Khushi Shayari in Hindi

Khushi Shayari in Hindi with Photos

Khushi Shayari in hindi with photos

Khushi Shayari :  ख़ुशी शायरी,  दोस्तों इस पेज पर हम आपके लिए ख़ुशी पर शायरी पेश कर रहे हैं, यहाँ मशहूर शायरों के ख़ुशी के बारे में शेर दिए गए हैं, इन्टरनेट पर यह ख़ुशी शायरी का एक सबसे बड़ा संग्रह है, ख़ुशी के बारे में मशहूर शायरों ने क्या क्या कहा है, ख़ुशी पर सारे शेर एक पेज पर पढ़कर आपको काफी अच्छा लगेगा, यहाँ ख़ुशी शायरी पर 150 से भी ज्यादा शेर संकलित जमा किये गए है. 

हमने यहाँ महान शायरों की khushi par shayari 2 lines देवनागरी font में दी है, यह ख़ुशी शायरी hindi (khushi shayari in hindi ) और उर्दू भाषा में हैं, khushi shayari in hindi को आप आसानी से कॉपी कर अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं, khushi par shayari का यह संकलन आपको केसा लगा, कमेंट्स में ज़रूर लिखे.

ख़ुशी शायरी इमेजेस :- इस पेज के अंत में हमने कुछ शानदार खूबसूरत ख़ुशी शायरी इमेजेस दी हैं, आप इन ख़ुशी शायरी इमेजेस को आसानी से डाउनलोड और शेयर कर सकते हैं.

सभी hindi शायरी की लिस्ट यहाँ दी गयी है  All Topics Hindi Shayari

 

Khushi shayari in hindi

 

तेरे वा‘दे पर जिए हम तो ये जान झूट जाना

कि ख़ुशी से मर न जाते अगर ए‘तिबार होता … Ghalib Khushi hindi shayari

    

लबों पर यूँही सी हँसी भेज दे

मुझे मेरी पहली ख़ुशी भेज दे

अँधेरा है कैसे तेरा ख़त पढ़ूँ

लिफ़ाफ़े में कुछ रौशनी भेज दे

~मोहम्मद अल्वी

khushi shayari in hindi

वो दिल ले के ख़ुश हैं मुझे ये ख़ुशी है

कि पास उन के रहता हूँ मैं दूर हो कर

~जलील मानिकपूरी

khushi shayari hindi

इन्ही ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चाँद निकलेगा

अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है

~अख़्तर शीरानी ~

khushi happiness shayari hindi

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी

दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी

~Parveen Shakir –

hindi khushi shayari

अब्र है, गुलज़ार है, मय है, ख़ुशी का दौर है

आज तो डूबे हुए दिल को उछलने दीजिए

~हसन बरेलवी

2 line khushi shayari image

ख़ुशी जीने की क्या मरने का ग़म क्या

हमारी ज़िंदगी क्या और हम क्या

~मिर्ज़ा ग़ालिब

 

best khushi sher shayari in hindi

 

sher o shayari khushi photo   

दोस्ती अपनी जगह और दुश्मनी अपनी जगह

फ़र्ज़ के अंजाम देने की ख़ुशी अपनी जगह

~गणेश बिहारी तर्ज़

 

इतने संजीदा कि जैसे खेल ही हो ज़िंदगी

खेल ही में सारे ग़म हों खेल ही सारी ख़ुशी

 

‏मिल जाए मुझ को ख़ाक जो क़दमों की आप के

दिल क्या है मैं तो जान भी दे दूँ ख़ुशी के साथ

khushi par shayari

मुझे ख़बर नहीं ग़म क्या है और ख़ुशी क्या है

ये ज़िंदगी की है सूरत तो ज़िंदगी क्या है

~अहसन मारहरवी ~

hindi me khushi shayari pics

 

Khushi sher o shayari in hindi

 

है ख़ुशी इंतिज़ार की हर दम

मैं ये क्यूँ पूछूँ कब मिलेंगे आप

~निज़ाम रामपुरी

khusi sher o shayari hindi me

तमाम उम्र ख़ुशी की तलाश में गुज़री

तमाम उम्र तरसते रहे ख़ुशी के लिए

khushi naa mili shayari   

वो हयात क्या कि जिस में न ख़ुशी के साथ ग़म हो

वो सहर भी क्या सहर है कि जो शाम तक न पहुँचे

~मुहम्मद अय्यूब ज़ौक़ी

khushi life shayari

Shayari on khushi

 

एक वो हैं कि जिन्हें अपनी ख़ुशी ले डूबी

एक हम हैं कि जिन्हें ग़म ने उभरने न दिया

~आज़ाद_गुलाटी

khushi aur gam shayari

खुला ये राज़ कि ये ज़िंदगी भी होती है

बिछड़ के तुझ से हमें अब ख़ुशी भी होती है

~हसीब सोज़      

 

मजबूरियों को अपनी कहें क्या किसी से हम

लाए गए हैं, आए नहीं हैं ख़ुशी से हम

~बिस्मिल अज़ीमाबादी

 

उस से मिलने की ख़ुशी बाद में दुख देती है

जश्न के बाद का सन्नाटा बहुत खलता है

– Moin Shadab

milne ki khushi shayari with photo

कर रहा हूँ तुझे ख़ुशी से बसर

ज़िंदगी तुझ से दाद चाहता हूँ

~अंजुम सलीमी

 

khushi pr shayari hindi me

 

हर एक ग़म को ख़ुशी की तरह बरतना है

ये दौर वो है कि जीना भी इक हुनर सा लगे

~जाँ निसार अख़्तर

khusi gham zindagi me shayari   

 

लाई हयात आए क़ज़ा ले चली चले

अपनी ख़ुशी न आए न अपनी ख़ुशी चले

~ज़ौक़

zouk shayari

Khushi ke bare me shayari two lines

 

ज़िंदगी कितनी मसर्रत से गुज़रती या रब

ऐश की तरह अगर ग़म भी गवारा होता

~अख़्तर_शीरानी

 

वो कौन है दुनिया में जिसे ग़म नहीं होता

किस घर में ख़ुशी होती है, मातम नहीं होता

~रियाज़_ख़ैराबादी

khushi duniya me shayari

ख़ुशी हुई थी कि अब मैं तन्हा नहीं हूँ लेकिन

ये शख़्स तो मेरे साथ चलता ही जा रहा है

~शारिक़_कैफ़ी

 

दिल में कोई ख़ुशी नहीं लेकिन

आदतन मुस्कुरा रहा हूँ मैं

~रिफ़अत सुलतान

 

अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला

हम ने अपना लिया हर रंग ज़माने वाला

~NidaFazli

khushi aur dard shayari

इन्ही ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चाँद निकलेगा

अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है

~अख़्तर_शीरानी

 Khushi Gham shayari in hindi 

न ख़ुशी अच्छी है ऐ दिल न मलाल अच्छा है

यार जिस हाल में रक्खे वही हाल अच्छा है

~Jaleel Manikpuri

naa khushi achchi shayari

सुकूँ ही सुकूँ है ख़ुशी ही ख़ुशी है

तेरा ग़म सलामत मुझे क्या कमी है

~ख़ुमार_बाराबंकवी

khushi sukoon shayari

Khushi wali shayari

 

 

सितम तो ये है कि वो भी न बन सका अपना

क़ुबूल हम ने किए जिस के ग़म ख़ुशी की तरह

~क़तील_शिफ़ाई

    na ban saka apna shayari image

ख़ुशी है सब को रोज़-ए-ईद की याँ

हुए हैं मिल के बाहम आश्ना ख़ुश

बाहम – together

आश्ना – acquaintance

 

नए दीवानों को देखें तो ख़ुशी होती है

हम भी ऐसे ही थे जब आए थे वीराने में

~अहमद_मुश्ताक़

naye diwano ko dekhiye to khushi

ये कह के दिल ने मेरे हौसले बढ़ाए हैं

ग़मों की धूप के आगे ख़ुशी के साए हैं

~Mahirul Qadri ~    

khusi aayegi shayari   

चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है आँखों में सुरूर आ जाता है

जब तुम मुझे अपना कहते हो अपने पे ग़ुरूर आ जाता है

~साहिर_लुधियानवी

chehre pe khushi chha jati he aankhon me suroor

दिल दे तो इस मिज़ाज का परवरदिगार दे

जो रंज की घड़ी भी ख़ुशी से गुज़ार दे

~Dagh Dehlvi ~

ranj aur khushi me

ग़म हो कि ख़ुशी दोनों कुछ दूर के साथी हैं

फिर रस्ता ही रस्ता है हँसना है न रोना है

~निदा_फ़ाज़ली ~    

gham aur khushi shayari

इतने संजीदा कि जैसे खेल ही हो ज़िंदगी

खेल ही में सारे ग़म हों खेल ही सारी ख़ुशी

~सलीम_अहमद

 

Khushi ke shayari hindi with images

 

खुल के रो लूँ तो ज़रा जी सँभले

मुस्कुराना ही मसर्रत* तो नहीं

 – परवीन फ़ना सय्यद  *Happiness

 

ये चुपके चुपके न थमने वाली हँसी तो देखो

वो साथ है तो ज़रा हमारी ख़ुशी तो देखो

~शारिक़_कैफ़ी

hansi aur khushi shayari

  अब तो ख़ुशी का ग़म है न ग़म की ख़ुशी मुझे

बे-हिस बना चुकी है बहुत ज़िंदगी मुझे

~Shakeel Badayuni

khushi ka gham

उससे मिलने की ख़ुशी बाद में दुख देती है

जश्न के बाद का सन्नाटा बहुत खलता है

~MoinShadab

 

2 line khushi shayari with pics

ये कह के दिल ने मेरे हौसले बढ़ाए हैं,

ग़मों की धूप के आगे ख़ुशी के साए हैं

~Mahirul Qadri

 

नए दीवानों को देखें तो ख़ुशी होती है

हम भी ऐसे ही थे जब आए थे वीराने में

~Ahmad Mushtaq

 

ग़म हो कि ख़ुशी दोनों कुछ दूर के साथी हैं

फिर रस्ता ही रस्ता है हँसना है न रोना है

~NidaFazli

 

दिल दे तो इस मिज़ाज का परवरदिगार दे

जो रंज की घड़ी भी ख़ुशी से गुज़ार दे

~Dagh Dehlvi

 

khushi Zindagi shayari in hindi

 

बहुत दिनों से है दिल अपना ख़ाली ख़ाली सा

ख़ुशी नहीं तो उदासी से भर गए होते

~BashirBadr

 

तेरी ख़ुशी से अगर ग़म में भी ख़ुशी न हुई

वो ज़िंदगी तो मोहब्बत की ज़िंदगी न हुई

~Jigar

 

शब-ए-विसाल है गुल कर दो इन चराग़ों को

ख़ुशी की बज़्म में क्या काम जलने वालों का ~मोमिन

shab e visal shayari

 

 

हर तमन्ना से जुदा मैं

हर खुशी से दूर हूं

जी रहा हूं, क्योंकि

जीने के लिए मजबूर हूं

मुझको मरने भी ना देगा ये तुम्हारा इंतज़ार..

-अंजान

 

समझते हैं हम खेल दुनिया के ग़म को

हमारी ख़ुशी है तुम्हारी ख़ुशी से ~हैरतगोंडवी

 

बड़े घरों में रही है बहुत ज़माने तक

ख़ुशी का जी नहीं लगता ग़रीब-ख़ाने में Nomaan Shauq

 

लबों पर यूँही सी हँसी भेज दे

मुझे मेरी पहली ख़ुशी भेज दे ~Alvi

 

हँसी-ख़ुशी से बिछड़ जा अगर बिछड़ना है

ये हर मक़ाम पे क्या सोचता है आख़िर तू

~Faraz

5 khushi shayari image

khushi se bichadna shayari

आ धमके ऐश ओ तरब क्या क्या जब हुस्न दिखाया होली ने

हर आन ख़ुशी की धूम हुई यूँ लुत्फ़ जताया होली ने ~Nazir

 

अब खुशी है न कोई ग़म रुलानेवाला

हमने अपना लिया हर रंग ज़मानेवाला

हर बे-चेहरा सी उम्मीद है चेहरा चेहरा

जिस तरफ़ देखिए आने को है आनेवाला

-निदा

 

वो कौन है दुनिया में जिसे ग़म नहीं होता

किस घर में ख़ुशी होती है मातम नहीं होता

~Riyaz Khairabadi

 

अरे ओ आसमाँ वाले, बता इसमें बुरा क्या है

ख़ुशी के चार झोंके, गर इधर से भी गुज़र जाएँ

~Sahir

 

shayari on khushi status

 

ख़ुशी की लहर दौड़ी दुश्मनों में

वो शायद दोस्तों में घिर गया है ~Amir Qazalbash

 

चंद कलियाँ नशात की चुन कर मुद्दतों महव-ए-यास रहता हूँ

तेरा मिलना ख़ुशी की बात सही तुझ से मिल कर उदास रहता हूँ

 

चेहरे पे ख़ुशी छा जाती हैं आँखों में सुरूर आ जाता हैं,

जब तुम मुझे अपना कहते हो अपने पे ग़ुरूर आ जाता हैं

-साहिर

 

‘इक ख़्वाब ख़ुशी का देखा नही,

देखा जो कभी तो भुल गये

माँगा हुआ तुम कुछ दे न सके,

जो तुमने दिया वो सहने दो’-कैफ़ी आझमी

 

हँसी ख़ुशी से बिछड़ जा अगर बिछड़ना है

ये हर मक़ाम पे क्या सोचता है आख़िर तू ~Faraz

 

ख़ुशी मिली तो ये आलम था बद-हवासी का

कि ध्यान ही न रहा ग़म की बे-लिबासी का ~Zafar

 

मेरी ज़िंदगी के मालिक मेरे दिल पे हाथ रखना

तेरे आने की ख़ुशी में मेरा दम निकल न जाए ~anwar mirzapuri

 

KHUSHI par SHAYARI IMAGES

you can easily download these Khushi shayari images and share with your friends.

 

Khusi Shayari

 

Khusi Shayari in hindi

 

Khusi Shayari in hindi font

 

khushi shayari images

 

Ghalib khushi shayari images

 

khushi shayari images

 

khushi shayari images

 

khushi shayari images

 

khushi shayari images

 

This page is all about khushi ki shayari, khushi shayari in hindi, shayari on khushi, khushi shayari two lines, khushi wali shayari, khushi shayari hindi, zindagi khushi shayari in hindi, khushi shayari image, teri khushi shayari, khushi shayari status, aap ki khushi ke liye shayari, khushi shayari urdu,khushi shayari ghalib, khushi ki shayari in hindi, khushi ki shayari hindi, shayari on khushi in hindi, shayari khushi ki, hindi shayari khushi, hindi khushi shayari, khushi shayari 2 lines, khushi bhari shayari in hindi, khushi hindi shayari, khushi love shayari, khushi urdu shayari, love khushi shayari, aane ki khushi shayari, hindi shayari on khushi, dil ki khushi shayari, khushi aur gham shayari, urdu shayari khushi,pyar ki khushi shayari, urdu khushi shayari, tujhe har khushi mile shayari, urdu shayari on khushi, teri khushi ke liye shayari, hindi shayari teri khushi, khushi shayari in hindi font,khushi shayari wallpaper, teri khushi me meri khushi shayari, teri khushi ki khatir shayari, khushi shayari in urdu, meri khushi ho tum shayari, teri khushi shayari in hindi,aap ki khushi shayari, meri khushi shayari, dost ki khushi shayari, khushi ki dua shayari,

Khushi par shayari in roman hinglish

abon par yunhe se hanse bhej de

mujhe mere pahale khushi bhej de

andhera hai kaise tera khat padhun

lifafe mein kuchh raushane bhej de

~mohammad alve

 

vo dil le ke khush hain mujhe ye khushi hai

ki pas un ke rahata hun main dur ho kar

~jalel manikapure

 

inhe gham ke ghataon se khushi ka chand nikalega

andhere rat ke parde mein din ke raushane bhe hai

~akhtar sherane ~

 

kuchh to hava bhe sard the kuchh tha tera khayal bhe

dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhe

~parvaiain shakir –

 

abr hai, gulazar hai, may hai, khushi ka daur hai

aj to dube hue dil ko uchhalane dejie

~hasan barelave

 

khushi jene ke kya marane ka gham kya

hamare zindage kya aur ham kya

~mirza galib

 

‏mil jae mujh ko khak jo qadamon ke ap ke

dil kya hai main to jan bhe de dun khushi ke sath

 

mujhe khabar nahin gham kya hai aur khushi kya hai

ye zindage ke hai surat to zindage kya hai

~ahasan maraharave ~

 

hai khushi intizar ke har dam

main ye kyun puchhun kab milenge ap

~nizam ramapure

 

tamam umr khushi ke talash mein guzare

tamam umr tarasate rahe khushi ke lie

 

vo hayat kya ki jis mein na khushi ke sath gham ho

vo sahar bhe kya sahar hai ki jo sham tak na pahunche

~muhammad ayyub zauqe

 

shayari on khushi

 

ek vo hain ki jinhen apane khushi le dube

ek ham hain ki jinhen gham ne ubharane na diya

~azad_gulate

 

us se milane ke khushi bad mein dukh dete hai

jashn ke bad ka sannata bahut khalata hai

– moin shadab

 

har ek gham ko khushi ke tarah baratana hai

ye daur vo hai ki jena bhe ik hunar sa lage

~jan nisar akhtar

 

lae hayat ae qaza le chale chale

apane khushi na ae na apane khushi chale

~zauq

 

vo kaun hai duniya mein jise gham nahin hota

kis ghar mein khushi hote hai, matam nahin hota

~riyaz_khairabade

 

ab khushi hai na koe dard rulane vala

ham ne apana liya har rang zamane vala

~nidafazli

 

na khushi achchhe hai ai dil na malal achchha hai

yar jis hal mein rakkhe vahe hal achchha hai

~jalaiail manikpuri

 

sukun he sukun hai khushi he khushi hai

tera gham salamat mujhe kya kame hai

~khumar_barabankave

 

khushi wali shayari

 

sitam to ye hai ki vo bhe na ban saka apana

qubul ham ne kie jis ke gham khushi ke tarah

~qatel_shifae

   

nae devanon ko dekhen to khushi hote hai

ham bhe aise he the jab ae the verane mein

~ahamad_mushtaq

 

ye kah ke dil ne mere hausale badhae hain

ghamon ke dhup ke age khushi ke sae hain

~mahirul qadri ~   

 

chehare pe khushi chha jate hai ankhon mein surur a jata hai

jab tum mujhe apana kahate ho apane pe gurur a jata hai

~sahir_ludhiyanave

 

dil de to is mizaj ka paravaradigar de

jo ranj ke ghade bhe khushi se guzar de

~dagh daihlvi ~

 

gham ho ki khushi donon kuchh dur ke sathe hain

fir rasta he rasta hai hansana hai na rona hai

~nida_fazale ~   

 

 

ye chupake chupake na thamane vale hanse to dekho

vo sath hai to zara hamare khushi to dekho

~shariq_kaife

 

 ab to khushi ka gham hai na gham ke khushi mujhe

be-his bana chuke hai bahut zindage mujhe

~shakaiail badayuni

 

 

shab-e-visal hai gul kar do in charagon ko

khushi ke bazm mein kya kam jalane valon ka ~momin

 

 

hanse-khushi se bichhad ja agar bichhadana hai

ye har maqam pe kya sochata hai akhir tu

~faraz