Ehsaas shayari in Hindi

Ehsaas shayari in Hindi

Ehsaas Shayari एहसास पर खुबसूरत शायरी

Ehsaas Shayari :- हमारे देश के मशहूर शायरों ने दिल को छू लेने वाली एहसास पर खुबसूरत शायरी  यानी की Ehsaas shayari कही है, इस पेज पर हम कुछ अच्छे एहसास पर शेर प्रस्तुत कर रहे हैं, उम्मीद है आपको यह shayari on Ehsaas पसंद आएगी.

इस  Ehsaas shayari को आप अपने सोशल मिडिया पर शेयर कर अपने एहसासों को अल्फाजों का रूप दे सकते हैं, आप इस shayari on Ehsaas को Ehsaas whatsapp status के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं.

सभी टॉपिक्स पर hindi शायरी की लिस्ट देखें – हिंदी शायरी 

Ehsaas shayari images

इस पेज के आखिर में हम कुछ खुबसूरत एहसास शायरी इमेजेस भी पेश कर रहे हैं,

***

एहसास  शायरी 

 

बात सहरा में चली जब हमारी प्यास की,

दूर तक फैली रही फिर चाँदनी एहसास की

 

शबनम हैं या ख़्वाब उतरें हैं गुलों पर,

एहसास-ए-मोहब्बत का अंदाज़ सराबी

 

इन से ज़िंदा है ये एहसास कि ज़िंदा हूँ मैं

शहर में कुछ मेरे दुश्मन हैं बहुत अच्छा है

~अहमद वसी

 

कौन तन्हाई का एहसास दिलाता है मुझे

ये भरा शहर भी तन्हा नज़र आता है मुझे

~नूर जहाँ सरवत

 

अब तो ये भी नहीं रहा एहसास

दर्द होता है या नहीं होता

जिगर मुरादाबादी

 

अब तो एहसास-ए-तमन्ना भी नहीं

क़ाफ़िला दिल का लुटा हो जैसे

~साहिर होशियारपुरी

 

मैं उस के सामने से गुज़रता हूँ इस लिए

तर्क-ए-तअल्लुक़ात का एहसास मर न जाए

-Fana Nizami Kanpuri

 

Shayari on Ehsaas

अपने होने का कुछ एहसास न होने से हुआ

ख़ुद से मिलना मिरा इक शख़्स के खोने से हुआ

मुसव्विर_सब्ज़वारी

 

न था ज़ियादा कुछ एहसास जिस के होने का

चला गया है तो उस की कमी बहुत आई

ज़फ़र_इक़बाल

 

तन्हाई के लम्हात का एहसास हुआ है

जब तारों भरी रात का एहसास हुआ है

नसीम_शाहजहाँपुरी

 

अपनी तस्वीर बनाओगे तो होगा एहसास

कितना दुश्वार है ख़ुद को कोई चेहरा देना

अज़हर_इनायती

 

अपनी हालत का कुछ एहसास नहीं है मुझ को

मैं ने औरों से सुना है कि परेशान हूँ मैं

आसी_उल्दनी

 

मेरे अल्फ़ाज़ में जो रंग है वो उस का है

मेरे एहसास में जो है वो फ़ज़ा उस की है

Javed Akhtar

 

ये मोहब्बत है कि एहसास है महरूमी का

मेरी आँखों में बहुत कुछ है ज़बानी कम है

शहज़ाद_अहमद

 

ज़िंदगी जैसी तवक़्क़ो थी नहीं कुछ कम है

हर घड़ी होता है एहसास कहीं कुछ कम है

शहरयार

 

तू मिला है तो ये एहसास हुआ है मुझको

ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिये थोड़ी है

 

उस को खो देने का एहसास तो कम बाक़ी है

जो हुआ वो न हुआ होता ये ग़म बाक़ी है

Nida Fazli

 

रौशनी दर पे खड़ी मुझ को बुलाती क्यूँ है

मैं अँधेरे में हूँ एहसास दिलाती क्यूँ है

शख़ावत_शमीम

 

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया

ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया

Adam

Ehsaas ki Shayari

 

वो ज़ुल्म भी अब ज़ुल्म की हद तक नहीं करते

आख़िर उन्हें किस बात का एहसास हुआ है

Naseem Shahjahanpuri

 

कुछ तो एहसास-ए-मोहब्बत से हुईं नम आँखें

कुछ तेरी याद के बादल भी भिगो जाते हैं

Meeta

 

ख़ुदा ऐसे एहसास का नाम है

रहे सामने और दिखाई न दे Bashir Badr

 

सिर्फ एहसास है ये रूह से महसूस करो

प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम ना दो..

-गुलज़ार

 

ये अलग बात कि एहसास जुदा हों वर्ना

राहतें एक सी अफ़सुर्दगियाँ एक सी हैं अहमद_फ़राज़

 

सदाए अपने सुरोंसे उठकर चली गयी है

बस एक एहसास की ख़ामोशी है-गूँजती है

बस एक तकमील का अँधेरा है-जल रहा है

गुलज़ार

 

थोड़ी ख़लिश होगी,थोड़ा सा ग़म होगा

तन्हाई तो होगी,एह्सास कम होगा

गहरी ख़्हराशों की गहरी निशानियाँ हैं

 

मेरी लिखी बात को

हर कोई समझ नहीं पाता

में एहसास लिखता हूँ

और लोग अल्फाज़ पढ़ते हैं

 

मामूरा-ए-एहसास  में है हश्र सा बरपा 

इंसान की तज़लील गवारा नहीं होती

Sahir

 

****

Ehsaas Hindi Shayari

 

तू रहना बेख़बर मेरे एहसासों से,

फिर भी सारी उमर शिद्दत से चाहेंगे तुझे…

 

तुम्हें सोच कर जो हम मुस्करातें है  !!

       वो तुम हो

  तुम्हें याद करके  रात भर जागते है !!

    वो तुम हो

 

तुम्हें ख्वाबों में नही एहसासों में समाया है !!

 वो तुम हो

 

आँखों से एहसासों को पढ़ लिया करो,

की ज़ुबाँ कभी कभी दिल का साथ नही देती  

 

*एहसासों के पांव नहीं होते,*

*फिर भी दिल तक पहुंच ही जाते हैं!*

 

क्या लिखूं और  कितना लिखूं , दिल के एहसासों को

जिंदगी भरी पड़ी है सब, अनकहें अल्फाज़ों से

 

तमन्नाएं तो बहुत

अधूरी पड़ी तो है

जहन में

 

फिर भी आख़री दीदार

मयस्सर हो अगर

तुमसे पूछ लूँ

कैसी लगती हूँ अब मैं

 

ये आँखें जो चमकती थी

तेरी मुहब्बत से

आज इनमें तेरे इंतज़ार की

चमक दिखती है क्या

 

ये ऱूखसार सुर्ख़ थे

एहसासों से तेरे

आज इनपर

तेरे नाम का ज़र्द

एहसास है क्या

 

स्याही एहसासों की शब्द प्रेम के

कलम बन गयी धड़कन दिल बन गयी किताब

और लो बन गयी इश्क़ की

इन नई दास्तान….

 

बस एक बार ही होता है असर

 दिल पर….”एहसासों “का…..

ये इश्क़ है ‘साहिब’……..सौ बार  नही होता….!!!!!

 

 

जिंदगी में ऐसे लोग भी मिलते हैं….

 

जो वादे तो नहीं करते लेकिन

निभा बहुत कुछ जाते है.,.अक्सर वही रिश्ते,

          लाजवाब होते हैं..

जो एहसानों से नहीं,

          एहसासों से बने होते हैं..!   

 

उम्र लग जाती है एहसासों को अल्फाज देने में

 फक़्त दिल टूटने से कोई शायर नहीं बनता!!

 

कुछ रंग बिखरे हैं अल्फाजों में ,

कुछ रंग उड़ रहे एहसासों में ‘

         हर रंग आज छू कर तुम्हें…

                  घुल कर समा रहें हैं ,

                             मेरी सांसों में…!

 

“उनके एहसासों की महक ना हो जिसमें ,

या खुदा दूर ही रखना वो हवाएं मुझसे .

 

कुछ एहसासों के साये ,

दिल_को_छू_जाते_हैं..

कुछ मंज़र दिल में ,,

उतर_जाते_हैं…

बेजान गुलशन में भी ,,,

फूल_खिल_जाते_हैं…

जब ज़िन्दगी में आप जैसे ,,,,

दोस्त_मिल_जाते_हैं..

 

 

बसंत की शीतल सी #बयार

जब मुझे छू कर गुजरती है,

तब वो महसूस मुझे

तुम्हारे एहसासों सी होती है..!!

 

मंद-मंद सी #बयार भी मुझमें

सौ ख़्बाव जगाती है,

ना चाहते हुए भी ये धड़कने

तुम्हारे लिए मचलती है..!!  

 

 

मोहब्बत एक एहसासों की पावन सी कहानी है,

कभी कबीरा दीवाना था,कभी मीरा दीवानी है।

यहां सब लोग कहते हैं मेरी आंखों में आंसू हैं,

जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है।।

 

जागना भी कबूल है तेरी यादो मे रात भर..

तेरे एहसासों मे जो सुकून है वो नींद मे कहां..

 

न लफ़्ज़ों से

न एहसासों से

मैं लिखती हूँ बस तुम्हारी यादों से

 

एहसासों के धागों में पिरोया था मैंने,

“उसे” जो मेरा कभी हुआ ही नही …!!

 

कभी कभी ये सोचती हूँ…….

तेरे *एहसासों* के बग़ैर तन्हा

  मक़ा सी तो दिखूंगी,

 

Ehsaas whatsapp status

 

जिसकी दीवारें तो बरकरार हो

   मग़र उजड़ी हुई..!!

 

एहसासों की नमी बेहद जरुरी है हर रिश्ते में,

रेत भी सूखी हो तो हाथों से फिसल जाती है।

 

मोहब्बत एक एहसासों की पावन सी कहानी है

कभी कबीरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है

 

बस एक कलम हूँ मैं

हर रंग के रिश्ते में डूबकर

खुद को ही रंग रही हूँ मैं

जिंदगी के पन्ने में जिम्मेदारी

संग लिए दौड़ रही हूँ मैं

कभी एहसासों और अल्फाज़ो

में छुप कर बह रही हूँ मैं

वक्त की बंदिश मैं कैद होकर

धीरे-धीरे चल रही हूँ मैं

किसी किताब के कोरे कागज पर

अपनी छाप छोड़ रही हूँ मै

 

सहेज रही हूँ खुद को

अपने ही अल्फाजों से

बदल रही हूँ अपना कल

शब्दों के एहसासों में..

 

कुछ अधूरे एहसासों ने ही थामा है हर पल…

चाँद तो पूरा हो कर भी रात का न हुआ…

 

मुक़द्दर से अब कोई शिक़ायत नहीं रही

जो एहसासों में जी लिया, हक़ीक़त से कम नहीं

 

एहसासों को विराम दो अब

इन रिश्तों को नाम दो अब

लबों की लबों से बुझती नही प्यास

किसी और चीज़ का जाम दो अब

मेरे नाम की मुझको शाम दो अब

 

थक सी गयी हूँ…. खुद से

ए दिल,बस अब कोई ख्वाईश ना कर..

वो मेरा है और हमेशा मेरा रहेगा

बेवज़ह… एहसासों की नुमाइश ना कर

 

शब्द एहसासों को सहारा देते है..

पर कुछ एहसास ख़ामोशी में संवरते है ….

 

महसूस होते हुए एहसासों का मिलना

यूँ तड़प कर के दो प्यासो को मिलना,

अक्सर याद आता है मुझे मेहब्बत में

उसकी साँसों से मेरी साँसों का मिलना,

 

मुश्किल ही लगता था..

उन एहसासों को भूल पाना..

पर ये ज़रूरी तो नही..

की हर मुश्किल सिज़..

नामुमकिन ही हो…

 

एहसासों की दुनियां को

इस कदर साथ मिल जाय

काश वो रूठ के गले लगे

और पूछे क्या हुआ चलो

फिर से मुस्कुराया जाय.

 

Ehsaas shayari images

इस पेज के आखिर में हम कुछ खुबसूरत एहसास शायरी इमेजेस भी पेश कर रहे हैं, you can download these Ehsaas Shayari Images and share.

Ehsaas Shayari

 

Ehsaas Shayari

 

Ehsaas Shayari

 

 

ehsaason par shayari

 

 

Shayari on Ehsaas

 

एहसास शायरी

 

 

एहसास शायरी

 

एहसास शायरी

 

एहसास शायरी

 

Ehsaas  Shayari, Shayari on Ehsaas, Ehsaas ki Shayari, mere Ehsaas,

 Ehsaas Hindi Shayari,  Ehsaas shayari whatsapp status, Ehsaas hindi Status, Hindi Shayari on Ehsaas Ehsaas whatsapp status in hindi, 2 Line Ehsaas  Shayari, Sher on Ehsaas, Ehsaason Shayari