Hindi Jokes – गुरू जी नमस्ते! पहचाना

Hindi Jokes

गुरू जी नमस्ते! पहचाना..??
.
मैँ आपका शिष्य कल्लू बोल रहा हूँ।
.
”अरे ! कल्लू कैसे हो तुम ?? आज इतने सालो बाद
मेरी याद कैसे आ गई ?? .
…और मेरा फोन नम्बर कैसे मिल गया??”
.
गुरूजी ! फोन नम्बर ढ़ुंढ़ना कौन सा मुश्किल था ?
जब प्यासे को प्यास लगती है तो जलस्रोत ढ़ुंढ़
ही लेता है। .
…दरअसल गुरू जी हमने एक नया रोजगार शुरू
किया है।
…और आपने बचपन मेँ कहा था की जब
भी कोई काम शुरू करना हमसे उदघाटन जरूर
कराना।
. …तो हम अपने काम का उदघाटन आपसे
ही कराना चाहते है।
.
”अतिसुन्दर ! वत्स। बताओ कहाँ आना है उदघाटन
के लिये हमेँ ? ”
. गुरूजी ! आप पुराने खंडहर के पास चार लाख
रूपया लेके आ जाईये। ..
.
आपका ‘छोटूवा’ हमरे कब्जे मेँ है। आज से
ही ‘अपरहण’ का धंधा चालू किया तो सोचा की ‘उदघाटन’ आपके शुभ हाथो से ही हो।
↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓↓

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *