Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat shayari in Hindi
Mulaqat Shayari in Hindi मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Mulaqat Shayari in Hindi

मेहबूब से मुलाक़ात पर शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Mulaqat the Moon light, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Mulaqat Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Mulaqat is excellent in expressing your emotions. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

 

जिंदा रहने के लिए तेरी क़सम एक मुलाक़ात ज़रूरी है सनम, दोस्तों, आस इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपके लिए महबूब से मुलाक़ात पर कुछ चुनिन्दा बेहतरीन शायरी पेश कर रहें हैं, उम्मीद है यह मुलाक़ात पर शायारी आपको बहुत पसंद आएगी.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*********************

 

मेरी नजरो को आज भी तलाश हे तेरी बिन तेरे ख़ुशी भी उदास हे मेरी

खुदा से मांगा हे तो सिर्फ इतना मरने से पहले आपसे मुलाक़ात हो मेरी

***

सुबह को जो नींद से जागे तब रात का ख्याब याद आया गया।।

क्या खूब रही थी सपनो में मुलाक़ात आपसे

***

खुशिया किसी की मोहताज नहीं होती, दोस्ती यूँही इत्तेफ़ाक़ से नहीं होती

कुछ तो मायने होंगे इस पल के, वरना यूँही आपसे मुलाक़ात नहीं होती

***

काश आपकी सूरत इतनी प्यारी ना होती; काश आपसे मुलाक़ात हमारी ना होती;

सपनो में ही देख लेते हम आपको; तो आज मिलने की इतनी बेकरारी ना होती!

***

मिलने आयेंगे आपसे ख़्वाबों में जरा रोशनी के दिए बुझा दीजिये

अब और नहीं होता इंतज़ार आपसे मुलाक़ात का अपनी आँखों के पलके गिरा दीजिये

*** Mulaqat Shayari in Hindi

अगर हमारी आपसे मुलाक़ात होगई होती

आपकी आपके दिलसे अदावत होगई होती

***

इस उम्मीद में करते हैं इंतज़ार हम रात का; कि

शायद सपनों में कभी आपसे मुलाक़ात हो जाये।

***

 

इतना इंतज़ार अपनी धड़कनों का नहीं जितनाआप के आने का करते हैं

इतना इंतज़ार अपनी साँसों का नहीं जितना आपसे मुलाक़ात का करते हैं

*** Mulaqat Shayari in Hindi

जाते जाते कहीं भी मुलाक़ात हो जाये आपसे..

तलाश ये नज़र आपको बार बार करती है….!!!!

***

मोहब्बत ना सही मुकदमा ही कर दो मुझ पर,

कम से कम तारीख दर तारीख मुलाक़ात तो हो आपसे।

***

माना की आपसे रोज मुलाक़ात नही होती आमने-सामने कभी बात नही होती

मगर हर सुबह आपको दिलसे याद कर लेते है उसके बिना हमारे दिन की शुरुआत नहीं होती

***

मेरी हर गजलो में तेरी बात आज भी है,

आपसे खयालों में मुलाक़ात आज भी है ,

तुझे भुला देना मेरे बस में नहीं शायद,

यु तो हसीनों से मुलाक़ात आज भी है,

*** Mulaqat Shayari in Hindi

कभी आपसे जो मुलाक़ात होगी यहीं सोचती हूँ की क्या बात होगी

भले दूर होंगे वोह मेरी नज़र से मगर याद उनकी मिरे साथ होगी

***

कुछ नशा तो आपकी बात का है, कुछ नशा तो धीमी बरसात का है,

हमे आप यूही शराबी ना कहिए, यह दिल पर असर तो आपसे मुलाक़ात का है

***

आप जैसे लोग कुछ खास लगते हैं; दिल में हर वक़्त एक आस रखते हैं;

जाने कब हो जाये मुलाक़ात आपसे; इसलिए 1 (Disprin) हम हमेशा अपने पास रखते हैं।

***

खूब जमेगी जब होगी आपसे मुलाक़ात,

कुछ खर्च होंगी बाते कुछ लुटेंगे जज्बात……!!!

*** Mulaqat Shayari in Hindi

आप जो हँसो तो दुनिया हँस जाये;आपकी हँसी इस दिल में बस जाये;

होगी मुलाक़ात कल फिर आपसे;यही सोच कर दिल में मेरे खुशियों का रस घुल जाये

 

***

मुलाक़ात हो आपसे , कुछ इस तरह हमारी…..

सारी उम्र बस एक, मुलाक़ात में गुज़ार लूँ……!!!!

***

कर तो लें हम आपसे मुलाक़ात

क्या समझेंगे पर आप दिल के ज़ज्बात….!!

 

*** Mulaqat Shayari in Hindi

सब कुछ मिला सकून की दौलत नहीं मिली ! आपसे मुलाक़ात की मोहलत नहीं मिली

करने को और भी काम थे मगर ! हमको आपकी याद से फुरसत नहीं मिली

 

***

हम उनसे मिले तो कुछ कह न सके “दोस्तों”

ख़ुशी इतनी थी कि मुलाक़ात आंसू पोंछते पोंछते ही गुजर गयी

 

***

कुदरत के करिश्मों में अगर रात न होती

ख्वाबों में भी फिर उनसे मुलाक़ात न होती

***

अभी अभी हमने दर्द को उनके नासूर बना डाला,

हमने तो कभी फ़िकर नही की उनसे मुलाक़ात की

मगर जाने क्यूँ उन्होंने हमें अपना ग़ुरूर बना डाला..

 

*** Mulaqat Shayari in Hindi

हुई मुलाक़ात किसी राह पर उनसे

अब खोजता हू हर राह पर उनको

***

मुलाक़ात का सिलसिला उनसे यूँ चलता रहा

जब मोहबत हुई तो इज़हार भी यूँ होता रहा

***

उनसे जो मुलाक़ात हो जाती ।

जाने फिर क्या बात हो जाती ॥

***

चलो आज फिर एक ग़लती कर के देखते हैं

आज फिर उनसे मोहब्बत करके देखते हैं

उनके दिल मैं चाहत है या नही

आज फिर उन से मुलाक़ात करके देखते है

*** Mulaqat Shayari in Hindi

कुछ ज़्यादा तो नहीं माँगा था हमने तुमसे ऐ ज़िंदगी,

छोटी सी आरज़ू थी उनसे मुलाक़ात-ऐ-गुफ़्तगू की..

***

हर बात पे महके हुए जज़्बात की खुशबू

आज याद बहुत आयी,उनसे मुलाक़ात की खुशबू

***

दिले तस्वीरे है यार जबकि गर्दन झुका ली, और मुलाक़ात कर ली

वो थे न मुझसे दुर,न मै उनसे दूर था आता न था नजर, तो नजर का कसूर था

***

ख़्वाहिश यह की उनसे नायाब मुलाक़ात एक बार तो हो जाये

ज़िन्दगी भर यादों के सहारे गुज़ारने से बेहतर है रुबरू हो जायें

*** Mulaqat Shayari in Hindi

मिल कर भी उनसे हसरत-ए-मुलाक़ात रह गई,

बादल तो घर आये थे बस बरसात रह गई।।

***

करनी मुझे खुदा से एक फरियाद बाकी है कहनी उनसे एक बात बाकी है

मौत भी आ जाये तो कह दूंगी जरा रुक जा अभी मेरे दोस्तो से एक मुलाक़ात बाकी है

***

दो बातें कर लेना उनसे ग़र चार न हो सके,

ख़्याल ही कर लेना ग़र मुलाक़ात न हो सके ।

***

रोज दीदार हो चाँद का ….. ये जरूरी तो नहीं ….

बेपर्दा हो मुलाक़ात उनसे … ये जरूरी तो नहीं ….

***

मैं ख़ुशनसीब हूँ की रात ख़्वाब आते हैं अक्सर

ख़्वाबों में बाइख़्तियार उनसे मुलाक़ात होती है..

***

वक़्त आखरी था उनसे दुआ-सलाम कर लिया ……

बस इतनी सी मुलाक़ात ने बदनाम कर दिया.

*** Mulaqat Shayari in Hindi

यूँ तो खुद की सैलाने-तबीयत का अंदाज़ मुश्किल था

उनसे मुलाक़ात हुई तो जाना ये दिल किस काबिल था .!!

***

जबसे मुलाक़ात हुयी है उनसे मेरी, तबसे मेरे दिल को करार आया,

कभी ज़ुल्फ़ लहराई कभी नखरा किया, उनकी इन अदाओं पर बहोत प्यार आया….!

***

 

Search Tags

Mulaqat Shayari, Mulaqat Hindi Shayari, Mulaqat Shayari, Mulaqat whatsapp status, Mulaqat hindi Status, Hindi Shayari on Mulaqat, Mulaqat whatsapp status in hindi, मुलाक़ात हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मुलाक़ात, मुलाक़ात स्टेटस, मुलाक़ात व्हाट्स अप स्टेटस, मुलाक़ात पर शायरी, मुलाक़ात शायरी, मुलाक़ात पर शेर, मुलाक़ात की शायरी, महबूब से मुलाक़ात


Hinglish

jinda rahane ke lie teree qasam ek mulaaqaat zarooree hai sanam, doston, aas is blog post mein ham aapake lie mahaboob se mulaaqaat par kuchh chuninda behatareen shayari pesh kar rahen hain, ummeed hai yah mulaaqaat par shaayaaree aapako bahut pasand aaegee.

meree najaro ko aaj bhee talaash he teree bin tere khushee bhee udaas he mereekhuda se maanga he to sirph itana marane se pahale aapase mulaaqaat ho meree***

subah ko jo neend se jaage tab raat ka khyaab yaad aaya gaya..kya khoob rahee thee sapano mein mulaaqaat aapase***

khushiya kisee kee mohataaj nahin hotee, dostee yoonhee ittefaaq se nahin hoteekuchh to maayane honge is pal ke, varana yoonhee aapase mulaaqaat nahin hotee***

kaash aapakee soorat itanee pyaaree na hotee; kaash aapase mulaaqaat hamaaree na hotee;sapano mein hee dekh lete ham aapako; to aaj milane kee itanee bekaraaree na hotee!***

milane aayenge aapase khvaabon mein jara roshanee ke die bujha deejiyeab aur nahin hota intazaar aapase mulaaqaat ka apanee aankhon ke palake gira deejiye***

mulaqat shayari in hindiagar hamaaree aapase mulaaqaat hogee hoteeaapakee aapake dilase adaavat hogee hotee***

is ummeed mein karate hain intazaar ham raat ka; kishaayad sapanon mein kabhee aapase mulaaqaat ho jaaye.***

itana intazaar apanee dhadakanon ka nahin jitanaaap ke aane ka karate hainitana intazaar apanee saanson ka nahin jitana aapase mulaaqaat ka karate hain***

mulaqat shayari in hindijaate jaate kaheen bhee mulaaqaat ho jaaye aapase..talaash ye nazar aapako baar baar karatee hai….!!!!***

mohabbat na sahee mukadama hee kar do mujh par,kam se kam taareekh dar taareekh mulaaqaat to ho aapase.***

maana kee aapase roj mulaaqaat nahee hotee aamane-saamane kabhee baat nahee hoteemagar har subah aapako dilase yaad kar lete hai usake bina hamaare din kee shuruaat nahin hotee***

meree har gajalo mein teree baat aaj bhee hai,aapase khayaalon mein mulaaqaat aaj bhee hai ,tujhe bhula dena mere bas mein nahin shaayad,yu to haseenon se mulaaqaat aaj bhee hai,***

mulaqat shayari in hindikabhee aapase jo mulaaqaat hogee yaheen sochatee hoon kee kya baat hogeebhale door honge voh meree nazar se magar yaad unakee mire saath hogee***

kuchh nasha to aapakee baat ka hai, kuchh nasha to dheemee barasaat ka hai,hame aap yoohee sharaabee na kahie, yah dil par asar to aapase mulaaqaat ka hai***

aap jaise log kuchh khaas lagate hain; dil mein har vaqt ek aas rakhate hain;jaane kab ho jaaye mulaaqaat aapase; isalie 1 (disprin) ham hamesha apane paas rakhate hain.***khoob jamegee jab hogee aapase mulaaqaat,kuchh kharch hongee baate kuchh lutenge jajbaat……!!!***

mulaqat shayari in hindiaap jo hanso to duniya hans jaaye;aapakee hansee is dil mein bas jaaye;hogee mulaaqaat kal phir aapase;yahee soch kar dil mein mere khushiyon ka ras ghul jaaye***

mulaaqaat ho aapase , kuchh is tarah hamaaree…..saaree umr bas ek, mulaaqaat mein guzaar loon……!!!!***

kar to len ham aapase mulaaqaatakya samajhenge par aap dil ke zajbaat….!!***

mulaqat shayari in hindisab kuchh mila sakoon kee daulat nahin milee ! aapase mulaaqaat kee mohalat nahin mileekarane ko aur bhee kaam the magar ! hamako aapakee yaad se phurasat nahin milee***

ham unase mile to kuchh kah na sake “doston”khushee itanee thee ki mulaaqaat aansoo ponchhate ponchhate hee gujar gayee***

kudarat ke karishmon mein agar raat na hoteekhvaabon mein bhee phir unase mulaaqaat na hotee***

abhee abhee hamane dard ko unake naasoor bana daala,hamane to kabhee fikar nahee kee unase mulaaqaat keemagar jaane kyoon unhonne hamen apana guroor bana daala..*

** mulaqat shayari in hindihuee mulaaqaat kisee raah par unaseab khojata hoo har raah par unako**

*mulaaqaat ka silasila unase yoon chalata rahaajab mohabat huee to izahaar bhee yoon hota raha***

unase jo mulaaqaat ho jaatee .jaane phir kya baat ho jaatee .***

chalo aaj phir ek galatee kar ke dekhate hainaaj phir unase mohabbat karake dekhate hainunake dil main chaahat hai ya naheeaaj phir un se mulaaqaat karake dekhate hai***

mulaqat shayari in hindikuchh zyaada to nahin maanga tha hamane tumase ai zindagee,chhotee see aarazoo thee unase mulaaqaat-ai-guftagoo kee..***

har baat pe mahake hue jazbaat kee khushabooaaj yaad bahut aayee,unase mulaaqaat kee khushaboo***

dile tasveere hai yaar jabaki gardan jhuka lee, aur mulaaqaat kar leevo the na mujhase dur,na mai unase door tha aata na tha najar, to najar ka kasoor tha***

khvaahish yah kee unase naayaab mulaaqaat ek baar to ho jaayezindagee bhar yaadon ke sahaare guzaarane se behatar hai rubaroo ho jaayen***

mulaqat shayari in hindimil kar bhee unase hasarat-e-mulaaqaat rah gaee,baadal to ghar aaye the bas barasaat rah gaee..***

karanee mujhe khuda se ek phariyaad baakee hai kahanee unase ek baat baakee haimaut bhee aa jaaye to kah doongee jara ruk ja abhee mere dosto se ek mulaaqaat baakee hai***

do baaten kar lena unase gar chaar na ho sake,khyaal hee kar lena gar mulaaqaat na ho sake .***

roj deedaar ho chaand ka ….. ye jarooree to nahin ….beparda ho mulaaqaat unase … ye jarooree to nahin ….***

main khushanaseeb hoon kee raat khvaab aate hain aksarakhvaabon mein baikhtiyaar unase mulaaqaat hotee hai..***

vaqt aakharee tha unase dua-salaam kar liya ……bas itanee see mulaaqaat ne badanaam kar diya.***

mulaqat shayari in hindiyoon to khud kee sailaane-tabeeyat ka andaaz mushkil thaunase mulaaqaat huee to jaana ye dil kis kaabil tha .!!***

jabase mulaaqaat huyee hai unase meree, tabase mere dil ko karaar aaya,kabhee zulf laharaee kabhee nakhara kiya, unakee in adaon par bahot pyaar aaya….!***

search tags mulaqat shayari, mulaqat hindi shayari, mulaqat shayari, mulaqat whatsapp status, mulaqat hindi status, hindi shayari on mulaqat, mulaqat whatsapp status in hindi, mulaaqaat hindee shayari, hindee shayari, mulaaqaat, mulaaqaat status, mulaaqaat whatsapp status, mulaaqaat par shayari, mulaaqaat shayari, mulaaqaat par sher, mulaaqaat kee shayari, mahaboob se mulaaqaat

Leave a Reply