Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी
Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi

काजल पर शायरी

आँखों के खूबसूरत काजल पर शेर ओ शायरी,

Hindi Poetry on the Kajal of Eyes

 

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******

 

गाँव छोड़ा तो कई आँखों में काजल फैला

शहर पहुँचा तो किसी माथे पे झूमर झूमा #बशीर_बद्र

***

“काँपती लौ, ये स्याही, ये धुआँ, ये काजल

उम्र सब अपनी इन्हें गीत बनाने में कटी

कौन समझे मेरी आँखों की नमी का मतलब

ज़िन्दगी गीत थी पर जिल्द बंधाने में कटी” (नीरज)

***

तेरी आँखों में समा जाऊँगा काजल की तरह,

तू ढूँढती रह जायेगी मुझे पागल की तरह,,

***

काजल लगे नैनो मे डोरे हुए गुलाबी

कैफियते अंजाम तमाम शहर हुआ शराबी

***

शाम की लाली रात का काजल सुबह की तक़दीर हो तुम

हो चलता फिरता ताजमहल सांसे लेता कश्मीर हो तुम

*** Kajal Shayari in Hindi

आईना नज़र लगाना चाहे भी तो कैसे लगाए,

काजल लगाती है वो आईने में देखकर।

***

गीली मेंहदी रोई होगी, छुपके घर के कोने में!

ताजा काजल छूटा होगा, चुपके-चुपके रोने में!

***

उसका लिक्खा हुआ हर शख्स नहीं पढ़ सकता

वो मिला लेता है काजल में हमेशा आँसू

**

 

वो जो अफसाना-ए-ग़म सुन सुन के हंसा करते थे

इतना रोए कि सब आंख का काजल निकला

*** Kajal Shayari in Hindi

ज़रा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,

दिये से मेरी माँ मेरे लिए काजल बनाती है !~Munavvar Rana

***

तेरे मासूम चहरे पर, अदा अच्छी लगती है।

जिस घडी तु हंस दे, वो दुआ सच्ची लगती है।।

तेरी आँखों में काजल, इक लकीर सी बनाता है।

समंदर पर, ये नक्काशी अच्छी लगती है।।

***

एक मायने में आँखों की हद है ये काजल,

पर तुम्हारी आँखों में हसीन बेहद है ये काजल

***

बांटू ना किसी से साया भी तेरा..

काजल जहाँ वहाँ तेरा बसेरा

*** Kajal Shayari in Hindi

काजल रखो आँखों में, इंतज़ार ना रखो।

खूबसूरत हो तुम, खूबसूरत रहो। बेक़रार न लगो।

***

बादलों से गिरके एक काजल का कतरा होठों पे तेरे तिल बन के सज गया

नज़र लगे ना तुमको किसी की होटों से निकली थी दुआ आसमानों ने सुन लिया

***

 

अलसायी सुबह, फैले हुए काजल में, बिखरे हुए आँचल में,

बचाते बचाते छिपाते छिपाते नुमायां होती है कविता कोई रात की

*** Kajal Shayari in Hindi

रात की चादर पर बूंदे ओस की मोती सी सुबह के आँचल में गर्मी सूरज सी

सब बिखर गया स्याह काजल की तरह ख्वाब यूँ टूटे …..पंखुड़ियां लगी रोती सी

 

हम को तो जान से प्यारी है तुम्हारी आंखे

हाय काजल भरी मदहोश ये प्यारी आंखे

***

चांदनी रात भी जल जाये जब तू काजल लगा के आए

ये दिल भी मेरा हलचल मचाये जब तू काजल लगा के आए

***

गीले लब़~कातिल निगाहें गज़ब का काजल~गुलाबी हो़ठ

पगली तु ही बता ये दिल तुम पे न मरता तो क्या करता

***

काजल,आँखे ,जुल्फ़े,झुमका,चेहरा,बिंदिया

हाये दिल हार गए हम तुम्हे बेनकाब देखकर…!!!

*** Kajal Shayari in Hindi

 

बहुत रोई हुई लगती है आँखें

मेरी ख़ातिर ज़रा काजल लगा लो

***

बसे हो काजल की तरह नैनो मे बन के सपने

रचे हो मेहँदी की तरह हाथो बन के लकीरे

सजे हो लाली की तरह होठो पे बन के मुस्कराहटें

***

लग जाएगी नज़र दुनिया की, जान लो

लगा लो काजल चेहरे पर, गुजारिश मान लो।

***

आंख से बिछड़े काजल को तहरीर बनाने वाले

मुश्किल में पड़ जाएंगे तस्वीर बनाने वाले।

***

वो आँखों में काजल वो बालों में गजरा

हथेली पे इस के हिना महकी महकी ~Hasrat

***

आज फिर हुस्न-ए-दिलारा की वही धज होगी

वो ही ख़्वाबिदा सी आँखें, वो ही काजल की लकीर

*** Kajal Shayari in Hindi

 

हाथ से मेहँदी न बिखरी, आँखों का काजल सलामत

ये भी कोई बात थी, सखी पिया मिलन की रात थी

***

शायद किसी रोज तुम समझ पाओ इस दिल की बेकरारी

और तुम्हारी आंखों के काजल का कोई बहुत गहरा रिश्ता है

***

काजल लगाकर आप महफ़िल के अन्दाज़ को अपना बनाने लगे,

हम तो गाने लगे आपके लिए मोहब्बत में ग़ज़ल

जैसे आप चाँद बनके हमारे लिए रोशनी फैलाने लगे.

***

काजल की क़िस्मत क्या कहिये, नैनों में तूने बसाया

आँचल की क़िस्मत क्या कहिये, तूने अंग लगाया हैं

*** Kajal Shayari in Hindi

काजल बिंदियॉ, कंगन झुमके, ये मेरे ख़ज़ाने हैं,

दिल पंछी बनके उड़ जाता है, हम खोये खोये रहते हैं,,

***

काजल लागे किरकरो, सुरमा सहा ना जाए !

जिन नैनंन में साजन बसे,दूजा कौन समाये !!

***

 

जो बरस जाये वही बादल अच्छे हैं,

जो निगाहों को सजा दे वही काजल सच्चे हैं,

सयानों ने कुछ इस कदर बर्बाद कर दी है दुनिया,

हमें पागल ही रहने दो हम पागल ही अच्छे हैं…!!

***

उस की आँखों में भी काजल फैल रहा है

मैं भी मुड़ के जाते जाते देख रहा हूँ ~जावेद_अख़्तर

***

मुहब्बत की बेनूर ख्वाहिशें और……तेरा गम

हम बिखर से गये….आँखों से काजल की तरह ”

*** Kajal Shayari in Hindi

हाँ, एक और शाम रंगीन हुई है तुम्हारे आँचल की तरह…

और देखो, सुरमयी रंग सजा है तुम्हारे काजल की तरह…

***

महिफल मे आज फिर क़यामत की रात हो गई,

हमने लगाया अपने आखो मे काजल और बिन बादल बरसात हो गई.

***

 

जिसे भी देख लो तुम, वो हुआ एक पल में दीवाना,

तिलिस्मी है बहोत सनम, तुम्हारी आँखों का काजल !!

***

गुलाब से गुलाब का रंग तेरे गालों पे आया; तेरे नैनों ने काली घटा का काजल लगाया;

जवानी जो तुम पर चढ़ी तो नशा मेरी आँखों में आया।

*** Kajal Shayari in Hindi

मेहंदी रची हथेली मेरी ……मेरे काजल वाले नैन रे …….

पिया पल पल तुझे पुकारते होकर बैचेन रे

***

ये नैना ये काजल ये जुल्फे ये आँचल खूबसूरत सी हो

तुम ग़ज़ल कभी दिल हो कभी धड़कन कभी शोला कभी शबनम

तुम्ही ही हो तुम मेरी हमदम

***

हौंसला तुझ में न था मुझसे जुदा होने का;

वरना काजल तेरी आँखों का न यूँ फैला होता।

***

 

जो बनाई है तिरे काजल से तस्वीरे-मुहब्बत,

अभी तो प्यार के रंग से सजाया ही कहाँ है.

***

एक बार इशारा तो कर दे दिल और जिगर तो कुछ भी नहीं

मै खुद को जला सकता हूँ, तेरी आँखों के काजल के लिये…।

***

न रोओ आँख का काजल, निकल कर छूट जायेगा !

ये दिल तेरे अश्क बूंदों में, फिसल कर टूट जायेगा !!

***

याद है अब तक तुझसे बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझे…

तू ख़ामोश खडी थी लेकिन बातें करता था काजल…!!!

