Kabir ke Dohe in Hindi कबीर के दोहे - Net In Hindi.com

Kabir ke Dohe in Hindi कबीर के दोहे

Kabir ke Dohe in Hindi

कबीर के दोहे

Kabir ke Dohe in Hindi1

Kabir ke Dohe in Hindi

List of all Hindi Quotes
सभी विषयों पर हिंदी सुविचार की लिस्ट

 

Kabir ke Dohe in Hindi2

Kabir ke Dohe in Hindi

 

Kabir ke Dohe in Hindi3

Kabir ke Dohe in Hindi

Quote1 in Hindi:

चाह मिटी, चिंता मिटी मनवा बेपरवाह ।

जिसको कुछ नहीं चाहिए वह शहनशाह॥

Quote2 in Hindi:

माटी कहे कुम्हार से, तु क्या रौंदे मोय ।

एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूगी तोय ॥ ~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

Quote3 in Hindi:

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर ।

कर का मन का डार दे, मन का मनका फेर ॥

Quote4 in Hindi:

तिनका कबहुँ ना निंदये, जो पाँव तले होय ।

कबहुँ उड़ आँखो पड़े, पीर घानेरी होय ॥ ~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

Quote5 in Hindi:

गुरु गोविंद दोनों खड़े, काके लागूं पाँय ।

बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो मिलाय ॥

Quote6 in Hindi:

सुख मे सुमिरन ना किया, दु:ख में करते याद ।

कह कबीर ता दास की, कौन सुने फरियाद ॥

Quote7 in Hindi:

साईं इतना दीजिये, जा मे कुटुम समाय ।

मैं भी भूखा न रहूँ, साधु ना भूखा जाय ॥ ~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

 

Quote8 in Hindi:

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय ।

माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय ॥ ~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

Quote9 in Hindi:

   कबीरा ते नर अँध है, गुरु को कहते और ।

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर ॥ ~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

Quote10 in Hindi:

माया मरी न मन मरा, मर-मर गए शरीर ।

आशा तृष्णा न मरी, कह गए दास कबीर ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

Quote11 in Hindi:

दुःख में सुमिरन सब करे सुख में करै न कोय।

जो सुख में सुमिरन करे दुःख काहे को होय ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote12 in Hindi:

   सुख मे सुमिरन ना किया, दु:ख में किया याद ।

कह कबीर ता दास की, कौन सुने फरियाद ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote13 in Hindi:

   लूट सके तो लूट ले, राम नाम की लूट ।

पाछे फिरे पछताओगे, प्राण जाहिं जब छूट ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote14 in Hindi:

   जाति न पूछो साधु की, पूछि लीजिए ज्ञान ।

मोल करो तलवार का, पड़ा रहन दो म्यान ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote15 in Hindi:

   धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय ।

माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote16 in Hindi:

   बडा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।

पंथी को छाया नही फल लागे अति दूर ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote17 in Hindi:

   पाँच पहर धन्धे गया, तीन पहर गया सोय ।

एक पहर हरि नाम बिन, मुक्ति कैसे होय ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote18 in Hindi:

कबीरा सोया क्या करे, उठि न भजे भगवान ।

जम जब घर ले जायेंगे, पड़ी रहेगी म्यान ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote19 in Hindi:

   जग में बैरी कोई नहीं, जो मन शीतल होय ।

यह आपा तो ड़ाल दे, दया करे सब कोय ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote20 in Hindi:

   जहाँ काम तहाँ नाम नहिं, जहाँ नाम नहिं वहाँ काम ।

दोनों कबहूँ नहिं मिले, रवि रजनी इक धाम ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote21 in Hindi:

   कामी, क्रोधी, लालची, इनसे भक्ति न होय ।

भक्ति करे कोइ सूरमा, जाति वरन कुल खोय ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote22 in Hindi:

साधु ऐसा चाहिए जैसा सूप सुभाय।

सार-सार को गहि रहै थोथा देई उडाय॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote23 in Hindi:

जो तोको काँटा बुवै ताहि बोव तू फूल।

तोहि फूल को फूल है वाको है तिरसुल॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote24 in Hindi:

उठा बगुला प्रेम का तिनका चढ़ा अकास।

तिनका तिनके से मिला तिन का तिन के पास॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote25 in Hindi:

 

सात समंदर की मसि करौं लेखनि सब बनराइ।

धरती सब कागद करौं हरि गुण लिखा न जाइ॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

Quote26 in Hindi:

उठा बगुला प्रेम का तिनका चढ़ा अकास।

तिनका तिनके से मिला तिन का तिन के पास॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

 

Quote27 in Hindi:

साधू गाँठ न बाँधई उदर समाता लेय।

आगे पाछे हरी खड़े जब माँगे तब देय॥~कबीर के दोहे (Kabir ke Dohe)

 

 

 

Search terms

Kabir, Kabir ke dohe in Hindi, Hindi Quotes of Kabir, Thoughts of Kabir , Kabir Thoughts in Hindi, Hindi Thoughts of Kabir, Quotations of Kabir, Kabir Quotations in Hindi, Hindi Quotations of Kabir, Kabir Whatsapp status in Hindi, Kabir Status in Hindi,

कबीर के दोहे , कबीर के अनमोल वचन, कबीर के सुविचार, कबीर हिंदी में, कबीर के कथन, कबीर के उद्धरण,

 

You may also like...

1 Response

  1. Shivani Khantwal says:

    हिंदी की चौपाइयों और दोहो में कबीर दास ने हम सभी के मन में वो स्थान प्राप्त किया हैं जिसकी कभी कोई जगह नहीं ले सकता. ऐसे महान व्यक्ति को मेरा शत शत प्रणाम और उनके दोहो की पूरी संग्रह श्रृंखला के लिए आपकी आभारी हूँ. धन्यवाद! 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *