Shab Shayari शब और रात पर शायरी

Shab Shayari
Shab Shayari शब और रात पर शायरी

Shab Shayari

शब और रात पर शायरी

Shab means night, we are presenting in this blog post some sher based on shab, shab e firaq, shab e wasl, shab e tanhai, for our readers.

शब यानि रात, तन्हाई की रात, शब ए फिराक़, शब ए वस्ल, शब ए इंतज़ार के कुछ चुनिन्दा शेर हम इस ब्लॉग पोस्ट में प्रकाशित कर रहें हैं.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******************************

 

 

कहूँ किससे मैं कि क्या है शब-ए-ग़म बुरी बला है

मुझे क्या बुरा था मरना अगर एक बार होता।~ग़ालिब

***

तेरा पहलू तेरे दिल की तरह आबाद रहे,

तुझ पे गुज़रे न क़यामत शब-ए-तन्हाई की।

***

सफ़र तमाम करो अब कि सहर होती है

चराग़ ए आख़िर ए शब तुझको किसके नाम करूँ

***

जल उठीं दर्द की शम्में बुझ गया दिल का चाँद

शब ए फ़िराक़ की अब नज़्र सब कलाम करूँ

*** Shab Shayari

कितनी मुश्किल से मैंने ख़ुद को सुलाया कल शब,

अपनी आँखों को तेरे ख़्वाब का लालच दे कर

***

Shab Raat Status Pictures – Shab Raat dp Pictures – Shab Raat Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Shab Raat Status Pictures – Shab Raat dp Pictures – Shab Raat Shayari Pictures

जागती आँखों से भी देखो दुनिया को

ख़्वाबों का क्या है वो हर शब आते हैं

***

शब-ऐ-फुरकत का जागा हूं, ऐ फरिश्तों अब तो सोने दो

कभी होगी फुरसत तो कर लेना, हिसाब आहिस्ता आहिस्ता.

 

***

कब से हूँ क्या बताऊँ जहान-ए-ख़राब में

शब हाय हिज्र को भी रखूं गर हिसाब में ~ग़ालिब

***

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी

पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में

~ग़ालिब

***

दाग़-ए-फ़िराक़-ए-सोहबत-ए-शब की जली हुई

इक शम्मा रह गई है सो वो भी ख़मोश है

~ग़ालिब

*** Shab Shayari

जुल्मतकदे में मेरे शब-ऐ-ग़म का जोश है,

इक शम्मा है दलील-ए-सहर सो खामोश है.. ~ग़ालिब

***

सियाही जैसे गिर जावे दम-ए-तहरीर काग़ज़ पर

मिरी क़िस्मत में यूँ तस्वीर है शब-हा-ए-हिज्राँ की

***

तुम्हारे ख़ाब से हर शब लिपट के सोते हैं

सज़ाएं भेज दो, हमने ख़ताएँ भेजी हैं #Gulzar

***

तमाम शब जहाँ जलता है इक उदास दिया

हवा की राह में इक ऐसा घर भी आता है

***

गुलसिताँ का ज़र्रा ज़र्रा जाग उठे अंदलीब लुत्फ़ है

इस वक़्त तेरे नाला-ए-शब-गीर का ~हेंसन_रेहानी

*** Shab Shayari

इक तो शब-ए-फ़िराक़ के सदमे हैं जाँ-गुदाज़

अंधेर इस पे ये है कि होती सहर नहीं ~हैरत_इलाहाबादी

***

ये दिल में था कि आज शब बिताएँ अपने साथ हम

निकल-निकल के आ गई इबारतें किताब से … ~निश्तर_ख़ानक़ाही

***

हमें ख़बर है के हम हैं चराग़-ए-आख़िर-ए-शब

हमारे बाद अँधेरा नहीं उजाला है ~ज़हीर_कश्मीरी

***

मुझसे ही दिलबरी तुम करो मुझसे ही राब्ता रहे

मुझसे ही तेरी सहर हो मुझसे ही शब ढलने लगे

*** Shab Shayari

मैंने कल शब चाहतों कि सब क़िताबें फ़ाड़ दीं

सिर्फ इक कागज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-‘माँ’ रहने दिया..

***

शब-ए-फुर्कत इन्हें देखे से अपना जी बहलता है,

झलक है जल्वा-ए-यार की कुछ कुछ सितारों में

***

तुम आ सको तो शब को बढ़ा दो कुछ और भी,

अपने कहे में सुब्ह का तारा है इन दिनों!

*** Shab Shayari

याद का फिर कोई दरवाज़ा खुला आख़िरे-शब

दिल में बिख़री कोई ख़ुशबू-ए-क़बा आख़िरे-शब

***

कुछ बे-अदबी और शब-ए-वस्ल नहीं की

हाँ यार के रुख़्सार पे रुख़्सार तो रक्खा

***

तुम चले जाना शब-ए-वस्ल को ढल जाने दो

अपने तालिब की तबीयत तो बहल जाने दो

***

तेरी उम्मीद तेरा इंतज़ार जब से है

शब को दिन से शिकायत न दिन को शब से है

*** Shab Shayari

दिन गुज़ारा था बड़ी मुश्किल से

फिर तेरा वादा-ए-शब याद आया

***

 

तफ़्सील-ए-इनायात तो अब याद नहीं है

पर पहली मुलाक़ात की शब याद है मुझ को

***

मेरी शब-ए-तारीक का चेहरा हुआ रौशन

सूरज सा कोई शाम को महताब में डूबा

***

टूटी जो आस जल गये पलकों पे सौ चिराग़,

निखरा कुछ और रंग शब-ए-इंतज़ार का !!- मुमताज़ मिर्ज़ा

*** Shab Shayari

मैं तमाम दिन का थका हुआ, तू तमाम शब का जगा हुआ

ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर, तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ -Bashir badr

***

पलकों ने इतनी एड़ीयां रगड़ी शब-ए-फ़िराक़

ज़म ज़म तुम्हारी याद का जारी है आज भी

***

सितारों से उलझता जा रहा हूँ

शब-ए-फ़ुरक़त बहुत घबरा रहा हूँ

तेरे ग़म को भी कुछ बहला रहा हूँ

जहाँ को भी समझा रहा हूँ

*** Shab Shayari

तुम आये हो न शब ए इंतज़ार गुज़री है

तलाश में है सहर, बार बार गुज़री है

***

ज़िक्र-ए-शब-ए-विसाल हो क्या क़िस्सा मुख़्तसर

जिस बात से वो डरते थे वो बात हो गई !!

***

सामने उम्र पड़ी है शब-ए-तन्हाई की

वो मुझे छोड़ गया शाम से पहले पहले

***

जुस्तुजू खोए हुओं की उम्र-भर करते रहे ~

चाँद के हमराह हम हर शब सफ़र करते रहे!

***

शब-ए-तन्हाई-ए-फ़ुर्क़त में दिल से,

कुछ उस की गुफ़्तुगू है और मैं हूँ !!

*** Shab Shayari

उस शब का नुज़ूल हो रहा है जिस शब की सहर न मिल सकेगी

पूछोगे हर इक से हम कहाँ हैं और अपनी ख़बर न मिल सकेगी

***

शिकवा-ए-जुल्मते-शब से तो कहीं बेहतर था।।

अपने हिस्से की कोई शमअ जलाते जाते।।

***

किस नाज़ से कहते हैं वो झुंझला के शब-ए-वस्ल,

तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते…

***

इस शहर-ए-बे-चराग़ में जाएगी तू कहाँ,

आ ऐ शब-ए-फ़िराक़ तुझे घर ही ले चलें!

***

तुम भी हर शब दिया जला कर पलकों की दहलीज़ पर रखना

मैं भी रोज़ इक ख़्वाब तुम्हारे शहर की जानिब भेजूँगा

***

मिटा सकी न उन्हें रोज़ ओ शब की बारिश भी

दिलों पे नक़्श जो रंग-ए-हिना के रक्खे थे

*** Shab Shayari

लम्बी है बहुत आज की शब जागने वालो

और याद मुझे कोई कहानी भी नहीं है

***

शब-ए-इन्तज़ार की कशमकश न पूछ कैसे सहर हुई

कभी इक चिराग़ जला दिया कभी इक चिराग़ बुझा दिया.

***

है निस्फ-ए-शब वो दीवाना अभी तक घर नहीं आया

किसी से चाँदनी रातों का किस्सा छिड़ गया होगा

***

वादे की रात वो आए ही नहीं

उस शब की अब तक सुबह न हुई

***

ये एक शब की मुलाक़ात भी ग़नीमत है।।

किसे है कल की ख़बर थोड़ी दूर साथ चलो।। ~फ़राज़

*** Shab Shayari

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के

वो जा रहा है कोई शब ए ग़म गुज़ार के ~Faiz

***

न पूछो कि किस तरह ये शब गुज़ारी है

ग़म-ए-हिज्र से बेहाल होकर ज़िंदगी हारी है,

ताउम्र भटकता रहा है तन्हा अक्स मेरा ऐसे

अब तो बस आईने में नुमाया शख़्स से ही यारी है !…

*** Shab Shayari

 

ये नही इल्म के किस तरह करूंगा…

लेकिन बात ये तय है के इस शब को सहर करना है…

***

Search Tags

Shab Shayari, Shab Hindi Shayari, Shab Shayari, Shab whatsapp status, Shab hindi Status, Hindi Shayari on Shab, Shab whatsapp status in hindi, शब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शब, शब स्टेटस, शब व्हाट्स अप स्टेटस, शब पर शायरी, शब शायरी, शब पर शेर, शब की शायरी,


 

Shab shayari, raat shayari in hinglish

 

tera pahaloo tere dil ke tarah abad rahe,tujh pe guzare na qayamat shab-e-tanhae ke.**

safar tamam karo ab ki sahar hote haicharag e akhir e shab tujhako kisake nam karoon***

jal uthen dard ke shammen bujh gaya dil ka chandashab e firaq ke ab nazr sab kalam karoon***

shab shayarikitane mushkil se mainne khud ko sulaya kal shab,apane ankhon ko tere khvab ka lalach de kar***

jagate ankhon se bhe dekho duniya kokhvabon ka kya hai vo har shab ate hain***

shab-ai-furakat ka jaga hoon, ai farishton ab to sone dokabhe hoge furasat to kar lena, hisab ahista ahista.***

kab se hoon kya bataoon jahan-e-kharab menshab hay hijr ko bhe rakhoon gar hisab mein ~galib***

galib chhute sharab par ab bhe kabhe kabhepeta hoon roz-e-abr-o-shab-e-mahatab mein~galib***

dag-e-firaq-e-sohabat-e-shab ke jale hueik shamma rah gae hai so vo bhe khamosh hai~galib***

shab shayarijulmatakade mein mere shab-ai-gam ka josh hai,ik shamma hai dalel-e-sahar so khamosh hai.. ~galib***

siyahe jaise gir jave dam-e-taharer kagaz paramire qismat mein yoon tasver hai shab-ha-e-hijran ke***

tumhare khab se har shab lipat ke sote hainsazaen bhej do, hamane khataen bheje hain #gulzar***

tamam shab jahan jalata hai ik udas diyahava ke rah mein ik aisa ghar bhe ata hai***

gulasitan ka zarra zarra jag uthe andaleb lutf haiis vaqt tere nala-e-shab-ger ka ~hensan_rehane***

shab shayariik to shab-e-firaq ke sadame hain jan-gudazandher is pe ye hai ki hote sahar nahin ~hairat_ilahabade***

ye dil mein tha ki aj shab bitaen apane sath hamanikal-nikal ke a gae ibaraten kitab se … ~nishtar_khanaqahe***

hamen khabar hai ke ham hain charag-e-akhir-e-shabahamare bad andhera nahin ujala hai ~zaher_kashmere***

mujhase he dilabare tum karo mujhase he rabta rahemujhase he tere sahar ho mujhase he shab dhalane lage***

shab shayarimainne kal shab chahaton ki sab qitaben fad densirf ik kagaz pe likkha lafz-man rahane diya..***

shab-e-furkat inhen dekhe se apana je bahalata hai,jhalak hai jalva-e-yar ke kuchh kuchh sitaron mein***

tum a sako to shab ko badha do kuchh aur bhe,apane kahe mein subh ka tara hai in dinon!***

shab shayariyad ka fir koe daravaza khula akhire-shabadil mein bikhare koe khushaboo-e-qaba akhire-shab***

kuchh be-adabe aur shab-e-vasl nahin kehan yar ke rukhsar pe rukhsar to rakkha***

tum chale jana shab-e-vasl ko dhal jane doapane talib ke tabeyat to bahal jane do***

tere ummed tera intazar jab se hain shab ko din se shikayat na din ko shab se hai

***

shab shayaridin guzara tha bade mushkil sefir tera vada-e-shab yad aya***

tafsel-e-inayat to ab yad nahin haipar pahale mulaqat ke shab yad hai mujh ko***

mere shab-e-tarek ka chehara hua raushanasooraj sa koe sham ko mahatab mein dooba***

toote jo as jal gaye palakon pe sau chirag,nikhara kuchh aur rang shab-e-intazar ka !!- mumataz mirza***

shab shayarimain tamam din ka thaka hua, too tamam shab ka jaga huazara thahar ja ise mod par, tere sath sham guzar loon -bashir badr***

palakon ne itane edeyan ragade shab-e-firaqazam zam tumhare yad ka jare hai aj bhe***

sitaron se ulajhata ja raha hoonshab-e-furaqat bahut ghabara raha hoontere gam ko bhe kuchh bahala raha hoonjahan ko bhe samajha raha hoon***

shab shayaritum aye ho na shab e intazar guzare haitalash mein hai sahar, bar bar guzare hai***

zikr-e-shab-e-visal ho kya qissa mukhtasarajis bat se vo darate the vo bat ho gae !!***

samane umr pade hai shab-e-tanhae kevo mujhe chhod gaya sham se pahale pahale***

justujoo khoe huon ke umr-bhar karate rahe ~chand ke hamarah ham har shab safar karate rahe!***

shab-e-tanhae-e-furqat mein dil se,kuchh us ke guftugoo hai aur main hoon !!***

shab shayarius shab ka nuzool ho raha hai jis shab ke sahar na mil sakegepoochhoge har ik se ham kahan hain aur apane khabar na mil sakege***

shikava-e-julmate-shab se to kahen behatar tha..apane hisse ke koe sham jalate jate..***

kis naz se kahate hain vo jhunjhala ke shab-e-vasl,tum to hamen karavat bhe badalane nahin dete…***

is shahar-e-be-charag mein jaege too kahan,a ai shab-e-firaq tujhe ghar he le chalen!***

tum bhe har shab diya jala kar palakon ke dahalez par rakhanamain bhe roz ik khvab tumhare shahar ke janib bhejoonga***

mita sake na unhen roz o shab ke barish bhedilon pe naqsh jo rang-e-hina ke rakkhe the***

shab shayarilambe hai bahut aj ke shab jagane valoaur yad mujhe koe kahane bhe nahin hai***

shab-e-intazar ke kashamakash na poochh kaise sahar huekabhe ik chirag jala diya kabhe ik chirag bujha diya.***

hai nisf-e-shab vo devana abhe tak ghar nahin ayakise se chandane raton ka kissa chhid gaya hoga***

vade ke rat vo ae he nahenus shab ke ab tak subah na hue***

ye ek shab ke mulaqat bhe ganemat hai..kise hai kal ke khabar thode door sath chalo.. ~faraz***

shab shayaridonon jahan tere mohabbat mein har kevo ja raha hai koe shab e gam guzar ke ~faiz***

na poochho ki kis tarah ye shab guzare haigam-e-hijr se behal hokar zindage hare hai,taumr bhatakata raha hai tanha aks mera aiseab to bas aene mein numaya shakhs se he yare hai !…***

shab shayariye nahe ilm ke kis tarah karoonga…lekin bat ye tay hai ke is shab ko sahar karana hai…***

 

 

 

Leave a Comment