Shab Shayari शब और रात पर शायरी

Shab Shayari शब और रात पर शायरी

Shab Shayari
Shab Shayari शब और रात पर शायरी

Shab Shayari

शब और रात पर शायरी

Shab means night, we are presenting in this blog post some sher based on shab, shab e firaq, shab e wasl, shab e tanhai, for our readers.

शब यानि रात, तन्हाई की रात, शब ए फिराक़, शब ए वस्ल, शब ए इंतज़ार के कुछ चुनिन्दा शेर हम इस ब्लॉग पोस्ट में प्रकाशित कर रहें हैं.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******************************

 

 

कहूँ किससे मैं कि क्या है शब-ए-ग़म बुरी बला है

मुझे क्या बुरा था मरना अगर एक बार होता।~ग़ालिब

***

तेरा पहलू तेरे दिल की तरह आबाद रहे,

तुझ पे गुज़रे न क़यामत शब-ए-तन्हाई की।

***

सफ़र तमाम करो अब कि सहर होती है

चराग़ ए आख़िर ए शब तुझको किसके नाम करूँ

***

जल उठीं दर्द की शम्में बुझ गया दिल का चाँद

शब ए फ़िराक़ की अब नज़्र सब कलाम करूँ

*** Shab Shayari

कितनी मुश्किल से मैंने ख़ुद को सुलाया कल शब,

अपनी आँखों को तेरे ख़्वाब का लालच दे कर

***

जागती आँखों से भी देखो दुनिया को

ख़्वाबों का क्या है वो हर शब आते हैं

***

शब-ऐ-फुरकत का जागा हूं, ऐ फरिश्तों अब तो सोने दो

कभी होगी फुरसत तो कर लेना, हिसाब आहिस्ता आहिस्ता.

 

***

कब से हूँ क्या बताऊँ जहान-ए-ख़राब में

शब हाय हिज्र को भी रखूं गर हिसाब में ~ग़ालिब

***

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी

पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में

~ग़ालिब

***

दाग़-ए-फ़िराक़-ए-सोहबत-ए-शब की जली हुई

इक शम्मा रह गई है सो वो भी ख़मोश है

~ग़ालिब

*** Shab Shayari

जुल्मतकदे में मेरे शब-ऐ-ग़म का जोश है,

इक शम्मा है दलील-ए-सहर सो खामोश है.. ~ग़ालिब

***

सियाही जैसे गिर जावे दम-ए-तहरीर काग़ज़ पर

मिरी क़िस्मत में यूँ तस्वीर है शब-हा-ए-हिज्राँ की

***

तुम्हारे ख़ाब से हर शब लिपट के सोते हैं

सज़ाएं भेज दो, हमने ख़ताएँ भेजी हैं #Gulzar

***

तमाम शब जहाँ जलता है इक उदास दिया

हवा की राह में इक ऐसा घर भी आता है

***

गुलसिताँ का ज़र्रा ज़र्रा जाग उठे अंदलीब लुत्फ़ है

इस वक़्त तेरे नाला-ए-शब-गीर का ~हेंसन_रेहानी

*** Shab Shayari

इक तो शब-ए-फ़िराक़ के सदमे हैं जाँ-गुदाज़

अंधेर इस पे ये है कि होती सहर नहीं ~हैरत_इलाहाबादी

***

ये दिल में था कि आज शब बिताएँ अपने साथ हम

निकल-निकल के आ गई इबारतें किताब से … ~निश्तर_ख़ानक़ाही

***

हमें ख़बर है के हम हैं चराग़-ए-आख़िर-ए-शब

हमारे बाद अँधेरा नहीं उजाला है ~ज़हीर_कश्मीरी

***

मुझसे ही दिलबरी तुम करो मुझसे ही राब्ता रहे

मुझसे ही तेरी सहर हो मुझसे ही शब ढलने लगे

*** Shab Shayari

मैंने कल शब चाहतों कि सब क़िताबें फ़ाड़ दीं

सिर्फ इक कागज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-‘माँ’ रहने दिया..

***

शब-ए-फुर्कत इन्हें देखे से अपना जी बहलता है,

झलक है जल्वा-ए-यार की कुछ कुछ सितारों में

***

तुम आ सको तो शब को बढ़ा दो कुछ और भी,

अपने कहे में सुब्ह का तारा है इन दिनों!

*** Shab Shayari

याद का फिर कोई दरवाज़ा खुला आख़िरे-शब

दिल में बिख़री कोई ख़ुशबू-ए-क़बा आख़िरे-शब

***

कुछ बे-अदबी और शब-ए-वस्ल नहीं की

हाँ यार के रुख़्सार पे रुख़्सार तो रक्खा

***

तुम चले जाना शब-ए-वस्ल को ढल जाने दो

अपने तालिब की तबीयत तो बहल जाने दो

***

तेरी उम्मीद तेरा इंतज़ार जब से है

शब को दिन से शिकायत न दिन को शब से है

*** Shab Shayari

दिन गुज़ारा था बड़ी मुश्किल से

फिर तेरा वादा-ए-शब याद आया

***

 

तफ़्सील-ए-इनायात तो अब याद नहीं है

पर पहली मुलाक़ात की शब याद है मुझ को

***

मेरी शब-ए-तारीक का चेहरा हुआ रौशन

सूरज सा कोई शाम को महताब में डूबा

***

टूटी जो आस जल गये पलकों पे सौ चिराग़,

निखरा कुछ और रंग शब-ए-इंतज़ार का !!- मुमताज़ मिर्ज़ा

*** Shab Shayari

मैं तमाम दिन का थका हुआ, तू तमाम शब का जगा हुआ

ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर, तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ -Bashir badr

***

पलकों ने इतनी एड़ीयां रगड़ी शब-ए-फ़िराक़

ज़म ज़म तुम्हारी याद का जारी है आज भी

***

सितारों से उलझता जा रहा हूँ

शब-ए-फ़ुरक़त बहुत घबरा रहा हूँ

तेरे ग़म को भी कुछ बहला रहा हूँ

जहाँ को भी समझा रहा हूँ

*** Shab Shayari

तुम आये हो न शब ए इंतज़ार गुज़री है

तलाश में है सहर, बार बार गुज़री है

***

ज़िक्र-ए-शब-ए-विसाल हो क्या क़िस्सा मुख़्तसर

जिस बात से वो डरते थे वो बात हो गई !!

***

सामने उम्र पड़ी है शब-ए-तन्हाई की

वो मुझे छोड़ गया शाम से पहले पहले

***

जुस्तुजू खोए हुओं की उम्र-भर करते रहे ~

चाँद के हमराह हम हर शब सफ़र करते रहे!

***

शब-ए-तन्हाई-ए-फ़ुर्क़त में दिल से,

कुछ उस की गुफ़्तुगू है और मैं हूँ !!

*** Shab Shayari

उस शब का नुज़ूल हो रहा है जिस शब की सहर न मिल सकेगी

पूछोगे हर इक से हम कहाँ हैं और अपनी ख़बर न मिल सकेगी

***

शिकवा-ए-जुल्मते-शब से तो कहीं बेहतर था।।

अपने हिस्से की कोई शमअ जलाते जाते।।

***

किस नाज़ से कहते हैं वो झुंझला के शब-ए-वस्ल,

तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते…

***

इस शहर-ए-बे-चराग़ में जाएगी तू कहाँ,

आ ऐ शब-ए-फ़िराक़ तुझे घर ही ले चलें!

***

तुम भी हर शब दिया जला कर पलकों की दहलीज़ पर रखना

मैं भी रोज़ इक ख़्वाब तुम्हारे शहर की जानिब भेजूँगा

***

मिटा सकी न उन्हें रोज़ ओ शब की बारिश भी

दिलों पे नक़्श जो रंग-ए-हिना के रक्खे थे

*** Shab Shayari

लम्बी है बहुत आज की शब जागने वालो

और याद मुझे कोई कहानी भी नहीं है

***

शब-ए-इन्तज़ार की कशमकश न पूछ कैसे सहर हुई

कभी इक चिराग़ जला दिया कभी इक चिराग़ बुझा दिया.

***

है निस्फ-ए-शब वो दीवाना अभी तक घर नहीं आया

किसी से चाँदनी रातों का किस्सा छिड़ गया होगा

***

वादे की रात वो आए ही नहीं

उस शब की अब तक सुबह न हुई

***

ये एक शब की मुलाक़ात भी ग़नीमत है।।

किसे है कल की ख़बर थोड़ी दूर साथ चलो।। ~फ़राज़

*** Shab Shayari

दोनों जहान तेरी मोहब्बत में हार के

वो जा रहा है कोई शब ए ग़म गुज़ार के ~Faiz

***

न पूछो कि किस तरह ये शब गुज़ारी है

ग़म-ए-हिज्र से बेहाल होकर ज़िंदगी हारी है,

ताउम्र भटकता रहा है तन्हा अक्स मेरा ऐसे

अब तो बस आईने में नुमाया शख़्स से ही यारी है !…

*** Shab Shayari

 

ये नही इल्म के किस तरह करूंगा…

लेकिन बात ये तय है के इस शब को सहर करना है…

***

Search Tags

Shab Shayari, Shab Hindi Shayari, Shab Shayari, Shab whatsapp status, Shab hindi Status, Hindi Shayari on Shab, Shab whatsapp status in hindi, शब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शब, शब स्टेटस, शब व्हाट्स अप स्टेटस, शब पर शायरी, शब शायरी, शब पर शेर, शब की शायरी,


Hinglish

Shab shayari, raat shayari in hindi,

shab yaani raat, tanhaee kee raat, shab e phiraaq, shab e vasl, shab e intazaar ke kuchh chuninda sher ham is blog post mein prakaashit kar rahen hain. shab aur raat par shayari kahoon kisase main ki kya hai shab-e-gam buree bala haimujhe kya bura tha marana agar ek baar hota.~gaalib***

tera pahaloo tere dil kee tarah aabaad rahe,tujh pe guzare na qayaamat shab-e-tanhaee kee.**

safar tamaam karo ab ki sahar hotee haicharaag e aakhir e shab tujhako kisake naam karoon***

jal utheen dard kee shammen bujh gaya dil ka chaandashab e firaaq kee ab nazr sab kalaam karoon***

shab shayarikitanee mushkil se mainne khud ko sulaaya kal shab,apanee aankhon ko tere khvaab ka laalach de kar***

jaagatee aankhon se bhee dekho duniya kokhvaabon ka kya hai vo har shab aate hain***

shab-ai-phurakat ka jaaga hoon, ai pharishton ab to sone dokabhee hogee phurasat to kar lena, hisaab aahista aahista.***

kab se hoon kya bataoon jahaan-e-kharaab menshab haay hijr ko bhee rakhoon gar hisaab mein ~gaalib***

gaalib chhutee sharaab par ab bhee kabhee kabheepeeta hoon roz-e-abr-o-shab-e-maahataab mein~gaalib***

daag-e-firaaq-e-sohabat-e-shab kee jalee hueeik shamma rah gaee hai so vo bhee khamosh hai~gaalib***

shab shayarijulmatakade mein mere shab-ai-gam ka josh hai,ik shamma hai daleel-e-sahar so khaamosh hai.. ~gaalib***

siyaahee jaise gir jaave dam-e-tahareer kaagaz paramiree qismat mein yoon tasveer hai shab-ha-e-hijraan kee***

tumhaare khaab se har shab lipat ke sote hainsazaen bhej do, hamane khataen bhejee hain #gulzar***

tamaam shab jahaan jalata hai ik udaas diyaahava kee raah mein ik aisa ghar bhee aata hai***

gulasitaan ka zarra zarra jaag uthe andaleeb lutf haiis vaqt tere naala-e-shab-geer ka ~hensan_rehaanee***

shab shayariik to shab-e-firaaq ke sadame hain jaan-gudaazandher is pe ye hai ki hotee sahar nahin ~hairat_ilaahaabaadee***

ye dil mein tha ki aaj shab bitaen apane saath hamanikal-nikal ke aa gaee ibaaraten kitaab se … ~nishtar_khaanaqaahee***

hamen khabar hai ke ham hain charaag-e-aakhir-e-shabahamaare baad andhera nahin ujaala hai ~zaheer_kashmeeree***

mujhase hee dilabaree tum karo mujhase hee raabta rahemujhase hee teree sahar ho mujhase hee shab dhalane lage***

shab shayarimainne kal shab chaahaton ki sab qitaaben faad deensirph ik kaagaz pe likkha lafz-maan rahane diya..***

shab-e-phurkat inhen dekhe se apana jee bahalata hai,jhalak hai jalva-e-yaar kee kuchh kuchh sitaaron mein***

tum aa sako to shab ko badha do kuchh aur bhee,apane kahe mein subh ka taara hai in dinon!***

shab shayariyaad ka phir koee daravaaza khula aakhire-shabadil mein bikharee koee khushaboo-e-qaba aakhire-shab***

kuchh be-adabee aur shab-e-vasl nahin keehaan yaar ke rukhsaar pe rukhsaar to rakkha***

tum chale jaana shab-e-vasl ko dhal jaane doapane taalib kee tabeeyat to bahal jaane do***

teree ummeed tera intazaar jab se hain shab ko din se shikaayat na din ko shab se hai

***

shab shayaridin guzaara tha badee mushkil sephir tera vaada-e-shab yaad aaya***

tafseel-e-inaayaat to ab yaad nahin haipar pahalee mulaaqaat kee shab yaad hai mujh ko***

meree shab-e-taareek ka chehara hua raushanasooraj sa koee shaam ko mahataab mein dooba***

tootee jo aas jal gaye palakon pe sau chiraag,nikhara kuchh aur rang shab-e-intazaar ka !!- mumataaz mirza***

shab shayarimain tamaam din ka thaka hua, too tamaam shab ka jaga huaazara thahar ja isee mod par, tere saath shaam guzaar loon -bashir badr***

palakon ne itanee edeeyaan ragadee shab-e-firaaqazam zam tumhaaree yaad ka jaaree hai aaj bhee***

sitaaron se ulajhata ja raha hoonshab-e-furaqat bahut ghabara raha hoontere gam ko bhee kuchh bahala raha hoonjahaan ko bhee samajha raha hoon***

shab shayaritum aaye ho na shab e intazaar guzaree haitalaash mein hai sahar, baar baar guzaree hai***

zikr-e-shab-e-visaal ho kya qissa mukhtasarajis baat se vo darate the vo baat ho gaee !!***

saamane umr padee hai shab-e-tanhaee keevo mujhe chhod gaya shaam se pahale pahale***

justujoo khoe huon kee umr-bhar karate rahe ~chaand ke hamaraah ham har shab safar karate rahe!***

shab-e-tanhaee-e-furqat mein dil se,kuchh us kee guftugoo hai aur main hoon !!***

shab shayarius shab ka nuzool ho raha hai jis shab kee sahar na mil sakegeepoochhoge har ik se ham kahaan hain aur apanee khabar na mil sakegee***

shikava-e-julmate-shab se to kaheen behatar tha..apane hisse kee koee sham jalaate jaate..***

kis naaz se kahate hain vo jhunjhala ke shab-e-vasl,tum to hamen karavat bhee badalane nahin dete…***

is shahar-e-be-charaag mein jaegee too kahaan,aa ai shab-e-firaaq tujhe ghar hee le chalen!***

tum bhee har shab diya jala kar palakon kee dahaleez par rakhanaamain bhee roz ik khvaab tumhaare shahar kee jaanib bhejoonga***

mita sakee na unhen roz o shab kee baarish bheedilon pe naqsh jo rang-e-hina ke rakkhe the***

shab shayarilambee hai bahut aaj kee shab jaagane vaaloaur yaad mujhe koee kahaanee bhee nahin hai***

shab-e-intazaar kee kashamakash na poochh kaise sahar hueekabhee ik chiraag jala diya kabhee ik chiraag bujha diya.***

hai nisph-e-shab vo deevaana abhee tak ghar nahin aayaakisee se chaandanee raaton ka kissa chhid gaya hoga***

vaade kee raat vo aae hee naheenus shab kee ab tak subah na huee***

ye ek shab kee mulaaqaat bhee ganeemat hai..kise hai kal kee khabar thodee door saath chalo.. ~faraaz***

shab shayaridonon jahaan teree mohabbat mein haar kevo ja raha hai koee shab e gam guzaar ke ~faiz***

na poochho ki kis tarah ye shab guzaaree haigam-e-hijr se behaal hokar zindagee haaree hai,taumr bhatakata raha hai tanha aks mera aiseab to bas aaeene mein numaaya shakhs se hee yaaree hai !…***

shab shayariye nahee ilm ke kis tarah karoonga…lekin baat ye tay hai ke is shab ko sahar karana hai…***

search tags  shab shayari, shab hindi shayari, shab shayari, shab whatsapp status, shab hindi status, hindi shayari on shab, shab whatsapp status in hindi, shab hindee shayari, hindee shayari, shab, shab stetas, shab vhaats ap stetas, shab par shayari, shab shayari, shab par sher, shab kee shayari,

 

Leave a Reply