Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी
Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

Khiza Shayari in Hindi

खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

 

दोस्तों चमन में हमेशा बहार का मोसम नहीं रहता, बहार के बाद खिजां और पतझड़ का मोसम भी आता है, पेश है खिजां के मोसम और पर कुछ शायरी.

Hindi Shayari on Autumn, Hindi shayari on Pathjhad, Sad Hindi Shayari on Khiza.

List of all topics

***************

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

****

मंज़िल तो सबकी एक ही है, रास्ते हैं जुदा,

कोई पतझड़ से गुजरा, कोई सहरा से गया।

****

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

***

खिजां के लूट से बर्बादिए-चमन तो हुई

यकीन आमदे-फस्ले-बहार कम न हुआ – मजाज

**** Khiza Shayari in Hindi

 

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

****

Khizan Patjhad Status Pictures – Khizan Patjhad dp Pictures – Khizan Patjhad Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

 

Khizan Patjhad Status Pictures – Khizan Patjhad dp Pictures – Khizan Patjhad Shayari Pictures

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

****

फूल खिलते हैं, लोग मिलते हैं मगर,

पतझड़ में जो फूल मुरझा जाते हैं,

वो बहारों के आने से खिलते नहीं.

****

पतझड़ के मौसम में दिल को सुकून बहुत मिलता है…

शाख से टूटे हर पत्ते में चेहरा अपना जो दिखता है.

***

अरसे बाद खिजां पलटी नज़र आई बहार

बरसों बीते तन्हाईओं के बाद आई खुमार

*** Khiza Shayari in Hindi

“सुनायेगी ये दास्तां शमा मेरे मजार की

खिजां में भी खिली रही ये कली अनार की

***

खिजां अब आयेगी तो आयेगी ढलकर बहारों में,

कुछ इस अन्दाज से नज्मे-गुलिस्तां कर रहा हूँ मैं।

***

फिर इसके बाद नज़रे नज़र को तरसेंगे

वो जा रहा है खिजां के गुलाब दे जाओ

***

फूल चुन लिए उसने सारे मेरे शाख़े-गुल से

खिजां थी हिस्से मेरे, जो बागबां में ही रह गई

***

खिजां में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रोशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गये, कहीं बुझ गये।

*** Khiza Shayari in Hindi

अब रंजिशो-खुशी से बहारो-खिजां से क्या

महवे-खयाले-यार हैं हमको जहाँ से क्या ~मजरूह सुल्तानपुरी

***

सुकूत-ऐ-शाम-ऐ-खिजां में हुस्न की एक अंगड़ाई \

इधर सूखे दरख्तो पर हरे पत्ते निकल आए..

***

होता नहीं है कोई बुरे वक्त में शरीक,

पत्ते भी भागते हैं खिजां में शजर से दूर। #असीर

***

जुबां पे दर्द भरी दास्तान चली आई

बहार आने से पहले खिजां चली आई

***

उम्मीदों के फूल गुलशन में कबके मुरझा चुके

जो बचा है खिजां में वो कांटों का तमाशा है

खिजां के लूट से बर्बादिए-चमन तो हुई

यकीन आमदे-फस्ले-बहार कम न हुआ – मजाज

***

क्या खबर थी खिजां होगी मुक्कदर अपना,

मैंने तो माहौल बनाया था बहारों के लिए!

***

तेरी जुल्फ में लगा सकूं, वो कली न मैं खिला सकूं

बेबस खिजां में बैठा हूं, वो बहार भी न मैं ला सकूं

***

असीरान-ए-कफस को वास्ता क्या इन झमेलों से,

चमन में कब खिजां आई, चमन में कब बहार आई

***

गुल खिलेंगे फिर कैसे दिल में आरजुओं के,

दोस्ती खिजां से जब करता गुलसितां अपना।

** Khiza Shayari in Hindi

खिजां पुरानी पड़ी, कूच कर गया सैयाद,

नई बहारें नए बागवां की बात करो।

***

जहाँ बस्ती थी खुशियाँ, आज हैं मातम वहाँ

वक़्त लाया था बहारें वक़्त लाया है खिजां

**

मुमकिन है कि तू जिसको समझता है बहारां ,

औरों की निगाहों में वो मौसम हो खिजां का …

*** Khiza Shayari in Hindi

तड़प रहे हैं हम यहाँ, तुम्हारे इंतज़ार में

खिजां का रंग, आ-चला है, मौसम-ए-बहार में

***

जिसकी कफस में आंख खुली हो मेरी तरह,

उसके लिए चमन की खिजां क्या बहार क्या?

*** Khiza Shayari in Hindi

मिला जो पयार तो हम पयार के क़ाबिल न रहे

खिजां के फूल बहार के क़ाबिल न रहे।

***

यही तंग हाल जो सबका है यह करिश्मा कुदरते रब का है

जो बहार थी सो खिजां हुई जो खिजां थी अब वह बहार है।”-जोश मलीहाबादी

***

क्या हुआ जो खिजां के फूल सा मुरझा गए,

बनके “खुशबू ए जिंदगी” महकते रहेंगे हम ।

***

खिले गुलशन-ए-वफा में गुल-ए-नामुराद ऐसे

ना बहार ही ने पूछा ना खिजां के काम आए

***

गमों की फसल हमेशा तर-ओ-ताजा रही ,

ये वो खिजां है जो शर्मिन्दा-ए-बहार नहीं ……..

*** Khiza Shayari in Hindi

कांटो ने बहुत याद किया उन को खिजां में ,

जो गुल कभी जिंदा थे बहारों के सहारे ……

***

फूलों की बस्ती में आखिर कांटों का क्या काम था

ऐ खुदा तेरे गुलशन में आ जाती क्यूं खिजां है…

***

खिजां में पेड़ से टूटे हुए पत्ते बताते हैं…

बिछड़ कर अपनों से मिलती है बस दर-दर की दुत्कारी…

*** Khiza Shayari in Hindi

वह संभलेंगे गेसू जो बलखा गए हैं,

बहार आ रही है, खिजां के सहारे।

***

खिजां के बाद गुलशन में बहार आई तो है लेकिन,

उड़ा जाता है क्यों अहल-ए-चमन का रंग क्या कहिए।

***

Search Tags

Khiza Shayari in Hindi, Khiza Hindi Shayari, Khiza par Shayari, Khiza whatsapp status, Khiza hindi Status, Hindi Shayari on Khiza, Khiza whatsapp status in hindi, Khiza Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Autumn Shayari, Autumn Hindi Shayari, Autumn Shayari, Autumn whatsapp status, Autumn hindi Status, Autumn whatsapp status in hindi, Autumn Shayari in Hindi Font

 खिजां हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शबनम, खिजां स्टेटस, खिजां व्हाट्स अप स्टेटस, खिजां पर शायरी, खिजां शायरी, खिजां पर शेर, खिजां की शायरी, खिजां शायरी,

पतझड़ हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, पतझड़ स्टेटस, पतझड़ व्हाट्स अप स्टेटस, पतझड़ पर शायरी, पतझड़ शायरी, पतझड़ पर शेर, पतझड़ की शायरी, पतझड़ शायरी,


 

Khiza Shayari in Hinglish Roman Font

खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

 


**manzil to sabaki ek hi hai, raste hain juda,koi Patjhad se gujara, koi sahara se gaya.**

**ulfat ke maron se na poochhon alam intazar kaPatjhad si hai zindagi, khyal hai bahar ka.**

*Khizan ke loot se barbadie-chaman to huiyakin amade-fasle-bahar kam na hua – majaj***

* Khizan shayari in hindiye Khizan ki zard si shal mein ji udas ped ke pas haiye tumhare ghar ki bahar hai ise ansuo se hara karo**

**palakon se ansuon ki qataron ko ponchh loPatjhad ki bat thik nahin hai bahar mein.!!*

***fool khilate hain, log milate hain magar,Patjhad mein jo fool murajha jate hain,vo baharon ke ane se khilate nahin.*

***Patjhad ke mausam mein dil ko sukoon bahut milata hai…shakh se toote har patte mein chehara apana jo dikhata hai.

***arase bad Khizan palati nazar ai baharabarason bite tanhaion ke bad ai khumar***

Khizan shayari in hindi”sunayegi ye dastan shama mere majar kiKhizan mein bhi khili rahi ye kali anar ki*

**Khizan ab ayegi to ayegi dhalakar baharon mein,kuchh is andaj se najme-gulistan kar raha hoon main.*

**fir isake bad nazare nazar ko tarasengevo ja raha hai Khizan ke gulab de jao**

*fool chun lie usane sare mere shakhe-gul seKhizan thi hisse mere, jo bagaban mein hi rah gai***

na Khizan mein hai koi tiragi, na bahar mein koi roshani,ye najar-najar ke charag hai, kahin jal gaye, kahin bujh gaye.*

** Khizan shayari in hindiab ranjisho-khushi se baharo-Khizan se kyamahave-khayale-yar hain hamako jahan se kya ~majarooh sultanapuri**

*sukoot-ai-sham-ai-Khizan mein husn ki ek angadai \idhar sookhe darakhto par hare patte nikal ae..*

**hota nahin hai koi bure vakt mein sharik, patte bhi bhagate hain Khizan mein shajar se door. #asir*

**juban pe dard bhari dastan chali aibahar ane se pahale Khizan chali ai**

*ummidon ke fool gulashan mein kabake murajha chukejo bacha hai Khizan mein vo kanton ka tamasha haiKhizan ke loot se barbadie-chaman to huiyakin amade-fasle-bahar kam na hua – majaj*

**kya khabar thi Khizan hogi mukkadar apana,mainne to mahaul banaya tha baharon ke lie!*

**teri julf mein laga sakoon, vo kali na main khila sakoombebas Khizan mein baitha hoon, vo bahar bhi na main la sakoon**

*asiran-e-kafas ko vasta kya in jhamelon se,chaman mein kab Khizan ai, chaman mein kab bahar ai***

gul khilenge fir kaise dil mein arajuon ke,dosti Khizan se jab karata gulasitan apana.** Khizan shayari in hindiKhizan purani padi, kooch kar gaya saiyad,nai baharen nae bagavan ki bat karo.**

*jahan basti thi khushiyan, aj hain matam vahanvaqt laya tha baharen vaqt laya hai Khizan .*

*mumakin hai ki too jisako samajhata hai baharan ,auron ki nigahon mein vo mausam ho Khizan ka …*

** Khizan shayari in hinditadap rahe hain ham yahan, tumhare intazar menKhizan ka rang, a-chala hai, mausam-e-bahar mein

jisaki kafas mein ankh khuli ho meri tarah,usake lie chaman ki Khizan kya bahar kya?**

* Khizan shayari in hindimila jo payar to ham payar ke qabil na raheKhizan ke fool bahar ke qabil na rahe.**

*yahi tang hal jo sabaka hai yah karishma kudarate rab ka haijo bahar thi so Khizan hui jo Khizan thi ab vah bahar hai.”-josh malihabadi*

**kya hua jo Khizan ke fool sa murajha gae,banake “khushaboo e jindagi” mahakate rahenge ham .**

*khile gulashan-e-vafa mein gul-e-namurad aisena bahar hi ne poochha na Khizan ke kam ae*

**gamon ki fasal hamesha tar-o-taja rahi ,ye vo Khizan hai jo sharminda-e-bahar nahin ……..***

Khizan shayari in hindikanto ne bahut yad kiya un ko Khizan mein ,jo gul kabhi jinda the baharon ke sahare ……*

**foolon ki basti mein akhir kanton ka kya kam thai khuda tere gulashan mein a jati kyoon Khizan hai…**

*Khizan mein ped se toote hue patte batate hain…bichhad kar apanon se milati hai bas dar-dar ki dutkari…**

* Khizan shayari in hindivah sambhalenge gesoo jo balakha gae hain,bahar a rahi hai, Khizan ke sahare.**

*Khizan ke bad gulashan mein bahar ai to hai lekin,uda jata hai kyon ahal-e-chaman ka rang kya kahie.***

 

 

 

 

 

1 thought on “Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी”

  1. उसे यक़ीन है इक दिन बहार आएगी
    चमन खिजां में कभी हौसला नहीं खोता
    हरिशंकर पाण्डेय “सुमित”
    harishankarhindi.blogspot.com

    Reply

Leave a Comment