Hindi Kahani सकारात्मक चीज़ों पर ध्यान दें!

Hindi Kahani सकारात्मक चीज़ों पर ध्यान दें!

Hindi Kahani think positive
Hindi Kahani सकारात्मक चीज़ों पर ध्यान दें!

Hindi Kahani – Focus on Positive Things in Life

हिंदी कहानी – सकारात्मक चीज़ों पर ध्यान दें!

एक दिन एक प्रोफेसर क्लास में आये और उन्होंने छात्रों से कहा की वे एक सरप्रईज़ टेस्ट के लिए तैयार हो जाएँ!

छात्र बेसब्री और उत्सुकता से टेस्ट पेपर का इंतज़ार करने लगे! प्रोफेसर ने सभी छात्रों की टेबल पर एक पेज उल्टा रखवा दिया, जब सब पेपर रखे जा चुके तो प्रोफेसर ने कहा की अब कागज़ को पलटें और टेस्ट शुरू करें ।

जब छात्रों ने पेज पलट कर देखा तो सभी हैरत में पड़ गए! पेज पर कोई भी सवाल नहीं था…….केवल पेज के मध्य में एक काला धब्बा था! छात्रों के चेहरों को देखकर प्रोफेसर ने कहा

“आपको जो दिखाई दे रहा हे वह लिखें!”

कुछ देर बाद प्रोफेसर ने सभी से टेस्ट पेपर वापस ले लिए और पत्येक पेज पर लिखे हुए उत्तर को पढ़कर सुनाने लगे, सभी छात्रों ने काले धब्बे के बारे में लिखा था! सब उत्तर पढने के बाद प्रोफेसर ने समझाना शुरू किया।

“में इस टेस्ट के नंबर नहीं जोडूगा, मेने यह टेस्ट सिर्फ आपको कुछ समझाने की लिए दिया था! किसी ने भी कागज़ के सफ़ेद भाग के बारे में कुछ नहीं लिखा! सभी ने केवल ब्लैक डॉट पर ही फोकस किया। यही हम सब अपनी ज़िन्दगी में भी करतें हैं, हमारे पास बहुत सा सफ़ेद पेपर होता है पर हम उस पर ध्यान नहीं देते केवल काले धब्बों पर ही ध्यान लगते हैं!

ज़िन्दगी इश्वर द्वारा दिया गया अनमोल उपहार है, ज़िन्दगी में बहुत सी अच्छी चीजें हैं, हमारा परिवार और दोस्त, हमारा काम जो हमें पैसा और इज्ज़त दोनों देता है, प्राकृतिक सोंदय जो हमारे चारों और है …..

Hindi Kahani - Sakaratmak soch
Hindi Kahani सकारात्मक चीज़ों पर ध्यान दें!

“ लेकिंग फिर भी हम नकारात्मक चीजों पर अपना ध्यान लगाये रखते हैं, स्वस्थ समस्या, धन की कमी, किसी से झगडा, किसी काम में असफलता आदि। ये काले धब्बे बहुत छोटें हैं उन सकारात्मक चीज़ों की तुलना में जो ज़िन्दगी में हमें मिली हैं! लेकिन हम लोग नकारात्मक चीजों से ही अपना मन प्रदूषित कर लेतें हैं।”

Moral of this Hindi Kahani is

“खुश रहें और हमेशा सकारात्मक चीज़ों पर ध्यान दें !”

Be happy and live a life positively!

सभी हिंदी कहानियों की लिस्ट यहाँ है।

List of all Hindi Stories

Leave a Reply