विश्व का सबसे रंग बिरंगा तोता Rainbow Lorikeet

विश्व का सबसे रंग बिरंगा तोता रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet

रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet एक विशेष प्रकार का तोता होता है जो कि ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है इसका वैज्ञानिक नाम Trichoglossus moluccanus है, हमारे देश भारत में  मुख्यतः पूरे हरे रंग के तोते पाए जाते हैं इसीलिए जब हम रेनबो लोरीकीट को देखते हैं तो हमें विश्वास ही नहीं होता कि यह पक्षी वास्तविक है, इसके अलग-अलग रंगों में रंगे हुए पंखो को देखकर ऐसा लगता है कि इसे मनुष्य द्वारा रंगा गया है, ऑस्ट्रेलिया में यह प्रमुखता से पाया जाता है. पूर्वी ऑस्ट्रेलिया के समुद्र किनारे. उत्तरी क्वींसलैंड और दक्षिणी आस्ट्रेलिया में इसे आसानी से देखा जा सकता है,  वर्षावन, समुद्र के पास की झाड़ियाँ तथा घने जंगल इनके आवास स्थल है, इस पक्षी की कई उप प्रजातियां आस्ट्रलिया में पाई जाती है.

रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet को पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया, तस्मानिया, न्यूजीलैंड में भी छोड़ा गया है जहाँ ये अच्छी तादात में पनप रहे हैं.

Rainbow Lorikeet in hindi

रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet की विशेषताएं

रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet एक मध्यम आकार का तोता होता है, इसकी लंबाई 25 से 30 सेंटीमीटर के बीच होती है, इसका वजन लगभग 75 से 157 ग्राम तक ही होता है, इसका सिर गहरे नीले रंग का होता है, गर्दन के आसपास हरी पीली धारी होती है, इसके शरीर का ऊपरी हिस्सा गहरे हरे रंग का होता है, इस तोते के सीने पर लाल पंख पाए पाए जाते हैं, इसका पेट हरे रंग का होता है तथा इसके पेट पर  पीले रंग के पंख होते हैं इस तरह अलग अलग रंगो के पंख इसके पूरे शरीर पर पाए जाते हैं इसलिए इसे देखने पर ऐसा लगता है कि से कृत्रिम रूप से रंगा गया है.

नर और मादा रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet एक जैसे होते हैं, इनमें बहुत कम अंतर होता है जो की  ध्यान से देखने पर ही पता चलता है.यह हमेशा झुंड में ही उड़ते हुए पाए जाते हैं, नर और मादा का जोड़ा काफी लम्बे समय तक साथ रहता है, यह दोनों अपने इलाके की रक्षा करते हैं, यह छोटे और बड़े पक्षी दोनों तरह के पक्षियों को अपने इलाके से भगा देते हैं.

रेनबो लोरीकीट Rainbow Lorikeet का आहार और प्रजनन

रेनबो लोरीकीट मुख्यतः फल ही खाते हैं, यह ताजे फूलों के परागकण तथा फूलों का रस चूसते हैं इनकी जबान एक विशेष प्रकार की होती है जिससे कि यह फूलों के अंदर का रस चूस सकते हैं.

रेनबो लोरीकीट में प्रजनन काल सितंबर से दिसंबर के बीच होता है, यह अन्य तोतों की तरह ही पेड़ों के खोखले ताने में अंडे देते हैं, ज्यादातर एक पेड़ पर कई रेनबो लोरीकीट की जोड़ी  घोसला बनती हैं यह एक बार में 1 से 3 अंडे देते हैं. अंडों को सेने का काम केवल मादा रेनबो लोरीकीट ही करती है यह अंडों को 25 दिन तक सोती है.

Rainbow Lorikeet in hindi

 

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply