Hindi Shayri – बहुत अंदर तक तबाही

Hindi Shayri – बहुत अंदर तक तबाही

Hindi Shayri –

हिंदी शायरी
बहुत अंदर तक तबाही मचता है
वह आंसू जो आँख से निकल नहीं पता।

Hindi Shayri - बहुत अंदर तक तबाही
Hindi Shayri – बहुत अंदर तक तबाही

Leave a Reply