Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी

Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी

Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी
Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी

Manzil Hindi Shayari

मंज़िल हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Manzil, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Manzil Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Manzil is excellent in expressing your emotions.

For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

मंज़िल पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस मंज़िल हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। मंज़िल लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

******************

 

कई जीत बाक़ी हैं कई हार बाक़ी हैं अभी ज़िंदगी का सार बाक़ी है.

यहाँ से चले हैं नयी मंज़िल के लिए ये तो एक पन्ना था अभी तो पूरी किताब बाक़ी है

*** Manzil Hindi Shayari

मंज़िल उन्ही को मिलती है जिनके सपनो में जान होती है,

पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है !

*** Manzil Hindi Shayari

मंज़िल पाना तो बहुत दूर की बात हैं।

गुरूरमें रहोगे तो रास्ते भी न देख पाओगे।।

***

मंज़िल तो मिल ही जायेगी भटक कर ही सही,

गुमराह तो वो हैं जो घर से निकला ही नहीं करते।.

***

चलता रहूँगा मै पथ पर, चलने में माहिर बन जाउंगा,

या तो मंज़िल मिल जायेगी, या मुसाफिर बन जाउंगा !

*** Manzil Hindi Shayari

रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं ज़िंदग़ी के सफ़र में,

मंज़िल तो वहाँ है जहाँ ख्वाहिशें थम जाएँ।

***

मंज़िल का पता है न किसी राहगुज़र का

बस एक थकन है कि जो हासिल है सफ़र का

***

फ़रेब हम को न क्या क्या इस आरज़ू ने दिये . . .

वही थी मंज़िल-ए-दिल हम जहाँ से लौट आए .

***

आप की मंज़िल हूँ मैं मेरी मंज़िल आप हैं

क्यूँ मैं तूफ़ान से डरूँ मेरे साहिल आप हैं

***

हम पड़ाव को समझे मंज़िल लक्ष्य हुआ आंखों से ओझल वतर्मान के मोहजाल में- आने वाला कल न भुलाएँ। आओ फिर से दिया जलाएँ।

**

ज़रा ठहरो हमें भी साथ ले लो कारवाँ वालो

अगर तुम से न पहचानी गई मंज़िल तो क्या होगा

*** Manzil Hindi Shayari

मुश्किलें जरुर है, मगर ठहरा नही हूँ मैं…

मंज़िल से जरा कह दो, अभी पहुंचा नही हूँ मैं.

***

अभी ना पूछो मंज़िल कँहा है, अभी तो हमने चलने का इरादा किया है।

ना हारे हैं ना हारेंगे कभी, ये खुद से वादा किया है।

***

सामने मंज़िल थी और पीछे उसका वजूद; क्या करते हम भी यारों; रुकते तो सफर रह जाता चलते तो हमसफ़र रह जाता।

***

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर लोग मिलते गये, और कारवाँ बनता गया

*** Manzil Hindi Shayari

काश क़दमों के निशां महफूज़ मंज़िल तक रहें

जाने कितनों को मयस्सर रहबरी होती नहीं

***

मोहब्बत में सहर ऐ दिल बराए नाम आती है

ये वो मंज़िल है जिस मंज़िल में अक्सर शाम आती है

***

नहीं निगाह में मंज़िल तो जुस्तजू ही सही

नहीं विसाल मयस्सर तो आरजू ही सही

***

अलग अलग थे रास्ते लेकिन मंज़िल एक है

सुकून है दिल को के हम मिलेंगे ज़रूर

***

उन्हें फ़ुरसत ही नहीं है गेरौ की महफ़िल से,

इक हम है कि आज भी उन्हें अपनी मंज़िल बनाए बैठे है

*** Manzil Hindi Shayari

खोजोगे तो हर मंज़िल की राह मिल जाती है

सोचोगे तो हर बातकी वजह मिल जाती है

ज़िंदगी इतनी मजबूर भी नही ए दोस्त

“प्यार भी जीने की वजह बन जाती है

***

हार को मन का डर नहीं मंज़िल का सबक बना

जिन्दगी अकसर उलझती है जब राहें मंजिल के करीब हो…..!

***

अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का, सब को मंज़िल का शौक़ है,, मुझे रास्ते का !!

***

बढ़ते चले गए जो वो मंज़िल को पा गए

मैं पत्थरों से पाँव बचाने में रह गया….

