Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

Kasam Shayari in Hindi

कसम पर शायरी

दोस्तों “क़सम शेर ओ शायरी का एक मज़ेदार संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “क़सम के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी क़सम शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

तू कहीं भी हो तेरे फूल से आरिज़ की क़सम

तेरी पलकें मेरी आंखों पे झुकी रहती हैं

#साहिर

 

फिर उसी राह पे निकल पड़े हैं,

कल जहाँ ना जाने की कसम खा बैठे थे।

 

कौन है जिसने मय नही चक्खी

कौन झूठी क़सम उठाता है,

मयकदे से जो बच निकलता है

तेरी आँखों में डूब जाता है !!

 

ज़हर मिलता ही नहीं मुझको सितमगर वर्ना

क्या क़सम है तेरे मिलने की कि खा भी न सकूँ

 

सुना था कसम झूठी हो तो लोग मर जाते हैं,

नाजाने कौन सी कसम निभा रहा है वो के अब तक ज़िंदा हूँ मैं।

 

हाथ टूटे मैंने गर छेडी हो जुल्फें आप की

आप के सर की कसम बादेसबा थी मै न था!

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

तेरी महफ़िल सजाने की कसम खाके बैठें हैं,

इसलिए अश्कों को छुपा के बैठें हैं

 

सौ बार समझाया इस दिल को हमने, सौ बार दिल टूट गया,

सौ बार उसे भूलने की कसम खायी हमने, सौ बार हर कसम दिल भूल गया।

 

बे-इरादा टकरा गए थे लेहरों से हम,

समन्दर ने कसम खा ली हमे डुबोने की

 

बाद-ए-तौबा के भी है दिल में यह हसरत बाक़ी,

क़सम देके कोई एक जाम पीला दे हम को !! – ‘रुसवा’

 

चौदवी का चाँद हो, या आफताब हो,

जो भी हो तुम, खुदा की क़सम, लाजवाब हो!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

जिसे अंजाम तुम समझते हो,

इब्तिदा है किसी कहानी की !

कसम इस आग और पानी की,

मौत अच्छी है बस जवानी की!!

 

उनकी महफिल में नसीर उनके तबस्सुम की कसम

देखते रह गए हम हाथ से जाना दिल का!

 

काश वो भी आकर हम से कह दे , मैं भी तन्हाँ हूँ ,

तेरे बिन, तेरी तरह , तेरी कसम , तेरे लिए…!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

खाये न जागने की क़सम वो तो क्या करे

जिसको हर एक ख़्वाब अधूरा दिखाई दे

#कृष्ण बिहारी नूर

 

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’

तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..! -मिर्ज़ा ग़ालिब

मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बतकी कसम

अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार मे

 

प्यार ,एहसान ,नफरत ,दुश्मनी जो चाहो वो मुजसे करलो…

आप की कसम वही दुगुना मीलेगा..!!

साथ गुज़ारे हुए उन लम्हों की क़सम ।

वल्लाह हूर से भी बेहतर है मेरी सनम ।

 

अगर पता होता कि इतना तड़पाती है महोब्बत.. ..

तो कसम से दिल लगाने से पहले हाथ जोड़ लेते..

 

पीनेकी आदत थी मुझे, उसने अपनी कसम देकर छुड़ा दी…

शाम को यारो की महफ़िल में बैठा तो, यारो ने उसकी कसम देकर पीला दी…!!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

वही सर्द रातें वही फिर जुदाई सूना समां ऒर घेरे तनहाई

कसम हॆ तुम्हें आज फिर ना न कहना सपनों में मेरे तुम देना दिखाई॥

 

हमको कसम तुम्हारी कुछ यकीन कर,

हम भी न उफ़ करेंगे चाहे कोई सता ले.

 

तुम अपना रंज-ओ-ग़म, अपनी परेशानी मुझे दे दो ,

तुम्हें ग़म की क़सम, इस दिल की वीरानी मुझे दे दो ……

 

कसम से”” तुझे पाने की ख्वाहिश तो बहुत थी

मगर मुझे तुझसे दुर करने की “”दुआ”” करने वाले ज्यादा निकले..!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

तुम बात करने का मौका तो दो ,कसम से ,

रूला देंगे तुम्हें तुम्हारे ही सितम गिनाते गिनाते

 

आइने में लगी, बिंदियों की कसम,

हूँ मैं ज़िंदा अभी तक, सिर्फ तेरे ही लिए सनम।

 

न तुम समेट सकोगे जिसे तुम क़यामत तक…..

कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते हैं

तू याद बहोत आया.हर शाम के बाद,

कभी आग़ाज़ से पहले कभी अंजाम के बाद,

इस डूबते सूरज की कसम इस दिल पे,

कोई नाम नहीं लिखा तेरे नाम के बाद !!

 

तुम तो डर गए एक ही कसम से….,

हमे तो तुम्हारी कसम देकर हजारो ने लुटा हे …!!

 

Search Tags

Kasam Shayari in Hindi, Kasam Hindi Shayari, Kasam Shayari, Kasam whatsapp status, Kasam hindi Status, Hindi Shayari on Kasam, Kasam whatsapp status in hindi,

कसम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, कसम स्टेटस, कसम व्हाट्स अप स्टेटस,कसम पर शायरी, कसम शायरी, कसम पर शेर, कसम की शायरी

 

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *