शानदार सुनहरा बाज़ है जर्मनी का राष्ट्रीय पक्षी Golden Eagle in hindi

जर्मनी का राष्ट्रीय पक्षी सुनहरा बाज़ Golden Eagle

हर देश का एक झंडा होता है, एक राष्ट्रीय चिन्ह होता है, एक राष्ट्रीय गीत होता है, तथा एक  राष्ट्रीय पशु और एक राशि पक्षी भी होता है, हर देश अपनी संस्कृति और शक्ति को प्रदर्शित करने के लिए पशुओं और पक्षियों के प्रतीकों का उपयोग करते हैं जिस प्रकार भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर है जो कि भारत की विविध संस्कृतियों का प्रतीक है उसी तरह जर्मनी का राष्ट्रीय पक्षी शानदार सुनहरा बाज़ Golden eagle है.

बाज़ पक्षी को प्राचीन काल से ही साहस शक्ति और जीत का प्रतीक माना जाता रहा है, विश्व की कई संस्कृतियों में इस प्रतिक का इस्तेमाल हुआ है, जर्मनी में बाज़ के चिन्ह का उपयोग कई राजाओं ने किया है, जर्मनी के Weimar Republic का निशान भी सुनहरा बाज़ था, इसके बाद जब नाजी जर्मनी में सत्ता में आए तो उन्होंने भी इसे अपना प्रतीक बनाए रखा, सुनहरा बाज़ करीब 800 सालों से  जर्मनी का coat of arms बना हुआ है. आइये जानते हैं इस ताकतवर पक्षी के बारे में

सुनहरा बाज़  Golden eagle कैसा होता है 

हर देश का एक झंडा होता है, एक राष्ट्रीय चिन्ह होता है, एक राष्ट्रीय गीत होता है, तथा एक  राष्ट्रीय पशु और एक राशि पक्षी भी होता है, हर देश अपनी संस्कृति और शक्ति को प्रदर्शित करने के लिए पशुओं और पक्षियों के प्रतीकों का उपयोग करते हैं जिस प्रकार भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर है जो कि भारत की विविध संस्कृतियों का प्रतीक है उसी तरह जर्मनी का राष्ट्रीय पक्षी शानदार सुनहरा बाज़ Golden eagle है.

सुनहरे बाज़ Golden eagle उत्तरी गोलार्ध में सबसे प्रमुख पसंद किया जाने वाला शिकारी पक्षी है, बाज़ की प्रजाति में यह काफी विस्तृत इलाके में पाया जाता है, सुनहरा बाज़ Accipitridae वर्ग का सदस्य है,  सुनहरा बाज़ एक दक्ष शिकारी होता है यह अपनी तेज गति और मजबूत पंजो का इस्तेमाल करके कई तरह के जानवरों का शिकार करता है, इसके आक्रामक और शक्तिशाली व्यवहार की वजह से विश्व की कई संस्कृतियों में इसे सम्मान के साथ देखा जाता है.

सुनहरा बाज़ Golden eagle एक बड़े आकार का बाज़ होता है जिसका मुख्य रंग गहरा भूरा होता है इसके पंखों का फैलाव 5 से 7 फीट के बीच होता है, इसका वजन 3.5  किलो से लेकर 5 किलो तक हो सकता है इस शिकारी पक्षी के ढाई इंच चौड़े मजबूत पंजे होते हैं नर और मादा दोनों बाज़ पक्षी एक जैसे ही दिखाई देते हैं, इनके सर के ऊपर तथा गर्दन में सुनहरे पंख पाए जाते हैं इसीलिए इस प्रजाति का नाम सुनहरा बाज़ रखा गया है

सुनहरे बाज़ की उड़ान Golden eagle speed 

सुनहरा बाज़ सामान्यता 28 से 32 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ते होते हैं शिकार के लिए गोता लगाते समय इनकी गति 120 मील प्रति घंटे तक हो सकती है शिकार को पकड़ने के लिए गोता लगाते समय यह अपने पंखों को शरीर से सटा लेते हैं और बहुत तेजी से शिकार पर हमला करते हैं.

सुनहरे बाज़ पक्षी का आवास और व्यवहार Golden eagle Habitat and Diet

सुनहरे बाज़ को खुले मैदानो में रहना पसंद होता है, यह शहरों से दूर रहता है, सुनहरे बाज़ की कई  प्रजातियां पहाड़ों और खुले मैदान में पाई जाती है यह अपना घोंसला अक्सर पहाड़ों पर बनाता है तथा यह अपने घोंसले से 76 वर्ग मील के दायरे में शिकार करता है एक व्यस्क सुनहरे बाज़ को प्रतिदिन 250 ग्राम मांस की आवश्यकता होती है, आश्चर्यजनक रूप से यह 7 दिन तक बिना कुछ खाए भी रह सकता है.

Golden eagle in hindi, hindi essay on golden eagle, national bird of Germany, germany ka rashtriya pakshi, golden eagle ki jankari,

 

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply