Hindi Shayri - बहुत अंदर तक तबाही - Net In Hindi.com

Hindi Shayri – बहुत अंदर तक तबाही

Hindi Shayri –

हिंदी शायरी
बहुत अंदर तक तबाही मचता है
वह आंसू जो आँख से निकल नहीं पता।

Hindi Shayri - बहुत अंदर तक तबाही

Hindi Shayri – बहुत अंदर तक तबाही

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *