Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

Samandar Shayari in Hindi
Samandar Shayari in Hindi

Samandar Shayari in Hindi

समन्दर पर शायरी

दोस्तों समन्दर पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “समन्दर” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “समन्दर” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

 

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

इलाही कश्ती-ए-दिल बह रही है किस समंदर में

निकल आती हैं मौजें हम जिसे साहिल समझते हैं

~असर सहबाई

 

जर्फ पैदा कर समंदर की तरह

वसअतै खामोशियां गहराईयां।

 

हूरों की तलब और मय ओ सागर से नफ़रत

जाहिद तेरे इरफान से कुछ भूल हुई है

 

कितने ही लोग प्यास की शिद्दत से मर चुके,

मैं सोचता रहा के समंदर कहाँ गये !! – राहत इंदौरी

 

मैं खोलता हूँ सदफ़ मोतियों के चक्कर में

मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते हैं

Samandar Status Pictures – Samandar dp Pictures – Samandar Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Samandar Status Pictures – Samandar dp Pictures – Samandar Shayari Pictures

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

 

पहाड़ों की ढलानों पर,दरख्तो भरी वादियाँ के साए में,झील के किनारे,घर के ख़्वाब में- सब दिख रहा है- समंदर,बर्क,नसीम और…वो तिल.

 

आओ सजदा करें आलमे मदहोशी में

लोग कहते हैं कि सागर को खुदा याद नहीं।

 

मैं दरिया भी किसी गैर के हाथों से न लूं

एक कतरा भी समन्दर है अगर तू देदे!

 

सब हवाएं ले गया मेरे समंदर की कोई

और मुझ को एक कश्ती बादबानी दे गया

 

 

ग़मों के नूर में लफ़्जों को ढालने निकले

गुहरशनास समंदर खंगालने निकले

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा,

कश्ती के मुसाफ़िर ने समन्दर नहीं देखा !! ~BashirBadr

 

तेरी अज़मत है तू चाहे तो समंदर दे दे,

माँगने वाले का कासा नहीं जाता

 

समंदर ने कहा मुझको बचा लो डूबने से,

मैं किनारे पे समन्दर लगा के आया हूँ

 

तू समन्दर है तो क्यूँ आँख दिखाता है मुझे,

औस से प्यास बुझाना अभी आता है मुझे

 

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

जिसको देखूँ तेरे दर का पता पूछता है,

क़तरा क़तरे से समंदर का पता पूछता है

 

ज़िक्र करते हैं तेरा नाम नहीं लेते हैं

हम समंदर को जज़ीरा नहीं होने देते

 

क़दम दर क़दम ज़िन्दगी,दौरे इम्तिहान है

कहीं सहरा कहीं समन्दर,कहीं गर्दिशे अय्याम है

 

वो बहने के लिये कितना तड़पता रहता है लेकिन

समंदर का रुका पानी कभी दरिया नहीं बनता

 

रख हौंसला के वो मंज़र भी आएगा,

प्यासे के पास चलकर समंदर भी आएगा !!

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

जब चल पड़े सफ़र को तो फिर हौंसला रखो,

सहरा कहीं, कहीं पे समंदर भी आएंगे।

 

कह देना समन्दर से हम ओस के मोती हैं

दरिया की तरह तुम से मिलने नहीं आएंगे!

 

उन आँसुओं का समंदर है मेरी आँखों में

जिन आँसुओं में है ठहराव भी, रवानी भी

 

तेरी अज़मत है तू चाहे तो समंदर दे दे

माँगने वाले का कासा नहीं देखा जाता

 

कितने तूफ़ान दिल में समेटे खड़ा हूँ मैं,

डर हैं लेहरों में उतरा तो समन्दर ना दहल जाए।

 

बे-इरादा टकरा गए थे लेहरों से हम,

समन्दर ने कसम खा ली हमे डुबोने की

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

किसी की मस्त निगाहों में डूब जा गालिब

बहुत ही हंसी समन्दर है खुदकुशी के लिए!

 

उसके रुखसार पे इक अश्क की आवारागर्दी

हमने याकूत के सीने पे समन्दर देखा!

