Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat shayari in Hindi
Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat Shayari in Hindi

मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Mulaqat the Moon light, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Mulaqat Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Mulaqat is excellent in expressing your emotions. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

 

जिंदा रहने के लिए तेरी क़सम एक मुलाक़ात ज़रूरी है सनम, दोस्तों, आस इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपके लिए महबूब से मुलाक़ात पर कुछ चुनिन्दा बेहतरीन शायरी पेश कर रहें हैं, उम्मीद है यह मुलाक़ात पर शायारी आपको बहुत पसंद आएगी.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*********************

 

मेरी नजरो को आज भी तलाश हे तेरी बिन तेरे ख़ुशी भी उदास हे मेरी

खुदा से मांगा हे तो सिर्फ इतना मरने से पहले आपसे मुलाक़ात हो मेरी

***

सुबह को जो नींद से जागे तब रात का ख्याब याद आया गया।।

क्या खूब रही थी सपनो में मुलाक़ात आपसे

***

खुशिया किसी की मोहताज नहीं होती, दोस्ती यूँही इत्तेफ़ाक़ से नहीं होती

कुछ तो मायने होंगे इस पल के, वरना यूँही आपसे मुलाक़ात नहीं होती

***

काश आपकी सूरत इतनी प्यारी ना होती; काश आपसे मुलाक़ात हमारी ना होती;

सपनो में ही देख लेते हम आपको; तो आज मिलने की इतनी बेकरारी ना होती!

***

मिलने आयेंगे आपसे ख़्वाबों में जरा रोशनी के दिए बुझा दीजिये

अब और नहीं होता इंतज़ार आपसे मुलाक़ात का अपनी आँखों के पलके गिरा दीजिये

*** Mulaqat Shayari in Hindi

अगर हमारी आपसे मुलाक़ात होगई होती

आपकी आपके दिलसे अदावत होगई होती

***

इस उम्मीद में करते हैं इंतज़ार हम रात का; कि

शायद सपनों में कभी आपसे मुलाक़ात हो जाये।

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Mulakat Status Pictures – Mulakat dp Pictures – Mulakat Shayari Pictures

***

 

इतना इंतज़ार अपनी धड़कनों का नहीं जितनाआप के आने का करते हैं

इतना इंतज़ार अपनी साँसों का नहीं जितना आपसे मुलाक़ात का करते हैं

*** Mulaqat Shayari in Hindi

जाते जाते कहीं भी मुलाक़ात हो जाये आपसे..

तलाश ये नज़र आपको बार बार करती है….!!!!

***

मोहब्बत ना सही मुकदमा ही कर दो मुझ पर,

कम से कम तारीख दर तारीख मुलाक़ात तो हो आपसे।

***

माना की आपसे रोज मुलाक़ात नही होती आमने-सामने कभी बात नही होती

मगर हर सुबह आपको दिलसे याद कर लेते है उसके बिना हमारे दिन की शुरुआत नहीं होती

***

मेरी हर गजलो में तेरी बात आज भी है,

आपसे खयालों में मुलाक़ात आज भी है ,

तुझे भुला देना मेरे बस में नहीं शायद,

यु तो हसीनों से मुलाक़ात आज भी है,

*** Mulaqat Shayari in Hindi

कभी आपसे जो मुलाक़ात होगी यहीं सोचती हूँ की क्या बात होगी

भले दूर होंगे वोह मेरी नज़र से मगर याद उनकी मिरे साथ होगी

***

कुछ नशा तो आपकी बात का है, कुछ नशा तो धीमी बरसात का है,

हमे आप यूही शराबी ना कहिए, यह दिल पर असर तो आपसे मुलाक़ात का है

***

आप जैसे लोग कुछ खास लगते हैं; दिल में हर वक़्त एक आस रखते हैं;

जाने कब हो जाये मुलाक़ात आपसे; इसलिए 1 (Disprin) हम हमेशा अपने पास रखते हैं।

***

खूब जमेगी जब होगी आपसे मुलाक़ात,

कुछ खर्च होंगी बाते कुछ लुटेंगे जज्बात……!!!

