Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

Mahtaab Shayari in Hindi  माहताब पर शायरी
Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

Mahtaab Shayari in Hindi

माहताब पर शायरी

दोस्तों माहताब पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “माहताब” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “माहताब” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

 

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी

पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में

~ग़ालिब

 

आ गया था उनके होठों पर तबस्सुम ख्वाब में,

वर्ना इतनी दिलकशी कब थी शबे-माहताब में !!

 

बामे-मीना से माहताब उतरे,

दस्ते-साक़ी में आफ़्ताब आए

हर रगे-ख़ूँ में फिर चिराग़ाँ हो,

सामने फिर वो बेनक़ाब आए !! -फ़ैज़

 

झुका-झुका-सा है माहताब आरज़ूओं का

धुआँ-धुआँ हैं मुरादों की कहकशाँ यारों.!!

 

सफ़र ए माहताब हुआ तमाम अब तो

अश्क़ ए इन्तज़ार की रवानी बंद करो

 

भरे शहर में एक ही चेहरा था जिसे आज भी गलियां ढूँढती हैं

किसी सुबह उस की धूप हुई

किसी शाम वो ही माहताब हुआ ~मोहसिन_नक़वी

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

शब्-ए मिराज़ में उदास, माहताब क्यूँ है!

शमा बुझी-बुझी सी है ,जिगर में इन्कलाब क्यूँ है ..

 

चिराग-ऐ-बज़म ये फासला कीजिए….

बहकती गज़ल कोई कहिए….माहताब ये मेहरबां रौशन है..

 

फिर वही माँगे हुए लम्हे, फिर वही जाम-ए-शराब

फिर वही तारीक रातों में ख़याल-ए-माहताब ….

 

मेरी निगाहों ने ये कैसा ख्वाब देखा है

ज़मीं पे चलता हुआ माहताब देखा है

 

तेरा ख़याल दिलनशीं माहताब सा,

कहने को ज़िन्दगी ये आफ़ताब थी।

 

छा रही उफ़क़ पे सुर्खी की लकीरें..

हो रहे हैं रुख्सत,माहताब और सितारे

 

उसे पता था, कि तन्हा न रह सकूँगी मै

वो गुफ़्तगू के लिए, माहताब छोड़ गया

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

हम ख्वाहिश ए दीदार ए माहताब रखते हैं…..

आप हैं के रूख पे नकाब रखते हैं

 

इश्क़ के आग़ोश में बस इक दिले खाना खराब

हुस्न के पहलू में रुकता आफ़ताब-ओ-माहताब

 

तू माहताब सही अपने आसमान का

मैं भी सितारा हूं किसीके अरमान का

 

तू आफ़ताब सही तेरी राह का ए हमदम..

में छोटा सही मगर चिराग हु किसी की उम्मीदों का

 

अब क्या मिसाल दूँ, मैं तुम्हारे शबाब की ।

इन्सान बन गई है किरण माहताब की ।।

 

तुझे आफताब लिखूंगा,तुझे माहताब लिखूंगा

जो लिख सकूँगा,वो तेरी हर बात लिखूंगा

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

गुल हो, माहताब हो, आईना हो, खुर्शीद हो

अपना महबूब वही है जो अदा रखता हो

 

ज़मीन तेरी कशिश खींचती रही हमको

गए ज़रूर थे कुछ दूर माहताब के साथ ~शहरयार

 

आसमां को निहारते रातें बीत जाती हैं

भुखे को नजर आती रोटी माहताब मे

 

फिर वही माँगे हुए लम्हे, फिर वही जाम-ए-शराब

फिर वही तारीक रातों में ख़याल-ए-माहताब.. – अली सरदार जाफरी

 

मैं आफताब हूँ … अपनी ही आग से निखरता हूँ …….