*** Manzil Hindi Shayari

ज़िन्दगी! मौत तेरी मंज़िल है।। दूसरा कोई रास्ता ही नहीं।।

सच घटे या बढ़े तो सच न रहे।। झूठ की कोई इन्तहा ही नहीं।।

***

ये और बात कि मंज़िल-फ़रेब था लेकिन

हुनर वो जानता था हम-सफ़र बनाने का

***

मंज़िल-ए-इश्क पे तनहा पहुँचे कोई तमन्ना साथ न थी,

थक थक कर इस राह में आख़िर इक इक साथी छूट गया।

***

खुद पुकारेगी मंज़िल तो ठहर जाऊँगा…

वरना मुसाफिर खुद्दार हूँ, यूँ ही गुज़र जाऊँगा…!!!

*** Manzil Hindi Shayari

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल

कोई मेरी तरह ताउम्र सफ़र में रहा।

***

दिल बिन बताए मुझे ले चल कही…

जहां तू मुस्कुराएं मेरी मंज़िल वही !!

***

परिंदो को मिलेगी मंज़िल एक दिन , ये फैले हुए उनके पर बोलते है. और वही लोग रहते है खामोश अक्सर, ज़माने में जिनके हुनर बोलते है ..

***

फ़ैज़ थी राह सर-ब-सर मंज़िल,

हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए।

*** Manzil Hindi Shayari

निगाहों में मंज़िल थी, गिरे और गिर कर संभलते रहे;

हवाओं ने बहुत कोशिश की, मगर चिराग आंधियों में भी जलते रहे।

***

मंज़िल का, न मकसद का , न रस्ते का पता है

हमेशा दिल किसी के पीछे ही चलता रहा है

***

मिलना किस काम का अगर दिल ना मिले,

चलना बेकार हे जो चलके मंज़िल ना मिले

***

मन की जो सुनी थी उसने… अपनी मंज़िल पानी थी !

ख़्वाब तो पुरे होने ही थे.. उसने दिल से जो ठानी थी !!

***

 
Search Tags
 
Manzil Shayari, Manzil Hindi Shayari, Manzil Shayari, Manzil whatsapp status, Manzil hindi Status, Hindi Shayari on Manzil, Manzil whatsapp status in hindi, मंज़िल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मंज़िलमंज़िल स्टेटस, मंज़िल व्हाट्स अप स्टेटस
 
—–
Hinglish

manzil par hindi shayari

 
manzil par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahaan upalabdh hai, aap is manzil hindi shayari ko apane hindi vaahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya aap is behatareen hindi shayari ko apane doston ko phesabuk par bhee bhej sakaten hain. manzil laphz par hindi ke yah sher, bhaavanaon ko vyakt karane mein aapakee madad kar sakaten hain.sabhee hindi shayari kee list yahaan hain. hindi shayari******************
 
kaee jeet baaqee hain kaee haar baaqee hain abhee zindagee ka saar baaqee hai.yahaan se chale hain nayee manzil ke lie ye to ek panna tha abhee to pooree kitaab baaqee hai***
 
manzil hindi shayarimanzil unhee ko milatee hai jinake sapano mein jaan hotee hai,pankh se kuchh nahin hota, hausalon se udaan hotee hai !***
 
manzil hindi shayarimanzil paana to bahut door kee baat hain.gurooramen rahoge to raaste bhee na dekh paoge..***
 
manzil to mil hee jaayegee bhatak kar hee sahee,gumaraah to vo hain jo ghar se nikala hee nahin karate..***
 
chalata rahoonga mai path par, chalane mein maahir ban jaunga,ya to manzil mil jaayegee, ya musaaphir ban jaunga !***
 
manzil hindi shayariraaste kahaan khatm hote hain zindagee ke safar mein,manzil to vahaan hai jahaan khvaahishen tham jaen.***
 
manzil ka pata hai na kisee raahaguzar kaabas ek thakan hai ki jo haasil hai safar ka***
 
fareb ham ko na kya kya is aarazoo ne diye . . .vahee thee manzil-e-dil ham jahaan se laut aae .***
 
aap kee manzil hoon main meree manzil aap hainkyoon main toofaan se daroon mere saahil aap hain***
 
ham padaav ko samajhe manzil lakshy hua aankhon se ojhal vatarmaan ke mohajaal mein- aane vaala kal na bhulaen. aao phir se diya jalaen.**
 
zara thaharo hamen bhee saath le lo kaaravaan vaaloagar tum se na pahachaanee gaee manzil to kya hoga***
 
manzil hindi shayarimushkilen jarur hai, magar thahara nahee hoon main…manzil se jara kah do, abhee pahuncha nahee hoon main.***
 
abhee na poochho manzil kanha hai, abhee to hamane chalane ka iraada kiya hai.na haare hain na haarenge kabhee, ye khud se vaada kiya hai.***
 
saamane manzil thee aur peechhe usaka vajood; kya karate ham bhee yaaron; rukate to saphar rah jaata chalate to hamasafar rah jaata.***
 
main akela hee chala tha jaanib-e-manzil magar log milate gaye, aur kaaravaan banata gaya***
 
manzil hindi shayarikaash qadamon ke nishaan mahaphooz manzil tak rahenjaane kitanon ko mayassar rahabaree hotee nahin***
 
mohabbat mein sahar ai dil barae naam aatee haiye vo manzil hai jis manzil mein aksar shaam aatee hai***
 
nahin nigaah mein manzil to justajoo hee saheenaheen visaal mayassar to aarajoo hee sahee***
 
alag alag the raaste lekin manzil ek haisukoon hai dil ko ke ham milenge zaroor***unhen furasat hee nahin hai gerau kee mahafil se,ik ham hai ki aaj bhee unhen apanee manzil banae baithe hai***
 
manzil hindi shayarikhojoge to har manzil kee raah mil jaatee haisochoge to har baatakee vajah mil jaatee haizindagee itanee majaboor bhee nahee e dost”pyaar bhee jeene kee vajah ban jaatee hai***
 
haar ko man ka dar nahin manzil ka sabak banaajindagee akasar ulajhatee hai jab raahen manjil ke kareeb ho…..!***
 
andaaz kuchh alag hee he mere sochane ka, sab ko manzil ka shauq hai,, mujhe raaste ka !!***
 
badhate chale gae jo vo manzil ko pa gaemain pattharon se paanv bachaane mein rah gaya….***
 
manzil hindi shayarizindagee! maut teree manzil hai.. doosara koee raasta hee nahin..sach ghate ya badhe to sach na rahe.. jhooth kee koee intaha hee nahin..***
 
ye aur baat ki manzil-fareb tha lekinahunar vo jaanata tha ham-safar banaane ka***
 
manzil-e-ishk pe tanaha pahunche koee tamanna saath na thee,thak thak kar is raah mein aakhir ik ik saathee chhoot gaya.***
 
khud pukaaregee manzil to thahar jaoonga…varana musaaphir khuddaar hoon, yoon hee guzar jaoonga…!!!***
 
manzil hindi shayarikisee ko ghar se nikalate hee mil gaee manzilakoee meree tarah taumr safar mein raha.***
 
dil bin batae mujhe le chal kahee…jahaan too muskuraen meree manzil vahee !!***
 
parindo ko milegee manzil ek din , ye phaile hue unake par bolate hai. aur vahee log rahate hai khaamosh aksar, zamaane mein jinake hunar bolate hai ..***
 
faiz thee raah sar-ba-sar manzil,ham jahaan pahunche kaamayaab aae.***
 
manzil hindi shayarinigaahon mein manzil thee, gire aur gir kar sambhalate rahe;havaon ne bahut koshish kee, magar chiraag aandhiyon mein bhee jalate rahe.***
 
na manzil ka, na makasad ka , na raste ka pata haihamesha dil kisee ke peechhe hee chalata raha hai***
 
milana kis kaam ka agar dil na mile,chalana bekaar he jo chalake manzil na mile***
 
man kee jo sunee thee usane… apanee manzil paanee thee !khvaab to pure hone hee the.. usane dil se jo thaanee thee !!***
 
saiarchh tags manzil shayari, manzil hindi shayari, manzil shayari, manzil whatsapp status, manzil hindi status, hindi shayari on manzil, manzil whatsapp status in hindi, manzil hindi shayari, hindi shayari, manzil, manzil stetas, manzil vhaats ap stetas
 
 
 
 
 
 
 
 

2 thoughts on “Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी”

Leave a Reply