Hindi Kahani हौंडा की सफलता की प्रेरक कहानी

Hindi Kahani हौंडा की सफलता की प्रेरक कहानी

Hindi Kahani हौंडा की सफलता की प्रेरक कहानी

Hindi Kahani- Inspiring Success story of Honda

List of all Hindi Stories

हिंदी कहानी  हौंडा की सफलता की प्रेरक कहानी

सभी हिंदी कहानियों की लिस्ट यहाँ है।

सन १९३८ की बात हैं, जापान में मिस्टर हौंडा एक गरीब छात्र थे, जिनका सपना था की वे एक पिस्टन रिंग बनायें और उसे टोयोटा कारपोरेशन को बेच सकें ! दिन के समय वे स्कूल जाते और रात के समय पिस्टन डिज़ाइन करते ।

उन्होंने अपना सारा पैसा इस काम में लगा दिया, शादी के बाद उन्होंने अपनी पत्नी की सब ज्वेलरी भी बेचकर सारा धन इस काम में लगा दिया (भारत में यह संभव नहीं है 🙂 ) और आख़िरकार उन्होंने वह पिस्टन बना ही लिया ।

उन्होंने बड़ी कंपनी टोयोटा को यह पिस्टन दिखाया और ….टोयोटा ने उनका बनाया हुआ पिस्टन रिजेक्ट कर दिया।

मिस्टर हौंडा बहुत व्यथित और दुखी हुए, क्यों की इस काम को पूरा करने में वे दिवालिया हो चुके थे । लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी, बल्कि अगले दो वर्षो की कड़ी मेहनत से पिस्टन रिंग की डिज़ाइन में सुधार किया ।

नए डिज़ाइन को लेकर वो फिर टोयोटा के पास गए, इस बार टोयोटा ने उनका पिस्टन खरीद लिया और एक बड़ा आर्डर दिया।

अपनी पिस्टन फेक्टरी बनाने के लिए हौंडा को सीमेंट की ज़रुरत थी, लेकिन उस समय द्वतीय विश्व युद्ध छिड़ा हुआ था और सीमेंट उपलभ्ध नहीं थी । एक बार फिर उनका सपना असंभव लगने लगा! लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर सीमेंट कंक्रीट उत्पादन का एक नया तरीका खोज निकला। आखिरकार उनकी पिस्टन फैक्ट्री बन गयी और वे पिस्टन रिंग का निर्माण करने लगे ।

कहानी यहीं पर ख़त्म नहीं होती है, अमेरिकी लड़ाकू जहाजों ने उनकी फैक्ट्री बमबारी करके नष्ट कर दी!

रोने धोने के बजाय उन्होंने एक बहुत बढ़िया आईडिया सोच लिया ।

उन्होंने फैसला किया की वे जापान के हर सायकल विक्रेता को एक ख़त लिखेंगे और कहेंगे की युद्ध में तबाह हो जाने के बाद, जापान को पुनः गतिशील बनाने का उनके पास एक हल है । उन्होंने एक मोटर बाइक का निर्माण किया है जो सस्ती होगी और लोग उसकी सहायता से जहाँ चाहे जा सकेंगे” । फिर उन्होंने सभी विक्रेताओं से इस कंपनी में इन्वेस्ट करने के लिए कहा । १८००० में से ३००० विक्रेताओं ने हौंडा को पैसे दिए।

Hindi Kahani - First bike of Honda

Hindi Kahani – First bike of Honda

हौंडा ने अपनी बाइक बनायीं, मोटर सायकिल बड़ी और भारी थी! केवल कुछ जापानियों ने ही इसे ख़रीदा !!!

उन्होंने फिर अपनी डिज़ाइन में सूधार किया और एक छोटी और हलकी बाइक बनायीं और उसका नाम रखा “The Cub” । लोग हाथों हाथ उसे खरीदने लगे !!!

आज हौंडा कंपनी कितनी कामयाब है यह बताने की ज़रुरत नहीं है । हौंडा कारपोरेशन में एक लाख से भी ज्यादा लोग काम करतें हैं, और यह कंपनी टोयोटा की टक्कर की कंपनी बन गयी है ।

Hindi Kahani latest Honda Car

Hindi Kahani latest Honda Car

हौंडा ने कभी भी समस्याओ और परिस्थितियों को अपने रास्ते की बाधा नहीं बनने दिया। उन्होंने फैसला कर लिया था की सफल होने का कोई न कोई रास्ता ज़रूर होता है अगर आप वास्तव में उसके लिए समर्पित हैं ।

Hindi Kahani Honda

Hindi Kahani – Honda logo the power of dreams

The Moral of this Hindi Kahani is

There is always a way to succeed if you’re really committed!

“Ultimately, our decisions determine our destiny and not our conditions”

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *