Judai Hindi Shayari जुदाई हिंदी शायरी

judai hindi shayari
Judai Hindi Shayari जुदाई हिंदी शायरी

Judai Hindi Shayari

Here you can get the best collection of Judai Sad Shayari, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Judai Hindi Shayari to your facebook friends.

You can send them as text SMS based on Judai Shayari SMS for someone. These Hindi sher on Judai is excellent in expressing your emotions and love.
For other subject list of all Hindi Shayari is here. Hindi Shayari

जुदाई हिंदी शायरी

जुदाई पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस जुदाई हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। जुदाई के गम पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।
सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*****

गज़ल में गीत में दोहे में और रुबाई में,

कहां कहां नही ढूंढा तुझे जुदाई में ।।

***

क़हर है तेरी जुदाई

पर अपना दिल भी अब पत्थर हो चला है..

***

ना मेरी नीयत बुरी थी, ना उसमे कोई बुराई थी

सब मुक़द्दर का खेल था बस किस्मत में जुदाई थी

***

मिलन मुमकिन ही नहीं है तो ना कर जुदाई का ग़म.. ज़िंदगी जी ले ‘यार’.. दूर से ही सही, दोस्ती का ये बंधन यादों से ही निभा लेंगे ‘तुम हम’

*** Judai Hindi Shayari

उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया;

कट गई उम्र हमें प्यार करना नहीं आया;

उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई;

और हमें इंकार करना नहीं आया।

***

जिंदगी में मोहब्बत की जुदाई होती है

कभी कभी प्यार में बेवफाई होती है

हमारी तरफ हाथ बढ़ा के तो देखो

दोस्ती में कितनी सच्चाई होती है

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Judai Status Pictures – Judai dp Pictures – Judai Shayari Pictures

काश यह जालिम जुदाई न होती!

ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायीं न होती!

न हम उनसे मिलते न प्यार होता!

ज़िन्दगी जो अपनी थी वो परायी न होती..!

***

मोहब्बत रब से हो तो सुकून देती हैं ..

न खतरा हो जुदाई का न डर हो बेवफाई का

***

दिल लेकर मेरा अब जान मांगते है।

कैसा संगदिल है सनम मेरा, प्यार सीखा कर वो जुदाई मांगते है।

***

जुदाई हल नही है मसलों का..

तुम समझते क्यूँ नही बात मेरी..

***

किस्मत पर एतबार किसको है

मिल जाये खुशी का इंकार किसको है कुछ मजबूरियां है

मेरे दोस्त वरना जुदाई से प्यार किसको है |

*** Judai Hindi Shayari

लाएँगे कहाँ से हम, जुदाई का हौसला ,

क्यों इस क़दर मेरे करीब आ रहें हैं आप …

***

तेरी चाहत में , तेरी मुहब्बत में ,तेरी जुदाई में …

कोई रोज़ टूटता है पर आवाज नहीं करता…!

***

हर मुलाकात पर वक्तका तकाज़ा हुआ

हर याद पे दिल का दर्द ताजा हुआ

सुनी थी सिर्फ हमने गज़लों मे जुदाई की बातें

अब खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ

***

उन्हें अपनी मोहब्बत पे हे गुरुर तो हमे भी तो अपनी मोहब्बत पे हे नाज

जुदाई में भी कभी बदलेगा नही हमारी चाहत का अंदाज

***

अब अगर मेल नही है तो जुदाई भी नही,

बात तोड़ी भी नही तुमने बनाई भी नही

***

इक तेरी जुदाई के दर्द की बात और है

जिन को न सह सके ये दिल,ऐसे तो गम नहीं मिले

*** Judai Hindi Shayari

“अंगड़ाई पे अँगड़ाई लेती है रात जुदाई की..

तुम क्या जानो,तुम क्या समझो. बात मेरी तन्हाई की”

***

कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतज़ार है,

जुदाई के बाद भी तुम से प्यार है!

***

ज़िंदगी मे किसी से जुदाई का ज़िक्र मत करना…

इस दोस्त से कभी रुसवाई मत करना……

***

.हर मुलाकात का .. अंजाम , जुदाई .. क्यों है –

अब तो हर वक्त .. यही बात , सताती है .. हमें

***

तेरी हर अदा मोहब्बत सी लगती है
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है
पहले नही सोचा था अब सोचने लगे है
हम जिंदगी के हर लम्हों में तेरी ज़रूरत सी  लगती है

*** Judai Hindi Shayari

हम आशिक जुदाई के गिरने भी नहीँ देते

बेचैन सी पलकोँ पर मोती से पीरोते हैँ

***

तेरी तस्वीर को सीने से लगा लेती हूँ..

इस तरह जुदाई का गम मटा लेती हूँ..!

***

दोस्तो की जुदाई का गम ना करना,
दुर रहो तो भी दोस्ती कम ना करना,
अगर मिले जिँन्दगी के किसी मोड पर हम,
तो हमे देख कर अपनी आँखे बन्द ना करना।

***

तू क्या जाने क्या है तन्हाई„

इस टूटे दिल से पूछ क्या है जुदाई

बेवफाई का इल्ज़ाम न दे ज़ालिम„

इस वक़्त से पूछ किस वक़्त तेरी याद ना आई…!!!

***

जिंदगी के रूप में दो घूंट मिले, इक तेरे इश्क का पी चुके हैं..दुसरा तेरी जुदाई का पी रहे हैं…।।

***

प्यार करना हमें भी पसंद है पर जुदाई पसंद नहीं।

जुदाई तो सह भी लेता पर बेवफाई पसंद नहीं।

***

जुदाई की ये गर्म रातें अब हमें नहीं सुहाती

कभी यूं भी हो कि सर्द रात हो और हम फिर करीब हो!

***

हम ने माँगा था साथ उनका,वो जुदाई का गम दे गए,

हम यादो के सहारे जी लेते,वो भुल जाने की कसम दे गए!

*** Judai Hindi Shayari

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम

तू मुझ से ख़फ़ा है, तो ज़माने के लिए आ..

***

मुस्कुराने की आदत भी कितनी महँगी पड़ी हमे;

छोड़ गया वो ये सोच कर की हम जुदाई मे भी खुश हैं ….

***

मुझसे अलविदा कहते हुए, मैंने जब उससे पूछा , के कोई निशानी दे दो…!! • • वो मुस्कुराते हुए बोली …, जुदाई ही काफी है … !!

***

तेरा तो है हिसाब बरसों का मैं तो लम्हों में रोज़ जीता हूँ

हिज्र में है ये ज़िन्दगी गुज़री ग़म जुदाई का रोज़ पीता.

***

तेरी जुदाई का शिकवा करूँ भी तो किससे करूँ।

यहाँ तो हर कोई अब भी मुझे तेरा समझता हैं।

***

कितनी सुधर गई है जुदाई में जिंदगी

वो बेवफाई करके मुझ पर अहसान कर गया..!!

***

जिंदगी मोहताज नहीं मंज़िलों की वक्त हर मंजिल दिखा देता है;
मरता नहीं कोई किसी की जुदाई में वक्त सबको जीना सिखा देता है।

***

तेरे ना होने से जिंदगी में बस इतनी सी कमी रहती है , •

मैं चाहे लाख मुस्कुराऊ इन आँखों में नमी ही रहती हैं..!

***

ये माना की कोई मरता नहीं जुदाई में…
लेकिन जी भी तो नहीं पाता तन्हाई में…

***

हर कदम पे आपका एहसास चाहिए,
मुझे आपका साथ अपने पास चाहिए,
रब भी रो पड़े हमारी जुदाई से,
ऐसा एक रिश्ता ख़ास चाहिए

***

जुदा होकर भी जी रहे हैं एक मुद्दत से ,

कभी दोनों ही कहते थे जुदाई मार डालेगी !!!

***

बिछडते बिछडते पलट कर उसने सौ बार देखा,

जुदाई की सारी रस्में निभाती गई वो।।

***

युँ तो दुनियाँ का हर गम सहा हँसते हँसते,

न जाने क्यों तेरी जुदाई बर्दास्त नहीं होती।

*** Judai Hindi Shayari

लम्हे जुदाई को बेकरार करते हैं,
हालत मेरे मुझे लाचार करते हैं,
आँखे मेरी पढ़ लो कभी,
हम खुद कैसे कहे की आपसे प्यार करते हैं.

***

अकेला सा महसूस करो जब तन्हाई में
याद हमारी जब आये तुम्हें जुदाई मे
महसूस करना तुम्हारे ही पास हू मैं
जब चाहे देख लेना मुझे अपनी परछाई में।

***


Judai hindi shayari in roman Hinglish

Judai par hindi shayari  ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is Judai hindi shayari  ko apane hindi whatsapp status  ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behataren hindi shayari  ko apane doston ko facebook par bhe bhej sakaten hain. Judai ke gam par hindi ke yah sher, apake pyar aur bhavanaon ko vyakt karane mein apake madad kar sakaten hain.sabhe hindi shayari  ke list yahan hain. hindi shayari *****

gazal mein get mein dohe mein aur rubae mein,kahan kahan nahe dhoondha tujhe Judai mein ..***

qahar hai tere Judai…par apana dil bhe ab patthar ho chala hai..***

na mere neyat bure the, na usame koe burae thesab muqaddar ka khel tha bas kismat mein Judai the***

milan mumakin he nahin hai to na kar Judai ka gam.. zindage je le yar.. door se he sahe, doste ka ye bandhan yadon se he nibha lenge tum ham***

judai hindi shayari usako chaha par izahar karana nahin aya;kat gae umr hamen pyar karana nahin aya;usane kuchh manga bhe to mange Judai;aur hamen inkar karana nahin aya.***

jindage mein mohabbat ke Judai hote haikabhe kabhe pyar mein bevafae hote haihamare taraf hath badha ke to dekhodoste mein kitane sachchae hote hai***

kash yah jalim Judai na hote!ai khuda toone yah chez banayen na hote!na ham unase milate na pyar hota!zindage jo apane the vo paraye na hote..!**

*mohabbat rab se ho to sukoon dete hain ..na khatara ho Judai ka na dar ho bevafae ka***

dil lekar mera ab jan mangate hai.kaisa sangadil hai sanam mera, pyar sekha kar vo Judai mangate hai.**

*Judai hal nahe hai masalon ka..tum samajhate kyoon nahe bat mere..**

*kismat par etabar kisako haimil jaye khushe ka inkar kisako hai kuchh majabooriyan haimere dost varana Judai se pyar kisako hai |***

judai hindi shayari laenge kahan se ham, Judai ka hausala ,kyon is qadar mere kareb a rahen hain ap …**

*tere chahat mein , tere muhabbat mein ,tere Judai mein …koe roz tootata hai par avaj nahin karata…!***

har mulakat par vaktaka takaza huahar yad pe dil ka dard taja huasune the sirf hamane gazalon me Judai ke batenab khud pe bete to hakekat ka andaja hua***

unhen apane mohabbat pe he gurur to hame bhe to apane mohabbat pe he najaJudai mein bhe kabhe badalega nahe hamare chahat ka andaj**

*ab agar mel nahe hai to Judai bhe nahe,bat tode bhe nahe tumane banae bhe nahe**

*ik tere Judai ke dard ke bat aur haijin ko na sah sake ye dil,aise to gam nahin mile**

* judai hindi shayari “angadae pe angadae lete hai rat Judai ke..tum kya jano,tum kya samajho. bat mere tanhae ke”**