तू माहताब है .. तुझे मेरी ज़रूरत है

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

वो आज भी मेरे तसव्वुर के माहताब हैं।

नादाँ बादल हूँ, उनपे छा नहीं पाता।।

 

साक़ी नज़र न आये तो गर्दन झुका के देख,

शीशे में माहताब है सच बोलता हूँ मैं।

 

मतला-ए-हस्ती की साज़िश देखते हम भी ‘शकील’।।

हम को जब नींद आ गई फिर माहताब आया तो क्या।। ~शकील बदायूँनी

 

उनका चेहरा कभी आफ़ताब लगा तो कभी माहताब

हम सितारा-ए-मायूस बने सफ़र करते रहे

 

खुशबू के ज़ज़िरों से तारों कि हद तक……

लब-ए लविश माहताब रहेने दो…

 

हिला-ए-ईद का मुँह चूमो इस के आने से

ज़मीं पे देखे कई माहताब ईद के दिन

 

बहार-ए-रंग-ओ-शबाब ही क्या सितारा ओ माहताब भी

तमाम हस्ती झुकी हुई है, जिधर वो नज़रें झुका रहे हैं

 

चाँदनी में न यूँ नकाब हटा, न खफ़ा माहताब हो जाए !

तेरी नज़रों का सुरूर ऐसे बढ़े, एक दिन बेहिसाब हो जाए !

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

शाम के नोक से हौले हौले रिस रही है रात..

माहताब के दीदार से आफ़ताब ठिठक गया..

 

गुल हुई जाती है अफ़सुर्दा सुलगती हुई शाम

धुल के निकलेगी अभी चश्म-ए-माहताब से रात

 

तेरी होंठों की पंखुडिया गुलाब लगती है

तेरी मोहक आँखे शराब लगती है

जिक्र करूँ क्या तेरी रूह की मुस्कान का

तेरी हर अदा माहताब लगती है

 

किस बला के हसीन नज़र आते हो मानिन्द-ए-माहताब नज़र आते हो,

है तूफ़ान शायद आने वाला तुम जो ख़ामोश नज़र आते हो।

 

हंसती हो तो बिखरती है शफ़्फ़ाक चांदनी

तुम चौदहवीं का खिलता हुआ माहताब हो

 

आज फिर माहताब को दिलकशी से मुस्कुराते देखा..

पड़ी जब किरणें आफताब की उनके रुखसार पर

 

शिददत से पलटना ज़िन्दगी के पन्ने इस किताब में अज़ाब और माहताब बहुत हैं।

यु ही नही कोई कहता इसे जिंदगी,इस के किस्से लाजवाब बहुत हैं

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

“चुन्नी में लिपटा छत पर माहताब आने को हैं!

हसरतों की गली में कोई ख्वाब आने को हैं!!”

 

करवटों के दाग़ लिए फ़ना ज़िस्म पर रूबरू हुए तो क्या,

कांधों का काफ़िया चल पड़ा है अब याद ओ माहताब में…

 

जहाँ ही जाने दिन कब होता है,रात कैसे होती है….

जब नज़रें उठीं उनकी आफताब जल उठे,जब पलकें झुकी माहताब चमक जाए

 

मौसम भी है, उम्र भी, शराब भी है; पहलू में वो रश्के-माहताब भी है;

दुनिया में अब और चाहिए क्या मुझको; साक़ी भी है, साज़ भी है, शराब भी है।

 

“उसके चेहरे में मिलता था माहताब मुझे,

मैंने देखा ही नहीं इसलिए आसमां कभी!!”

 

Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी

हर एक पुरा ख़्वाब नहीं होता

हर रात पुरा माहताब नहीं होता..

 

न इतना ज़ुल्म कर ऐ चाँदनी बहर-ए-ख़ुदा छुप जा

तुझे देखे से याद आता है मुझ को माहताब अपना ~नज़ीर अकबराबादी

 

हर एक रात को माहताब देखने के लिए

मैं जागता हूँ तेरे ख़्वाब देखने के लिए।

 

न आफताब सा बनना न माहताब मुझे

मैं एक लम्हा हूँ जुगनू सा चमक जाता हूँ

 

“मैंने माहताब की किरणों से बचाया था जिसे,

धूप ओढ़े हुए फिरता है वो बाज़ारों में!!”

 

“इन जागती आँखों में है ख्वाब क्या क्या,

बारिश, भीगे बदन, माहताब क्या क्या!!”

 

Search Tags

Mahtaab Shayari in Hindi, Mahtaab Hindi Shayari, Mahtaab Shayari, Mahtaab whatsapp status, Mahtaab hindi Status, Hindi Shayari on Mahtaab, Mahtaab whatsapp status in hindi,

माहताब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, माहताब स्टेटस, माहताब व्हाट्स अप स्टेटस,माहताब पर शायरी, माहताब शायरी, माहताब पर शेर, माहताब की शायरी


Hinglish

Mahtaab Shayari in Hindi

माहताब पर शायरी

mahtaab shayari in hindi maahataab par shaayareemahtaab shayari in hindimaahataab par shaayaree doston maahataab par sher o shaayaree ka ek achchha sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “maahataab” ke baare mein zajbaat aur khayaalaat jaan sakenge. agar aapake paas bhee “maahataab” par shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

gaalib chhutee sharaab par ab bhee kabhee kabheepeeta hoon roz-e-abr-o-shab-e-maahataab mein~gaaliba gaya tha unake hothon par tabassum khvaab mein,varna itanee dilakashee kab thee shabe-maahataab mein !!baame-meena se maahataab utare,daste-saaqee mein aaftaab aaehar rage-khoon mein phir chiraagaan ho,saamane phir vo benaqaab aae !! -faizajhuka-jhuka-sa hai maahataab aarazooon kaadhuaan-dhuaan hain muraadon kee kahakashaan yaaron.!!

safar e maahataab hua tamaam ab toashq e intazaar kee ravaanee band karobhare shahar mein ek hee chehara tha jise aaj bhee galiyaan dhoondhatee hainkisee subah us kee dhoop hueekisee shaam vo hee maahataab hua ~mohasin_naqaveemahtaab shayari in hindi maahataab par shaayareeshab-e miraaz mein udaas, maahataab kyoon hai!shama bujhee-bujhee see hai ,jigar mein inkalaab kyoon hai ..chiraag-ai-bazam ye phaasala keejie….bahakatee gazal koee kahie….maahataab ye meharabaan raushan hai..phir vahee maange hue lamhe, phir vahee jaam-e-sharaabaphir vahee taareek raaton mein khayaal-e-maahataab ….

meree nigaahon ne ye kaisa khvaab dekha haizameen pe chalata hua maahataab dekha haitera khayaal dilanasheen maahataab sa,kahane ko zindagee ye aafataab thee.chha rahee ufaq pe surkhee kee lakeeren..ho rahe hain rukhsat,maahataab aur sitaareuse pata tha, ki tanha na rah sakoongee maivo guftagoo ke lie, maahataab chhod gayaamahtaab shayari in hindi maahataab par shaayareeham khvaahish e deedaar e maahataab rakhate hain…..aap hain ke rookh pe nakaab rakhate hainishq ke aagosh mein bas ik dile khaana kharaabahusn ke pahaloo mein rukata aafataab-o-maahataab too maahataab sahee apane aasamaan kaamain bhee sitaara hoon kiseeke aramaan kaatoo aafataab sahee teree raah ka e hamadam..mein chhota sahee magar chiraag hu kisee kee ummeedon kaab kya misaal doon, main tumhaare shabaab kee .insaan ban gaee hai kiran maahataab kee ..tujhe aaphataab likhoonga,

tujhe maahataab likhoongaajo likh sakoonga,vo teree har baat likhoongaamahtaab shayari in hindi maahataab par shaayareegul ho, maahataab ho, aaeena ho, khursheed hoapana mahaboob vahee hai jo ada rakhata hozameen teree kashish kheenchatee rahee hamakoge zaroor the kuchh door maahataab ke saath ~shaharayaaraasamaan ko nihaarate raaten beet jaatee haimbhukhe ko najar aatee rotee maahataab mephir vahee maange hue lamhe, phir vahee jaam-e-sharaabaphir vahee taareek raaton mein khayaal-e-maahataab.. –

alee saradaar jaaphareemain aaphataab hoon … apanee hee aag se nikharata hoon …….too maahataab hai .. tujhe meree zaroorat haimahtaab shayari in hindi maahataab par shaayareevo aaj bhee mere tasavvur ke maahataab hain.naadaan baadal hoon, unape chha nahin paata..saaqee nazar na aaye to gardan jhuka ke dekh,sheeshe mein maahataab hai sach bolata hoon main.matala-e-hastee kee saazish dekhate ham bhee shakeel..ham ko jab neend aa gaee phir maahataab aaya to kya.. ~shakeel badaayoonnee

unaka chehara kabhee aafataab laga to kabhee maahataabaham sitaara-e-maayoos bane safar karate rahekhushaboo ke zaziron se taaron ki had tak……lab-e lavish maahataab rahene do…hila-e-eed ka munh choomo is ke aane sezameen pe dekhe kaee maahataab eed ke dinabahaar-e-rang-o-shabaab hee kya sitaara o maahataab bheetamaam hastee jhukee huee hai, jidhar vo nazaren jhuka rahe hainchaandanee mein na yoon nakaab hata, na khafa maahataab ho jae !teree nazaron ka suroor aise badhe, ek din behisaab ho jae !mahtaab shayari in hindi maahataab par shaayareeshaam ke nok se haule haule ris rahee hai raat..maahataab ke deedaar se aafataab thithak gaya..gul huee jaatee hai afasurda sulagatee huee shaamadhul ke nikalegee abhee chashm-e-maahataab se raatateree honthon kee pankhudiya gulaab lagatee haiteree mohak aankhe sharaab lagatee haijikr karoon kya teree rooh kee muskaan kaateree har ada maahataab lagatee

haikis bala ke haseen nazar aate ho maanind-e-maahataab nazar aate ho,hai toofaan shaayad aane vaala tum jo khaamosh nazar aate ho.hansatee ho to bikharatee hai shaffaak chaandaneetum chaudahaveen ka khilata hua maahataab hoaaj phir maahataab ko dilakashee se muskuraate dekha..padee jab kiranen aaphataab kee unake rukhasaar parashidadat se palatana zindagee ke panne is kitaab mein azaab aur maahataab bahut hain.

u hee nahee koee kahata ise jindagee,is ke kisse laajavaab bahut hainmahtaab shayari in hindi maahataab par shaayaree”chunnee mein lipata chhat par maahataab aane ko hain!hasaraton kee galee mein koee khvaab aane ko hain!!”karavaton ke daag lie fana zism par roobaroo hue to kya,kaandhon ka kaafiya chal pada hai ab yaad o maahataab mein…jahaan hee jaane din kab hota hai,raat kaise hotee hai….jab nazaren utheen unakee aaphataab jal uthe,jab palaken jhukee maahataab chamak jaemausam bhee hai, umr bhee, sharaab bhee hai; pahaloo mein vo rashke-maahataab bhee hai;duniya mein ab aur chaahie kya mujhako; saaqee bhee hai, saaz bhee hai, sharaab bhee hai.”usake chehare mein milata tha maahataab mujhe,mainne dekha hee nahin isalie aasamaan kabhee!!”mahtaab shayari in hindi

maahataab par shaayareehar ek pura khvaab nahin hotaahar raat pura maahataab nahin hota..na itana zulm kar ai chaandanee bahar-e-khuda chhup jaatujhe dekhe se yaad aata hai mujh ko maahataab apana ~nazeer akabaraabaadeehar ek raat ko maahataab dekhane ke liemain jaagata hoon tere khvaab dekhane ke lie.na aaphataab sa banana na maahataab mujhemain ek lamha hoon juganoo sa chamak jaata hoon”mainne maahataab kee kiranon se bachaaya tha jise,dhoop odhe hue phirata hai vo baazaaron mein!!””in jaagatee aankhon mein hai khvaab kya kya,baarish, bheege badan, maahataab kya kya!!”

 

1 thought on “Mahtaab Shayari in Hindi माहताब पर शायरी”

Leave a Reply