Phool Shayari in Hindi font  फूलों पर शायरी

Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

Phool Shayari in Hindi font  फूलों पर शायरी
Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

 

Phool Shayari in Hindi font

फूलों पर शायरी

दोस्तों पेश है फूलों पर कुछ खूबसूरत शेर ओ शायरी का संग्रह

Collections of Shayri in Hindi font on flower

list of Hindi font Shayari

********************************

 

वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए

खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए

#नरेश कुमार ‘शाद’

***

कांटों से घिरा रहता है चारों तरफ से फूल,

फिर भी खिला ही रहता है,क्या खुशमिज़ाज है !!

***

वो फूल तोड़े हमें कोई ऐतराज़ नहीं

मगर वो तोड़ के खुशबू निकाल लेता है

***

सूखे थे फूल तेरे जाने के बाद

अब तो ख़ुश्बू भी किताबों से गई

*** Phool Shayari in Hindi font

जिसकी ख़ुशबू से महक जाय पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का हर सिम्त खिलाया जाए #नीरज

***

स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से

लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से

***

नहीं पूछता है मुझ को, कोई फूल इस चमन में

दिल-ए-दागदार होता तो गले का हार होता

#अमीर मीनाई

***

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !!

*** Phool Shayari in Hindi font

फूल का अपना कोई रंग कोई रूप नहीं

उसके जूड़े में सजा हो तो भला लगता है

#क़तील शिफ़ाई

***

तू जिसे इतनी हसीं चीज़ समझता है वो फूल

सूख जाए तो निगाहों को बुरा लगता है

#क़तील शिफाई

***

छू लेंगे तेरा जिस्म तो खिलते रहेंगे फूल

शहर-ए-वफ़ा में इश्क़ के हम दस्तकार हैं

***

मैं जिसके हाथ में इक फूल देके आया था,

उसी के हाथ का पत्थर मेरी तलाश में है

#कृष्ण बिहारी नूर

***

कभी दिन की धूप में झूम के कभी शब के फूल को चूम के

यूँ ही साथ साथ चलें सदा कभी ख़त्म अपना सफ़र न हो

***

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी वो फूल बन जाए तो कभी रुखसार बन जाए

*** Phool Shayari in Hindi font

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

***

तस्वीर मैंने मांगी थी शोख़ी तो देखिये,

इक फूल उसने भेज दिया है गुलाब का !! -शादानी

***

शाख़ पर लगा है गर उसका क्या बिगड़ना है,

फूल सूँघ लेने से ताज़गी नहीं जाती

***

उलझ पड़ूँ किसी के दामन से वह खार नहीं,

वह फूल हूँ जो किसी के गले का हार नहीं !!-चकबस्त लखनवी

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़िक्र करते हैं तेरा मुझ से बा-उन्वाने जफ़ा

चारागर फूल पिरो लाये हैं तलवारों में

***

कोई काँटा चुभा नहीं होता,

दिल अगर फूल सा नहीं होता !!

***

जिन की महक से रूह पे तारी है बे-ख़ुदी,

वो फूल चुन रहे हैं तेरे गुलिस्ताँ से हम !!

***

जिन्होंने काँटों पे चलना हमें सिखाया था

हमारी राह में वो फूल अब बिछाने लगे !!

*** Phool Shayari in Hindi font

आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है,

फूल बाक़ी नहीं ख़ुश्बू का सफ़र जारी है!!

***

एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी

आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है !! -दुष्यंतकुमार

***

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखूं वही पैमाना हुआ है !!

***

चाहता है दिल किसी से राज़ की बातें करे,

फूल आधी रात का आँगन में है महका हुआ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

 

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

अब के हम बिछड़ें तो शायद कभी ख्वाबों में मिलें,

जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !!

***

लफ्ज़ को फूल बनाना तो करिश्मा है फ़राज़…

हो ना हो कोई तो है तेरी निगारिश मैं शरीक़ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखू वही पैमाना हुआ है …

***

मुझे मालूम है मैं फूल हूं झर जाऊंगा इक दिन

मगर ये हौसला मेरा है हरदम मुस्‍कुराता हूं.!!

***

रँग आँखों के लिये बू है दमागों के लिये

फूल को हाँथ लगाने की ज़रूरत क्या है

***

फूल बिखराता हुआ मैं तो चला जाऊँगा

आप काँटे मिरी राहों में बिछाते रहिये.!!

***

यूँ तो सैरे-गुलशन को कितने लोग आते हैं

फूल कौन तोड़ेगा डालियाँ समझती हैं.!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कोई तितली हमारे पास आती तो क्या आती

सजाए उम्र भर कागज़ के फूल और पत्तियां हमने

***

मुझे यूँ लगा कि ख़ामोश ख़ुश्बू के होँठ तितली ने छू लिये

इन्ही ज़र्द पत्तों की ओट में कोई फूल सोया हुआ न हो

बशीर बद्र

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़माना चाहता है क्यों,मेरी फ़ितरत बदल देना

इसे क्यों ज़िद है आख़िर,फूल को पत्थर बनाने की.!!

***

जिसकी खुश्बू से महक जाए,पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का,हर सिम्त खिलाया जाए.!!

***

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है

बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है.!!

***

कागज़ की कतरनों को भी कहते हैं लोग फूल

रंगों का ऐतबार हि क्या है सूंघ कर भी देख..!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

***

 

Search Tags

Phool Shayari in Hindi font, Phool Shayari in Hindi, Phool Hindi Shayari, Phoolon par Shayari, Phool whatsapp status, Phool hindi Status, Hindi Shayari on Phool, Phool whatsapp status in hindi, Phool Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Flower Shayari, Flower Hindi Shayari, Flower Shayari, Flower whatsapp status, Flower hindi Status, Hindi Shayari on Flower, Flower whatsapp status in hindi, Flower Shayari in Hindi Font

फूल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, फूल, फूल स्टेटस, फूल व्हाट्स अप स्टेटस, फूलों पर शायरी, फूल शायरी, फूल पर शेर, फूलों की शायरी,


Hindi

Phool Shayari in Hindi font

फूलों पर शायरी

phool shayari in hindi fontphoolon par shaayari doston pesh hai phoolon par kuchh khoobasoorat sher o shaayari ka sangrah vo sahan-e-baag mein aae hain may-kashi ke liekhuda kare ke har ik phool jaam ho jae#naresh kumaar ‘shaad’**

*kaanton se ghira rahata hai chaaron taraph se phool,phir bhi khila hi rahata hai,kya khushamizaaj hai !!**

*vo phool tode hamen koi aitaraaz nahimmagar vo tod ke khushaboo nikaal leta hai**

*sookhe the phool tere jaane ke baadab to khushboo bhi kitaabon se gai***

phool shayari in hindi fontjisaki khushaboo se mahak jaay padosi ka bhi gharaphool is qism ka har simt khilaaya jae #niraj**

*svapn jhare phool se, mit chubhe shool selut gaye singaar sabhi baag ke babool se**

*nahin poochhata hai mujh ko, koi phool is chaman mendil-e-daagadaar hota to gale ka haar hota#amir minai**

*khaar bhi zist-e-gulistaan hain,phool hi haansil-e-bahaar nahin !!**

* phool shayari in hindi fontphool ka apana koi rang koi roop nahinusake joode mein saja ho to bhala lagata hai#qatil shifai**

*too jise itani hasin chiz samajhata hai vo phoolasookh jae to nigaahon ko bura lagata hai#qatil shiphai***

chhoo lenge tera jism to khilate rahenge phoolashahar-e-vafa mein ishq ke ham dastakaar hain*

**main jisake haath mein ik phool deke aaya tha,usi ke haath ka patthar meri talaash mein hai#krshn bihaari noor*

**kabhi din ki dhoop mein jhoom ke kabhi shab ke phool ko choom keyoon hi saath saath chalen sada kabhi khatm apana safar na ho

***nazar us husn par thahare to aakhir kis tarah thaharekabhi vo phool ban jae to kabhi rukhasaar ban jae***

phool shayari in hindi fontshiddat se bahaaron ke intezaar mein sab haimpar phool mohabbat ke to khilane nahin dete*

**tasvir mainne maangi thi shokhi to dekhiye,ik phool usane bhej diya hai gulaab ka !! -shaadaani**

*shaakh par laga hai gar usaka kya bigadana hai,phool soongh lene se taazagi nahin jaati***

ulajh padoon kisi ke daaman se vah khaar nahin,vah phool hoon jo kisi ke gale ka haar nahin !!-chakabast lakhanavi***

phool shayari in hindi fontzikr karate hain tera mujh se ba-unvaane jafaachaaraagar phool piro laaye hain talavaaron mein**

*koi kaanta chubha nahin hota,dil agar phool sa nahin hota !!*

**jin ki mahak se rooh pe taari hai be-khudi,vo phool chun rahe hain tere gulistaan se ham !!**

*jinhonne kaanton pe chalana hamen sikhaaya thaahamaari raah mein vo phool ab bichhaane lage !!*

** phool shayari in hindi fontaaj tak us ki mohabbat ka nasha taari hai,phool baaqi nahin khushboo ka safar jaari hai!!*

**ek khandahar ke hrday-si, ek jangali phool-siaadami ki pir goongi hi sahi, gaati to hai !! -dushyantakumaar*

**mausam ne banaaya hai nigaahon ko sharaabi,jis phool ko dekhoon vahi paimaana hua hai !!***

chaahata hai dil kisi se raaz ki baaten kare,phool aadhi raat ka aangan mein hai mahaka hua !!*

** phool shayari in hindi fontaaj hai vo bahaar ka mausam,phool todoon to haath jaam aae !!*

**ab ke ham bichhaden to shaayad kabhi khvaabon mein milen,jis tarah sookhe hue phool kitaabon mein milen !!**

*laphz ko phool banaana to karishma hai faraaz…ho na ho koi to hai teri nigaarish main shariq !!**

* phool shayari in hindi fontmausam ne banaaya hai nigaahon ko sharaabi,jis phool ko dekhoo vahi paimaana hua hai …

***mujhe maaloom hai main phool hoon jhar jaoonga ik dinamagar ye hausala mera hai haradam mus‍kuraata hoon.!!*

**rang aankhon ke liye boo hai damaagon ke liyephool ko haanth lagaane ki zaroorat kya hai*

**phool bikharaata hua main to chala jaoongaaap kaante miri raahon mein bichhaate rahiye.!!**

*yoon to saire-gulashan ko kitane log aate haimphool kaun todega daaliyaan samajhati hain.!!**

* phool shayari in hindi fontkoi titali hamaare paas aati to kya aatisajae umr bhar kaagaz ke phool aur pattiyaan hamane***

mujhe yoon laga ki khaamosh khushboo ke honth titali ne chhoo liyeinhi zard patton ki ot mein koi phool soya hua na hobashir badr*

** phool shayari in hindi fontzamaana chaahata hai kyon,meri fitarat badal denaise kyon zid hai aakhir,phool ko patthar banaane ki.!!*

**jisaki khushboo se mahak jae,padosi ka bhi gharaphool is qism ka,har simt khilaaya jae.!!*

**mohabbat se inaayat se vafa se chot lagati haibikharata phool hoon mujhako hava se chot lagati hai.!!**

*kaagaz ki kataranon ko bhi kahate hain log phoolarangon ka aitabaar hi kya hai soongh kar bhi dekh..!!**

* phool shayari in hindi fontkaun se naam se taabir karoon is root ko..phool murajhaen hain zakhmon pe bahaar aai hai..!!***

7 thoughts on “Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी”

  1. बहुत ही महत्वपूर्ण अच्छी जानकारी गुगल के इस वेव से प्राप्त हुई है।धन्यवाद करता हूँ।

  2. फूल सी कली थी मेरी जान
    जालिमो ने तोड़ के ले गए

Leave a Reply