*koe vada nahin fir bhe tera intazar hai,Judai ke bad bhe tum se pyar hai!**

*zindage me kise se Judai ka zikr mat karana…is dost se kabhe rusavae mat karana……***

.har mulakat ka .. anjam , Judai .. kyon hai -ab to har vakt .. yahe bat , satate hai .. hamen***

tere har ada mohabbat se lagate haiek pal ke Judai muddat se lagate haipahale nahe socha tha ab sochane lage haiham jindage ke har lamhon mein tere zaroorat se lagate hai***

judai hindi shayari ham ashik Judai ke girane bhe nahen detebechain se palakon par mote se perote hain**

*tere tasver ko sene se laga lete hoon..is tarah Judai ka gam mata lete hoon..!**

*dosto ke Judai ka gam na karana,dur raho to bhe doste kam na karana,agar mile jinndage ke kise mod par ham,to hame dekh kar apane ankhe band na karana.**

*too kya jane kya hai tanhae„is toote dil se poochh kya hai Judai…bevafae ka ilzam na de zalim„is vaqt se poochh kis vaqt tere yad na ae…!!!*

**jindage ke roop mein do ghoont mile, ik tere ishk ka pe chuke hain..dusara tere Judai ka pe rahe hain…..***

pyar karana hamen bhe pasand hai par Judai pasand nahin.Judai to sah bhe leta par bevafae pasand nahin.*

**Judai ke ye garm raten ab hamen nahin suhatekabhe yoon bhe ho ki sard rat ho aur ham fir kareb ho!**

*ham ne manga tha sath unaka,vo Judai ka gam de gae,ham yado ke sahare je lete,vo bhul jane ke kasam de gae!**

* judai hindi shayari kis kis ko bataenge Judai ka sabab hamatoo mujh se khafa hai, to zamane ke lie a..***

muskurane ke adat bhe kitane mahange pade hame;chhod gaya vo ye soch kar ke ham Judai me bhe khush hain ….***

mujhase alavida kahate hue, mainne jab usase poochha , ke koe nishane de do…!! • • vo muskurate hue bole …, Judai he kafe hai … !!***

tera to hai hisab barason ka main to lamhon mein roz jeta hoonhijr mein hai ye zindage guzare gam Judai ka roz peta.***

tere Judai ka shikava karoon bhe to kisase karoon.yahan to har koe ab bhe mujhe tera samajhata hain.***

kitane sudhar gae hai Judai mein jindagevo bevafae karake mujh par ahasan kar gaya..!!***

jindage mohataj nahin manzilon ke vakt har manjil dikha deta hai;marata nahin koe kise ke Judai mein vakt sabako jena sikha deta hai.***

tere na hone se jindage mein bas itane se kame rahate hai , •main chahe lakh muskuraoo in ankhon mein name he rahate hain..!***

ye mana ke koe marata nahin Judai mein…lekin je bhe to nahin pata tanhae mein…***

har kadam pe apaka ehasas chahie,mujhe apaka sath apane pas chahie,rab bhe ro pade hamare Judai se,aisa ek rishta khas chahie***

juda hokar bhe je rahe hain ek muddat se ,kabhe donon he kahate the Judai mar dalege !!!***bichhadate bichhadate palat kar usane sau bar dekha,Judai ke sare rasmen nibhate gae vo..***

yun to duniyan ka har gam saha hansate hansate,na jane kyon tere Judai bardast nahin hote.***

judai hindi shayari lamhe Judai ko bekarar karate hain,halat mere mujhe lachar karate hain,ankhe mere padh lo kabhe,ham khud kaise kahe ke apase pyar karate hain.***

akela sa mahasoos karo jab tanhae menyad hamare jab aye tumhen Judai memahasoos karana tumhare he pas hoo mainjab chahe dekh lena mujhe apane parachhae mein।***

 

 

1 thought on “Judai Hindi Shayari जुदाई हिंदी शायरी”

Leave a Comment