Shayari on Gurur Gurur Shayari

Shayari on Gurur Gurur Shayari

गुरुर शायरी – गुरूर पर शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Gurur, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Gurur Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Gurur is excellent in expressing your emotions and love. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

गुरूर पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस गुरूर हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। गुरूर पर हिंदी के यह शेर, आपकी भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं। गुरूर पर शायरी का यहाँ सबसे अच्छा कलेक्शन है.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

******

जानता किस तरह कि क्या है ग़ुरूर

वो जो उठकर गिरा नहीं होता

~दरवेश भारती

 

शाम-ए-फ़िराक़ आई तो दिल डूबने लगा

हम को भी अपने आप पे कितना ग़ुरूर था

~मुनीर नियाज़ी

 

फिर वही दिल की गुज़ारिश, फिर वही उनका ग़ुरूर,

फिर वही उनकी शरारत, फिर वही मेरा कुसूर …

 

‏इक बे-लिबास अना का बस हाशिया हो तुम,

किस ज़ोम-ए-ख़ुदी पर तुम्हें इतना ग़ुरूर है !!

 

नीची रक़ीब से न हुई आँख उम्र भर,

झुकता मैं क्या नज़र में तुम्हारा ग़रूर था !! -‘अमीर’ मिनाई

 

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए

साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

~मिर्ज़ा ग़ालिब Shayari on Gurur

 

चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है आँखों में सुरूर आ जाता है

जब तुम मुझे अपना कहते हो अपने पे ग़ुरूर आ जाता है

 

सँभल के चलने का सारा ग़ुरूर टूट गया

इक ऐसी बात कही उस ने लड़खड़ाते हुए

 

जिन सफ़ीनों ने कभी तोड़ा था मौजों का ग़ुरूर

उस जगह डूबे जहाँ दरिया में तुग़्यानी न थी

 

अल्लाह रक्खे उस का सलामत ग़ुरूर-ए-हुस्न

आँखों को जिस ने दी है सज़ा इंतिज़ार की

 

नीची रक़ीब से न हुई आँख उम्र भर,

झुकता मैं क्या, नज़र में तुम्हारा ग़रूर था !!

किस काम के रहे जो किसी से रहा न काम

सर है मगर ग़ुरूर का सामाँ नहीं रहा

Shayari on Gurur

 

बहुत ग़ुरूर है तुझ को ऐ सर-फिरे तूफ़ाँ

मुझे भी ज़िद है की दरिया को पार करना है

 

जिन सफ़ीनों ने कभी तोड़ा था मौजों का ग़ुरूर

उस जगह डूबे जहाँ दरिया में तुग़्यानी न थी #Manzur

 

हवा में फिरते हो क्या हिर्स और हवा के लिए

ग़ुरूर छोड़ दो ऐ ग़ाफ़िलो ख़ुदा के लिए

Bahadur Shah Zafar  Shayari on Gurur

 

————–

Hinglish Font me Gurur Shayari, Shayari on Gurur

guroor par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is guroor hindi shayari ko apane hindi vahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behatarin hindi shayari ko apane doston ko phesabuk par bhi bhej sakaten hain. guroor par hindi ke yah sher, apaki bhavanaon ko vyakt karane mein apaki madad kar sakaten hain. guroor par shayari ka yahan sabase achchha kalekshan hai.

sabhi hindi shayari ki list yahan hain. hindi shayari

******

janata kis tarah ki kya hai gurur

vo jo uthakar gira nahin hota

~daravesh bharati

 

sham-e-firaq ai to dil dubane laga

ham ko bhi apane ap pe kitana gurur tha

~munir niyazi

 

phir vahi dil ki guzarish, phir vahi unaka gurur,

phir vahi unaki shararat, phir vahi mera kusur …

 

‏ik be-libas ana ka bas hashiya ho tum,

kis zom-e-khudi par tumhen itana gurur hai !!

 

nichi raqib se na hui ankh umr bhar,

jhukata main kya nazar mein tumhara garur tha !! -amir minai

 

aina dekh apana sa munh le ke rah gae

sahab ko dil na dene pe kitana gurur tha

~mirza galib

 

chehare pe khushi chha jati hai ankhon mein surur a jata hai

jab tum mujhe apana kahate ho apane pe gurur a jata hai

 

sanbhal ke chalane ka sara gurur tut gaya

ik aisi bat kahi us ne ladakhadate hue

 

jin safinon ne kabhi toda tha maujon ka gurur

us jagah dube jahan dariya mein tugyani na thi

 

allah rakkhe us ka salamat gurur-e-husn

ankhon ko jis ne di hai saza intizar ki

Shayari on Gurur

 

nichi raqib se na hui ankh umr bhar,

jhukata main kya, nazar mein tumhara garur tha !!

kis kam ke rahe jo kisi se raha na kam

sar hai magar gurur ka saman nahin raha

 

bahut gurur hai tujh ko ai sar-phire tufan

mujhe bhi zid hai ki dariya ko par karana hai

 

jin safinon ne kabhi toda tha maujon ka gurur

us jagah dube jahan dariya mein tugyani na thi #manzur

 

hava mein phirate ho kya hirs aur hava ke lie

gurur chhod do ai gafilo khuda ke lie

bahadur shah zafar

 

*****

Search Tags

Gurur Shayari, Gurur Hindi Shayari, Gurur Shayari, Gurur whatsapp status, Gurur hindi Status, Hindi Shayari on Gurur, Gurur whatsapp status in hindi,

गुरूर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, गुरूर, गुरूर स्टेटस, गुरूर व्हाट्स अप स्टेटस, गुरूर पर शायरी, गुरूर शायरी, गुरूर पर शेर, गुरूर की शायरी,

घमंड हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, किताबों, घमंड स्टेटस, घमंड व्हाट्स अप स्टेटस, घमंड पर शायरी, घमंड शायरी, घमंडपर शेर, घमंड की शायरी,