Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी

Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी
Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी

Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Manzil, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Manzil Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Manzil is excellent in expressing your emotions.

For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

मंज़िल पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस मंज़िल हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। मंज़िल लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

******************

 

कई जीत बाक़ी हैं कई हार बाक़ी हैं अभी ज़िंदगी का सार बाक़ी है.

यहाँ से चले हैं नयी मंज़िल के लिए ये तो एक पन्ना था अभी तो पूरी किताब बाक़ी है

*** Manzil Hindi Shayari

मंज़िल उन्ही को मिलती है जिनके सपनो में जान होती है,

पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है !

*** Manzil Hindi Shayari

मंज़िल पाना तो बहुत दूर की बात हैं।

गुरूरमें रहोगे तो रास्ते भी न देख पाओगे।।

***

मंज़िल तो मिल ही जायेगी भटक कर ही सही,

गुमराह तो वो हैं जो घर से निकला ही नहीं करते।.

***

चलता रहूँगा मै पथ पर, चलने में माहिर बन जाउंगा,

या तो मंज़िल मिल जायेगी, या मुसाफिर बन जाउंगा !

*** Manzil Hindi Shayari

रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं ज़िंदग़ी के सफ़र में,

मंज़िल तो वहाँ है जहाँ ख्वाहिशें थम जाएँ।

***

मंज़िल का पता है न किसी राहगुज़र का

बस एक थकन है कि जो हासिल है सफ़र का

***

फ़रेब हम को न क्या क्या इस आरज़ू ने दिये . . .

वही थी मंज़िल-ए-दिल हम जहाँ से लौट आए .

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Manzil Status Pictures – Manzil dp Pictures – Manzil Shayari Pictures

आप की मंज़िल हूँ मैं मेरी मंज़िल आप हैं

क्यूँ मैं तूफ़ान से डरूँ मेरे साहिल आप हैं

***

हम पड़ाव को समझे मंज़िल लक्ष्य हुआ आंखों से ओझल वतर्मान के मोहजाल में- आने वाला कल न भुलाएँ। आओ फिर से दिया जलाएँ।

**

ज़रा ठहरो हमें भी साथ ले लो कारवाँ वालो

अगर तुम से न पहचानी गई मंज़िल तो क्या होगा

*** Manzil Hindi Shayari

मुश्किलें जरुर है, मगर ठहरा नही हूँ मैं…

मंज़िल से जरा कह दो, अभी पहुंचा नही हूँ मैं.

***

अभी ना पूछो मंज़िल कँहा है, अभी तो हमने चलने का इरादा किया है।

ना हारे हैं ना हारेंगे कभी, ये खुद से वादा किया है।

***

सामने मंज़िल थी और पीछे उसका वजूद; क्या करते हम भी यारों; रुकते तो सफर रह जाता चलते तो हमसफ़र रह जाता।

***

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर लोग मिलते गये, और कारवाँ बनता गया

*** Manzil Hindi Shayari

काश क़दमों के निशां महफूज़ मंज़िल तक रहें

जाने कितनों को मयस्सर रहबरी होती नहीं

***

मोहब्बत में सहर ऐ दिल बराए नाम आती है

ये वो मंज़िल है जिस मंज़िल में अक्सर शाम आती है

***

नहीं निगाह में मंज़िल तो जुस्तजू ही सही

नहीं विसाल मयस्सर तो आरजू ही सही

***

अलग अलग थे रास्ते लेकिन मंज़िल एक है

सुकून है दिल को के हम मिलेंगे ज़रूर

***

उन्हें फ़ुरसत ही नहीं है गेरौ की महफ़िल से,

इक हम है कि आज भी उन्हें अपनी मंज़िल बनाए बैठे है

*** Manzil Hindi Shayari

खोजोगे तो हर मंज़िल की राह मिल जाती है

सोचोगे तो हर बातकी वजह मिल जाती है

ज़िंदगी इतनी मजबूर भी नही ए दोस्त

“प्यार भी जीने की वजह बन जाती है

***

हार को मन का डर नहीं मंज़िल का सबक बना

जिन्दगी अकसर उलझती है जब राहें मंजिल के करीब हो…..!

***

अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का, सब को मंज़िल का शौक़ है,, मुझे रास्ते का !!

***

बढ़ते चले गए जो वो मंज़िल को पा गए

मैं पत्थरों से पाँव बचाने में रह गया….

*** Manzil Hindi Shayari

ज़िन्दगी! मौत तेरी मंज़िल है।। दूसरा कोई रास्ता ही नहीं।।

सच घटे या बढ़े तो सच न रहे।। झूठ की कोई इन्तहा ही नहीं।।

***

ये और बात कि मंज़िल-फ़रेब था लेकिन

हुनर वो जानता था हम-सफ़र बनाने का

***

मंज़िल-ए-इश्क पे तनहा पहुँचे कोई तमन्ना साथ न थी,

थक थक कर इस राह में आख़िर इक इक साथी छूट गया।

***

खुद पुकारेगी मंज़िल तो ठहर जाऊँगा…

वरना मुसाफिर खुद्दार हूँ, यूँ ही गुज़र जाऊँगा…!!!

*** Manzil Hindi Shayari

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल

कोई मेरी तरह ताउम्र सफ़र में रहा।

***

दिल बिन बताए मुझे ले चल कही…

जहां तू मुस्कुराएं मेरी मंज़िल वही !!

***

परिंदो को मिलेगी मंज़िल एक दिन , ये फैले हुए उनके पर बोलते है. और वही लोग रहते है खामोश अक्सर, ज़माने में जिनके हुनर बोलते है ..

***

फ़ैज़ थी राह सर-ब-सर मंज़िल,

हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए।

*** Manzil Hindi Shayari

निगाहों में मंज़िल थी, गिरे और गिर कर संभलते रहे;

हवाओं ने बहुत कोशिश की, मगर चिराग आंधियों में भी जलते रहे।

***

मंज़िल का, न मकसद का , न रस्ते का पता है

हमेशा दिल किसी के पीछे ही चलता रहा है

***

मिलना किस काम का अगर दिल ना मिले,

चलना बेकार हे जो चलके मंज़िल ना मिले

***

मन की जो सुनी थी उसने… अपनी मंज़िल पानी थी !

ख़्वाब तो पुरे होने ही थे.. उसने दिल से जो ठानी थी !!

***

 
Search Tags
 
Manzil Shayari, Manzil Hindi Shayari, Manzil Shayari, Manzil whatsapp status, Manzil hindi Status, Hindi Shayari on Manzil, Manzil whatsapp status in hindi, मंज़िल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मंज़िलमंज़िल स्टेटस, मंज़िल व्हाट्स अप स्टेटस
 
—–
Hinglish

manzil par hindi shayari with images roman font

 

kae jet baqe hain kae har baqe hain abhe zindage ka sar baqe hai.yahan se chale hain naye manzil ke lie ye to ek panna tha abhe to poore kitab baqe hai***

 

manzil hindi shayari manzil unhe ko milate hai jinake sapano mein jan hote hai,pankh se kuchh nahin hota, hausalon se udan hote hai !***

 

manzil hindi shayari manzil pana to bahut door ke bat hain.gurooramen rahoge to raste bhe na dekh paoge..***

 

manzil to mil he jayege bhatak kar he sahe,gumarah to vo hain jo ghar se nikala he nahin karate..***

 

chalata rahoonga mai path par, chalane mein mahir ban jaunga,ya to manzil mil jayege, ya musafir ban jaunga !***

 

manzil hindi shayari raste kahan khatm hote hain zindage ke safar mein,manzil to vahan hai jahan khvahishen tham jaen.***

 

manzil ka pata hai na kise rahaguzar kabas ek thakan hai ki jo hasil hai safar ka***

 

fareb ham ko na kya kya is arazoo ne diye . . .vahe the manzil-e-dil ham jahan se laut ae .***

 

ap ke manzil hoon main mere manzil ap hainkyoon main toofan se daroon mere sahil ap hain***

 

ham padav ko samajhe manzil lakshy hua ankhon se ojhal vatarman ke mohajal mein- ane vala kal na bhulaen. ao fir se diya jalaen.**

 

zara thaharo hamen bhe sath le lo karavan valoagar tum se na pahachane gae manzil to kya hoga***

 

manzil hindi shayari mushkilen jarur hai, magar thahara nahe hoon main…manzil se jara kah do, abhe pahuncha nahe hoon main.***

 

abhe na poochho manzil kanha hai, abhe to hamane chalane ka irada kiya hai.na hare hain na harenge kabhe, ye khud se vada kiya hai.***

 

samane manzil the aur pechhe usaka vajood; kya karate ham bhe yaron; rukate to safar rah jata chalate to hamasafar rah jata.***

 

main akela he chala tha janib-e-manzil magar log milate gaye, aur karavan banata gaya***

 

manzil hindi shayari kash qadamon ke nishan mahafooz manzil tak rahenjane kitanon ko mayassar rahabare hote nahin***

 

mohabbat mein sahar ai dil barae nam ate haiye vo manzil hai jis manzil mein aksar sham ate hai***

 

nahin nigah mein manzil to justajoo he sahenahen visal mayassar to arajoo he sahe***

 

alag alag the raste lekin manzil ek haisukoon hai dil ko ke ham milenge zaroor***unhen furasat he nahin hai gerau ke mahafil se,ik ham hai ki aj bhe unhen apane manzil banae baithe hai***

 

manzil hindi shayari khojoge to har manzil ke rah mil jate haisochoge to har batake vajah mil jate haizindage itane majaboor bhe nahe e dost”pyar bhe jene ke vajah ban jate hai***

 

har ko man ka dar nahin manzil ka sabak banajindage akasar ulajhate hai jab rahen manjil ke kareb ho…..!***

 

andaz kuchh alag he he mere sochane ka, sab ko manzil ka shauq hai,, mujhe raste ka !!***

 

badhate chale gae jo vo manzil ko pa gaemain pattharon se panv bachane mein rah gaya….***

 

manzil hindi shayari zindage! maut tere manzil hai.. doosara koe rasta he nahin..sach ghate ya badhe to sach na rahe.. jhooth ke koe intaha he nahin..***

 

ye aur bat ki manzil-fareb tha lekinahunar vo janata tha ham-safar banane ka***

 

manzil-e-ishk pe tanaha pahunche koe tamanna sath na the,thak thak kar is rah mein akhir ik ik sathe chhoot gaya.***

 

khud pukarege manzil to thahar jaoonga…varana musafir khuddar hoon, yoon he guzar jaoonga…!!!***

 

manzil hindi shayari kise ko ghar se nikalate he mil gae manzilakoe mere tarah taumr safar mein raha.***

 

dil bin batae mujhe le chal kahe…jahan too muskuraen mere manzil vahe !!***

 

parindo ko milege manzil ek din , ye faile hue unake par bolate hai. aur vahe log rahate hai khamosh aksar, zamane mein jinake hunar bolate hai ..***

 

faiz the rah sar-ba-sar manzil,ham jahan pahunche kamayab ae.***

 

manzil hindi shayari nigahon mein manzil the, gire aur gir kar sambhalate rahe;havaon ne bahut koshish ke, magar chirag andhiyon mein bhe jalate rahe.***

 

na manzil ka, na makasad ka , na raste ka pata haihamesha dil kise ke pechhe he chalata raha hai***

 

milana kis kam ka agar dil na mile,chalana bekar he jo chalake manzil na mile***

 

man ke jo sune the usane… apane manzil pane the !khvab to pure hone he the.. usane dil se jo thane the !!***

 

 
 
 
 
 
 
 
 

2 thoughts on “Manzil Hindi Shayari मंज़िल हिंदी शायरी”

Leave a Comment