Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी - Net In Hindi.com

Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

Phool Shayari in Hindi font  फूलों पर शायरी

Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

 

Phool Shayari in Hindi font

फूलों पर शायरी

दोस्तों पेश है फूलों पर कुछ खूबसूरत शेर ओ शायरी का संग्रह

Collections of Shayri in Hindi font on flower

list of Hindi font Shayari

********************************

 

वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए

खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए

#नरेश कुमार ‘शाद’

***

कांटों से घिरा रहता है चारों तरफ से फूल,

फिर भी खिला ही रहता है,क्या खुशमिज़ाज है !!

***

वो फूल तोड़े हमें कोई ऐतराज़ नहीं

मगर वो तोड़ के खुशबू निकाल लेता है

***

सूखे थे फूल तेरे जाने के बाद

अब तो ख़ुश्बू भी किताबों से गई

*** Phool Shayari in Hindi font

जिसकी ख़ुशबू से महक जाय पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का हर सिम्त खिलाया जाए #नीरज

***

स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से

लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से

***

नहीं पूछता है मुझ को, कोई फूल इस चमन में

दिल-ए-दागदार होता तो गले का हार होता

#अमीर मीनाई

***

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !!

*** Phool Shayari in Hindi font

फूल का अपना कोई रंग कोई रूप नहीं

उसके जूड़े में सजा हो तो भला लगता है

#क़तील शिफ़ाई

***

तू जिसे इतनी हसीं चीज़ समझता है वो फूल

सूख जाए तो निगाहों को बुरा लगता है

#क़तील शिफाई

***

छू लेंगे तेरा जिस्म तो खिलते रहेंगे फूल

शहर-ए-वफ़ा में इश्क़ के हम दस्तकार हैं

***

मैं जिसके हाथ में इक फूल देके आया था,

उसी के हाथ का पत्थर मेरी तलाश में है

#कृष्ण बिहारी नूर

***

कभी दिन की धूप में झूम के कभी शब के फूल को चूम के

यूँ ही साथ साथ चलें सदा कभी ख़त्म अपना सफ़र न हो

***

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी वो फूल बन जाए तो कभी रुखसार बन जाए

*** Phool Shayari in Hindi font

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

***

तस्वीर मैंने मांगी थी शोख़ी तो देखिये,

इक फूल उसने भेज दिया है गुलाब का !! -शादानी

***

शाख़ पर लगा है गर उसका क्या बिगड़ना है,

फूल सूँघ लेने से ताज़गी नहीं जाती

***

उलझ पड़ूँ किसी के दामन से वह खार नहीं,

वह फूल हूँ जो किसी के गले का हार नहीं !!-चकबस्त लखनवी

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़िक्र करते हैं तेरा मुझ से बा-उन्वाने जफ़ा

चारागर फूल पिरो लाये हैं तलवारों में

***

कोई काँटा चुभा नहीं होता,

दिल अगर फूल सा नहीं होता !!

***

जिन की महक से रूह पे तारी है बे-ख़ुदी,

वो फूल चुन रहे हैं तेरे गुलिस्ताँ से हम !!

***

जिन्होंने काँटों पे चलना हमें सिखाया था

हमारी राह में वो फूल अब बिछाने लगे !!

*** Phool Shayari in Hindi font

आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है,

फूल बाक़ी नहीं ख़ुश्बू का सफ़र जारी है!!

***

एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी

आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है !! -दुष्यंतकुमार

***

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखूं वही पैमाना हुआ है !!

***

चाहता है दिल किसी से राज़ की बातें करे,

फूल आधी रात का आँगन में है महका हुआ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

 

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

अब के हम बिछड़ें तो शायद कभी ख्वाबों में मिलें,

जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !!

***

लफ्ज़ को फूल बनाना तो करिश्मा है फ़राज़…

हो ना हो कोई तो है तेरी निगारिश मैं शरीक़ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखू वही पैमाना हुआ है …

***

मुझे मालूम है मैं फूल हूं झर जाऊंगा इक दिन

मगर ये हौसला मेरा है हरदम मुस्‍कुराता हूं.!!

***

रँग आँखों के लिये बू है दमागों के लिये

फूल को हाँथ लगाने की ज़रूरत क्या है

***

फूल बिखराता हुआ मैं तो चला जाऊँगा

आप काँटे मिरी राहों में बिछाते रहिये.!!

***

यूँ तो सैरे-गुलशन को कितने लोग आते हैं

फूल कौन तोड़ेगा डालियाँ समझती हैं.!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कोई तितली हमारे पास आती तो क्या आती

सजाए उम्र भर कागज़ के फूल और पत्तियां हमने

***

मुझे यूँ लगा कि ख़ामोश ख़ुश्बू के होँठ तितली ने छू लिये

इन्ही ज़र्द पत्तों की ओट में कोई फूल सोया हुआ न हो

बशीर बद्र

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़माना चाहता है क्यों,मेरी फ़ितरत बदल देना

इसे क्यों ज़िद है आख़िर,फूल को पत्थर बनाने की.!!

***

जिसकी खुश्बू से महक जाए,पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का,हर सिम्त खिलाया जाए.!!

***

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है

बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है.!!

***

कागज़ की कतरनों को भी कहते हैं लोग फूल

रंगों का ऐतबार हि क्या है सूंघ कर भी देख..!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

***

 

Search Tags

Phool Shayari in Hindi font, Phool Shayari in Hindi, Phool Hindi Shayari, Phoolon par Shayari, Phool whatsapp status, Phool hindi Status, Hindi Shayari on Phool, Phool whatsapp status in hindi, Phool Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Flower Shayari, Flower Hindi Shayari, Flower Shayari, Flower whatsapp status, Flower hindi Status, Hindi Shayari on Flower, Flower whatsapp status in hindi, Flower Shayari in Hindi Font

फूल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, फूल, फूल स्टेटस, फूल व्हाट्स अप स्टेटस, फूलों पर शायरी, फूल शायरी, फूल पर शेर, फूलों की शायरी,

You may also like...

4 Responses

  1. Sajjad Alam says:

    Nice

  2. Sajjad Alam says:

    So niec

  3. रमाशंकर जायसवाल says:

    बहुत ही महत्वपूर्ण अच्छी जानकारी गुगल के इस वेव से प्राप्त हुई है।धन्यवाद करता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *