Jadav Payeng Forest man story in Hindi - Net In Hindi.com

Jadav Payeng Forest man story in Hindi

Jadav Payeng in Hindi

Jadav Payeng Forest man story in Hindi

Jadav Payeng Forest man story in hindi

हिंदी कहानी – फारेस्ट मेन एक और मांझी

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की मांझी फिल्म आने के बाद ऐसे और भी कई किस्से सामने आ रहें हैं, जिनमे किसी अकेले आदमी ने अपने दम पर, लगातार जी तोड़ मेहनत करते हुए कोई चमत्कारिक काम कर दिखाया!

आपने अब तक स्पायडर मेन, बेट मेन के बारे में तो सुना होगा लेकिन आज हम आपको फोरेस्ट मेन की प्रेरणादायक कहानी सुनातें हैं। फोरेस्ट मेन की यह उपाधि उन्हें इन्डियन इंस्टिट्यूट और मेनेजमेंट ने दी है।

क्या कोई अकेला शख्स, बिना किसी संस्था और मशीनरी की मदद से एक १३६० एकड़ जंगल उगा सकता है? वो भी बंजर जमीन में! हर कोई कहेगा नहीं, यह संभव नहीं है! यही बात, भारत के वन विभाग ने भी कही थी असम के जादव मोलाई पायेंग (Jadav Payeng) से।

जादव मोलाई, असम के जोरहट के एक गांव के रहने वालें हैं जिसके पास से विशाल ब्रह्मपुत्र नदी बहती है । जादव को बचपन से ही प्रकृति से प्रेम था, जीव जंतु, पशु पक्षियों को वो बहुत पसंद करते थे। जव वे १६ वर्ष के थे तो उन्होंने देखा की उनके गांव के आस पास पशु पक्षियों की संख्या घटती जा रही है, जब इसका कारण उन्होंने अपने बड़ों से पुछा तो उन्होंने बताया की एसा जंगल के कम होते जाने से हो रहा है। फिर एक दिन जादव ने देखा की बहुत सारे सांप, ब्रह्मपुत्र नदी के एक बंजर टापू पर मरे पड़े हैं, टापू पर कोई भी पेड़ न होने के कारण सेकड़ों सांप अपने आप को नहीं बचा पाए! यह देखकर जादव को बहुत दुःख हुआ। उन्होंने वन विभाग वालों से कहा की “यहाँ आप कुछ पेड़ उगा दीजिये!, पेड़ों के ना होने की वजह से यहाँ जीव मर रहें है!” ।

लेकिन वन विभाग वालों ने कहा की “यह बंजर ज़मीन है और यहाँ कुछ नहीं उग सकता, हाँ अगर तुम चाहो तो वहां बांस के पोधे उगाकर देख सकते हो!”

वन विभाग वालों ने शायद यह बात मजाक में कही थी पर जादव ने इसे गंभीरता से ले लिया।

Jadav Payeng in Hindi2

Jadav Payeng Forest man story in Hindi

जादव ने ब्रह्मपुत्र नदी के बीच एक वीरान टापू पर बीस बांस के पोधे लगाकर शुरुआत की! तीस वर्षों तक हर रोज़ सुबह जागकर वे उस टापू पर पोधे लगाकर आ जाते। इतने सारे पोधों को पानी देना भी अकेले जादव के बस की बात नहीं थी, पर उन्होंने इसके लिए भी एक आयडिया निकाल लिया, उन्होंने हर पोधे के ऊपर एक बांस की तख्ती रखकर उस पर एक मिटटी का घड़ा लगा दिया जिसमे महीन सुराख़ थे। इस तरकीब से नए पोधों को एक हफ्ते तक बूंद बूंद पानी मिलता रहता था।

सन १९८० में जब वन विभाग ने वहां वृक्षारोपण की परियोजना शुरू की तो जादव पायेंग (Jadav Payeng) भी उससे जुड़ गए, और एक मजदूर की तरह काम करते रहे। पांच वर्ष बाद जब परियोजना ख़त्म हो गयी और बाकी सभी कर्मचारी चले गए तब भी जादव पायेंग (Jadav Payeng) ने अपना काम जारी रखा। वे नए पोधे लगाते रहे और पेड़ों की देखरेख करते रहे।

इस तरह तीस वर्षों तक काम करते हुए मोलाई ने लगभग १३६० एकड़ (५५० हेक्टेयर) का जंगल उगा दिया जो की न्यूयार्क के सेन्ट्रल पार्क से भी बड़ा है।

उनके नाम पर इस जंगल का नाम “मोलाई फोरेस्ट” ( Molai Forest) रखा गया है। इस जंगल में बंगाल टाइगर्स, भारतीय गेंडे, सो हिरन, कई प्रजाति के बन्दर, खरगोश, विभिन्न प्रकार के पक्षियों ने अपना घर बना लिया है। सो हाथियों का झुण्ड भी इस जंगल में आता जाता रहता है ।

Molai forest Jadav Payeng in Hindi

Molai forest Jadav Peyang in Hindi

करीब ३०० एकड़ में बांस के जंगल है और बाकी जगह तरह तरह के पेड़ जैसे वल्कोल, अर्जुन, एजर, गुलमोहर, कोरोई, मोज आदि पेड़ हैं।

जादव पायेंग (Jadav Payeng) इसी जंगल में अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ एक कुटिया में रहतें है और गायों का दूध बेचकर अपना जीवन यापन करते है।

जादव पायेंग (Jadav Payeng) को उनके इस अदिवितीय उपलब्धि की लिए सन २०१२ में जवाहर लाल नेहरु विश्विद्यालय द्वारा सम्मानित किया गया, सन २०१३ में इन्डियन इंस्टिट्यूट और फोरेस्ट मेनेजमेंट ने उन्हें पुरुस्कार दिया ।

सन २०१५ में, उन्हें भारत का सबसे उच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से नवाज़ा गया।

दोस्तों, सफलता की कहानी की जब बात होती है, तो अकसर हम लोग ऐसे लोगों के बारे में सुनतें हैं जिन्होंने गरीबी में पैदा होने के बावजूद संघर्ष करते हुए अरबो रूपये की संपत्ति अर्जित कर ली जैसे स्टीव जॉब्स, अम्बानी आदि।

लेकिन असल में अत्यधिक धन अर्जित कर लेना सफलता का एक रूप है, सफलता का एक रूप यह भी है, जो जादव पायेंग ने हांसिल की है। सोचिये! उनके द्वारा उगाये गए जंगल ने कितनी टन शुद्ध आक्सीजन इन तीस सालों में उत्पन्न की है, और आगे भविष्य में ये जंगल कितनी आक्सीज़न, हमारी आने वाली पीढ़ियों को उपलभ्ध कराएँगे ! अगर आक्सीजन की इस विशाल मात्रा की कीमत पता की जाये तो शायद यह भी एप्पल या रिलायंस कंपनी की संपत्ति के बराबर हो!

सभी हिंदी कहानियों की लिस्ट यहाँ है।
List of Inspiring Hindi Stories

Jadav Payeng complete story pics, videos

Photos of Jadav Payeng forest man of India

Jadav Payeng in Hindi4

Jadav Payeng in Hindi

Dr. A.P.J. Abdul Kalam Honouring the Jadav Payeng

Jadav Payeng in Hindi 3

Jadav Payeng in Hindi

Documentary on Jadav Payeng forest man of India

Jadav Payeng Video in TED Talks

Website of Jadav Payeng  www.jadavpayeng.org

 Jadav Payeng Facebook page

Jadav Payeng Forest man story in Hindi, Jadav Payeng padmshri, Jadav payeng in hindi, jadav payeng forest, molai forest, molai forest in hindi, Hindi Inspiring Story, Inspiring story in hindi, Hindi Prerak kahani, inspiring story of jadav payeng

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *