Mausam shayari in Hindi मौसम-रुत पर हिंदी शायरी

Mausam shayari in Hindi  मौसम-रुत पर हिंदी शायरी
Mausam shayari in Hindi मौसम-रुत पर हिंदी शायरी

Mausam shayari in Hindi

मौसम-रुत पर हिंदी शायरी

दोस्तों, मौसम कभी सुहावना होता है कभी सर्द कभी गर्म, कभी चारो तरफ फूल खिले होते हैं कभी वीरानी, इसी तरह इन्सान की ज़िन्दगी में भी उतार चढाव आते रहते है, ज़िन्दगी और मोसम के इन्ही बदलते रंगों को शायरों ने कुछ इस तरह बयां किया है, पेश है मौसम और रुत पर कुछ अच्छे शेर.

 

सर्दी में दिन सर्द मिला,

हर मौसम बेदर्द मिला।

~मोहम्मद_अल्वी

 

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम

लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

~Faraz

 

हर एक बदलती हुई रुत में याद आता है

वो शक्स स जो मेरा नामों निशां भूल गया।

~anjum khalik

 

बरसता भीगता मौसम धुआं धुआं होगा..

पिघलती शम्मों पे दिल का मेरे गुमां होगा

 

ये शाख़-ए-गुल है आईना-ए-नुमू से आप वाकिफ़ है

समझती है कि मौसम के सितम होते ही रहते हैं

 

धुप सा रंग है और खुद है वो छाँवो जैसा

उसकी पायल में बरसात का मौसम छनके

~क़तील शिफ़ाई

Mausam shayari in Hindi

वह मुझ को सौंप गया फुरकतैं दिसंबर में

दरखते जां पे वही सर्दियों का मौसम है।

 

हमें इस सर्द मौसम में तेरी यादें सताती हैं

तुम्हें एहसास होने तक दिसंबर बीत जायेगा।

 

बहुत ही सर्द है अब के दयार-ए-शौक़ का मौसम,

चलो गुज़रे दिनों की राख में चिंगारियाँ ढूँडें !! -प्रकाश फ़िक्री

 

तेरे तसव्वुर की धूप ओढ़े खड़ा हूँ छत पर

मिरे लिए सर्दियों का मौसम ज़रा अलग है !!-साबिर

 

आमद से पहले तेरी सजाते कहाँ से फूल,

मौसम बहार का तो तेरे साथ आया है !!

 

बरसता भीगता मौसम है कमज़ोरी मेरी लेकिन,

मैं ये सावन, घटा, बादल तुम्हारे नाम करता हूँ…

 

Mausam shayari in Hindi

ज़वाल-ए-मौसम-ए-ख़ुश-रंग का गिला ‘आसिम’

ज़मीन से तो नहीं आसमाँ से होता है

 

उरूज पर है चमन में बहार का मौसम

सफ़र शुरू ख़िज़ाँ का यहाँ से होता है

 

कब तलक दिल में जगह दोगे हवा के ख़ौफ़ को,

बादबाँ खोलो कि मौसम का इशारा हो चुका !! – शहज़ाद अहमद

 

किसके नक्श-ए-पा पड़े पलकें वजू करने लगीं,

मौसमो का रंग बदला रुत सुहानी हो गयी

 

वही पर्दा,वही खिड़की,वही मौसम,वही आहट

शरारत है,शरारत है,शरारत है,शरारत है

 

Mausam shayari in Hindi

क्यों आग सी लगा के गुमसुम है चाँदनी,

सोने भी नहीं देता मौसम का ये इशारा !!

 

सर्द मौसम में छनी हुयी धुप सी लगते हो

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,

 

अबके बरसात की रुत और भी भड़कीली है,

जिस्म से आग निकलती है, क़बा गीली है !!

 

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,

हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !!

 

लो बदल गया मौसम

हूबहू तुम्हारी तरह!

 

Mausam shayari in Hindi

बदला जो रंग उसने हैरत हुयी मुझे,

मौसम को भी मात दे गयी फ़ितरत जनाब की।

~अज्ञात

 

मौसम-ए-बहार है अम्बरीं ख़ुमार है

किस का इंतिज़ार है गेसुओं को खोलिए !! -अदम

 

रंग पैराहन का खुश्बू जुल्फ लहराने का नाम,

मौसम-ए-गुल है तुम्हारे बाम पर आने का नाम !!-फ़ैज़

 

हमारे ही ख़याल लिख दिए कुछ …

हम तो आज भी रूठी हुई रुत को माना लेते हैं….

 

Mausam shayari in Hindi

किसने जाना है बदलते हुए मौसम का मिज़ाज

उसको चाहो तो समझ पाओगे फ़ितरत उसकी !!

 

हम तो रूठी हुयी रुत को भी मना लेते थे

तुम ने देखा ही नही मौसम ऐ हिज्राँ जानाँ !!

 

मौसम सर्द ही सही दिल का आहों से मगर,

तेरे ख्यालों से आज भी पिघल जाते हैं हम।

 

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

 

ये हसीं मौसम, ये नज़ारे, ये बारिश, ये हवाएँ,

लगता है मोहब्बत ने फिर मेरा साथ दिया है…

 

Mausam shayari in Hindi

अपनी सी लगती है हर नमी अब तो,

आँखों ने खुश्क मौसम कभी देखे ही नहीं।

 

कोई मौसम हो दिल-गुलिस्ताँ में,

आरज़ू के गुलाब ताज़ा हैं …

 

मौसम सा मिज़ाज़ है मेरा,

कभी बरसता सावन तो कभी सर्द हवा।

 

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

 

मेरी दीवानगी क्यों मुन्तज़िर है रुत बदलने की,

कोई मौसम भी होता है जुनूँ को आज़माने का !! –आलम खुर्शीद

 

Mausam shayari in Hindi

मुझको बे-रंग ही कर दें न कहीं रंग इतने,

सब्ज़ मौसम है, हवा सुर्ख़, फ़ज़ा नीली है!! -MuzaffarWarsi

 

चम्पई सुब्हें पीली दो-पहरें सुरमई शामें

दिन ढलने से पहले कितने रंग बदलता है

 

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखूं वोही पैमाना हुआ है!!

 

एक पुराना मौसम लौटा याद भरी पुरवाई भी

ऐसा तो कम ही होता है वो भी हों तनहाई भी

 

बरसता, भीगता मौसम है कमज़ोरी मेरी लेकिन,

मैं ये रिमझिम, घटा, बादल तुम्हारे नाम करता हूँ …

 

Mausam shayari in Hindi

तुम्हारे शहर का मौसम बङा सुहाना है

मैं एक शाम चुरा लूं अगर बुरा न लगे!

 

रातें महकी, सांसें दहकी, नज़रे बहकी, रुत लहकी

स्वप्न सलोना, प्रेम खिलौना, फूल बिछौना,वह पहलू

 

ऐ इश्क़ सुन मुझे भी चाहिए मुआवजा

इस बे-मौसम बारिश का,

तेरे दर्द की बारिशों से बहुत नुकसान हुआ है

मेरे अरमानों की फसल का.!!

 

जो अपनी औलाद से बढ़ कर,समझे पौधों-पेड़ों को

आने वाले मौसम में इस बाग़ को ऐसा माली दे.!!

 

मौसम-ए-गुल में तो आ जाती है काँटों पे बहार

बात तो जब है ख़िजाँ में गुल-ए-तर पैदा कर

~फ़ना निज़ामी

 

Mausam shayari in Hindi

अभी तो खुश्क़ है मौसम,बारिश हो तो सोचेंगे

हमें अपने अरमानों को,किस मिट्टी में बोना है.!!

 

कहाँ धुँए की परस्तिश में जा फंसे यारो

यही तो रुत थी ख़यालों में आग बोने की.!!

 

नईम हिजरतों की रुत ने,ज़ोर भी दिया मगर

न बाग़ से हवा गई,न झील से कँवल गया.!!

मौसम की मिसाल दूँ या तुम्हारी

कोई पूछ बैठा है बदलना किसको कहते हैं.!!

 

जब से तेरे ख़याल का, मौसम हुआ है “दोस्त”

दुनिया की धूप-छाँव से आगे निकल गये.!!

 

Mausam shayari in Hindi

इनपे कभी मौसम का असर क्यों नहीं होता।।

रद्द क्यों तेरी यादों की उड़ाने नहीं होती..!!

 

उदास छोड़ गया वो हर एक मौसम को।।

ग़ुलाब खिलते थे कल जिसके मुस्कुराने से..!!

 

जब से तेरे ख़याल का, मौसम हुआ है दोस्त।।

दुनिया की धूप-छांव से, आगे निकल गये ..!!

 

Search Terms

Mausam Shayari, Mausam Hindi Shayari, Mausam Shayari, Mausam whatsapp status, Mausam hindi Status, Hindi Shayari on Mausam, Mausam whatsapp status in hindi,

 Season Shayari, Season Hindi Shayari, Season Shayari, Season whatsapp status, Season hindi Status, Hindi Shayari on Season, Season whatsapp status in hindi,

मौसम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मौसम, मौसम स्टेटस, मौसम व्हाट्स अप स्टेटस, मौसम पर शायरी, मौसम शायरी, मौसम पर शेर, मौसम की शायरी,

रुत हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, रुत, रुत स्टेटस, रुत व्हाट्स अप स्टेटस, रुत पर शायरी, रुत शायरी, रुत पर शेर, रुत की शायरी,


Hinglish

Mausam shayari in Hindi

मौसम-रुत पर हिंदी शायरी

mausam shayari in hindi mausam-rut par hindi shaayari doston, mausam kabhi suhaavana hota hai kabhi sard kabhi garm, kabhi chaaro taraph phool khile hote hain kabhi viraani, isi tarah insaan ki zindagi mein bhi utaar chadhaav aate rahate hai, zindagi aur mosam ke inhi badalate rangon ko shaayaron ne kuchh is tarah bayaan kiya hai, pesh hai mausam aur rut par kuchh achchhe sher. sardi mein din sard mila, har mausam bedard mila. ~mohammad_alvi

pyaar mein ek hi mausam hai bahaaron ka mausam log mausam ki tarah phir kaise badal jaate hain ~

faraz har ek badalati hui rut mein yaad aata hai vo shaks sa jo mera naamon nishaan bhool gaya. ~

anjum khalik barasata bhigata mausam dhuaan dhuaan hoga.. pighalati shammon pe dil ka mere gumaan hoga ye shaakh-e-gul hai aaina-e-numoo se aap vaakif hai samajhati hai ki mausam ke sitam hote hi rahate hain dhup sa rang hai aur khud hai vo chhaanvo jaisa usaki paayal mein barasaat ka mausam chhanake ~

qatil shifai mausam shayari in hindi vah mujh ko saump gaya phurakatain disambar mein darakhate jaan pe vahi sardiyon ka mausam hai. hamen is sard mausam mein teri yaaden sataati hain tumhen ehasaas hone tak disambar bit jaayega. bahut hi sard hai ab ke dayaar-e-shauq ka mausam, chalo guzare dinon ki raakh mein chingaariyaan dhoonden !! –

prakaash fikri tere tasavvur ki dhoop odhe khada hoon chhat par mire lie sardiyon ka mausam zara alag hai !!-saabir aamad se pahale teri sajaate kahaan se phool, mausam bahaar ka to tere saath aaya hai !! barasata bhigata mausam hai kamazori meri lekin, main ye saavan, ghata, baadal tumhaare naam karata hoon… mausam shayari in hindi zavaal-e-mausam-e-khush-rang ka gila ‘aasim’ zamin se to nahin aasamaan se hota hai urooj par hai chaman mein bahaar ka mausam safar shuroo khizaan ka yahaan se hota hai kab talak dil mein jagah doge hava ke khauf ko, baadabaan kholo ki mausam ka ishaara ho chuka !! –

shahazaad ahamad kisake naksh-e-pa pade palaken vajoo karane lagin, mausamo ka rang badala rut suhaani ho gayi vahi parda,vahi khidaki,vahi mausam,vahi aahat sharaarat hai,sharaarat hai,sharaarat hai,sharaarat hai mausam shayari in hindi kyon aag si laga ke gumasum hai chaandani, sone bhi nahin deta mausam ka ye ishaara !!

sard mausam mein chhani huyi dhup si lagate ho koi baadal hare mausam ka fir ailaan karata hai, abake barasaat ki rut aur bhi bhadakili hai, jism se aag nikalati hai, qaba gili hai !!