 

आग में डाल या समन्दर मे

आग तेरी हैं बेङियां तेरी!

 

बहते दरिया में बे सूद है गौहर की तलाश

अब सदफ दिल के समंदर में उतारे जायें!

 

प्यार इक बहता दरिया है

झील नहीं कि जिसको किनारे बाँधके बैठे रहते हैं

सागर भी नहीं कि जिसका किनारा नहीं होता

बस दरिया है,बह जाता है..

गुलज़ार

 

कोई अपनी ही नजर से तो हमें देखेगा,

एक कतरे को समन्दर नजर आयें कैसे.!!

 

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

प्यार छिपा है ख़त में इतना

जितने सागर में मोती

चूम ही लेता हाथ तुम्हारा

पास जो मेरे तुम होती

-इंदीवर

 

मैंने समय से रोक के

तेरा पता पुछा है

नीली नदी से कह के

सागर तले ढूंढा है…(1/1)

-गुलज़ार

 

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा

इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा

 

ऐ ख़ुदा रेत के सहरा को समंदर कर दे

या छलकती हुई आँखों को भी पत्थर कर दे

 

एक दिल है कि जो प्यासा है समंदर की तरह

दो निगाहें जो घटाओं के सिवा कुछ भी नहीं.!!

 

एक समंदर जो मेरे काबू में है

और इक कतरा है जो संभलता नही,

एक जिंदगी है जो तुम्हारे बगैर बितानी है

और इक लमहा है जो गुजरता नहीं ।

 

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

ऐ ख़ुदा रेत के सेहरा को समंदर कर दे

या छलकती हुई आँखों को भी पत्थर कर दे

 

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा

मै हि कश्ती हूँ मुझी में है समंदर मेरा

 

Samandar Shayari in Hindi, Samandar Hindi Shayari, Samandar Shayari, Samandar whatsapp status, Samandar hindi Status, Hindi Shayari on Samandar, Samandar whatsapp status in hindi,

Sagar Shayari in Hindi, Sagar Hindi Shayari, Sagar Shayari, Sagar whatsapp status, Sagar hindi Status, Hindi Shayari on Sagar, Sagar whatsapp status in hindi,

समन्दर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, समन्दर स्टेटस, समन्दर व्हाट्स अप स्टेटस,समन्दर पर शायरी, समन्दर शायरी, समन्दर पर शेर, समन्दर की शायरी

सागर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, सागर स्टेटस, सागर व्हाट्स अप स्टेटस,सागर पर शायरी, सागर शायरी, सागर पर शेर, सागर की शायरी


Samandar Shayari in Hinglish font

ilahe kashte-e-dil bah rahe hai kis samandar mein

nikal ate hain maujen ham jise sahil samajhate hain

~asar sahabae

 

jarf paida kar samandar ke tarah

vusaten, khamoshiyan, gaharaeyan.

 

 

kitane he log pyas ke shiddat se mar chuke,

main sochata raha ke samandar kahan gaye !! – rahat indaure

 

main kholata hoon sadaf motiyon ke chakkar mein

magar yahan bhe samandar nikalane lagate hain

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

 

pahadon ke dhalanon par,darakhto bhare vadiyan ke sae mein,

jhel ke kinare,ghar ke khvab mein- sab dikh raha hai-

samandar, bark, nasem aur…vo til.

 

main dariya bhe kise gair ke hathon se na loon

ek katara bhe samandar hai agar too dede!

 

sab havaen le gaya mere samandar ke koe

aur mujh ko ek kashte badabane de gaya

 

 

gamon ke noor mein lafjon ko dhalane nikale

guharashanas samandar khangalane nikale

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

ankhon mein raha dil mein utarakar nahin dekha,

kashte ke musafir ne samandar nahin dekha !! ~bashirbadr

 

tere azamat hai too chahe to samandar de de,

mangane vale ka kasa nahin jata

 

samandar ne kaha mujhako bacha lo doobane se,

main kinare pe samandar laga ke aya hoon

 

too samandar hai to kyoon ankh dikhata hai mujhe,

aus se pyas bujhana abhe ata hai mujhe

 

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

jisako dekhoon tere dar ka pata poochhata hai,

qatara qatare se samandar ka pata poochhata hai

 

zikr karate hain tera nam nahin lete hain

ham samandar ko jazera nahin hone dete

 

qadam dar qadam zindage,daure imtihan hai

kahen sahara kahen samandar,kahen gardishe ayyam hai

 

vo bahane ke liye kitana tadapata rahata hai lekin

samandar ka ruka pane kabhe dariya nahin banata

 

rakh haunsala ke vo manzar bhe aega,

pyase ke pas chalakar samandar bhe aega !!

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

jab chal pade safar ko to fir haunsala rakho,

sahara kahen, kahen pe samandar bhe aenge.

 

kah dena samandar se ham os ke mote hain

dariya ke tarah tum se milane nahin aenge!

 

un ansuon ka samandar hai mere ankhon mein

jin ansuon mein hai thaharav bhe, ravane bhe

 

tere azamat hai too chahe to samandar de de

mangane vale ka kasa nahin dekha jata

 

kitane toofan dil mein samete khada hoon main,

dar hain leharon mein utara to samandar na dahal jae.

 

be-irada takara gae the leharon se ham,

samandar ne kasam kha le hame dubone ke

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

kise ke mast nigahon mein doob ja galib

bahut he hanse samandar hai khudakushe ke lie!

 

usake rukhasar pe ik ashk ke avaragarde

hamane yakoot ke sene pe samandar dekha!

 

ag mein dal ya samandar me

ag tere hain beniyan tere!

 

bahate dariya mein be sood hai gauhar ke talash

ab sadaf dil ke samandar mein utare jayen!

 

pyar ik bahata dariya hai

jhel nahin ki jisako kinare bandhake baithe rahate hain

sagar bhe nahin ki jisaka kinara nahin hota

bas dariya hai,bah jata hai..

gulazar

 

koe apane he najar se to hamen dekhega,

ek katare ko samandar najar ayen kaise.!!

 

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

pyar chhipa hai khat mein itana

jitane sagar mein mote

choom he leta hath tumhara

pas jo mere tum hote

-indevar

 

mainne samay se rok ke

tera pata puchha hai

nele nade se kah ke

sagar tale dhoondha hai…(1/1)

-gulazar

 

mere junoon ka nateja zaroor nikalega

ise siyah samandar se noor nikalega

 

ai khuda ret ke sahara ko samandar kar de

ya chhalakate hue ankhon ko bhe patthar kar de

 

ek dil hai ki jo pyasa hai samandar ke tarah

do nigahen jo ghataon ke siva kuchh bhe nahin.!!

 

ek samandar jo mere kaboo mein hai

aur ik katara hai jo sambhalata nahe,

ek jindage hai jo tumhare bagair bitane hai

aur ik lamaha hai jo gujarata nahin ।

 

 

samandar shayari in hindi samandar par shayari

ai khuda ret ke sehara ko samandar kar de

ya chhalakate hue ankhon ko bhe patthar kar de

 

har ghade khud se ulajhana hai muqaddar mera

mai hi kashte hoon mujhe mein hai samandar

 

 

6 thoughts on “Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी”

  1. जिस प्रकार खिंची हुही लकीर को सुमंदर अपने पानी के बहाव से मिटाकर चला जाता हे,
    उसी प्रकार अपने प्यार को सुमंदर के पास लाओ गे तो प्यार में पड़ी हर दरार को वो अपने लहरो के सात ले जाये गा
    प्यार करने वालो को सुमंदर कहा जाता हे
    क्योंकी प्यार का सुमंदर बहुत गहरा हो ता है……..!!!

    Reply
  2. पहली दफा आज समुंद्र किनारे बैठा हूँ,
    जो गलतफमि थी वो दूर हो गई

    Reply
  3. वो दरिया पर क़ब्ज़ा जमा के बैठा है
    ये तिश्नगी कैसी है जो मिटती नहीं

    ©अभिषेक सिंह

    Reply

Leave a Comment