*** Kajal Shayari in Hindi

संभालकर ज़रा रखियेगा कदम फूल बिखरे है मगर ठेस लग जायेगी

ये काजल लगाने का क्या फायदा रूप ऐसा है नज़र लग जायेगी !!!!

***

बावरा हुआ जाता हूँ तेरी अखियों में इश्क देखकर,,,

मेरी उम्मीदों का मक़सद तेरी आँखों का काजल ही तो है..!

***

 

Search Tags

Kajal Shayari, Kajal Hindi Shayari, Kajal par Shayari, Kajal whatsapp status, Kajal hindi Status, Hindi Shayari on Kajal, Kajal whatsapp status in hindi, Ankhon ke kajal par shayari,

काजल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, काजल, काजल स्टेटस, काजल व्हाट्स अप स्टेटस, काजल पर शायरी, काजल शायरी, काजल पर शेर, काजल की शायरी, Ankhon ke kajal par shayari


Hinglish

Kajal Shayari in Hindi

काजल पर शायरी

aankhon ke khoobasoorat kaajal par sher o shaayari,hindi poaitry on thai kajal of aiyais

gaanv chhoda to kai aankhon mein kaajal phailaashahar pahuncha to kisi maathe pe jhoomar jhooma #bashir_badr***

“kaanpati lau, ye syaahi, ye dhuaan, ye kaajalumr sab apani inhen git banaane mein katikaun samajhe meri aankhon ki nami ka matalabazindagi git thi par jild bandhaane mein kati” (niraj)***

teri aankhon mein sama jaoonga kaajal ki tarah,too dhoondhati rah jaayegi mujhe paagal ki tarah,,***

kaajal lage naino me dore hue gulaabikaiphiyate anjaam tamaam shahar hua sharaabi***

shaam ki laali raat ka kaajal subah ki taqadir ho tumaho chalata phirata taajamahal saanse leta kashmir ho tum**

* kajal shayari in hindiaina nazar lagaana chaahe bhi to kaise lagae,kaajal lagaati hai vo aaine mein dekhakar.**

*gili menhadi roi hogi, chhupake ghar ke kone mein!taaja kaajal chhoota hoga, chupake-chupake rone mein!**

*usaka likkha hua har shakhs nahin padh sakataavo mila leta hai kaajal mein hamesha aansoo*

*vo jo aphasaana-e-gam sun sun ke hansa karate theitana roe ki sab aankh ka kaajal nikala**

* kajal shayari in hindizara si baat hai lekin hava ko kaun samajhae,diye se meri maan mere lie kaajal banaati hai !~munavvar ran*

**tere maasoom chahare par, ada achchhi lagati hai.jis ghadi tu hans de, vo dua sachchi lagati hai..teri aankhon mein kaajal, ik lakir si banaata hai.samandar par, ye nakkaashi achchhi lagati hai..***

ek maayane mein aankhon ki had hai ye kaajal,par tumhaari aankhon mein hasin behad hai ye kaajal.**

*baantoo na kisi se saaya bhi tera..kaajal jahaan vahaan tera basera***

kajal shayari in hindikaajal rakho aankhon mein, intazaar na rakho.khoobasoorat ho tum, khoobasoorat raho. beqaraar na lago.**

*baadalon se girake ek kaajal ka katara hothon pe tere til ban ke saj gayaanazar lage na tumako kisi ki hoton se nikali thi dua aasamaanon ne sun liya**

*alasaayi subah, phaile hue kaajal mein, bikhare hue aanchal mein,bachaate bachaate chhipaate chhipaate numaayaan hoti hai kavita koi raat ki**

* kajal shayari in hindiraat ki chaadar par boonde os ki moti si subah ke aanchal mein garmi sooraj sisab bikhar gaya syaah kaajal ki tarah khvaab yoon toote …..pankhudiyaan lagi roti siham ko to jaan se pyaari hai tumhaari aankhehaay kaajal bhari madahosh ye pyaari aankhe**

*chaandani raat bhi jal jaaye jab too kaajal laga ke aaeye dil bhi mera halachal machaaye jab too kaajal laga ke aae**

*gile lab~kaatil nigaahen gazab ka kaajal~gulaabi hothapagali tu hi bata ye dil tum pe na marata to kya karata

***kaajal,aankhe ,julfe,jhumaka,chehara,bindiyaahaaye dil haar gae ham tumhe benakaab dekhakar…!!!***

kajal shayari in hindibahut roi hui lagati hai aankhemmeri khaatir zara kaajal laga lo

base ho kaajal ki tarah naino me ban ke sapanerache ho mehandi ki tarah haatho ban ke lakiresaje ho laali ki tarah hotho pe ban ke muskaraahaten**

*lag jaegi nazar duniya ki, jaan lolaga lo kaajal chehare par, gujaarish maan lo.**

*aankh se bichhade kaajal ko taharir banaane vaalemushkil mein pad jaenge tasvir banaane vaale.*

**vo aankhon mein kaajal vo baalon mein gajaraahatheli pe is ke hina mahaki mahaki ~hasrat**

*aaj phir husn-e-dilaara ki vahi dhaj hogivo hi khvaabida si aankhen, vo hi kaajal ki lakir***

kajal shayari in hindihaath se mehandi na bikhari, aankhon ka kaajal salaamataye bhi koi baat thi, sakhi piya milan ki raat thi**

*shaayad kisi roj tum samajh pao is dil ki bekaraariaur tumhaari aankhon ke kaajal ka koi bahut gahara rishta hai**

*kaajal lagaakar aap mahafil ke andaaz ko apana banaane lage,ham to gaane lage aapake lie mohabbat mein gazalajaise aap chaand banake hamaare lie roshani phailaane lage.*

**kaajal ki qismat kya kahiye, nainon mein toone basaayaaanchal ki qismat kya kahiye, toone ang lagaaya hain**

* kajal shayari in hindikaajal bindiyo, kangan jhumake, ye mere khazaane hain,dil panchhi banake ud jaata hai, ham khoye khoye rahate hain,,**

*kaajal laage kirakaro, surama saha na jae !jin nainann mein saajan base,dooja kaun samaaye !!**

jo baras jaaye vahi baadal achchhe hain,jo nigaahon ko saja de vahi kaajal sachche hain,sayaanon ne kuchh is kadar barbaad kar di hai duniya,hamen paagal hi rahane do ham paagal hi achchhe hain…!!***

us ki aankhon mein bhi kaajal phail raha haimain bhi mud ke jaate jaate dekh raha hoon ~jaaved_akhtar***

muhabbat ki benoor khvaahishen aur……tera gamaham bikhar se gaye….aankhon se kaajal ki tarah “***

kajal shayari in hindihaan, ek aur shaam rangin hui hai tumhaare aanchal ki tarah…aur dekho, suramayi rang saja hai tumhaare kaajal ki tarah…***

mahiphal me aaj phir qayaamat ki raat ho gai,hamane lagaaya apane aakho me kaajal aur bin baadal barasaat ho gai.***

jise bhi dekh lo tum, vo hua ek pal mein divaana,tilismi hai bahot sanam, tumhaari aankhon ka kaajal !!***

gulaab se gulaab ka rang tere gaalon pe aaya; tere nainon ne kaali ghata ka kaajal lagaaya;javaani jo tum par chadhi to nasha meri aankhon mein aaya.**

* kajal shayari in hindimehandi rachi hatheli meri ……mere kaajal vaale nain re …….piya pal pal tujhe pukaarate hokar baichen re*

**ye naina ye kaajal ye julphe ye aanchal khoobasoorat si hotum gazal kabhi dil ho kabhi dhadakan kabhi shola kabhi shabanamatumhi hi ho tum meri hamadam*

**haunsala tujh mein na tha mujhase juda hone ka;varana kaajal teri aankhon ka na yoon phaila hota.**

*jo banai hai tire kaajal se tasvire-muhabbat,abhi to pyaar ke rang se sajaaya hi kahaan hai.**

*ek baar ishaara to kar de dil aur jigar to kuchh bhi nahimmai khud ko jala sakata hoon, teri aankhon ke kaajal ke liye….**

*na roo aankh ka kaajal, nikal kar chhoot jaayega !ye dil tere ashk boondon mein, phisal kar toot jaayega !!**

*yaad hai ab tak tujhase bichhadane ki vo andheri shaam mujhe…too khaamosh khadi thi lekin baaten karata tha kaajal…!!!***

kajal shayari in hindisambhaalakar zara rakhiyega kadam phool bikhare hai magar thes lag jaayegiye kaajal lagaane ka kya phaayada roop aisa hai nazar lag jaayegi !!!!*

**baavara hua jaata hoon teri akhiyon mein ishk dekhakar,,,meri ummidon ka maqasad teri aankhon ka kaajal hi to hai..!**

 

 

10 thoughts on “Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी”

Leave a Reply