ham ki roothi hui rut ko bhi mana lete the, ham ne dekha hi na tha mausam-e-hijraan jaanaan !! lo badal gaya mausam hoobahoo tumhaari tarah! mausam shayari in hindi badala jo rang usane hairat huyi mujhe, mausam ko bhi maat de gayi fitarat janaab ki. ~

agyaat mausam-e-bahaar hai ambarin khumaar hai kis ka intizaar hai gesuon ko kholie !! -adam rang pairaahan ka khushboo julph laharaane ka naam, mausam-e-gul hai tumhaare baam par aane ka naam !!-faiz hamaare hi khayaal likh die kuchh …

ham to aaj bhi roothi hui rut ko maana lete hain…. mausam shayari in hindi kisane jaana hai badalate hue mausam ka mizaaj usako chaaho to samajh paoge fitarat usaki !! ham to roothi huyi rut ko bhi mana lete the tum ne dekha hi nahi mausam ai hijraan jaanaan !! mausam sard hi sahi dil ka aahon se magar, tere khyaalon se aaj bhi pighal jaate hain ham. lutf jo us ke intazaar mein hai vo kahaan mausam-e-bahaar mein hai !! ye hasin mausam, ye nazaare, ye baarish, ye havaen, lagata hai mohabbat ne phir mera saath diya hai…

mausam shayari in hindi apani si lagati hai har nami ab to, aankhon ne khushk mausam kabhi dekhe hi nahin।

koi mausam ho dil-gulistaan mein, aarazoo ke gulaab taaza hain … mausam sa mizaaz hai mera, kabhi barasata saavan to kabhi sard hava. aaj hai vo bahaar ka mausam, phool todoon to haath jaam aae !!

meri divaanagi kyon muntazir hai rut badalane ki, koi mausam bhi hota hai junoon ko aazamaane ka !! –aalam khurshid mausam shayari in hindi mujhako be-rang hi kar den na kahin rang itane, sabz mausam hai, hava surkh, faza nili hai!! -muzaffarwarsi

champi subhen pili do-paharen surami shaamen din dhalane se pahale kitane rang badalata hai mausam ne banaaya hai nigaahon ko sharaabi, jis phool ko dekhoon vohi paimaana hua hai!! ek puraana mausam lauta yaad bhari puravai bhi aisa to kam hi hota hai vo bhi hon tanahai bhi barasata, bhigata mausam hai kamazori meri lekin, main ye rimajhim, ghata, baadal tumhaare naam karata hoon …

mausam shayari in hindi tumhaare shahar ka mausam bana suhaana hai main ek shaam chura loon agar bura na lage! raaten mahaki, saansen dahaki, nazare bahaki, rut lahaki svapn salona, prem khilauna, phool bichhauna,vah pahaloo ai ishq sun mujhe bhi chaahie muaavaja is be-mausam baarish ka, tere dard ki baarishon se bahut nukasaan hua hai mere aramaanon ki phasal ka.!! jo apani aulaad se badh kar,samajhe paudhon-pedon ko aane vaale mausam mein is baag ko aisa maali de.!! mausam-e-gul mein to aa jaati hai kaanton pe bahaar baat to jab hai khijaan mein gul-e-tar paida kar ~fana nizaami mausam shayari in hindi abhi to khushq hai mausam,baarish ho to sochenge hamen apane aramaanon ko,kis mitti mein bona hai.!! kahaan dhune ki parastish mein ja phanse yaaro yahi to rut thi khayaalon mein aag bone ki.!! naim hijaraton ki rut ne,zor bhi diya magar na baag se hava gai,na jhil se kanval gaya.!! mausam ki misaal doon ya tumhaari koi poochh baitha hai badalana kisako kahate hain.!!

jab se tere khayaal ka, mausam hua hai “dost” duniya ki dhoop-chhaanv se aage nikal gaye.!! mausam shayari in hindi inape kabhi mausam ka asar kyon nahin hota..

radd kyon teri yaadon ki udaane nahin hoti..!! udaas chhod gaya vo har ek mausam ko.. gulaab khilate the kal jisake muskuraane se..!! jab se tere khayaal ka, mausam hua hai dost.. duniya ki dhoop-chhaanv se, aage nikal gaye ..!!