कैसे बने नासा या इसरो में एस्ट्रोनामर ! How to Become an Astronomer in Hindi

ऐसे बने खगोल शास्त्री या एस्ट्रोनामर !

कैसे बने नासा या इसरो में एस्ट्रोनामर ! How to Become an Astronomer in Hindi, एस्ट्रोनामर कैसे बना जा सकता है?   

एस्ट्रोनॉमी खगोल शास्त्र तारों ग्रहों और गैलेक्सीओं का अध्ययन करने का विज्ञान है,  क्या आप एस्ट्रोनॉमी में दिलचस्पी रखते हैं,  तो एस्ट्रोनामर बनने का करियर च्वायस आपके लिए अच्छा हो सकता है,  एस्ट्रोनामर का काम बड़ा ही अनोखा होता है तथा यह  करियर काफी चैलेंजिंग होता है,  एस्ट्रोनामर बनने के लिए  काफी मेहनत की आवश्यकता होती है , इसके लिए आपको  गणित विज्ञान में उच्च डिग्री के साथ साथ कुछ स्किल्स की आवश्यकता पड़ती है,  इन चीजों का हासिल करने के बाद आप किसी एस्ट्रोनॉमीकल ऑब्जर्वेटरी में एक खगोल शास्त्री की तरह कार्य कर सकते हैं या किसी वैज्ञानिक संस्था जैसे नासा और इसरो में खगोल शास्त्री के पद पर आवेदन दे सकते हैं.

 तो आइए विस्तार से जानते हैं कि आप एक खगोल शास्त्री एस्ट्रोनामर  कैसे  बन सकते हैं?

 एस्ट्रोनामर खगोल शास्त्री  बनने के 3 प्रमुख  चरण

कैसे बने नासा या इसरो में एस्ट्रोनामर ! How to Become an Astronomer in Hindi, एस्ट्रोनामर कैसे बना जा सकता है?   

 प्रथम चरण –  विज्ञान की शिक्षा

एस्ट्रोनामर खगोल शास्त्री  बनने के लिए आपको तीन चरणों की योजना पर काम करना पड़ेगा,  खगोल शास्त्री का पद काफी अहम होता है और इस ऊँचे पद तक पहुंचने के लिए आपको काफी मेहनत की आवश्यकता पड़ेगी.

 हाई  सेकेंडरी स्कूल में गणित  भौतिकविज्ञान और रसायन   प्रथम श्रेणी

 एस्ट्रोनामर खगोल शास्त्री  बनने के आपको गणित भौतिकी और रसायन  विज्ञान में काफी उच्च अंक हासिल करने होंगे,  इसके लिए सामान्य कक्षाओं के साथ साथ इन विषयों की एडवांस कक्षाएं  भी ज्वाइन कर ले इन विषयों में काफी मेहनत करें.  अगर आपको इन विषयों  को समझने में कठिनाई होती है तो आप एक प्राइवेट ट्यूटर भी रख सकते हैं.

 विज्ञान में बैचलर डिग्री

एस्ट्रोनामर खगोल शास्त्री  बनने के लिए आपको विज्ञान में बैचलर डिग्री प्राप्त करनी होगी इसके अंतर्गत भौतिकी रसायन और गणित प्रमुख विषय होनी चाहिए,  कुछ विश्वविद्यालय खासतौर पर एस्ट्रो फिजिक्स की बेचलर  डिग्री प्रदान करते हैं आप इन विश्वविद्यालयों में दाखिला ले सकते हैं.

 इसके लिए आपको किसी काउंसलर की सलाह लेनी पड़ेगी जो आपको बता सकेगा कि कौन कौन से ऐसे विश्वविद्यालय हैं जो आपको एस्ट्रो फिजिक्स की डिग्री देते हैं.  इस बैचलर डिग्री में  भी आपको  काफी  उच्च अंक प्राप्त करने होंगे.

 विज्ञान में मास्टर डिग्री

 इसके बाद आपको विज्ञान में मास्टर डिग्री हासिल करनी होगी यह  2 साल में प्राप्त  होती है,  इसके अंतर्गत एस्ट्रोनॉमी की विशेष कक्षाये  होती है,  इस मास्टर डिग्री के दौरान आपको एस्ट्रोनॉमी में  रिसर्च का मौका भी मिलेगा,  इस  डिग्री के दौरान आपको एक   शोध पत्र भी लिखना होगा जोकि एस्ट्रोनॉमी के किसी एक टॉपिक पर होता है.

 एस्ट्रोनॉमी में पीएचडी.

विज्ञान में मास्टर डिग्री हासिल करने के बाद अगर आप एस्ट्रोनामर बनना चाहते हैं तो आपको एस्ट्रोनॉमी में पीएचडी की डिग्री हासिल करनी होगी,   इस पीएचडी की डिग्री हासिल करने के दौरान आप एस्ट्रोनॉमी के किसी एक विशेष क्षेत्र पर कार्य करेंगे जैसे कॉस्मोलॉजी,  रेडियो  एस्ट्रोनॉमी इत्यादि,  सामान्यतः पीएचडी हासिल करने में 4 से 5 वर्ष का समय लगता है.

एस्ट्रोनॉमी में पीएचडी की डिग्री प्राप्त करने के लिए आपको एस्ट्रोनॉमी के किसी एक क्षेत्र  का गहरा अध्ययन कर एक शोध पत्र प्रस्तुत करना होगा जो कि सामान्य था 80 से तो भेजो का होता है.

 दूसरा चरण –  एस्ट्रोनॉमी की स्किल्स प्राप्त करना

एस्ट्रोनामर  बनने के लिए  दूसरे चरण में आपको  एस्ट्रोनॉमी की स्किल्स प्राप्त करनी होगी  जैसे कि एक ऑप्टिकल टेलीस्कोप के द्वारा यूनिवर्स का अध्ययन,  कंप्यूटर के द्वारा कंट्रोल्ड टेलीस्कोप के द्वारा यूनिवर्स का अध्ययन.  विज्ञान से संबंधित कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की जानकारी, इसके साथ ही साथ आपको कोई एस्ट्रोनॉमी क्लब या एस्ट्रोनामी की संस्था जॉइन करना होगी इससे आप एस्ट्रोनॉमी में दिलचस्पी रखने वाले दूसरे लोगों से संपर्क बढ़ा सकेंगे  और एक टीम  में मिलजुल कर किस तरह कार्य किया जाता है यह सीख सकेंगे.

एस्ट्रोनामर  बनने के लिए  आपको अपनी राइटिंग स्किल्स और वक्तृत्व कला भी बढानी होगी इसके लिए आप किसी  पब्लिक स्पीकिंग क्लास जॉइन कर सकते हैं.

 तीसरा चरण – एस्ट्रोनामर  की जॉब के लिए अप्लाई करना

कैसे बने नासा या इसरो में एस्ट्रोनामर ! How to Become an Astronomer in Hindi, एस्ट्रोनामर कैसे बना जा सकता है?   

 अगर आपने अपनी पीएचडी पूर्ण कर ली है तो आप किसी  यूनिवर्सिटी से जुड़कर रिसर्च के क्षेत्र में कार्य कर सकते हैं किसी यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर ऑफ एस्ट्रोनॉमी के पद पर भी कार्य कर सकते हैं.

 किसी यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर या एस्ट्रोनॉमी के प्रोफेसर के पद के कार्य करते हुए आप एस्ट्रोनॉमी में अपना करियर बना सकते हैं.

 एस्ट्रोनामर  बनने के लिए  एक विकल्प  यह भी है कि आप किसी एस्टॉनोमिकल ऑब्जर्वेटरी में खगोल शास्त्री के पद पर आवेदन दे सकते हैं,

 इसके अलावा आप एयरोस्पेस और कंप्यूटर इंडस्ट्री में कार्य करते हुए भी  एस्ट्रोनॉमी ने अपना करियर बना.  सबसे अच्छा विकल्प किसी स्पेस एजेंसी जैसे इसरो  या नासा में खगोलशास्त्री या वैज्ञानिक या कोई भी और पद पर कार्य करना हो सकता है. एस्ट्रोनामर  बनने के लिए  आप इन संस्थाओं में किसी भी अच्छे पद के लिए आवेदन दे सकते हैं

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *