Hindi Kahani आपको किस तरह याद किया जायेगा!!!

Hindi Kahani आपको किस तरह याद किया जायेगा!!!

Hindi Kahani - alfred nobel
Hindi Kahani आपको किस तरह याद किया जायेगा!!!

Hindi Kahani – How You will be Remembered in Hindi

हिंदी कहानी – आपको किस तरह याद किया जायेगा!!!

करीब १२० साल पहले एक आदमी सुबह उठा और अख़बार पढने लगा, परन्तु वह भयंकर आश्चर्य में पड़ गया जब उसने अपनी तस्वीर, “निधन सुचना” वाले कॉलम में छपी देखी! अख़बार वालों ने गलती से उसकी म्रत्यु का समाचार अख़बार में छाप दिया था!

पहले तो वह हेरत में पड़ गया, थोड़ी देर संभलने के बाद फिर उसका ध्यान,उसके बारे में लोगों की प्रतिक्रिया पर गया! उसने पढ़ा की लोग उसकी मोत की खबर पर क्या कह रहे थे।

“डायनामाइट का राजा मर गया!” “वह मौत का सोदागर था”

यह व्यक्ति डायनामाइट का अविष्कारक था, और जब उसने यह शब्द पढ़े “मौत का सोदागर” तो उसने अपने आप से एक सवाल पुछा।

“क्या मेरे मरने के बाद मुझे इस तरह से याद किया जायेगा???”

यह बात उसके दिल पर लग गई, उसने फैसला किया की वह इस तरह से हरगिज़ याद किया जाना नहीं चाहता।उस दिन से उसने शांति के लिए काम करना शुरू किया। उस व्यक्ति का नाम अल्फ्रेड नोबल था और आज लोग उसे महान नोबल पुरुस्कार के ज़रिये याद करतें हैं।

सन १९०१ से, नोबल पुरुस्कार से उन लोगो को सम्मानित किया जाता है जो भोतिकी, रसायन, चिकित्सा विज्ञान, साहित्य और शांति के क्षेत्र में अद्वितीय उपलब्धि हांसिल करतें हैं।

Hindi Kahani Nobel prize
Hindi Kahani Nobel prize

नोबल पुरुस्कारों की नीव तब पड़ी, जब सन १८९५ में अल्फ्रेड नोबल ने अपनी वसीयत में इस पुरुस्कार को स्थापित करने के लिए अपनी सारी संपत्ति लिख दी।

जो सवाल अल्फ्रेड नोबल ने अपने आप से पुछा था, वही सवाल, हम सब भी, अपने आप से पूछ सकतें हैं की

हमें किस तरह से याद किया जायेगा?

हम पीछे क्या छोड़ कर जाने वालें हैं?

क्या हमारे जाने के बाद हमारी कमी महसूस की जाएगी?

क्या हमें प्यार और सम्मान के साथ याद किया जायेगा?

सभी हिंदी कहानियों की लिस्ट यहाँ है।
List of Inspiring Hindi Stories

Hindi Kahani - Nobel prize2
Hindi Kahani – Nobel Prize story in hindi

1 thought on “Hindi Kahani आपको किस तरह याद किया जायेगा!!!”

Leave a Reply