Dariya Shayari in Hindi  दरिया पर शायरी

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

Dariya Shayari in Hindi  दरिया पर शायरी
Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

Dariya Shayari in Hindi

दरिया पर शायरी

दोस्तों दरिया पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “दरिया” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “दरिया” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

Loading...

उठाने हैं अभी दरिया से मुझको प्यास के पहरे

अभी तो खुश्क पैरों पे मुझे रिमझिम भी लिखनी है

 

मेरे दामन को वुसअत दी है तूने दश्त-ओ-दरिया की

मैं ख़ुश हूँ देने वाले, तू मुझे कतरा के राई दे

~नक़्श लायलपुरी

 

अक्स पानी में मोहब्बत के उतारे होते,

हम जो बैठे हुए दरिया के किनारे होते !! -अदीम हाशमी

 

अंदाज़ कोई डूबने के सीखे तो हम से,

हम डूब के दरिया के किनारे नहीं निकले !!

 

मुहब्बत का मज़ा तो डूबने की कशमकश में हैं,

जो हो मालूम गहराई, तो दरिया पार क्या करना !!

 

मिल जाऊँगा दरिया से तो हो जाऊँगा दरिया

सिर्फ़ इस लिए क़तरा हूँ कि दरिया से जुदा हूँ

~नज़ीर

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

 

डूबे कि रहे कश्ती दरिया-ए-मोहब्बत में,

तूफ़ान ओ तलातुम पर हम ग़ौर नहीं करते !!

 

समझ लिया था कभी एक सराब को दरिया,

पर एक सुकून था हमको फ़रेब खाने में !!

 

शिकवा कोई दरिया की रवानी से नहीं है,

रिश्ता ही मेरी प्यास का पानी से नहीं है !!

 

वो जो मुमकिन न हो मुमकिन ये बना देता है,

ख़्वाब दरिया के किनारों को मिला देता है!!

 

इस बार शहरे दिल में बहुत बारिशें हुईं

दरिया ग़म-ए-हयात के सब बेकिनार हैं

 

होता है निहाँ गर्द में सहरा मेरे होते

घिसता है जबीं ख़ाक पे दरिया, मेरे आगे

~ग़ालिब

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

मैं दरिया भी किसी गैर के हाथों से न लूं

एक कतरा भी समन्दर है अगर तू देदे!

 

फ़स्ल-ए-गुल आई फिर इक बार असिरान-ए-वफ़ा

अपने ही ख़ून के दरिया में नहाने निकले

 

आँखों मे अश्क बनके हमेशा रहूँगा मैं,

तश्नालबी के बाद भी दरिया रहूँगा मैं

~ काज़िम जरवली

 

दरिया में यूँ तो होते हैं क़तरे ही क़तरे सब,

क़तरा वही है जिसमें के दरिया दिखाई दे !!

 

आलम तो देखिए ज़रा उनके शबाब का

जैसे हो मोजज़न कोई दरिया शराब का

 

चुल्लू में हो दर्द का दरिया ध्यान में उसके होंठ

यूँ भी खुद को प्यासा रखना कितना मुश्किल है

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

बदन से हो के गुज़रा रूह से रिश्ता बना डाला

किसी की प्यास ने आखि़र मुझे दरिया बना डाला

 

गो देख चुका हूँ पहले भी नज़्ज़ारा दरिया-नोशी का,

एक और सला-ए-आम कि साक़ी रात गुज़रने वाली है !!

 

अगर वो होश में रहते तो दरिया पार कर लेते,

ज़रा सी बात है लकिन कहाँ गाफिल समझते हैं

 

बढ़ गया था प्यास का एहसास दरिया देख कर

हम पलट आये मगर पानी को प्यासा देख कर

~मेराज

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

जरा दरिया की तह तक तू पहुंच जाने की हिम्मत कर,

तो फिर ऐ डूबने वाले, किनारा ही किनारा है !!

 

हुए मदफून-ए-दरिया ज़ेर-ए-दरिया तैरने वाले,

तमांचे मौज़ के खाते थे जो बन कर गुहर निकले।

~इक़बाल

 

उस तश्ना-लब की नींद न टूटे दुआ करो,

जिस तश्ना-लब को ख़्वाब में दरिया दिखाई दे!!

 

दरिया में यूँ तो होते हैं क़तरे ही क़तरे सब,

क़तरा वही है जिसमें के दरिया दिखाई दे !!

 

वो जो मुमकिन न हो मुमकिन ये बना देता है,

ख़्वाब दरिया के किनारों को मिला देता है !! -तैमूर हसन

 

कह देना समन्दर से हम ओस के मोती हैं

दरिया की तरह तुम से मिलने नहीं आएंगे!

 

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है

जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा

 

नफरतों के पुल लाँघ आया हूँ मैं,

मुहोब्बत के दरिया में डूब जाने के लिए।

 

इस बार शहर-ए-दिल में बहुत बारिशें हुईं,

दरिया ग़म-ए-हयात के सब बेकिनार हैं

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

इश्क़ के दरिया का आदाब ये बड़ा आम है,

दाम-ए-हर-मौज़ की खता है मगर, किश्तियों पे इलज़ाम है।

 

एक सा बरसता है नूर उसका हर कहीं,

फिर भी कहीं दरिया बना और बना सहरा कहीं।

 

आँखों से नींद खोलो दरिया रुके हुए हैं

और पर्वतोंपे कबसे बादल झुके हुए हैं

ये सुबह सांस लेगी और बादबाँ खुलेगा

पलकें उठाओ जानम ये आसमां खुलेगा

 

मेरा साक़ी है बड़ा दरिया दिल,

फिर भी प्यासा हूँ कि सहरा हूँ मैं !!

 

मुझे ज़िंदगी की दुआ देने वाले

हँसी आ रही है तेरी सादगी पर

 

जा लगेगी कश्ती-ए-दिल साहिल-ए-उम्मीद पर,

दीदा-ए-तर से अगर दरिया रवाँ हो जाएगा !! -मिर्ज़ा अंजुम

 

हरेक कश्ती का अपना तज़ुर्बा होता है दरिया में,

सफर में रोज़ ही मंझदार हो ऐसा नहीं होता !!

 

निगाहें थी वो या था दरिया कोई,

एक बार जो डूबा मैं तो फिर उबार ना सका

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

मुहब्बत का मज़ा तो डूबने की कशमकश में हैं,

जो हो मालूम गहराई, तो दरिया पार क्या करना

 

तिश्नगी ऐसी कि कौसर से भी तस्कीन ना हो,

पानी पानी ही हुआ देखे जो दरिया हम को !!

 

गहरे पानी में ज़रा आओ उतर कर देखें

हम को दरिया के किनारे नहीं अच्छे लगते

~इन्दिरा वर्मा

 

लहरों से लङा करता हूं मैं दरिया में उतर कर

साहिल पे खङा होके मैं साजिश नहीं कराता!

 

मेरे होठों पे जमा सब्र बता सकता है

मैने दरिया की कोई बात नहीं मानी थी

 

नज़दीकियों में दूरका मंज़र तलाश कर

जो हाथमें नहीं है वो पत्थर तलाश कर

सूरज के इर्द-गिर्द भटकने से फ़ाएदा

दरिया हुआ है गुम तो समुंदर तलाश कर

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

ये इश्क़ नहीं आसाँ बस इतना समझ लीजे,

इक आग का दरिया है और डूब के जाना है

 

कौन सियाही घोल रहा था वक़्त के बहते दरिया में

मैंने आँख झुकी देखी है आज किसी हरजाई की..!

-कतील शिफ़ाई

 

कह देना समुन्दर से हम ओस के मोती हैं,

दरिया की तरह तुझ से मिलने नहीं आएँगे!

– बशीर बद्र

 

तेरे शहर तक पहुँच तो जाते

रस्ते में कितने दरिया पड़ते हैं….

पुल सब तूने जला दिए थे..

-गुलज़ार

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

तपती रेत पे दौड़ रहा है दरिया की उम्मीद लिए

सदियों से इन्सान का अपने आपको छलना जारी है

~राजेश रेड्डी

 

दरिया में यूँ तो होते हैं क़तरे-ही-क़तरे सब

क़तरा वही है जिसमें कि दरिया दिखाई दे

~कृष्ण बिहारी नूर

मुद्दतों बाद पशेमाँ हुआ दरिया हमसे

मुद्दतों बाद हमें प्यास छुपानी आई

 

सब को सैराब-ए-वफ़ा ख़ुद को प्यासा रखना

मुझ को ले डूबेगा दिल तेरा दरिया होना.!!

 

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है

जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा

 

नेकियाँ कर के जो, दरिया में डाल दोगे अभी

वो हि तूफानों में कश्तियाँ बन कर सांथ देंगी कभी

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

बचाता कुछ नहीं सारी कमाई डाल देता है

सुना है रोज़ दरिया में वो नेकी डाल देता है.!!

 

तू ख़ुदा का नाम लेकर घर से निकला है तो फिर

बहते दरिया में उतर जा रास्ता हो जाएगा.!!

 

डुबो दे अपनी कश्ती को,किनारा ढूँढने वाले

ये दरिया-ए-मोहब्बत है,यहाँ साहिल नहीं मिलता.!!

 

बढ़ गया था प्यास का एहसास दरिया देख कर।।

हम पलट आए मगर पानी को प्यासा देख कर..!!

 

“हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है,

जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा।”

 

उन्हें हक़ीक़त-ए-दरिया की क्या ख़बर “अमजद”।।

जो अपनी रूह की मंजधार से नहीं गुज़रे..!!

 

Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी

मुद्दतों बाद पशेमाँ हुआ दरिया हमसे।।

मुद्दतों बाद हमें प्यास छुपानी आई..!!

 

नेकियाँ कर के जो, दरिया में डाल दोगे अभी

वो हि तूफानों में कश्तियाँ बन कर सांथ देंगी कभी

Search Tags

Dariya Shayari in Hindi, Dariya Hindi Shayari, Dariya Shayari, Dariya whatsapp status, Dariya hindi Status, Hindi Shayari on Dariya, Dariya whatsapp status in hindi,

दरिया हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, दरिया स्टेटस, दरिया व्हाट्स अप स्टेटस,दरिया पर शायरी, दरिया शायरी, दरिया पर शेर, दरिया की शायरी


Hinglish

Dariya Shayari in Hindi

दरिया पर शायरी

dariy shayari in hindi dariya par shaayareedariy shayari in hindidariya par shaayaree doston dariya par sher o shaayaree ka ek achchha sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “dariya” ke baare mein zajbaat aur khayaalaat jaan sakenge. agar aapake paas bhee “dariya” par shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

uthaane hain abhee dariya se mujhako pyaas ke pahareabhee to khushk pairon pe mujhe rimajhim bhee likhanee haimere daaman ko vusat dee hai toone dasht-o-dariya keemain khush hoon dene vaale, too mujhe katara ke raee de~naqsh laayalapureeaks paanee mein mohabbat ke utaare hote,ham jo baithe hue dariya ke kinaare hote !! -adeem haashamee

andaaz koee doobane ke seekhe to ham se,ham doob ke dariya ke kinaare nahin nikale !!muhabbat ka maza to doobane kee kashamakash mein hain,jo ho maaloom gaharaee, to dariya paar kya karana !!

mil jaoonga dariya se to ho jaoonga dariyaasirf is lie qatara hoon ki dariya se juda hoon~nazeeradariy shayari in hindi dariya par shaayaree doobe ki rahe kashtee dariya-e-mohabbat mein,toofaan o talaatum par ham gaur nahin karate !!samajh liya tha kabhee ek saraab ko dariya,par ek sukoon tha hamako fareb khaane mein !!

shikava koee dariya kee ravaanee se nahin hai,rishta hee meree pyaas ka paanee se nahin hai !!vo jo mumakin na ho mumakin ye bana deta hai,khvaab dariya ke kinaaron ko mila deta hai!!is baar shahare dil mein bahut baarishen hueendariya gam-e-hayaat ke sab bekinaar hainhota hai nihaan gard mein sahara mere hoteghisata hai jabeen khaak pe dariya, mere aage~gaalibadariy shayari in hindi

dariya par shaayaree main dariya bhee kisee gair ke haathon se na loonek katara bhee samandar hai agar too dede!fasl-e-gul aaee phir ik baar asiraan-e-vafaapane hee khoon ke dariya mein nahaane nikaleaankhon me ashk banake hamesha rahoonga main,tashnaalabee ke baad bhee dariya rahoonga main~ kaazim jaravaleedariya mein yoon to hote hain qatare hee qatare sab,qatara vahee hai jisamen ke dariya dikhaee de !!

aalam to dekhie zara unake shabaab kaajaise ho mojazan koee dariya sharaab kaachulloo mein ho dard ka dariya dhyaan mein usake honthayoon bhee khud ko pyaasa rakhana kitana mushkil haidariy shayari in hindi dariya par shaayaree badan se ho ke guzara rooh se rishta bana daalaakisee kee pyaas ne aakhira mujhe dariya bana daalaago dekh chuka hoon pahale bhee nazzaara dariya-noshee ka,ek aur sala-e-aam ki saaqee raat guzarane vaalee hai !!agar vo hosh mein rahate to dariya paar kar lete,zara see baat hai lakin kahaan gaaphil samajhate haimbadh gaya tha pyaas ka ehasaas dariya dekh karaham palat aaye magar paanee ko pyaasa dekh kar~

meraajadariy shayari in hindi dariya par shaayaree jara dariya kee tah tak too pahunch jaane kee himmat kar,to phir ai doobane vaale, kinaara hee kinaara hai !!hue madaphoon-e-dariya zer-e-dariya tairane vaale,tamaanche mauz ke khaate the jo ban kar guhar nikale.~iqabaalus tashna-lab kee neend na toote dua karo,jis tashna-lab ko khvaab mein dariya dikhaee de!!dariya mein yoon to hote hain qatare hee qatare sab,qatara vahee hai jisamen ke dariya dikhaee de !!vo jo mumakin na ho mumakin ye bana deta hai,khvaab dariya ke kinaaron ko mila deta hai !! –

taimoor hasanakah dena samandar se ham os ke motee haindariya kee tarah tum se milane nahin aaenge!ham bhee dariya hain hamen apana hunar maaloom haijis taraf bhee chal padenge raasta ho jaegaanapharaton ke pul laangh aaya hoon main,muhobbat ke dariya mein doob jaane ke lie.is baar shahar-e-dil mein bahut baarishen hueen,dariya gam-e-hayaat ke sab bekinaar haindariy shayari in hindi dariya par shaayaree ishq ke dariya ka aadaab ye bada aam hai,daam-e-har-mauz kee khata hai magar, kishtiyon pe ilazaam hai.ek sa barasata hai noor usaka har kaheen,phir bhee kaheen dariya bana aur bana sahara kaheen.aankhon se neend kholo dariya ruke hue hainaur parvatompe kabase baadal jhuke hue hainye subah saans legee aur baadabaan khulegaapalaken uthao jaanam ye aasamaan khulegaamera saaqee hai bada dariya dil,phir bhee pyaasa hoon ki sahara hoon main !!mujhe zindagee kee dua dene vaalehansee aa rahee hai teree saadagee paraja lagegee kashtee-e-dil saahil-e-ummeed par,deeda-e-tar se agar dariya ravaan ho jaega !! -mirza anjum

aharek kashtee ka apana tazurba hota hai dariya mein,saphar mein roz hee manjhadaar ho aisa nahin hota !!nigaahen thee vo ya tha dariya koee,ek baar jo dooba main to phir ubaar na sakaadariy shayari in hindi dariya par shaayaree muhabbat ka maza to doobane kee kashamakash mein hain,jo ho maaloom gaharaee, to dariya paar kya karanaatishnagee aisee ki kausar se bhee taskeen na ho,paanee paanee hee hua dekhe jo dariya ham ko !!gahare paanee mein zara aao utar kar dekhenham ko dariya ke kinaare nahin achchhe lagate~indira varma

alaharon se lana karata hoon main dariya mein utar karasaahil pe khana hoke main saajish nahin karaata!mere hothon pe jama sabr bata sakata haimaine dariya kee koee baat nahin maanee theenazadeekiyon mein dooraka manzar talaash karajo haathamen nahin hai vo patthar talaash karasooraj ke ird-gird bhatakane se faedaadariya hua hai gum to samundar talaash karadariy shayari in hindi dariya par shaayaree ye ishq nahin aasaan bas itana samajh leeje,ik aag ka dariya hai aur doob ke jaana haikaun siyaahee ghol raha tha vaqt ke bahate dariya memmainne aankh jhukee dekhee hai aaj kisee harajaee kee..!-kateel shifaeekah dena samundar se ham os ke motee hain,dariya kee tarah tujh se milane nahin aaenge!- basheer badratere shahar tak pahunch to jaateraste mein kitane dariya padate hain….pul sab toone jala die the..-gulazaaradariy shayari in hindi dariya par shaayaree tapatee ret pe daud raha hai dariya kee ummeed liesadiyon se insaan ka apane aapako chhalana jaaree hai~raajesh reddeedariya mein yoon to hote hain qatare-hee-qatare sabaqatara vahee hai jisamen ki dariya dikhaee de~krshn bihaaree noo

muddaton baad pashemaan hua dariya hamasemuddaton baad hamen pyaas chhupaanee aaeesab ko sairaab-e-vafa khud ko pyaasa rakhanaamujh ko le doobega dil tera dariya hona.!!ham bhee dariya hain hamen apana hunar maaloom haijis taraf bhee chal padenge raasta ho jaegaanekiyaan kar ke jo, dariya mein daal doge abheevo hi toophaanon mein kashtiyaan ban kar saanth dengee kabheedariy shayari in hindi dariya par shaayaree bachaata kuchh nahin saaree kamaee daal deta haisuna hai roz dariya mein vo nekee daal deta hai.!!too khuda ka naam lekar ghar se nikala hai to phirabahate dariya mein utar ja raasta ho jaega.!!dubo de apanee kashtee ko,kinaara dhoondhane vaaleye dariya-e-mohabbat hai,yahaan saahil nahin milata.!!badh gaya tha pyaas ka ehasaas dariya dekh kar..ham palat aae magar paanee ko pyaasa dekh kar..!!

“ham bhee dariya hain, hamen apana hunar maaloom hai,jis taraf bhee chal padenge, raasta ho jaega.”unhen haqeeqat-e-dariya kee kya khabar “amajad”..jo apanee rooh kee manjadhaar se nahin guzare..!!dariy shayari in hindi dariya par shaayaree muddaton baad pashemaan hua dariya hamase..muddaton baad hamen pyaas chhupaanee aaee..!!nekiyaan kar ke jo, dariya mein daal doge abheevo hi toophaanon mein kashtiyaan ban kar saanth dengee kabhee

 

 

 

2 thoughts on “Dariya Shayari in Hindi दरिया पर शायरी”

  1. वो दरिया पर क़ब्ज़ा जमा के बैठा है
    ये तिश्नगी कैसी है जो मिटती नहीं

    – अभिषेक सिंह

Leave a Reply