Mukaddar Shayari in Hindi  मुकद्दर पर शायरी

Mukaddar Shayari in Hindi मुकद्दर पर शायरी

Mukaddar Shayari in Hindi  मुकद्दर पर शायरी
Mukaddar Shayari in Hindi मुकद्दर पर शायरी

Mukaddar Shayari in Hindi

मुकद्दर पर शायरी

 

पेश हे मुकद्दर पर कुछ खूबसूरत शायरी

Hindi Shayari on Fate and Destiny

 

********************************************************

ये मंजिलें तो किसी और का मुक़द्दर हैं

मुझे बस अपने जूनून के सफ़र में रहने दो

~Faraz

 

कोई तो ख़्वाब मेरी रात का मुक़द्दर हो

कोई तो अक्स मेरी चश्म-ए-तर में रहने दो

~Faraz

 

सुना है अब भी मिरी हाथों की लकीरों में,

नाज़ूमियों को मुकद्दर दिखाई देता है।

~अमीर_कज़लबाश

 

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र,

कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं !! -अहमद फ़राज़

 

हम चिराग़-ए-शब ही जब ठहरे तो फिर क्या सोचना,

रात थी किस का मुक़द्दर और सहर देखेगा कौन !! -फ़राज़

 

Mukaddar Shayari in Hindi

पेशानियों पे लिखे मुक़द्दर नहीं मिले

दस्तार कहाँ मिलगें जहाँ सर नहीं मिले

 

पूछकर अपनी निगाहों से बता दे मुझको

मेरी रातों की मुक़द्दर में सहर है कि नहीं

~साहिर

 

 

हादसे राह-ए-मोहब्बत का मुक़द्दर ठहरे,

जब हमें दिल से भुलाना तो ख़बर कर देना !!

 

वो सफ़र में है तो चलना है मुकद्दर उसका

इश्क़ में पड़ ही गया है तो वफ़ा तक पहुंचे

 

यहां सब के मुक़द्दर में फ़क़त ज़ख़्म-ए-जुदाई है

सभी झूटे फ़साने हैं विसाल-ए-यार के क़िस्से

 

Mukaddar Shayari in Hindi

संगसारी तो मुकद्दर है हमारा लेकिन,

आप के हाथ में पत्थर नहीं देखे जाते

हुनर की चौखटों पे सर लगा के आया हूँ,

दाँव पर अपना मुकद्दर लगा के आया हूँ

 

ढूंढते रहते हैं सब लोग लक़ीरों में जिसे,

वो मुक़द्दर भी सिक़न्दर का पता पूछता है

 

इसमें आवारा मिज़ाजी का कोई दख़्ल नहीं,

दश्तो सहरा में फिराता है मुक़द्दर मुझको !!

 

Mukaddar Shayari in Hindi

ये सर्द रात, ये आवारगी, ये नींद का बोझ

हम अपने शहर मे होते तो घर गए होते

~उम्मीद_फ़ाज़ली

 

जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया,

जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया !! -साहिर लुधियानवी

 

कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन

फिर इस के ब’अद थोड़ा मुक़द्दर तलाश कर

~निदा_फ़ाज़ली

 

Mukaddar Shayari in Hindi

चराग़-ए-राह-ए-मोहब्बत ही बन गए होते,

तमाम उम्र का जलना अगर मुक़द्दर था !!

 

होठों पे हैं दुआएं, मगर दिल पे हाथ है

अब किस को क्या मिला, ये मुक़द्दर की बात है !!

 

तश्नगी मेरा मुक़द्दर है इसी से शायद

मैं परिन्दों को भी प्यासा नहीं रहने देता.!!

 

तक़दीर का शिकवा बेमानी, जीना ही तुझे मंज़ूर नहीं,

आप अपना मुक़द्दर बन ना सके, इतना तो कोई मजबूर नहीं !!

 

Mukaddar Shayari in Hindi

तुम मिलो या ना मिलो ये मेरे मुकद्दर की बात है,

सुकून बहुत मिलता है तुमको अपना सोचकर!!”

 

पेशानियों पे लिखे मुक़द्दर नहीं मिले

दस्तार कहाँ मिलेंगे जहाँ सर नहीं मिले.!!

 

कोई इक तशनगी कोई समुन्दर लेके आया है

जहाँ मे हर कोई अपना मुकद्दर लेके आया है

 

ज़मीन और मुक़द्दर की एक है फ़ितरत

जो भी बोया वो ही हुबहू निकलता है.!!

 

Mukaddar Shayari in Hindi

अब तुम्हें क्या दे सकूँगा चारागरों दोस्तों

जिस्म का सारा लहू मेरा मुक़द्दर पी गया.!!

 

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा

मै हि कश्ती हूँ मुझी में है समंदर मेरा

 

Search Tags

Mukaddar Shayari in Hindi, Mukaddar Hindi Shayari, Mukaddar Shayari, Mukaddar whatsapp status, Mukaddar hindi Status, Hindi Shayari on Mukaddar, Mukaddar whatsapp status in hindi,

 Destiny Shayari, Destiny Hindi Shayari, Destiny Shayari, Destiny whatsapp status, Destiny hindi Status, Hindi Shayari on Destiny, Destiny whatsapp status in hindi,

 मुकद्दर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मुकद्दर, मुकद्दर स्टेटस, मुकद्दर व्हाट्स अप स्टेटस, मुकद्दर पर शायरी, मुकद्दर शायरी, मुकद्दर पर शेर, मुकद्दर की शायरी


Hinglish

Mukaddar Shayari in Hindi

मुकद्दर पर शायरी

mukaddar shayari in hindimukaddar par shaayareepesh he mukaddar par kuchh khoobasoorat shaayareehindi shayari on fatai and daistiny********************************************************

ye manjilen to kisee aur ka muqaddar haimmujhe bas apane joonoon ke safar mein rahane do~faraz

koee to khvaab meree raat ka muqaddar hokoee to aks meree chashm-e-tar mein rahane do~faraz

suna hai ab bhee miree haathon kee lakeeron mein,naazoomiyon ko mukaddar dikhaee deta hai.~ameer_kazalabaasha

judaiyaan to muqaddar hain phir bhee jaan-e-safar,kuchh aur door zara saath chal ke dekhate hain !! -ahamad faraazaham

chiraag-e-shab hee jab thahare to phir kya sochana,raat thee kis ka muqaddar aur sahar dekhega kaun !! -faraaza

mukaddar shayari in hindi

peshaaniyon pe likhe muqaddar nahin miledastaar kahaan milagen jahaan sar nahin milepoochhakar apanee nigaahon se bata de mujhakomeree raaton kee muqaddar mein sahar hai ki nahin~

saahirahaadase raah-e-mohabbat ka muqaddar thahare,jab hamen dil se bhulaana to khabar kar dena !!

vo safar mein hai to chalana hai mukaddar usakaishq mein pad hee gaya hai to vafa tak pahuncheyahaan sab ke muqaddar mein faqat zakhm-e-judaee haisabhee jhoote fasaane hain visaal-e-yaar ke qissemukaddar shayari in hindisangasaaree to mukaddar hai hamaara lekin,aap ke haath mein patthar nahin dekhe jaatehunar kee chaukhaton pe sar laga ke aaya hoon,daanv par apana mukaddar laga ke aaya hoondhoondhate rahate hain sab log laqeeron mein jise,vo muqaddar bhee siqandar ka pata poochhata haiisamen aavaara mizaajee ka koee dakhl nahin,dashto sahara mein phiraata hai muqaddar mujhako !!mukaddar shayari in hindiye sard raat, ye aavaaragee, ye neend ka bojhaham apane shahar me hote to ghar gae hote~ummeed_faazaleejo mil gaya usee ko mukaddar samajh liya,jo kho gaya main us ko bhulaata chala gaya !! -saahir ludhiyaanavee

koshish bhee kar umeed bhee rakh raasta bhee chunaphir is ke baad thoda muqaddar talaash kar~nida_faazaleemukaddar shayari in hindicharaag-e-raah-e-mohabbat hee ban gae hote,tamaam umr ka jalana agar muqaddar tha !!hothon pe hain duaen, magar dil pe haath haiab kis ko kya mila, ye muqaddar kee baat hai !!tashnagee mera muqaddar hai isee se shaayadamain parindon ko bhee pyaasa nahin rahane deta.!!

taqadeer ka shikava bemaanee, jeena hee tujhe manzoor nahin,aap apana muqaddar ban na sake, itana to koee majaboor nahin !!

mukaddar shayari in hinditum milo ya na milo ye mere mukaddar kee baat hai,sukoon bahut milata hai tumako apana sochakar!!”peshaaniyon pe likhe muqaddar nahin miledastaar kahaan milenge jahaan sar nahin mile.!!koee ik tashanagee koee samundar leke aaya haijahaan me har koee apana mukaddar leke aaya haizameen aur muqaddar kee ek hai fitaratajo bhee boya vo hee hubahoo nikalata hai.!!

mukaddar shayari in hindiab tumhen kya de sakoonga chaaraagaron dostonjism ka saara lahoo mera muqaddar pee gaya.!!har ghadee khud se ulajhana hai muqaddar meraamai hi kashtee hoon mujhee mein hai samandar mera

 

 

 

Leave a Reply