Hindi Whatsapp message – आँखे तालाब नहीं

Hindi Whatsapp message –

कमल है ना
आँखे तालाब नहीं फिर भी भर आती हैं ,
दुश्मनी बीज  नहीं फिर भी बोई जाती है,
होंठ कपडा  नहीं फिर भी सील जातें हैं ,
किस्मत सखी नहीं फिर भी रूठ जाती है,
बुद्धि लोहा नहीं फिर भी जंग खा जाती है,
आत्मसम्मान शरीर नहीं फिर भी घायल हो  जाता है,
और इंसान मौसम नहीं फिर भी  बदल जाता है।

Hindi Whatsapp message

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

1 Response

  1. Sudha bardia says:

    Good one

Leave a Reply