Rukhsar Shayari in Hindi रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

Rukhsar Shayari in Hindi रुखसार गालों पर हिंदी शायरी
Rukhsar Shayari in Hindi रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

Rukhsar Shayari in Hindi

रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

 

हसीन रुखसार और गालों पर श्रृंगार रस में डूबी हुई कुछ मादक हिंदी और उर्दू शायरी

Hindi and Urdu Poetry Shayari on Rukhsar. (List of all Topics)

 

 

उनके रुखसार पर ढलकते हुए आँसू तौबा,

मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा !!

****

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी वो फूल बन जाए तो कभी रुखसार बन जाए

***

बड़ी इतराती फिरती थी वो अपने हुस्न-ऐ-रुखसार पर

मायूस बैठी है जबसे देखि है तस्वीर कार्ड-ऐ-आधार पर

***

समेट लो भूली बिसरी यादें अपनी

सूखे पेड़ की टहनियों सी बेजान लगती हैं

चाँद के रुखसार पे खराशें पड़ती है इनसे

***

देखकर तुझे वो मेरे रुखसार पर रुके है___

मुद्दतो बाद नज़ाकत से अश्क़ उतरे है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

 

छेड़ती हैं कभी लब को कभी तेरे रुखसार को जालिम

तुने अपनी जुल्फो को बड़ा सिर पर चड़ा रक्खा है

***

ये रुखसार पीले से लगते हैं ना

उदासी की हल्दी है हट जाएगी

तमन्ना की लाली को पकने तो दो

ये पतझड़ की छाँव छंट जाएगी”. Gulzar

***

अब मैं समझा तेरे रुखसार पे तिल का मतलब,

दौलत-ए-हुस्न पे दरबान बैठा रखा है.

***

सीख मुझसे आतिश- फिशां में गुल- फिशां होना

युहीं नही रुखसार पे तजल्ली ओ जलाल आता है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

जिन्दगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है

जुल्फ-ओ-रुखसार की जन्नत ही नहीं कुछ और भी है ।।।

***

 

हुज़ूर आरिज़ ओ रुखसार क्या तमाम बदन

मेरी सुनो तो मुजस्सिम गुलाब हो जाये।

***

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी जो फूल बन जाये कभी रुखसार हो जाये

***

क्यूँ पोंछते हो रुखसार से अरक को बार बार ,

शबनम के क़त्रे से गुलों में और निखार आता है !

**

आँसुओं में डूबा उनका चेहरा है कुछ इस तरह

गुलों के रुखसार पे ओस ज्यूं बिखरी हुई है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

ठहर जाती है हर नजर तेरे रुखसार पर आकर..

सनम तेरे चेहरे में कशिश कुछ ऐसी है..

***

गेसू की रंगत से चलकर रुखसार की रंगत पर आई,

रफ़्ता रफ़्ता रिसते रिसते अब रात भी रुखसत पर आई ।

***

“मैं तेरे रुखसार का रंग हूँ…

जितना तुम खुश रहोगे, उतना मैं सवर जाऊँगा !!”

***

उनके रुखसार पर ढलकते हुए आँसू तौबा

मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा

*** Rukhsar Shayari in Hindi

तेरे रुखसार पर ढलते ये शाम के किस्से..

ख़ामोशी में पढ़ा हुआ कोई कलमा हो जैसे..

***

तुम्हारा रुखसार जैसे कोई किताबी कहानी है

देख कर मन मचल उठे,क्या खूब जवानी है

***

आओ हुस्न-ए-यार की बातें करें

ज़ुल्फ़ की, रुखसार की बातें करें !! “चिराग हसन हसरत

*** Rukhsar Shayari in Hindi

जवानी हुस्न मैखाने लबो रुखसार बिकते हैं

हया के आईने अब तो सरेबाजार बिकते हैं

***

तेरे रुखसार पे ना गिरे कोई गम का आँसू..

खुदा तेरी हर दुआ को तेरी तक़दीर बना दे..!!

 

 

***

तुम आगोश-ऐ-तसव्वुर में भी आया न करो…

मेरी आहों से ये रुखसार कुम्हला न जाये कहीं…….. ~कैफ़ी आज़मी

***

हमने उसके लब-ओ-रुखसार को छू कर देखा

हौसले आग को गुलज़ार बना देते हैं ~काबिल_अजमेरी

*** Rukhsar Shayari in Hindi

उसकी ज़ुलफें थीं, लब-ओ-रुखसार थे, और हाथ मेरे,

कट गये रात के लमहे.. यूं ही शरारत करते करते..!

***

तुने देखी है वो पेशानी वो रुखसार वो होंठ

ज़िंदगी जिसके तसव्वुर में लुटा दी हमने ~Faiz

***

पत्थर दिल ऐसे की रस्म-ए-वफ़ा की खुशबू

न उनसे न उनके लब-ओ-रुखसार से आती है ।

***

ज़ुल्फ़े रुखसार पे , मदहोशी का वो आलम जान !!!

मरमरी बाँहों की वो आरज़ू , याद है मुझे वो रात !!!

***

तेरा चेहरा तेरी आँखे तेरे रुखसार का जादू

मुझे महसूस करके देख मेरे प्यार का जादू

***

दीदार की ख्वाहिश में हम लिखने लगे ग़ज़ल.

क्या पता रुखसार से परदा हटा दो कब.

*** Rukhsar Shayari in Hindi

तेरे हिसार-ए-रुखसार से निकलें तो सोचें…

ये शोखी खफा की है या फिर हया की है

***

रुखसार पर लाली बिखरी हुई यूं हया से शायद मेरे सवाल का जवाब अच्छा है

तेरे गेसुओ से उलझने को एक उम्र बाकी है शायद मेरे उलझने का ये जाल अच्छाहै

***

रुखसार पे ज़ुल्फ़ के आलम से रश्क़ करे महताब…

वाह परीज़ात हुस्न, चर्ख-आलम हुआ बजा इश्क़

***

लब-ए-रुखसार की बातें, गुल-ए-गुलनार का मौसम,

हज़ारों ख्वाहिशों जैसा तुम्हारी याद का मौसम !!

*** Rukhsar Shayari in Hindi

 

कोई आँसू.. कोई दिल…. कुछ भी नहीं… कितनी सुनसान है ये राहगुज़र..

कोई रुखसार तो चमके, कोई बिजली तो गिरे l

***

“ढूंडी है यूं ही शौक़ ने आसा’इश-ए-मंज़िल

रुखसार के ख़म में, कभी काकुल की शिकन में”

***

तल्ख़ी वक़्त की देती रहे बेरुखी रुखसार पे…

वो ख़यालों में आज भी, बेलौस मुस्कुराती हैं,

***

तरस गई है निगाहे उनके दिदार ए रुखसार को।

और,वौ हे की ख्वाबो मे भी नकाब मे आते है।।

***

आज फिर माहताब को दिलकशी से मुस्कुराते देखा..

पड़ी जब किरणें आफताब की उनके रुखसार पर

***

अल्लाह बनाता हमें मोती तेरी नथ का

बोसा कभी रुखसार का लेते कभी लब का !!

**

मुद्दत से उनके रुखसार की धूप नही आई..

इसीलिये मेरे घर में नमी सी रहती है.

*** Rukhsar Shayari in Hindi

शोला ए हुस्न से न जल जाए चेहरे का नक़ाब

इसलिए रुखसार से परदे को हटा रक्खा है

***

जब बिखरेगा तेरे रुखसार पर तेरी आँखों का पानी,

तुझे एहसास तब होगा कि मोहब्बत किसे कहते हैं

***

सहा जाता नहीं हमसे की किसी और का ताल्लुक भी हो तुम से..

दिल चाहता है हवा से भी कह दूँ की तेरे रुखसार से हट के गुजरे..!!!

***

रुसवाईयां रुखसत हो रही हैं एक एक करके मेरे रुखसार से,

देखो आज फिर से मुझे मेरे महबूब ने सीने से लगाया है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

सेब खिलते हैं किसी के गालों पर

इस बरस बाग़ में गुलाब कहाँ ~बशीर_बद्र

***

 

Search Tags

Rukhsar Shayari in Hindi, Rukhsar Shayari, Rukhsar Hindi Shayari, Rukhsar Shayari, Rukhsar whatsapp status, Rukhsar hindi Status, Hindi Shayari on Rukhsar, Rukhsar whatsapp status in hindi, रुखसार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, रुखसार, रुखसार स्टेटस, रुखसार व्हाट्स अप स्टेटस, रुखसार पर शायरी, रुखसार शायरी, रुखसार पर शेर, रुखसार की शायरी,

गालों, गालों पर स्टेटस, गालों पर व्हाट्स अप स्टेटस, गालों पर शायरी, गालों शायरी, गालों पर शेर, गालों की शायरी,


Hinglish

Rukhsar Shayari in Hindi

रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

rukhsar shayari in hindi rukhasaar gaalon par hindee shaayaree haseen rukhasaar aur gaalon par shrrngaar ras mein doobee huee kuchh maadak hindee aur urdoo shaayaree unake rukhasaar par dhalakate hue aansoo tauba,main ne shabanam ko bhee sholon pe machalate dekha !!***

*nazar us husn par thahare to aakhir kis tarah thaharekabhee vo phool ban jae to kabhee rukhasaar ban jae**

*badee itaraatee phiratee thee vo apane husn-ai-rukhasaar paramaayoos baithee hai jabase dekhi hai tasveer kaard-ai-aadhaar par

***samet lo bhoolee bisaree yaaden apaneesookhe ped kee tahaniyon see bejaan lagatee hainchaand ke rukhasaar pe kharaashen padatee hai inase*

**dekhakar tujhe vo mere rukhasaar par ruke hai___muddato baad nazaakat se ashq utare hai**

* rukhsar shayari in hindichhedatee hain kabhee lab ko kabhee tere rukhasaar ko jaalimatune apanee julpho ko bada sir par chada rakkha hai***

ye rukhasaar peele se lagate hain naudaasee kee haldee hai hat jaegeetamanna kee laalee ko pakane to doye patajhad kee chhaanv chhant jaegee”. gulzar*

**ab main samajha tere rukhasaar pe til ka matalab,daulat-e-husn pe darabaan baitha rakha hai.**

*seekh mujhase aatish- phishaan mein gul- phishaan honaayuheen nahee rukhasaar pe tajallee o jalaal aata hai**

* rukhsar shayari in hindijindagee sirph mohabbat nahin kuchh aur bhee haijulph-o-rukhasaar kee jannat hee nahin kuchh aur bhee hai …*

**huzoor aariz o rukhasaar kya tamaam badanameree suno to mujassim gulaab ho jaaye.***

nazar us husn par thahare to aakhir kis tarah thaharekabhee jo phool ban jaaye kabhee rukhasaar ho jaaye**

*kyoon ponchhate ho rukhasaar se arak ko baar baar ,shabanam ke qatre se gulon mein aur nikhaar aata hai

**aansuon mein dooba unaka chehara hai kuchh is tarahagulon ke rukhasaar pe os jyoon bikharee huee hai**

* rukhsar shayari in hindithahar jaatee hai har najar tere rukhasaar par aakar..sanam tere chehare mein kashish kuchh aisee hai..**

*gesoo kee rangat se chalakar rukhasaar kee rangat par aaee,rafta rafta risate risate ab raat bhee rukhasat par aaee .**

*“main tere rukhasaar ka rang hoon…jitana tum khush rahoge, utana main savar jaoonga !!”**

*unake rukhasaar par dhalakate hue aansoo taubaamain ne shabanam ko bhee sholon pe machalate dekha**

* rukhsar shayari in hinditere rukhasaar par dhalate ye shaam ke kisse..khaamoshee mein padha hua koee kalama ho jaise..***

tumhaara rukhasaar jaise koee kitaabee kahaanee haidekh kar man machal uthe,kya khoob javaanee hai**

*aao husn-e-yaar kee baaten karenzulf kee, rukhasaar kee baaten karen !! “chiraag hasan hasarat***

rukhsar shayari in hindijavaanee husn maikhaane labo rukhasaar bikate hainhaya ke aaeene ab to sarebaajaar bikate hain**

*tere rukhasaar pe na gire koee gam ka aansoo..khuda teree har dua ko teree taqadeer bana de..!!*

**tum aagosh-ai-tasavvur mein bhee aaya na karo…meree aahon se ye rukhasaar kumhala na jaaye kaheen…….. ~kaifee aazamee**

*hamane usake lab-o-rukhasaar ko chhoo kar dekhaahausale aag ko gulazaar bana dete hain ~kaabil_ajameree**

* rukhsar shayari in hindiusakee zulaphen theen, lab-o-rukhasaar the, aur haath mere,kat gaye raat ke lamahe.. yoon hee sharaarat karate karate..!**

*tune dekhee hai vo peshaanee vo rukhasaar vo honth zindagee jisake tasavvur mein luta dee hamane ~faiz*

**patthar dil aise kee rasm-e-vafa kee khushaboon unase na unake lab-o-rukhasaar se aatee hai .***

zulfe rukhasaar pe , madahoshee ka vo aalam jaan !!!maramaree baanhon kee vo aarazoo , yaad hai mujhe vo raat !!!*

**tera chehara teree aankhe tere rukhasaar ka jaadoomujhe mahasoos karake dekh mere pyaar ka jaadoo**

*deedaar kee khvaahish mein ham likhane lage gazal.kya pata rukhasaar se parada hata do kab.***

rukhsar shayari in hinditere hisaar-e-rukhasaar se nikalen to sochen…ye shokhee khapha kee hai ya phir haya kee hai*

**rukhasaar par laalee bikharee huee yoon haya se shaayad mere savaal ka javaab achchha haitere gesuo se ulajhane ko ek umr baakee hai shaayad mere ulajhane ka ye jaal achchhaahai*

**rukhasaar pe zulf ke aalam se rashq kare mahataab…vaah pareezaat husn, charkh-aalam hua baja ishq**

*lab-e-rukhasaar kee baaten, gul-e-gulanaar ka mausam,hazaaron khvaahishon jaisa tumhaaree yaad ka mausam !!***

rukhsar shayari in hindikoee aansoo.. koee dil…. kuchh bhee nahin… kitanee sunasaan hai ye raahaguzar..koee rukhasaar to chamake, koee bijalee to gire l*

**”dhoondee hai yoon hee shauq ne aasaish-e-manzilarukhasaar ke kham mein, kabhee kaakul kee shikan mein”**

*talkhee vaqt kee detee rahe berukhee rukhasaar pe…vo khayaalon mein aaj bhee, belaus muskuraatee hain,*

**taras gaee hai nigaahe unake didaar e rukhasaar ko.aur,vau he kee khvaabo me bhee nakaab me aate hai..**

*aaj phir maahataab ko dilakashee se muskuraate dekha..padee jab kiranen aaphataab kee unake rukhasaar par**

*allaah banaata hamen motee teree nath kaabosa kabhee rukhasaar ka lete kabhee lab ka !!**muddat se unake rukhasaar kee dhoop nahee aaee..iseeliye mere ghar mein namee see rahatee hai.***

rukhsar shayari in hindishola e husn se na jal jae chehare ka naqaabisalie rukhasaar se parade ko hata rakkha hai

***jab bikharega tere rukhasaar par teree aankhon ka paanee,tujhe ehasaas tab hoga ki mohabbat kise kahate hain*

**saha jaata nahin hamase kee kisee aur ka taalluk bhee ho tum se..dil chaahata hai hava se bhee kah doon kee tere rukhasaar se hat ke gujare..!!!**

*rusavaeeyaan rukhasat ho rahee hain ek ek karake mere rukhasaar se,dekho aaj phir se mujhe mere mahaboob ne seene se lagaaya hai**

* rukhsar shayari in hindiseb khilate hain kisee ke gaalon paris baras baag mein gulaab kahaan ~basheer_badr***