha. ankylosaurus daayanaasor kee jaanakaareeankylosaurus  vishaalakaay, shaanadaar daayanaasor tha jo ki 6 karod 50 laakh  saal pahale chraitachaious pairiod mein paaya jaata tha, yah samay daayanaasoron ke  mahaavinaash ke theek pahale ka samay hai, isaka arth yah hai ki ankylosaurus prthvee par antim prakaar ke daayanaasoron mein se ek tha, yah sabase  prasiddh aur khataranaak daayanaasor tyrannosaurus raix ka samakaaleen tha, kreeteshiyas ke jangal in donon vishaal daayanaasoron kee ladaee kee aavaajon se goonjate rahate honge. ankylosaurus  daayanaasor ka shareer haddiyon ke kavach se dhaka rahata tha inakee lambee poonchh ke ant mein mazaboot haddiyon ke golaakaar pind the jo kee ek khataranaak hathiyaar ka kaam karate the, apanee poonchh ke vaar se t raix ko bhee ghaayal kar maar sakate the. ankylosaurus ka aahaar kya tha?ankylosaurus kee lambaee 25 se 35 phit hotee thee,  tatha isaka vajan lagabhag 6000 kilo tha, yah ek skool bas se thoda hee chhota tha tatha isaka vajan ek bade aphreekee haathee ke baraabar tha, itana vishaalakaay hone ke baavajood yah daayanaasor ek shaakaahaaree daayanaasor tha, yah jameen ke aas paas ugane vaale paudhon ko hee khaaya khaata tha kyonki yah jyaada  oonchaee par ugane vaale pedon kee pattiyon tak nahin pahunch paata tha, yah “magar” kee tarah ek chapata praanee tha jis tarah magar kee lambaee to adhik hotee hai parantu ve aakaar mein chapate hote hain theek isee prakaar ankylosaurus bhee oonche pedon tak nahin pahunch paata tha, apane pairon par khade hokar yah keval 5 pheet oopar tak hee pahunch paate the,doosare shaakaahaaree daayanaasor kee tulana mein ankylosaurus  ke bahut kam daant hote the, jisase ki yah patton ko chaba nahin paata tha aur unhen seedhe hee nikal jaata tha. apane aahaar ko pachaane ke lie yah apane vishesh prakaar ke paachan tantr par nirbhar rahate the, bahut se daayanaasor aahaar ko pachaane ke lie chhote chhote patthar bhee nigal liya karate the, yah patthar in ke pet mein aahaar ko pees dete the jisase ki usaka pachana aasaan ho jaata tha.ankylosaurus ke jeevaashm ankylosaurus  ke jeevaashm vaigyaanikon ko pashchimee yoonaited stets of amerika aur kanaada ke albairt raajy mein mile hai. ankylosaurus in hindi, ankylosaurus ki jankari, ankylosaurus ky khatai thai, ankylosaurus dinosaur in hindi,

 

 

 

डायनासोरों का रंग कैसा था? डायनासोर कैसे दिखाई देते थे?

Dinosaur habitat hindi, essay on dinosaur habitat hindi, dinosaur ka aavas

डायनासोरों का रंग  कैसा था? जब किसी ने डायनासोरों को देखा ही नहीं तो  उनके रंग का निर्धारण कैसे किया गया?

वैज्ञानिकों को जब भी कोई नए डायनासोर का जीवाश्म प्राप्त होता है तो उनका सबसे पहला काम यह होता है सभी हड्डियों को ठीक प्रकार से जोड़कर डायनासोर का पूरा ढांचा बनाना, कई बार (लगभग हर बार) डायनासोर की सभी हड्डियां प्राप्त नहीं होती है जीवाश्म में केवल कुछ ही हड्डियां प्राप्त होती है वैज्ञानिक इन्ही हड्डियों से शुरू कर डायनासोर का ढांचा बनाना शुरू करते हैं, बाकी बची हुई हड्डियाँ  जो नहीं मिलीती है उनका कंप्यूटर सिमुलेशन बनाकर पतिरूप बनाया जाता है, जिसे कंप्यूटर में जोड़कर डायनासोर का एक संपूर्ण ढांचा प्राप्त होता है.

वैज्ञानिकों का दूसरा काम यह होता है कि इस ढांचे के ऊपर  त्वचा की एक परत लगाना, अब प्रश्न यह उठता है कि डायनासोर तो करोड़ों साल पहले लुप्त हो चुके हैं जब  किसी ने उन्हें देखा ही नहीं तो उनकी त्वचा का रंग किस प्रकार निर्धारित किया जा सकता है? वैज्ञानिक डायनासोर का रंग निर्धारण करने के लिए कई प्रकार के सिद्धांतों का उपयोग करते हैं.

Dinosaurs facts in hindi, facts about dinosaurs hindi, 35 facts about dinosaurs, dinosaurs ke tathy, Truth about dinosaurs hindi, scientific facts about dinosaurs, facts of dinosaurs hindi, T rex facts hindi, raptor facts in hindi, dino facts in hindi,

हाथी की तरह मटमैला था डायनासोर की त्वचा का रंग

डायनासोर के जीवाश्म में हमें सिर्फ हड्डियों के जीवाश्म मिलते हैं डायनासोर की त्वचा नष्ट हो चुकी होती है, लेकिन त्वचा की छाप जिसे इंप्रेशन कहते हैं वह जीवाश्मों में प्राप्त हो जाती है, कई वैज्ञानिकों का मानना है कि डायनासोर की त्वचा का रंग मटमैला गहरा सिलेटी और भूरा था जैसा कि वर्तमान समय में पाए जाने वाले हाथियों और गैंडे का होता है इसके लिए वे तर्क देते हैं कि डायनासोर को अपने वातावरण में छिपने के लिए मटमैले रंग की आवश्यकता पढ़ती थी जिससे कि वह शिकारियों से बच सकें, शिकारियों को भी ऐसी ही त्वचा चाहिए होती थी जिससे कि वे अपने शिकार को नजर ना आए इससे वह भी अपने आसपास के वातावरण में छिप सकने वाली त्वचा के रंग वाले होते थे, यह रंग गहरे भूरे, मटमैले, गहरे हरे होते थे जो कि पेड़ों के तने,सूखी पत्तियों और जमीन के रंग में घुल मिल जाया करते थे.

क्या पक्षियों की तरह था डायनासोर की त्वचा का रंग 

वैज्ञानिको का दूसरा वर्ग मानता है कि डायनासोर रंग बिरंगे थे, उनकी त्वचा का रंग गुलाबी पीला, लाल यहां तक की नीला भी होता था, इस वर्ग  के वैज्ञानिक यह तर्क देते हैं की प्रजनन काल के समय साथी को आकर्षित करने के लिए चमकीले रंगों का इस्तेमाल डायनासोर करते थे, इसलिए उनकी त्वचा का रंग चमकीले होते थे, वर्तमान समय में पाए जाने वाले पक्षी इसका सबसे अच्छा उदाहरण है, पक्षी वास्तव में डायनासोरों की एक प्रजाति है, वर्तमान समय  पाए जाने वाले पक्षियों के पंख विविध रंगो के होते हैं, इन्हें देख कर ही इस वर्ग के वैज्ञानिक तर्क देते हैं कि डायनोसोर रंग-बिरंगे होते थे.

आपने कई बार सुना होगा कि पक्षी डायनासोर से संबंधित है, पर वास्तव में ऐसा नहीं है पक्षी डायनासोरों से संबंधित नहीं है बल्कि पक्षी डायनासोर ही हैं!  आज से 6 करोड़ 50 लाख साल पहले पृथ्वी पर एक महाविनाश हुआ था जिसमें कि सारे डायनासोर मारे गए परंतु डायनासोरों की उड़ने वाली प्रजातियों में से कुछ प्रजातियां बाच गई इन्हीं प्रजातियों से आगे चलकर पक्षियों का विकास हुआ. पृथ्वी पर  तरह-तरह के डायनासोर पाए जाते थे आज से  23 करोड़ साल पहले डायनासोरों का उदय हुआ करोड़ों सालों तक डायनासोर पृथ्वी के प्रमुख जीव बने रहे है लेकिन एक उल्का पिंड के पृथ्वी से आकर टकराने की वजह से सारे डायनासोर नष्ट हो गए.

सन 2008 में येल यूनिवर्सिटी के कुछ वैज्ञानिकों को एक पंख के जीवाश्म से melanosomes के अणु मिले हैं,  यह किसी कोशिका में melanin बनाने का काम करते थे melanin के द्वारा ही त्वचा के रंगों का निर्धारण होता है अलग-अलग प्रकार के melanosomes होते थे जो की विभिन्न  रंग का निर्माण करते थे, भविष्य में वैज्ञानिक इस खोज को आधार बनाकर डायनासोर की त्वचा के रंगों का सटीक निर्धारण करने की कोशिश कर रहें हैं.

Color of dinosaur in hindi, dinosaur color in hindi, dinosaur ka rang, skin color of dinosaur, dinosaur skin color in hindi, dinosaur skin in hindi, dinosaur kis rang ke


English translation

What was the color of dinosaurs? How did dinosaurs appear?

What was the color of dinosaurs? When no one saw dinosaurs, how was their color determined? Whenever a new dinosaur fossil receives the scientists, their first task is to connect all the bones properly and make the entire structure of the dinosaur, Many times (almost every time) not all bones of dinosaurs are obtained, only a few bones are found in the fossils; the scientists from these bones Starting the structure of the dinosaur, the rest of the bones which are not found are made by making a computer simulation and making a pattern, which gets a complete structure of dinosaur by adding them to the computer. The second task of the scientists is to put a layer of skin on the structure, now the question arises that the dinosaurs have been extinct crores of years ago when no one has seen them, how their skin color should be determined Could? The scientists use a variety of principles to determine the colors of dinosaurs. The hinge was like a dinosaur’s skin color. In the fossil of Dynaasaur, we get fossils of bones only, the skin of the dinosaur has been destroyed, but the skin imprint What is called an impression is achieved in fossils, many scientists believe that the color of the skin of the dinosaur Green was gray and brown, as it is present in elephants and rhinoceros found in the present time, they argue that the dinosaur used to hide the need for color to hide in their surroundings so that they could avoid predators, The same skin was needed so that they could not see their prey, so that they were colored skin in their surroundings, it was colored. Ray was brown, furry, dark green, which used to dissolve in the color of tree stems, dry leaves and ground color.Is it like birds, the color of the dinosaur’s skin, the second class of the scientists considers that dinosaurs were colorful, His skin color was pink, red, even blue, the class scientist argues that during the reproduction period, the bright colors used to attract the companion The goods used to be dinosaurs, so their skin color was bright, birds found at present are the best examples, birds are actually a species of dinosaurs, birds of the present times are wings of various colors, The scientists of this class only argue that the dinosaurs were colorful. In 2008, some scientists from Yale University were asked to give a feather fossil The molecules of melanosomes have been found, it used to make melanin in any cell. Melanin only determines the colors of the skin, there were different types of melanosomes that used to create different colors, scientists in the future, this discovery Trying to make the base of the skin of the dinosaur, the color of dinosaur in hindi, dinosaur color in hindi, dinosaur ka rang, skin color of dinosaur, dinosaur skin color in hindi, dinosaur skin in hindi, dinosaur kis rang ke


Hinglish 

daayanaasoron ka rang kaisa tha?

daayanaasor kaise dikhaee dete the? daayanaasoron ka rang  kaisa tha? jab kisee ne daayanaasoron ko dekha hee nahin to  unake rang ka nirdhaaran kaise kiya gaya?vaigyaanikon ko jab bhee koee nae daayanaasor ka jeevaashm praapt hota hai to unaka sabase pahala kaam yah hota hai sabhee haddiyon ko theek prakaar se jodakar daayanaasor ka poora dhaancha banaana, kaee baar (lagabhag har baar) daayanaasor kee sabhee haddiyaan praapt nahin hotee hai jeevaashm mein keval kuchh hee haddiyaan praapt hotee hai vaigyaanik inhee haddiyon se shuroo kar daayanaasor ka dhaancha banaana shuroo karate hain, baakee bachee huee haddiyaan  jo nahin mileetee hai unaka kampyootar simuleshan banaakar patiroop banaaya jaata hai, jise kampyootar mein jodakar daayanaasor ka ek sampoorn dhaancha praapt hota hai. vaigyaanikon ka doosara kaam yah hota hai ki is dhaanche ke oopar  tvacha kee ek parat lagaana, ab prashn yah uthata hai ki daayanaasor to karodon saal pahale lupt ho chuke hain jab  kisee ne unhen dekha hee nahin to unakee tvacha ka rang kis prakaar nirdhaarit kiya ja sakata hai? vaigyaanik daayanaasor ka rang nirdhaaran karane ke lie kaee prakaar ke siddhaanton ka upayog karate hain.haathee kee tarah matamaila tha daayanaasor kee tvacha ka rangadaayanaasor ke jeevaashm mein hamen sirph haddiyon ke jeevaashm milate hain daayanaasor kee tvacha nasht ho chukee hotee hai, lekin tvacha kee chhaap jise impreshan kahate hain vah jeevaashmon mein praapt ho jaatee hai, kaee vaigyaanikon ka maanana hai ki daayanaasor kee tvacha ka rang matamaila gahara siletee aur bhoora tha jaisa ki vartamaan samay mein pae jaane vaale haathiyon aur gainde ka hota hai isake lie ve tark dete hain ki daayanaasor ko apane vaataavaran mein chhipane ke lie matamaile rang kee aavashyakata padhatee thee jisase ki vah shikaariyon se bach saken, shikaariyon ko bhee aisee hee tvacha chaahie hotee thee jisase ki ve apane shikaar ko najar na aae isase vah bhee apane aasapaas ke vaataavaran mein chhip sakane vaalee tvacha ke rang vaale hote the, yah rang gahare bhoore, matamaile, gahare hare hote the jo ki pedon ke tane,sookhee pattiyon aur jameen ke rang mein ghul mil jaaya karate the.kya pakshiyon kee tarah tha daayanaasor kee tvacha ka rang vaigyaaniko ka doosara varg maanata hai ki daayanaasor rang birange the, unakee tvacha ka rang gulaabee peela, laal yahaan tak kee neela bhee hota tha, is varg  ke vaigyaanik yah tark dete hain kee prajanan kaal ke samay saathee ko aakarshit karane ke lie chamakeele rangon ka istemaal daayanaasor karate the, isalie unakee tvacha ka rang chamakeele hote the, vartamaan samay mein pae jaane vaale pakshee isaka sabase achchha udaaharan hai, pakshee vaastav mein daayanaasoron kee ek prajaati hai, vartamaan samay  pae jaane vaale pakshiyon ke pankh vividh rango ke hote hain, inhen dekh kar hee is varg ke vaigyaanik tark dete hain ki daayanosor rang-birange hote the.san 2008 mein yel yoonivarsitee ke kuchh vaigyaanikon ko ek pankh ke jeevaashm se mailanosomais ke anu mile hain,  yah kisee koshika mein mailanin banaane ka kaam karate the mailanin ke dvaara hee tvacha ke rangon ka nirdhaaran hota hai alag-alag prakaar ke mailanosomais hote the jo kee vibhinn  rang ka nirmaan karate the, bhavishy mein vaigyaanik is khoj ko aadhaar banaakar daayanaasor kee tvacha ke rangon ka sateek nirdhaaran karane kee koshish kar rahen hain.cholor of dinosaur in hindi, dinosaur cholor in hindi, dinosaur ka rang, skin cholor of dinosaur, dinosaur skin cholor in hindi, dinosaur skin in hindi, dinosaur kis rang kai

Paleontology क्या हौती है?

Paleontology hindi, Paleontology ki jankari, Paleontology kya hoti he, dinosaur ki study, science of study of dinosaur,

डायनासोरों  के अध्ययन का विज्ञान Paleontology science of study dinosaurs  

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत डायनासोरों  का अध्ययन किया जाता है उसे Paleontology कहते हैं, जो वैज्ञानिक Paleontology के क्षेत्र में कार्य करते हैं उन्हें paleontologists कहते हैं,  यह paleontologists जीवाश्मों का अध्ययन कर यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि जीवाश्म किस जीव का है? यह जीव किस प्रकार के वातावरण में रहता था? तथा इस जीवाश्म से हमें पृथ्वी पर जीवन के इतिहास की क्या जानकारी मिल सकती है? Paleontology का क्षेत्र बहुत विस्तृत है इसमें सभी प्रकार के जीवो के जीवाश्म का अध्ययन किया जाता है, paleontologists डायनासोरों के आलावा पृथ्वी के अतीत में पाए जाने वाले सभी प्रकार के जीव जंतुओं एवं पेड़ पौधों के जीवाश्मों का अध्ययन करते हैं.

Paleontologist  कैसे बने? How to become Paleontologists in hindi

कई प्रकार के paleontologist  वैज्ञानिक होते हैं जिनमें से कुछ पौधों के जीवाश्म का अध्ययन करते हैं कुछ समुद्री जीव के जीवाश्म का अध्ययन करते हैं कुछ लुप्त हो चुके स्तनधारी प्राणियों के जीवाश्म का अध्ययन करते हैं तथा इनमें से कुछ डायनासोरों के जीवाश्मों  का अध्ययन करते हैं

Dinosaurs facts in hindi, facts about dinosaurs hindi, 35 facts about dinosaurs, dinosaurs ke tathy, Truth about dinosaurs hindi, scientific facts about dinosaurs, facts of dinosaurs hindi, T rex facts hindi, raptor facts in hindi, dino facts in hindi, 

Paleontology क्या हौती है? What is Paleontology in hindi

Paleontology, Geology और Biology  का सम्मिलित रूप है , Paleontology के क्षेत्र में कई और विज्ञान की शाखाओं का उपयोग किया जाता है, जैसे कि कंप्यूटर एनीमेशन और सिमुलेशन जिसके द्वारा डायनासोरों के कंकाल को पूर्ण रूप दिया जाता है तथा उनके चलने और दौड़ने के व्यवहार का  एनिमेशन और सिमुलेशन बनाया जाता है, इस कार्य में कंप्यूटर विज्ञान का सहारा लिया जाता है.

विज्ञान के सभी शाखाओं को मोटे तौर पर दो भागों में बांटा जा सकता है एक Historical science और दूसरा experimental science,

experimental science के अंतर्गत वैज्ञानिक प्रकृति में पाए जाने वाले वाली घटनाओं की व्याख्या करने के लिए  परिकल्पना प्रस्तुत करते हैं तथा विभिन प्रयोगों के द्वारा इन परिकल्पनाओं को परखते हैं, यदि यह परिकल्पना सही साबित होती है तो इसे वैज्ञानिक सिद्धांत के रूप में मान्यता मिल जाती है.

Historical science के अंतर्गत वैज्ञानिक एक परिकल्पना hypothesis प्रस्तुत करते हैं, तथा इसके बाद इस परिकल्पना को सत्य साबित करने के लिए जीवाश्म में सबूत ढूंढते हैं, अगर पर्याप्त मात्रा में सबूत मिलते हैं तो इस हाइपोथेसिस को वैज्ञानिक सिद्धांत मान लिया जाता है, Paleontology  एक Historical science है.

can we make dinosaurs hindi, can we clone dinosaurs hindi, scientists creating dinosaurs hindi, is it possible to bring back dinosaurs to life hindi, living dinosaurs hindi, recreate dinosaur hindi

Paleontology hindi, Paleontology ki jankari, Paleontology kya hoti he, dinosaur ki study, science of study of dinosaur,


English translation

What is Paleontology?

Science of study of dinosaurs Paleontology science of study dinosaurs

The branch of science under which dinosaurs are studied is called Paleontology, which scientists work in the field of Paleontology, they are called paleontologists, these paleontologists study fossils to try to find out what the fossil belongs to. ? What kind of environment did this creature live in? And what information can we get from this fossil to the history of life on earth? The area of ​​paleontology is very detailed in it, the fossils of all types of organisms are studied, paleontologists study the fossils of all kinds of animals and tree plants found in the past in the Earth’s past, besides dinosaurs. How did the Paleontologist become? Many types of paleontologists are scientist, some of which study fossils of plants, study some fossils of some marine creatures; some study fossils of fading mammals, and some of these fossils of dinosaurs What do

Paleontology Studies Have to Say? What is Paleontology in hindi

Palontology, is an inclusive form of Geology and Biology, in the field of Paleontology, many more branches of science are used, such as computer animation and simulation through which the skeleton of the dinosaurs is fully rendered and their walking and Animation and simulation of the running behavior is made, in this work computer science is taken. All the branches of science are broadly divided into two parts Can be presented in an Historical science and second experimental science, under experimental science, to present the hypothesis to interpret the phenomena found in scientific nature and test these hypotheses through various experiments, if this hypothesis is proved correct So it gets recognition as a scientific theory. Scientists under Historical Science present a hypothesis hypothesis, and After this, the hypothesis is to find evidence in fossils to prove the truth, if there is sufficient evidence, then this hypothassis is considered a scientific theory, Paleontology is an Historical science. Paleontology hindi, Paleontology ki jankari, Paleontology kya he studied dinosaur science, science of study of dinosaur,


HInglish

palaiontology kya hautee hai?

daayanaasoron  ke adhyayan ka vigyaan palaiontology schiainchai of study dinosaurs   vigyaan kee vah shaakha jisake antargat daayanaasoron  ka adhyayan kiya jaata hai use palaiontology kahate hain, jo vaigyaanik palaiontology ke kshetr mein kaary karate hain unhen palaiontologists kahate hain,  yah palaiontologists jeevaashmon ka adhyayan kar yah pata lagaane kee koshish karate hain ki jeevaashm kis jeev ka hai? yah jeev kis prakaar ke vaataavaran mein rahata tha? tatha is jeevaashm se hamen prthvee par jeevan ke itihaas kee kya jaanakaaree mil sakatee hai? palaiontology ka kshetr bahut vistrt hai isamen sabhee prakaar ke jeevo ke jeevaashm ka adhyayan kiya jaata hai, palaiontologists daayanaasoron ke aalaava prthvee ke ateet mein pae jaane vaale sabhee prakaar ke jeev jantuon evan ped paudhon ke jeevaashmon ka adhyayan karate hain. palaiontologist  kaise bane? how to baichomai palaiontologists in hindikee prakaar ke palaiontologist  vaigyaanik hote hain jinamen se kuchh paudhon ke jeevaashm ka adhyayan karate hain kuchh samudree jeev ke jeevaashm ka adhyayan karate hain kuchh lupt ho chuke stanadhaaree praaniyon ke jeevaashm ka adhyayan karate hain tatha inamen se kuchh daayanaasoron ke jeevaashmon  ka adhyayan karate hain 

palaiontology kya hautee hai? what is palaiontology in hind

ipalaiontology, gaiology aur biology  ka sammilit roop hai , palaiontology ke kshetr mein kaee aur vigyaan kee shaakhaon ka upayog kiya jaata hai, jaise ki kampyootar eneemeshan aur simuleshan jisake dvaara daayanaasoron ke kankaal ko poorn roop diya jaata hai tatha unake chalane aur daudane ke vyavahaar ka  enimeshan aur simuleshan banaaya jaata hai, is kaary mein kampyootar vigyaan ka sahaara liya jaata hai.vigyaan ke sabhee shaakhaon ko mote taur par do bhaagon mein baanta ja sakata hai ek historichal schiainchai aur doosara aixpairimaintal schiainchai, aixpairimaintal schiainchai ke antargat vaigyaanik prakrti mein pae jaane vaale vaalee ghatanaon kee vyaakhya karane ke lie  parikalpana prastut karate hain tatha vibhin prayogon ke dvaara in parikalpanaon ko parakhate hain, yadi yah parikalpana sahee saabit hotee hai to ise vaigyaanik siddhaant ke roop mein maanyata mil jaatee hai.historichal schiainchai ke antargat vaigyaanik ek parikalpana hypothaisis prastut karate hain, tatha isake baad is parikalpana ko saty saabit karane ke lie jeevaashm mein saboot dhoondhate hain, agar paryaapt maatra mein saboot milate hain to is haipothesis ko vaigyaanik siddhaant maan liya jaata hai, palaiontology  ek historichal schiainchai hai.palaiontology hindi, palaiontology ki jankari, palaiontology ky hoti hai, dinosaur ki study, schiainchai of study of dinosaur,

दुनिया के महासागर Oceans of the world in hindi

Oceans of the world hindi, oceans ki jankari, oceans facts in hindi, essay on oceans of the world in hindi, hindi essay on oceans of the world, essay on indian ocean in hindi, essay on atlantic ocean, essay on pecific ocean, essay on arctic ocean, essay on southern ocean, पृथ्वी के महासागर, कितने महासागर, सबसे बड़ा महासागर, ओशियंस ऑफ़ द वर्ल्ड, ओशियंस, हिन्द महासागर, इन्डियन ओशियन,

Oceans of the world

There are five oceans in the world namely southern ocean, arctic ocean, pacific ocean, atlantic ocean and Indian ocean, Oceans of the world encompass 71% area of the earth, these oceans has 96.5%  water of earth. Life evolved in oceans of the world. All 5 Oceans of the world are connected to another oceans, water streams freely flows between oceans. Here we present information on Oceans of the world in hindi language for you.   

 दुनिया में कितने महासागर है how many oceans in the world

पृथ्वी की सतह का 71% हिस्सा महासागरों oceans से ढका हुआ है पृथ्वी के इन महासागरों में पृथ्वी पर पाए जाने वाले पानी की 96.5 प्रतिशत मात्रा है, शेष 3.5% पानी पृथ्वी पर ध्रुवीय बर्फ तथा पहाड़ों पर बर्फ,  नदियों और झीलों में पाया जाता है इसका कुछ हिस्सा पृथ्वी की सतह के नीचे भी पाया जाता है.

जीवन की उत्पत्ति पानी में ही हुई है थी, वैज्ञानिकों के अनुसार जीवन के प्रथम जीव की उत्पत्ति पृथ्वी के महासागर (Oceans of the world)  में ही हुई थी, पानी प्रत्येक जीव के लिए अत्यंत आवश्यक होता है, पृथ्वी पर  पाए जाने वाले महासागरों की वजह से ही पृथ्वी का रंग अंतरिक्ष से नीला दिखाई देता है.

पृथ्वी पर पाए जाने वाले महासागरों  Oceans of the world को पांच अलग-अलग महासागरों में बांटा गया है इस तरह पृथ्वी पर कुल 5  महासागर पाए जाते हैं, इनमें अटलांटिक महासागर आर्कटिक महासागर भारतीय महासागर पेसिफिक महासागर तथा दक्षिणी महासागर है. पृथ्वी के यह पांच महासागर आपस में मिले हुए हैं तथा इन का जल एक दूसरे में प्रवाहित होता रहता है, विभिन्न प्रकार की समुद्री धाराएं एक महासागर का जल दूसरे महासागर में ले जाती है.

पृथ्वी के इन पांच महासागरों की भोगोलिक स्थिति geographical location of Oceans of the world

पृथ्वी के इन पांच महासागरों Oceans of the world की भोगोलिक स्थिति को इस प्रकार समझा जा सकता है

पृथ्वी के महासागरों के मध्य में अंटार्कटिका महाद्वीप के आस पास पाए जाने वाले दक्षिणी महासागर को मान सकते हैं इस दक्षिणी महासागर के आसपास ही अन्य  3 महासागर पाए जाते हैं अटलांटिक महासागर, भारतीय महासागर, पेसिफिक महासागर को बहुत बड़ी खाड़ी के रूप में देखा जा सकता है, उत्तर में जाने पर अटलांटिक महासागर, आर्कटिक महासागर से मिल जाता है आगे जाकर उत्तरी ध्रुव महासागर आर्कटिक महासागर, तथा पेसिफिक महासागर से बेरिंग स्ट्रेट पर जाकर मिलता है,  नक्शे को देखकर आप पृथ्वी के महासागरों की स्थिति को आसानी से समझ सकते हैं

दुनिया के 5 महासागर की जानकारी 5 Oceans of the world

दक्षिणी महासागर Southern ocean –  

Oceans of the world hindi, oceans ki jankari, oceans facts in hindi, essay on oceans of the world in hindi, hindi essay on oceans of the world, essay on indian ocean in hindi, essay on atlantic ocean, essay on pecific ocean, essay on arctic ocean, essay on southern ocean, पृथ्वी के महासागर, कितने महासागर, सबसे बड़ा महासागर, ओशियंस ऑफ़ द वर्ल्ड, ओशियंस, हिन्द महासागर, इन्डियन ओशियन,

दक्षिणी महासागर वह महासागर है जिसने अंटार्कटिका महाद्वीप को चारों ओर से घेर रखा है, दक्षिणी महासागर 60 डिग्री दक्षिणी अक्षांश रेखा के उस और पाया जाता है,  दक्षिणी महासागर का बहुत सा हिस्सा बर्फ के रूप में जमा हुआ है, मौसम के अनुसार यह बर्फ पिघलता और पुनः जमता रहता है, आकार के हिसाब से दक्षिणी महासागर का स्थान पांचो पृथ्वी के महासागरों में चौथे नंबर पर है.

अटलांटिक  महासागर Atlantic Ocean

Oceans of the world hindi, oceans ki jankari, oceans facts in hindi, essay on oceans of the world in hindi, hindi essay on oceans of the world, essay on indian ocean in hindi, essay on atlantic ocean, essay on pecific ocean, essay on arctic ocean, essay on southern ocean, पृथ्वी के महासागर, कितने महासागर, सबसे बड़ा महासागर, ओशियंस ऑफ़ द वर्ल्ड, ओशियंस, हिन्द महासागर, इन्डियन ओशियन,

अटलांटिक महासागर विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महासागर है यह दक्षिणी महासागर से शुरू होकर  दक्षिणी अमेरिका और अफ्रीका उत्तरी अमेरिका और यूरोप के मध्य में स्थित है, अटलांटिक महासागर अफ्रीका के दक्षिणी हिस्से में भारतीय महासागर से Cape Agulhas में जाकर मिलता है.

भारतीय महासागर Indian Ocean–  

भारतीय महासागर दक्षिणी महासागर से शुरू हो कर उतरी दिशा में भारत तक फैला हुआ है, भारतीय महासागर पश्चिम में आस्ट्रेलिया के पास पेसिफिक महासागर से जाकर मिलता है.

भारत के दक्षिण में एक विशाल महासागर भारत को घेरे हुए हैं, जिसे हम हिंद महासागर कहते हैं, हिंद महासागर विश्व का तीसरा सबसे बड़ा महासागर है इसका क्षेत्रफल 70560000 स्क्वायर किलोमीटर है पश्चिम में यह अफ्रिका के तट  तक फैला हुआ है तथा पूर्व में यह ऑस्ट्रेलिया तक जाता है, हिंद महासागर के पश्चिम में अरेबियन सागर है, दक्षिण पश्चिम में लक्ष्यदीप सागर है तथा पूर्व में बंगाल की खाड़ी स्थित है.बंगाल की खाड़ी अरेबियन सागर फारस की खाड़ी लाल सागर यह सभी भारतीय महासागर का हिस्सा है. भारत का भूगोल 

पेसिफिक महासागर Pecific Ocean-  

पेसिफिक महासागर सबसे बड़ा महासागर है यह दक्षिणी महासागर से शुरू होकर उत्तरी आर्कटिक महासागर तक फैला हुआ है, ऑस्ट्रेलिया  और एशिया तथा उत्तरी अमेरिका तथा Oceania के बीच के हिस्से में पेसिफिक महासागर मौजूद है. पेसिफिक महासागर अटलांटिक महासागर से दक्षिण अमेरिका के कैप हार्न में जाकर मिलता है.

आर्कटिक महासागर Arctic Ocean-

Oceans of the world hindi, oceans ki jankari, oceans facts in hindi, essay on oceans of the world in hindi, hindi essay on oceans of the world, essay on indian ocean in hindi, essay on atlantic ocean, essay on pecific ocean, essay on arctic ocean, essay on southern ocean, पृथ्वी के महासागर, कितने महासागर, सबसे बड़ा महासागर, ओशियंस ऑफ़ द वर्ल्ड, ओशियंस, हिन्द महासागर, इन्डियन ओशियन,

आर्कटिक महासागर सभी महासागरों में सबसे छोटा है यह उत्तरी ध्रुव के चारों ओर फैला हुआ है, यह ग्रीन लैंड और आइस लैंड के पास  अटलांटिक महासागर से जाकर मिलता है, आर्कटिक महासागर का कुछ हिस्सा बर्फ के रूप में जमा हुआ रहता है, बर्फ का जमा हुआ यह हिस्सा आकार में  मौसम के अनुसार बढ़ता और घटता रहता है, आर्कटिक महासागर का बहुत कम हिस्सा दूसरे महासागरों से मिलता है इसलिए कभी-कभी इसे महासागर ना मानते हुए एक सागर की संज्ञा दी जाती है क्योंकि  यह लगभग चारों ओर से भूमि से घिरा हुआ है.

Oceans of the world के बारे में आप यू TUBE पर यह ज्ञान वर्थक वीडियो देख सकते है, 

 

 

tags – Oceans of the world hindi, oceans ki jankari, oceans facts in hindi, essay on oceans of the world in hindi, hindi essay on oceans of the world, essay on indian ocean in hindi, essay on atlantic ocean, essay on pecific ocean, essay on arctic ocean, essay on southern ocean, पृथ्वी के महासागर, कितने महासागर, सबसे बड़ा महासागर, ओशियंस ऑफ़ द वर्ल्ड, ओशियंस, हिन्द महासागर, इन्डियन ओशियन,


English translation

Ocean oceans of the world in hindi

Oceans of the world
There are five oceans in the world namely southern ocean, arctic ocean, pacific ocean, atlantic ocean and Indian ocean, oceans of the world encompass 71% area of ​​the earth, these oceans have 96.5% water of water. Life evolved in oceans of the world All 5 Oceans of the world are connected to another oceans, water streams freely flows between oceans. Here we present information on Oceans of the world in hindi

How many oceans in the world are

71% of the surface of the Earth is covered with oceans oceans; In these oceans of earth, 96.5% of the water found on Earth, the remaining 3.5% water is found in polar ice on the earth and snow, rivers and lakes on the mountains. Some part of it is also found under the surface of the Earth. According to the scientists, the origin of life was born in the water of the Earth (Ocea ns of the world), water is essential for every organism, due to the oceans found on Earth, the color of the earth is only visible to the blue. The oceans of the oceans found on Earth are divided into five separate oceans, in this way there are 5 oceans on Earth, in them the Atlantic Ocean is the Indian Ocean Pacific Ocean and the Southern Ocean. These five oceans of the earth are interconnected and their water flows in one another, different types of sea currents take the waters of an ocean into another ocean. The geographical location of these five oceans of the earth is geographical location of Oceans of the world The geographical position of these five oceans of the oceans of the world can be understood in this way: around the Antarctica continent in the middle of the Earth’s oceans The southern ocean can be believed that the other 3 oceans are found around this southern ocean, the Atlantic Ocean, the Indian Ocean, the Pacific Ocean can be seen as a very large gulf, the Atlantic Ocean, Arctic Ocean Going forward, the North Pole Ocean meets the Arctic Ocean, and the Pacific Ocean from the Bering Strait, see the map And you can easily understand the situation of the oceans of Earth

5 ocean information of the world 5 Oceans of the world

Southern Ocean South ocean – The southern ocean is the ocean which surrounds Antarctica’s continent, the southern ocean is found that it is 60 degrees south latitude, much of the southern ocean is deposited in the form of ice, weather According to this, the ice melts and retains, according to the size, the location of the southern ocean is at the fifth place in the Earth’s oceans. At the end The Atlantic Ocean – the Atlantic Ocean is the second largest ocean in the world, starting from the southern ocean, in southern America and Africa, in the middle of North America and Europe, the Atlantic Ocean meets the Indian Ocean in Cape Agulhas in the southern part of Africa. Indian Ocean Indian Ocean – Indian Ocean extends from the Southern Ocean and extends to India in the direction of direction, Indian Maha And in the west, it is found near the Pacific Ocean by visiting Australia. A vast ocean in India is surrounded by India, which we call the Indian Ocean, the Indian Ocean is the third largest ocean in the world, its area is 70560000 square kilometers, in the west It extends to the coast of Africa and in the east it goes to Australia, on the west side of the Indian Ocean, the Arabian Sea, southwest In Lakshadweep Sea and in the Bay of Bengal in the east Hakbangal Gulf Arabian Sea, Persian Gulf, the Red Sea is part of the Indian Ocean. Geography of India Pacific Ocean Pecific Ocean – The Pacific Ocean is the largest ocean, starting from the southern ocean, extending to the North Arctic Ocean, Pacific Ocean is present in Australia and parts of Asia and North America and Oceania. The Pacific Ocean meets the Atlantic Ocean in South America’s Cap Horn. Arctic Ocean Arctic Ocean – The Arctic Ocean is the smallest of all the oceans, it spreads around the North Pole, going through the Atlantic Ocean near the Green Land and Ice Land It is found that some part of the Arctic Ocean remains accumulated in the form of ice, the amount of ice accumulated in the shape increases and decreases according to the season. A small part of the Arctic Ocean meets with other oceans, so sometimes it is not considered an ocean, it is said to be called a sea because it is surrounded by land from almost all the oceans of the world. You can watch this knowledge Worthak video on U TUBE, tags – Oceans of the world hindi, oceans ki jankari, oceans facts in hindi, essay on oceans of the world in hindi, hindi essay on oceans of the world, essay on indian ocean in hindi, essay on atlantic ocean, essay on pecific ocean, essay on arctic ocean, essay on southern ocean, ocean of earth, how many Ocean, the largest ocean, Oceans of the World, Oceans, Indian Ocean, Indian Ocean,


Hinglish

duniya ke mahaasaagar in hindi ochaians of thai world thairai arai fivai ochaians in thai world namaily southairn ochaian, archtich ochaian, pachifich ochaian, atlantich ochaian and indian ochaian, ochaians of thai world ainchompass 71% arai of thai aiarth, thaisai ochaians has 96.5%  watair of aiarth. lifai aivolvaid in ochaians of thai world. all 5 ochaians of thai world arai chonnaichtaid to anothair ochaians, watair straiams fraiaily flows baitwaiain ochaians. hairai wai praisaint information on ochaians of thai world in hindi languagai for you.     duniya mein kitane mahaasaagar hai how many ochaians in thai world prthvee kee satah ka 71% hissa mahaasaagaron ochaians se dhaka hua hai prthvee ke in mahaasaagaron mein prthvee par pae jaane vaale paanee kee 96.5 pratishat maatra hai, shesh 3.5% paanee prthvee par dhruveey barph tatha pahaadon par barph,  nadiyon aur jheelon mein paaya jaata hai isaka kuchh hissa prthvee kee satah ke neeche bhee paaya jaata hai.jeevan kee utpatti paanee mein hee huee hai thee, vaigyaanikon ke anusaar jeevan ke pratham jeev kee utpatti prthvee ke mahaasaagar (ochaians of thai world)  mein hee huee thee, paanee pratyek jeev ke lie atyant aavashyak hota hai, prthvee par  pae jaane vaale mahaasaagaron kee vajah se hee prthvee ka rang antariksh se neela dikhaee deta hai. prthvee par pae jaane vaale mahaasaagaron  ochaians of thai world ko paanch alag-alag mahaasaagaron mein baanta gaya hai is tarah prthvee par kul 5  mahaasaagar pae jaate hain, inamen atalaantik mahaasaagar aarkatik mahaasaagar bhaarateey mahaasaagar pesiphik mahaasaagar tatha dakshinee mahaasaagar hai. prthvee ke yah paanch mahaasaagar aapas mein mile hue hain tatha in ka jal ek doosare mein pravaahit hota rahata hai, vibhinn prakaar kee samudree dhaaraen ek mahaasaagar ka jal doosare mahaasaagar mein le jaatee hai.prthvee ke in paanch mahaasaagaron kee bhogolik sthiti gaiographichal lochation of ochaians of thai worldprthvee ke in paanch mahaasaagaron ochaians of thai world kee bhogolik sthiti ko is prakaar samajha ja sakata haiprthvee ke mahaasaagaron ke madhy mein antaarkatika mahaadveep ke aas paas pae jaane vaale dakshinee mahaasaagar ko maan sakate hain is dakshinee mahaasaagar ke aasapaas hee any  3 mahaasaagar pae jaate hain atalaantik mahaasaagar, bhaarateey mahaasaagar, pesiphik mahaasaagar ko bahut badee khaadee ke roop mein dekha ja sakata hai, uttar mein jaane par atalaantik mahaasaagar, aarkatik mahaasaagar se mil jaata hai aage jaakar uttaree dhruv mahaasaagar aarkatik mahaasaagar, tatha pesiphik mahaasaagar se bering stret par jaakar milata hai,  nakshe ko dekhakar aap prthvee ke mahaasaagaron kee sthiti ko aasaanee se samajh sakate hain

duniya ke 5 mahaasaagar kee jaanakaaree 

dakshinee mahaasaagar southairn ochaian –  dakshinee mahaasaagar vah mahaasaagar hai jisane antaarkatika mahaadveep ko chaaron or se gher rakha hai, dakshinee mahaasaagar 60 digree dakshinee akshaansh rekha ke us aur paaya jaata hai,  dakshinee mahaasaagar ka bahut sa hissa barph ke roop mein jama hua hai, mausam ke anusaar yah barph pighalata aur punah jamata rahata hai, aakaar ke hisaab se dakshinee mahaasaagar ka sthaan paancho prthvee ke mahaasaagaron mein chauthe nambar par hai.atalaantik  mahaasaagar atlantich ochaian – atalaantik mahaasaagar vishv ka doosara sabase bada mahaasaagar hai yah dakshinee mahaasaagar se shuroo hokar  dakshinee amerika aur aphreeka uttaree amerika aur yoorop ke madhy mein sthit hai, atalaantik mahaasaagar aphreeka ke dakshinee hisse mein bhaarateey mahaasaagar se chapai agulhas mein jaakar milata hai.bhaarateey mahaasaagar indian ochaian-  bhaarateey mahaasaagar dakshinee mahaasaagar se shuroo ho kar utaree disha mein bhaarat tak phaila hua hai, bhaarateey mahaasaagar pashchim mein aastreliya ke paas pesiphik mahaasaagar se jaakar milata hai.bhaarat ke dakshin mein ek vishaal mahaasaagar bhaarat ko ghere hue hain, jise ham hind mahaasaagar kahate hain, hind mahaasaagar vishv ka teesara sabase bada mahaasaagar hai isaka kshetraphal 70560000 skvaayar kilomeetar hai pashchim mein yah aphrika ke tat  tak phaila hua hai tatha poorv mein yah ostreliya tak jaata hai, hind mahaasaagar ke pashchim mein arebiyan saagar hai, dakshin pashchim mein lakshyadeep saagar hai tatha poorv mein bangaal kee khaadee sthit hai.bangaal kee khaadee arebiyan saagar phaaras kee khaadee laal saagar yah sabhee bhaarateey mahaasaagar ka hissa hai. bhaarat ka bhoogol pesiphik mahaasaagar paichifich ochaian-  pesiphik mahaasaagar sabase bada mahaasaagar hai yah dakshinee mahaasaagar se shuroo hokar uttaree aarkatik mahaasaagar tak phaila hua hai, ostreliya  aur eshiya tatha uttaree amerika tatha ochaiani ke beech ke hisse mein pesiphik mahaasaagar maujood hai. pesiphik mahaasaagar atalaantik mahaasaagar se dakshin amerika ke kaip haarn mein jaakar milata hai.aarkatik mahaasaagar archtich ochaian-aarkatik mahaasaagar sabhee mahaasaagaron mein sabase chhota hai yah uttaree dhruv ke chaaron or phaila hua hai, yah green laind aur aais laind ke paas  atalaantik mahaasaagar se jaakar milata hai, aarkatik mahaasaagar ka kuchh hissa barph ke roop mein jama hua rahata hai, barph ka jama hua yah hissa aakaar mein  mausam ke anusaar badhata aur ghatata rahata hai, aarkatik mahaasaagar ka bahut kam hissa doosare mahaasaagaron se milata hai isalie kabhee-kabhee ise mahaasaagar na maanate hue ek saagar kee sangya dee jaatee hai kyonki  yah lagabhag chaaron or se bhoomi se ghira hua hai.ochaians of thai world ke baare mein aap yoo tubai par yah gyaan varthak veediyo dekh sakate hai, tags – ochaians of thai world hindi, ochaians ki jankari, ochaians fachts in hindi, aissay on ochaians of thai world in hindi, hindi aissay on ochaians of thai world, aissay on indian ochaian in hindi, aissay on atlantich ochaian, aissay on paichifich ochaian, aissay on archtich ochaian, aissay on southairn ochaian, prthvee ke mahaasaagar, kitane mahaasaagar, sabase bada mahaasaagar, oshiyans of da varld, oshiyans, hind mahaasaagar, indiyan oshiyan,

सौर मंडल के ग्रह कैसे बने हैं How planets are formed in hindi

ग्रह कैसे बने हैं How planets are formed

Why planets are there in outer space?, Why there are planets in our solar system, How planets are formed ?

क्या आपने कभी सोचा है कि हमारे सौरमंडल में ग्रह क्यों है, यह ग्रह सूर्य का चक्कर क्यों लगाते हैं, सौरमंडल के ग्रहों और उपग्रहों का निर्माण कैसे हुआ है? आइए इन रोचक प्रश्नों का उत्तर जानने  का प्रयत्न करते हैं कि हमारे सौरमंडल में ग्रह कहां से आए हैं, हमारे सौर मंडल के बहुत दूर स्थित तारों के आसपास बाहरी अंतरिक्ष में भी वैज्ञानिकों ने ग्रहों की खोज की है, ऐसा प्रतीत होता है कि ऐसी कोई प्रक्रिया है जो कि तारों के आसपास ग्रहों का निर्माण करती है.

बाहरी अंतरिक्ष में भी ग्रह दिखाई दिए हैं

सैकड़ों सालों से खगोल वैज्ञानिक और दार्शनिक  इस प्रश्न का उत्तर खोजते रहे हैं कि हमारे सौरमंडल में ग्रह कहां से आए हैं, जैसे जैसे हमारे टेलीस्कोप और तकनीक विकसित होते गए हमें अपने सौरमंडल के बारे में ज्यादा से ज्यादा ज्ञान और जानकारी प्राप्त होती गई, यह प्रक्रिया अभी भी चल रही है हमें ग्रहों और उपग्रहों के बारे में रोज नई जानकारियां प्राप्त होती हैं,  पंरतु वर्तमान पर्यवेक्षण से हम केवल ग्रहों और उपग्रहों की वर्तमान स्थिति के बारे में जान सकते हैं हम यह नहीं जान सकते की है अतीत में ग्रह कैसे बने थे ? बड़ी पहेली को हल करने में हबल स्पेस टेलीस्कोप वैज्ञानिकों की मदद कर रहा है, इस अंतरिक्ष टेलीस्कोप से वैज्ञानिक बहुत दूर-दूर के तारों को देख सकते हैं, वैज्ञानिकों ने ऐसी कई नेबुला हबल स्पेस टेलीस्कोप से देखि है  जहां पर तारों और ग्रहों का निर्माण हो रहा है

ग्रहों के निर्माण की प्रक्रिया planet formation in hindi

वैज्ञानिकों के अनुसार जब देश का एक बहुत बड़ा बादल अपने ही आकर्षण के प्रभाव से सिकुड़ने लगता है तब  एक तारे और ग्रहों का निर्माण होता है, इस गैस के सिकुड़ते बड़े गोले को नेबुला कहते हैं, गुरुत्वाकर्षण के कारण जब इसके केंद्र में पदार्थ इकट्ठा होने लगता है तो यह बहुत सघन और गर्म हो जाता है,  धीरे-धीरे यह केंद्र बड़ा होकर एक नए तारे का बन जाता है.

गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से जब गैसें केंद्र की और गिरती है तो यह बादल घूमने लगता है, जब यह बादल बहुत घना हो जाता है तो उसके घूमने की गति बहुत तेज हो जाती है जिससे कि यह बादल चपता होकर एक डिस्क का आकार ले लेता है, इस डिस्क को  circumstellar और protoplanetary नाम दिया गया है, यही ग्रहों की जन्म भूमि है.

इस डिस्क में पाया जाने वाला पदार्थ आपस में जुड़कर छोटे छोटे पत्थर और चट्टाने बना लेता है, धीरे-धीरे ये छोटे छोटे पत्थर आपस में जुड़कर बड़े पिंड बना लेते हैं, ये बड़े पिंड अपने आसपास के पदार्थ को आकर्षित करते हुए और बड़े होते जाते हैं इन द्रव्यमान पिंडो को  planetesimals कहा जाता है, इन्ही से ग्रह बनते हैं.

इस डिस्क के आंतरिक हिस्से की गैस को केंद्र में स्थित तारे द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है इस तरह केवल चट्टाने और पत्थर ही बचते हैं, इस डिस्क  के बाहरी हिस्से में गैसें और बर्फ मौजूद होता है क्योंकि यह तारे से बहुत दूरी पर होते हैं इसलिए जय गुरुत्वाकर्षण के कारण तारे में नहीं गिरते है,  यही कारण है कि केंद्र में स्थित तारे के आसपास चट्टानी ग्रह पाए जाते हैं जबकि तारे से दूर गैसीय ग्रह और बर्फीले ग्रह पाए जाते हैं.

केंद्र में स्थित तारे के आसपास से चट्टानी planetesimals  पिंड बनते हैं ये पिंड आपस में टकराते रहते हैं तथा बिखर जाते हैं जब यह बड़े पिंड धीमी गति से एक दूसरे के नजदीक आते हैं तो गुरुत्वाकर्षण के कारण जुड़कर  एक बड़ा पिंड बना लेते हैं यह प्रक्रिया लगातार चलती रहती है इस प्रकार करोड़ों सालों में ग्रहों का निर्माण होता है,

ये ग्रह अपने परिक्रमा पथ से गुजरने वाले छोटे-मोटे पत्थरों और चट्टानों को गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव से दूर फेंक देते हैं तथा कई चट्टानें तथा पत्थर ग्रह पर गिरकर उसमें समा जाते हैं.

इस तरह देखते हैं कि ग्रहों का निर्माण किस प्रकार हुआ है,  हमारे सौरमंडल में पाए जाने वाले हैं ग्रह और उपग्रह कहां से आए हैं वास्तव में इनके बनने में अरबों वर्षों का समय लगा है.

बाहरी अंतरिक्ष में ग्रह क्यों पाए जाते हैं why there is planets in outer space?

वैज्ञानिकों ने जब दूसरे तारों का अध्ययन किया तो उन तारों के आसपास भी उन्हें ग्रह और उपग्रह दिखाई दिए हैं, वास्तव में ग्रह बनने की प्रक्रिया हर तारे पर घटित होती है नेबुला के घूमते  हुए बादल से केंद्र में एक तारा बनता है इसके आसपास कई ग्रहों का निर्माण होता है यही कारण है कि वैज्ञानिकों को बाहरी अंतरिक्ष में भी ग्रह दिखाई दिए हैं.

How planets formed in hindi, grah kese bane, antriksh me grah kyon, grahon ka nirman, planets in solar system hindi, sury kese bana, taro ka nirman, 


English translation

How the planets are formed in the solar system

How are the planets formed? How the planets are formedWhy are the planets are there in outer space ?, Why are the planets in our solar system, How the planets formation?

Have you ever wondered why there is a planet in our solar system, why do these planets revolve around the Sun, how are solar planets and satellites built? Let’s try to find out the answers to these interesting questions that the planets have come from our solar system, scientists have discovered planets in outer space around the very distant stars of our solar system, it appears that such a person It is the process that creates planets around the stars. Planets have also been seen in outer space. For hundreds of years astronomical and philosophical Looking for answers to the question of where the planets in our solar system have come from, as our telescope and techniques evolved, we got more knowledge and information about our solar system, this process is still going on. And daily updates about satellites are obtained, but with current supervision, we only discuss the current state of planets and satellites. We can not know how the planets were made in the past? The Hubble Space Telescope is helping the scientists to solve the bigger puzzles, scientists from this space telescope can see far-off stars, scientists have seen such a number of nebulae with the Hubble Space Telescope, where the construction of stars and planets According to scientists, when a very large cloud of the country starts to shrink with the influence of its own attraction Then a star and planets are formed, the large shell shrinking this gas is called a nebula, due to gravity, when the substance is gathered in its center, it becomes very dense and warm, gradually the center Grows up to become a new star. With the influence of gravity, when the gases fall further, the cloud begins to rotate, when the cloud becomes very dense, the speed of its roaming flows The heat gets accelerated so that the cloud meets the size of a disk, this disk has been named a circumstellallar and protoplanetary, it is the birthplace of the planets. The substances found in this disc make small stones and rocks by joining them, slowly these small tiny stones join together and make bigger objects, these large bodies attract more and attract the material around them. These mass bodies are called planetesimals, they form the planets. The gas of the interior portion of this disk is absorbed by the star located in the center. Living remains only rocky and rocky, gases and ice are present in the outer part of this disk because they are very far from the stars, so Jai does not fall in the stars due to gravity, this is the reason that the star in the center Rocky planets are found nearby, while gaseous planets and icy planets are found away from the stars. The rocky planetesimals are formed from around the star in the center. The disks collide and collapse when these large bodies come closer to each other at slow pace, then join the cause of gravity to form a larger body. This process continues continuously, thus creating planets in millions of years. , These planets throw away the small stones and rocks passing through their orbiting paths from the effects of gravity and many rocks and p Tithar falls down on the planet and gets absorbed in it. Let’s see how the planets have been formed, where are the planets and the satellites found in our solar system, in fact they have taken billions of years to build. Why are the planets in outer space found? Why is there planetes in outer space? When the scientists studied the other stars, they have also seen planets and satellites around those stars, in fact, the process of forming a planet occurs on every star. From the roaring cloud of the nebula, a star is formed at the center, many planets around it This is the reason why scientists have also seen the planets in outer space. How the planets formed in Hindi, grah kese bane, antriksh me grah kyon, grahon ka neirman, planetes in solar system hindi, sury kese bana, taro ka nir man,


Hinglish

saur mandal ke grah kaise bane hain how planaits arai formaid in hindi

grah kaise bane hain how planaits arai formaidwhy planaits arai thairai in outair spachai?, why thairai arai planaits in our solar systaim, how planaits arai formaid ? kya aapane kabhee socha hai ki hamaare sauramandal mein grah kyon hai, yah grah soory ka chakkar kyon lagaate hain, sauramandal ke grahon aur upagrahon ka nirmaan kaise hua hai? aaie in rochak prashnon ka uttar jaanane  ka prayatn karate hain ki hamaare sauramandal mein grah kahaan se aae hain, hamaare saur mandal ke bahut door sthit taaron ke aasapaas baaharee antariksh mein bhee vaigyaanikon ne grahon kee khoj kee hai, aisa prateet hota hai ki aisee koee prakriya hai jo ki taaron ke aasapaas grahon ka nirmaan karatee hai.baaharee antariksh mein bhee grah dikhaee die hainsaikadon saalon se khagol vaigyaanik aur daarshanik  is prashn ka uttar khojate rahe hain ki hamaare sauramandal mein grah kahaan se aae hain, jaise jaise hamaare teleeskop aur takaneek vikasit hote gae hamen apane sauramandal ke baare mein jyaada se jyaada gyaan aur jaanakaaree praapt hotee gaee, yah prakriya abhee bhee chal rahee hai hamen grahon aur upagrahon ke baare mein roj naee jaanakaariyaan praapt hotee hain,  panratu vartamaan paryavekshan se ham keval grahon aur upagrahon kee vartamaan sthiti ke baare mein jaan sakate hain ham yah nahin jaan sakate kee hai ateet mein grah kaise bane the ? badee pahelee ko hal karane mein habal spes teleeskop vaigyaanikon kee madad kar raha hai, is antariksh teleeskop se vaigyaanik bahut door-door ke taaron ko dekh sakate hain, vaigyaanikon ne aisee kaee nebula habal spes teleeskop se dekhi hai  jahaan par taaron aur grahon ka nirmaan ho raha hai grahon ke nirmaan kee prakriya planait formation in hindivaigyaanikon ke anusaar jab desh ka ek bahut bada baadal apane hee aakarshan ke prabhaav se sikudane lagata hai tab  ek taare aur grahon ka nirmaan hota hai, is gais ke sikudate bade gole ko nebula kahate hain, gurutvaakarshan ke kaaran jab isake kendr mein padaarth ikattha hone lagata hai to yah bahut saghan aur garm ho jaata hai,  dheere-dheere yah kendr bada hokar ek nae taare ka ban jaata hai.gurutvaakarshan ke prabhaav se jab gaisen kendr kee aur giratee hai to yah baadal ghoomane lagata hai, jab yah baadal bahut ghana ho jaata hai to usake ghoomane kee gati bahut tej ho jaatee hai jisase ki yah baadal chapata hokar ek disk ka aakaar le leta hai, is disk ko  chirchumstaillar aur protoplanaitary naam diya gaya hai, yahee grahon kee janm bhoomi hai. is disk mein paaya jaane vaala padaarth aapas mein judakar chhote chhote patthar aur chattaane bana leta hai, dheere-dheere ye chhote chhote patthar aapas mein judakar bade pind bana lete hain, ye bade pind apane aasapaas ke padaarth ko aakarshit karate hue aur bade hote jaate hain in dravyamaan pindo ko  planaitaisimals kaha jaata hai, inhee se grah banate hain.is disk ke aantarik hisse kee gais ko kendr mein sthit taare dvaara avashoshit kar liya jaata hai is tarah keval chattaane aur patthar hee bachate hain, is disk  ke baaharee hisse mein gaisen aur barph maujood hota hai kyonki yah taare se bahut dooree par hote hain isalie jay gurutvaakarshan ke kaaran taare mein nahin girate hai,  yahee kaaran hai ki kendr mein sthit taare ke aasapaas chattaanee grah pae jaate hain jabaki taare se door gaiseey grah aur barpheele grah pae jaate hain.kendr mein sthit taare ke aasapaas se chattaanee planaitaisimals  pind banate hain ye pind aapas mein takaraate rahate hain tatha bikhar jaate hain jab yah bade pind dheemee gati se ek doosare ke najadeek aate hain to gurutvaakarshan ke kaaran judakar  ek bada pind bana lete hain yah prakriya lagaataar chalatee rahatee hai is prakaar karodon saalon mein grahon ka nirmaan hota hai,ye grah apane parikrama path se gujarane vaale chhote-mote pattharon aur chattaanon ko gurutvaakarshan ke prabhaav se door phenk dete hain tatha kaee chattaanen tatha patthar grah par girakar usamen sama jaate hain.is tarah dekhate hain ki grahon ka nirmaan kis prakaar hua hai,  hamaare sauramandal mein pae jaane vaale hain grah aur upagrah kahaan se aae hain vaastav mein inake banane mein arabon varshon ka samay laga hai. baaharee antariksh mein grah kyon pae jaate hain why thairai is planaits in outair spachai? vaigyaanikon ne jab doosare taaron ka adhyayan kiya to un taaron ke aasapaas bhee unhen grah aur upagrah dikhaee die hain, vaastav mein grah banane kee prakriya har taare par ghatit hotee hai nebula ke ghoomate  hue baadal se kendr mein ek taara banata hai isake aasapaas kaee grahon ka nirmaan hota hai yahee kaaran hai ki vaigyaanikon ko baaharee antariksh mein bhee grah dikhaee die hain.how planaits formaid in hindi, grah kaisai banai, antriksh mai grah kyon, grahon ka nirman, planaits in solar systaim hindi, sury kaisai ban, taro ka nirman,

कोलंबिया के अन्तरिक्ष यात्रियों के साथ अंतिम समय में क्या हुआ था?

Columbia space shuttle in hindi, columbia kese, kalpana chawla disaster, essay on columbia disaster in hindi, columbia disaster in hindi

नासा का कोलंबिया स्पेस शटल दुर्घटनाग्रस्त  क्यों हो गया था? Why Columbia exploded

Nasa Columbia space shuttle disaster in hindi

कोलंबिया नासा का पहला स्पेस शटल था, इसने अपनी पहली उड़ान अप्रैल 1981 में भरी थी, नासा के इस स्पेस शटल ने कुल 27 मिशन सफलतापूर्वक पूरे किये थे  इसके बाद यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस स्पेस शटल के आखिरी मिशन में भारतीय मूल की अन्तरिक्ष यात्री कल्पना चावला भी थी, जो की इस मिशन के दौरान शहीद हो गयीं.

अपने 28 वे मिशन पर कोलंबिया स्पेस शटल ने  पृथ्वी से आखरी बार 16 जनवरी 2003 को उड़ान भरी इस मिशन का नाम STS-107 था, उस समय के सभी अंतरिक्ष अभियानों का मूल उद्देश्य इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को बनाना था परंतु इस मिशन का पूरा फोकस  अंतरिक्ष में कई तरह के वैज्ञानिक प्रयोग करना था.

कोलंबिया स्पेस शटल में कौन कौन मारा गया था who was  killed in columbia disaster

Columbia space shuttle in hindi, columbia kese, kalpana chawla disaster, essay on columbia disaster in hindi, columbia disaster in hindi

कोलंबिया स्पेस शटल में 7 सदस्य सात सदस्यों की टीम थी

Rick Husband, commander, Michael Anderson, payload commander; David Brown, mission specialist; Kalpana Chawla, mission specialist; Laurel Clark, mission specialist; William McCool, pilot; and Ilan Ramon, payload specialist

यह सभी एस्ट्रोनामर दो शिफ्ट में काम करते थे जिससे कि वैज्ञानिक प्रयोगों का कार्य 24 घंटे चलता रहता था, कोलंबिया स्पेस शटल की टीम ने कुल 80 वैज्ञानिक प्रयोग किए जिनमें की जीव विज्ञान पदार्थ विज्ञान तरल फिजिक्स आदि विषयों के प्रयोग किये गए थे इन अंतरिक्ष यात्रियों ने 16 दिन अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन में रहकर यह वैज्ञानिक प्रयोग किए.

कोलंबिया के बारे में पूर्व चेतावनी दी गयी थी

जब यह सात अंतरिक्ष यात्री स्पेस स्टेशन में रहकर अंतरिक्ष प्रयोग कर रहे थे तो  नासा ने अपने वीडियो अध्ययन में यह पाया कि फोम का एक टुकड़ा कोलंबिया स्पेस शटल के बाय पंख से टकराया था, फोम का यह टुकड़ा लॉन्च के 82 सेकंड बाद बाएं पंख से टकराया था, नासा के अंतर्गत विभिन्न वैज्ञानिकों और दूसरी संस्थाओं ने नासा के उच्चाधिकारियों को  स्पेस में स्थित कोलंबिया स्पेस शटल की और अधिक जांच करने के लिए सुझाव दिया परन्तु नासा के उच्च अधिकारियों ने इस सुझाव को रद्द कर दिया उन्होंने इसे महत्वपूर्ण नहीं समझा.

नासा का कोलंबिया स्पेस शटल कब  दुर्घटनाग्रस्त हुआ था when Columbia disaster happened?

Columbia space shuttle in hindi, columbia kese, kalpana chawla disaster, essay on columbia disaster in hindi, columbia disaster in hindi

1 फरवरी 2003 को नासा के कोलंबिया स्पेस शटल ने अपनी पूर्व निर्धारित वापसी की प्रक्रिया शुरू की इसे अमेरिका के कैनेडी स्पेस सेंटर में लौटना था,  लेकिन सुबह 9:00 बजे ही वैज्ञानिकों को अजीब रीडिंग्स मिलना शुरू हुई, कोलंबिया स्पेस शटल के बाएं पंख के सेंसर की रीडिंग गायब हो गई उसके कुछ सेकंड बाद ही स्पेस शटल के बाय टायर प्रेशर की रीडिंग्स भी दिखाई देना बंद हो गई.

जिस समय कोलंबिया स्पेस शटल अमेरिका के Dallas के ऊपर उड़ रहा था और उसकी गति ध्वनि कि गति से 18 गुना अधिक थी, इस समय कोलंबिया स्पेस शटल पृथ्वी से 61000 मीटर की ऊंचाई पर था, मिशन कंट्रोल पर स्थित वैज्ञानिकों ने  कोलंबिया के पायलट से बात करने की कोशिश की परन्तु वे नाकाम रहे हैं,कुछ ही सेकंड बाद कोलंबिया स्पेस शटल में विस्फोट हो गया और वह टुकड़े-टुकड़े होकर चारों और बिखर गया, साथ ही उस में स्थित सभी अंतरिक्ष यात्री मारे गए

कोलंबिया स्पेस शटल की दुर्घटना का कारण क्या था Reason of  Columbia disaster

बाद में किये गए अध्यन  में है पता चला कि कोलंबिया स्पेस शटल के बाएं पंख में एक छोटा सा छेद हो गया था जिसकी वजह से वायुमंडल की गैसें स्पेस शटल के अंदर घुस गई जिससे कि स्पेस शटल में विस्फोट हो गया और सभी अंतरिक्ष यात्रियों का दुखद अंत हो गया.

कोलंबिया स्पेस शटल के टुकड़े लगभग 5000 स्क्वेयर किलोमीटर के क्षेत्र में बिखर गए थे इन टुकड़ों को खोजने में कई हफ्तों का समय लगा, नासा ने कुल 84000 टुकड़े प्राप्त किए, इनमें कुछ अंतरिक्ष यात्रियों के शरीर के हिस्से भी थे जिनकी डीएनए के द्वारा पहचान की गई.

सन 2008 में नासा ने एक रिपोर्ट में बताया कि कोलंबिया स्पेस शटल के अंत के दौरान अंतरिक्ष यात्रियों के साथ क्या हुआ था, इस रिपोर्ट के अनुसार जब कोलंबिया स्पेस शटल टूटा तब भी अंतरिक्ष यात्री जीवित थे,  जैसे ही स्पेस शटल का वायुदाब कम हुआ तो कुछ ही सेकंड के बाद सभी बेहोश हो गए, जब स्पेस शटल में विस्फोट हुआ तो सभी अंतरिक्ष यात्री यात्रियों का भी दुखद अंत हो गया.

Columbia space shuttle in hindi, columbia kese, kalpana chawla disaster, essay on columbia disaster in hindi, columbia disaster in hindi


What happened in the last time with the Colombian astronauts?

Why did NASA’s Columbia Space Shuttle crash? Columbia was NASA’s first space shuttle, it had its first flight in April 1981, NASA’s Space Shuttle had successfully completed 27 missions, after which it crashed. The last mission of this space shuttle was Kalpana Chawla, an Indian origin astronaut, who was martyred during this mission. On the 28th mission, the Columbia Space Shuttle lasted its mission on January 16, 2003, The STS-107 was the original purpose of all the space missions of that time, to make the International Space Station, but the focus of this mission was to use a variety of scientific experiments in space.

Who was killed in the Columbia Space Shuttle who was killed in Columbia disaster

Columbia was a member of seven members in the Space Shuttle, Rick Husband, commander, Michael Anderson, payload commander; David Brown, mission specialist; Kalpana Chawla, mission specialist; Laurel Clark, mission specialist; William McCool, pilot; and Ilan Ramon, payload specialist All these astronomers used to work in two shifts so that the work of scientific experiments lasted 24 hours, the Columbia Space Shuttle team conducted a total of 80 scientific experiments, including biological science, liquid physics, etc. These astronauts went to the International Space Station for 16 days and used scientific experiments. Earlier warnings about Colombia Yes, when these seven astronauts were using the space in space station, NASA found in their video study that a piece of foam had collided with the wings of the Columbia Space Shuttle, this piece of foam left 82 seconds after the launch In collision with feathers, various scientists and other institutions under NASA examined the NASA high commissioners for further investigating the Columbia Space Shuttle located in space. The suggested but NASA senior officials canceled the suggestion did not think it important.

When did NASA’s Columbia Space Shuttle crash when the Columbia disaster happened?

On 1 February 2003, NASA’s Columbia Space Shuttle began its pre-scheduled withdrawal process, it was to return to the Kennedy Space Center in the US, but at 9:00 am the scientists began to receive strange readings, the left wings of the Columbia Space Shuttle A few seconds after the sensor readings disappeared, the readings of the space shuttle bye-tire pressure stopped showing. The time when the Columbia Space Shuttle was flying over America’s Dallas and its speed was 18 times the speed of the sound, at that time the Columbia Space Shuttle was at an altitude of 61,000 meters from Earth, scientists at Mission Control spoke to the Colombian pilot. Tried to do but they have failed, within a few seconds after the Columbia Space Shuttle exploded and it split into pieces all around, as well as all the other Passengers were killed Triksh

What was the reason for the crash of the Columbia Space Shuttle? Reason of Columbia disaster

Later studies showed that there was a small hole in the left wing of the Columbia Space Shuttle, due to which the atmospheric gases penetrated inside the space shuttle, so that the space shuttle exploded and all the astronauts were tragic The end was ended. The fragments of the Collegia Space Shuttle were scattered in the area of ​​approximately 5000 square kilometers, it took several weeks to find these pieces, NASA totaled 84,000 pieces. Some of these astronauts had body parts, which were identified by DNA. In 2008, NASA reported in a report that what happened with astronauts during the end of the Columbia Space Shuttle, according to this report When the Space Shuttle broke down, the astronauts were still alive, as soon as the space shuttle stopped air, after a few seconds all became unconscious, when the space shuttle All the astronaut passengers became tragically endangered.

Columbia space shuttle in hindi, columbia kese, kalpana chawla disaster, essay on columbia disaster in hindi, columbia disaster in hindi


Hinglish article 

kolambiya ke antariksh yaatriyon ke saath antim samay mein kya hua tha?

naasa ka kolambiya spes shatal durghatanaagrast  kyon ho gaya tha? why cholumbi aixplodaidnas cholumbi spachai shuttlai disastair in hindikolambiya naasa ka pahala spes shatal tha, isane apanee pahalee udaan aprail 1981 mein bharee thee, naasa ke is spes shatal ne kul 27 mishan saphalataapoorvak poore kiye the  isake baad yah durghatanaagrast ho gaya. is spes shatal ke aakhiree mishan mein bhaarateey mool kee antariksh yaatree kalpana chaavala bhee thee, jo kee is mishan ke dauraan shaheed ho gayeen.apane 28 ve mishan par kolambiya spes shatal ne  prthvee se aakharee baar 16 janavaree 2003 ko udaan bharee is mishan ka naam sts-107 tha, us samay ke sabhee antariksh abhiyaanon ka mool uddeshy intaraneshanal spes steshan ko banaana tha parantu is mishan ka poora phokas  antariksh mein kaee tarah ke vaigyaanik prayog karana tha.

 

kolambiya spes shatal mein kaun kaun maara gaya tha who was  killaid in cholumbi disastair

kolambiya spes shatal mein 7 sadasy saat sadasyon kee teem thee richk husband, chommandair, michhaail andairson, payload chommandair; david brown, mission spaichialist; kalpan chhawl, mission spaichialist; laurail chlark, mission spaichialist; william mchchool, pilot; and ilan ramon, payload spaichialistyah sabhee estronaamar do shipht mein kaam karate the jisase ki vaigyaanik prayogon ka kaary 24 ghante chalata rahata tha, kolambiya spes shatal kee teem ne kul 80 vaigyaanik prayog kie jinamen kee jeev vigyaan padaarth vigyaan taral phijiks aadi vishayon ke prayog kiye gae the in antariksh yaatriyon ne 16 din antararaashtreey spes steshan mein rahakar yah vaigyaanik prayog kie.kolambiya ke baare mein poorv chetaavanee dee gayee thee jab yah saat antariksh yaatree spes steshan mein rahakar antariksh prayog kar rahe the to  naasa ne apane veediyo adhyayan mein yah paaya ki phom ka ek tukada kolambiya spes shatal ke baay pankh se takaraaya tha, phom ka yah tukada lonch ke 82 sekand baad baen pankh se takaraaya tha, naasa ke antargat vibhinn vaigyaanikon aur doosaree sansthaon ne naasa ke uchchaadhikaariyon ko  spes mein sthit kolambiya spes shatal kee aur adhik jaanch karane ke lie sujhaav diya parantu naasa ke uchch adhikaariyon ne is sujhaav ko radd kar diya unhonne ise mahatvapoorn nahin samajha.

naasa ka kolambiya spes shatal kab  durghatanaagrast hua tha whain cholumbi disastair happainaid?

1 pharavaree 2003 ko naasa ke kolambiya spes shatal ne apanee poorv nirdhaarit vaapasee kee prakriya shuroo kee ise amerika ke kainedee spes sentar mein lautana tha,  lekin subah 9:00 baje hee vaigyaanikon ko ajeeb reedings milana shuroo huee, kolambiya spes shatal ke baen pankh ke sensar kee reeding gaayab ho gaee usake kuchh sekand baad hee spes shatal ke baay taayar preshar kee reedings bhee dikhaee dena band ho gaee. jis samay kolambiya spes shatal amerika ke dallas ke oopar ud raha tha aur usakee gati dhvani ki gati se 18 guna adhik thee, is samay kolambiya spes shatal prthvee se 61000 meetar kee oonchaee par tha, mishan kantrol par sthit vaigyaanikon ne  kolambiya ke paayalat se baat karane kee koshish kee parantu ve naakaam rahe hain,kuchh hee sekand baad kolambiya spes shatal mein visphot ho gaya aur vah tukade-tukade hokar chaaron aur bikhar gaya, saath hee us mein sthit sabhee antariksh yaatree maare gae

kolambiya spes shatal kee durghatana ka kaaran kya tha raiason of  cholumbi disastair

baad mein kiye gae adhyan  mein hai pata chala ki kolambiya spes shatal ke baen pankh mein ek chhota sa chhed ho gaya tha jisakee vajah se vaayumandal kee gaisen spes shatal ke andar ghus gaee jisase ki spes shatal mein visphot ho gaya aur sabhee antariksh yaatriyon ka dukhad ant ho gaya.kolambiya spes shatal ke tukade lagabhag 5000 skveyar kilomeetar ke kshetr mein bikhar gae the in tukadon ko khojane mein kaee haphton ka samay laga, naasa ne kul 84000 tukade praapt kie, inamen kuchh antariksh yaatriyon ke shareer ke hisse bhee the jinakee deeene ke dvaara pahachaan kee gaee.san 2008 mein naasa ne ek riport mein bataaya ki kolambiya spes shatal ke ant ke dauraan antariksh yaatriyon ke saath kya hua tha, is riport ke anusaar jab kolambiya spes shatal toota tab bhee antariksh yaatree jeevit the,  jaise hee spes shatal ka vaayudaab kam hua to kuchh hee sekand ke baad sabhee behosh ho gae, jab spes shatal mein visphot hua to sabhee antariksh yaatree yaatriyon ka bhee dukhad ant ho gaya.cholumbi spachai shuttlai in hindi, cholumbi kaisai, kalpan chhawl disastair, aissay on cholumbi disastair in hindi, cholumbi disastair in hindi

आकाश का रंग बदलता क्यों रहता है why sky changes color in hindi

Aakash ka rang, aakash ka rang neela, aakash ka rang narangi, astronuts ko aakash ka rang, chandrma se aakash ka rang, subah aakash ka rang, sham ko aakash ka rang, barish ke baad aakash ka rang, color of sky in hindi,

आकाश का रंग color of sky in hindi

आकाश का रंग बदलता क्यों रहता है? सुबह के वक्त यह सुरमई, नारंगी, लाल तथा दिन के वक्त यह आकाशी, हल्का नीला तथा  शाम के वक्त आकाश का रंग पुनः सुरमई, नारंगी, गुलाबी-लाल हो जाता है, रात के समय आकाश का रंग पूरी तरह काला हो जाता है, ऐसा क्यों होता है, आकाश का रंग समय समय पर क्यों बदलता रहता है?

दरअसल नीला आकाश जो हम देखते हैं वह वास्तव में कोई ठोस वस्तु नहीं है, पृथ्वी  की सतह के ऊपर सेकड़ों किलोमीटर तक गैसों का एक वायुमंडल मौजूद है, यह वायुमंडल कई प्रकार की गैसों जैसे नाइट्रोजन, ऑक्सीजन, ऑर्गन, पानी की वाष्प और   धूल के कणों से मिलकर बना है. जब सूर्य का प्रकाश पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करता है तो यह गैसों के परमाणुओं, पानी के कणों और धूल के कणों से चारों और बिखर जाता है इसे परावर्तन की प्रक्रिया भी कहते हैं, इसी परावर्तन की प्रक्रिया के द्वारा हमें आकाश का अलग-अलग रंग दिखाई देता है.

आकाश के रंग का कारण क्या है?

सूर्य के प्रकाश  के दृश्य स्पेक्ट्रम में सात रंग पाए जाते हैं,  नीले रंग की वेवलेंग्थ सबसे कम होती है तथा इसकी फ्रिकवेंसी सबसे ज्यादा होती है, यही वजह है कि नीला रंग सबसे ज्यादा परिवर्तित होता है,  स्पेक्ट्रम के दूसरे सिरे पर लाल रंग होता है जिसकी वेवलेंथ सबसे लंबी होती है तथा frequncy सबसे छोटी होती है,

जब सूर्य आकाश में ऊंचाई पर स्थित होता है तो सूर्य की किरणें सभी और परावर्तित होती है जिससे कि हमें आकाश का रंग नीला दिखाई देता है, बारिश होने के बाद बादल छटने पर आकाश का रंग गहरा नीला दिखाई देता है क्योंकि तब वायुमंडल में पानी के कणों की मात्रा अधिक होती है यह पानी के कण गहरा नीला रंग अधिक परिवर्तित करते हैं इसलिए हमें बारिश के बाद आकाश का रंग गहरा नीला दिखाई देता है.

सुबह और शाम के वक्त अलग स्थिति होती है,  जब सूर्य क्षितिज के नजदीक होता है तो सूर्य की किरणों को हम तक पहुंचने में ज्यादा दूरी तय करनी पड़ती है (ज्यादा मात्रा में वायु से गुज़ारना पड़ता है),  नीले रंग के प्रकाश किरने ज्यादा परिवर्तित होती है इसीलिए यह हमारी आंखों तक पहुंचने के पहले काफी कम हो जाती है, इनकी वेवलेंथ कम होती है इसलिए यह देखने वाले तक कम पहुंचती है,  दूसरी और लाल रंग की वेवलेंथ लंबी होती है इसलिए हमें शाम के वक्त सुरमई नारंगी गुलाबी लाल रंग दिखाई देता है, समय-समय पर वायुमंडल में पानी के कणों धूल के कणों की मात्रा और विभिन्न गैसों की मात्रा बदलती रहती है इसलिए हमें सुबह और शाम के वक्त अलग-अलग रंग दिखाई देते हैं.

Aakash ka rang, aakash ka rang neela, aakash ka rang narangi, astronuts ko aakash ka rang, chandrma se aakash ka rang, subah aakash ka rang, sham ko aakash ka rang, barish ke baad aakash ka rang, color of sky in hindi,

अंतरिक्ष यात्री को आकाश का रंग काला क्यों दिखाई देता है.

अंतरिक्ष यात्रियों को  अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन में रहने वाले एस्ट्रोनॉट्स को आकाश का रंग पूरी तरह काला दिखाई देता है, इसका कारण यह है कि अंतरिक्ष में कोई भी वायुमंडल नहीं है, अतः सूर्य की किरने परिवर्तित नहीं होती है और सीधे दर्शक तक पहुंचती है इससे उन्हें केवल सूर्य ही दिखाई देता है, और आसपास के आकाश का रंग काला ही दिखाई देता है क्योंकि वहां से परावर्तित होकर कोई भी प्रकाश दर्शक तक नहीं पहुंचता है,  चंद्रमा पर से देखने पर भी दिन और रात दोनों ही समय आकाश का रंग काला ही दिखाई देता है इसका कारण भी यही है कि चंद्रमा पर कोई भी वायुमंडल मौजूद नहीं है.

Aakash ka rang, aakash ka rang neela, aakash ka rang narangi, astronuts ko aakash ka rang, chandrma se aakash ka rang, subah aakash ka rang, sham ko aakash ka rang, barish ke baad aakash ka rang, color of sky in hindi,

 

दुनिया में कितनी स्पेस एजेंसीज है? Space Agency in hindi

Space agency hindi, essay on space agency, how much isro speds hindi, isro ka bajat, isro ka kharcha, top space agency hindi, nasa and isro hindi, space agencies in hindi, space agency ki jankari

इसरो की तरह 72 स्पेस एजेंसीज है दुनिया में how many space agency in hindi

21 वी सदी  के दौरान दुनिया में खगोल विज्ञान के क्षेत्र में कई खोजें और कई बड़े  अंतरिक्ष अभियान पूरे किए गए, मनुष्य ना केवल चंद्रमा पर पहुंच गया बल्कि मनुष्य द्वारा बनाए गए स्पेस प्रोब सौरमंडल के बाहर तक पहुंच गए हैं, एस्ट्रोनॉमी और अंतरिक्ष खोज अभियान के क्षेत्र में विश्व की कई संस्थाएं प्रयासरत है, दुनिया के बड़े-बड़े वैज्ञानिक इन संस्थाओं में काम करते हैं,  वर्तमान समय में प्रत्येक देश के लिए आवश्यक हो गया है कि उसकी स्वयं की स्पेस एजेंसी अंतरिक्ष खोज संस्था हो, स्वयं के सैटेलाइट अंतरिक्ष में स्थापित करने से लेकर चंद्रमा और मंगल ग्रह पर खोज अभियानों को भेजने के लिए अंतरिक्ष संस्था स्पेस एजेंसी का होना बहुत आवश्यक है.

वर्तमान समय में कुल 72 देशों के पास स्वयं की स्पेस एजेंसी है इनमें से 14 के पास अर्ध प्रक्षेपण क्षमता है तथा केवल 6 स्पेस एजेंसी के पास पूर्ण प्रक्षेपण क्षमता है, यह संस्थाएं ऐसी है जो कि एक साथ कई उपग्रह अंतरिक्ष में स्थापित कर सकती हैं इनके पास  क्रायोजेनिक रॉकेट इंजन है तथा यह संस्थाएं बाहरी अंतरिक्ष में स्पेस प्रोब भी भेज सकती हैं, यह अत्यंत खुशी की बात है कि इन 6 संस्थाओं की लिस्ट में हमारे देश भारत की संस्था इसरो भी शामिल है.

Space agency hindi, essay on space agency, how much isro speds hindi, isro ka bajat, isro ka kharcha, top space agency hindi, nasa and isro hindi, space agencies in hindi, space agency ki jankari

विश्व की प्रमुख स्पेस एजेंसी top space agency in the world in hindi

पूर्ण क्षमता से लैस शिक्षा संस्थाएं इस प्रकार है

China National Space Administration (CNSA),

European Space Agency (ESA),

Indian Space Research Organization (ISRO),

Japan Aerospace Exploration Agency (JAXA),

National Aeronautics and Space Administration (NASA),

Russian Federal Space Agency (RFSA or Roscosmos)

अंतरिक्ष संस्थाओं का बजट इसरो का बजट isro budgest in hindi

Space agency hindi, essay on space agency, how much isro speds hindi, isro ka bajat, isro ka kharcha, top space agency hindi, nasa and isro hindi, space agencies in hindi, space agency ki jankari

प्रत्येक देश की सरकार द्वारा अंतरिक्ष संस्था को विभिन्न प्रकार के वैज्ञानिक अभियानों के लिए पूंजी की व्यवस्था की जाती है,  देश के सालाना बजट में से कुछ हिस्सा स्पेस एजेंसी के लिए भी रखा जाता है, आपने समाचारों में अक्सर सुना होगा कि अमेरिका की अंतरिक्ष संस्था नासा भी बजट की कमी की समस्या से जूझ रहा है नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नासा के बजट में भारी कटौती कर दी है ऐसे कई वैज्ञानिक अभियान रुक गएँ हैं नासा का अनुमानित बजट 19500 मिलियन डॉलर है, यूरोपियन स्पेस एजेंसी का अनुमानित बजट 6270 मिलियन डॉलर है, रूस की Roscosmos स्पेस एजेंसी का बजट 3200 मिलीयन डॉलर के आसपास है, फ्रांस की स्पेस एजेंसी CNES  का वार्षिक बजट $2600 मिलियन डॉलर, जर्मनी की स्पेस एजेंसी का वार्षिक बजट 25100 मिलियन डॉलर है, जापान की स्पेस एजेंसी का वार्षिक बजट 2000 मिलियन डॉलर है, इटली की स्पेस एजेंसी का वार्षिक बजट 1800 मिलियन डॉलर है, हमारे पड़ोसी देश चीन की स्पेस एजेंसी का वार्षिक बजट 1800 मिलियन डॉलर है

भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो का वार्षिक बजट 9093 करोड़ रुपये है अगर हम इस राशि को डॉलर में कन्वर्ट करें तो यह करीब 1256 मिलियन डॉलर होगी.

Space agency hindi, essay on space agency, how much isro speds hindi, isro ka bajat, isro ka kharcha, top space agency hindi, nasa and isro hindi, space agencies in hindi, space agency ki jankari

अंतरिक्ष में परमाणु ऊर्जा का उपयोग Nuclear energy in space

Nuclear engergy in space in hindi, hindi essay on nuclear energy in space, antriksh me parmanu urja, parmanu urja ka antriksh me upyog, parmanu urja rocket, nuclear energy rocket in hindi, space nuclear energy reactory hindi, mars colony in hindi, mangal grah par manav basti,

अन्तरिक्ष यान में परमाणु उर्जा का उपयोग

परमाणु ऊर्जा का उपयोग पृथ्वी पर बिजली उत्पादन के लिए किया जाता है कई देशों में परमाणु  रिएक्टर बिजली घर बनाए गए हैं, इन परमाणु रिएक्टर में परमाणु ऊर्जा का उपयोग कर भाप का निर्माण किया जाता है और इसके बाद इस भाप  से विद्युत ऊर्जा उत्पन्न की जाती है, परंपरागत इंधन को जलाकर बिजली बनाने की तुलना में परमाणु ऊर्जा का उपयोग करने से वातावरण में प्रदूषण नहीं होता साथ ही साथ से जंगलों का विनाश भी नहीं होता है,  क्या परमाणु ऊर्जा का उपयोग अंतरिक्ष विज्ञान में किया जा सकता है? क्या परमाणु ऊर्जा के द्वारा रॉकेट और अंतरिक्ष यान चलाए जा सकते हैं, क्या चंद्रमा पर जाने के लिए और मंगल पर मानव बस्तियां बसाने में हम परमाणु ऊर्जा का इस्तेमाल कर सकते हैं, वैज्ञानिकों ने इस दिशा में प्रयास काफी पहले से ही प्रारंभ कर दिया है. आइये इन प्रश्नों के जवाब पता करते हैं.

Nuclear engergy in space in hindi, hindi essay on nuclear energy in space, antriksh me parmanu urja, parmanu urja ka antriksh me upyog, parmanu urja rocket, nuclear energy rocket in hindi, space nuclear energy reactory hindi, mars colony in hindi, mangal grah par manav basti,

अंतरिक्ष में परमाणु ऊर्जा का उपयोग Use of Nuclear energy in space shuttle

अंतरिक्ष में परमाणु ऊर्जा का उपयोग वैज्ञानिकों ने प्रारंभ कर दिया है, अंतरिक्ष में परमाणु ऊर्जा का उपयोग दो प्रकार से किया जा सकता है, किसी रेडियो एक्टिव पदार्थ के स्वतः विघटन से प्राप्त परमाणु ऊर्जा का उपयोग तथा दूसरा किसी परमाणु विखंडन की प्रक्रिया द्वारा प्राप्त परमाणु ऊर्जा का उपयोग.

किसी रेडियोएक्टिव पदार्थ के विघटन  से प्राप्त होने वाली परमाणु ऊर्जा का उपयोग अंतरिक्ष में कई वर्षों से किया जा रहा है,  इसका उपयोग अंतरिक्ष में ऊर्जा प्राप्त करने के लिए तथा अंतरिक्ष में ऑब्जरवेशन करने के लिए दोनों ही प्रकार से हो रहा है.

अंतरिक्ष में ऑब्जरवेशन करने के लिए Mössbauer spectrometer का उपयोग किया जाता है यह एक radioisotope thermoelectric generator इसका इस्तेमाल कई स्पेस प्रोब्स में किया गया है, जो मनुष्य चंद्रमा पर गए थे उनके साथ भी यह यंत्र ले जाया गया था,

अन्तरिक्ष में परमाणु रिएक्टर Nuclear reactro in space

वैज्ञानिकों ने कई ऐसे छोटे परमाणु ऊर्जा से चलने वाले रिएक्टर बनाए हैं जोकि कृत्रिम उपग्रहों में उपयोग किए जाते हैं ऐसा ही एक परमाणु रिएक्टर TOPAZ nuclear reactor है, इस प्रकार के रिएक्टर में एक रेडियो एक्टिव पदार्थ में स्वतः विघटन से ऊष्मा प्राप्त की जाती है इसके जरिए कई दशकों तक ऊष्मा प्राप्त की जा सकती है, रूस ने  40 परमाणु ऊर्जा से चलने वाले उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़े हैं रूस का बनाया गया TOPAZ-II reactor 10 किलो वाट ऊर्जा उत्पन्न कर सकता है.

रूस के द्वारा ही बनाया गया Romashka reactor यूरेनियम के विघटन से ऊर्जा प्राप्त कर सीधे ही विद्युत उत्पादन कर सकता है जहां दूसरे रिएक्टर में  पहले भाप बनाई जाती है जिससे कि टरबाइन चलाकर विद्युत ऊर्जा उत्पन्न की जाती है इस परमाणु ऊर्जा से चलित रिएक्टर में सीधे ही विद्युत बन जाती है,अमेरिका के नासा द्वारा भी किलोपावर नाम का एक छोटा परमाणु ऊर्जा से चलित रिएक्टर बनाया जा रहा है जिसकी क्षमता भी 10 किलोवाट है

परमाणु ऊर्जा का अंतरिक्ष में किस तरह उपयोग किया जा सकता है different uses of nuclear energy in space programmes

परमाणु ऊर्जा का अंतरिक्ष में कई तरह का तरीके से उपयोग किया जा सकता है इससे परमाणु ऊर्जा द्वारा चलित राकेट बनाए जा सकते हैं, यह रॉकेट दो प्रकार के हो सकते हैं छोटे स्पेस प्रोब जो की  रेडियोएक्टिव पदार्थ के विघटन से प्राप्त ऊर्जा से बहुत लंबी दूरी तक कई दशकों तक अंतरिक्ष में सफर कर सकते हैं, दूसरी प्रकार के नाभिकीय विखंडन से प्राप्त ऊर्जा से चलने वाले रॉकेट बहुत तेज गति से अंतरिक्ष में सफर कर सकते हैं, नाभिकीय विखंडन से प्राप्त ऊर्जा का इस्तेमाल न केवल राकेट  को चलाने के लिए बल्कि अंतरिक्ष यान को गर्म रखने, एवं सभी प्रकार के यंत्रों को चलाने के लिए भी किया जा सकता है.

मंगल ग्रह पर मानव बस्ती में परमाणु उर्जा का उपयोग Use of Nuclear energy on human mars colony

सोलर ऊर्जा की तुलना में परमाणु ऊर्जा का उपयोग अंतरिक्ष विज्ञान में वरदान साबित हो सकता है, परमाणु ऊर्जा  रिएक्टर वजन में बहुत हल्के होते हैं तथा काफी लंबे समय तक ऊर्जा देते रहते हैं, यह आकार में भी बहुत छोटे होते हैं इन्हें अंतरिक्ष यान में कहीं भी लगाया जा सकता है, जहां वर्तमान समय में राकेट को चलाने के लिए तरल रासायनिक ईंधन का उपयोग किया जाता है तथा अंतरिक्ष यान की सभी व्यवस्था को संचालित करने के लिए सौर ऊर्जा  का उपयोग किया जाता है लेकिन परमाणु ऊर्जा रिएक्टर से अंतरिक्ष यान कि यह दोनों आवश्यकताएं पूरी की जा सकती है इससे न केवल राकेट को बहुत तेज गति से चलाया जा सकता है बल्कि अंतरिक्ष यान के अंदर स्थित सभी प्रकार के यंत्रों को भी ऊर्जा दी जा सकती है.

मंगल ग्रह पर मानव बस्ती बसाने के लिए वैज्ञानिक कई मॉडल विकसित कर रहे हैं, मंगल ग्रह पर इन मानव बस्तियों के लिए उर्जा का प्रमुख स्रोत परमाणु रिएक्टर ही होंगे, क्यों की मंगल पर सूर्य का प्रकाश पृथ्वी की तुलना में कम हे और वहां पृथ्वी की तरह इंधन के दुसरे साधन जैसे की पेट्रोलियम और लकड़ी आदि मोजूद नहीं हैं, ना ही वहां नदियाँ हैं जिन पर बांध बनाकर बिजली उत्पादन किया जा सके, एसी स्थिति में परमाणु उर्जा का ही एकमात्र विकल्प बचता है.

Nuclear engergy in space in hindi, hindi essay on nuclear energy in space, antriksh me parmanu urja, parmanu urja ka antriksh me upyog, parmanu urja rocket, nuclear energy rocket in hindi, space nuclear energy reactory hindi, mars colony in hindi, mangal grah par manav basti,