Hindi Kahani जले हुए बिस्किट - Net In Hindi.com

Hindi Kahani जले हुए बिस्किट

 hindi kahani jale huye biscuits

Hindi Kahani jale huye biscuits

Hindi Kahani – Burned Biscuits

हिंदी कहानी – जले हुए बिस्किट

एक बार अमेरिका में, एक छोटा सा सुखी परिवार रहता था।  जॉन और मैरी दोनों ही कामकाजी माता पिता थे। उनकी एक छोटी लड़की थी, जिसका नाम उन्होंने ओलिविया रखा था। सभी रात्रि का भोजन साथ साथ करते थे, क्यों की, दिन में तो दोनों अपने अपने ऑफिस और लड़की स्कूल में होती थी।
मेरी को रात के खाने में तरह तरह के व्यंजन बनाने का शोक था।  (Hindi Kahani)

एक दिन मैरी ने हर रोज़ की तरह, आफिस से आकर सबके लिए खाना बनाया, उसने ऑमलेट और जले हुए बिस्किट की प्लेट जॉन के सामने रख दी। ओलिविया यह सब देख रही थी, उसे लगा की उसके पिता, जले हुए बिस्किट को देखकर नाराज़ हो जायेंगे और कुछ कहेंगे, लेकिन एसा कुछ नहीं हुआ। जॉन ने मुस्कुराते हुए जले हुए बिस्किट खा लिए, और उससे उसकी पढ़ाई और स्कूल के बारे में पूछने लगे! (Hindi Kahani)

burned-biscuits Hindi Kahani

Hindi Kahani jale huye biscuits

 डिनर के बाद, मैरी ने जॉन से बिस्कुटों के जल जाने पर माफ़ी ज़ाहिर की, जॉन ने प्यार से मज़ाक में कहा ” हनी, मुझे जले हुए बिस्कुट पसंद हैं। ओलिविया यह जवाब सुनकर हैरत में पड गयी! उसने अपने पिता से कहा “पापा क्या आपको वाकई में जले हुए बिस्किट पसंद हैं ?”  (Hindi Kahani)

जॉन ने मुस्कुराते हुए ओलिविया की और देखा और कहा ” बेटा! तुम्हारी मम्मी ने सारा दिन ऑफिस में मेहनत की, और वह बहुत थकी हुई है, इसके बावजूद उसने हम दोनों की लिए कुकीज़ और बिस्कुट्स बनाये, क्या यह कम है?

ओलिविया यह जवाब सुनकर मुस्कुरा दी।

दोस्तों! ज़िन्दगी अपूर्ण चीज़ों और अपूर्ण व्यक्तियों से भरी हुई है, हर इंसान सम्पूर्ण या परफेक्ट नहीं होता उसमे कुछ ना कुछ कमी होती ही है।
एक स्वस्थ, बढ़ता हुआ, हमेशा रहने वाला रिश्ता और परिवार  बनाने के लिए, सबसे महत्वपूर्ण तरकीबों में से एक है, एक दुसरे की गलतियों को स्वीकार करना और एक दुसरे के विचारों के मतभेदों को अपनाना।  

 So the moral of this Hindi Kahani is

life is full of imperfect things…….And imperfect people, accept them.

See List of All Hindi Stories

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *