Mout lafz par Shayari  मौत लफ्ज़ पर शायरी

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

Mout lafz par Shayari  मौत लफ्ज़ पर शायरी
Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

Mout lafz par Shayari

मौत लफ्ज़ पर शायरी

दोस्तों “मौत” लफ्ज़ पर शेर ओ शायरी का एक संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “मौत” के बारे में ख़यालात जान सकेंगे.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

***************************************************

 

जिन्दगी से तो खैर शिकवा था

मुद्दतों मौत ने भी तरसाया।

 

तुम साथ हो जब अपने दुनिया को दिखा देंगे,

हम मौत को जीने के अंदाज़ सिखा देंगे !!

 

मौत फिर जीस्त न बन जाये यह डर है’गालिब’,

वह मेरी कब्र पर अंगुश्त-बदंदाँ होंगे !!

 

तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें,

मौत कुछ तुम तो नहीं हो कि बुला भी न सकूँ !! #Ghalib

 

मैं उस की आस में यूँ बैठा हूँ जैसे

किसी ला-इलाज को इंतेज़ार हो मौत का

 

उससे बिछड़े तो मालूम हुआ की मौत भी कोई चीज़ है ‘फ़राज़’

ज़िन्दगी वो थी जो हम उसकी महफ़िल में गुज़ार आए !! – अहमद फ़राज़

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

अपने ही दिल के आग़ में शम्अ पिघल गई

शम्म-ए-हयात मौत के साँचे में ढल गई

# असर लखनवी

 

मुझे मौत से डरा मत, कई बार मर चुका हूँ

किसी मौत से नहीं कम कोई ख़्वाब टूट जाना

 

अगर है शौक़े सफ़र तो हमारे साथ चलो,

नहीं है मौत का डर तो हमारे साथ चलो

 

मौत। उन्हें भुलाये ज़माने गुज़र गए,

आ जा के ज़हर खाये जमाने गुज़र गए।

 

रंज उठाने से भी ख़ुशी होगी, पहले दिल दर्द आशना कीजे,

मौत आतीं नहीं कहीं ‘ग़ालिब’, कब तक अफ़सोस जीस्त का कीजे !!

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

मौत के डर से जीते नहीं एक लम्हा भी,

लोग जाने ज़िन्दगी फिर से मुहोब्बत क्यों करते हैं

 

मौत सी हसीं होती कहाँ है ज़िन्दगी,

इसके दामन में तो कई दाग़ लगे हैं।

 

मौत जिस्म की रिवायत है,

रूह को बस लिबास बदलना है।

 

दर्द की बिसात है, मैं तो बस प्यादा हूँ,

एक तरफ ज़िन्दगी को शय है, एक तरफ मौत को भी मात है।

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

हर मोड़ पे कोई अपना छूट ही जाता है,

ये क्या तरीका है, ए ज़िन्दगी। मौत से रूबरू करने का।

 

कोन सा गुनाह किया तूने, ए दिल।

ना ज़िन्दगी जीने देती है, ना मौत आती है।

 

क्या गिला करना अपनों से यहाँ,

मौत आजाये तो ज़िन्दगी भी मुह मोड़ लेती है।

 

मौत सा मिज़ाज़ है मेरा,

दर्द भी है रुस्वाई भी।

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

मुझे मौत से डरा मत, कई बार मर चुका हूँ

किसी मौत से नहीं कम कोई ख़्वाब टूट जाना

 

दिल को सुकून मिल जाये ऐसी नींद ना आई कभी,

मौत अब तुझे आज़माने को जी चाहता है।

 

रंज उठाने से भी ख़ुशी होगी, पहले दिल दर्द आशना कीजे,

मौत आतीं नहीं कहीं ‘ग़ालिब’, कब तक अफ़सोस जीस्त का कीजे !!

 

जिसे अंजाम तुम समझते हो,

इब्तिदा है किसी कहानी की !

कसम इस आग और पानी की,

मौत अच्छी है बस जवानी की!!

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

वो ना आएँगे ए दिल तो मौत आएगी ज़रूर,

आज की शब तुझको हर सूरत करार आने को है !! – #रहबर

 

मौज़ की मौत है साहिल का नज़र आ जाना

शौक कतरा के किनारे से गुजर जाता है!

 

अकेला रात भर तङपता मरीजे शामे गम

न तुम आये न नीद आई न चैन आया न मौत आई

 

ना आये मौत खुदाया तबाह-हाली में

ये नाम होगा ग़म-ए-रोज़गार सह न सके.!!

 

न बस में ज़िन्दगी इसके न क़ाबू मौत पर इसका

मगर इन्सान फिर भी कब ख़ुदा होने से डरता है

#राजेश रेड्डी

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

कैसे बताऊँ क्या हुई,जीने की आरज़ू

एक हादसे में,आप अपनी मौत मर गई.!!

 

ज़िन्दगी और मौत का मतलब

तुमको पाना है तुमको खोना है.!!

 

आखरी हिचकी तेरे दामन में आए

मौत भी मैं शायराना चाहता हूँ.!!

 

ऐ खुदा इन्साफ़ कर हम मज़लूम आशिकों का,

इश्क को सज़ा-ए-मौत दे हमें बाइज्जत बरी कर.!!

 

Mout lafz par Shayari मौत लफ्ज़ पर शायरी

क़ैदे-हयात बंदे-ग़म अस्ल में दोनों एक हैं

मौत से पहले आदमी ग़म से निजात पाए क्यों

 

मै जो चाहूँ तो अभी तोड़ लूँ नाता तुमसे

पर मै बुज़दिल हूँ, मुझे मौत से डर लगता है.!!

 

शहीद की जो मौत है , वो क़ौम की हयात है।।

लहू जो है शहीद का , वो क़ौम की जक़ात है..!!

 

किसी की मौत देती है किसी को ज़िन्दगी यूँ भी।।

वही जलती है चूल्हे में जो लकड़ी सूख जाती है..!!

Search Tags

Mout Lafz par Shayari in Hindi, Mout Hindi Shayari, Mout Shayari, Mout whatsapp status, Mout hindi Status, Hindi Shayari on Mout, Mout whatsapp status in hindi,

 Death Shayari, Death Hindi Shayari, Death Shayari, Death whatsapp status, Death hindi Status, Hindi Shayari on Death, Death whatsapp status in hindi,

 मौत हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मौत, मौत स्टेटस, मौत व्हाट्स अप स्टेटस, मौत पर शायरी, मौत शायरी, मौत पर शेर, मौत की शायरी


Hinglish

Mout lafz par Shayari

मौत लफ्ज़ पर शायरी

mout lafz par shayarimaut laphz par shaayaree doston “maut” laphz par sher o shaayaree ka ek sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “maut” ke baare mein khayaalaat jaan sakenge.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.***************************************************

jindagee se to khair shikava thaamuddaton maut ne bhee tarasaaya.tum saath ho jab apane duniya ko dikha denge,ham maut ko jeene ke andaaz sikha denge !!maut phir jeest na ban jaaye yah dar haigaalib,vah meree kabr par angusht-badandaan honge !!

tum na aaoge to marane kee hain sau tadabeeren,maut kuchh tum to nahin ho ki bula bhee na sakoon !! #ghalibmain

us kee aas mein yoon baitha hoon jaisekisee la-ilaaj ko intezaar ho maut kausase bichhade to maaloom hua kee maut bhee koee cheez hai faraazzindagee vo thee jo ham usakee mahafil mein guzaar aae !! –

ahamad faraazamout lafz par shayari maut laphz par shaayareeapane hee dil ke aag mein sham pighal gaeeshamm-e-hayaat maut ke saanche mein dhal gaee# asar lakhanaveemujhe maut se dara mat, kaee baar mar chuka hoonkisee maut se nahin kam koee khvaab toot jaanaagar hai shauqe safar to hamaare saath chalo,nahin hai maut ka dar to hamaare saath chaloe maut. unhen bhulaaye zamaane guzar gae,aa ja ke zahar khaaye jamaane guzar gae.ranj uthaane se bhee khushee hogee, pahale dil dard aashana keeje,maut aateen nahin kaheen gaalib, kab tak afasos jeest ka keeje !!mout lafz par shayari maut laphz par shaayareemaut ke dar se jeete nahin ek lamha bhee,log jaane zindagee phir se muhobbat kyon karate haimmaut see haseen hotee kahaan hai zindagee,isake daaman mein to kaee daag lage hain.maut jism kee rivaayat hai,rooh ko bas libaas badalana hai.dard kee bisaat hai, main to bas pyaada hoon,ek taraph zindagee ko shay hai, ek taraph maut ko bhee maat hai.mout lafz par shayari maut laphz par shaayareehar mod pe koee apana chhoot hee jaata hai,ye kya tareeka hai, e zindagee. maut se roobaroo karane ka.kon sa gunaah kiya toone, e dil.na zindagee jeene detee hai, na maut aatee hai.kya gila karana apanon se yahaan,maut aajaaye to zindagee bhee muh mod letee hai.maut sa mizaaz hai mera,dard bhee hai rusvaee bhee.mout lafz par shayari maut laphz par shaayareemujhe maut se dara mat, kaee baar mar chuka hoonkisee maut se nahin kam koee khvaab toot jaanaadil ko sukoon mil jaaye aisee neend na aaee kabhee,ai maut ab tujhe aazamaane ko jee chaahata hai.ranj uthaane se bhee khushee hogee, pahale dil dard aashana keeje,maut aateen nahin kaheen gaalib, kab tak afasos jeest ka keeje !!

jise anjaam tum samajhate ho,ibtida hai kisee kahaanee kee !kasam is aag aur paanee kee,maut achchhee hai bas javaanee kee!!mout lafz par shayari maut laphz par shaayareevo na aaenge e dil to maut aaegee zaroor,aaj kee shab tujhako har soorat karaar aane ko hai !! –

#rahabaramauz kee maut hai saahil ka nazar aa jaanaashauk katara ke kinaare se gujar jaata hai!akela raat bhar tanapata mareeje shaame gaman tum aaye na need aaee na chain aaya na maut aaeena aaye maut khudaaya tabaah-haalee menye naam hoga gam-e-rozagaar sah na sake.!!na bas mein zindagee isake na qaaboo maut par isakaamagar insaan phir bhee kab khuda hone se darata hai#raajesh reddeemout lafz par shayari maut laphz par shaayareekaise bataoon kya huee,jeene kee aarazooek haadase mein,aap apanee maut mar gaee.!!

zindagee aur maut ka matalabatumako paana hai tumako khona hai.!!aakharee hichakee tere daaman mein aaemaut bhee main shaayaraana chaahata hoon.!!ai khuda insaaf kar ham mazaloom aashikon ka,ishk ko saza-e-maut de hamen baijjat baree kar.!!mout lafz par shayari maut laphz par shaayareeqaide-hayaat bande-gam asl mein donon ek haimmaut se pahale aadamee gam se nijaat pae kyommai jo chaahoon to abhee tod loon naata tumasepar mai buzadil hoon, mujhe maut se dar lagata hai.!!shaheed kee jo maut hai , vo qaum kee hayaat hai..lahoo jo hai shaheed ka , vo qaum kee jaqaat hai..!!kisee kee maut detee hai kisee ko zindagee yoon bhee..vahee jalatee hai choolhe mein jo lakadee sookh jaatee hai..!!

 

Leave a Reply