क्या स्टूडेंट्स को कीटो डाइट लेना चाहिए? keto diet effects on brain activity

क्या स्टूडेंट्स को कीटो डाइट लेना चाहिए? keto diet effects on mental health

क्या स्टूडेंट्स को कीटो डाइट लेना चाहिए? क्या लो कार्बोहाइड्रेट्स डाइट लेने से मस्तिष्क की क्रियाविधि कम हो जाती है?  शरीर की वसा कम करने के लिए और वजन कम करने के लिए keto dite लेने का चलन बढ़ गया है, इस प्रकार की विशेष डाइट में कार्बोहाइड्रेट लेना बंद कर दिया जाता है तथा अधिक मात्रा में वसा युक्त आहार लिया जाता है, प्रोटीन भी बहुत कम मात्रा में लिया जाता है.

क्या कम  कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट लेने से स्टूडेंट्स को नुकसान हो सकता है क्या स्टूडेंट्स कीटो डाइट ले सकते हैं, क्योंकि कार्बोहाइड्रेट ना लेने से रक्त में ग्लूकोस की मात्रा बहुत कम हो जाती है,  शरीर के दूसरे अंग तो वसा का उपयोग कर उर्जा प्राप्त कर लेते हैं परंतु मस्तिष्क को ऊर्जा प्राप्त करने के लिए ग्लूकोस की आवश्यकता होती है, जो की उसे कार्बोहाइड्रेट से ही मिलता है.

कीटो डाइट के कई फायदे और नुकसान है,  किसी भी व्यक्ति को चाहे वह स्टूडेंट हो या सामान्य व्यक्ति हो कीटो डाइट आवश्यकता होने पर ही लेना चाहिए, अधिक वजन होने, शरीर में अत्यधिक मात्रा में वासा संचित होने पर ही कीटो डाइट का सहारा लिया जाना चाहिए,  इसके पहले चिकित्सकों से परामर्श अवश्य किया जाना चाहिए.

कीटो डाइट के मस्तिष्क पर प्रभाव side effects of keto diet  

Ketoacidosis kya he, Ketoacidosis kya hota he, what is Ketoacidosis in hindi, keto dite se Ketoacidosis ho sakta, keto dite ke nuksan, Ketoacidosis ke lakshan, Ketoacidosis symptoms in hindi, Ketoacidosis ki jankari, Ketoacidosis ke symptoms

कीटो डाइट के कई फायदे और नुकसान हैं, कीटो डाइट लेना शुरू करने के बाद कई व्यक्तियों को सुस्ती और थकान का अनुभव होता है, उनके मस्तिष्क की क्रियाविधि कम हो जाती है इसे ब्रेन फोग का नाम दिया गया है, कीटो डाइट लेना प्रारंभ करने पर शुरुआत में  शरीर में सुस्ती, थकान और आलस्य रहता है ऐसा महसूस होता है मानो आपको फ्लू हो गया हो इसीलिए इस अवस्था को कीटो फ्लू भी नाम दिया गया है, चिकित्सकों द्वारा किए गए एक अध्ययन में यह पाया गया कि कीटो डाइट लेने वाले विद्यार्थियों की याददाश्त में काफी कमी देखी गई,  जबकि जो व्यक्ति सामान्य आहार ले रहे थे उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया, जब विद्यार्थियों को कीटो डाइट बंद कर कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार दिया गया तो उनकी मेमोरी में काफी सुधार दिखाई दिया.

इसके अलावा कीटो डाइट लेने वाले कई व्यक्तियों द्वारा  नींद ना आने की समस्या भी देखी गई है, मस्तिष्क को सेरोटोनिन बनाने के लिए भी कार्बोहाइड्रेट्स की आवश्यकता होती है, इस समस्या से बचने के लिए सोने से कुछ समय पहले आपको प्रोटीन और थोड़ा सा कार्बोहाइड्रेट युक्त हल्का नाश्ता करना चाहिए.

कीटो डाइट का लंबे समय अंतराल में जाकर मस्तिष्क पर अच्छे प्रभाव देखने को मिलते हैं, मस्तिष्क ऊर्जा के लिए कीटोन्स का इस्तेमाल करना प्रारंभ कर देता है जिससे कि कई अल्जाइमर आदि बीमारियों में लाभ होता है, लंबे समय के बाद  मस्तिष्क की कोशिकाओं की कॉग्निशन क्षमता में भी बढ़ोतरी देखने को मिलती है.

विद्यार्थियों को कीटो डाइट का प्रयोग नहीं करना चाहिए students and keto Diet

Students and keto dite, keto dite side effects, keto dite and brain, keto flu in hindi, keto dite ki jankari, keto dite reduces brain activity,

विद्यार्थियों को कीटो डाइट अत्यंत आवश्यकता पड़ने पर और चिकित्सक की सलाह पर ही लेना चाहिए इससे उनके मस्तिष्क की क्रियाशीलता और मेमोरी पावर में कमी हो सकती है जिससे  कि उनकी स्टडीज पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

keto dite and hairfall

Students and keto dite, keto dite side effects, keto dite and brain, keto flu in hindi, keto dite ki jankari, keto dite reduces brain activity,

 

 

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply