Chandni Shayari चाँदनी शायरी

Chandni Shayari चाँदनी शायरी

Chandni Shayari चाँदनी शायरी
Chandni Shayari चाँदनी शायरी

Chandni Shayari

चाँदनी हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Chandni the Moon light, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Chandni Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Chandni is excellent in expressing your emotions. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

शायर और कवी हमेशा से चाँदनी पर शेर और कविता कहते आयें हैं, इश्क और महबूब की शायारी में चाँदनी की बात ज़रूर होती है, आपके लिए चाँदनी पर हिंदी शायरी का एक अच्छा संग्रह हम यहाँ प्रकाशित कर रहें है, आप इस चाँदनी हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। चाँदनी लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपकी भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

**************************

 

आसमान से उतारी है,तारों से सजाई है चाँद की चाँदनी से नहलायी है

ऐ दोस्त ज़रा संभाल कररखना यह दोस्ती यही तो हमारी ज़िंदगी भर की कमाई है

*** Chandni Shayari

 

चाँद की ज़रूरत हैं जैसे चाँदनी के लिए

बस एक सनम चाहिए आशिकी के लिए ।

***

ठिठुरते फ़लक पर कंपकपाते दो नैना और गुदाज़ हाथों की हरारत से हर शब पिघलता चाँद…

कितना मीठा रिश्ता है दिसम्बर की सर्द चाँदनी रातों से !

***

हम को निगल सकें ये अंधेरों में दम कहाँ

जब चाँदनी से अपनी मुलाक़ात हो गई

 

*** Chandni Shayari

 

कभी चुप चाप तारीकी की चादर ओढ़ लेती है

कभी वो झील शब भर चाँदनी से बात करती है

***

क्या ज़रूरी है हर रात को चाँद तुमको मिले …

जुगनुओ से नीस्बत रखो चाँदनी का भरोसा नही..

***

चाँद की चाँदनी हो तुम.. तारो की रोशनी हो तुम..

सुबह की लाली हो तुम… मेरे दिल में बसी हुई एक आशिक़ी हो तुम

***

किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी…

छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह!

***

बरस पड़ी थी जो रुख़ से नक़ाब उठाने में

वो चाँदनी है अभी तक मेरे ग़रीब-ख़ाने में

*** Chandni Shayari

 

पांव तले चरमराते पत्तों में, कभी चाँदनी छनी थी ये लगता नहीं है

मुंह मोड़ के जाने वालों से, कभी अपनी बनी थी

***

है निस-ए-शब वो दिवाना अभी तक घर नहीं आया

किसी से चाँदनी रातों का किस्सा छिड़ गया होगा

***

आपकी याद आती रही रात-भर

चाँदनी दिल दुखाती रही रात-भर…

***

जब हम चलें तो साया भी अपना न साथ दे जब तुम चलो ज़मीन चले आसमाँ चले

जब हम रुकें तो साथ रुके शाम\-ए\-बेक़सी जब तुम रुको बहार रुके चाँदनी रुके

***

महक रही है ज़मीं चाँदनी के फूलों से

ख़ुदा किसी की मोहब्बत पे मुस्कराया है

*** Chandni Shayari

वो चाँदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है

बहुत अज़ीज़ हमें है, मगर पराया है

***

जब हम ना होंगे, जब हमारी खाक पे तुम रुकोगे चलते चलते ।

अश्कों से भीगी चाँदनी में एक सदा सी सुनोगे चलते चलते ।

***

खरगोश बन के दौड़ रहे हैं तमाम ख्वाब

फिरता है चाँदनी में कोई सच डरा डरा…

***

रात को दे दो चाँदनी की रिदा

दिन की चादर अभी उतारी है ।।

***

रोशनी के पत्तों सी झरती चाँदनी पेडों से तसव्वुर में बैठी दिखी

यहीं यादों की शाम मेले रातों के लग गए..

***

गुजरी हे ज़िन्दगी अंधेरों में कई दफा ..!!!

मुसाफिर हूँ स्याह रातों का , चाँदनी का मोहताज़ नहीं

***

इन सियाह लम्बी रातों में मुस्कुराती ये चाँदनी

ऐसा लगता हे आज फिर कई ख़्वाबों के शामियाने जला देगी..!!

*** Chandni Shayari

सभी चार दिन की है चाँदनी ये रियासतें, ये विजारते

मुझे उस फ़क़ीर की शान दे कि ज़माना जिसकी मसाल दे

***

चाँद तो अपनी चाँदनी को ही निहारता है

उसे कहाँ खबर कोई चकोर प्यासा रह जाता है

***

खुदा करें कि हसरतों के हाथों पर मेंहदी सजे,

हर उम्मीद की डोली सजे चाँदनी रातों में,,

***

पेड़ों की शाखों पे सोयी सोयी चाँदनी तेरे खयालों में खोयी खोयी चाँदनी

और थोड़ी देर में थक के लौट जायेगी रात ये बहार की लौट कर न आएगी

***

है नशा आँख में और अदा साथ में.. खूबसूरत सी एक गजल लग रहे हो,

चाँदनी में नहा करके आये हो क्या.. खूबसूरत सा तुम कमल लग रहे हो,

***

मेरा प्यार जल रहा है अरे चाँद आज छुप जा

कभी प्यार था हमें भी तेरी चाँदनी से पहले।

***

चाँदनी और चाँद में लो गुफ़्तगु छिड़ गई….

सितारे हुए खामोश, महफ़िल जम गई.

***

चाँद को चाहने वाले है बहुत..

चाँद की मग़र चाहत हैं चाँदनी..:))

***

एक चाँद की चाँदनी आँखों को ऐसी भा गई

बेवजह ही सुबह से दुश्मनी हो गई :))

*** Chandni Shayari

तुम आए ज़िंदगी मे कहानी बन कर तुम आए ज़िंदगी मे रात की चाँदनी बन

कर बसा लेते है जिन्हे हम आँखो मे, वो अक्सर निकल जाते है आँखो से पानी बन कर

***

चेहरे में घूल गया है हसीं चाँदनी का नूर

आँखों में है चमन की जवां रात का सुरूर

***

झिझकता चाँद… खिलखिलाते हुए सितारे… बादलों से झाँकती चाँदनी..

इन्हें इंतजा़र आज फिर इक नई कहानी का है शायद….

***

तुम अपने घर में उजालों को लाज़िमी रखना

न हों चिराग़ मयस्सर तो चाँदनी रखना

***

देखी है चाँद चेहरों की भी चाँदनी मगर उ

स चेहरे पर अजब है ज़हानत की चाँदनी

*** Chandni Shayari

तसव्वुर में उभर आता है जब वह चाँद सा चेहरा

अंधेरी रात में भी चाँदनी महसूस करता हूँ !!

***

वो चाँदनी का बदन खुश्बुओ का साया है

बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है

***

लहू में उतरती रही चाँदनी ~

बदन रात का कितना ठंडा लगा!

***

मेरी बेफिक्री में उतरी छत से गोरी चाँदनी

एक टुकड़ा धूप और आधी कटोरी चाँदनी

***

तुम आ गये हो तो फिर कुछ चाँदनी सी बातें हों

ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

***

यादों के साये में हम जी जी के मरे,

और चाँदनी रातों मे मर-मर के जीये

***

यह दमकता हुआ चेहरा, यह नशीली आंखें..

चाँदनी रात में मैखाना खुला हो जैसे..

*** Chandni Shayari

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,

ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !!

***

अँन्धेरों में जल उठना, चाँदनी में खो जाना

एक रंग अपना है, एक रंग दुनिया का

***

 

Search Tags

Chandni Shayari, Chandni Hindi Shayari, Chandni Shayari, Chandni whatsapp status, Chandni hindi Status, Hindi Shayari on Chandni, Chandni whatsapp status in hindi, चाँदनी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, चाँदनी, चाँदनी स्टेटस, चाँदनी व्हाट्स अप स्टेटस, चाँदनी पर शायरी, चाँदनी शायरी, चाँदनी पर शेर, चाँदनी की शायरी,


Hinglish

Chandni Shayari

shaayar aur kavi hamesha se chaandani par sher aur kavita kahate aayen hain, ishk aur mahaboob ki shaayaari mein chaandani ki baat zaroor hoti hai, aapake lie chaandani par hindi shaayari ka ek achchha sangrah ham yahaan prakaashit kar rahen hai, aap is chaandani hindi shaayari ko apane hindi vaahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya aap is behatarin hindi shaayari ko apane doston ko phesabuk par bhi bhej sakaten hain. chaandani laphz par hindi ke yah sher, aapaki bhaavanaon ko vyakt karane mein aapaki madad kar sakaten hain. aasamaan se utaari hai,taaron se sajai hai chaand ki chaandani se nahalaayi haiai dost zara sambhaal kararakhana yah dosti yahi to hamaari zindagi bhar ki kamai hai*** chhandni shayarichaand ki zaroorat hain jaise chaandani ke liebas ek sanam chaahie aashiki ke lie .***

thithurate falak par kampakapaate do naina aur gudaaz haathon ki haraarat se har shab pighalata chaand…kitana mitha rishta hai disambar ki sard chaandani raaton se !***

ham ko nigal saken ye andheron mein dam kahaanjab chaandani se apani mulaaqaat ho gai***

chhandni shayarikabhi chup chaap taariki ki chaadar odh leti haikabhi vo jhil shab bhar chaandani se baat karati hai***

kya zaroori hai har raat ko chaand tumako mile …juganuo se nisbat rakho chaandani ka bharosa nahi..***

chaand ki chaandani ho tum.. taaro ki roshani ho tum..subah ki laali ho tum… mere dil mein basi hui ek aashiqi ho tum***

kise khabar thi badhegi kuchh aur taariki…chhupega vo kisi badali mein chaandani ki tarah!***

baras padi thi jo rukh se naqaab uthaane menvo chaandani hai abhi tak mere garib-khaane mein***

chhandni shayaripaanv tale charamaraate patton mein, kabhi chaandani chhani thi ye lagata nahin haimunh mod ke jaane vaalon se, kabhi apani bani thi***

hai nis-e-shab vo divaana abhi tak ghar nahin aayaakisi se chaandani raaton ka kissa chhid gaya hoga**

*aapaki yaad aati rahi raat-bharachaandani dil dukhaati rahi raat-bhar…***

jab ham chalen to saaya bhi apana na saath de jab tum chalo zamin chale aasamaan chalejab ham ruken to saath ruke shaam\-e\-beqasi jab tum ruko bahaar ruke chaandani ruke***

mahak rahi hai zamin chaandani ke phoolon sekhuda kisi ki mohabbat pe muskaraaya hai*** chhandni shayarivo chaandani ka badan khushabuon ka saaya haibahut aziz hamen hai, magar paraaya hai***

jab ham na honge, jab hamaari khaak pe tum rukoge chalate chalate .ashkon se bhigi chaandani mein ek sada si sunoge chalate chalate .***

kharagosh ban ke daud rahe hain tamaam khvaabaphirata hai chaandani mein koi sach dara dara…***

raat ko de do chaandani ki ridaadin ki chaadar abhi utaari hai ..***

roshani ke patton si jharati chaandani pedon se tasavvur mein baithi dikhiyahin yaadon ki shaam mele raaton ke lag gae..***

gujari he zindagi andheron mein kai dapha ..!!!musaaphir hoon syaah raaton ka , chaandani ka mohataaz nahin***

in siyaah lambi raaton mein muskuraati ye chaandaniaisa lagata he aaj phir kai khvaabon ke shaamiyaane jala degi..!!***

chhandni shayarisabhi chaar din ki hai chaandani ye riyaasaten, ye vijaaratemujhe us faqir ki shaan de ki zamaana jisaki masaal de***

chaand to apani chaandani ko hi nihaarata haiuse kahaan khabar koi chakor pyaasa rah jaata hai***khuda karen ki hasaraton ke haathon par menhadi saje,har ummid ki doli saje chaandani raaton mein,,***

pedon ki shaakhon pe soyi soyi chaandani tere khayaalon mein khoyi khoyi chaandaniaur thodi der mein thak ke laut jaayegi raat ye bahaar ki laut kar na aaegi***

hai nasha aankh mein aur ada saath mein.. khoobasoorat si ek gajal lag rahe ho,chaandani mein naha karake aaye ho kya.. khoobasoorat sa tum kamal lag rahe ho,***

mera pyaar jal raha hai are chaand aaj chhup jaakabhi pyaar tha hamen bhi teri chaandani se pahale.***

chaandani aur chaand mein lo guftagu chhid gai….sitaare hue khaamosh, mahafil jam gai.***

chaand ko chaahane vaale hai bahut..chaand ki magar chaahat hain chaandani..:))***

ek chaand ki chaandani aankhon ko aisi bha gaibevajah hi subah se dushmani ho gai :))***

chhandni shayaritum aae zindagi me kahaani ban kar tum aae zindagi me raat ki chaandani banakar basa lete hai jinhe ham aankho me, vo aksar nikal jaate hai aankho se paani ban kar***

chehare mein ghool gaya hai hasin chaandani ka nooraankhon mein hai chaman ki javaan raat ka suroor***

jhijhakata chaand… khilakhilaate hue sitaare… baadalon se jhaankati chaandani..inhen intajara aaj phir ik nai kahaani ka hai shaayad….***

tum apane ghar mein ujaalon ko laazimi rakhanaan hon chiraag mayassar to chaandani rakhana**

dekhi hai chaand cheharon ki bhi chaandani magar us chehare par ajab hai zahaanat ki chaandani***

chhandni shayaritasavvur mein ubhar aata hai jab vah chaand sa cheharaandheri raat mein bhi chaandani mahasoos karata hoon !!**

*vo chaandani ka badan khushbuo ka saaya haibahut aziz hamen hai magar paraaya hai***

lahoo mein utarati rahi chaandani ~badan raat ka kitana thanda laga!**

*meri bephikri mein utari chhat se gori chaandaniek tukada dhoop aur aadhi katori chaandani***

tum aa gaye ho to phir kuchh chaandani si baaten honzamin pe chaand kahaan roz roz utarata hai***

yaadon ke saaye mein ham ji ji ke mare,aur chaandani raaton me mar-mar ke jiye***yah damakata hua chehara, yah nashili aankhen..chaandani raat mein maikhaana khula ho jaise..***

chhandni shayaripaimaana tootane ka koi gam nahin mujhe,gam hai to ye ki chaandani raaten bikhar gain !!**

*anndheron mein jal uthana, chaandani mein kho jaanaek rang apana hai, ek rang duniya ka**

search tags : chhandni shayari, chhandni hindi shayari, chhandni shayari, chhandni whatsapp status, chhandni hindi status, hindi shayari on chhandni, chhandni whatsapp status in hindi, chaandani hindi shaayari, hindi shaayari, chaandani, chaandani stetas, chaandani vhaats ap stetas, chaandani par shaayari, chaandani shaayari, chaandani par sher, chaandani ki

 

Leave a Reply