पृथ्वी से भी बड़े तूफान आते हैं शनि ग्रह पर

शनि ग्रह का तूफानों से भरा हुआ वायुमंडल

Saturn Atmosphere in hindi

अनोखा शनि ग्रह 75% हाइड्रोजन और 25% हिलियम का बना हुआ है शनि पर मीथेन और पानी भी अल्प मात्रा में पाए जाते हैं शनि का वायुमंडल लगभग  जुपिटर के वायुमंडल के जैसा ही है वैज्ञानिकों को जो अंतरिक्ष यान उसे चित्र प्राप्त हुए हैं उस में शनि ग्रह की भूमध्य रेखा के ऊपर बादलों की समानांतर रेखाएं  दिखाई देती है यह पट्टियां भयानक हवाओं के बहने से बनती है.

Saturn Atmosphere in hindi, shani ka vayumandal, shani grah ki jankari, shani aur prathvi

हमारे सौरमंडल में शनि एसा ग्रह है जहां पर बहुत तेज हवाएं चलती है इसकी भूमध्य रेखा पर हवाओं की रफ्तार  1800  किलोमीटर प्रति घंटा होती है शनि ग्रह के तूफान इतने बड़े होते हैं की पूरी पृथ्वी को अपने अंदर समा सकते हैं ऐसा एक भयानक तूफान नासा ने अपने हबल टेलीस्कोप से सन 1994 में देखा था यह तूफान सफेद रंग के दिखाई देते हैं शनि पर उठने वाले छोटे तूफान काले धब्बों के रूप में दिखाई देते हैं.

शनि के वायुमंडल के Troposphere क्षेत्र में बादल और बादलों की परतें पाई जाती है जहां तापमान कम होता है वहां यह बादल बूंदों के रूप में परिवर्तित होकर बरसने लगता है जैसा कि पृथ्वी पर होता है  शनि ग्रह के वायुमंडल Troposphere में तापमान माइनस 130 डिग्री सेल्सियस से प्लस 80 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है शनि ग्रह के ऊपर हमें जो बादल दिखाई देते हैं वह अमोनिया के बने हुए हैं इन बादलों के आसपास तापमान -250 डिग्री सेल्सियस होता है

इसके नीचे पाई जाने वाले बादल ammonium hydrosulphide  के बने हैं तथा इनका तापमान माइनस 70 डिग्री सेल्सियस तक होता है जैसे-जैसे हम नीचे जाते जाते हैं हाइड्रोजन गैस द्रव का रूप धारण करती जाती है और नीचे जाने पर हमें द्रव रूप में हिलियम गैस मिलती है. इससे और गहराई पर जाने पर हाइड्रोजन भयानक दबाव की वजह से लिक्विड मैटेलिक हाइड्रोजन का रूप ले लेती है

 पृथ्वी के वायुमंडल और शनि ग्रह के वायुमंडल की तुलना

अगर हम शनि ग्रह के वायुमंडल का पृथ्वी के वायुमंडल से तुलना करें तो हम देखेंगे कि शनि ग्रह में केवल हाइड्रोजन और हीलियम  गैसे प्रमुखता से पाई जाती है कि पृथ्वी के वायुमंडल में नाइट्रोजन  और ऑक्सीजन गैस पाई जाती है, पृथ्वी की ग्रीनहाउस गैसेस पृथ्वी के वायुमंडल को गर्म रखती है पृथ्वी के वायुमंडल में तापमान अलग-अलग परतों में बढ़ता घटता रहता है पृथ्वी के नजदीक यह  20 डिग्री सेल्सियस रहता है तथा मध्य मंडल में यह घटकर – 100 डिग्री सेल्सियस हो जाता है तथा और ऊपर जाने पर यह धीरे-धीरे बढ़ते बढ़ते 1500 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है.

Saturn Atmosphere in hindi, shani ka vayumandal, shani grah ki jankari, shani aur prathvi

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply