Manane ki Shayari रुठने-मनाने की शायरी

Manane ki Shayari रुठने-मनाने की शायरी

Love Shayri – Roothne manane ki Shayri, रूठने के quotes,

रूठने मनाने की शायरी

हिंदी शायरी,

इस कदर हम यार को मनाने निकले उसकी चाहत के हम दिवाने निकले.. जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले..

***

नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की पता नहीं कहां से सीखी जालिम ने अदाएं रूठ जाने की

***

उससे, खफ़ा होकर भी देखेंगे, एक दिन.. कि, उसके मनाने का अंदाज़ कैसा है..!

***

मोहब्बत आजमानी हो तो बस इतना ही काफी है, जरा सा रूठ कर देखो मनाने कौन आता है…

***

रूठे हुये हो क्यों में मनाने को हु तैयार कीमत बता दो मान जाने की में जिन्दगी लुटाने को हु तैयार

***

मेरी ज़िन्दगी में खुशियाँ तेरे बहाने से हैं…. आधी तुझे सताने से हैं आधी तुझे मनाने से हैं…

***

वक्त कम है साथ बिताने के लिए इसको ना गंवाना रूठने मनाने के लिए मेरे मेहबूब प्यार कर लिया हमने आपसे बस थोड़ा साथ देना इसको निभाने के लिए

***

वो रूठे तो सही हम मनाने का वादा करते है, दिल तोडना है मेरा तो बेशक तोड़ दे वो इस दिल के बिना भी हम उनको चाहने का वादा करते है

***

खत्म कर दिया किस्सा, अब रुठने मनाने का.. सुना है वो शख्स हैरान है, मेरे इस रवैये से..

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Ruthna manana Status Pictures – Ruthna manana dp Pictures – Ruthna manana Shayari Pictures

***

यूँ रहा रुठने-मनाने का सिलसिला तेरी बेरुखी भी अब वफ़ा लगती है !!

***

शहर में वो मजा नही है क्योकि तेरी रुठने मनाने की सज़ा नही है

***

यूँ तो….. प्यार की हर अदा निराली हैं पर रुठने मनाने की अदा सबसे आली हैं

***

रुठने मनाने के फलसफे से तंग आ गया हूँ, ऐसा कर ए मोहब्बत, अब तू मेरा हिसाब कर दे..!!

***

जिंदगी जीने के लिये वक्त हैं बहोत ही कम और तुम्हें रुठने मनाने का खेल पसंद हैं

***

ये रुठने मनाने के सिलसिले बड़े ही प्यारे होतेहै तुमसे मिलने परही ये बात जानी हमने

***

“ग़र कटती हें उम्र तुम्हे मनाने मेँ,तो कट जाने दो, वैसे भी बिन तुम्हारे जिंन्दगी भी कंहा जिंदगी हें।।”

***

तुम रूठो तो तुम्हे मनाने आ जाएंगे कई हम रूठे भी तो बताओ किस के भरोसे…..

***

तुम हंसती हो मुझे हसाने के लिए,तुम रोती हो मुझे रुलाने के लिए। एक बार तो रुठ के देखो,मर जाएंगे तुम्हे मनाने के लिए।।

***

सोच रखी है बहुत सी बातें तुम्हे सुनाने के लिए….!!! लेकिन तुम हो के आते ही नही हमे मनाने के लिए….!!!

***

कितनी बातें, जो आती आधी रात कहने को तुम्हे… उन् ख्वाबो में जिनमे तू करती बात, मुझे मनाने की… कभी ना छोड़ के जाने की !!

***

आज खुद को भुलाने को जी कर रहा है, बेवजह रूठ जाने को जी कर रहा है, तुम्हे वक़्त शायद मिले न मिले, आज खुद को मनाने को जी कर रहा है।

*** Manane ki Shayari

चला ह सिलसिला कैसा ये रातों को मनाने का तुम्हे हक़ दे दिया किसने दियो का दिल दुखने का

***

तरिके तो कई है… तुम्हे अपने पास रखने के… पर मजा तो तब है जब तुम हमें मनाने का हुनर जानो..

***

जब तुम रूठ जाते हो, तो और भी हसीन लगते हो। यही सोचकर तुम्हे मनाने का मन नही करता।

***

तुम तरकीब निकालते हो दिल जलाने की,, हम तरकीब निकालते है तुम्हे मनाने की.

***

तुम्हे तो मनाना भी नहीं आता………… रूठू तो……कैसे रूठू……!! मनाने वाले तो…… चाँद ………… को थाली में ले आते हैं…

****

रूठने का हक़ है तुझे, वजह बताया कर।
ख़फ़ा होना गलत नही, तू खता बताया कर।
Ruthne ka haq h tujhe, wajah bataya kar.
Khafa hona galat nhi, tu khata bataya kar..

*** Manane ki Shayari

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने की चाहत पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है,
में तो आईना हूँ मुझे टूटने की आदत है।

 

Manane ki Shayari
Manane ki Shayari

नया नया शौक उन्हें रूठने का लगता है

खुद ही भूल जाते हैं रूठे थे किस बात पर

***

हर घड़ी का ये बिगड़ना नहीं
अच्छा ऐ जान…
रूठने का भी कोई वक़्त मुक़र्रर
हो जाए…

***

मनाने रुठने के खेल में हम
बिछड़ जाएंगे … सोचा नहीं था

*** Manane ki Shayari

मुद्दतों बाद आज फिर परेशान
हुआ है दिल,
जाने किस हाल में होगा मुझसे
रूठने वाला….

***

वो मेरे रूठने पर इस तरह मनाती है…
कभी तो ज़ी चाहता है बेवजह उससे रूठ जाऊं…!!!

***

रूठने की उसकी अदा भी अजब है,
बिन कहे करता है शिकायतें गजब है ….

***

उफ़ —उसके रूठने की अदाये भी गजब
की थी…
बात बात पे कहना की ” सोच लो फिर बात
नहीं करुँगी ”

***

ज़माने से रुठने की जरूरत ही क्यों हो
जब मेरे अपने ही मेरे बने रकीब हो

***

सारी उम्र करते रहे इंतज़ार तेरे रुठने का
कभी तो मौका दिया होता तूने मनाने का

***

तुझे खबर भी है इसकी ओ रूठने वाले,
तुम्हारा प्यार ही मेरा कीमती खजाना था

***

तू जो रूठ्ने लगा है
दिल टूटने लगा है
अब सब्र का भी दामन
मुझसे छूटने लगा है

*** Manane ki Shayari

गलती एक करी थी उसने जो हमने सची मानी थी…°

हमने जाने को कहा और उसने रुठने की ठानी थी़.

***

हमें तो रूठने का सलीका भी नहीं आता
जाते-जाते खुद को उसके पास ही छोड़ आये ………

***

…रूठनें का लुत्फ़ आया ही नहीं,
आप पहले ही मनाने आ गए…

***

उन्हें रूठने में वक़्त नहीं लगता
मेरे पास वक़्त नहीं मानाने को …

****

जंग न लग जाये मोहब्बत को कहीं…

रूठने मनाने के सिलसिले जारी रखो..।।

***

रूठने-मनाने का,
सिलसिला कुछ यू हुआ।
मान गया था मगर,
फिर रूठने का दिल हुआ।।

***

बहाने बनाना कोई उनसे सीखे, बनाकर मिटाना कोई उनसे सीखे,
सबब रूठने का भी होता है लेकिन, यूं ही रूठ जाना कोई उनसे सीखे !

***

नाराज़गी नहीं है कोई … मै किससे
शिकायत करूँ! . . . .

ये रूठने मनाने
की रस्म तो अपनों में हुआ करती है!!

*** Manane ki Shayari

रूठने की कोई…….दास्ताँ रही होगी
यकीनन कोई …….. खता रही होगी
तुमने सलाम नहीं लिया होगा उनका
यही तो बात दिल को सता रही होगी

***

बस एक यही आदत तो मेरी खरा़ब है …
रूठने के लिये ना जाने कितने बहाने चाहिये
और मान जाने के लिये …तेरा बोलना ही काफी है …

***

हर बार रिश्तों में और भी मिठास आई है,
जब भी बाद रूठने के तू मेरे पास आई है।

Ruthne manane ki shayari in english font

is kadar ham yar ko manane nikale usake chahat ke ham diwane nikale.. jab bhe use dil ka hal batana chaha usake hothon se waqt na hone ke bahane nikale..

***

nakam then mere sab koshishen us ko manane ke pata nahin kahan se sekhe jalim ne adaen rooth jane ke

usase, khafa hokar bhe dekhenge, ek din.. ki, usake manane ka andaz kaisa hai..!

***

mohabbat ajamane ho to bas itana he kafe hai, jara sa rooth kar dekho manane kaun ata hai…

***

roothe huye ho kyon mein manane ko hu taiyar kemat bata do man jane ke mein jindage lutane ko hu taiyar

***

mere zindage mein khushiyan tere bahane se hain…. adhe tujhe satane se hain adhe tujhe manane se hain…

***

wakt kam hai sath bitane ke lie isako na ganwana roothane manane ke lie mere mehaboob pyar kar liya hamane apase bas thoda sath dena isako nibhane ke lie

***

wo roothe to sahe ham manane ka wada karate hai, dil todana hai mera to beshak tod de wo is dil ke bina bhe ham unako chahane ka wada karate hai

***

khatm kar diya kissa, ab ruthane manane ka.. suna hai wo shakhs hairan hai, mere is rawaiye se..

***

yoon raha ruthane-manane ka silasila tere berukhe bhe ab wafa lagate hai !!

***

shahar mein wo maja nahe hai kyoki tere ruthane manane ke saza nahe hai

***

yoon to….. pyar ke har ada nirale hain par ruthane manane ke ada sabase ale hain

***

ruthane manane ke falasafe se tang a gaya hoon, aisa kar e mohabbat, ab too mera hisab kar de..!!

***

jindage jene ke liye wakt hain bahot he kam aur tumhen ruthane manane ka khel pasand hain

***

ye ruthane manane ke silasile bade he pyare hotehai tumase milane parahe ye bat jane hamane

***

“gar katate hen umr tumhe manane men,to kat jane do, waise bhe bin tumhare jinndage bhe kanha jindage hen..”

***

tum rootho to tumhe manane a jaenge kae ham roothe bhe to batao kis ke bharose…..

***

tum hansate ho mujhe hasane ke lie,tum rote ho mujhe rulane ke lie. ek bar to ruth ke dekho,mar jaenge tumhe manane ke lie..

***

soch rakhe hai bahut se baten tumhe sunane ke lie….!!! lekin tum ho ke ate he nahe hame manane ke lie….!!!

***

kitane baten, jo ate adhe rat kahane ko tumhe… un khwabo mein jiname too karate bat, mujhe manane ke… kabhe na chhod ke jane ke !!

***

aj khud ko bhulane ko je kar raha hai, bewajah rooth jane ko je kar raha hai, tumhe waqt shayad mile na mile, aj khud ko manane ko je kar raha hai.

*** mananai ki shayari

chala ha silasila kaisa ye raton ko manane ka tumhe haq de diya kisane diyo ka dil dukhane ka

***

tarike to kae hai… tumhe apane pas rakhane ke… par maja to tab hai jab tum hamen manane ka hunar jano..

***

jab tum rooth jate ho, to aur bhe hasen lagate ho. yahe sochakar tumhe manane ka man nahe karata.

***

tum tarakeb nikalate ho dil jalane ke,, ham tarakeb nikalate hai tumhe manane ke.

***

tumhe to manana bhe nahin ata………… roothoo to……kaise roothoo……!! manane wale to…… chand ………… ko thale mein le ate hain…

****

roothane ka haq hai tujhe, wajah bataya kar.

khafa hona galat nahe, too khata bataya kar.

ruthnai ka haq h tujhai, wajah batay kar.

khaf hon galat nhi, tu khat batay kar..

*** mananai ki shayari

bin bat ke he roothane ke adat hai,

kise apane ke chahat pane ke chahat hai,

ap khush rahen, mera kya hai,

mein to aena hoon mujhe tootane ke adat hai.

naya naya shauk unhen roothane ka lagata hai

khud he bhool jate hain roothe the kis bat par

***

har ghade ka ye bigadana nahin

achchha ai jan…

roothane ka bhe koe waqt muqarrar

ho jae…

***

manane ruthane ke khel mein ham

bichhad jaenge … socha nahin tha

 

*** mananai ki shayari

muddaton bad aj fir pareshan

hua hai dil,

jane kis hal mein hoga mujhase

roothane wala….

***

wo mere roothane par is tarah manate hai…

kabhe to ze chahata hai bewajah usase rooth jaoon…!!!

***

roothane ke usake ada bhe ajab hai,

bin kahe karata hai shikayaten gajab hai ….

***

uf —usake roothane ke adaye bhe gajab

ke the…

bat bat pe kahana ke ” soch lo fir bat

nahin karunge ”

 

zamane se ruthane ke jaroorat he kyon ho

jab mere apane he mere bane rakeb ho

***

sare umr karate rahe intazar tere ruthane ka

kabhe to mauka diya hota toone manane ka

***

tujhe khabar bhe hai isake o roothane wale,

tumhara pyar he mera kemate khajana tha

***

too jo roothne laga hai

dil tootane laga hai

ab sabr ka bhe daman

mujhase chhootane laga hai

*** mananai ki shayari

galate ek kare the usane jo hamane sache mane the…°

hamane jane ko kaha aur usane ruthane ke thane the.

***

hamen to roothane ka saleka bhe nahin ata

jate-jate khud ko usake pas he chhod aye ………

***

…roothanen ka lutf aya he nahin,

ap pahale he manane a gae…

***

unhen roothane mein waqt nahin lagata

mere pas waqt nahin manane ko …

****

jang na lag jaye mohabbat ko kahen…

roothane manane ke silasile jare rakho….

***

roothane-manane ka,

silasila kuchh yoo hua.

man gaya tha magar,

fir roothane ka dil hua..

***

bahane banana koe unase sekhe, banakar mitana koe unase sekhe,

sabab roothane ka bhe hota hai lekin, yoon he rooth jana koe unase sekhe !

***

narazage nahin hai koe … mai kisase

shikayat karoon! . . . .

ye roothane manane

ke rasm to apanon mein hua karate hai!!

*** mananai ki shayari

roothane ke koe…….dastan rahe hoge

yakenan koe …….. khata rahe hoge

tumane salam nahin liya hoga unaka

yahe to bat dil ko sata rahe hoge

***

bas ek yahe adat to mere kharaba hai …

roothane ke liye na jane kitane bahane chahiye

aur man jane ke liye …tera bolana he kafe hai …

***

har bar rishton mein aur bhe mithas ae hai,

jab bhe bad roothane ke too mere pas ae hai.

5 thoughts on “Manane ki Shayari रुठने-मनाने की शायरी”

  1. तुझे फिक्र कितनी तेरी है .
    ये तो नहीं जनता
    .पर हाँ
    मेरे लिए तू उस खुदा से भी कीमती है .

    Reply
  2. Zindgi kuch es kdr nirash h pani ko bhi ajj khud pani ki piyas h ek baar muskruradey dost ramgopal vrma ko new bhoot ki tlass h ???

    Reply
  3. तुमसे मिलना और मिलकर बिछड़ना
    हमारा नसीब था ।।
    हम चाह के भी कुछ न कर सके
    दिल जलता रहा और समंदर करीब था ।।

    Reply

Leave a Comment