Chandni Shayari चाँदनी शायरी

Chandni Shayari चाँदनी शायरी
Chandni Shayari चाँदनी शायरी

Chandni Shayari

चाँदनी हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Chandni the Moon light, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Chandni Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Chandni is excellent in expressing your emotions. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

शायर और कवी हमेशा से चाँदनी पर शेर और कविता कहते आयें हैं, इश्क और महबूब की शायारी में चाँदनी की बात ज़रूर होती है, आपके लिए चाँदनी पर हिंदी शायरी का एक अच्छा संग्रह हम यहाँ प्रकाशित कर रहें है, आप इस चाँदनी हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। चाँदनी लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपकी भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

**************************

 

आसमान से उतारी है,तारों से सजाई है चाँद की चाँदनी से नहलायी है

ऐ दोस्त ज़रा संभाल कररखना यह दोस्ती यही तो हमारी ज़िंदगी भर की कमाई है

*** Chandni Shayari

 

चाँद की ज़रूरत हैं जैसे चाँदनी के लिए

बस एक सनम चाहिए आशिकी के लिए ।

***

ठिठुरते फ़लक पर कंपकपाते दो नैना और गुदाज़ हाथों की हरारत से हर शब पिघलता चाँद…

कितना मीठा रिश्ता है दिसम्बर की सर्द चाँदनी रातों से !

***

हम को निगल सकें ये अंधेरों में दम कहाँ

जब चाँदनी से अपनी मुलाक़ात हो गई

 

*** Chandni Shayari

 

कभी चुप चाप तारीकी की चादर ओढ़ लेती है

कभी वो झील शब भर चाँदनी से बात करती है

***

क्या ज़रूरी है हर रात को चाँद तुमको मिले …

जुगनुओ से नीस्बत रखो चाँदनी का भरोसा नही..

***

चाँद की चाँदनी हो तुम.. तारो की रोशनी हो तुम..

सुबह की लाली हो तुम… मेरे दिल में बसी हुई एक आशिक़ी हो तुम

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Chandni Status Pictures – Chandni dp Pictures – Chandni Shayari Pictures

***

किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी…

छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह!

***

बरस पड़ी थी जो रुख़ से नक़ाब उठाने में

वो चाँदनी है अभी तक मेरे ग़रीब-ख़ाने में

*** Chandni Shayari

 

पांव तले चरमराते पत्तों में, कभी चाँदनी छनी थी ये लगता नहीं है

मुंह मोड़ के जाने वालों से, कभी अपनी बनी थी

***

है निस-ए-शब वो दिवाना अभी तक घर नहीं आया

किसी से चाँदनी रातों का किस्सा छिड़ गया होगा

***

आपकी याद आती रही रात-भर

चाँदनी दिल दुखाती रही रात-भर…

***

जब हम चलें तो साया भी अपना न साथ दे जब तुम चलो ज़मीन चले आसमाँ चले

जब हम रुकें तो साथ रुके शाम\-ए\-बेक़सी जब तुम रुको बहार रुके चाँदनी रुके

***

महक रही है ज़मीं चाँदनी के फूलों से

ख़ुदा किसी की मोहब्बत पे मुस्कराया है

*** Chandni Shayari

वो चाँदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है

बहुत अज़ीज़ हमें है, मगर पराया है

***

जब हम ना होंगे, जब हमारी खाक पे तुम रुकोगे चलते चलते ।

अश्कों से भीगी चाँदनी में एक सदा सी सुनोगे चलते चलते ।

***

खरगोश बन के दौड़ रहे हैं तमाम ख्वाब

फिरता है चाँदनी में कोई सच डरा डरा…

***

रात को दे दो चाँदनी की रिदा

दिन की चादर अभी उतारी है ।।

***

रोशनी के पत्तों सी झरती चाँदनी पेडों से तसव्वुर में बैठी दिखी

यहीं यादों की शाम मेले रातों के लग गए..

***

गुजरी हे ज़िन्दगी अंधेरों में कई दफा ..!!!

मुसाफिर हूँ स्याह रातों का , चाँदनी का मोहताज़ नहीं

***

इन सियाह लम्बी रातों में मुस्कुराती ये चाँदनी

ऐसा लगता हे आज फिर कई ख़्वाबों के शामियाने जला देगी..!!

*** Chandni Shayari

सभी चार दिन की है चाँदनी ये रियासतें, ये विजारते

मुझे उस फ़क़ीर की शान दे कि ज़माना जिसकी मसाल दे

***

चाँद तो अपनी चाँदनी को ही निहारता है

उसे कहाँ खबर कोई चकोर प्यासा रह जाता है

***

खुदा करें कि हसरतों के हाथों पर मेंहदी सजे,

हर उम्मीद की डोली सजे चाँदनी रातों में,,

***

पेड़ों की शाखों पे सोयी सोयी चाँदनी तेरे खयालों में खोयी खोयी चाँदनी

और थोड़ी देर में थक के लौट जायेगी रात ये बहार की लौट कर न आएगी

***

है नशा आँख में और अदा साथ में.. खूबसूरत सी एक गजल लग रहे हो,

चाँदनी में नहा करके आये हो क्या.. खूबसूरत सा तुम कमल लग रहे हो,

***

मेरा प्यार जल रहा है अरे चाँद आज छुप जा

कभी प्यार था हमें भी तेरी चाँदनी से पहले।

***

चाँदनी और चाँद में लो गुफ़्तगु छिड़ गई….

सितारे हुए खामोश, महफ़िल जम गई.

***

चाँद को चाहने वाले है बहुत..

चाँद की मग़र चाहत हैं चाँदनी..:))

***

एक चाँद की चाँदनी आँखों को ऐसी भा गई

बेवजह ही सुबह से दुश्मनी हो गई :))

*** Chandni Shayari

तुम आए ज़िंदगी मे कहानी बन कर तुम आए ज़िंदगी मे रात की चाँदनी बन

कर बसा लेते है जिन्हे हम आँखो मे, वो अक्सर निकल जाते है आँखो से पानी बन कर

***

चेहरे में घूल गया है हसीं चाँदनी का नूर

आँखों में है चमन की जवां रात का सुरूर

***

झिझकता चाँद… खिलखिलाते हुए सितारे… बादलों से झाँकती चाँदनी..

इन्हें इंतजा़र आज फिर इक नई कहानी का है शायद….

***

तुम अपने घर में उजालों को लाज़िमी रखना

न हों चिराग़ मयस्सर तो चाँदनी रखना

***

देखी है चाँद चेहरों की भी चाँदनी मगर उ

स चेहरे पर अजब है ज़हानत की चाँदनी

*** Chandni Shayari

तसव्वुर में उभर आता है जब वह चाँद सा चेहरा

अंधेरी रात में भी चाँदनी महसूस करता हूँ !!

***

वो चाँदनी का बदन खुश्बुओ का साया है

बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है

***

लहू में उतरती रही चाँदनी ~

बदन रात का कितना ठंडा लगा!

***

मेरी बेफिक्री में उतरी छत से गोरी चाँदनी

एक टुकड़ा धूप और आधी कटोरी चाँदनी

***

तुम आ गये हो तो फिर कुछ चाँदनी सी बातें हों

ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

***

यादों के साये में हम जी जी के मरे,

और चाँदनी रातों मे मर-मर के जीये

***

यह दमकता हुआ चेहरा, यह नशीली आंखें..

चाँदनी रात में मैखाना खुला हो जैसे..

*** Chandni Shayari

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,

ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !!

***

अँन्धेरों में जल उठना, चाँदनी में खो जाना

एक रंग अपना है, एक रंग दुनिया का

***

 

Search Tags

Chandni Shayari, Chandni Hindi Shayari, Chandni Shayari, Chandni whatsapp status, Chandni hindi Status, Hindi Shayari on Chandni, Chandni whatsapp status in hindi, चाँदनी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, चाँदनी, चाँदनी स्टेटस, चाँदनी व्हाट्स अप स्टेटस, चाँदनी पर शायरी, चाँदनी शायरी, चाँदनी पर शेर, चाँदनी की शायरी,


Hinglish

Chandni Shayari in hindi in English font

shayar aur kavi hamesha se chandani par sher aur kavita kahate ayen hain, ishk aur mahaboob ki shayari mein chandani ki bat zaroor hoti hai, apake lie chandani par hindi shayari ka ek achchha sangrah ham yahan prakashit kar rahen hai, ap is chandani hindi shayari ko apane hindi whatsapp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behatarin hindi shayari ko apane doston ko facebook par bhi bhej sakaten hain. chandani lafz par hindi ke yah sher, apaki bhavanaon ko vyakt karane mein apaki madad kar sakaten hain. asaman se utari hai,taron se sajai hai chand ki chandani se nahalayi haiai dost zara sambhal kararakhana yah dosti yahi to hamari zindagi bhar ki kamai hai*** chhandni shayarichand ki zaroorat hain jaise chandani ke liebas ek sanam chahie ashiki ke lie .***

thithurate falak par kampakapate do naina aur gudaz hathon ki hararat se har shab pighalata chand…kitana mitha rishta hai disambar ki sard chandani raton se !***

ham ko nigal saken ye andheron mein dam kahanjab chandani se apani mulaqat ho gai***

chhandni shayarikabhi chup chap tariki ki chadar odh leti haikabhi vo jhil shab bhar chandani se bat karati hai***

kya zaroori hai har rat ko chand tumako mile …juganuo se nisbat rakho chandani ka bharosa nahi..***

chand ki chandani ho tum.. taro ki roshani ho tum..subah ki lali ho tum… mere dil mein basi hui ek ashiqi ho tum***

kise khabar thi badhegi kuchh aur tariki…chhupega vo kisi badali mein chandani ki tarah!***

baras padi thi jo rukh se naqab uthane menvo chandani hai abhi tak mere garib-khane mein***

chhandni shayaripanv tale charamarate patton mein, kabhi chandani chhani thi ye lagata nahin haimunh mod ke jane valon se, kabhi apani bani thi***

hai nis-e-shab vo divana abhi tak ghar nahin ayakisi se chandani raton ka kissa chhid gaya hoga**

*apaki yad ati rahi rat-bhara chandani dil dukhati rahi rat-bhar…***

jab ham chalen to saya bhi apana na sath de jab tum chalo zamin chale asaman chalejab ham ruken to sath ruke sham\-e\-beqasi jab tum ruko bahar ruke chandani ruke***

mahak rahi hai zamin chandani ke foolon sekhuda kisi ki mohabbat pe muskaraya hai*** chhandni shayarivo chandani ka badan khushabuon ka saya haibahut aziz hamen hai, magar paraya hai***

jab ham na honge, jab hamari khak pe tum rukoge chalate chalate .ashkon se bhigi chandani mein ek sada si sunoge chalate chalate .***

kharagosh ban ke daud rahe hain tamam khvabafirata hai chandani mein koi sach dara dara…***

rat ko de do chandani ki ridadin ki chadar abhi utari hai ..***

roshani ke patton si jharati chandani pedon se tasavvur mein baithi dikhiyahin yadon ki sham mele raton ke lag gae..***

gujari he zindagi andheron mein kai dafa ..!!!musafir hoon syah raton ka , chandani ka mohataz nahin***

in siyah lambi raton mein muskurati ye chandaniaisa lagata he aj fir kai khvabon ke shamiyane jala degi..!!***

chhandni shayarisabhi char din ki hai chandani ye riyasaten, ye vijaratemujhe us faqir ki shan de ki zamana jisaki masal de***

chand to apani chandani ko hi niharata haiuse kahan khabar koi chakor pyasa rah jata hai***khuda karen ki hasaraton ke hathon par menhadi saje,har ummid ki doli saje chandani raton mein,,***

pedon ki shakhon pe soyi soyi chandani tere khayalon mein khoyi khoyi chandaniaur thodi der mein thak ke laut jayegi rat ye bahar ki laut kar na aegi***

hai nasha ankh mein aur ada sath mein.. khoobasoorat si ek gajal lag rahe ho,chandani mein naha karake aye ho kya.. khoobasoorat sa tum kamal lag rahe ho,***

mera pyar jal raha hai are chand aj chhup jakabhi pyar tha hamen bhi teri chandani se pahale.***

chandani aur chand mein lo guftagu chhid gai….sitare hue khamosh, mahafil jam gai.***

chand ko chahane vale hai bahut..chand ki magar chahat hain chandani..:))***

ek chand ki chandani ankhon ko aisi bha gaibevajah hi subah se dushmani ho gai :))***

chhandni shayari tum ae zindagi me kahani ban kar tum ae zindagi me rat ki chandani banakar basa lete hai jinhe ham ankho me, vo aksar nikal jate hai ankho se pani ban kar***

chehare mein ghool gaya hai hasin chandani ka noorankhon mein hai chaman ki javan rat ka suroor***

jhijhakata chand… khilakhilate hue sitare… badalon se jhankati chandani..inhen intajara aj fir ik nai kahani ka hai shayad….***

tum apane ghar mein ujalon ko lazimi rakhanan hon chirag mayassar to chandani rakhana**

dekhi hai chand cheharon ki bhi chandani magar us chehare par ajab hai zahanat ki chandani***

chhandni shayaritasavvur mein ubhar ata hai jab vah chand sa cheharandheri rat mein bhi chandani mahasoos karata hoon !!**

*vo chandani ka badan khushbuo ka saya haibahut aziz hamen hai magar paraya hai***

lahoo mein utarati rahi chandani ~badan rat ka kitana thanda laga!**

*meri befikri mein utari chhat se gori chandaniek tukada dhoop aur adhi katori chandani***

tum a gaye ho to fir kuchh chandani si baten honzamin pe chand kahan roz roz utarata hai***

yadon ke saye mein ham ji ji ke mare,aur chandani raton me mar-mar ke jiye***yah damakata hua chehara, yah nashili ankhen..chandani rat mein maikhana khula ho jaise..***

chhandni shayaripaimana tootane ka koi gam nahin mujhe,gam hai to ye ki chandani raten bikhar gain !!**

*anndheron mein jal uthana, chandani mein kho janaek rang apana hai, ek rang duniya ka**

search tags : chhandni shayari, chhandni hindi shayari, chhandni shayari, chhandni whatsapp status, chhandni hindi status, hindi shayari on chhandni, chhandni whatsapp status in hindi, chandani hindi shayari, hindi shayari, chandani, chandani stetas, chandani vhats ap stetas, chandani par shayari, chandani shayari, chandani par sher, chandani ki

 

 

Leave a Comment