*** Mulaqat Shayari in Hindi

आप जो हँसो तो दुनिया हँस जाये;आपकी हँसी इस दिल में बस जाये;

होगी मुलाक़ात कल फिर आपसे;यही सोच कर दिल में मेरे खुशियों का रस घुल जाये

 

***

मुलाक़ात हो आपसे , कुछ इस तरह हमारी…..

सारी उम्र बस एक, मुलाक़ात में गुज़ार लूँ……!!!!

***

कर तो लें हम आपसे मुलाक़ात

क्या समझेंगे पर आप दिल के ज़ज्बात….!!

 

*** Mulaqat Shayari in Hindi

सब कुछ मिला सकून की दौलत नहीं मिली ! आपसे मुलाक़ात की मोहलत नहीं मिली

करने को और भी काम थे मगर ! हमको आपकी याद से फुरसत नहीं मिली

 

***

हम उनसे मिले तो कुछ कह न सके “दोस्तों”

ख़ुशी इतनी थी कि मुलाक़ात आंसू पोंछते पोंछते ही गुजर गयी

 

***

कुदरत के करिश्मों में अगर रात न होती

ख्वाबों में भी फिर उनसे मुलाक़ात न होती

***

अभी अभी हमने दर्द को उनके नासूर बना डाला,

हमने तो कभी फ़िकर नही की उनसे मुलाक़ात की

मगर जाने क्यूँ उन्होंने हमें अपना ग़ुरूर बना डाला..

 

*** Mulaqat Shayari in Hindi

हुई मुलाक़ात किसी राह पर उनसे

अब खोजता हू हर राह पर उनको

***

मुलाक़ात का सिलसिला उनसे यूँ चलता रहा

जब मोहबत हुई तो इज़हार भी यूँ होता रहा

***

उनसे जो मुलाक़ात हो जाती ।

जाने फिर क्या बात हो जाती ॥

***

चलो आज फिर एक ग़लती कर के देखते हैं

आज फिर उनसे मोहब्बत करके देखते हैं

उनके दिल मैं चाहत है या नही

आज फिर उन से मुलाक़ात करके देखते है

*** Mulaqat Shayari in Hindi

कुछ ज़्यादा तो नहीं माँगा था हमने तुमसे ऐ ज़िंदगी,

छोटी सी आरज़ू थी उनसे मुलाक़ात-ऐ-गुफ़्तगू की..

***

हर बात पे महके हुए जज़्बात की खुशबू

आज याद बहुत आयी,उनसे मुलाक़ात की खुशबू

***

दिले तस्वीरे है यार जबकि गर्दन झुका ली, और मुलाक़ात कर ली

वो थे न मुझसे दुर,न मै उनसे दूर था आता न था नजर, तो नजर का कसूर था

***

ख़्वाहिश यह की उनसे नायाब मुलाक़ात एक बार तो हो जाये

ज़िन्दगी भर यादों के सहारे गुज़ारने से बेहतर है रुबरू हो जायें

*** Mulaqat Shayari in Hindi

मिल कर भी उनसे हसरत-ए-मुलाक़ात रह गई,

बादल तो घर आये थे बस बरसात रह गई।।

***

करनी मुझे खुदा से एक फरियाद बाकी है कहनी उनसे एक बात बाकी है

मौत भी आ जाये तो कह दूंगी जरा रुक जा अभी मेरे दोस्तो से एक मुलाक़ात बाकी है

***

दो बातें कर लेना उनसे ग़र चार न हो सके,

ख़्याल ही कर लेना ग़र मुलाक़ात न हो सके ।

***

रोज दीदार हो चाँद का ….. ये जरूरी तो नहीं ….

बेपर्दा हो मुलाक़ात उनसे … ये जरूरी तो नहीं ….

***

मैं ख़ुशनसीब हूँ की रात ख़्वाब आते हैं अक्सर

ख़्वाबों में बाइख़्तियार उनसे मुलाक़ात होती है..

***

वक़्त आखरी था उनसे दुआ-सलाम कर लिया ……

बस इतनी सी मुलाक़ात ने बदनाम कर दिया.

*** Mulaqat Shayari in Hindi

यूँ तो खुद की सैलाने-तबीयत का अंदाज़ मुश्किल था

उनसे मुलाक़ात हुई तो जाना ये दिल किस काबिल था .!!

***

जबसे मुलाक़ात हुयी है उनसे मेरी, तबसे मेरे दिल को करार आया,

कभी ज़ुल्फ़ लहराई कभी नखरा किया, उनकी इन अदाओं पर बहोत प्यार आया….!

***

 

Search Tags

Mulaqat Shayari, Mulaqat Hindi Shayari, Mulaqat Shayari, Mulaqat whatsapp status, Mulaqat hindi Status, Hindi Shayari on Mulaqat, Mulaqat whatsapp status in hindi, मुलाक़ात हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मुलाक़ात, मुलाक़ात स्टेटस, मुलाक़ात व्हाट्स अप स्टेटस, मुलाक़ात पर शायरी, मुलाक़ात शायरी, मुलाक़ात पर शेर, मुलाक़ात की शायरी, महबूब से मुलाक़ात


Mulakat hindi shayari with pictures

jinda rahane ke lie tere qasam ek mulaqat zaroore hai sanam, doston, as is blog post mein ham apake lie mahaboob se mulaqat par kuchh chuninda behataren shayari pesh kar rahen hain, ummed hai yah mulaqat par shayari apako bahut pasand aege.

mere najaro ko aj bhe talash he tere bin tere khushe bhe udas he merekhuda se manga he to sirf itana marane se pahale apase mulaqat ho mere***

subah ko jo nind se jage tab rat ka khyab yad aya gaya..kya khoob rahe the sapano mein mulaqat apase***

khushiya kise ke mohataj nahin hote, doste yoonhe ittefaq se nahin hotekuchh to mayane honge is pal ke, varana yoonhe apase mulaqat nahin hote***

kash apake soorat itane pyare na hote; kash apase mulaqat hamare na hote;sapano mein he dekh lete ham apako; to aj milane ke itane bekarare na hote!***

milane ayenge apase khvabon mein jara roshane ke die bujha dejiyeab aur nahin hota intazar apase mulaqat ka apane ankhon ke palake gira dejiye***

mulaqat shayari in hindiagar hamare apase mulaqat hoge hoteapake apake dilase adavat hoge hote***

is ummed mein karate hain intazar ham rat ka; kishayad sapanon mein kabhe apase mulaqat ho jaye.***

itana intazar apane dhadakanon ka nahin jitanaap ke ane ka karate hainitana intazar apane sanson ka nahin jitana apase mulaqat ka karate hain***

mulaqat shayari in hindijate jate kahen bhe mulaqat ho jaye apase..talash ye nazar apako bar bar karate hai….!!!!***

mohabbat na sahe mukadama he kar do mujh par,kam se kam tarekh dar tarekh mulaqat to ho apase.***

mana ke apase roj mulaqat nahe hote amane-samane kabhe bat nahe hotemagar har subah apako dilase yad kar lete hai usake bina hamare din ke shuruat nahin hote***

mere har gajalo mein tere bat aj bhe hai,apase khayalon mein mulaqat aj bhe hai ,tujhe bhula dena mere bas mein nahin shayad,yu to hasenon se mulaqat aj bhe hai,***

mulaqat shayari in hindikabhe apase jo mulaqat hoge yahen sochate hoon ke kya bat hogebhale door honge voh mere nazar se magar yad unake mire sath hoge***

kuchh nasha to apake bat ka hai, kuchh nasha to dheme barasat ka hai,hame ap yoohe sharabe na kahie, yah dil par asar to apase mulaqat ka hai***

ap jaise log kuchh khas lagate hain; dil mein har vaqt ek as rakhate hain;jane kab ho jaye mulaqat apase; isalie 1 (disprin) ham hamesha apane pas rakhate hain.***khoob jamege jab hoge apase mulaqat,kuchh kharch honge bate kuchh lutenge jajbat……!!!***

mulaqat shayari in hindiap jo hanso to duniya hans jaye;apake hanse is dil mein bas jaye;hoge mulaqat kal fir apase;yahe soch kar dil mein mere khushiyon ka ras ghul jaye***

mulaqat ho apase , kuchh is tarah hamare…..sare umr bas ek, mulaqat mein guzar loon……!!!!***

kar to len ham apase mulaqatakya samajhenge par ap dil ke zajbat….!!***

mulaqat shayari in hindisab kuchh mila sakoon ke daulat nahin mile ! apase mulaqat ke mohalat nahin milekarane ko aur bhe kam the magar ! hamako apake yad se furasat nahin mile***

ham unase mile to kuchh kah na sake “doston”khushe itane the ki mulaqat ansoo ponchhate ponchhate he gujar gaye***

kudarat ke karishmon mein agar rat na hotekhvabon mein bhe fir unase mulaqat na hote***

abhe abhe hamane dard ko unake nasoor bana dala,hamane to kabhe fikar nahe ke unase mulaqat kemagar jane kyoon unhonne hamen apana guroor bana dala..*

** mulaqat shayari in hindihue mulaqat kise rah par unaseab khojata hoo har rah par unako**

*mulaqat ka silasila unase yoon chalata rahajab mohabat hue to izahar bhe yoon hota raha***

unase jo mulaqat ho jate .jane fir kya bat ho jate .***

chalo aj fir ek galate kar ke dekhate hainaj fir unase mohabbat karake dekhate hainunake dil main chahat hai ya naheaj fir un se mulaqat karake dekhate hai***

mulaqat shayari in hindikuchh zyada to nahin manga tha hamane tumase ai zindage,chhote se arazoo the unase mulaqat-ai-guftagoo ke..***

har bat pe mahake hue jazbat ke khushabooaj yad bahut aye,unase mulaqat ke khushaboo***

dile tasvere hai yar jabaki gardan jhuka le, aur mulaqat kar levo the na mujhase dur,na mai unase door tha ata na tha najar, to najar ka kasoor tha***

khvahish yah ke unase nayab mulaqat ek bar to ho jayezindage bhar yadon ke sahare guzarane se behatar hai rubaroo ho jayen***

mulaqat shayari in hindimil kar bhe unase hasarat-e-mulaqat rah gae,badal to ghar aye the bas barasat rah gae..***

karane mujhe khuda se ek fariyad bake hai kahane unase ek bat bake haimaut bhe a jaye to kah doonge jara ruk ja abhe mere dosto se ek mulaqat bake hai***

do baten kar lena unase gar char na ho sake,khyal he kar lena gar mulaqat na ho sake .***

roj dedar ho chand ka ….. ye jaroore to nahin ….beparda ho mulaqat unase … ye jaroore to nahin ….***

main khushanaseb hoon ke rat khvab ate hain aksarakhvabon mein baikhtiyar unase mulaqat hote hai..***

vaqt akhare tha unase dua-salam kar liya ……bas itane se mulaqat ne badanam kar diya.***

mulaqat shayari in hindiyoon to khud ke sailane-tabeyat ka andaz mushkil thaunase mulaqat hue to jana ye dil kis kabil tha .!!***

jabase mulaqat huye hai unase mere, tabase mere dil ko karar aya,kabhe zulf laharae kabhe nakhara kiya, unake in adaon par bahot pyar aya….!***

search tags mulaqat shayari, mulaqat hindi shayari, mulaqat shayari, mulaqat whatsapp status, mulaqat hindi status, hindi shayari on mulaqat, mulaqat whatsapp status in hindi, mulaqat hindi shayari, hindi shayari, mulaqat, mulaqat status, mulaqat whatsapp status, mulaqat par shayari, mulaqat shayari, mulaqat par sher, mulaqat ke shayari, mahaboob se mulaqat

 

Leave a Comment