Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी
Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

Sharab Shayari in Hindi

शराब और मय पर शायरी

दोस्तों “मय” और “शराब” पर शेर ओ शायरी का एक मज़ेदार संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “मय” और “शराब” के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “मय” और “शराब” शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

राज़-ए-तख़लीक-ए-ग़ज़ल हम को है मालूम ‘नसीम’

जाम हो मय हो सनम हो तो ग़ज़ल होती है

~नसीम शाहजहाँपुरी

 

ग़म-ए-इश्क़ में मज़ा था जो उसे समझ के खाते,

ये वो ज़हर है कि आख़िर मय-ए-ख़ुश-गवार होता !! – दाग़ देहलवी

 

मीर इन नीम बाज आखों में

सारी मस्ती शराब की सी है।

 

तुम्हारी नीम निगाही में न जाने क्या था

शराब सामने आयी तो फैंक दी मैंने

 

तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर

चदं बच्चे शराब खाने में।

 

वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए

खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए

~नरेश कुमार ‘शाद’

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

पड़ा है अक्स जो रूख़्सार-ए-शोला-ए-मय का

तो आईने तेरी यादों के जगमगाए हैं

~ख़ुर्शीद अहमद ज़ामी

 

मेरे इत्तक़ा का बाइस, तु है मेरी नातवानी

जो में तौबा तोड़ सकता, तो शराब ख़ार होता

~अमीर मीनाई

 

तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई

मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ!!

 

ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफ़साना,

ना पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना !!

 

एसी शराब पी है कि इक दिन मेरा निशां

मस्जिद में खानकाह में ढूँढा करेंगे लोग।

 

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी

पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में

~ग़ालिब

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

अगले वक्तों हैं ये लोग इन्हें कुछ न कहो

जो मय वो नगमें को अनदोहे रूबा कहते हैं।~Ghalib

 

देना वो उसका सागर व मय याद है निजाम

मुह फेर कर उधर को इधर को बढा के हाथ।

 

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार

ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है~ग़ालिब

 

होकर ख़राब-ए-मय तेरे ग़म तो भुला दिये

लेकिन ग़म-ए-हयात का दरमाँ न कर सके~साहिर

 

रूह किस मस्त की प्यासी गयी मयखाने से

मय उड़ी जाती है साक़ी तेरे पैमाने से

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

आज इतनी पिला साकी के मैकदा डुब जाए

तैरती फिरे शराब में कश्ती फकीर की

 

नशा-ए-मय से कभी प्यास बुझी है दिल की,

तश्नगी और बढ़ा लाए खराबात से हम !!

 

बस एक इतनी वजह है मेरे न पीने की

शराब है वही साक़ी मगर गिलास नहीं

 

आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,

उसके बाद आये तो अज़ाब आये,

बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,

दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये।

 

शराब पीने से काफ़िर हुआ मैं क्यूं,

क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया !!

 

ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफ़साना,

ना पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना !!

 

मय-ख़ाना-ए-हस्ती में मय-कश वही मय-कश है,

सँभले तो बहक जाए बहके तो सँभल जाए !!

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

अब तो ज़ाहिद भी ये कहता है बड़ी चूक हुई,

जाम में थी मय-ए-कौसर मुझे मालूम न था !!

 

पहले सागर से तो छलके मय-ए-गुलफाम का रंग,

सुबह के रंग में ढल जाएगा खुद शाम का रंग !!

 

टूटे हुए पैमाने बेकार सही लेकिन,

मय-ख़ाने से ऐ साक़ी बाहर तो न फेंका कर !!

 

मय-ख़ाना सलामत है तो हम सुर्ख़ी-मय से,

तज़ईन-ए-दर-ओ-बाम-ए-हरम करते रहेंगे !!

 

तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़ सा तारी

तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है

 

नशा-ए-मय से कभी प्यास बुझी है दिल की,

तश्नगी और बढ़ा लाए खराबात से हम !!

 

उन्हीं के हिस्से में आती है ये प्यास अक्सर,

जो दूसरों को पिलाकर शराब पीते हैं !!

 

सागरे-चश्म से हम बादापरस्त

मय-ए-दीदार पिया करते हैं!!

 

मिले तो बिछड़े हुए मय-कदे के दर पे मिले,

न आज चाँद ही डूबे न आज रात ढले !!

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

तेरी क़िस्मत ही में ज़ाहिद मय नहीं

शुक्र तो मजबूरियों का नाम है !!

 

साबित हुआ है गर्दन-ए-मीना पे ख़ून-ए-ख़ल्क़,

लरज़े है मौज-ए-मय तेरी रफ़्तार देख कर !!

 

निगाह-ए-साक़ी से पैहम छलक रही है शराब,

पिओ की पीने-पिलाने की रात आई है !!

 

टूटे तेरी निगाह से अगर दिल हबाब का

पानी भी फिर पिएं तो मज़ा दे शराब का

 

वा हो रही है मय-कदा-ए-नीम-शब की आँख

अंगड़ाई ले रहा है जहाँ देखते चलें !! -मख़दूम मुहिउद्दीन

 

कौन है जिसने मय नही चक्खी

कौन झूठी क़सम उठाता है,

मयकदे से जो बच निकलता है

तेरी आँखों में डूब जाता है !!

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

इक सिर्फ़ हमीं मय को आँखों से पिलाते हैं

कहने को तो दुनिया में मयख़ाने हज़ारों हैं!!-शहरयार

 

ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफ़साना,

ना पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना !!

 

रह गई जाम में अंगड़ायाँ लेके शराब,

हम से माँगी न गई उन से पिलाई न गई !!

 

इक धड़कता हुआ दिल, एक छलकता हुआ जाम,

यही ले आते हैं मयनोश को मयख़ाने में…

 

ना गुल खिले हैं, ना उन से मिले, ना मय पी है,

अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~faiz

 

खुद ही सरशार-ए-मय-ए-उल्फत नहीं होना ‘असर’,

इससे भर-भर कर दिलों के जाम छलकाना भी है !!-असर लखनवी

 

क्यों मय-कदय में बैठ कर बनते हो पारसा,

नज़रें बता रहीं हें के नीयत ख़राब है !! -अमीर मिनाई

 

मय-ख़ाना-ए-हस्ती में मय-कश वही मय-कश है,

सँभले तो बहक जाए, बहके तो सँभल जाए !!

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

हमने होश संभाला तो संभाला तुमको

तुमने होश संभाला तो संभलने न दिया

 

तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़-सा तारी,

तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है.!!

 

‘हाली’ नशात-ए-नग़मा-ओ-मय ढूंढते हो अब

आये हो वक़्त-ए-सुबह..रहे रात भर कहाँ

 

किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का,

जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है !!

 

मय बरसती है फ़ज़ाओं पे नशा तारी है,

मेरे साक़ी ने कहीं जाम उछाले होंगे !!

 

मय में वह बात कहां जो तेरे दीदार में है,

जो गिरा फिर न उसे कभी संभलते देखा ।

~मीर_तकी_मीर

 

उनकी आंखें यह कहती रहती हैं

लोग नाहक शराब पीते हैं!

 

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,

चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !!

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़ सा तारी,

तुम्हारा ज़िक्र भी जाम-ए-शराब जैसा है !!

 

हम तो समझे थे के बरसात में बरसेगी शराब

आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया !!

 

तुम्हारी आँख की तौहीन है जरा सोचो

तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है!

 

मय बरसती है फिजा़अों पे नशा तारी है

मेरे साकी ने कहीं जाम उछाले होंगे!

 

मय भी है मीना भी है सागर भी है साकी नही

जी मे आता है लगा दें आग मयखाने को ह

 

तसव्वुर अर्श पर है और सर है पा-ए-साक़ी पर,

गर्ज़ कुछ और धुन में इस घड़ी मय-ख़्वार बैठे हैं

दारु चढ के उतर जाती है

पैसा चढ जाये तो उतरता नही

आप अपने नशे में जीते है

हम जरा सी शराब पीते है..

-गुलज़ार

 

शोखियों में घोला जाये फूलों का शबाब

उस में फिर मिलाई जाये थोड़ीसी शराब

होगा यूँ नशा जो तैय्यार वो प्यार हैं

-नीरज

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम

साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में.!!

 

मय में वह बात कहां जो तेरे दीदार में है,

जो गिरा फिर न उसे कभी संभलते देखा ।

-मीर तकी मीर

 

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’

तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..!

-मिर्ज़ा ग़ालिब

 

कयामतके आने में रिंदो को शक था

जो देखा तो वाइज चले आ रहे है

बहारों में भी मय से परहेज है तौबा

‘ख़ुमार’आप काफ़िर हुए जा रहे है..

ख़ुमार बंकवी

 

बे पिए ही शराब से नफ़रत

ये जहालत नही तो और क्या है..?

-साहिर लुधियानवी

 

अच्छों को बुरा साबित करना

दुनिया की पुरानी आदत है

इस मय को मुबारक चीज़ समझ

माना की बहुत बदनाम है ये

-साहीर लुधीयानवी

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

इक सिर्फ हम ही मय कों आँखों से पिलाते है,

कहने को तो दुनिया में मयखाने हजारे है..!(उमराव-ओ-जान)

-शहरयार

 

मिले ग़म से अपने फ़ुर्सत तो सुनाऊँ वो फ़साना

कि टपक पड़े नज़र से मय-ए-इश्रत-ए-शबाना

~मुइन अहसन

 

आमाल मुझे अपने उस वक़्त नज़र आए

जिस वक़्त मेरा बेटा घर पी के शराब आया.!!

 

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी

पीता हूँ रोज़ अब्र शबे-महताब में..!!

 

कभी मौक़ा लगे, कड़वे दो घूँट चख लेना

ज़रा तेरे लिये शराब छोड़ आए हैं.!!

 

गज़लें अब तक शराब पीती थीं।।

नीम का रस पिला रहे हैं हम….?

 

उस शख्स पर शराब का पीना हराम है।।

जो रहके मैक़दे में भी इन्सां न हो सका..!!

 

ज़ाहिद शराब पीने से , क़ाफ़िर हुआ मैं क्यों।।

क्या डेढ़ चुल्लू पानी में , ईमान बह गया….!!

 

Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी

तुम्हारी आँखों की तौहीन है, ज़रा सोचो

तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है

 

Search Tags

Sharab Shayari in Hindi, Sharab Hindi Shayari, Sharab Shayari, Sharab whatsapp status, Sharab hindi Status, Hindi Shayari on Sharab, Sharab whatsapp status in hindi,

 May Shayari in Hindi, May Hindi Shayari, May Shayari, May whatsapp status, May hindi Status, Hindi Shayari on May, May whatsapp status in hindi,

शराब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शराब स्टेटस, शराब व्हाट्स अप स्टेटस,शराब पर शायरी, शराब शायरी, शराब पर शेर, शराब की शायरी

 मय हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मय स्टेटस, मय व्हाट्स अप स्टेटस,मय पर शायरी, मय शायरी, मय पर शेर, मय की शायरी


Hinglish

Sharab Shayari in Hindi

शराब और मय पर शायरी

sharab shayari in hindisharaab aur may par shaayaridoston “may” aur “sharaab” par sher o shaayari ka ek mazedaar sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummid hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “may” aur “sharaab” ke baare mein zajbaat jaan sakenge. agar aapake paas bhi “may” aur “sharaab” shaayari ka koi achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhi vishayon par hindi shaayari ki list yahaan hai.****************************************************

raaz-e-takhalik-e-gazal ham ko hai maaloom ‘nasim’jaam ho may ho sanam ho to gazal hoti hai~nasim shaahajahaanpurigam-e-ishq mein maza tha jo use samajh ke khaate,ye vo zahar hai ki aakhir may-e-khush-gavaar hota !! –

daag dehalavimir in nim baaj aakhon mensaari masti sharaab ki si hai.tumhaari nim nigaahi mein na jaane kya thaasharaab saamane aayi to phaink di mainnetabasara kar rahe hain duniya parachadan bachche sharaab khaane mein.vo sahan-e-baag mein aae hain may-kashi ke liekhuda kare ke har ik phool jaam ho jae~naresh kumaar ‘shaad’sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayaripada hai aks jo rookhsaar-e-shola-e-may kaato aaine teri yaadon ke jagamagae hain~

khurshid ahamad zaamimere ittaqa ka bais, tu hai meri naatavaanijo mein tauba tod sakata, to sharaab khaar hota~amir minaiteri nigaah thi saaqi ki maikada tha koimain kis firaak mein sharminda-e-sharaab hua!!zabaan kahane se ruk jae vahi dil ka hai afasaana,na poochho may-kashon se kyon chhalak jaata hai paimaana !!

esi sharaab pi hai ki ik din mera nishaammasjid mein khaanakaah mein dhoondha karenge log.gaalib chhuti sharaab par ab bhi kabhi kabhipita hoon roz-e-abr-o-shab-e-maahataab mein~gaalibasharab shayari in hindi

sharaab aur may par shaayariagale vakton hain ye log inhen kuchh na kahojo may vo nagamen ko anadohe rooba kahate hain.~ghalibdena vo usaka saagar va may yaad hai nijaamamuh pher kar udhar ko idhar ko badha ke haath.piyoon sharaab agar khum bhi dekh loon do chaaraye shisha-o-qadah-o-kooza-o-suboo kya hai~gaalibahokar

kharaab-e-may tere gam to bhula diyelekin gam-e-hayaat ka daramaan na kar sake~saahirarooh kis mast ki pyaasi gayi mayakhaane semay udi jaati hai saaqi tere paimaane sesharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayariaaj itani pila saaki ke maikada dub jaetairati phire sharaab mein kashti phakir kinasha-e-may se kabhi pyaas bujhi hai dil ki,tashnagi aur badha lae kharaabaat se ham !!bas ek itani vajah hai mere na pine kisharaab hai vahi saaqi magar gilaas nahinaaye kuchh abr kuchh sharaab aaye,usake baad aaye to azaab aaye,baam-i-minha se mahataab utare,dast-e-saaqi mein aafataab aaye.sharaab pine se kaafir hua main kyoon,kya dedh chulloo paani mein imaan bah gaya !!

zabaan kahane se ruk jae vahi dil ka hai afasaana,na poochho may-kashon se kyon chhalak jaata hai paimaana !!may-khaana-e-hasti mein may-kash vahi may-kash hai,sanbhale to bahak jae bahake to sanbhal jae !!sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayariab to zaahid bhi ye kahata hai badi chook hui,jaam mein thi may-e-kausar mujhe maaloom na tha !!pahale saagar se to chhalake may-e-gulaphaam ka rang,subah ke rang mein dhal jaega khud shaam ka rang !!toote hue paimaane bekaar sahi lekin,may-khaane se ai saaqi baahar to na phenka kar !!

may-khaana salaamat hai to ham surkhi-may se,tazin-e-dar-o-baam-e-haram karate rahenge !!tumhen jo sochen to hota hai kaif sa taaritumhaara zikr bhi jaame-sharaab jaisa hainasha-e-may se kabhi pyaas bujhi hai dil ki,tashnagi aur badha lae kharaabaat se ham !!unhin ke hisse mein aati hai ye pyaas aksar,jo doosaron ko pilaakar sharaab pite hain !!saagare-chashm se ham baadaaparastamay-e-didaar piya karate hain!!mile to bichhade hue may-kade ke dar pe mile,na aaj chaand hi doobe na aaj raat dhale !!sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayariteri qismat hi mein zaahid may nahinshukr to majabooriyon ka naam hai !!

saabit hua hai gardan-e-mina pe khoon-e-khalq,laraze hai mauj-e-may teri raftaar dekh kar !!nigaah-e-saaqi se paiham chhalak rahi hai sharaab,pio ki pine-pilaane ki raat aai hai !!toote teri nigaah se agar dil habaab kaapaani bhi phir pien to maza de sharaab kaava ho rahi hai may-kada-e-nim-shab ki aankhangadai le raha hai jahaan dekhate chalen !! -makhadoom muhiuddina

kaun hai jisane may nahi chakkhikaun jhoothi qasam uthaata hai,mayakade se jo bach nikalata haiteri aankhon mein doob jaata hai !!sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayariik sirf hamin may ko aankhon se pilaate hainkahane ko to duniya mein mayakhaane hazaaron hain!!-shaharayaarazabaan kahane se ruk jae vahi dil ka hai afasaana,na poochho may-kashon se kyon chhalak jaata hai paimaana !!

rah gai jaam mein angadaayaan leke sharaab,ham se maangi na gai un se pilai na gai !!ik dhadakata hua dil, ek chhalakata hua jaam,yahi le aate hain mayanosh ko mayakhaane mein…na gul khile hain, na un se mile, na may pi hai,ajib rang mein abake bahaar guzari hai.~faiz

khud hi sarashaar-e-may-e-ulphat nahin hona asar,isase bhar-bhar kar dilon ke jaam chhalakaana bhi hai !!-asar lakhanavikyon may-kaday mein baith kar banate ho paarasa,nazaren bata rahin hen ke niyat kharaab hai !! -amir minaimay-khaana-e-hasti mein may-kash vahi may-kash hai,sanbhale to bahak jae, bahake to sanbhal jae !!sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayarihamane hosh sambhaala to sambhaala tumakotumane hosh sambhaala to sambhalane na diyaatumhen jo sochen to hota hai kaif-sa taari,tumhaara zikr bhi jaame-sharaab jaisa hai.!!

haali nashaat-e-nagama-o-may dhoondhate ho abaaye ho vaqt-e-subah..rahe raat bhar kahaankisi pyaale se poochha hai suraahi ne sabab may ka,jo khud behosh ho vo kya bataaye hosh kitana hai !!may barasati hai fazaon pe nasha taari hai,mere saaqi ne kahin jaam uchhaale honge !!may mein vah baat kahaan jo tere didaar mein hai,jo gira phir na use kabhi sambhalate dekha .~mir_taki_mirunaki aankhen yah kahati rahati hainlog naahak sharaab pite hain!ik nau-bahaar-e-naaz ko taake hai phir nigaah,chehara phurog-e-may se gulistaan kiye hue !!sharab

sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayaritumhen jo sochen to hota hai kaif sa taari,tumhaara zikr bhi jaam-e-sharaab jaisa hai !!ham to samajhe the ke barasaat mein barasegi sharaabai barasaat to barasaat ne dil tod diya !!tumhaari aankh ki tauhin hai jara sochotumhaara chaahane vaala sharaab pita hai!may barasati hai phijaaon pe nasha taari haimere saaki ne kahin jaam uchhaale honge!may bhi hai mina bhi hai saagar bhi hai saaki nahiji me aata hai laga den aag mayakhaane ko hatasavvur arsh par hai aur sar hai pa-e-saaqi par,garz kuchh aur dhun mein is ghadi may-khvaar baithe haindaaru chadh ke utar jaati haipaisa chadh jaaye to utarata nahiaap apane nashe mein jite haiham jara si sharaab pite hai..-gulazaarashokhiyon mein ghola jaaye phoolon ka shabaabus mein phir milai jaaye thodisi sharaabahoga yoon nasha jo taiyyaar vo pyaar hain-nirajasharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayarimujh tak kab unaki bazm mein aata tha daur-e-jaamasaaqi ne kuchh mila na diya ho sharaab mein.!!may mein vah baat kahaan jo tere didaar mein hai,jo gira phir na use kabhi sambhalate dekha .-mir taki miratoo ne kasam may-kashi ki khai hai gaalibteri kasam ka kuchh etibaar nahi hai..!-mirza gaalibakayaamatake aane mein rindo ko shak thaajo dekha to vaij chale aa rahe haibahaaron mein bhi may se parahej hai taubakhumaaraap kaafir hue ja rahe hai..khumaar bankavibe pie hi sharaab se nafarataye jahaalat nahi to aur kya hai..?-saahir ludhiyaanavi

achchhon ko bura saabit karanaaduniya ki puraani aadat haiis may ko mubaarak chiz samajhamaana ki bahut badanaam hai ye-saahir ludhiyaanavisharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayariik sirph ham hi may kon aankhon se pilaate hai,kahane ko to duniya mein mayakhaane hajaare hai..!(umaraav-o-jaan)-shaharayaaramile gam se apane fursat to sunaoon vo fasaanaaki tapak pade nazar se may-e-ishrat-e-shabaana~muin ahasanaamaal mujhe apane us vaqt nazar aaejis vaqt mera beta ghar pi ke sharaab aaya.!!gaalib chhuti sharaab par ab bhi kabhi-kabhipita hoon roz abr shabe-mahataab mein..!!

kabhi mauqa lage, kadave do ghoont chakh lenaazara tere liye sharaab chhod aae hain.!!gazalen ab tak sharaab piti thin..nim ka ras pila rahe hain ham….?us shakhs par sharaab ka pina haraam hai..jo rahake maiqade mein bhi insaan na ho saka..!!zaahid sharaab pine se , qaafir hua main kyon..kya dedh chulloo paani mein , imaan bah gaya….!!

sharab shayari in hindi sharaab aur may par shaayaritumhaari aankhon ki tauhin hai, zara sochotumhaara chaahane vaala sharaab pita hai

 

 

 

 

3 thoughts on “Sharab Shayari in Hindi शराब और मय पर शायरी”

  1. पीने दे शराब मस्जिद में बैठकर वरना वह जगह बता जहां खुदा नहीं यह शायरी किसकी है कृपया बताएं

    Reply

Leave a Comment