Saba Shayari in Hindi  सबा पर शायरी

Saba Shayari in Hindi सबा पर शायरी

Saba Shayari in Hindi सबा पर शायरी
Saba Shayari in Hindi सबा पर शायरी

Saba Shayari in Hindi

सबा पर शायरी

Hindi Shayari on Breeze

List of All topics

*******************************************

कोई झंकार है, नग़मा है, सदा है क्या है ?

तू किरन है, के कली है, के सबा है, क्या है ?*

~नक़्श लायलपुरी

 

ज़रूर तेरी गली से गुज़र हुआ होगा,

कि आज बाद-ए-सबा बेक़रार आई है !!

गुलों को छू के शमीम ए दुआ नहीं आई

खुला हुआ था दरीचा सबा नहीं आई।*

 

छूने से कभी बाद-ए-सबा के मेरे तन में

एक बर्क़ सी लहराए तो लगता है कि तुम हो*

~मसऊदा हयात*

 

ये हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं

कभी सबा को, कभी नामावर को देखते हैं

~ग़ालिब*

 

Saba Shayari in Hindi

ज़ुल्फ़ बरहम है दिल आशुफ़्ता सबा आवारा,

ख़्वाब-ए-हस्ती सा नहीं ख़्वाब परेशाँ कोई !!- चराग़ हसन हसरत*

 

चमन पे गारत-ए-गुल-चीं से जाने क्या गुज़री,

क़फ़स से आज सबा बे-करार गुज़री है।

 

~फैज़**

फिर तेरा ज़िक्र किया बाद-ए-सबा ने मुझ से,

फिर मेरे दिल को धड़कने के बहाने आए !!-इक़बाल अशहर*

 

ज़माना याद करे या सबा करे ख़ामोश,

हम इक चराग़-ए-मोहब्बत जलाए जाते हैं !! ~शुभदीपावली*

 

क्या उठायेगी सबा ख़ाक मेरी उस दर से,

ये क़यामत तो ख़ुद उनसे भी उठाई न गई !!

 

Saba Shayari in Hindi*

जो आ के रुके दामन पे ‘सबा‘, वो अश्क नहीं है पानी है,

जो अश्क न छलके आंखों से, उस अश्क की कीमत होती है!! – सबा अफगानी*

 

ज़ुल्फ़-ए-शब निक़हत-ए-गुल मौज-ए-सबा गेसू-ए-यार

सब परेशाँ हैं किस-किस को सँवारा जाए.!!*

 

तक़दीर से मैं बरसरे-पैक़ार सहीं

तदबीर मेरी माना कि बेकार सहीं

पाला है मुझे भी तो सबा ने आख़िर

मैं गुलशने-हस्ती में फक़त ख़ार सहीं.!!*

 

जो आ के रुके दामन पे सबा

वो अश्क़ नहीं है पानी है

।।

जो अश्क़ न छलके आँखों से

उस अश्क़ की क़ीमत होती है*

 

सबा के हाथ में नरमी है उनके हाथों की

ठहर ठहर के यह होता है आज दिल को गुमां*

 

आंधियां जोर दिखाएं भी तो क्या होता है

गुल खिलाने का हुनर बादे सबा जानती है।*

 

Saba Shayari in Hindi

यूँ न मिल मुझ से ख़फ़ा हो जैसे,

साथ चल मौज़-ए-सबा हो जैसे ।*

 

ख़ुश्क पत्तों को कोई रौंद रहा है

शायद बाल बिखराये हुए बाद-ए-सबा आती है ~बशीर_बद्र*

 

दाम-ए-ख़ुश-बू में गिरफ़्तार सबा है

कब से लफ़्ज़ इज़हार की उलझन में पड़ा है कब से*

 

मैं आँधियों के पास तलाश-ए-सबा में हूँ

तुम मुझ से पूछते हो मिरा हौसला है क्या ~अदा_जाफ़री*

 

रंग बाद ए सबा में भरता है …

मेरा इक ज़ख़्म शाम करता है …*

 

Saba Shayari in Hindi

 

किसी ख्याल की ख़ुशबू किसी बदन की महक

दर-ए-कफ़स पे खड़ी है सबा पयाम लिए-मख़दूम*

 

तुझे छुकर चली आ रही है सबा..

खिल रहे हैं फूल ..महक रही है फिजा … ~sahiba*

 

चाँदनी था, या ग़ज़ल था, सबा था, क्या था;

मैंने एक बार तेरा नाम सुना था, क्या था ~क़ैसर*

 

मौसम, ख़ुशबू, बाद-ए-सबा, चाँद, शफ़क़ और तारों में ||

कौन तुम्हारे जैसा है, वक़्त मिला तो सोचेंगे !!!!*

 

कलियों को कौन सहने-चमन में जगाएगा

खुद सो गई सबा तेरी ज़ुल्फों की छांव में*

 

Saba Shayari in Hindi

तुम्हारे बिना सब अधूरे हैं जानाँ

सबा फूल ख़ुश-बू चमन रौशनी रंग*

 

अजीब रंग में अबके खिले हैं दिल के गुलाब

सबा के पैरहन ओ ख़ुशबू को हम कलाम करूँ ~सुख़नवर*

 

यूँ न मिल मुझ से ख़फ़ा हो जैसे साथ चल मौज़-ए-सबा हो जैसे

लोग यूँ देख कर हँस देते हैं तू मुझे भूल गया हो जैसे ~Danish*

 

मुसकुराती है कली, फूल हँसे पड़ते हैं

मेरे महबूब का पैग़ाम सबा लाती है।*

 

हर शय में कोई निशानी ना ढूंढ,

हर इत्तफाक में कोई कहानी ना ढूंढ,

दिल की बात कहने आई थी सबा,

अब इसमें सुबह सुहानी ना ढूंढ…..*

 

ये इत्र बे-ज़ियाँ नहीं नसीम-ए-नौ-बहार की उड़ा के लाई है

सबा शमीम ज़ुल्फ़-ए-यार की ~इक़बाल_सुहैल*

 

Saba Shayari in Hindi

सबा ने जागती आँखों को चूम चूम लिया

न जाने आख़िर-ए-शब इंतिज़ार किस का है ~Akhtar**

 

बे-समर पेड़ों को चूमेंगे सबा के सब्ज़ लब

देख लेना ये ख़िज़ाँ बे-दस्त-ओ-पा रह जाएगी

ये सोच कर, आज उसकी गली से हम गुज़रे,

थोड़ी सबा चुरा लायें, साँस लेने की खातिर..!!*

 

कह दो कोई सबा से आज उनकी गली जाये,

हम कैसे जी रहे हैं कुछ उनको बता आये*

 

जो आके रुके दामन पे सबा वो अश्क़ नहीं हैं पानी है

जो आंसू न छलके आँखों से उस अश्क की क़ीमत होती है*

 

Saba Shayari in Hindi

फूल,खुशबु,चमन,चाँद,तारे,सबा

सारे साथी वो हमसे खफा कर गया

सब दरख्तों पर कुछ कुछ लिखा रह गया

नाम ऐसे मेरा वो मिटा के गया*

 

फिर तेरा ज़िक्र किया बाद-ए-सबा ने मुझ से,

फिर मेरे दिल को धड़कने के बहाने आए !!*

 

तिजारत खुशबूओं की तर्क़ कर दी हमने

जब से सबा नक़ली इत्र की क़दरदान हुई*

 

Saba Shayari in Hindi, Saba Hindi Shayari, Saba Shayari, Saba whatsapp status, Saba hindi Status, Hindi Shayari on Saba, Saba whatsapp status in hindi,

Breeze Shayari, Breeze Hindi Shayari, Breeze Shayari, Breeze whatsapp status, Breeze hindi Status, Hindi Shayari on Breeze, Breeze whatsapp status in hindi,

सबा हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, सबा, सबा स्टेटस, सबा व्हाट्स अप स्टेटस, सबा पर शायरी, सबा शायरी, सबा पर शेर, सबा की शायरी


Hinglish

Saba Shayari in Hindi

सबा पर शायरी

koi jhankaar hai, nagama hai, sada hai kya hai ?too kiran hai, ke kali hai, ke saba hai, kya hai ?*

~naqsh laayalapurizaroor teri gali se guzar hua hoga,ki aaj baad-e-saba beqaraar aai hai !!gulon ko chhoo ke shamim e dua nahin aaikhula hua tha daricha saba nahin aai.*

chhoone se kabhi baad-e-saba ke mere tan menek barq si laharae to lagata hai ki tum ho*

~masooda hayaat*ye ham jo hijr mein divaar-o-dar ko dekhate hainkabhi saba ko, kabhi naamaavar ko dekhate hain~gaalib*

sab shayari in hindizulf baraham hai dil aashufta saba aavaara,khvaab-e-hasti sa nahin khvaab pareshaan koi !!- charaag hasan hasarat*

chaman pe gaarat-e-gul-chin se jaane kya guzari,qafas se aaj saba be-karaar guzari hai.~phaiz*

*phir tera zikr kiya baad-e-saba ne mujh se,phir mere dil ko dhadakane ke bahaane aae !!-iqabaal ashahar*

zamaana yaad kare ya saba kare khaamosh,ham ik charaag-e-mohabbat jalae jaate hain !! ~shubhadipaavali*

kya uthaayegi saba khaak meri us dar se,ye qayaamat to khud unase bhi uthai na gai !! sab shayari in hindi*

jo aa ke ruke daaman pe ‘saba‘, vo ashk nahin hai paani hai,jo ashk na chhalake aankhon se, us ashk ki kimat hoti hai!! – saba aphagaani*

zulf-e-shab niqahat-e-gul mauj-e-saba gesoo-e-yaarasab pareshaan hain kis-kis ko sanvaara jae.!!*

taqadir se main barasare-paiqaar sahintadabir meri maana ki bekaar sahimpaala hai mujhe bhi to saba ne aakhiramain gulashane-hasti mein phaqat khaar sahin.!!*

jo aa ke ruke daaman pe sabaavo ashq nahin hai paani hai..jo ashq na chhalake aankhon seus ashq ki qimat hoti hai*

saba ke haath mein narami hai unake haathon kithahar thahar ke yah hota hai aaj dil ko gumaan*

aandhiyaan jor dikhaen bhi to kya hota haigul khilaane ka hunar baade saba jaanati hai.*

sab shayari in hindiyoon na mil mujh se khafa ho jaise,saath chal mauz-e-saba ho jaise .*

khushk patton ko koi raund raha haishaayad baal bikharaaye hue baad-e-saba aati hai ~bashir_badr*

daam-e-khush-boo mein giraftaar saba haikab se lafz izahaar ki ulajhan mein pada hai kab se*

main aandhiyon ke paas talaash-e-saba mein hoontum mujh se poochhate ho mira hausala hai kya ~ada_jaafari*rang baad e saba mein bharata hai …mera ik zakhm shaam karata hai …*

sab shayari in hindikisi khyaal ki khushaboo kisi badan ki mahakadar-e-kafas pe khadi hai saba payaam lie-makhadoom*

tujhe chhukar chali aa rahi hai saba..khil rahe hain phool ..mahak rahi hai phija … ~sahib*

chaandani tha, ya gazal tha, saba tha, kya tha;mainne ek baar tera naam suna tha, kya tha ~qaisar*

mausam, khushaboo, baad-e-saba, chaand, shafaq aur taaron mein ||kaun tumhaare jaisa hai, vaqt mila to sochenge !!!!*

kaliyon ko kaun sahane-chaman mein jagaegaakhud so gai saba teri zulphon ki chhaanv mein*

sab shayari in hinditumhaare bina sab adhoore hain jaanaansaba phool khush-boo chaman raushani rang*

ajib rang mein abake khile hain dil ke gulaabasaba ke pairahan o khushaboo ko ham kalaam karoon ~sukhanavar*

yoon na mil mujh se khafa ho jaise saath chal mauz-e-saba ho jaiselog yoon dekh kar hans dete hain too mujhe bhool gaya ho jaise ~danish*musakuraati hai kali, phool hanse padate haimmere mahaboob ka paigaam saba laati hai.

*har shay mein koi nishaani na dhoondh,har ittaphaak mein koi kahaani na dhoondh,dil ki baat kahane aai thi saba,ab isamen subah suhaani na dhoondh…..

*ye itr be-ziyaan nahin nasim-e-nau-bahaar ki uda ke lai haisaba shamim zulf-e-yaar ki ~iqabaal_suhail*

sab shayari in hindisaba ne jaagati aankhon ko choom choom liyaan jaane aakhir-e-shab intizaar kis ka hai ~akhtar

**be-samar pedon ko choomenge saba ke sabz labadekh lena ye khizaan be-dast-o-pa rah jaegiye soch kar, aaj usaki gali se ham guzare,thodi saba chura laayen, saans lene ki khaatir..!!*

kah do koi saba se aaj unaki gali jaaye,ham kaise ji rahe hain kuchh unako bata aaye

jo aake ruke daaman pe saba vo ashq nahin hain paani haijo aansoo na chhalake aankhon se us ashk ki qimat hoti hai*

sab shayari in hindiphool,khushabu,chaman,chaand,taare,sabaasaare saathi vo hamase khapha kar gayaasab darakhton par kuchh kuchh likha rah gayaanaam aise mera vo mita ke gaya*

phir tera zikr kiya baad-e-saba ne mujh se,phir mere dil ko dhadakane ke bahaane aae !!*

tijaarat khushabooon ki tarq kar di hamanejab se saba naqali itr ki qadaradaan hui*

 

 

 

Leave a Reply