चार्ल्स डार्विन ने किस पक्षी को देख कर इवोल्यूशन का सिद्धांत दिया

चार्ल्स डार्विन और इवोल्यूशन का सिद्धांत 

चार्ल्स डार्विन को इवोल्यूशन के सिद्धांत के पिता के रूप में जाना जाता है, डार्विन जब जवान थे तब उन्होंने एक समुद्री यात्रा की  वे सन 1831 में एक समुद्री जहाज में उत्तरी अमेरिका महाद्वीप के चारों ओर वैज्ञानिक अभियान पर निकल पड़े. यह एक वैज्ञानिक अभियान था जिसे की दक्षिणी अमेरिका महाद्वीप के चारों ओर चक्कर लगाना था तथा कई जगह पर रुक कर वैज्ञानिक अध्ययन करने थे , डार्विन को हर जगह के जीव जंतु और पेड़ पौधों के अध्ययन का काम सौंपा गया था, डार्विन रास्ते में प्रत्येक स्थान से जीव जंतुओं के नमूने एकत्रित कर यूरोप ले गए थे.

अपने इस अभियान के दौरान चार्ल्स डार्विन  प्रसिद्ध द्वीप समूह Galapagos  पर भी रुके चार्ल्स डार्विन ने देखा कि एक छोटे प्रकार का पक्षी जिसे finche फिंच कहते हैं इन  सभी द्वीपों में पाया जाता है, परंतु प्रत्येक द्वीप पर अलग-अलग तरह के फिंच पक्षी पाए जाते हैं, फिंच पक्षियों की इस विशेषता की वजह से डार्विन अपने नेचुरल सिलेक्शन और एवोल्यूशन के सिद्धांत को विकसित कर पाए.

Galapagos द्वीप समूह के अंतर्गत 13 बड़े द्वीप तथा सैकड़ों छोटे छोटे द्वीप हैं, यह द्वीप अनोखे जीव जंतुओं का आवास है इन जीव-जंतुओं में विशालकाय कछुए इगुआना सील्स शार्क मछलियां और 26 प्रकार के पक्षी प्रमुख है इन 26 प्रकार के पक्षियों में से 14 फिंच पक्षी की प्रजातियां हैं विज्ञान के अनुसार फिंच पक्षि सबसे तेज विकसित होने वाले प्राणियों में से एक हैं, ऐसा इसलिए है क्योंकि यह पक्षी अपने आसपास की तेजी से बदलते हुए वातावरण के अनुसार अपने आप को बदल लेते हैं जिससे कि इनका जीवन सुरक्षित रहता है

फिंच पक्षियों की विशेषता

फिंच पक्षियों की यह विशेषता होती है कि  देखने में तो सभी 14 प्रजातियां देखने में तो एक प्रकार की होती है परंतु अंतर केवल इनकी चोंच में होता है, इन पक्षियों में अलग-अलग प्रजातियों में अलग-अलग प्रकार की चोच विकसित हो गई है जिस प्रकार का खाना ये खाते हैं उसी प्रकार से इनकी चोंच का विकास हुआ है. द्वीपों में अलग अलग रहने के कारण इनकी चोंच का आकर इनके भोजन के अनुसार हो गया है तथा इनकी 14 अलग-अलग प्रजातियां विकसित हो गई है, फिंच पक्षियों का जिक्र डार्विन ने अपनी प्रसिद्ध किताब Origin of Species  में किया है इस किताब में ही डार्विन ने सबसे पहले फिंच पक्षियों के तेज विकास के बारे में बताया था. फिंच पक्षियों के अध्ययन के बाद ही डार्विन एवोल्यूशन और नेचुरल सिलेक्शन के अपने सिद्धांत को पूर्ण रूप दे पाए थे

Darwin bird hindi, finch bird hindi, which bird darwin, evolution bird hindi, finches beaks hindi, finch bird hindi, finch pakshi

 

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply