Kitab Shayari Kitabon par Shayari

Kitab Shayari Kitabon par Shayari

लफ्ज़ किताब शायरी – किताबों पर शायरी

Kitab Shayari – HI Friends, Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Kitab, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Kitab Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Kitab is excellent in expressing your emotions and love. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

किताब शायरी :- हेल्लो दोस्तों …किताब पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस किताब हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। किताब लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपकी भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं। किताबों पर शायरी का यहाँ सबसे अच्छा कलेक्शन है.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

******

Loading...

दिल की किताब में गुलाब उनका था

रात की नींद में  एक ख्वाब उनका था

है कितना प्यार हमसे जब यह हमने पूछ लिया

मर जायेंगे बिन तेरे यह जवाब उनका था।

चेहरा खुली किताब है उनवान जो भी दो

जिस रुख़ से भी पढ़ोगे मुझे जान जाओगे

 

जो एक लफ़्ज़ की ख़ुशबू न रख सका महफ़ूज़

मैं उस के हाथ में पूरी किताब क्या देता

 

 इक उम्र हो गई है कि दिल की किताब में

कुछ ख़ुश्क पत्तियों के सिवा कुछ नहीं रहा

~ख़ालिद शरीफ़

 

वो जिस ने देखा नहीं इश्क़ का कभी मकतब

मैं उस के हाथ में दिल की किताब क्या देता

 

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं

हवा चले न चले दिन पलटते रहते हैं

~गुलज़ार

Kitab Shayari Kitabon par Shayari

 

छुपी है अन-गिनत चिंगारियाँ लफ़्ज़ों के दामन में

ज़रा पढ़ना ग़ज़ल की ये किताब आहिस्ता आहिस्ता

 

हर इक वरक़ है तुझ से शुरू इस किताब का

तू ही बता कहाँ से मैं अब इब्तिदा करूँ

~जावेद_नसीमी

 

किस तरह जमा कीजिए अब अपने आप को

काग़ज़ बिखर रहे हैं पुरानी किताब के

~आदिल_

 

तुम्ही ने साथ दिया ज़िंदगी की राहों में

किताब-ए-उम्र तुम्हारे ही नाम करते हैं

~तारिक़_नईम

 

पढ़ता रहता हूँ आप का चेहरा

अच्छी लगती है ये किताब मुझे

~इफ़्तिख़ार_राग़िब

 

हर शख़्स है इश्तिहार अपना

हर चेहरा किताब हो गया है

~क़ैसर_उल_जाफ़री

तिरे बदन की लिखावट में है उतार चढ़ाव

मैं तुझ को कैसे पढ़ूँगा मुझे किताब तो दे

~राहत_इंदौरी

‏ Kitab Shayari Kitabon par Shayari

 

हर इक वरक़ में तुम ही तुम हो जान-ए-महबूबी

हम अपने दिल की कुछ ऐसी किताब रखते हैं !!

 

बारूद के बदले हाथों में आ जाए किताब तो अच्छा हो

ऐ काश हमारी आँखों में एक एसा ख़्वाब तो अच्छा हो

 

जो एक लफ़्ज़ की ख़ुशबू न रख सका महफूज़

मैं उस के हाथ में पूरी किताब क्या देता

 

अश्कों में पिरो के उस की यादें

पानी पे किताब लिख रहा हूँ

~हसन_आबिदी

 

अंधी हवा कहाँ से उड़ा लाई, क्या ख़बर

क्या जाने ज़िंदगी है वरक़ किस किताब का

 

हर साल की आख़िरी शामों में दो चार वरक़ उड़ जाते हैं

अब और न बिखरे रिश्तों की बोसीदा किताब तो अच्छा हो

~GhulamMohammadQasir

 

किधर से बर्क़ चमकती है देखें ऐ वाइज़

मैं अपना जाम उठाता हूँ तू किताब उठा

गुलज़ार گلزار

 कागज़ में दब के मर गए कीड़े किताब के,

दीवाने बे पढ़े-लिखे मशहूर हो गए।

-बशीर बद्र

Kitab Shayari Kitabon par Shayari

किताब शायरी किताबों पर शायरी
किताब शायरी किताबों पर शायरी

 

वो कटी फटी हुई पत्तियां, और दाग़ हल्का हरा हरा,

वो रखा हुआ था किताब में, मुझे याद है वो ज़रा ज़रा..!

-गुलज़ार

किसे सुनाएँ अपने गम के चन्द पन्नो के किस्से

यहाँ तो हर शक्स भरी किताब लिए बैठा है…!!!

 

किताब-ए-दिल का कोई भी पन्ना सादा नहीं होता

निगाह उस को भी पढ़ लेती है जो लिखा नही होता..

 

किताब ए दिल में जो नफरत का बाब रखता था

वो चाहतों का मुकम्मल हिसाब रखता था।

फरेब देता रहा मुझे वो दोस्ती के परदों में,

वो शख्स अपने चेहरे पर कितने नक़ाब रखता था।।

 

ए रहनुमा तू मेरा राहगीर भी बन

जिसकी तलाश है, तू मेरी वो मंजिल भी बन

अपने कुछ लम्हे तू मेरे भी नाम कर

मेरी किताब में तू हर अल्फाज़ भी बन ।

 

एक कहानी है हर शख़्स यहाँ यूँ तो –

बस हर क़िताब यहाँ खुली नहीं होती 

Kitab Shayari Kitabon par Shayari

 

 

क़िताब-ए-दिल का कोई भी स़फा ख़ाली नहीं होता,

दोस्त वहाँ भी हाल पढ़ लेते हैं, जहाँ कुछ लिखा नहीं होता..

 

एक चराग़ और एक किताब और एक उम्मीद असासा ,

उस के बा’द तो जो कुछ है वो सब अफ़्साना है …!!!

~इफ़्तिख़ार_आरिफ़

 

ये इल्म का सौदा ये रिसाले ये किताबें

इक शख़्स की यादों को भुलाने के लिए हैं

#JaanNisarAkhtar

 

मैं ने दो-चार किताबें तो पढ़ी हैं लेकिन

शेर के तौर-तरीक़े मुझे कम आते हैं

~बशीर बद्र

 

किताबें करती हैं बातें बीते ज़माने की,

दुनिया की, इंसानों की आज की, कल की

एक-एक पल की…

 

बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो

चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे

 

किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं

अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर ख़ामोश

Kitab Shayari Kitabon par Shayari

 

 

किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं

अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर ख़ामोश

 

किताबें कैसी उठा लाए मय-कदे वाले

ग़ज़ल के जाम उठाओ बड़ा अँधेरा है

#बशीर_बद्र

 

‏किताबें झाँकती हैं बंद आलमारी के शीशों से

बड़ी हसरत से तकती हैं

महीनों अब मुलाकातें नहीं होती।

गुलज़ार

————–

Hinglish Font me Kitab Shayari, Kitabon par Shayari

 

kitab par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is kitab hindi shayari ko apane hindi vahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behatarin hindi shayari ko apane doston ko phesabuk par bhi bhej sakaten hain. kitab laphz par hindi ke yah sher, apaki bhavanaon ko vyakt karane mein apaki madad kar sakaten hain. kitabon par shayari ka yahan sabase achchha kalekshan hai.

sabhi hindi shayari ki list yahan hain. hindi shayari

 

dil ki kitab mein gulab unaka tha

rat ki nind mein  ek khvab unaka tha

hai kitana pyar hamase jab yah hamane poochh liya

mar jayenge bin tere yah javab unaka tha.

chehara khuli kitab hai unavan jo bhi do

jis rukh se bhi padhoge mujhe jan jaoge

 

jo ek lafz ki khushaboo na rakh saka mahafooz

main us ke hath mein poori kitab kya deta

 

 ik umr ho gai hai ki dil ki kitab mein

kuchh khushk pattiyon ke siva kuchh nahin raha

~khalid sharif

 

vo jis ne dekha nahin ishq ka kabhi makatab

main us ke hath mein dil ki kitab kya deta

 

khuli kitab ke safhe ulatate rahate hain

hava chale na chale din palatate rahate hain

~gulazar

 

chhupi hai an-ginat chingariyan lafzon ke daman mein

zara padhana gazal ki ye kitab ahista ahista

 

har ik varaq hai tujh se shuroo is kitab ka

too hi bata kahan se main ab ibtida karoon

~javed_nasimi

 

kis tarah jama kijie ab apane ap ko

kagaz bikhar rahe hain purani kitab ke

~adil_

 

tumhi ne sath diya zindagi ki rahon mein

kitab-e-umr tumhare hi nam karate hain

~tariq_naim

 

padhata rahata hoon ap ka chehara

achchhi lagati hai ye kitab mujhe

~iftikhar_ragib

 

har shakhs hai ishtihar apana

har chehara kitab ho gaya hai

~qaisar_ul_jafari

tire badan ki likhavat mein hai utar chadhav

main tujh ko kaise padhoonga mujhe kitab to de

~rahat_indauri

 

har ik varaq mein tum hi tum ho jan-e-mahaboobi

ham apane dil ki kuchh aisi kitab rakhate hain !!

 

barood ke badale hathon mein a jae kitab to achchha ho

ai kash hamari ankhon mein ek esa khvab to achchha ho

 

jo ek lafz ki khushaboo na rakh saka mahaphooz

main us ke hath mein poori kitab kya deta

 

ashkon mein piro ke us ki yaden

pani pe kitab likh raha hoon

~hasan_abidi

 

andhi hava kahan se uda lai, kya khabar

kya jane zindagi hai varaq kis kitab ka

 

har sal ki akhiri shamon mein do char varaq ud jate hain

ab aur na bikhare rishton ki bosida kitab to achchha ho

~ghulammohammadqasir

 

kidhar se barq chamakati hai dekhen ai vaiz

main apana jam uthata hoon too kitab utha

gulazar glzar

 kagaz mein dab ke mar gae kide kitab ke,

divane be padhe-likhe mashahoor ho gae.

-bashir badr

 

vo kati phati hui pattiyan, aur dag halka hara hara,

vo rakha hua tha kitab mein, mujhe yad hai vo zara zara..!

-gulazar

‏kise sunaen apane gam ke chand panno ke kisse

yahan to har shaks bhari kitab lie baitha hai…!!!

 

kitab-e-dil ka koi bhi panna sada nahin hota

nigah us ko bhi padh leti hai jo likha nahi hota..

 

kitab e dil mein jo napharat ka bab rakhata tha

vo chahaton ka mukammal hisab rakhata tha.

phareb deta raha mujhe vo dosti ke paradon mein,

vo shakhs apane chehare par kitane naqab rakhata tha..

 

e rahanuma too mera rahagir bhi ban

jisaki talash hai, too meri vo manjil bhi ban

apane kuchh lamhe too mere bhi nam kar

meri kitab mein too har alphaz bhi ban .

 

ek kahani hai har shakhs yahan yoon to –

bas har qitab yahan khuli nahin hoti 

 

 

qitab-e-dil ka koi bhi shapha khali nahin hota,

dost vahan bhi hal padh lete hain, jahan kuchh likha nahin hota..

 

ek charag aur ek kitab aur ek ummid asasa ,

us ke bad to jo kuchh hai vo sab afsana hai …!!!

~iftikhar_arif

 

ye ilm ka sauda ye risale ye kitaben

ik shakhs ki yadon ko bhulane ke lie hain

#jannisarakhtar

 

main ne do-char kitaben to padhi hain lekin

sher ke taur-tariqe mujhe kam ate hain

~bashir badr

 

kitaben karati hain baten bite zamane ki,

duniya ki, insanon ki aj ki, kal ki

ek-ek pal ki…

 

bachchon ke chhote hathon ko chand sitare chhoone do

char kitaben padh kar ye bhi ham jaise ho jaenge

 

kitaben bhi bilkul meri tarah hain

alfaz se bharapoor magar khamosh

 

kitaben bhi bilkul meri tarah hain

alfaz se bharapoor magar khamosh

 

kitaben kaisi utha lae may-kade vale

gazal ke jam uthao bada andhera hai

#bashir_badr

 

‏kitaben jhankati hain band alamari ke shishon se

badi hasarat se takati hain

mahinon ab mulakaten nahin hoti.

gulazar

 

Search Tags

Kitab Shayari, Kitab Hindi Shayari, Kitab Shayari, Kitab whatsapp status, Kitab hindi Status, Hindi Shayari on Kitab, Kitab whatsapp status in hindi,

किताब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, किताब, किताब स्टेटस, किताब व्हाट्स अप स्टेटस, किताब पर शायरी, किताब शायरी, किताब पर शेर, किताब की शायरी,

किताबों हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, किताबों, किताबों स्टेटस, किताबों व्हाट्स अप स्टेटस, किताबों पर शायरी, किताबों शायरी, किताबों पर शेर, किताबों की शायरी,